Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> आपकी शिकायत
   >> पर्यटन गाइडेंस सेल
   >> स्टुडेन्ट गाइडेंस सेल
   >> सोशल मीडिया न्यूज़
   >> नॉलेज फॉर यू
   >> आज खास
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> निगम मण्डल मिरर
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> लॉं एण्ड ऑर्डर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> हास्य - व्यंग
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> येलो पेजेस
   >> रेल डाइजेस्ट
 
मध्यप्रदेश डाइजेस्ट
mpinfo.org   

ELECTION 2018 / LOKSABHA 2019

: फीचर

बदलता मध्यप्रदेश : डॉ.एच.एल. चौधरी


aa aa aa aa aa aa aa aa aa aa aa


....



पूर्व प्रधानमंत्री स्व.श्री राजीव गांधी के जन्म-दिन पर मनाया गया सद्भावना दिवस
20 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी के जन्म-दिवस पर आज मंत्रालय के समक्ष सरदार वल्लभ भाई पटेल पार्क में अधिकारियों-कर्मचारियों को सद्भावना की शपथ दिलाई। अधिकारियों-कर्मचारियों ने जाति, सम्प्रदाय, क्षेत्र, धर्म और भाषा का भेदभाव किए बिना एकता, सद्भावना से कार्य करने और हिंसा का सहारा लिए बिना बातचीत और संवैधानिक माध्यमों से सभी प्रकार के मतभेद सुलझाने की शपथ ली। इस मौके पर मुख्य सचिव श्री एस.आर. मोहंती एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

नई पीढ़ी को सक्षम बनाती आई.टी. क्रांति राजीव जी की देन
20 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी ने बदलते विश्व के साथ नई पीढ़ी को सक्षम बनाने के लिए आई.टी. के क्षेत्र में क्रांति पैदा की। इसके लिये पूरा देश उन्हें जीवन पर्यन्त याद रखेगा। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ आज यहां हबीबगंज थाने के समीप स्थित स्वर्गीय श्री राजीव गांधी की आदमकर प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद पुष्पांजलि कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि मुझे याद है जब राजीव जी ने आई.टी. के क्षेत्र में भारत को विश्व के विकसित देशों के साथ सक्षम बनाने की शुरूआत की थी। तब उन लोगों ने इस बात का विरोध किया था, जो आज डिजीटल इंडिया का श्रेय ले रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजीव गांधी ने वर्ष 1984 में जो शुरूआत की थी, उसका नतीजा है कि आज देश में सूचना प्रौद्योगिकी का गांव-गांव में विस्तार हुआ है, सेलफोन वहाँ तक पहुँचे हैं। हमारी नई पीढ़ी इंटरनेट की दुनिया से जुड़ी है। उन्होंने कहा कि नई पीढ़ी को बदलते विश्व में ज्ञान से जोड़ने की शुरूआत कर राजीव जी ने दूरदृष्टि का परिचय दिया था।
मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि राजीव जी ने देश को सद्भावना और न्याय के रास्ते पर ले जाने की मुहिम उस समय शुरू की थी, जब देश कई चुनौतियों से जूझ रहा था। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हमारे देश की सद्भावना और न्याय व्यवस्थाओं को आघात पहुँचाने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन इसकी जड़ें इतनी मजबूत हैं कि कोई भी कोशिश कामयाब नहीं होगी।
कार्यक्रम में जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा, पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री सुरेश पचौरी, गणमान्य नागरिक और अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


विद्युत मीटर वाचकों की समस्याओं को प्राथमिकता से हल किया जायेगा- ऊर्जा मंत्री श्री सिंह
20 August 2019
भोपाल.ऊर्जा मंत्री श्री प्रियव्रत सिंह ने विद्युत मीटर वाचक कल्याण संघ के प्रांतीय सम्मेलन में कहा कि विद्युत मीटर वाचकों की समस्याओं को प्राथमिकता से हल किया जायेगा। उन्होंने कहा कि सेवा से निकाले गये मीटर वाचकों की जिले वार सूची प्रस्तुत करें, उन्हें व्यवस्थित किया जायेगा। नये आपरेटिंग स्ट्रक्चर में इनके नियमितीकरण पर भी विचार किया जायेगा। काम सकारात्मक सोच के साथ होगा।
श्री सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री का विजन, एक नायक का विजन है। उनका पहला लक्ष्य प्रदेश से बेरोजगारी को दूर करना है। इसीलिए नवीन उद्योगों में 70 प्रतिशत रोजगार स्थानीय लोगों को देने का निर्णय लिया गया है। श्री सिंह ने कहा कि वर्तमान सरकार बातचीत के माध्यम से समस्याओं को हल करने में विश्वास रखती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश को बीमारू राज्य से विकसित राज्य बनाना है। मांग के अनुरूप विद्युत उत्पादन बढ़ाना है। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि जाति, धर्म, गरीबी-अमीरी के भेदभाव से हट कर सभी के लिए 100 युनिट बिजली की खपत पर 100 रूपये की बिजली बिल देने का निर्णय संबल योजना में हुई अनियमिततओं के कारण लिया गया है।
डी.सी.स्तर पर गठित समिति को देंगे और अधिक अधिकार
मंत्री श्री सिंह ने कहा कि वितरण केन्द्र स्तर पर गठित समितियों को और अधिक अधिकार दिये जायेंगे। इससे विद्युत बिलों से संबंधित समस्याओं का निराकरण मौके पर ही हो सकेगा। उन्होंने कहा कि मीटर रीडरों की सुरक्षा के भी प्रावधान किये जायेंगे। श्री सिंह ने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी का स्मरण करते हुए कहा कि वे युवा तरूणाई के प्रतीक थे।
जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी.शर्मा ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी ने कम्प्यूटर और आई.टी. युग की शुरूआत की। इससे लाखों युवाओं को रोजगार मिला। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ उन्ही के पद चिन्हों पर चलकर प्रदेश में औद्योगिक निवेश को बढ़ा रहे हैं।
मंत्री द्वय ने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी के जन्म-दिवस पर केक काटा। कार्यक्रम में संघ के पदाधिकारियों ने भी विचार व्यक्त किये।


भोपाल और इंदौर मेट्रो रेल के लिए नई दिल्ली में हुआ एम.ओ.यू.
19 August 2019
नई दिल्ली।भोपाल और इंदौर मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के लिए सोमवार को नई दिल्ली में भारत सरकार, मध्यप्रदेश सरकार और मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कार्पोरेशन के बीच एम.ओ.यू. हुआ। केन्द्रीय शहरी और आवास मामलों के मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी और प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह की उपस्थिति में एम.ओ.यू. हुआ। प्रोजेक्ट केन्द्रीय मंत्री-मंडल द्वारा अनुमोदित किया जा चुका है।
नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री सिंह ने बताया कि भोपाल मेट्रो रेल प्रोजेक्ट में 27.87 किलोमीटर में दो कॉरिडोर बनेंगे। एक कॉरिडोर करोंद सर्कल से एम्स तक 14.99 किलोमीटर और दूसरा भदभदा चौराहे से रत्नागिरि चौराहा तक 12.88 किलोमीटर का होगा। इसकी कुल लागत रूपये 6941 करोड़ 40 लाख होगी।
इंदौर मेट्रो रेल प्रोजेक्ट में 31.55 किलोमीटर की रिंग लाइन बनेगी। यह बंगाली चौराहा से विजयनगर, भँवर शाला, एयरपोर्ट होते हुए पलासिया तक जायेगी। इसकी कुल लागत 7500 करोड़ 80 लाख है।
प्रमुख बातें
भोपाल और इंदौर मेट्रो रेल प्रोजेक्ट का क्रियान्वयन मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कार्पोरेशन द्वारा किया जायेगा। यह कंपनी अब भारत सरकार और मध्यप्रदेश सरकार की 50:50 ज्वाइंट वेंचर कंपनी में परिवर्तित होगी। कंपनी प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए स्पेशल पर्पज व्हीकल (SPV) के रूप में कार्य करेगी। कंपनी का एक बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स होगा। इसमें 10 डायरेक्टर होंगे। भारत सरकार बोर्ड के चेयरमेन सहित 5 डायरेक्टर नामित करेगी। प्रदेश सरकार मैनेजिंग डायरेक्टर सहित 5 डायरेक्टर नामित करेगी।
प्रोजेक्ट में प्रदेश सरकार भूमि अधिग्रहण, पुर्नस्थापन और पुनर्वास में आने वाला पूरा खर्च वहन करेगी। भोपाल मेट्रो के लिए यूरोपियन इन्वेस्टमेंट बैंक और इंदौर मेट्रो के लिए एशियन डेव्हलपमेंट बैंक तथा न्यू डेव्हलपमेंट बैंक से लोन भी लिया जायेगा। भारत सरकार इक्विटी शेयर केपिटल खरीदेगी, जिससे प्रोजेक्ट के लिये बहुपक्षीय और द्विपक्षीय लोन की सुविधा मिल सके।
प्रोजेक्ट में आने वाली कठिनाइयों के जल्द निराकरण के लिए प्रदेश सरकार द्वारा मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हाई पावर कमेटी बनायी जायेगी। कमेटी में संबंधित विभागों के प्रमुख सचिव भी शामिल होंगे।
भारत सरकार प्रोजेक्ट के टेक्निकल स्टैण्डर्ड और स्पे‍सिफिकेशन्स को एप्रूव करेगी। सुरक्षा का सर्टिफिकेट मेट्रो रेलवे सेफ्टी के कमिश्नर देंगे।
इस दौरान सचिव केन्द्रीय शहरी और आवास मंत्रालय श्री दुर्गाशंकर मिश्रा, अपर सचिव श्री संजय मूर्ति, मध्यप्रदेश के प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास तथा मैनेजिंग डायरेक्टर मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कार्पोरेशन श्री संजय दुबे, एडिशनल मैनेजिंग डायरेक्टर श्री स्वतंत्र कुमार सिंह, डायरेक्टर टेक्निकल श्री जितेन्द्र कुमार दुबे और जनरल मैनेजर श्री मनीष गंगारेकर उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने श्री जगन्नाथ मिश्र के निधन पर शोक व्यक्त किया
19 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ राजनेता श्री जगन्नाथ मिश्र के निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने शोक संदेश में कहा कि श्री जगन्नाथ मिश्र ने राजनीति और विभिन्न पदों की जिम्मेदारी सम्हालते हुए अपने अनुभव और योग्यता से विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया।
मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति तथा शोक संतप्त परिवार को यह दु:ख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है।


संविधान के माध्यम से सबको मिला समान न्याय; विश्व करता है डॉ. अम्बेडकर का सम्मान
19 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि आज देश में अगर सभी वर्गों को समान रूप से न्याय मिल रहा है तो उसका श्रेय बाबा साहेब अम्बेडकर को जाता है। बाबा साहेब ने भारतीय संविधान बनाया, जिसकी बुनियाद न्याय पर टिकी है। श्री नाथ आज रवीन्द्र भवन में अनुसूचित जाति-जनजाति अधिकारी-कर्मचारी संघ के प्रांतीय अधिवेशन को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि भारतीय संविधान की मूल भावना के अनुसार ही मध्यप्रदेश में शासन-प्रशासन चलेगा। न्याय में कमी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि आज देश विभिन्नताओं के बावजूद एक झंडे के नीचे खड़ा है, यह न्याय की ही ताकत है। यहाँ सबके लिये समान दृष्टि है। समाज के गरीब, कमजोर वर्ग की आवाज हमारा संविधान है। उन्होंने कहा कि भारत की संस्कृति, सभ्यता और इतिहास में न्याय को विशेष स्थान मिला है।
मुख्यमंत्री श्री नाथ ने भारतीय संविधान के निर्माता डॉ. अम्बेडकर के योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि सिर्फ भारत ही नहीं, पूरा विश्व उनके व्यक्तित्व और कृतित्व का सम्मान करता है। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका सहित कई देशों के संविधान बनाने में मदद की। मुख्यमंत्री ने अजाक्स द्वारा प्रस्तुत मांग-पत्र पर कहा कि दिसंबर महिने के बाद प्रदेश की सरकार को काम करने के लिए मात्र पाँच माह का समय मिला है। मैं आश्वस्त करना चाहता हूँ कि मध्यप्रदेश में न्याय की सरकार है। इस नाते अजाक्स के लोगों के साथ भी न्याय होगा।
मुख्यमंत्री ने अजाक्स से अपेक्षा की कि वह आज की युवा पीढ़ी को भटकने से रोके। उन्हें सामाजिक मूल्यों से जोड़े, जो किसी भी समाज की सबसे बड़ी ताकत होती है। उन्होंने कहा कि इसके लिए संगठन द्वारा विशेष प्रयास किया जाएं, जिससे हमारा युवा वर्ग भ्रमित न हो, किसी के बहकावे में न आए।
अजाक्स के प्रांतीय अध्यक्ष श्री जे.एन. कंसोटिया ने अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस पर शासकीय छुट्टी घोषित करने पर मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ का आभार व्यक्त किया। उन्होंने शासन-प्रशासन एवं संस्थाओं में अजाक्स के लोगों को पर्याप्त प्रतिनिधित्व देने का आग्रह किया। श्री विजय शंकर श्रवण, श्री एच.एस. सूर्यवंशी एवं श्री सी.एम. धुर्वे ने भी संबोधित किया।
कार्यक्रम में जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा, गृह मंत्री श्री बाला बच्चन, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओंकार सिंह मरकाम, उच्च शिक्षा मंत्री श्री जीतू पटवारी, महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी, अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री श्री लखन घनघोरिया एवं बड़ी संख्या में अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे।


बच्चों के जोश ने बदलवाया राज्यपाल का निर्णय
17 August 2019
भोपाल.बाल हठ बड़े-बड़ों को अपना निर्णय बदलने के लिए विवश कर देता है। यह नज़ारा आज शौर्य स्मारक में आयोजित विशाल सामूहिक बैंड वादन कार्यक्रम के आयोजन में देखने को मिला। जब 800 से अधिक स्कूली बच्चों के आग्रह पर राज्यपाल श्री लालजी टंडन को कार्यक्रम स्थगन का निर्णय बदलना पड़ा।
आज शौर्य स्मारक पर यह ऐतिहासिक कार्यक्रम खुले में आयोजित किया गया था। वर्षा की सम्भावनाओं को देखते हुये और राज्यपाल की गरिमा के दृष्टिगत अधिकारियों द्वारा कार्यक्रम को स्थगित करने का निर्णय किया गया।
यह निर्णय जब बच्चों को पता चला तो वह प्रस्तुति के लिए आग्रह करने लगे। बच्चों के उत्साह और जोश से प्रभावित अधिकारियों ने जब बच्चों की भावना से राज्यपाल श्री लालजी टंडन को अवगत कराया, तो राज्यपाल ने सहर्ष कार्यक्रम को जारी रखने और सभी बैंड प्रस्तुति के निर्देश दिये। इस तरह बच्चों के उत्साह और जोश ने पूरी प्रशासनिक व्यवस्था को अपना निर्णय बदलने के लिए विवश कर दिया और कार्यक्रम जारी रहा।
राज्यपाल ने कहा कि बारिश में भीगने पर भी बच्चों द्वारा कार्यक्रम प्रस्तुत करने का संकल्प इन बच्चों को जीवनभर चुनौतियों का सामना करने को प्रेरित करता रहेगा। श्री टंडन ने कहा कि उन्हें भी जिद थी, जहाँ बिजलियाँ गिराने की हमें भी जिद हैं, वहीं बस्तियाँ बसाने की। इस भावना को बच्चों ने आज साकार किया। श्री टंडन ने बच्चों की इन प्रस्तुतियों से अभिभूत होकर सेन्ट जोसेफ कान्वेन्ट स्कूल को फर्स्ट पुरस्कार के रूप में एक लाख रूपये एवं सेन्ट जेवियर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय को सेकण्ड पुरस्कार के रूप में 50 हजार रूपये की राशि सम्मान स्वरूप देने की घोषणा की। उन्होंने सभी प्रतिभागियों स्कूली बच्चों की प्रस्तुतियों की व्यापक सराहना करते हुए उन्हें राजभवन में आमंत्रित कर सम्मानित करने के निर्देश दिये।
बच्चों का परिश्रम सार्थक हुआ
वाद्य यंत्रों ड्रम, पाइप और अन्य की ध्वनि तरंगों के साथ कदम ताल करते हुए मेघराज कभी जमकर बरसते, तो कभी धीरे बरसकर बच्चों का हौंसला बढ़ाते रहे। इस कार्यक्रम में बच्चों ने 'ताकत वतन की हमसे है' 'कदम-कदम बढ़ाये जा', और 'सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा' की समवेत स्वरों में बैंड के साथ अपनी प्रस्तुति दी।
भोपाल में प्रथम आयोजन
भोपाल में लगभग 15 स्कूल और म.प्र. पुलिस बैंड, सशस्त्र सीमाबल बैंड का यह संयुक्त प्रयास भोपाल में संभवत: पहली बार हुआ। बैंड प्रतिभागियों ने अनेकता में एकता, शौर्य और साहस का अनुपम उदाहरण अपनी समवेत प्रस्तुतियों में प्रस्तुत किया।
बल और स्कूली बच्चों के 13 बैंडों ने किया वादन
इस कार्यक्रम में आर्मी बैंड महार रेजीमेंट सेंटर सागर, सशस्त्र सीमा बल बैंड, भोपाल और सातवीं बटालियन पुलिस बैंड के साथ-साथ सेंट जोसेफ कॉनवेंट सीनियर सेकेन्ड्री स्कूल, कमला देवी पब्लिक स्कूल, शारदा विद्या मंदिर, सेंट जेवियर सीनियर सेकेण्ड्री स्कूल, मॉडल स्कूल टी.टी. नगर, कैम्पियन स्कूल, प्रकाश उच्च्तर माध्यमिक विद्यालय, होली फेमिली स्कूल, सेंट थेरेसा सीनियर सेकेंड्री स्कूल और होली क्रास सीनियर सेकेंड्री स्कूल के बच्चों ने बैंड वादन किया।
शौर्य स्मारक में आयोजित बैंड प्रस्तुतियों का संचालन श्री अलबर्ट पॉल ने किया। कार्यक्रम का संचालन सुश्री रंजना चितले ने किया, आभार सहायक सत्कार अधिकारी राजभवन श्रीमती शिल्पी दिवाकर ने व्यक्त किया।
कार्यक्रम में मुख्य सचिव, श्री एस.आर. मोहंती, प्रमुख सचिव संस्कृति श्री पंकज राग, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी, राज्यपाल के सचिव श्री मनोहर दुबे, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, विशेष सशस्त्र बल श्री विजय यादव, निदेशक सीमा सशस्त्र बल श्री राजेन्द्र भूमला और कमांडेंट महार रेजीमेंट श्री आशित वाजपेयी उपस्थित थे।


उत्कृष्ट सेवाओं के लिये सम्मानित व्यक्ति इतिहास बनाता है : राज्यपाल श्री टंडन
17 August 2019
भोपाल.राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने कहा है कि उत्कृष्ट सेवाओं के लिए सम्मानित व्यक्ति इतिहास का निर्माण करता है क्योंकि उसका सम्मान देश और समाज की समर्पित सेवा के लिए होता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सम्मानित पुलिस अधिकारियों के नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज होंगे। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को मिले पदक उनकी योग्यता का प्रमाण हैं। कर्तव्यनिष्ठा के साथ कार्य करने की उपलब्धि हैं, उनके शौर्य का प्रतीक हैं। श्री टंडन ने कहा कि यह विशिष्ट उपलब्धि आने वाली पीढ़ी को प्रेरित करेगी। राज्यपाल श्री टंडन ने आज राजभवन में उत्कृष्ट सेवाओं के लिए सम्मानित पुलिस अधिकारियों से भेंट के दौरान यह बात कही।
राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि वर्दी का सम्मान, समाज और देश का सम्मान है। यह वर्दी जनता की सुरक्षा का प्रतीक है। लोगों में गौरव की भावना जगाती है। हम सब देशवासी इसके साये में सुरक्षित महसूस करते हैं। उन्होंने कहा कि सीमाओं पर तैनात वर्दीधारी जवान प्रतिकूल परिस्थितियों में भी दुश्मनों से मोर्चा लेते हुए अपने जीवन का बलिदान तक कर देते हैं। आंतरिक सुरक्षा में वर्दी हमारी रक्षा करती है। प्राकृतिक आपदाओं के समय भी प्राण रक्षक बन जाती है। समर्पित भाव से राहत और बचाव के कार्य करती है। राज्यपाल ने कहा कि हम सब को इसका अहसास और गौरव होना चाहिए।
राज्यपाल ने कहा कि पुलिस का कार्य अत्यंत संवेदनशील है। पुलिस ही अपराधियों से हमारी रक्षा करती है। दुर्जनों को दंडित भी करवाती है। उन्होंने अधिकारियों से अपेक्षा की कि वे भविष्य में भी इसी उत्कृष्टता के साथ कार्य करेंगे और अपने अधीनस्थों को भी प्रेरित करेंगे, उनका मार्गदर्शन करेंगे। राज्यपाल ने पदक विजेता अधिकारियों और उनके परिजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ दीं।
बच्चों एवं महिलाओं की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता
पुलिस महानिदेशक श्री वी.के. सिंह ने पुलिस की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए बताया कि बच्चों और महिलाओं की सुरक्षा को सर्वाच्च प्राथमिकता दी गई है। छिंदवाड़ा में महिला बटालियन का प्रशिक्षण केन्द्र स्थापित किया गया है। महिला अपराधों के प्रकरणों में दंड का प्रतिशत लगातार बढ़ रहा है।
विशेष पुलिस महानिदेशक श्री विजय यादव ने बताया कि राज्य पुलिस बल ने प्रदेश की शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था में सहयोग करने के साथ ही राष्ट्रीय आवश्यकताओं में भी सहयोग किया है। मध्यप्रदेश पुलिस ने वर्ष 1961 और 1965 के युद्ध एवं सीमावर्ती राज्यों केरल आदि की सुरक्षा व्यवस्था में भी सहयोग किया है।
राज्यपाल ने सम्मानित अधिकारियों से वन-टू-वन परिचय प्राप्त किया। इस अवसर पर जेल महानिरीक्षक श्री संजय चौधरी तथा पुलिस पदक विजेता अधिकारी और उनके परिजन उपस्थित थे।
सम्मानित पुलिस अधिकारी
राज्यपाल से भेंट करने वालों में स्वतंत्रता मेडल प्राप्त अधिकारी और कर्मचारियों में उत्तम जीवन रक्षा पदक प्राप्त श्री साजिद खान, राष्ट्रपति का विशिष्ट सेवा पदक प्राप्त अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस श्री सुशोभन बनर्जी, श्रीमती सुषमा सिंह, श्री विपिन कुमार महेश्वरी, श्री विजय कटारिया, श्री सैयद मोहम्मद अफजल, सहायक सेनानी श्री राजेन्द्र सिंह भदौरिया, निरीक्षक श्री विवेक परांजपे, जेल विभाग से घोषित विशिष्ट सेवा पदक प्राप्त प्रहरी श्री कमला प्रसाद पटेल, विशिष्ट सेवा के लिये राष्ट्रपति का होमगार्ड एवं नागरिक सुरक्षा पदक प्राप्त स्वयंसेवी प्लाटून कमांडर होमगार्ड श्री रमाकांत रजक, डिवीजन्ल वार्डन श्री क्रिस्टोफर ई आरलैंड,राष्ट्रपति का सराहनीय सेवा पदक प्राप्त करने वाले सेनानी श्री जगत सिंह राजपूत, श्री महेश चन्द्र जैन,पुलिस अधीक्षक श्री अवधेश कुमार गोस्वामी, श्री संजय कुमार सिंह, श्री संजीव कुमार सिन्हा, सहायक पुलिस महानिरीक्षक श्रीमती श्रद्धा तिवारी, श्री धर्मवीर सिंह,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री अताउल्लाह सिद्दीकी, उपसेनानी श्री राजेश गुरू, उप पुलिस अधीक्षक श्री गोपाल सिंह,निरीक्षक श्री प्रदीप कुमार बुधोलिया, श्री वीर विक्रम सेंगर, श्री शिवकुमार पटेल, श्री रमेश कुमार हेमनानी, सूबेदार श्री अरशद अली खान, उप निरीक्षक श्री अनिल कुमार भदौरिया, श्री नारायण अंबेडकर, श्री सतीश कुमार गुप्ता, श्रीमती सुमन लता शुक्ला, सहायक उप निरीक्षक श्री प्रमोद पाण्डेय, श्री हेतसिंह भदौरिया,श्री अशोक कुमार सविता, श्रीमती मधु चौधरी, प्रधान आरक्षक श्री कृष्णमुरारी दुबे, श्री महेश कुमार पाण्डेय, श्री जमुना प्रसाद श्रीवास, श्री सत्यनारायण सिंह यादव, श्री रईस उल्लाह, श्री चिमन अलीवल, श्री अब्दुल रज्जाक खान, श्री कमलेश्वर प्रसाद, आरक्षक श्री अशोक कुमार यादव, श्री शिवनाथ सिंह, श्री दिगम्बर पाल, श्री राजकुमार राठौर, श्री जावसिंह राठौर, जेल विभाग के सराहनीय सेवा पद प्राप्त करने वालों में सहायक‍जेल अधीक्षक श्रीमती ज्योति तिवारी, मुख्य प्रहरी श्री रामरूप सिंह कुशवाह,श्री करण सिंह रघुवंशी, श्री प्रकाश नारायण दीक्षित, श्री रविन्द्र जामकर, प्रहरी श्री इंद्रपाल सिंह, श्री बाबूलाल सांख्ला, श्री वाचाराम, सराहनीय सेवा के लिये राष्ट्रपति का होमगार्ड एवं नागरिक सुरक्षा पदक प्राप्त करने वाले डिवीजनल कमांडेंट श्री कमलेन्द्र सिंह परिहार, जूनियर स्टाफ आफीसर श्री राजेन्द्र सिंह बघेल, सहायक उपनिरीक्षक श्री भानुप्रताप सिंह परमार, स्वयंसेवी प्लाटून कमांडेंट श्री देवनारायण सिंह,स्वयं सेवी महिला सैनिक सुश्री वर्षा गोगावाले, जीवन रक्षा पदक प्राप्त करने वाले आरक्षक श्री अंकित धनकर, श्री महेन्द्र तेकाम, मास्टर समर्पण मालवीय पुत्र गणेश मालवीय शामिल हैं।


मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने पुलिस अधिकारियों को दी पिस्टल
17 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने स्वतंत्रता दिवस समारोह में पाँच पुलिस अधिकारियों को साहसिक एवं उत्कृष्ट कार्य के लिये पिस्टल भेंट कीं। पुरस्कृत अधिकारियों ने दस्युओं-नक्सलियों के खात्मे में अहम् योगदान दिया है।
मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय संस्थान सीएपीटी में पदस्थ अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री पवन श्रीवास्तव, सेवानिवृत्त पुलिस महानिरीक्षक श्री के.सी. जैन, पुलिस अधीक्षक उज्जैन श्री सचिन अतुलकर, कमाण्डेंट हॉक फोर्स श्री तरुण नायक और पुलिस अधीक्षक बालाघाट श्री अभिषेक तिवारी को पिस्टल दी।


मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने 63 कर्तव्यनिष्ठ अधिकारियों को प्रदान किए राष्ट्रपति पदक
16 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने आज स्वतंत्रता दिवस पर भोपाल स्थित मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में आयोजित राज्य-स्तरीय समारोह में पुलिस, जेल और होमगार्ड के अधिकारियों- कर्मचारियों को राष्ट्रपति द्वारा प्रदत्त पदक प्रदान कर सम्मानित किया। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक श्री विजय कुमार सिंह और विशेष पुलिस महानिदेशक एसएएफ श्री विजय यादव उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने 63 विभूतियों को पदक प्रदान कर सम्मानित किया। उन्होंने सात पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों को राष्ट्रपति के विशिष्ट सेवा पदक और 36 अधिकारियों को सराहनीय सेवा पदक से सम्मानित किया। जेल विभाग के लिए राष्ट्रपति द्वारा प्रदत्त एक विशिष्ट सेवा पदक और आठ सराहनीय सेवा पदक तथा होमगार्ड के अधिकारियों-कर्मचारियों को दो विशिष्ट सेवा पदक तथा सराहनीय सेवा के लिए पाँच नागरिक सुरक्षा पदक भी प्रदान किए गए। मुख्यमंत्री ने एक उत्तम जीवन रक्षा पदक और तीन जीवन रक्षक पदक भी प्रदान किए। समारोह के अंत में स्पेशल ट्रास्क फोर्स और एन.सी.सी. एयर विंग को परेड़ में प्रथम आने पर सम्मानित किया गया।
इन्हें मिले राष्ट्रपति पदक
राष्ट्रपति के विशिष्ट सेवा पदक (पुलिस)- अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एस.पी.ई. लोकायुक्त भोपाल श्री सुशोभन बनर्जी, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक म.प्र.मानव अधिकार आयोग भोपाल श्रीमती सुषमा सिंह, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक शिकायत पु.मु. भोपाल श्री विपिन कुमार माहेश्वरी, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक कल्याण पु.मु. भोपाल श्री विजय कटारिया, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ईओडब्ल्यू भोपाल श्री सैयद मोहम्मद अफजल, सहायक सेनानी प्रथम वाहिनी इंदौर श्री राजेन्द्र सिंह भदौरिया व निरीक्षक (अनु सचिवीय) विशेष शाखा पु.मु.भोपाल श्री विवेक परांजपे।
राष्ट्रपति का सराहनीय सेवा पदक (पुलिस)- सेनानी 17 वी वाहिनी विसबल भिंड श्री जगतसिंह राजपूत,पुलिस अधीक्षक मुख्यालय इंदौर श्री अवधेश कुमार गोस्वामी, सेनानी 24 वी वाहिनी विसबल जावरा श्री महेश चंद्र जैन,पुलिस अधीक्षक म.प्र.पुलिस अकादमी भौंरी भोपाल श्री संजय कुमार सिंह, सहायक पुलिस महानिरीक्षक अ.अ.वि.पु.मु.भोपाल श्रीमती श्रद्धा तिवारी, सहायक पुलिस महानिरीक्षक रेल भोपाल श्री धर्मवीर सिंह, पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त ग्वालियर श्री संजीव कुमार सिन्हा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पीटीएस तिघरा ग्वालियर श्री अताउल्ला सिद्धकी, उप पुलिस अधीक्षक विशेष शाखा पुलिस मुख्यालय भोपाल श्री गोपाल सिंह, सहायक सेनानी 9 वी वाहिनी विसबल रीवा श्री राजेश गुरू, निरीक्षक विसबल 23वीं वाहिनी भोपाल श्री प्रदीप कुमार बुधौलिया, निरीक्षक रेडियो पीआरटीएस इंदौर श्री वीर विक्रम सेंगर, निरीक्षक विशेष शाखा इंदौर श्री शिवकुमार पटेल, निरीक्षक (अनु सचिवीय) महिला अपराध शाखा पु.मु. भोपाल श्री रमेश कुमार हेमनानी, सूबेदार (अनु सचिवीय) नारकोटिक्स इंदौर श्री अरशद अली खान, उप निरीक्षक लोकायुक्त भोपाल श्री अनिल कुमार भदौरिया, उप निरीक्षक विशेष शाखा भोपाल श्री नारायण अंबेडकर, उप निरीक्षक (अनु सचिवीय) विसबल पु्.मु. भोपाल श्री सतीश कुमार गुप्ता, उप निरीक्षक (अनु सचिवीय) अजाक पु.मु.भोपाल श्रीमती सुमनलता शुक्ला, सहायक उप निरीक्षक रीवा श्री प्रमोद पाण्डे, सहायक उप निरीक्षक विसबल 24 वी वाहिनी जावरा श्री हेत सिंह भदौरिया, सहायक उप निरीक्षक रीडर टू पुलिस अधीक्षक भिंड श्री अशोक कुमार सविता, सहायक उप निरीक्षक (अनु सचिवीय) विसबल पु.मु.भोपाल श्रीमती मधु चौधरी, प्रधान आरक्षक यातायात इंदौर श्री कृष्णमुरारी दुबे, प्रधान आरक्षक यातायात इंदौर श्री महेश कुमार पाण्डे, प्रधान आरक्षक छतरपुर श्री जमुना प्रसाद श्रीवास, प्रधान आरक्षक आरएपीटीसी इंदौर श्री सत्यनारायण सिंह यादव, प्रधान आरक्षक कंट्रोल रूम भोपाल श्री रईस उल्लाह, प्रधान आरक्षक अ.अ.वि.पु.मु.भोपाल श्री चिमन अलीवल, प्रधान आरक्षक 5 वी वाहिनी मुरैना श्री अब्दुल रज्जाक खान, प्रधान आरक्षक ईओडब्ल्यू भोपाल श्री कमलेश्वर प्रसाद, प्रधान आरक्षक दतिया श्री अशोक कुमार यादव, आरक्षक रेडियो भोपाल श्री शिवनाथ सिंह, आरक्षक वि.पु.स्था. लोकायुक्त इंदौर श्री दिगम्बर पाल, आरक्षक पीएस इंदरगढ़ ग्वालियर श्री राजकुमार राठौर व आरक्षक डी.आर.पी.लाईन झाबुआ श्री जव सिंह राठौर।
विशिष्ट सेवा पदक (जेल)- प्रहरी केन्द्रीय जेल सागर श्री कमला प्रसाद पटेल।
सराहनीय सेवा पदक (जेल)- सहायक जेल अधीक्षक सब जेल गंजबासोदा श्रीमती ज्योति तिवारी, मुख्य प्रहरी केन्द्रीय जेल ग्वालियर श्री रामस्वरूप सिंह कुशवाह, मुख्य प्रहरी सब जेल बड़वाह श्री करण सिंह रघुवंशी, मुख्य प्रहरी जिला जेल छिंदवाड़ा श्री प्रकाश नारायण दीक्षित, मुख्य प्रहरी जिला जेल बालाघाट श्री रविन्द्र जामकर, प्रहरी केन्द्रीय जेल सागर श्री इंद्रपाल सिंह, प्रहरी केन्द्रीय जेल उज्जैन श्री बाबूलाल सांखला एवं प्रहरी केन्द्रीय जेल ग्वालियर श्री वाचाराम।
विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति का होमगार्ड तथा नागरिक सुरक्षा पदक- स्वयंसेवी प्लाटून कमांडर होमगार्ड भोपाल श्री रमाकांत रजक एवं डिवीजनल वार्डन सिविल डिफेन्स जबलपुर श्री क्रिस्टोफर ई आरलैण्ड।
सराहनीय सेवा के लिये राष्ट्रपति का होमगार्ड तथा नागरिक सुरक्षा पदक- डिवीजनल कमाण्डेंट एस.डी.ई.आर.एफ.भोपाल श्री कमलेन्द्र सिंह परिहार, जूनियर स्टाफ ऑफीसर होमगार्ड मुख्यालय जबलपुर श्री राजेन्द्र सिंह बघेल, सहायक उप निरीक्षक (अनु सचिवीय) डिवीजनल कार्यालय होमगार्ड ग्वालियर श्री भानूप्रताप सिंह परमार, स्वयंसेवी कंपनी कमांडर होमगार्ड भोपाल श्री देवनारायण सिंह व स्वयंसेवी महिला सैनिक होमगार्ड भोपाल सुश्री वर्षा गोगावाले।
उत्तम जीवन रक्षा पदक-श्री साजिद खान, संजय वार्ड जिला सिवनी।
जीवन रक्षा पदक-आरक्षक होशंगाबाद श्री अंकित धनगर, आरक्षक होशंगाबाद श्री महेन्द्र टेकाम व मास्टर सर्मपण मालवीय।


मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने शौर्य स्मारक पहुँचकर शहीदों को दी श्रद्धांजलि
16 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आज शौर्य स्मारक पहुँचकर देश की रक्षा में प्राणों का बलिदान करने वाले अमर वीर जवानों को श्रद्धांजलि दी। श्री नाथ लाल परेड मैदान में आयोजित स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह के पहले शौर्य स्मारक गए और उन्होंने पुष्प-चक्र अर्पित कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। प्रमुख सचिव संस्कृति श्री पंकज राग उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने मुख्यमंत्री निवास में ध्वजारोहण किया
16 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने मुख्यमंत्री निवास में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आज ध्वजारोहरण किया। सुरक्षा में तैनात 15वीं बटालियन की टुकड़ी ने मुख्यमंत्री को सलामी दी। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने सचिवालय में पदस्थ अधिकारी-कर्मचारियों को शुभकामनाएं दीं। मुख्यमंत्री ने सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मियों की सराहना की और उन्हें नगद पुरस्कार देने की घोषणा की।
मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल, विशेष कर्त्तव्यस्थ अधिकारी श्रीमती प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव, मुख्य सुरक्षा अधिकारी श्री अक्षय पाण्डे एवं सचिवालय तथा मुख्यमंत्री निवास में पदस्थ अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।


राज्य संग्रहालय में 22 अगस्त तक " स्वाधीनता आन्दोलन 1920-1947 " प्रदर्शनी
14 August 2019
भोपाल.संस्कृति मंत्री डॉ.विजयलक्ष्मी साधौ ने आज राज्य संग्रहालय में 'स्वाधीनता आन्दोलन 1920-1947 ' प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। प्रमुख सचिव, संस्कृति श्री पंकज राग उपस्थित थे। प्रदर्शनी आम दर्शकों के लिये 22 अगस्त तक जारी रहेगी।
प्रदर्शनी में असहयोग आन्दोलन (1920), सविनय अवज्ञा आन्दोलन (1930) एवं भारत छोड़ो आन्दोलन (1942) से संबंधित महत्वपूर्ण ऐतिहासिक एवं दुर्लभ अभिलेख और छायाचित्र प्रदर्शित किये गये हैं। प्रदर्शनी आम जनता के लिये सुबह 10.30 से शाम 05.30 बजे तक खुली रहेगी। प्रदर्शनी में प्रवेश नि:शुल्क है।
मध्यप्रदेश से संबंधित चित्र और दस्तावेज
प्रदर्शनी में मध्यप्रदेश में स्वाधीनता आंदोलन से जुड़ी अह्म घटनाओं के चित्र, दस्तावेज और अखबारों की रिपोर्ट्स प्रदर्शित की गई हैं। मंत्री डॉ साधौ ने प्रदर्शनी के संबंध में विजिटर्स बुक में लिखा 'स्वाधीनता आंदोलन में मध्यप्रदेश की यादों को सुरूचिपूर्ण तरीके से संजोया गया।'


प्रदेश में हर्षोल्लास से मनाया जायेगा स्वतंत्रता दिवस समारोह
14 August 2019
भोपाल.प्रदेश में 15 अगस्त को 73 वाँ स्वतंत्रता दिवस समारोह जिला और पंचायत मुख्यालयों पर हर्षोल्लास के साथ मनाया जायेगा। राज्य शासन ने संभागायुक्तों, कलेक्टरों और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को इस संबंध में विस्तृत निर्देश जारी किये हैं।
जिला स्तर पर विधानसभा अध्यक्ष/ विधानसभा उपाध्यक्ष/ मंत्री/कलेक्टर ध्वजारोहण करेंगे। समारोह में सामूहिक राष्ट्र गान होगा। होमगार्ड, एनसीसी, एसएएफ की संयुक्त परेड होगी। प्रदेश की जनता के नाम मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया जायेगा। कार्यक्रम में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, कारगिल युद्ध में शहीद सैनिकों के परिजनों और गणमान्य व्यक्तियों को आमंत्रित किया जायेगा।
जनपद मुख्यालय पर जनपद अध्यक्ष और नगरपालिका/ नगर परिषदों में अध्यक्षों द्वारा राष्ट्रीय ध्वज फहराया जायेगा। पंचायत मुख्यालयों पर सरपंच राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे। जिलों की सभी शिक्षण संस्थानों एवं शासकीय कार्यालयों में सुबह 8 बजे अथवा उसके पूर्व ध्वजारोहण, सामूहिक राष्ट्र गान और अन्य कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। शिक्षण संस्थाओं द्वारा प्रभात फेरी भी निकाली जायेगी।
स्वतंत्रता दिवस पर पर्यावरण संरक्षण के लिये पौध-रोपण कार्यक्रम भी होंगे। जिला मुख्यालयों पर स्वतंत्रता दौड़ का आयोजन किया जायेगा। जिला, संभाग एवं राज्य स्तर पर स्कूल, कॉलेज के विद्यार्थियों द्वारा राष्ट्रीय एकता पर केन्द्रित समूह गान होंगे।


राज्यपाल श्री टंडन के सामने विज्डम ऑफ माइंड कला का प्रदर्शन
14 August 2019
भोपाल.राज्यपाल श्री लालजी टंडन से हिसार (हरियाणा) से आये विज्डम ऑफ माइंड संस्था के श्री जितेन्द्र कुमार ने आज राजभवन में भेंट की। श्री कुमार की बेटी रिया ने राज्यपाल के सामने आंख पर पट्टी बांधकर पढ़ने और चलने-फिरने की विधा का प्रदर्शन किया। श्री टंडन ने रिया के प्रदर्शन और संस्था की प्रयासों की सराहना की।
श्री लालजी टंडन ने अन्धत्व निवारण के क्षेत्र में विज्डम ऑफ माइन्ड विधा के उपयोग की सम्भावनाओं पर चर्चा की। श्री जितेन्द्र कुमार ने बताया कि ध्यान और योग विधा के सम्मि‍लित अभ्यास से मस्तिष्क को सक्षम बनाया जा सकता है। मानसिक इंद्रियों को जागृत कर बंद आंखों से भी देखा जा सकता है। इस विधा के अभ्यास से 500 से अधिक नेत्रहीनता से पीड़ित व्यक्ति बेहतर जीवन जीने में सक्षम हुए हैं। संस्था द्वारा इस विधा का नि:शुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है।


मंत्री श्री बघेल ने डूब-प्रभावित दो व्यक्तियों की करेंट लगने से मृत्यु पर दु:ख व्यक्त किया
13 August 2019
भोपाल.नर्मदा घाटी विकास मंत्री श्री सुरेन्द्र सिंह बघेल ने बड़वानी जिले के राजघाट क्षेत्र में नर्मदा नदी का जल-स्तर बढ़ जाने के कारण करेंट लगने से 2 व्यक्तियों की मौत पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। मृतकों के परिवारों को मुख्यमंत्री सहायता कोष से 2-2 लाख रुपये और बिजली विभाग की ओर से 4-4 लाख रुपये की सहायता राशि तत्काल स्वीकृत की गई है। श्री बघेल ने घटना की जाँच के आदेश देते हुए कहा है कि दोषी अधिकारियों पर तुरंत कार्यवाही की जायेगी।
डूब प्रभावितों से पुनर्वास केन्द्रों में रहने का आग्रह
मंत्री श्री बघेल ने डूब प्रभावित परिवारों से आग्रह किया है कि उनके गाँव के समीप बनाये गये पुनर्वास स्थलों पर पहुँचें, जिससे किसी अप्रिय घटना से बचा जा सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार डूब प्रभावित परिवारों के साथ है और उनके बचाव तथा सहयोग के लिये हमेशा तैयार है। श्री बघेल ने बचाव कार्य के दौरान मृत व्यक्तियों के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की।
गुजरात सरकार से बाँध के गेट खोलने का आग्रह
नर्मदा घाटी विकास मंत्री श्री बघेल ने गुजरात सरकार से पुन: आग्रह किया है कि राजघाट बाँध का जल-स्तर बढ़ने के कारण मानवीय घटनाओं को रोकने के लिये बाँध के गेट खुलवायें। श्री बघेल ने बताया कि पूर्व में भी गुजरात सरकार से इस बारे में आग्रह किया गया था। इस बार प्रदेश में अति-वृष्टि से नर्मदा का जल-स्तर बढ़ने के कारण गुजरात स्थित बाँध के गेट खोलने का पुन: आग्रह किया गया है।


स्वतंत्रता दिवस पर प्रदेशवासी देख सकेंगे झिलमिलाता राजभवन
13 August 2019
भोपाल.राजभवन आमजन के भ्रमण के लिए स्वतंत्रता दिवस के पूर्व 13 अगस्त को शाम 5 बजे से रात 10 बजे तक खुला रहेगा। नागरिक आकर्षक विद्युत साज-सज्जा के साथ ही बच्चों की प्रस्तुतियों का आनंद भी ले सकेंगे। सांस्कृतिक संध्या का आयोजन शाम 7 बजे होगा। राजभवन में होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों में राजभवन में रहने वाले परिवारों के बच्चे, कुम्हारपुरा स्थित राजभवन शासकीय स्कूल के 130 बच्चे एवं शासकीय कमला नेहरू स्कूल के बच्चे विभिन्न सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देंगे। राजभवन द्वारा कमजोर एवं पिछड़े वर्ग के बच्चों को प्रतिभा-प्रदर्शन का मंच उपलब्ध कराने की यह अभिनव पहल होगी।
सरस्वती वंदना नृत्य-प्रस्तुति से सांस्कृतिक संध्या का प्रारंभ होगा। अनेकता में एकता के संदेश की 25 बच्चों द्वारा भव्य सामूहिक प्रस्तुति दी जायेगी। आंचलिक प्रस्तुतियाँ भी कार्यक्रम में शामिल की गई हैं। "रंगीलो मारो ढोलना" की रंगारंग प्रस्तुति 5 बच्चों द्वारा संयुक्त रूप में दी जायेगी। नृत्य प्रस्तुतियों के क्रम में लोक-नृत्य कालबेलिया एवं तेरह तालिका मिश्रण की नृत्य प्रस्तुति में 17 बच्चे प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। गीत प्रस्तुतियाँ भी होंगी। मुख्य आकर्षण "कौम की खादिम की है जागीर" वंदे मातरम गीत में 9 बच्चों द्वारा गायन प्रतिभा का प्रदर्शन होगा। इसी तरह "सुमन अर्पित आजादी के" और "कश्मीर न देंगे" जैसे गीतों की प्रस्तुति भी होगी। गांधीजी की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में उन पर केन्द्रित विशिष्ट नाट्य प्रस्तुति का मंचन भी होगा। प्रस्तुति का उद्देश्य बच्चों को गांधीजी के आचार-विचार से अवगत कराना और स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान को रेखांकित करना है। प्रस्तुति में 86 बच्चे अपनी नाट्य-कला की मंच प्रस्तुति देंगे।
राजभवन में इस दिन आने वाले नागरिक चित्र-प्रदर्शनी भी देख सकेंगे। प्रदर्शनी में भविष्य के कर्णधार स्वतंत्रता-संघर्ष के वीरों से परिचित होंगे। बच्चों में राष्ट्रभक्ति और देश के लिए सर्वस्व अर्पित करने की भावनायें संचारित होगी। प्रदर्शनी को देखकर सेनानियों के व्यक्तित्व-कृतित्व के संबंध में अधिक जानकारी प्राप्त करने की जिज्ञासा भी उत्पन्न होगी, जो इतिहास के पन्नों पर दर्ज है। अभिभावक भी बच्चों को कड़े स्वतंत्रता संघर्ष का विवरण और आजादी की महत्ता समझा पायेंगे। आकर्षक विद्युत सज्जा उन्हें एहसास कराएगी कि आज का दिन सबके लिए क्यों खास है।


जनसंपर्क मंत्री श्री शर्मा ने वरिष्ठ पत्रकार श्री नारद के निधन पर शोक व्यक्त किया
13 August 2019
भोपाल.जनसंपर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने आज जबलपुर - महाकौशल के वरिष्ठ पत्रकार श्री निर्मल चन्द्र नारद के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि श्री नारद प्रखर लेखनी के धनी थे । पत्रकारिता उन्हें विरासत में मिली थी । उन्होंने जबलपुर - महाकौशल क्षेत्र में अपनी लेखनी का न केवल सबसे लोहा मनवाया अपितु एक विशिष्ट स्थान भी बनाया। श्री शर्मा ने दिवंगत आत्मा की शांति और परिजनों को इस असहनीय दुःख को सहने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ द्वारा ईद-उल-अज़हा की शुभकामनाएँ
12 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने ईद-उल-अज़हा के मौके पर नागरिकों, विशेष रूप से मुस्लिम समुदाय के लोगों को बधाई और शुभकामनाएँ दी है। श्री नाथ ने शुभकामना संदेश में कहा कि यह त्यौहार खुदा की राह से कुर्बानी का महत्व बताता है। इसलिए इसे कुर्बानी या त्याग का त्यौहार भी कहते हैं।

अन्य पिछड़ा वर्ग के सर्वांगीण विकास के लिये प्रतिबद्ध है राज्य सरकार : मंत्री श्री शर्मा
12 August 2019
भोपाल. जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा और खनिज साधन मंत्री श्री प्रदीप जायसवाल आज यहाँ कल्चुरी भवन में वरिष्ठ नागरिक मंच द्वारा आयोजित प्रतिभा सम्मान समारोह में शामिल हुए। मंत्रीद्वय कलार समाज की प्रतिभाओं को विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धि के लिये सम्मानित किया। कलार समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री दिलीप सूर्यवंशी ने समाज की गतिविधियों और योजनाओं की जानकारी दी।
मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार अन्य पिछड़ा वर्ग के सर्वांगीण विकास के लिये प्रतिबद्ध है। इन्हें शासकीय सेवा के साथ-साथ व्यवसायिक गतिविधियों में आरक्षण जैसी महत्वपूर्ण सुविधाएँ मुहैया कराकर निरंतर तरक्की के अवसर दिये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि राम वन गमन-पथ निर्माण की कार्रवाई जारी है। श्री शर्मा ने कलार समाज द्वारा प्रदेश के विकास में दिये जा रहे सहयोग की सराहना की।
खनिज साधन मंत्री श्री जायसवाल कहा कि प्रदेश का विकास तभी संभव है, जब उसमें हर वर्ग, हर समाज का सहयोग रहे। उन्होंने कहा कि प्रत्येक समाज के पुरोधाओं की यह जिम्मेदारी है कि विकास के क्षेत्र में अपनी भागदारी सुनिश्चित करें।


राजघाट में नाव से खाना लेकर जा रहे 5 डूब प्रभावितों को लगा करंट, दो की मौत, पाटकर बोलीं- यह बेकसूराें की हत्या
12 August 2019
भोपाल. नर्मदा का जलस्तर बढ़ने से टापू बने राजघाट में बिजली के खुले तारों की चपेट में आने से सोमवार सुबह दो डूब प्रभावितों की मौत हो गई, वहीं तीन की हालत गंभीर होने पर अस्पताल में भर्ती करवाया गया। लापरवाही के चलते हुए हादसे से गुस्साए लोगों ने शव को नाव में रखकर विरोध प्रदर्शन किया गया। उधर, आंदोलन प्रमुख मेघा पाटकर ने इसे बेकसूरों की हत्या बताते हुए आंदोलन तेज करने की सरकार को चेतावनी दी है।
जानकारी के अनुसार सोमवार सुबह राजधाट के 5 डूब प्रभावित नाव से खाना लेकर जा रहे थे, तभी उनकी नाव बिजली के खुले तारों की चपेट में आ गई। बिजली का झटका लगने से नाव में सवार राजघाट निवासी चिमन पिता नटवर दरबार और संतोष पिता लालसिंह की मौत हो गई। हादसे में तीन लाेग झुलस कर घायल हो गए। हादसे की सूचना के बाद पुलिस और प्रशासन के अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे, जहां उन्हें जनता के रोष का सामना करना पड़ा। लोगों का आरोप है कि प्रशासन की लापरवाहीं के चलते यह हादसा हुआ है।
मेघा बोलीं- यह बेकसूरों की हत्या, आंदोलन को तेज करेंगे
नर्मदा बचाव आंदोलन की प्रमुख मेघा पाटकर ने कहा कि कहा कि यह बेकसूरों की हत्या है। दिल्ली और गुजरात मिलकर जो सरदार सरोवर बांध में पारी भर रहे हैं। उसके सामने मप्र की सरकार और जनता को एक साथ मिलकर आवाज उठाने की जरूरत है। राजघाट पर पुनर्वास के बिना जो परिवार थे, उनके आने-जाने के लिए कोई साधन नहीं रखा। पिछले सालों से सरकार ने पूरी वोट जब्त कर ली, जिससे बड़ी संख्या में गांव में केवट होने के बाद भी मदद नहीं कर पाए। आखिर में गांव के छोटे नाव वाले मदद को आगे आए, लेकिन एमपीईबी ने सभी जगह की बिजली नहीं काटी। खेतों में बिजली चालू होने से करंट पानी में फैल गया और नाव में जा रहे दो लोगों की करंट लगने से मौत हो गई, जबकि तीन लोगों की हालत गंभीर है।
मेघा पाटकर ने कहा कि यहां 32 हजार परिवार आज भी रह रहे हैं, क्या सरकार बांध में पानी भरकर इन्हें भी डुबोएंगे। इस घटना से दिल्ली और गुजरात की सरकार को सबक सीखना चाहिए। मप्र सरकार को एक बूंद पानी आगे नहीं बढ़ने देना चाहिए। हम आंदोलन को तेज करेंगे। पानी आगे बढ़ा तो तमाम सरकारें इसके लिए हत्यारे घोषित होंगी। गुजरात में जो जमीन पीड़ितांे को दी गई, वहीं कोई सुविधा नहीं हैं। जो खेत दिए वहां खेती नहीं हो सकती है। इन्होंने मजबूरों को फंसा दिया। 16 हजार परिवारों को डूब क्षेत्र में आने की घोषणा की गई, लेकिन उन्हें कोई कागज नहीं दिया गया। वे आज भी भटक रहे हैं।


राज्यपाल श्री टंडन से मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने की सौजन्य भेंट
10 August 2019
भोपाल. राज्यपाल श्री लाल जी टंडन से मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने आज राजभवन में सौजन्य भेंट की। राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने विभिन्न विषयों पर चर्चा की।








आदिवासियों द्वारा साहूकारों से लिए सभी कर्ज माफ होंगे : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ
10 August 2019
भोपाल. प्रदेश के अनुसूचित क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासियों द्वारा साहूकारों से लिए गए सभी कर्ज माफ होंगे। इससे प्रदेश के डेढ़ करोड़ आदिवासी साहूकारों के कर्ज से मुक्त होंगे।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने आज छिंदवाड़ा में अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस पर आयोजित राज्य स्तरीय समारोह में बताया कि सरकार ने इसके लिए सभी औपचारिक व्यवस्थाएँ कर ली हैं। सभी 89 अनुसूचित क्षेत्रों में यह कर्ज 15 अगस्त तक माफ होना शुरू हो जाएंगे। श्री कमल नाथ ने वन ग्रामों को राजस्व ग्राम बनाये जाने की भी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आदिवासी वर्ग की मांग पर अनुसूचित जनजाति विभाग का नाम बदलकर आदिवासी विकास विभाग किया जायेगा।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस पर अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए कई ऐतिहासिक कामों का खुलासा किया। उन्होंने साहूकारों से लिए कर्ज माफ करने के संबंध में कहा कि किसी आदिवासी ने कर्ज लेने के लिए अपनी जेवर, जमीन गिरवी रखी है तो वह भी उन्हें वापिस होंगे।
मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि भविष्य में कोई साहूकार अनुसूचित क्षेत्र में साहूकारी करेगा तो उसे लायसेंस लेकर नियमानुसार धंधा करना होगा। मुख्यमंत्री ने चेतावनी दी कि अगर बगैर लायसेंस के किसी ने अनुसूचित क्षेत्रों में साहूकारी का धंधा किया तो यह नियमों का उल्लंघन माना जाएगा और इसे गैरकानूनी माना जायेगा। यह कर्ज आदिवासी नहीं चुकाएंगे।
डेबिट कार्ड देंगे और हर हाट में खोलेंगे एटीएम
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि प्रदेश के 89 अनुसूचित क्षेत्र विकासखंडों के आदिवासियों को साहूकारों से मुक्त कराने के लिए सरकार उन्हें रुपे, डेबिट कार्ड देगी। इसके जरिए वे जरूरत पड़ने पर दस हजार रुपये तक ए.टी.एम से निकाल सकेंगे। उन्होंने बताया कि हर हाट बाजार में ए.टी.एम. खोले जायेंगे।
खारिज वनाधिकार प्रकरणों का परीक्षण होगा
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि अनुसूचित जनजाति वर्ग के जिन भी आदिवासियों के वनाधिकार के प्रकरण खारिज हुए हैं उनका पुनरीक्षण किया जायेगा और पात्र होने पर उन्हें वनाधिकार पट्टा दिया जाएगा। श्री नाथ ने कहा कि जहाँ भी वनाधिकार प्रकरण संबंधी आवेदन लंबित है उनका अभियान चलाकर निराकरण किया जायेगा।
मुख्यमंत्री मदद योजना
आदिवासी समाज में जन्म और मृत्यु के समय होने वाले रीति-रिवाजों का सम्मान करते हुए श्री कमल नाथ ने 'मुख्यमंत्री मदद योजना' का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि आदिवासी परिवार में अगर बच्चा या बच्ची का जन्म होता है तो उस परिवार को 50 किलो चावल अथवा गेहूँ दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी तरह अगर किसी आदिवासी परिवार में मृत्यु होती है तो उस परिवार को एक क्विंटल चावल अथवा गेहूँ दिया जाएगा। इस मौके पर खाना बनाने के लिए उन्हें बड़े बर्तन भी उपलब्ध करवाए जाएंगे।
खेलकूद शिक्षा के लिए महत्वपूर्ण घोषणाएँ
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस पर आदिवासियों की शिक्षा और खेल के क्षेत्र में अवसर देने के लिए भी कई घोषणाएँ की। मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासी बहुल क्षेत्रों में 40 एकलव्य विद्यालय खोले जाएंगे। इनमें आदिवासी बच्चों के लिए अच्छी पढ़ाई के साथ-साथ अन्य सुविधाएँ भी होगी। इसी तरह 40 हाई स्कूलों का उन्नयन कर उन्हें हायर सेकेण्डरी स्कूल बनाया जाएगा। आदिवासी क्षेत्रों में सात नए खेल परिसर बनेंगें जिनमें अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खेल सुविधाएँ होंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासी क्षेत्रों के विद्यालयों में पढ़ाने वाले 53 हजार अध्यापकों को शासकीय शिक्षकों के समान सुविधाएँ मिलेंगी।
आष्ठान योजना
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि आदिवासी समाज के देव-स्थलों को सुरक्षित रखने और उन्हें संरक्षण देने के लिए सरकार ने आष्ठान योजना शुरू की है। इससे हम आदिवासी समुदाय के कुल देवता और ग्राम देवी-देवताओं के स्थानों में स्थापित देवगुढ़ी/मढ़िया/देवठान का निर्माण करेंगे, उनका जीर्णोद्धार किया जायेगा और श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए सामुदायिक भवनों का निर्माण किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासी संस्कृति और उनके गौरवशाली इतिहास को संरक्षित करने के लिए राजा शंकरशाह एवं कुंवर रघुनाथ शाह की स्मृति में जबलपुर में 500 करोड़ रुपये की लागत से संग्रहालय बनाया जायेगा।
आदिवासी संस्कृति की सभ्यता और इतिहास को बचाने का संकल्प लें नौजवान
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस पर आयोजित राज्य स्तरीय समारोह में कहा कि आज सबसे ज्यादा जरूरी यह है कि हमारे आदिवासी समाज की गौरवशाली संस्कृति सभ्यता और इतिहास को सुरक्षित रखा जाये। उन्होंने आदिवासी समाज के युवकों का आव्हान किया कि वे आज के दिन यह संकल्प लें कि वे अपनी संस्कृति, सभ्यता और इतिहास को जीवित रखेंगे और उन्हें सुरक्षित रखेंगे। उन्होंने कहा कि आदिवासी समाज में जो भटकाव पैदा हो रहा है, आज उसे रोकने की आवश्यकता है। इसके लिए नौजवानों को आगे आने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हमारे जंगल सुरक्षित हैं। अभी तक हमारा जो पर्यावरण प्रदूषण रहित था, उसका श्रेय आदिवासी समाज को जाता है जिन्होंने जंगलों को सुरक्षित रखा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में नई सरकार बनने के बाद हमने जो प्राथमिकताएँ तय की और जिस नई सोच के साथ काम शुरू किया उसमें सबसे पहले हमने आदिवासियों, पिछड़े क्षेत्रों और पिछड़े वर्गों की चिंता की और उनके हित में कई फैसले किए। श्री नाथ ने कहा कि प्रदेश में आदिवासी विकास के सर्वांगीण विकास और उनके हित में काम करने के लिये हम संकल्पित है।


सरकार आदिवासियों को योजनाओं का लाभ दिलाने प्रतिबद्ध : मंत्री श्री शर्मा
10 August 2019
भोपाल.जनसम्पर्क मंत्री एवं होशंगाबाद जिले के प्रभारी मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने कहा कि सरकार आदिवासियों को उनके लिये संचालित सभी योजनाओं का लाभ दिलाने के लिये प्रतिबद्ध है। इसके लिये आदिवासी बहुल क्षेत्रों के विकास पर फोकस किया जायेगा।
श्री शर्मा अपने प्रभार के जिले होशंगाबाद में विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि आदिवासियों के प्रकृति के प्रति समर्पण के चलते ही जंगलों में शेर सुरक्षित बच सके हैं। मध्यप्रदेश को टाईगर स्टेट के रूप में मिली पहचान के लिये प्रदेश के आदिवासी श्रेय के हकदार हैं। जनसम्पर्क मंत्री ने अपेक्षा की कि अधिकारी, आदिवासियों के लिये खास तौर पर संचालित योजनाओं का लाभ उन तक पहुँचाने के लिये तत्परता से काम करेंगे।
जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा ने केसला में भी 'विश्व आदिवासी दिवस' के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में भागीदारी की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की मंशानुसार आदिवासी समुदाय को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिये 16 अगस्त से 15 सितम्बर तक केसला की 49 ग्राम पंचायतों में बैंकर्स और अधिकारियों द्वारा‍शिविर लगाकर वित्तीय सुविधाएँ प्रदान की जायेंगी। श्री शर्मा ने आदिवासी समुदाय को शुभकामनाएँ भी दीं।


24 घंटे में 3.3 इंच बारिश; बड़े तालाब को फुल टैंक के लिए 0.80 फीट पानी की जरूरत
9 August 2019
भोपाल. भोपाल में 24 घंटे में 84.2 मिमी यानि 3.3 इंच बारिश रिकॉर्ड की गई है। तीन साल में इस सीजन में अब तक की सबसे ज्यादा बारिश हुई। बड़ा तालाब का जलस्तर 0.80 फीट बढ़कर 66 फीट हो गया। अब बड़ा तालाब काे फुल टैंक लेवल के लिए 0.80 फीट की जरूरत है। नगर निगम के अनुसार, अब तक हुई बारिश के चलते रात तक बड़ा तालाब के फुल टैंक लेवल तक भर जाने की संभावना है।
बारिश को देखते हुए बड़े तालाब के निकट भदभदा बस्ती को अलर्ट कर दिया गया है और कंट्रोल रूम से कोलांस नदी पर नजर रखी जा रही है। जिससे तालाब में आ रहे पानी के लेवल को देखा जा सके। अगर दिन में सीहोर और बड़ा तालाब के कैचमेंट एरिया में बारिश हुई तो भदभदा के गेट खोले जा सकते हैं।
इसलिए राजधानी हो गई तरबतर
जबलपुर से 75 किमी दूर बना मानसूनी सिस्टम गुरुवार रात जब सागर-दमाेह की ओर से आया ताे भाेपाल में इसने झमाझम बारिश कराई। इससे पहले इसी सिस्टम ने गुरुवार सुबह से शाम तक जबलपुर, अशाेकनगर, गुना समेत प्रदेश के ज्यादातर शहराें काे तर कर दिया। राज्य के 30 शहराें में भारी बारिश हुई।
तीन साल में इस सीजन की सबसे ज्यादा बारिश
वरिष्ठ माैसम वैज्ञानिक एके शुक्ला ने बताया कि भाेपाल में गुरुवार को सुबह 8:30 बजे से शुक्रवार को सुबह 8.30 बजे तक 84.2 मिमी (करीब 3.3 इंच) पानी बरसा। राजधानी में रात में करीब 3 घंटे तेज बारिश हुई। अगस्त के अभी 21 दिन बाकी हैं, लेकिन इस सीजन में अब तक भोपाल में 910 मिमी से ज्यादा बारिश हाे चुकी है। तीन साल बाद बारिश का आंकड़ा यहां तक पहुंचा है।
बड़ा तालाब : जलस्तर 1660 फीट पर पहुंचा
बड़े तालाब का लेवल 0.80 फीट बढ़ गया है। शुक्रवार को तालाब का जल स्तर बढ़कर 1660.00 फीट हाे गया। यह फुल टैंक 1666.80 फीट हाेने में अब सिर्फ 0.80 फीट बाकी है। इसके कैचमेंट एरिया में हुई बारिश की वजह से काेलांस नदी 5 फीट पर बह रही है।
तालाब फुल तो दो साल बाद खुलेंगे भदभदा के गेट
बड़े तालाब के लबालब हाेने से शहरवासी दाे साल बाद भदभदा डैम के गेट खुलने के नजारे का लुत्फ उठा सकेंगे। शुक्रवार सुबह तक तालाब के जलस्तर में और बढ़ाेतरी हाेगी। यदि फुल टैंक 1666.80 फीट हुआ ताे भदभदा डैम के गेट खाेले जा सकते हैं।


अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिये वित्तीय समावेशन और साक्षरता अभियान
9 August 2019
भोपाल.राज्य शासन ने विश्व आदिवासी दिवस पर प्रदेश में अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिये वित्तीय समावेशन एवं साक्षरता अभियान चलाने का निर्णय लिया है। अभियान 16 अगस्त से 15 सितम्बर तक अनुसूचित जनजाति बहुल छिंदवाडा, बुरहानपुर, खण्डवा, झाबुआ, अलीराजपुर, बड़वानी, खरगोन, धार, मण्डला, सिवनी, बालाघाट, डिण्डौरी, होशंगाबाद, बैतूल, रतलाम, शहडोल अनूपपुर, सीधी, उमरिया और श्योपुर जिलों के कुल 89 विकासखण्डों में संचालित होगा। प्रत्येक विकासखण्ड में ग्राम पंचायतवार वित्तीय साक्षरता के 30 कार्यक्रम होंगे।
अभियान में आदिवासियों को वित्तीय साक्षरता, नया जनधन खाता खोलने, जनधन खातों में ओवरड्राफ्ट की सुविधा, आधार सीडिंग और प्रमाणीकरण तथा रूपे कार्ड के बारे में विस्तृत जानकारी दी जायेगी। वित्तीय साक्षरता के लिये सामान्यत: पूछे जाने वाले प्रश्नों और जिज्ञासाओं के समाधान संबंधी सामग्री जिलों को उपलब्ध कराई गई है। राज्य शासन द्वारा संचालित इस अभियान में नाबार्ड भी सहयोग प्रदान करेगा।
वित्त विभाग द्वारा इस संबंध में विस्तृत निर्देश जारी किये गये हैं। अभियान संचालन के लिये पंचायत समन्वयक, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी और बैंक मित्र को मिलाकर 3 सदस्यीय टीम का गठन किया जायेगा। ग्राम पंचायत के सचिव और रोजगार सहायक भी ग्राम पंचायतों के कार्यक्रम में शामिल होंगे। प्रधानमंत्री जनधन योजना के खातेदारों को उपलब्ध ओवरड्राफ्ट की सुविधा का लाभ लेने के लिये आवश्यक फार्म भरवाये जायेंगे। इन खातों में छ: माह से सक्रिय हितग्राहियों को उनकी सहमति से अधिकतम 10 हजार रूपये तक ओवरड्राफ्ट की सुविधा मिलेगी। हितग्राहियों को ओवरड्राफ्ट पर लगने वाली ब्याज दर और खाते में लेन-देन जारी रखने के बारे में जानकारी दी जायेगी। ग्राम-वार हितग्राहियों के शत-प्रतिशत कव्हरेज के निर्देश दिये गये हैं।
अभियान के अन्तर्गत जिन हितग्राहियों के खाते खुले हैं परन्तु आधार प्रमाणीकरण नहीं है, उनकी आधार सीडिंग के लिये सहमति-पत्र भरे जाने और ई-केवाईसी के लिये कार्य किया जायेगा। जिन खातों में रूपे कार्ड जारी नहीं हैं उनमें रूपे कार्ड जारी करवाने और एक्टिवेट करने तथा उसके लाभ से संबंधितों को अवगत कराने के लिये भी गतिविधियाँ संचालित की जायेंगी। रूपे कार्ड को सक्रिय बनाये रखने के संबंध में भी जानकारी दी जायेगी।
जिला स्तर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अभियान के नोडल अधिकारी होंगे। जिला कलेक्टर द्वारा कार्यक्रम का समन्वय किया जायेगा। अग्रणी जिला प्रबंधक और आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारी अभियान के सहायक नोडल अधिकारी के रूप में सहयोग प्रदान करेंगे। विकासखण्ड स्तर पर जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी कार्यक्रम के नोडल अधिकारी रहेंगे।


अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिये वित्तीय समावेशन और साक्षरता अभियान
9 August 2019
भोपाल. विश्व आदिवासी दिवस पर उन सभी जनजातीय बंधुओं को बधाई, जो प्रकृति के करीब रहते हुए प्रकृति की सेवा कर रहे हैं। राज्य सरकार ने आदिजन दिवस पर अवकाश घोषित किया है। हम सब उनका सम्मान करें, जो प्रकृति को हमसे ज्यादा समझते हैं। आदिवासी समाज जंगलों की पूजा करता हैं। उनकी रक्षा करता है। इसी सांस्कृतिक पहचान के साथ समाज में रहते हैं।
वह दिन अब दूर नहीं जब हरियाली और वन संपदा अर्थ-व्यवस्थाओं और देशों की पहचान के सबसे प्रमुख मापदंड होंगे। जिसके पास जितनी ज्यादा हरियाली होगी वह उतना ही अमीर कहलायेगा। उस दिन हम आदिजन के योगदान की कीमत समझ पायेंगे।
हम जानते हैं कि बैगा लोग स्वयं को धरतीपुत्र मानते हैं। इसलिए कई वर्षों से वे हल चलाकर खेती नहीं करते थे। उनकी मान्यता थी कि धरती माता को इससे दुख होगा। आधुनिक सुख-सुविधाओं से दूर बिश्नोई समुदाय का वन्य-जीव प्रेम हो या पेड़ों से लिपट कर उन्हें बचाने का उदाहरण हो। जाहिर है कि आदिजन प्रकृति की रक्षक के साथ पृथ्वी पर सबसे पहले बसने वाले लोग हैं। आज हम टंट्या भील, बिरसा मुंडा और गुंडाधुर जैसे उन सभी आदिजन को भी याद करते हैं जिन्होंने विद्रोह करके आजादी की लड़ाई में अंग्रेजों के दांत खटटे कर दिये थे।
हमारी सांस्कृतिक विविधता में अपनी आदिजन की संस्कृति की भी भागीदारी है। आदि संस्कृति प्रकृति पूजा की संस्कृति है। यह खुशी की बात है कि इस साल अंतर्राष्ट्रीय विश्व आदिजन दिवस को आदिजन की भाषा पर केंद्रित किया गया है।
मध्यप्रदेश में हमने निर्णय लिया कि गोंडी बोली में गोंड समाज के बच्चों के लिए प्राथमिक कक्षाओं का पाठ्यक्रम तैयार करेंगे। संस्कृति बचाने के लिए बोलियों और भाषाओं को बचाना जरूरी है। इसका अर्थ यह नहीं है कि वे आधुनिक ज्ञान और भाषा से दूर रहें। वे अंग्रेजी, हिंदी, संस्कृत भी पढे़ और अपनी बोली को भी बचा कर रखें। अपनी बोली बोलना पिछड़ेपन की निशानी नहीं बल्कि गर्व की बात है।
हमारे प्रदेश में कोल, भील, गोंड, बैगा, भारिया और सहरिया जैसी आदिम जातियाँ रहती हैं। ये पशु पक्षियों, पेड़-पौधों की रक्षा करते हैं। इन्हीं के चित्रों का गोदना बनवाते हैं। गोदना उनकी उप-जातियों, गोत्र की पहचान होती है जिसके कारण वे अपने समाज में जाने जाते हैं। यह चित्र मोर, मछली, जामुन का पेड़ आदि के होते हैं।
जनजातियों के जन्म गीत, शोक गीत, विवाह गीत, नृत्य, संगीत, तीज-त्यौहार, देवी-देवता, पहेलियाँ, कहावतें, कहानियाँ, कला-संस्कृति सब विशेष होते हैं। वे विवेक से भरे पूरे लोग है। आधुनिक शिक्षा से थोड़ा दूर रहने के बावजूद उनके पास प्रकृति का दिया ज्ञान भरपूर है।
मुझसे मिलने वाले कुछ आदिवासी परिवारों ने अपने समाज में आम बोलचाल में आने वाली कहावतों का जिक्र किया। उनके अर्थ इतने गंभीर और दार्शनिक हैं कि आश्चर्य होता है। एक भीली व्यक्ति ने मुझे एक कहावत सुनाई - 'ऊँट सड़ीने भीख मांगे'। इसका मतलब है कि ऊँट पर चढ़कर भीख मांगने से भीख नहीं मिलती। ऐसे ही एक गोंडी समाज के मुखिया ने एक कहावत बताई कि 'खाडे खेतो गाभिन गाय, जब जानू जब मूंह मा आये।' इसका मतलब है कि खेतों का अनाज और गर्भवती गाय का दूध जब तब तक मुंह में नहीं आता तब तक भरोसा नहीं किया जा सकता। भील समाज में भी अक्सर बोला जाता है कि - 'भील भोला आने सेठा मोटा'। इसका मतलब है कि भील के भोलेपन से ही सेठ मालामाल हुआ। ये सब कहावतें दर्शाती हैं कि आदिजन जीवन की बहुत गहरी समझ रखते हैं।
कई जनजातियों का उल्लेख तो रामायण में मिलता है। जब भगवान श्रीराम चित्रकूट आये वे कोल जनजाति के लोगों से मिले थे। 'कोल विराट वेश जब सब आए, रचे परन तृण सरन सुहाने।' अभी हाल में जब मेरे ध्यान में लाया गया कि सतना जिले के कोल बहुल गाँव बटोही में कोल समुदाय के बच्चों के लिए स्कूल नहीं है तो मैंने तत्काल स्कूल बनाने के निर्देश दिए। बटोही गांव में बच्चों के लिए प्राथमिक शाला अच्छी तरह चले, यह हमारी जिम्मेदारी है।
आज गोंडी चित्रकला की न सिर्फ मध्यप्रदेश बल्कि पूरे विश्व में पहचान है। गोंड चित्रकला को जीवित रखने वालों को सरकार पूरी मदद करेगी । यह हमारा कर्त्तव्य है। गोंड और परधान लोग गुदुम बाजा बजाते हैं। हम चाहते हैं कि आदिवासी समुदाय की कला प्रतिभा दुनिया के सामने आए।
शिक्षित नागरिक समाज से यह अपेक्षा है कि यह अहसास रहे कि कुछ दूर जंगल में ऐसे आदिजन भी रहते हैं जो हमारे ही जैसे हैं। वे सबसे पहले धरती पर बसने वाले लोग हैं और जंगलों में ही बसे रह गए।
जब कांग्रेस सरकार ने वनवासी अधिकार अधिनियम बनाया था तो कई संदेह पैदा किए गए थे। आज इसी कानून के कारण वनवासियों को पहचान मिली है। जिन जंगलों में उनके पुरखे रहते थे वहाँ उनका अधिकार है। उन्हें कोई नहीं हटा सकता। हमने उनके अधिकार को कानूनी मान्यता दी है।
आदिवासी संस्कृति में देव स्थानों के महत्व को देखते हुए हमने देव स्थानों के रखरखाव के लिए सहायता देने का निर्णय लिया है। यह संस्कृति को पहचानने की एक छोटी सी पहल है। हमारी सरकार आदिजन की नई पीढ़ी के विकास और उनकी संस्कृति बचाने में मदद देने के लिए वचनबद्ध है।
आदिजन दिवस पर एक बार फिर सभी परिवारों को बधाई। आधुनिक समाज में रहने वाले नागरिकों से अपील करता हूँ कि वे समझें कि हमारे समय में हमारे जैसा ही आदि समाज भी रहता है।


कई क्षेत्रों में मध्यप्रदेश बन सकता है देश का हब : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ
8 August 2019
भोपाल. मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि मध्यप्रदेश की औद्योगिक निवेश की संभावनाओं का ठीक से दोहन करने की आवश्यकता है। प्रदेश उद्यानिकी, खाद्य प्रसंस्करण, डेटा प्रोसेसिंग, ऊर्जा स्टोरेज जैसे नए क्षेत्रों में देश का केंद्र-बिंदु बन सकता है।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ और श्री मुकेश अम्बानी के बीच आज मुम्बई में मध्यप्रदेश में नए क्षेत्रों में निवेश के सम्बन्ध में चर्चा हुई।
श्री कमल नाथ ने श्री मुकेश अम्बानी के साथ हुई बैठक के दौरान उन्हें प्रदेश में नई टेक्नोलॉजी में निवेश के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि इससे रोज़गार के मौके तो बढ़ेंगे ही, साथ ही व्यापार भी बढ़ेगा। इससे निवेशक और राज्य दोनों को फायदा होगा।
श्री मुकेश अम्बानी ने कहा कि कृषि क्षेत्र में रिलायंस और मध्यप्रदेश सरकार की भागीदारी से विकास के नए रास्ते खुल सकते हैं। श्री अम्बानी ने मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ के साथ केंद्रीय मंत्री के रूप में मुलाकात की चर्चा करते हुए कहा कि श्री कमल नाथ के साथ हुए विवेकपूर्ण विचार-विमर्श से व्यापारिक निर्णय सही निकले।
श्री मुकेश अम्बानी ने कहा कि जियो नेटवर्क का उपयोग महिला सुरक्षा, अपराध अनुसंधान और नियंत्रण जैसे क्षेत्रों में किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अमेजॉन और वालमार्ट की तरह रिलायंस ग्लोबल लॉजिस्टिक हब मध्यप्रदेश में स्थापित करने की योजना है। बेंगलुरु और मुम्बई में इसे पहले से ही स्थापित किया गया है।
श्री अम्बानी ने कहा कि एनर्जी स्टोरेज में मध्यप्रदेश में बैटरी निर्माण संबंधी निवेश करने को वे तैयार हैं। इसके लिए मध्यप्रदेश शीर्ष प्राथमिकता वाला राज्य है। लिथियम के बाद वेनेडियम के माध्यम से ऊर्जा स्टोरेज का भविष्य अच्छा है। श्री अम्बानी ने कहा कि मध्यप्रदेश उद्यानिकी का केंद्र बन सकता है। खाद्य प्रसंस्करण का क्षेत्र बढ़ने से किसानों को सबसे ज्यादा फायदा होगा।
श्री अम्बानी ने यह जानकारी भी दी कि मध्यप्रदेश में डेटा उपयोग साऊथ कोरिया और यू.के. से भी ज्यादा हो रहा है।


मंत्री श्री सिलावट ने बच्चों को खिलाई कृमिनाशक गोली
8 August 2019
इंदौर. लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने आज राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर इंदौर के बाल विनय मंदिर स्कूल में बच्चों को कृमि नाशक गोली खिलाकर अभियान का शुभारंभ किया। उन्होने बच्चों से बातचीत भी की l
मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि प्रदेश के एक से उन्नीस वर्ष आयु के लगभग तीन करोड़ बच्चों को आज कृमिनाशक गोली खिलाकर संक्रमित बीमारियों से बचाने की पहल की गई। इसके लिये स्कूलों और आगनवाड़ी केंद्रो के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग द्वारा समुचित व्यवस्था की गई है l
मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि कृमि मुक्ति अभियान मेँ जन-प्रतिनिधियों और सामाजिक संगठनों से सहयोग लिया जा रहा है l उन्होने नागरिकों का आव्हान किया कि बच्चों को कृमिनाशक दवाई की गोली खिलाने के अभियान मेँ भागीदार बनें l
एसओएस बालग्राम में मिशन संचालक
संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन श्रीमती छवि भारद्वाज ने भोपाल स्थित खजूरी सड़क एस. ओ. एस. बाल ग्राम मेँ दिव्यांग बच्चों को कृमिनाशक गोली खिलाईं और कैप, टी-शर्ट, पेंसिल बाक्स वितरित किये l उन्होने बाल ग्राम मेँ संचालित शैक्षणिक और अन्य गतिविधियों का अवलोकन भी किया l


प्लास्टिक अवशिष्ट से साढ़े 6 हजार किलोमीटर सड़कों का रिकार्ड निर्माण: मंत्री श्री पटेल
8 August 2019
भोपाल. पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल ने कहा है कि म.प्र. ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण ने प्लास्टिक अवशिष्ट से प्रदेश में साढ़े 6 हजार किलोमीटर सड़क मार्ग निर्माण का रिकार्ड स्थापित किया है। सड़क निर्माण के क्षेत्र में यह विशेष पहल है।
मंत्री श्री पटेल ने बताया कि प्लास्टिक वेस्ट मटेरियल का सदुपयोग पर्यावरण प्रदूषण को नियंत्रण करने में सहायक है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में इस मटेरियल के उपयोग से सड़को का निर्माण, स्वच्छ भारत मिशन में सहयोगी है।
प्राधिकरण द्वारा प्लास्टिक वेस्ट मटेरियल का उपयोग कर प्रदेश में आगर जिले में 70 किलोमीटर, अलीराजपुर 59, अनुपपूर 40, अशोक नगर 240, बालाघाट 159, बड़वानी 139, बैतूल 333, भिण्ड 99, भोपाल 4, बुरहानपुर 31, छिन्दवाड़ा 167, दमोह 29, दतिया 94, देवास 111, धार 302, डिंडोरी 123, गुना 111, ग्वालियर 15, हरदा 73, इंदौर 153, जबलपुर 58, झाबुआ 169, कटनी 65, खण्डवा 71, खरगौन 67, मंडला 304, मंदसौर 149, मुरैना 13, नरसिंहपुर 69, नीमच 112, रायसेन 117, राजगढ़ 64, रतलाम 113, रीवा 184, सागर 4, सतना 159, सीहोर 140, सिवनी 298, श्योपुर 54, शहडोल 125, शाजापुर 304, सीधी 57, सिंगरौली 168, टीकमगढ़ 31, उज्जैन 397, उमरिया 75, विदिशा जिले में 138 किलोमीटर सड़कों का निर्माण पूर्ण किया गया है।


राज्यपाल श्री टंडन द्वारा श्रीमती सुषमा स्वराज के निधन पर शोक व्यक्त
7 August 2019
भोपाल. राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने पूर्व विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। श्री टंडन ने आज नई दिल्ली स्थित स्वर्गीय श्रीमती स्वराज के निवास पर पहुँचकर उनके पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र अर्पित कर अंतिम विदाई दी।
राज्यपाल श्री टंडन ने श्रीमती सुषमा स्वराज के निधन को अपूरणीय क्षति बताया है। श्री टंडन ने शोक संदेश में कहा कि देश की प्रथम महिला विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, महिला सशक्तिकरण की प्रतीक थीं। उन्होंने विदेश मंत्री रहते हुए प्रवासी भारतीयों की जान बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके द्वारा सार्वजनिक जीवन में किये गये लोक कल्याणकारी कार्यों को सदैव याद किया जायेगा।श्री टंडन ने कहा कि दीन-दुखियों, गरीबों की सेवा तथा विकास में उनके द्वारा किये गये कार्य अविस्मरणीय हैं।
राज्यपाल ने दिवंगत आत्मा की शांति और शोक संतप्त परिजनों को यह दु:ख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।


सुषमा स्‍वराज को अपनी बहन मानते थे शिवराज सिंह चौहान, मध्‍यप्रदेश में शोक की लहर
7 August 2019
भोपाल. पूर्व विदेश मंत्री सुषमा के निधन पर मध्‍यप्रदेश में भी शोक की लहर दौड़ गई। अपने मृदुभाषी स्‍वभाव के लिए प्रसिद्ध सुषमा स्‍वराज को पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी बहन की तरह सम्‍मान देते थे।
विदिशा संसदीय सीट से दो बार सांसद रही सुषमा स्‍वराज का मध्‍यप्रदेश से खास रिश्‍ता भी रहा। पाकिस्‍तान से मू‍क बधिर गीता को इंदौर लाने में सुषमा स्‍वराज का ही खासा योगदान रहा। उनके ही प्रयासों से गीता को लाकर इंदौर में मूक बधिर संस्‍थान में रखा गया है।
शिवराज ने सुषमा स्‍वराज के निधन पर भावुक ट्वीट करते हुए कहा कि वे पूर्व विदेश मंत्री, बहन सुषमा स्‍वराज के निधन के समाचार से स्‍तब्‍ध हैं।
भाजपा के पूर्व मंत्री विश्‍वास सारंग ने भी सुषमा स्‍वराज के निधन पर शोक व्‍यक्‍त किया है। उन्‍होंने कहा कि वे एक बड़ी राजनेता के साथ अच्‍छी इंसान थी और किसी की भी मदद के लिए तैयार रहती थी। भाजपा विधायक कृृष्‍णा गौर, पूर्व सांसद आलोक संजर ने भी उनके निधन पर शोक व्‍यक्‍त किया है। मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने भी सुषमा स्‍वराज के निधन पर शोक व्‍यक्‍त किया है।


मध्‍य प्रदेश में अच्छी बरसात का दौर शुरू, अगले कुछ दिनों तक ऐसा होगा
7 August 2019
भोपाल. बंगाल की खाड़ी में बने अवदाब के क्षेत्र के असर से प्रदेश के अनेक स्थानों पर झमाझम बरसात होने के आसार बन गए हैं। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक बुधवार को इस सिस्टम के गहरे अवदाब के क्षेत्र में तब्दील होकर आगे बढ़ने की संभावना है। इससे बुधवार-गुरुवार को ग्वालियर, चंबल, रीवा, भोपाल, सागर संभाग में अच्छी बरसात होगी। इस दौरान कहीं-कहीं भारी बरसात भी हो सकती है।
मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक मंगलवार को सुबह 8:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक जबलपुर में 39.2, पचमढ़ी में 34.0, सागर में 31, ग्वालियर में 20, रायसेन में 17, रीवा में 7.0, भोपाल में 3.6, बैतूल में 2 मिमी. बरसात हुई।
वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बना सिस्टम गुरुवार को गहरे अवदाब का क्षेत्र बनकर आगे बढ़ेगा। इसके अतिरिक्त वर्तमान में मानसून द्रोणिका (ट्रफ) गंगानगर, हिसार, मैनपुरी, मिर्जापुर, रांची, जमशेदपुर से होते हुए उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी तक जा रही है।
एक अन्य ट्रफ दक्षिण गुजरात से उत्तरी महाराष्ट्र, दक्षिणी छत्तीसगढ़, दक्षिणी उड़ीसा से होते हुए उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। इन तीन सिस्टम के कारण प्रदेश में बड़े पैमाने पर नमी आने का सिलसिला शुरू हो गया है। इससे पूरे प्रदेश में अच्छी बरसात का दौर शुरू हो गया है। शुक्ला के मुताबिक बरसात का दौर रुक-रुककर 3-4 दिन तक जारी रहने की संभावना है।


प्रदेश में दूध के नाम पर अब नहीं चलेगा सफेद जहर:मंत्री श्री सिलावट
6 August 2019
भोपाल. लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने कहा है कि प्रदेश में अब दूध के नाम पर सफेद जहर नहीं चलेगा। मिलावटखोरों के विरूद्ध कार्रवाई में ढ़िलाई को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। श्री सिलावट ने कहा कि मिलावटखोरों की सूचना देने वालों के लिये ईनाम की राशि को बढ़ाकर दोगुना से भी अधिक कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि अब ईनाम की राशि 11 हजार से बढ़कर 25 हजार रूपये कर दी गई है। उन्होंने आश्वस्त किया कि सूचना देने वालों का नाम पूरी तरह गुप्त रखा जाएगा। मंत्री श्री सिलावट प्रदेश में मिलावटखोरों के खिलाफ चल रहे अभियान के अंतर्गत भोपाल संभाग में कार्रवाई की समीक्षा कर रहे थे।
मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि दूध और अन्य दुग्ध उत्पादकों सहित खाद्य पदार्थो में मिलावट के खिलाफ कार्रवाई दिखना चाहिये, जनता को महसूस होना चाहिये। उन्होंने कहा कि निर्दोष और ईमानदार व्यापारी परेशान नहीं हों, लेकिन दोषी छूटे भी नहीं। श्री सिलावट ने कहा कि नमूनों की जाँच में तेजी लाये। जाँच के लिये जरूरी उपकरण-मशीनें खरीदें, किराये पर लें, जाँच जल्दी पूरी करें। उन्होंने कहा कि जाँच के लिये राज्य प्रयोगशाला के अतिरिक्त अन्य प्रयोगशाला से सहयोग लेने की जरूरत है, तो वह भी प्राप्त करें। आवश्यकता पड़ने पर मिलावट के गंभीर और संदिग्ध नमूनों को मुम्बई प्रयोगशाला में भी जाँच के लिए भेजें। उन्होंने कहा कि जाँच की पूरी प्रक्रिया पारदर्शी और निष्पक्ष होना चाहिये। ।
10 वर्षो से जमे अधिकारी-कर्मचारी हटेंगे
मंत्री श्री सिलावट ने नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रशासन को निर्देश दिये कि 10 वर्षो से एक ही जगह पदस्थ विभागीय अधिकारियों-कर्मचारियों की सूची तैयार करें। ऐसे अधिकारी-कर्मचारी स्थानान्तरित किये जाएंगे। उन्होंने बताया कि मिलावटखोरों के लिये कड़ी सजा का प्रावधान करने और प्रकरणों में ट्रायल जल्दी सुनिश्चित करने के लिए भी राज्य शासन विचार कर रहा है।
समीक्षा बैठक में प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्रीमती पल्लवी जैन गोविल, कमिश्नर भोपाल संभाग श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव,आई.जी.श्री योगेश देशमुख, नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रशासन श्री रविन्द्र सिंह, कलेक्टर श्री तरूण पिथोड़े और डी.आई.जी. श्री इरशाद वली सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।


रेत खदानों की नीलामी के पूर्व जनता के सुझाव प्राप्त करें - मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ
6 August 2019
भोपाल.मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने रेत खदानों की नीलामी के पूर्व आम जनता से सुझाव आमंत्रित करने को कहा है। उन्होंने कहा कि खदानों की नीलामी में पूरी पारदर्शिता हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी रेत और गौण खनिज की नीति ऐसी बने, जिससे अवैध उत्खनन को सख्ती से रोका जा सके। मुख्यमंत्री ने गौण खनिज नीति में परिवर्तन कर उसमें प्रदेश और यहाँ रह रहे लोगों के हितों को ध्यान में रखने को कहा। श्री नाथ ने आज मंत्रालय में नई रेत नीति और गौण खनिजों के नियमों के संबंध में हुई बैठक में यह निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता से प्राप्त सुझावों के आधार पर रेत खदानों की नीलामी की प्रक्रिया तय की जाए। इसमें स्थानीय लोगों की भागीदारी के साथ ही पंचायतों को बढ़ी हुई राशि भी मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया से नीलामी होने से भविष्य में कोई समस्या नहीं होगी और पूरी पारदर्शिता भी रहेगी।
मुख्यमंत्री श्री नाथ ने प्रदेश की गौण खनिज नीति में बदलाव करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नीति ऐसी हो, जिसमें प्रदेश और यहाँ के लोगों का हित संरक्षित हो। उन्होंने गौण खनिज की खदान लीज आवंटन में प्रदेश में स्थापित उद्योगपतियों को प्राथमिकता देने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि नीति में इस बात का भी समावेश हो कि प्रदेश में उपलब्ध खनिज संपदा की प्रोसेसिंग भी प्रदेश में हो। इससे हमारे युवाओं को रोजगार मिलेगा और आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ेंगी। मुख्यमंत्री ने प्रदेश की खनिज संपदा के आकलन, नीलामी और आवंटन प्रक्रिया में गति लाने के निर्देश दिए।
श्री कमल नाथ ने कहा कि स्वत: प्रधानमंत्री आवास एवं शौचालय बनाने वाले हितग्राहियों को बगैर किसी रायल्टी के रेत दी जाए। उन्होंने पारंपरिक रूप से मिट्टी के बर्तन बनाने वाले, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और गरीबी रेखा से नीचे जीवन बसर करने वालों को स्वयं के उपयोग के लिए एक बार में 10 घन मीटर रेत नि:शुल्क उपलब्ध करवाने के भी निर्देश दिए।
बैठक में खनिज मंत्री श्री प्रदीप जायसवाल, वित्त मंत्री श्री तरुण भनोत, मुख्य सचिव श्री एस.आर. मोहंती, अपर मुख्य सचिव श्री अनुराग जैन एवं प्रमुख सचिव खनिज श्री नीरज मंडलोई उपस्थित थे।


नगरीय निकायों में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की योजना
6 August 2019
भोपाल.प्रदेश के नगरीय निकायों को 26 क्लस्टर में विभाजित कर ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की क्लस्टर आधारित योजना बनायी गयी है। इसमे से 6 स्थानों पर कचरे से ऊर्जा (वेस्ट टू एनर्जी) तथा 20 स्थानों पर कम्पोस्ट प्लांट लगाने की योजना तैयार की गयी है। सागर, जबलपुर और उज्जैन में प्रोसेसिंग प्लांट शुरू किये गये हैं। भोपाल, कटनी और रीवा में प्लांट शुरू करने तेजी से काम किया जा रहा है।
प्रदेश में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियम 2016 के बेहतर क्रियान्वयन के लिये मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय कार्यालयों द्वारा नगरीय निकायों को शामिल कर वर्कशॉप और इन्टरेक्शन मीट आयोजित की जा रही है। स्थानीय निकायों से जुड़े अधिकारियों और कर्मचारियों को ठोस अपशिष्ट के बेहतर प्रबंधन के लिये समझाईश भी दी जा रही है।
प्रदेश के 383 नगरीय निकाय संस्थान में 7212 मैट्रिक टन ठोस अपशिष्ट प्रतिदिन उत्पन्न होता है। इसमें से 6537 मैट्रिक टन अपशिष्ट का संग्रहण हो रहा है। करीब 1271 मैट्रिक टन अपशिष्ट का उपयोग प्रतिदिन कम्पोस्ट बनाने में, 15 मैट्रिक टन अपशिष्ट का उपयोग प्रतिदिन बायोगैस उत्पादन में 525 मैट्रिक टन अपशिष्ट का उपयोग आरडीएफ/एमआरएफ में तथा करीब 462 मैट्रिक टन ठोस अपशिष्ट का उपयोग कचरे से ऊर्जा उत्पादन में किया जा रहा है।
जबलपुर में 11.5 मेगावाट क्षमता का वेस्ट टू एनर्जी प्रोसेसिंग प्लांट लगाया गया है। इंदौर में ए टू जेड इन्फ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड द्वारा देवगुराडिया में संचालित ठोस अपशिष्ट प्रसंस्करण सुविधा केन्द्र से प्रतिदिन 1100 से 1200 मैट्रिक टन अपशिष्ट प्राप्त हो रहा है। इसमें से 600 मैट्रिक टन कम्पोस्ट बनाने में और 500 मैट्रिक टन मटेरियल रिकवरी के लिये उपयोग हो रहा है। शेष 100 मैट्रिक टन अपशिष्ट का उपयोग विकेन्द्रीयकृत सुविधा के माध्यम से कम्पोस्ट एवं बायोगैस बनाने में उपयोग किया जा रहा है।
मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा समय-समय पर नगरीय ठोस अपशिष्ट डम्प साइट्स की जल एवं परिवेशीय वायु गुणवत्ता की जाँच की जा रही है। पिछले वर्ष डम्प साइट्स के आस-पास के क्षेत्रों की भूमिगत जल गुणवत्ता माप के लिये 452 और परिवेशीय वायु गुणवत्ता माप के लिये 219 नमूनों की जॉंच की गयी।


जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटाने पर प्रदेश भर में जश्न; पूर्व विधायक ने कहा- गुमटी वालों को कश्मीर ले जाएंगे
5 August 2019
भोपाल. गृह मंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 और 35 A हटाने और जम्मू कश्मीर और लद्दाख को अलग-अलग प्रदेश बनाने का ऐलान किया। इसके बाद देश और प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में जश्न शुरू हो गया। लोग इस फैसले के स्वागत के लिए सड़कों पर उतर आए।
भाजपा कार्यकर्ताओं ने राजधानी में जश्न मनाया है, पूर्व विधायक सुरेन्द्रनाथ सिंह मम्मा और भाजपा कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकालकर जश्न मनाया है। सुरेंद्र नाथ सिंह ने कहा कि अब भोपाल के गुमटी वालों को कश्मीर लेकर जाएंगे। पहले कश्मीर में जगह देखने जाऊंगा। भोपाल में भी इस फैसले को लेकर लोग खुश हैं। न्यू मार्केट टॉप इन टाउन पर संस्कृति बचाओ मंच के कार्यकर्ताओं ने ढोल नगाड़ों की थाप पर जमकर जश्न मनाया।
वकीलों ने लगाए भारत माता के नारे
ग्वालियर हाईकोर्ट में भी वकीलों ने इस फैसले का स्वागत किया और इस पर जश्न मनाया। वहीं ग्वालियर में भी इस बात का जश्न शुरू हो गया है। वकीलों ने भारत माता जय के नारे लगाए हैं। राज्यसभा की कार्यवाही देख रहे वकीलों ने गृह मंत्री की राज्य से धारा 370 हटाने की सिफारिश सुनी वो खुशी से झूम उठे और वार रूम भारत माता की जय के नारे के साथ गूंज उठा।
लड्डू बांटकर दी बधाई
मुरैना में भी मोदी सरकार के इस फैसले से भाजपा कार्यकर्ता खुश हैं। भाजपा कार्यकर्ताओं ने स्थानीय हनुमान चौराहे पर धारा 370 हटाए जाने पर लड्डू बांटे और एक दूसरे को बधाई दी। इस दौरान भाजपा के जिलाध्यक्ष केदार सिंह यादव, पूर्व विधायक सत्यपाल सिंह सिकरवार सहित कई भाजपा नेता मौजूद थे। वहीं शिवपुरी के बैराड़ में युवाओं ने आतिशबाजी चला कर मनाई खुशी।


मिलावट पर बाहर आया मंत्री का दर्द- मैं सब्जी बेचता था, पर अब वह स्वाद नहीं
5 August 2019
इंदौर। दूध और दूध से बने खाद्य पदार्थों में मिलावट और सब्जियों की खेती में रसायनों के अंधाधुंध इस्तेमाल पर स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट का दर्द बाहर आया। अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान मंत्री ने कहा कि कभी मैं भी सब्जी बेचता था। उस समय की सब्जियों में बहुत स्वाद होता था, लेकिन अब सब्जियों में वह स्वाद ही नहीं है। दूध, घी और मावा के नाम पर कुछ लोग मिलावट कर सफेद जहर बेच रहे हैं। प्रदेश में 19 जुलाई से अब तक 1784 नमूने जांच में लिए गए हैं। इनमें से 110 की जांच हो चुकी है। अधिकतर नमूने अमानक पाए गए हैं। जिन नमूनों में मिलावट की अधिक आशंका है, ऐसे करीब 100 नमूनों को जांच के लिए मुंबई की लैब भेजा गया है।

"आपकी सरकार-आपके द्वार" कार्यक्रम में समस्याओं का त्वरित निराकरण : मंत्री श्री पटेल
4 August 2019
भोपाल. पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल ने कहा है कि 'आपकी सरकार-आपके द्वार' कार्यक्रम के माध्यम से ग्रामीणों की रोजमर्रा की समस्याओं का त्वरित निराकरण सुनिश्चित किया जा रहा है। इससे ग्रामीणों का समय और पैसा दोनों की बचत होगी, साथ ही शासकीय अमले में जवाबदारी का एहसास होगा। उन्होंने आज सीधी जिले के ग्राम पोखरा में 'आपकी सरकार-आपके द्वार' कार्यक्रम में कही।
कार्यक्रम में 282 आवेदनों का मौके पर निराकरण किया गया। सीधी जिले में 5 करोड़ 27 लाख रुपये लागत की 7 ग्रामीण सड़कों का शिलान्यास, 27 लाख 71 हजार रुपये लागत के ग्राम पंचायत ददरी में गौशाला का भूमिपूजन और ग्राम पंचायत पोखरा में 10 लाख की लागत के मंगल भवन का लोकार्पण किया।
कार्यक्रम में मंत्री श्री पटेल ने नया सवेरा योजना में असंगठित क्षेत्र के 9 दिवंगत श्रमिकों के परिजनों को सामान्य मृत्यु पर दो-दो लाख तथा 21 श्रमिकों के परिजनों को दुर्घटना मृत्यु के कारण चार-चार लाख रुपए अनुग्रह राशि वितरित की। राष्ट्रीय परिवार सहायता योजना के तहत 9 मृत व्यक्तियों के आश्रितों को 20-20 हजार की सहायता राशि के चेक और स्कूली छात्र-छात्राओं को साईकिल भी वितरित की गई।


कमलनाथ की अपील - मिलावटखोरों की सूचना सरकार को दें, फोन नंबर और ईमेल जारी किया
3 August 2019
भोपाल. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि खाद्य पदार्थों में मिलावट करने वालों पर सरकार कड़ी कार्रवाई कर रही है और प्रदेशवासी भी किसी भी प्रकार की मिलावट की सूचना शासन तक पहुंचाएं। इसके लिए प्रशासन ने 0755-2665036 नंबर जारी किया है, जिस पर खाद्य पदार्थों में मिलावट की सूचना दी जा सकती है। इधर, भोपाल जिला प्रशासन ने खाद्य पदार्थें में मिलावट करने वालों की सूचना देने वाले को 11 हजार रुपए का ईनाम देने संबंधी आदेश जारी कर दिया।
कमलनाथ ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा मिलावटी खाद्य पदार्थ बनाने और बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। उज्जैन में एक व्यापारी के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की गई है। ग्वालियर, गुना, खरगोन और राजगढ़ में भी मिलावट करने वालों पर कार्रवाई की गई है।
मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को आश्वासन दिया है कि जिन व्यापारियों के दूध और उससे बने खाद्य पदार्थों के नमूने लिए गए थे और जांच में अमानक पाए जाएंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। साथ ही जो भी दूध और मावा व्यापारी मानकों के हिसाब से काम नहीं कर रहे हैं, उन्हें परेशान नहीं किया जाएगा।
जिला प्रशासन को सूचित करें
उन्होंने अपील की है कि राज्य को मिलावट मुक्त बनाने के लिए प्रदेशवासी किसी भी प्रकार की मिलावट की सूचना खाद्य एवं औषधि प्रशासन के नंबर 0755-2665036 पर दें। साथ ही इसकी शिकायत जिला कलेक्टर और जिला खाद्य एवं औषधि प्रशासन कार्यालय में भी की जा सकती है।
मिलावट खोरी की सूचना देने वाले को 11 हजार का ईनाम
भोपाल जिले में खाद्य पदार्थों में मिलावट की सूचना देने वाले व्यक्ति को जिला प्रशासन ₹11000 का इनाम देगा। साथ ही नाम भी गुप्त रखा जाएगा। अधिकारियों के मोबाइल नंबर भी सार्वजनिक किए गए हैं। जिस पर लोग सूचना दे सकते हैं। सूचना देने वाले व्यक्ति की जानकारी गोपनीय रखी जाएगी। साथ ही इस मेल आईडी fdampbhopal@gmail.com पर ई-मेल करके सूचना दे सकते हैं।


कांग्रेस विधायक के साले ने की पड़ोसी की हत्या, नाली को लेकर हुआ था विवाद
3 August 2019
शिवपुरी। जिले की पोहरी विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस विधायक सुरेश राठखेड़ा के साले ने आज सुबह अपने पड़ोसी की हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि नाली पर हुए विवाद में तीन अन्य लोग घायल भी हुए हैं। पुलिस ने विधायक के साले को गिरफ्तार कर लिया है।
प्रारंभिक जानकारी के अनुसार जिले के पोहरी तहसील में विधायक के साले रघुनंदन धाकड़ का पड़ोसी रमेश राठौर से कई दिनों से विवाद चला आ रहा था। शनिवार सुबह विधायक के साले में अपने समर्थकों को बुलाया और पड़ोसी रमेश राठौर और उसके परिवार पर धारदार हथियारों से हमला कर दिया। वहीं उसके साथियों ने परिवार के अन्य सदस्यों की जमकर पिटाई की।
धारदार हथियार से घायल होने के बाद भी विधायक का साला रघुनंदन, रमेश को पीटता रहा। इस बीच पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंच रमेश और अन्य घायलों को अस्पताल भेजा। जहां रमेश की गंभीर हालत को देखते हुए उसे ग्वालियर रेफर कर दिया गया। लेकिन शहर एंबुलेंस शहर से करीब 10 किलोमीटर दूर ही गई होगी कि रमेश की मौत हो गई।
घटना के बाद पूरे इलाके में भारी तनाव है। मौके पर पुलिस अधिकारियों समेत भारी संख्या में पुलिसबल तैनात किया गया है। सरकारी अस्पताल में मृतक का पोस्टमॉर्टम कराया जा रहा है। बताया जा रहा है कि सरकारी अस्पताल में भील बड़ी संख्या में लोग जमा है। यहां भी पुलिसबल तैनात किया गया है।


चुनावों में डिप्टी कलेक्टर्स की भूमिका महत्वपूर्ण: राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री सिंह
3 August 2019
भोपाल. राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री बसंत प्रताप सिंह ने कहा है कि चुनाव में डिप्टी कलेक्टर्स की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है। उन्होंने कहा कि जिले का मुखिया तो कलेक्टर होता है, लेकिन फील्ड में डिप्टी कलेक्टर्स को ही समस्याओं से निपटना पड़ता है। श्री सिंह ने प्रशिक्षु डिप्टी कलेक्टर्स के लिये आयोजित निर्वाचन संबंधी प्रशिक्षण में यह बात कही। उन्होंने कहा कि नगरीय निकाय और त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन से संबंधित दी जा रही ट्रेनिंग को गंभीरता से ग्रहण करें। यह ट्रेनिंग शासकीय सेवा में अगले25 वर्ष तक काम आयेगी।
क्रिमिनल प्रोसीजर कोड का अध्ययन जरूरी
राज्य निर्वाचन आयुक्त ने कहा कि सभी डिप्टी कलेक्टर्स क्रिमिनल प्रोसीजर कोड का अध्ययन जरूर करें। उन्होंने कहा कि इससे न्यायालयीन कार्य दक्षता बढ़ेगी। उन्होंने बताया कि एकेडमी में ट्रेनिंग के लिए इसका मॉड्यूल बनाया गया है।
श्री बसंत प्रताप सिंह ने प्रशिक्षणार्थियों से कहा कि राज्य निर्वाचन आयोग के आई.टी. एप्लीकेशन को ध्यान से समझें, यह बहुत उपयोगी है। उन्होंने कहा कि ई.व्ही.एम. के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें। उन्होंने बताया कि ई.व्ही.एम. में कोई भी टेंपरिंग होती है, तो वह फेक्ट्री मोड में चली जाती है। इसका अर्थ यह है कि वह फैक्ट्री में ही सुधारी जा सकती है। श्री सिंह ने कहा कि ट्रेनिंग के दौरान किसी विषय पर कोई शंका हो, तो उसका समाधान जरूर करें।
प्रशिक्षण में उप सचिव श्री अरूण परमार ने स्थानीय निर्वाचन में राज्य प्रशासनिक अधिकारियों की भूमिका के बारे में बताया। उप सचिव श्रीमती अजीजा सरशार जफर ने आई.टी. में नवाचार और श्री सुतेश शाक्य ने सेंस से संबंधित गतिविधियों की जानकारी दी।


कमलनाथ ने पीड़िता के परिवार को मध्यप्रदेश आकर बसने का न्योता दिया
2 August 2019
भोपाल. उन्नाव दुष्कर्म केस में जमकर राजनीति जारी है। अब इस मामले में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ भी शामिल हो गए हैं। ताजा घटनाक्रम में कमलनाथ ने उन्नाव दुष्कर्म पीड़ित की मां और परिजनों को मध्यप्रदेश आकर बसने का न्योता दिया है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि पीड़ित और उसके परिजनों के लिए उत्तरप्रदेश सुरक्षित नहीं है, ऐसे में ये परिवार मध्यप्रदेश आकर बस सकता है और इसमें यहां की सरकार उनकी पूरी मदद करेगी।
बता दें कि उन्नाव दुष्कर्म केस में जल्द और पूर्ण न्याय करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है। कोर्ट ने पीड़िता की चिट्ठी और उसकी मां की स्थानांतरण याचिका पर सुनवाई करते हुए मामले से जुड़े सभी पांचों मुकदमे लखनऊ की सीबीआई अदालत से दिल्ली की अदालत स्थानांतरित कर दिए। इसके अलावा कोर्ट ने पांचों मुकदमों का ट्रायल रोजाना सुनवाई कर 45 दिन में पूरा करने का आदेश दिया है। साथ ही पीड़िता को 25 लाख रुपए अंतरिम मुआवजा और पीड़िता व उसके परिवार को सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) की सुरक्षा देने का भी आदेश दिया है।
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उन्नाव दुष्कर्म मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया। उन्होंने ट्वीट किया कि पीड़िता की मां व परिजन असुरक्षा के कारण यूपी छोड़ने का निर्णय ले चुके हैं, ऐसे में मैं अपील करता हूं कि वे सभी मध्यप्रदेश आकर बस जाए। हमारी सरकार पूरे परिवार को सम्पूर्ण सुरक्षा प्रदान करेगी।
इसके अलावा कमलनाथ ने पीड़ित बच्ची के बेहतर इलाज, शिक्षा से लेकर सम्पूर्ण दायित्व निभाने का भी वादा किया। उन्होंने कहा कि पीड़िता और उसके परिवार को किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। सरकार ने ये भी कहा कि केस दिल्ली ट्रांसफर होने पर उनके दिल्ली आने-जाने की भी पूरी व्यवस्था सरकार करेगी। उन्होंने कहा कि पीड़ित बच्ची का प्रदेश की बेटी की तरह ख्याल रखा जाएगा।
बता दें कि 4 जून 2017 को उन्नाव में दुष्कर्म की घटना हुई थी। जिसमें भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर गंभीर आरोप लगे थे। अभी इस मामले की जांच चल रही थी कि अप्रैल 2018 में पीड़िता के पिता की पुलिस हिरासत में मौत हो गई। इसके बाद 28 जुलाई को जब पीड़िता अपनी मौसी, चाची और वकील के साथ लखनऊ जा रही थी तब रास्ते में एक ट्रक ने उसकी कार को टक्कर मार दी जिसमें पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई जबकि पीड़िता की हालत गंभीर बनी हुई है। गौरतलब है कि सेंगर 2017 में सपा से भाजपा में आए थे और उसके बाद विधानसभा चुनाव में बांगरमऊ से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे। हालांकि इस घटना के बाद भाजपा ने सेंगर को पार्टी से निष्कासित कर दिया है।

स्वास्थ्य मंत्री बोले- मिलावट की जानकारी देने वाले को 11 हजार का इनाम
2 August 2019
इंदौर। मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट का कहना है कि मिलावटखोरी की जानकारी देने वाले को 11 हजार रुपए का इनाम दिया जाएगा। जानकारी देने वाले का नाम भी गुप्त रखा जाएगा। इंदौर के एमवाय अस्पताल में निरीक्षण करने के दौरान उन्होने यह बात कही।
पीसी सेठी अस्पताल में शिशु गहन चिकित्सा इकाई का लोकार्पण
स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने शुक्रवार सुबह इंदौर के पीसी सेठी अस्तपाल में नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई का लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने यहां भर्ती मरीजों का हाल जाना और उनके परिजनों से भी बात की।

इन जिलों में हो सकती है भारी बारिश, पढ़ें पूरी खबर
2 August 2019
भोपाल. प्रदेश में सक्रिय तीन मानसूनी सिस्टम के कारण रुक-रुक कर बरसात का सिलसिला जारी है। इसी क्रम में गुरुवार सुबह 8ः30 बजे से शाम 5ः30 बजे तक रीवा में 37, सतना में 14, भोपाल में 7, होशंगाबाद में 5, पचमढ़ी में 4, उज्जैन और सीधी में 3 मिमी. बरसात हुई। मौसम विज्ञानियों ने शुक्रवार-शनिवार को प्रदेश के नीमच, मंदसौर, रतलाम, आगर, शाजापुर, गुना, शिवपुरी, अशोकनगर, श्योपुरकला, मुरैना, राजगढ़, छतरपुर, टीकमगढ़, पन्ना,सतना, रीवा में अच्छी बरसात होने की संभावना जताई है।
इसके अलावा निजी मौसम एजेंसी स्कायमेट वेदर ने भी दो अगस्त यानि शुक्रवार को विदिशा, भोपाल, दमोह, जबलपुर और उज्जैन जिलों में भारी बारिश की आशंका जताई है।वहीं 4 अगस्त को बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बनने जा रहा है। उसके प्रभाव से प्रदेश के कई स्थानों पर 4 अगस्त के बाद एक बार फिर झमाझम बरसात का दौर शुरू होगा।
मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक वर्तमान में उत्तर-पश्चिमी मप्र पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। मानसून ट्रफ(द्रोणिका लाइन) सीधी से होकर गुजर रही है। इसके अतिरिक्त एक अन्य ट्रफ दक्षिण राजस्थान से उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी तक बना है। यह ट्रफ उत्तर-पश्चिम मप्र. से होकर गुजर रहा है। इन तीन सिस्टम के सक्रिय होने से प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर रुक-रुक बरसात हो रही है।
वरिष्ठ मौसम विज्ञानी उदय सरवटे ने बताया कि उत्तर-पश्चिमी मप्र पर बना सिस्टम अब कमजोर होने लगा है। इस वजह से दो दिन तक तेज बौछारें पड़ने की संभावना कम है। इसके बाद भारी बारिश के आसार हैं।


भाजपा प्रदेशाध्यक्ष बोले- हमारे विधायकों को प्रलोभन दे रही कांग्रेस, यह उसके लिए आत्मघाती
1 August 2019
भोपाल. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने गुरुवार को कांग्रेस सरकार पर भाजपा विधायकों को लालच देने के आरोप लगाए। उन्होंने कहा, 'कांग्रेस भाजपा के विधायकों को प्रलोभन दे रही है। अपनी गुटबाजी और हताशा को कम करने के लिए कांग्रेस जो कोशिश रही है। ये उनके लिए आत्मघाती न हो जाए।' हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि भाजपा विधायक एकजुट थे, एकजुट हैं और रहने वाले हैं। वह चट्टान की तरह पार्टी के साथ खड़े हैं।
राकेश सिंह ने गुरुवार को सदस्यता अभियान की बैठक में भाग लेने से पहले मीडिया से बातचीत में ये बात कही। मध्यप्रदेश विधानसभा में भाजपा के दो विधायकों ने पिछले दिनों मत विभाजन में सरकार का समर्थन किया था। इसके बाद से प्रदेश में सरकार और विपक्ष एक-दूसरे पर हॉर्स ट्रेडिंग के आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं।
बाउंड्री वाल पर खड़े हैं भाजपा के विधायक: पीसी शर्मा
राकेश सिंह ने कहा कि भाजपा के कई विधायकों ने प्रदेश संगठन से शिकायत की है कि कांग्रेस उनसे संपर्क कर प्रलोभन दे रही है। वहीं, दूसरी तरफ जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि भाजपा के कई विधायक बाउंड्री वाल पर खड़े हैं। जो विधायक कांग्रेस में आना चाहते हैं, उनका स्वागत है।
दोनों बागी विधायक नहीं पहुंचे
सदस्यता अभियान के शुभारंभ के मौके पर विधानसभा में मत विभाजन के दौरान पाला बदलने वाले भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी और शरद कोल नहीं पहुंचे हैं। भाजपा ने दोनों विधायकों को बुलाया था। हालांकि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह ने दावा किया है कि उन्होंने पहले सूचना दे दी थी कि वह किन्हीं कारणों से बैठक में नहीं आ पाएंगे। बैठक में प्रदेश भर से पार्टी ने सभी सांसदों-विधायकों, सभी जिलाध्यक्ष, सदस्यता प्रभारी सहित प्रदेश पदाधिकारी और मोर्चे के अध्यक्ष व महामंत्रियों को बुलाया है।
विधायक का आरोप- कांग्रेस ने पैसों का लालच दिया
इससे पहले श्योपुर से भाजपा विधायक सीताराम आदिवासी ने कांग्रेस पर खरीद फरोख्त के आरोप लगाए थे। उनके मुताबिक कांग्रेस पार्टी ने उन्हें भाजपा छोड़ने के लिए पैसों का लालच दिया है। उन्होंने कहा, कांग्रेस के कुछ लोगों ने मुझसे संपर्क साधा और कहा कि वो मुझे जो चाहे, वह देंगे। लेकिन मैंने साफ कर दिया कि मैं आदिवासी और गरीब जरूर हूं, लेकिन बिकाऊ नहीं हूं। मैं भाजपा के साथ ही रहूंगा।


CM Kamal Nath का संविदाकर्मियों को बड़ा तोहफा, निकाले गए कर्मचारी वापस लेगी सरकार
1 August 2019
भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने संविदाकर्मियों को बड़ी राहत दी है। निकाले गए सभी संविदाकर्मियों को कमलनाथ सरकार वापस लेगी। इसे लेकर आज संविदाकर्मियों के प्रतिनिधिमंडल की मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ एक बैठक हुई थी। जिसमें ये बड़ा फैसला लिया गया। इस बैठक में महिला बाल विकास, स्वास्थ्य विभाग के अलावा कई अन्य विभाग के अफसर मौजूद थे। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सभी संविदाकर्मियों को नियमित करने के साथ ही 90 फीसदी वेतन देने के निर्देश दिए हैं। वहीं इन संविदाकर्मियों का नियमित पदों में मर्जर के भी निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा किसी भी संविदाकर्मी को अब निकाला नहीं जाएगा। संबंधित प्रोजेक्ट खत्म होने की सूरत में दूसरे प्रोजेक्ट में इनकी सेवाएं ली जाएंगी।

ओवैसी के बयान पर भड़के RSS नेता इंद्रेश कुमार, बोले- मुझसे सीखें इस्लाम
1 August 2019
भोपाल।देश के 70 फीसदी लोग इस पक्ष में हैं कि जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग करने वाली धारा 370 और 35ए को हटाया जाना चाहिए। देश में एक संविधान, समान नागरिकता होना चाहिए। यह बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ नेता इंद्रेश कुमार ने बुधवार को भोपाल में कही। वे यहां राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच द्वारा आयोजित कार्यक्रम 'नो मोर पाकिस्तान, नो मोर चाइना" विषय पर अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 14 सौ साल पुरानी 'तीन तलाक" कुप्रथा को बिल पारित कर जिस ऐतिहासिक तरीके से समाप्त किया गया, उसी तरह कश्मीर में लागू धारा 370 और 35ए को भी खत्म किया जाएगा। इसके अगले चरण में पीओके (पाक अधिकृत कश्मीर) और सीओके (चीन अधिकृत कश्मीर ) को मुक्त कराने की तैयारी है। इंद्रेश कुमार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैं और अल्पसंख्यकों को राष्ट्रीय मुख्य धारा में शामिल करने के काम में जुटे हैं। राष्ट्रीय मुस्लिम मंच, सद्भावना मंच और राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच इन्हीं के प्रयासों का हिस्सा है।
ओवैसी मुझसे इस्लाम सीखें
असदुद्दीन ओवैसी को मुझसे इस्लाम सीखना चाहिए। तीन तलाक बिल का विरोध करने पर इंद्रेश कुमार ने कहा कि ओवैसी जैसे नेता देश को बांटने का काम करते हैं। ओवैसी निकाह को कॉन्ट्रेक्ट कहते हैं, जबकि ये तो कयामत तक के लिए होता है। उन्होंने कहा कि, खुदा भी तलाक को नापसंद करता है। कुरान में भी कहीं इसका उल्लेख नहीं है। मुंबई 26/11 आतंकी हमले में शहीद हेमंत करकरे पर साध्वी प्रज्ञा द्वारा दिए गए विवादित बयान का इंद्रेश कुमार ने समर्थन कर बचाव किया। उन्होंने कहा कि प्रज्ञा ने करुणा दिखाई थी। करकरे का उनकी शहादत के लिए हम सम्मान करते हैं, लेकिन दूसरी तरफ ये भी ध्यान रखना चाहिए कि उन्होंने एक साध्वी को आतंकवाद में फंसाने के लिए अत्याचार किया है।
संसार में आने का रास्ता औरत की कोख है
इंद्रेश कुमार ने कहा कि सभी मजमों में औरत के लिए पवित्र स्थान दिया गया है, क्योंकि संसार में आने का रास्ता औरत की कोख से आता है। इसके अलावा संसार में आने का कोई और दूसरा रास्ता नहीं है, यहां तक कि भगवान भी संसार में आएगा तो वह भी इसी रास्ते से आएगा। इसके बाद भी पुरुष और औरत पर जुल्म ढाता है, जब भगवान ने औरत के साथ कोई भेदभाव नहीं किया तो हम इंसान क्यों करें, उसके ऊपर भू्रण हत्या, जुल्म, दहेज प्रथा जैसी चीजें क्यों थोपी गईं। ऐसा करके इंसान संसार में जन्म लेने का रास्ता बंद करता जा रहा है। सभी धर्मों में भू्रण हत्या को गुनाह माना गया है, तलाक भी गुनाह है।
उन्होंने कहा कि हमें आदत थी, अपने घर के साथ-साथ मोहल्ले साफ रखने की, लेकिन अंग्रेज हमें सिर्फ अपना घर साफ रखने की आदत डाल गए। आज हालत ऐसे हो गए हैं कि मोहल्ले की सफाई कोई नहीं रखना चाहता। सभी को यह संकल्प लेना होगा कि मोहल्ले को गंदा नहीं रखेंगे तो हम ही बीमार होंगे।
दुनिया के किसी देश के अपमान के बारे में नहीं पढ़ा
उन्होंने कहा कि,"दुनिया के किसी देश के बारे में आपने आज तक यह नहीं पढ़ा होगा कि वहां के नागरिकों ने उस देश का झंडा, राष्ट्रगान और उस देश की इज्जत करने का विरोध किया हो, जो जिस मुल्क का है, वह उसका सम्मान करता है। उससे लगाव रखता है, लेकिन भारत में यह सब हो रहा है। भारत में सभी धर्मों के लोग रहते हैं, लेकिन वह देश से प्यार करने से बचते हैं। वह भारत के झंडे का सम्मान नहीं करते और न ही राष्ट्रगान गाते हैं। यह कैसी स्वतंत्रता और देश भक्ति है। उन्होंने कहा कि हम एक हिंदुस्तानी हैं और रहेंगे, इस एहसास के साथ जिएं तभी हम एक कहे जा सकते हैं।"


अब कोई भी तीन बार तलाक बोलकर किसी लड़की की जिंदगी नहीं बर्बाद कर पाएगा
31 July 2019
इंदौर. तीन तलाक बिल पास होने के बाद इंदौर में तीन तलाक से पीड़ित अलिना शेख ने खुशी जाहिर की है। अलिना के अनुसार यह बिल हम जैसी महिलाओं को मजबूती देगा, कोई भी अब तीन बार तलाक बोलकर किसी लड़की की जिंदगी नहीं बर्बाद कर पाएगा। हाल ही में अलिना के पति ने तीन तलाक में से पहला तलाक पोस्ट के जरिए 100 रुपए के स्टाम्प पर भेजा है, जिसकी अलिना ने पुलिस में शिकायत की है। अलिना भोजपुरी एक्ट्रेस रह चुकी हैं। पति ने दो साल पहले भी तलाकनामा भेजा था, लेकिन मोदी सरकार की तीन तलाक विरोधी कानून की मुहिम चलने के कारण अलिना की शादी टूटने से बच गई थी।
शेख ने बताया कि मैंने तीन साल पहले लव मैरिज की थी। शादी के एक साल बाद पति ने एक तलाकनामा भेजा, जिसमें तीन बार तलाक.. तलाक.. तलाक.. लिखा था। उस समय माेदी जी की तीन तलाक काे लेकर मुहिम चल रही थी। जिसके बाद वकीलाें से बात की ताे उन्हाेंने इसे गैर कानूनी बताया था। जिसके बाद पति फिर से साथ में रहने लगे थे। अब उन्होंने फिर से 100 रुपए के स्टॉम्प पर तलाकनामा भेजा है।
तीन तलाक को लेकर मोदी सरकार ने बहुत अच्छा काम किया है। उन्होंने बहुत मेहनत करके यह बिल पास करवाया है। ये सही नहीं है कि आप तीन बार तलाक बोलकर किसी लड़की की लाइफ खराब कर दो। यदि तलाक देना ही है तो बैठकर आपसी सहमति से अलग होना चाहिए। इस बिल को लेकर कई लोग विरोध भी कर रहे हैं, मैं माेदी जी से कहना चाहूंगी कि वे इस लड़ाई को अब तक जिस प्रकार से लड़ा है उसी तरह आगे भी लड़ते रहें। हम जैसी महिलाओं के लिए मोदी जी के इस फैसले की बहुत जरूरत है। इस बिल के पास होते ही मुझे बहुत खुशी हुई।
यह है पूरा मामला : पति ने लिखा था अभी दो और भेजूंगा
चंदननगर थाना क्षेत्र के ग्रीनपार्क कॉलोनी में रहने वालीं भोजपुरी एक्ट्रेस रेशमा बी उर्फ अलिना शेख (29) ने पति अब्दुल्ला उर्फ मुदस्सिर बैग के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। अलिना मूलत: खजराना के सम्राट नगर में रहती हैं। वह भोजपुरी और हिंदी फिल्मों में काम कर चुकी हैं। अलिना का कहना है कि वह 10 सालों तक फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ी रहीं अौर कई फिल्म और सीरियल में काम किया। पांच साल पहले अब्दुल्ला के प्रपोज करने पर मैंने मना कर दिया तो उसने जहर खा लिया। तीन साल पहले हमने निकाह किया था। हमारा एक बेटा भी है। शादी के बाद मुझसे लाखों रुपए लिए और 9 जुलाई को अचानक गायब हो गया। मैंने अपहरण की आशंका पर थाने में रिपोर्ट लिखवा दी। पुलिस ने जांच की तो पता चला कि अब्दुल्ला उसकी मां, भाई और बहन के संपर्क में है। दबाव बनाने पर वह थाने आया और बोला कि अलिना के साथ वह अब नहीं रहना चाहता और अपने भानजे के साथ चला गया।
अलिना का आरोप है कि अब्दुल्ला और उसके परिजन ने उसको धोखा दिया है। शादी के पहले उससे लाखों रुपए लिए थे। अब उसे अकेला छोड़ रहे हैं। परिजन उसके पति की दूसरी शादी करना चाहते हैं। पति ने कोरियर से पिता के घर एक स्टाम्प भेजा। इसमें लिखा कि मैं तंग आ चुका हूं। अपना रिश्ता यहीं खत्म करता हूं। तुम भी आगे की जिंदगी अपने तरीके से जी सकती हो। यह पहला तलाक है। दो और भेज दूंगा। मैं पत्र देखते ही दंग रह गई। मेरा बेटा दो महीने का है। उसकी तबीयत खराब है। अभी-अभी आईसीयू से डिस्चार्ज हुआ है। इसकी देखभाल कैसे करूंगी। अब्दुल्ला उसे देखे बगैर ही चला गया। फिलहाल पुलिस में पीड़िता ने शिकायत की है वही महिला थाना प्रभारी अनिता देअरवाल का कहना है कि इस पूरे मामले में जल्द दोनों पक्षों को बुलाया जाएगा और बैठकर कर पहले काउंसिलिंग करवाई जाएगी। फिर यदि समाधान नहीं हुआ तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।


राजधानी में जारी है रुक-रुककर बारिश का दौर; 42 घंटे में बड़ा तालाब का जलस्तर 6 फीट बढ़ा
31 July 2019
भोपाल. राजधानी भोपाल में देर रात से लगातार बारिश का सिलसिला जारी है। भोपाल में मौसम में भी ठंडक घुल गई है। मंगलवार को अलसुबह से जारी बारिश के चलते स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति पर भी इसका असर पड़ा है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश में भारी वर्षा के दौरान सभी जिलों में आपदा प्रबंधन की पुख्ता व्यवस्था और सभी एहतियातन कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।
वहीं सीहोर और भोपाल में हो रही लगातार बारिश इससे बड़ा तालाब के जलस्तर में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है। बड़ा तालाब का जलस्तर 10 साल बाद 42 घंटे में 6 फीट बढ़कर 1663.20 फीट हो गया है। आज ही के दिन 31 जुलाई 2018 को भोपाल तालाब का जलस्तर 1660.50 फीट ही था। अब बड़ा तालाब को फुल टैंक लेवल तक पहुंचने के लिए 3.60 फीट की जरूरत है। तालाब फुल टैंक लेवल 1666.80 फीट में होता है।
सीहोर में पिछले चौबीस घंटों में 250 मिलीमीटर से अधिक पानी बरसा है। यहां नर्मदा नदी खतरे के निशान से 12 फीट ऊपर बह रही है। सीहोर शहर में बाढ़ के हालात है और कई घरों में पानी घुस गया है। मध्यप्रदेश में लगभग सभी स्थानों पर पिछले तीन दिन से जारी जोरदार बारिश के बीच मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों की अवधि में कई स्थानों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है।
एक हफ्ते तक जारी रहेगी बारिश
माैसम विशेषज्ञ एसके नायक ने बताया कि अगले एक हफ्ते तक बारिश का सिलसिला जारी रहने की संभावना है। एक-दाे दिन मामूली राहत भी मिल सकती है। उन्होंने बताया कि बारिश के लिए जरूरी एक लाे प्रेशर एरिया के 4 अगस्त के आसपास उत्तर पूर्वी बंगाल की खाड़ी में बनने की संभावना है। इसका असर भाेपाल समेत मप्र के ज्यादातर शहराें में हाेगा।
राजधानी भोपाल समेत 27 जिलों में अलर्ट
इसके तहत कहीं-कहीं भारी से भारी बारिश भी हो सकती है। इंदौर, धार, अलीराजपुर, झाबुआ, खंडवा, खरगोन, बड़वानी, बुरहानपुर, होशंगाबाद, हरदा, बैतूल, छिंदवाड़ा, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, नरसिंहपुर, सिवनी, कटनी, भोपाल,रायसेन, राजगढ़, विदिशा, सीहोर, पन्ना, सागर, टीकमगढ़, दमोह और छतरपुर जिलों में कहीं-कहीं भारी और भारी से भारी बारिश हो सकती है।
इतनी बारिश की वजह
पूर्वी मध्यप्रदेश और उसके आसपास कम दबाव का क्षेत्र बन गया है तथा द्रोणिका (मानसून ट्रफ लाइन) बाड़मेर, चितौड़गढ़, विदिशा, पूर्वी मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा होते हुए बंगाल की खाड़ी तक पहुंच रही है। वहीं चार अगस्त को बंगाल की खाड़ी पर एक और कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है, जिसके चलते अभी कुछ दिन और ऐसा ही मौसम रहने की उम्मीद है।
अब तक 14 जिलों में सामान्य से अधिक बारिश
मध्यप्रदेश में इस वर्ष मानसून में 15 जून से 30 जुलाई तक 14 जिलों में सामान्य से अधिक वर्षा, 28 जिलों में सामान्य एवं नौ जिलों में सामान्य से कम वर्षा दर्ज की गई है। सर्वाधिक वर्षा रतलाम में एवं सबसे कम सीधी जिले में दर्ज हुई है।


राज्यपाल श्री टंडन से मुख्यमंत्री श्री नाथ की सौजन्य भेंट
31 July 2019
भोपाल. राज्यपाल श्री लालजी टंडन से मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने आज राजभवन में सौजन्य भेंट की। मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को पुष्प-गुच्छ भेंट कर अभिवादन किया।

भोपाल में आफत की बारिश, रेलवे अंडर ब्रिज में भरा पानी
30 July 2019
भोपाल. राजधानी में सोमवार को सुबह से ही रिमझिम बारिश हुई। कभी धूप निकली, बादल भी छाए तो कभी जमकर बारिश भी हुई। इधर शहर में सुबह साढ़े आठ बजे से रात के 9 बजे तक करीब 12 घंटे में 3.39 सेमी बारिश हुई है। बारिश के चलते आज सुबह करोंड रेलवे अंडर ब्रिज भी पानी से भर गया। इस वजह से यहां से वाहनों की आवाजाही नहीं हो सकी। वहीं भोपाल रेलवे स्टेशन पर बने पार्सल रूम में भी पानी भर गया है। इसके चलते पार्सल रूम में रखा सामान पूरी तरह भीग गया है।
सोमवार की रात 9 बजे के बाद तेज बारिश होने से शहर के दो दर्जन से अधिक हिस्सों में जलभराव की समस्या हुई। वहीं राजभवन समेत कई जगह पेड़ गिरने की घटनाएं हुईं। इस दौरान शहर में कई बार बिजली आने-जाने से लोग परेशान हुए। बैरागढ़ क्षेत्र में चंचल रोड, आदर्श रोड पर जलभराव के कारण कई दुकानों और मकानों में पानी भर गया। सीआईपी मछली मार्केट, राजेंद्र नगर, मुखर्जी मार्केट, निर्मल नर्सरी, सर्राफा बाजार, संतजी की कुटिया के पास पानी भरा। इस दौरान बैरागढ़ के ज्यादातर हिस्से में बिजली गुल हो गई।
वहीं, पुराने शहर के छावनी रोड, रेनी वाली गली के अलावा गुलमोहर, महामाई का बाग सहित छोला थाने में भी पानी भर गया। मौसम विभाग की माने तो शहर मंगलवार और बुधवार को भी शहर में गरज चमक के साथ बारिश होने की संभावना है।


राष्ट्रीय उद्यानों के प्रभावी प्रबंधन में शीर्ष पर मध्यप्रदेश
30 July 2019
भोपाल. मध्यप्रदेश ने टाइगर राज्य का दर्जा हासिल करने के साथ ही राष्ट्रीय उद्यानों और संरक्षित क्षेत्रों के प्रभावी प्रबंधन में भी देश में शीर्ष स्थान प्राप्त किया है। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने राष्ट्रीय उद्यानों के संचालकों और फील्ड स्टाफ को बधाई दी है।
भारत सरकार द्वारा जारी टाइगर रिज़र्व के प्रबंधन की प्रभावशीलता मूल्यांकन 2018 की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश के पेंच टाइगर रिजर्व ने देश में सर्वोच्च रैंक हासिल की है। बांधवगढ़, कान्हा, संजय और सतपुड़ा टाइगर रिजर्व को सर्वश्रेष्ठ प्रबंधन वाला टाइगर रिजर्व माना गया है। इन राष्ट्रीय उद्यानों में अनुपम प्रबंधन योजनाओं और नवाचारों को अपनाया गया है।
उल्लेखनीय है कि वन्य-जीव संरक्षण मामलों पर नीतिगत निर्णय लेने के लिए राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों द्वारा प्रभावी प्रबंधन के आकलन से संबंधित आंकड़ों की आवश्यकता होती है। ये आंकड़ें संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के विश्व संरक्षण निगरानी केंद्र में रखे जाते हैं।
टाइगर रिजर्व की प्रबंधन शक्तियों का आकलन कई मापदण्डों पर होता है जैसे योजना, निगरानी, सतर्कता, निगरानी स्टाफिंग पैटर्न, उनका प्रशिक्षण, मानव-वन्य जीव संघर्ष प्रबंधन, सामुदायिक भागीदारी, संरक्षण, सुरक्षा और अवैध शिकार निरोधी उपाय आदि।
देश में पेंच टाइगर रिजर्व के प्रबंधन को उत्कृष्ट माना गया है। फ्रंटलाइन स्टाफ को उत्कृष्ट और ऊर्जावान पाया गया है। वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत दर्ज सभी मामलों में पैरवी कर आरोपियों को दंडित करने में प्रभावी काम किया गया। मानव-बाघ और बाघ-पशु संघर्ष के मामलों में पशु मालिकों को तत्काल वित्तीय राहत दी जा रही है। साथ ही उन्हें विश्व प्रकृति निधि भारत से भी सहयोग दिलवाया जा रहा है। इसके साथ ही नियमित चरवाहा सम्मेलन आयोजित किये जा रहे हैं। चरवाहों के स्कूल जाने वाले बच्चों को शैक्षिक सामग्री वितरित की जा रही है। इसके अलावा, ग्राम स्तरीय समितियों, पर्यटकों के मार्गदर्शकों, वाहन मालिकों, रिसॉर्ट मालिकों और संबंधित विभागों और गैर सरकारी संगठनों के प्रबंधकों के प्रतिनिधियों की बैठकें भी नियमित रूप से होती हैं। पर्यटन से प्राप्त आय का एक तिहाई हिस्सा ग्राम समितियों को दिया जाता है। परिणामस्वरूप इन समितियों का बफर ज़ोन के निर्माण में पूरा सहयोग मिलता है। पर्यटन से प्राप्त आय पार्क विकास फंड में दी जाती है और इसका उपयोग बेहतर तरीके से किया जाता है।
बांधवगढ़ में पर्यटन इको विकास समितियाँ
इसी तरह, बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व ने बाघ पर्यटन से प्राप्त राशि का उपयोग करके ईको विकास समितियों को प्रभावी ढंग से पुनर्जीवित किया है। वाटरहोल बनाने और घास के मैदानों के रख-रखाव के लिए प्रभावी वन्य-जीव निवास स्थानों को रहने लायक बनाने का कार्यक्रम भी चलाया गया है। मानव-वन्यजीव संघर्षों को ध्यान में रखते हुए, मवेशियों और मानव मृत्यु और जख्मी होने के मामले में राहत एवं सहायता राशि के तत्काल भुगतान की व्यवस्था की गई है।
कान्हा में अनूठी प्रबंधन रणनीतियाँ
कान्हा टाइगर रिजर्व ने अनूठी प्रबंधन रणनीतियों को अपनाया है। कान्हा पेंच वन्य-जीव विचरण कारिडोर भारत का पहला ऐसा कारिडोर है। इस कारिडोर का प्रबंधन स्थानीय समुदायों, सरकारी विभागों, अनुसंधान संस्थानों, नागरिक संगठनों द्वारा सामूहिक रूप से किया जाता है। पार्क प्रबंधन ने वन विभाग कार्यालय के परिसर में एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भी स्थापित किया है, जो वन विभाग के कर्मचारियों और आस-पास के क्षेत्र के ग्रामीणों के लिये लाभदायी सिद्ध हुआ है।
पन्ना रिजर्व द्वारा विश्व का ध्यान आकर्षित
पन्ना टाइगर रिजर्व ने बाघों की आबादी बढ़ाने में पूरे विश्व का ध्यान आकर्षित किया है। शून्य से शुरू होकर अब इसमें वयस्क और शावक मिलाकर 52बाघ हैं। यह भारत के वन्यजीव संरक्षण इतिहास में एक अनूठा उदाहरण है। सतपुड़ा बाघ रिजर्व में सतपुड़ा नेशनल पार्क, पचमढ़ी और बोरी अभयारण्य से 42 गाँवों को सफलतापूर्वक दूसरे स्थान बसाया गया है। यहाँ सोलर पंप और सोलर लैंप का भी प्रभावी उपयोग किया जा रहा है।


बेरोजगारों को सफल व्यवसायी बना रही मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना
30 July 2019
भोपाल. प्रदेश में बेरोजगारों को सफल व्यवसायी बनाने में मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना मददगार साबित हुई है। जिला दतिया के रईस खान, छिन्दवाड़ा की श्रीमती नूरी शेख, रीवा के यज्ञ नारायण समदरिया और शिवपुरी के विक्रम जैमिनी योजना की मदद से सम्मानजनक व्यवसाय स्थापित करने में सफल हुए हैं।
दतिया जिले के रईस खान कल तक मजदूरी किया करते थे। मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना की मदद से आज ये डीजल पम्प वर्कशाप के मालिक हैं। योजना में इन्हें 2 लाख अनुदान के साथ 7 लाख रुपये का बैंक लोन अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने दिलवाया। अब रईस खान वर्कशाप से 30 हजार रुपये महीने से भी अधिक कमा रहे हैं।
छिन्दवाड़ा जिला मुख्यालय में आजाद चौक पर श्रीमती नूरी शेख ने इस योजना की मदद से रेडीमेड कपड़ों का व्यवसाय शुरू किया है। इन्हें भी अल्पसख्यक कल्याण विभाग ने यूनियन बैंक से 5 लाख रुपये लोन दिलवाया था। आज नूरी रेडीमेड कपड़ों की सफल व्यवसायी बन गई है। हर महीने लोन की किश्त चुकाने के बाद भी वे अच्छी-खासी आमदनी प्राप्त कर रही है।
रीवा जिला मुख्यालय पर यज्ञ नारायण समदरिया पहले बस स्टेण्ड के पास दूसरे की दुकान पर मिस्त्री का काम करते थे। मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना ने उन्हें उसी जगह पर इलेक्ट्रानिक आइटम्स के स्टोर का मालिक बना दिया है।यज्ञ नारायण अब अपने स्टोर में इलेक्ट्रानिक आइटम्स बेचने के साथ उन्हें सुधारने का काम भी करते हैं।
शिवपुरी में विक्रमजैमिनी ने अपने घर पर ही बड़ी, पापड़, चिप्स और मसाले बनाने का व्यवसाय शुरू किया है। व्यवसाय को स्थापित करने के लिये जिला उद्योग केन्द्र ने उन्हें मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में स्टेट बैंक से 5 लाख रुपये का लोन और उस पर 75 हजार रुपये मार्जिन मनी दिलवाई। आज विक्रम और उसके परिवारजनों के हाथों से बने बड़ी, पापड़, चिप्स और मसाले पूरे जिले में पसंद किये जाते हैं। वे हर महीने 40-45 हजार रुपये आसानी से कमा रहे हैं।


राज्य के कई हिस्सों में तेज बारिश से बाढ़ की स्थिति; मौसम विभाग ने जारी किया ऑरेंज अलर्ट
29 July 2019
भोपाल.मध्यप्रदेश के कई हिस्सों में पिछले दो दिन से जारी बारिश के चलते कई क्षेत्रों में बाढ़ की स्थिति बन गई है। सोमवार को मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट जारी की है। इसके अनुसार, राज्य के 27 जिलों में भारी बारिश और कहीं-कहीं अति वृष्टि हो सकती है। इस बीच भोपाल में कल से हो रही रुक-रुक पर बारिश का दौर सोमवार को भी जारी है।
ऑरेंज अलर्ट के अनुसार, आगामी 48 घंटों के दौरान इंदौर, धार, अलीराजपुर, होशंगाबाद, सीहोर, गुना, उज्जैन, छिंदवाड़ा, हरदा, राजगढ़, नीमच, रतलाम, अशोकनगर, आगर, श्योपुरकलां, बालाघाट, अनूपपुर, डिंडोरी, विदिशा, बड़वानी, खरगोन, खंडवा, झाबुआ, बुरहानपुर, शाजापुर, मंदसौर और सिवनी जिले शामिल हैं। मौसम विज्ञान भोपाल केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि इसके साथ ही उत्तर पश्चिम मध्यप्रदेश एवं पूर्वी राजस्थान पर आज ऊपरी हवाओं में 4.5 किलोमीटर ऊपर एक चक्रवाती घेरा भी बन गया है। द्रोणिका (मानसून ट्रफ लाइन) भी बीकानेर, सवाईमाधोपुर और मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ से छत्तीसगढ़ एवं ओडिशा होते हुए बंगाल की खाड़ी तक जा रही है। ये अच्छी बारिश का संकेत है।
सीहोर में एक बच्चा बहा: सीहोर जिले में कल एक पुलिया पर तेज बहाव के पानी में एक बच्चा डूब गया। देर रात तक उसका कुछ पता नहीं चल सका। उसकी पहचान खजुरिया कासम निवासी कृष्णपाल (8) के तौर पर हुई है।
शिवपुरी में बिजली गिरने से पिता-पुत्र की मौत : नजदीकी राजगढ़ जिले में भी विभिन्न स्थानों पर तीन लोग तेज पानी के बहाव में बह गए। तीनों को तलाशने के प्रयासों में देर रात तक सफलता नहीं मिल सकी थी। भिंड जिले में कल तेज बारिश के दौरान बिजली गिरने से विभिन्न स्थानों पर तीन लोगों की मौत हो गई। शिवपुरी जिले में भी एक पिता-पुत्र पर बिजली गिरने से बच्चे की मौत हो गई।
शाजापुर में तालाब का पानी गांव में घुसा: वहीं शाजापुर जिले के विभिन्न हिस्सों में भी तेज बारिश के बाद एक तालाब का पानी ग्रामीण क्षेत्रों में प्रवेश कर गया। कालापीपल के खोकरां कलां गांव में बाढ़ की हालत बनने के बाद बचाव दल और प्रशासन के दस्ते ने ग्रामीणों को नावों की मदद से बाहर निकाला।
मध्य प्रदेश के मौसम को प्रभावित करने वाले कारक
आल्हा मानसून द्रोणिका मीन सी लेवल पर जैसलमेर भीलवाड़ा उमरिया पेंड्रा रोड संबलपुर चांद बली से लेकर बंगाल की खाड़ी तक गया है।

दूसरा हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात उत्तरी उड़ीसा एवं उससे लगे गंगा के पश्चिम बंगाल एवं झारखंड में बना है जो दक्षिण पश्चिम दिशा की ओर हुआ है।

तीसरा हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात दक्षिणी राजस्थान में उससे लगे इलाके में बना हुआ है जो 3 पॉइंट 6 किलोमीटर की ऊंचाई तक है, जो ऊंचाई के साथ दक्षिण-पश्चिम दिशा की ओर झुका है।

एक द्रोणिका दक्षिण राजस्थान से उड़ीसा के बीच बना है जो मध्य प्रदेश उत्तरी छत्तीसगढ़ से होकर जा रही है। जो 3.1 से 7 पॉइंट 6 किलोमीटर तक की ऊंचाई पर है जो दक्षिण दिशा की ओर झुका हुआ है।


मध्य प्रदेश फिर बना टाइगर स्टेट, 526 बाघों के साथ बना देश में अव्वल; कमलनाथ ने कहा- टाइगर हमारी शान
29 July 2019
भोपाल. मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने आज केंद्र सरकार द्वारा जारी बाघ गणना आकलन रिपोर्ट में मध्यप्रदेश को बाघ प्रदेश का दर्जा पुनः हासिल होने पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए प्रदेश के सभी नागरिकों को बधाई दी है। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि बाघ मध्यप्रदेश की पहचान हैं। यह भी साबित हो गया है कि मध्यप्रदेश के वन, बाघों और अन्य वन-जीवों के लिए सबसे सुरक्षित रहवास है। उन्होंने नागरिकों से आग्रह किया कि वे पर्यावरण संरक्षण के लिए हमेशा तत्पर रहें।
मुख्यमंत्री ने सभी राष्ट्रीय उद्यानों और अभ्यरण्यों के प्रबंधन से जुड़े अधिकारियों, कर्मचारियों को विशेष रूप से बधाई दी है। उन्होंने बाघ संरक्षण से जुड़ी सभी संस्थाओं, व्यक्तियों, विशेषज्ञों को भी बधाई दी, जिन्होंने बाघों के संरक्षण के प्रति समय-समय पर अपनी चिंता जताई और सरकार का ध्यान आकर्षित किया।
श्री कमल नाथ ने कहा कि पन्ना टाइगर रिज़र्व ने बाघों के संरक्षण में अनूठा कार्य किया है, जो वन्य-जीव प्रबंधन और संरक्षण की मिसाल बन गया। उन्होंने वन विभाग के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को विशेष रूप से बधाई दी है।
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा आज अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस के मौके पर बाघों की संख्या पर रिपोर्ट जारी की गई है। रिपोर्ट में देश में बाघों की कुल संख्या 2967 पहुँच गई है। इसमें मध्यप्रदेश 526 बाघों के साथ देश में पहले स्थान पर है।

पेयजल आपूर्ति शासन की प्राथमिकता : मंत्री श्रीमती माया सिंह
6 February 2018
नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा है कि पेयजल की आपूर्ति शासन की प्राथमिकता है। आगामी गर्मी के मौसम में पेयजल संकट से निपटने के लिए प्रदेश के 378 नगरीय निकायों के लिए 122 करोड़ की कार्य योजना तैयार कर ली गई है। उन्होंने अधिकारियों को आज राज्य-स्तरीय समीक्षा बैठक में पेयजल आपूर्ति के प्रतिदिन समीक्षा करने के निर्देश दिये हैं। श्रीमती माया सिंह ने कहा कि पिछले 2 वर्षों से प्रदेश में मानसून की कमजोर आवक के कारण पेयजल स्त्रोत के सूखने की शिकायतें लगातार बढ़ रही हैं। इसके लिए संचालनालय स्तर पर पेयजल आपूर्ति की नियमित समीक्षा करें। उन्होंने कहा कि नगरीय निकायों द्वारा पूर्व में भेजे गये प्रस्तावों के आधार पर 122.2 करोड़ रूपये का प्रस्ताव आयुक्त सूखा राहत को भेजा गया है। श्रीमती माया सिंह ने कहा कि पेयजल आपूर्ति के लिये भारत सरकार से धन राशि आवंटन हेतु अनुरोध किया जा रहा है। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री ने कहा कि सभी निकाय अपने स्तर पर माइक्रो लेवल प्लान तैयार रखें। जिन स्थानों पर नवीन हैण्ड-पम्प, बोरिंग अथवा टेंकर द्वारा पानी की आपूर्ति की जानी है, उन स्थानों पर वार्ड और मोहल्ले अभी से चिन्हित किये जाएँ। पानी की आपूर्ति सभी तरह की बसाहटों में की जाएगी। बैठक में बताया गया कि संचालनालय स्तर से 122 करोड़ रूपये का प्रस्ताव तैयार किया गया है। इसमें से नगर निगम को 66 करोड़ 60 लाख, नगर पालिकाओं को 32 करोड़ 2 लाख तथा नगर परिषद क्षेत्रों को 23 करोड़ 40 लाख रूपये की राशि दिया जाना प्रस्तावित है। इसके साथ ही 23 जिला कलेक्टरों द्वारा 120 निकायों में राहत मद से पेयजल परिवहन हेतु 19 करोड़ 40 लाख रूपये की राशि के प्रस्ताव प्राप्त हुए है। इसमें से 4 करोड़ 6 लाख रूपये की राशि आवंटित की जा चुकी है। जल संरक्षण एवं जल संवर्धन जागरूकता अभियान के निर्देश नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने पानी के अपव्यय के प्रति आमजन को जागरूक बनाने के लिए नगरीय क्षेत्रों में जल संरक्षण एवं जल संवर्धन जागरूकता हेतु विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सभी जन-प्रतिनिधियों और सभी वरिष्ठ शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों से अनुरोध किया है कि सभी कार्यक्रमों में जल संरक्षण और पानी के महत्व तथा अपव्यय को रोकने के लिए चर्चा अवश्य करें।
पुरातत्व विभाग प्राचीन दुर्लभ पुरावशेष एवं कलाकृतियाँ खरीदेगा
6 February 2018
पुरातत्व विभाग द्वारा सौ साल से अधिक प्राचीन दुर्लभ पुरावशेष एवं कलाकृतियाँ खरीदी जाएंगी। इसमें राजघरानों एवं स्थानीय शैली के ऐतिहासिक परिवेश, दुर्लभता की श्रेणी और भूतकाल की स्थानीय घटना को प्रदर्शित करती कलाकृतियाँ शामिल होंगी। पुरातत्व आयुक्त श्री अनुपम राजन ने यह जानकारी देते हुए बताया है कि प्राचीन कलाकृति एवं पुरावशेष जिनके स्वयं के आधिपत्य में हैं वे इसके प्रमाण उपलब्ध कराकर 15 मार्च तक अपरान्ह 3 बजे तक प्रस्ताव जमा कर सकेंगे। प्राचीन सामग्री में दुर्लभ प्रतिमा, धातु प्रतिमा, अस्त्र-शस्त्र, ब्रांज प्रतिमा, कांस्य प्रतिमा, प्राचीन सिक्के, प्राचीन शिलालेख, प्राचीन दुर्लभ अभिलेख, पेंटिग और कास्य कलाकृति आदि शामिल होंगी। इन सभी पुरावशेष एवं बहुमूल्य कलाकृतियों को पुरातत्व विभाग की क्रय समिति अनुशंसा के आधार पर इन सामग्री का मूल्य तय कर संबंधित से अनुबंध करवाया जायेगा। इस तरह की कलाकृतियाँ एवं पुरावशेष पुरातत्व विभाग की शासकीय सामग्री हो जायेगी। इन्हें किसी भी स्थिति में वापस नहीं किया जायेगा।
भानपुर खंती की वायु गुणवत्ता में हुआ सुधार
6 February 2018
मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा भानपुर खंती के आसपास के 9 स्थानों पर लगातार परिवेशीय वायु गुणवत्ता का मापन किया जा रहा है। गत 30 जनवरी को किये गये मापन में आरएसपीएन की मात्रा निर्धारित मानक 100 माइक्रोग्राम/घन मीटर से काफी अधिक 307 से 367 माइक्रोग्राम/घन मीटर पाई गई थी, जिसमें अब काफी सुधार आ गया है। प्रमुख सचिव-सह-प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष श्री अनुपम राजन ने बताया कि 5 फरवरी, 2018 को खंती के आसपास के 9 स्थानों पर प्राप्त परिणाम केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा प्रकाशित एयर क्वालिटी इण्डेक्स के अनुसार मध्यम स्तर पाया गया। वायु गुणवत्ता इण्डेक्स का स्तर 5 फरवरी को दामखेड़ा में 124.33, खेजड़ा में 117.48, भानपुर में 162.23, कोच फेक्ट्री में 178.41, करारिया में 154.92, कोलुआ में 155.22, मीनाल में 133.87, अयोध्या नगर में 128.30 और करोंद में 169.77 पाया गया। श्री राजन ने बताया कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा सभी 9 स्थानों पर निगरानी केन्द्र बनाकर लगातार 8-8 घंटे की शिफ्ट में सुबह 6 से 2, 2 से 10, 10 से अगले दिन सुबह 6 बजे तक प्रदूषण की मॉनीटरिंग की जा रही है। हर 4 घंटे में सल्फर डाई ऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड गैसीय मात्रा की जाँच की जा रही है। लगातार पानी डालने से आग पर काबू पाने से आगजनित प्रदूषण हवा में समाप्त हो चला है। अभी वाहन, ध्वनि, नियमित दिनचर्या आदि से उत्पन्न होने वाले प्रदूषण से ही वायु-स्तर प्रभावित है। मुख्य वैज्ञानिक अधिकारी डॉ. रीता कोरी ने बताया कि बोर्ड 2.5 माइक्रोग्राम और 10 माइक्रोग्राम साइज के पी.एम. (पर्टीकुलेट मेटर) का फिल्टर कर जाँच कर रहा है। छोटे 2.5 माइक्रोग्राम पी.एम. की क्षमता फेफड़ों के अंदर तक प्रवेश करने की होने के कारण इनको विशेष रूप से नियंत्रित किया गया है
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में 18 हजार हितग्राही लाभान्वित
6 February 2018
प्रदेश में नवीन एमएसएमई इकाइयों की स्थापना के लिए मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से हितग्राहियों की मदद की जा रही है। इस वित्त वर्ष में दिसम्बर तक 18 हजार 722 हितग्राहियों को 647 करोड़ 58 लाख लाख रूपये की वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाई जा चुकी है। सूक्ष्म,लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री संजय-सत्येन्द्र पाठक ने बताया कि इस वित्त वर्ष में योजना में 30 हजार उद्यमियों को 1487 करोड़ 57 लाख रूपये का ऋण दिये जाने का लक्ष्य रखा गया है। अभी तक 26 हजार 441 प्रकरणों में 110 करोड़ 30 लाख 99 हजार की राशि स्वीकृत की जा चुकी है। शेष 7 हजार 729 प्रकरण में स्वीकृत ऋण राशि हितग्राहियों को शीघ्र उपलब्ध करवायी जा रही है। राज्य मंत्री श्री पाठक ने बताया कि योजना में इंदौर संभाग के 8 जिलों में 4037 हितग्राहियों को 184 करोड़ 14 लाख 66 हजार का ऋण उपलब्ध कराया गया है। संभाग स्तर पर यह संख्या सर्वाधिक है। इसके बाद जबलपुर संभाग में सबसे अधिक 8 जिलों में 2953 हितग्राहियों को 116 करोड़ 99 लाख 99 हजार रूपये का ऋण दिया गया है। योजना की अर्हता एवं वित्तीय सहायता के प्रावधान मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना का लाभ केवल नए उद्यम स्थापित करने के लिए मिलता । योजना में 50 हजार से 10 लाख रूपये तक का ऋण दिया जाता है। हितग्राही की उम्र 18 से 45 वर्ष तथा शैक्षणिक योग्यता न्यूनतम पाँचवी कक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए। हितग्राही की आय सीमा का कोई बंधन नहीं है। आवेदक का परिवार पहले से ही उद्योग/ व्यापार क्षेत्र में स्थापित होकर आयकर दाता नहीं होना चाहिए। सामान्य वर्ग के लिए परियोजना लागत का 15 प्रतिशत अधिकतम एक लाख रूपये, बीपीएल/अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/ अन्य पिछड़ा वर्ग(क्रीमीलेयर को छोड़कर) महिला/ अल्पसंख्यक/नि:शक्त जन हितग्राही को परियोजना लागत की 30 प्रतिशत अधिकतम 2 लाख की मार्जिन मनी सहायता दी जाती है। भोपाल गैस पीड़ित परिवार के सदस्यों को परियोजना लागत पर अतिरिक्त 20 प्रतिशत या अधिकतम एक लाख की मार्जिन मनी की पात्रता है। इसी तरह विमुक्त घुमक्कड़ एवं अर्ध घुमक्कड़ जनजाति के हितग्राही को परियोजना का 30 प्रतिशत या अधिकतम 3 लाख तक की अतिरिक्त मार्जिन मनी दी जाती है। योजना के क्रियान्वयन के विभाग योजना का क्रियान्वयन एमएसएमई विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास,कुटीर एवं ग्रामोद्योग, पिछड़ा वर्ग एवं अल्प संख्यक कल्याण ,नगरीय विकास एवं आवास, अनूसूचित जाति कल्याण , आदिम जाति कल्याण एवं विमुक्त, घुमक्कड़ और अर्ध घुमक्कड़ जनजाति कल्याण विभाग द्वारा किया जा रहा है।
27515 विद्यार्थियों की 54 करोड़ 62 लाख रूपये की फीस का हुआ भुगतान
5 February 2018
मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना में विभिन्न कोर्स के 27 हजार 515 विद्यार्थियों की 54 करोड़ 62 लाख 67 हजार 73 रूपये की फीस का भुगतान तकनीकी शिक्षा विभाग द्वारा किया जा चुका है। कुल स्वीकृत आवेदन 27 हजार 575 हैं। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने जानकारी दी है कि योजना में आईआईएम के 2 विद्यार्थियों की फीस 8 लाख रूपये, तकनीकी शिक्षा के 288 विद्यार्थियों की एक करोड़ 57 लाख 27 हजार 199, मध्यप्रदेश स्थित आईआईटी, एनआईटी, आईआईएसईआर, एनआईएफटी, एसपीए के 32 विद्यार्थियों की 40 लाख 73 हजार 200, मध्यप्रदेश के बाहर के इन्हीं संस्थाओं के 178 विद्यार्थियों की एक करोड़ 20 लाख 80 हजार 557, क्लेट के 29 विद्यार्थियों की 40 लाख 73 हजार 200, जेईई रैंक के आधार पर मध्यप्रदेश के बाहर के प्रायवेट कॉलेजों के 28 विद्यार्थियों की 38 लाख 51 हजार 802, नीट द्वारा चयनित मेडिकल के 631 विद्यार्थियों की 38 करोड़ 63 लाख 2 हजार, उच्च शिक्षा के 26005 विद्यार्थियों की 10 करोड़ 4 लाख 8 हजार 501 रूपये और अन्य विषयों के 322 विद्यार्थियों की एक करोड़ 85 लाख 75 हजार 414 रूपये की फीस जमा करवायी गयी है।
खेल दुनिया को जीतने का माध्यम है : श्रीमती सिंधिया
5 February 2018
खेल और युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि खेल दुनिया के जीतने और आसमान छू लेने का माध्यम है और इस अवसर का खिलाड़ियों को अवश्य लाभ उठाना चाहिए। खेलमंत्री आज ध्यानचंद हॉकी परिसर में तृतीय राज्यस्तरीय ''मुख्यमंत्री कप'' प्रतियोगिता के शुभारंभ अवसर पर कही। इस अवसर पर संचालक खेल और युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन, संयुक्त संचालक डाँ विनोद प्रधान सहित अन्य अधिकारी और विभिन्न संभागों के खिलाड़ी और प्रशिक्षक उपस्थित थे। खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया ने कहा कि परम्परागत खेलों को बढ़ावा देकर प्रदेश की ग्रामीण प्रतिभाओं को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धाओं में बेहतर अवसर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से ''मुख्यमंत्री कप'' प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों की खेल प्रतिभाएं सामने आई है। उन्होंने राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में भागीदारी कर रहे खिलाड़ियों से कहा कि अब खेल अकादमी में प्रवेश आपका अगला लक्ष्य होना चाहिए ताकि अकादमी के माध्यम से आप अपने खेल में निखार लाकर और अच्छा खिलाड़ी बनकर अपने जिले, प्रदेश और देश को गौरवान्वित करें। उन्होंने खिलाड़ियों को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित करते हुए शुभकामनाएं दी। संचालक खेल और युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन ने कहा कि मुख्यमंत्री कप का आयोजन ब्लाक, जिला एवं संभाग स्तर पर किया गया जिसमें ग्रामीण प्रतिभाओं ने भाग लेकर खेल कौशल का प्रदर्शन किया। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री कप के अंतर्गत इस वर्ष अंडर-16 बालक एवं बालिका वर्ग की 6 खेलों में प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं जिनमें कबड्डी, व्हालीबॉल, फुटबॉल, कराते, कुश्ती एवं एथलेटिक्स खेल शामिल हैं। खेल संचालक ने बताया कि इस वर्ष आयोजित तृतीय मुख्यमंत्री कप प्रतियोगिता में 10 संभागों से करीब 1234 खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। राज्य स्तरीय दलीय खेलों में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान अर्जित करने वाले बालक-बालिका दलों को क्रमशः एक लाख रूपये, 75 हजार रूपये और 50 हजार रूपये नगद पुरस्कार एवं व्यक्तिगत खेलों में क्रमश: 10 हजार रूपये, 7 हजार रूपये, 5 हजार रूपये के नगद पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा।
राज्यपाल के प्रमुख सचिव ने राजभवन में श्रमदान किया
5 February 2018
राज्यपाल के प्रमुख सचिव डॉ.एम मोहनराव के नेतृत्व में राजभवन सचिवालय के अधिकारियों और कर्मचारियों ने राजभवन परिसर में स्वच्छता अभियान के तहत श्रमदान किया। प्रमुख सचिव ने राजभवन में आंगनबाड़ी केन्द्र तथा बच्चों के खेलने के लिए पार्क की चयनित जगह का भी निरीक्षण किया। डॉ.मोहनराव ने राजभवन में रहवासी कर्मचारियों से अपने आवास के आस-पास साफ-सफाई बनाये रखने का आग्रह किया।
पंचायत सचिवों को मिलेगा 5200-20200 + 2400 ग्रेड-पे वेतनमान
4 February 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की है कि पंचायत सचिवों के साथ हुए ऐतिहासिक अन्याय को दूर करते हुए जिन सचिवों ने एक अप्रैल 2018 को दस साल की सेवा पूरी कर ली है, उन्हें वेतनमान 5200 - 20200 + 2400 ग्रेड-पे दिया जायेगा। श्री चौहान ने पंचायत सचिवों को ग्रामीण मध्यप्रदेश की नींव बताते हुए कहा है कि अब उन्हें नियुक्ति दिनांक से ही 10 हजार रूपये दिये जायेंगे। इसके दो साल बाद उन्हें 5200 - 20200 +1900 ग्रेड-पे दिया जायेगा। श्री चौहान आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास पर पंचायत सचिवों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने कहा कि जो बहनें पंचायत सचिव के पद कार्य कर रही हैं, उन्हें 180 दिन का मातृत्व अवकाश दिया जायेगा। सचिव पति को भी 15 दिन का पितृत्व अवकाश दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि पंचायत सचिवों का सम्मान करना सरकार का दायित्व है। सचिव सरकार के महत्वपूर्ण अंग हैं। उन्होंने पंचायत सचिवों के लिये अनुकंपा नियुक्ति के संबंध में कहा कि अब एक अप्रैल 2008 से अनुकंपा नियुक्ति की पात्रता होगी। बीमार पड़ने पर 15 दिन का चिकित्सीय अवकाश दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि पंचायत सचिवों के सहयोग से ग्रामीण मध्यप्रदेश की तस्वीर बदलेंगे। गाँवों में वे सभी सुविधाएँ होंगी, जो शहरों में उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण विकास की योजनाओं में मध्यप्रदेश का देश में अच्छा प्रदर्शन सचिवों की मेहनत के कारण है। उन्होंने कहा कि एक दशक पहले सड़कें, पेयजल व्यवस्था, आवासीय सुविधाएँ, गाँवों की आंतरिक सड़कों की स्थिति खराब थी। आज ग्रामीण मध्यप्रदेश विकास का नया दौर देख रहा है। उन्होंने कहा कि जब सरकार बनी थी, तब पंचायत सचिवों को 500 रूपये मिलते थे। वर्ष 2008 में 1200 रूपये बढ़ाये गये और वर्ष 2008 में पंचायत सचिवों को नियमित वेतनमान देना शुरू हुआ। उन्होंने कहा कि सरकार ने हमेशा पंचायत सचिवों का साथ दिया है। श्री चौहान ने कहा कि सरकार गरीबों के कल्याण का काम कर रही है। गरीबों को आवास देने के लिये उन्हें जमीन का मालिक बनाया जा रहा है। प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना में मध्यप्रदेश देश में सबसे आगे है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण आवासों के निर्माण में धनराशि कमी पड़ने पर मुख्यमंत्री अंत्योदय आवास योजना से भी मदद दी जायेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग और पंचायत सचिवों की सराहना करते हुए उन्हें बधाई दी। उन्होंने कहा कि सबके सहयोग से ग्रामीण विकास की योजनाओं का और अधिक प्रभावी ढंग से क्रियान्वयन किया जायेगा। स्वच्छ भारत अभियान में भी मध्यप्रदेश पूरे देश में दूसरे स्थान पर है। मनरेगा में 3500 करोड़ रूपये और पंच परमेश्वर योजना में 8000 करोड़ रूपये खर्च किये गये हैं। उन्होंने कहा कि पंचायत सचिवों के सहयोग से राज्य संपूर्ण विकास के सपने को पूरा करने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। ग्रामीण मध्यप्रदेश की तस्वीर तेजी से बदल रही है। उन्होंने पंचायत सचिवों से आग्रह किया कि लोगों की सेवा करें और ग्रामीण मध्यप्रदेश में विकास के नये कीर्तिमान स्थापित करने में सहयोग दें। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि ग्रामीण विकास की योजनाओं में सूचना प्रौद्योगिकी आधारित प्रक्रियाओं और व्यवस्थाओं से पारदर्शिता आई है। उन्होंने कहा कि पंचायत सचिवों के हित में की गई घोषणाओं के बाद ऐतिहासिक रूप से जो अन्याय हुआ था, वह दूर हो गया है। उन्होंने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि अधिकार मिलने के साथ कर्त्तव्यों को पूरा करना भी पंचायत सचिवों का नैतिक दायित्व हैं। श्री भार्गव ने कहा कि मध्यप्रदेश जिस प्रकार अब तक ग्रामीण विकास के क्षेत्र में आगे रहा है, भविष्य में भी निरंतर प्रगति करता रहेगा। इसके लिये प्रयासों को और तेज करने की आवश्यकता है। मध्यप्रदेश पंचायत सचिव संगठन के अध्यक्ष श्री दिनेश शर्मा, श्री बालमुकुंद पाटीदार, आजाद पंचायत सचिव कर्मचारी संघ के अध्यक्ष श्री हाकम सिंह ने पंचायत सचिवों की ओर से मुख्यमंत्री का आभार माना और उनका अभिनंदन किया। सचिवों के संगठनों की ओर से मुख्यमंत्री श्री चौहान को महाकाल का चित्र भेंट किया गया। संचालक पंचायत श्री शमीमुद्दीन ने आभार व्यक्त किया। इस मौके पर राज्य कर्मचारी संघ के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक वर्णवाल एवं बड़ी संख्या में सचिव उपस्थित थे।
सूखा प्रभावित किसानों को राशि देने सरकार प्रतिबद्ध
4 February 2018
जनसम्‍पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने रविवार को दतिया जिले के अवर्षा प्रभावित गणेश खेड़ा, हतवल और कटीली ग्रामों में पहुंचकर किसानों की खोज-खबर ली। डॉ. मिश्र ने किसानों से पूछा कि उनके खाते में सूखा राहत राशि पहुंची या नहीं। अधिकांश किसानों ने बताया कि उन्हें राहत राशि मिल चुकी है। जनसम्‍पर्क मंत्री ने किसानों से कहा कि जिन किसानों को राशि प्राप्‍त नहीं हुई है, वे संबंधित पटवारी को आवश्यक दस्तावेज देकर इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का प्रत्येक प्रभावित किसान को स्वीकृत राहत राशि का भुगतान करने के लिये कटिबद्ध है। संकट की घड़ी में सरकार किसानों के साथ खड़ी है। उन्होंने बताया कि केन्द्रीय बजट में भी किसानों के लिए लाभकारी न्यूनतम समर्थन मूल्य की व्यवस्था की गई है। जनसंपर्क मंत्री ने ग्रामीण अंचलों में भांवातर भुगतान योजना की प्रगति की जानकारी भी प्राप्त की। ग्राम हतवल के 483 किसानों के प्रतिनिधियों ने राज्य सरकार द्वारा 22 लाख 68 हजार की राशि स्वीकृत करने पर जनसंपर्क मंत्री और राज्य सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया।
ग्राम उद्गवां को मिला नवीन विद्यालय भवन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिले के ग्राम उदगवां में किसानों को बताया कि ग्राम के सूखा प्रभावित किसानों के लिए 86 लाख रुपए से अधिक की राहत राशि स्वीकृत की गई है। उन्होंने उद्गवां में शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल के नव-निर्मित भवन का शुभारंभ किया। इस अवसर पर लोक-निर्माण विभाग को विद्यालय भवन का निर्माण समय-सीमा में करने के लिए प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. मिश्र ने कहा कि राज्य सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में अधिक से अधिक सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए प्राथमिकता से कार्य किया है। इसके लिए आवश्यक बजट की व्यवस्था भी की गई। यही वजह है कि विद्यार्थियों का बौद्धिक स्तर भी बेहतर हुआ है। पाठ्य पुस्तकें, गणवेश, छात्रवृत्ति, छात्रावास और विभिन्न विषयों के शिक्षकों की व्यवस्था से स्कूली शिक्षा का परिदृश्य बेहतर बनाया जा सका है। सुविधाजनक भवनों, प्रयोग शालाओं के निर्माण से विद्यार्थियों को अच्छे वातावरण में शिक्षा की सुविधा प्रदान की जा रही है।

पुलिस एवं अभियोजन अधिकारियों को संवेदनशीलता से कार्यवाही करना चाहिये - महाधिवक्ता श्री कौरव
4 February 2018
महाधिवक्‍ता श्री पुरूषेन्‍द्र कौरव ने पुलिस एवं अभियोजन अधिकारियों से कहा कि प्रथम सूचना प्रतिवेदन से लेकर तकनीकी साक्ष्‍य के एकीकरण सहित संपूर्ण कार्यवाही इस प्रकार की जाये कि दोष सिद्धि में कोई कमी न रहे। कई छोटी-छोटी बातों का ध्‍यान रखकर सजायाबी की दर को बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि कमजोर वर्गों के लिए जिस मंशा को लेकर संविधान में विशेष कानून बनाए गए हैं। उसे पूरा करने के लिए विशेष सर्तकता बरतते हुए पुलिस एवं अभियोजन अधिकारियों को संवेदनशील होकर प्रकरण में कार्यवाही करना चाहिये। उन्होंने कहा कि संवेदनशील क्षेत्रों में जन-चेतना शिविर जैसे अन्‍य कार्यक्रमों को संचालित कर लोगों में जागरूकता लाई जाये। उन्‍होंने खाली पदों पर भर्ती के लिये मध्‍यप्रदेश पुलिस द्वारा किये जा रहे प्रयासों की सराहना की। महाधिवक्ता श्री कौरव आर.सी.वी.पी. नरोन्‍हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी में आयोजित पुलिस एवं लोक अभियोजन अधिकारियों के दो दिवसीय राज्य-स्तरीय सेमीनार के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। पुलिस महानिदेश‍क श्री ऋषि कुमार शुक्‍ला ने कहा कि समाज में व्‍यापक परिवर्तन आ रहा है। सामाजिक समरसता और सद्भाव के लिये कई प्रयास किये जा रहे हैं। इन प्रयासों में सहयोगी बनते हुए विवेचना एवं अभियोजन अधिकारी को राज्‍य के प्रतिनिधि के रूप मे पीड़ित को न्‍याय दिलाने के लिये एक होकर समन्वित प्रयास करने की आवश्‍यकता है। उन्‍होंने कहा कि कमजोर वर्गों को न्‍याय दिलाने एवं उनके हितों के संरक्षण के लिये अनुसूचित जाति एवं जनजाति (अत्‍याचार निवारण) अधिनियम को व्‍यापक बनाया गया है। निष्‍पक्ष होकर कार्यवाही करने से प्रत्‍येक नागरिक में व्‍यवस्‍था के प्रति विश्‍वास बढ़ता है। श्री शुक्ल ने अधिकारियों से कहा कि समस्‍याओं का पूर्व आकलन करें तथा सक्रियता एवं संवेदनशीलता से सामाजिक सशक्तिकरण के लिये कार्य करें। पुलिस को सा‍माजिक न्‍याय, जनजाति विकास विभाग सहित अन्‍य विभागों के साथ मिलकर समन्वित रूप से अपराध होने से रोकने के लिये अतिरिक्‍त प्रयास करने होगें। उन्‍होंने कहा कि एफ.आई.आर. सबसे महत्‍वपूर्ण दस्‍तावेज होता है, अत: इसे लि‍खने में सतर्कता बरतें। एफ.आई.आर. ऐसी हो जिससे विवेचना में सहायता मिले। डीजीपी श्री शुक्‍ला ने कहा कि ऐसे सेमीनार के माध्‍यम से अधिकारियों एवं विषय वि‍शेषज्ञों के मध्‍य विस्‍तृत चर्चा होती है तथा अनौपचारिक संवाद से कई शंकाओं का समाधान होता है। उन्‍होंने सेमीनार के आयोजन के लिए अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक अजाक श्रीमती प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्‍तव एवं टीम को बधाई दी। उन्‍होंने अपराध कायमी, अभियोजन तथा अपराध अनुसंधान के संबंध में कई महत्‍वपूर्ण बातों के बारे में बताया। अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक श्रीमती प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्‍तव ने सेमीनार की भूमिका एवं उद्देश्‍यों के संबंध में जानकारी दी। सेमीनार के दूसरे दिन न्यायमूर्ति श्री राकेश सक्सेना, चेयरमेन मध्यप्रदेश स्टेट उपभोक्ता आयोग द्वारा 'फरियादी एवं साक्षियों का पक्ष विरोधी होना अभियोजन में सबसे बड़ी बाधा है' पर जानकारी दी गई। उच्च न्यायालय इंदौर खण्डपीठ के अधिवक्ता श्री अनिल त्रिवेदी द्वारा 'भारतीय समाज में जाति के आधार पर होने वाले भेदभाव तथा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्‍याचार निवारण) अधिनियम का समाज पर प्रभाव' विषय पर व्याख्यान दिया गया। तत्‍पश्‍चात पीपुल्स इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेन्ट एण्ड रिसर्च, पीपुल्स यूनिवर्सिटी, भोपाल की प्रोफेसर डॉ. असमा रिजवान द्वारा 'त्वरित गति से बदलते समाज में पुलिस की चुनौतियां : सामाजिक बहिष्‍कार एवं जाति के आधार पर होने वाले वाले अत्‍याचार के विशेष संदर्भ में' व्‍याख्‍यान दिया गया। तत्‍पश्‍चात छुआछूत पर आधारित डाक्‍यूमेन्‍ट्री दि‍खाई गई। प्रतिभागी अधिकारियों की परीक्षा भी ली गई जिसमें पुलिस अधिकारियों में अजाक एस.पी. श्री रामसनेही मिश्रा तथा अभियोजन अधिकारियों में ए.डी.पी.ओ. रेखा यादव प्रथम आयीं। अतिथियों ने अधिकारियों को प्रमाण पत्र एवं स्‍मृति चिन्‍ह दिये। इस अवसर पर अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक फायर सर्विसेस श्री विजय कुमार, अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक सी.आई.डी. श्री डी.सी. सागर उपस्थित थे। यह सेमीनार इसलिये वि शेष था कि पहली बार विशेष रूप से लोक अभियोजकों को भी आमंत्रित किया गया था ताकि सजायाबी का प्रतिशत बढ़ाने के लिये पुलिस एवं अभियोजन अधिकारी समन्वित रूप से एक टीम के रूप में कार्य करें।
सकारात्मक खबरों को प्राथमिकता दे मीडिया : मंत्री श्री गोपाल भार्गव
4 February 2018
मध्यप्रदेश मंत्रि-परिषद् में तीन नये सदस्य नियुक्त किये गये हैं। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने इन नये सदस्यों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने श्री नारायण सिंह कुशवाह को मंत्री एवं श्री बालकृष्ण पाटीदार तथा श्री जालम सिंह पटेल को राज्य मंत्री के पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह ने शपथ ग्रहण समारोह की कार्यवाही का संचालन किया। शपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, विधानसभा अध्यक्ष श्री सीतासरन शर्मा, मंत्रि-परिषद् के सदस्य, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद श्री नन्दकुमार सिंह चौहान भी उपस्थित थे।
उद्योग मंत्री ने अन्त्योदय रसोई में गरीबों को भोजन परोसा
4 February 2018
उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने रीवा में दीनदयाल अन्त्योदय रसोई पहुंचकर गरीबों को भोजन परोसा। उन्होंने रसोई परिसर की साफ-सफाई, खाद्यान्न की उपलब्धता तथा भोजन बनाने आदि की व्यवस्थायें भी देखीं। उन्होंने कहा कि किसी भूखे व्यक्ति को भोजन कराना पुण्य का कार्य है। कोई भी गरीब व्यक्ति भूखा न रहे, इसी उद्देश्य के साथ दीनदयाल अन्त्योदय रसोई योजना प्रारंभ की गई है। इस दौरान उपाध्यक्ष गौ संवर्धन बोर्ड श्री राजेश पाण्डेय, पार्षदगण सहित अन्य जन-प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।
मंत्रि-परिषद् में तीन नये सदस्य नियुक्त
3 February 2018
मध्यप्रदेश मंत्रि-परिषद् में तीन नये सदस्य नियुक्त किये गये हैं। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने इन नये सदस्यों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने श्री नारायण सिंह कुशवाह को मंत्री एवं श्री बालकृष्ण पाटीदार तथा श्री जालम सिंह पटेल को राज्य मंत्री के पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह ने शपथ ग्रहण समारोह की कार्यवाही का संचालन किया। शपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, विधानसभा अध्यक्ष श्री सीतासरन शर्मा, मंत्रि-परिषद् के सदस्य, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद श्री नन्दकुमार सिंह चौहान भी उपस्थित थे।
सिर्फ पढाई करें, बाधाओं की चिंता छोड दें, सरकार उठायेगी शिक्षा का खर्च - मुख्यमंत्री श्री चौहान
3 February 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहां स्थानीय माडल स्कूल में प्रेरणा संवाद के बाद विद्यार्थियों द्वारा पूछे गये सवालों के जवाब दिये और उनकी शंकाओं का समाधान किया। विद्यार्थियों ने लक्ष्य तय करने, समय का प्रबंधन करने, पढ़ाई के लिये दिनचर्या तय करने, स्कूलों में विद्यार्थियों की सुरक्षा और अच्छे नंबर लाने का तनाव दूर करने के तरीकों से संबंधित सवाल पूछे। मुख्यमंत्री ने एक शिक्षक, पालक और विद्यार्थियों के मामा के रूप में सहजता के साथ विद्यार्थियों के सवालों के जवाब दिये और उनकी शंकाओं का समाधान किया। सुभाष उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के 11वीं कक्षा के छात्र श्री अंकित पटेल ने पूछा कि क्या मुख्यमंत्री बनने के लिये कोई लक्ष्य तय किया था। इस पर मुख्यमंत्री ने अपने गाँव में बचपन में खेती और मजदूरों का मेहनताना बढ़ाने के लिये किये आंदोलन की चर्चा की। उन्होंने कहा कि अन्याय को किसी भी रूप में सहना सही नहीं है। उन्होने कहा कि किसी भी काम के प्रति लगन और प्रतिबद्धता जरूरी है, यही काम आती है। डी.ए.वी. उच्चतर माध्यमिक विद्यालय टी.टी.नगर की कॉमर्स संकाय की 12वीं कक्षा की छात्रा सुश्री दिपांशी पांडे ने स्कूलों में विद्यार्थियों की विशेष रूप से बेटियों की सुरक्षा के संबंध में सवाल किये। मुख्यमंत्री ने बताया कि विद्यार्थियों की सुरक्षा संबंधी सभी उपायों को सुदृढ़ किया गया है। छात्रावासों में प्रवेश द्वार पर सीसीटीव्ही कैमरे लगाये जा रहे हैं। छात्रावास आने-जाने वाले रास्तों में पुलिस पेट्रोलिंग बढ़ाई जा रही है। उन्होंने बेटियों की गरिमा को धूमिल करने वाले दरिदों को फाँसी की सजा देने के लिये बनाये गये कानूनी प्रावधान का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि समाज को भी नैतिक आंदोलन चलाने की आवश्यकता है। इससे सुरक्षा के लिये एक स्वस्थ वातावरण बनेगा।
सिर्फ कर्म पर ध्यान दें सुभाष उत्कृष्ट विद्यालय के 11वीं के छात्र श्री आनंद लोधी ने मुख्यमंत्री से पूछा कि एक दिन में बहुत सारे काम करने के बावजूद उन्हें तनाव क्यों नहीं होता। इस पर मुख्यमंत्री ने गीता का श्लोक पढ़ते हुये बताया कि सिर्फ कर्म करने पर हमारा अधिकार है, परिणाम पर नहीं। इसलिये परिणाम पर ध्यान केन्द्रित करने के बजाय अपने कर्म पर ध्यान दें और यही दृष्टि जीवन में अपनायें तो तनाव नहीं होगा। दसवीं कक्षा की छात्रा सुश्री पूजा कानस ने मुख्यमंत्री से कहा कि हर स्कूल में खेल सुविधा और खेल के मैदान होना चाहिये। इस पर सहमति व्यक्त करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि पढ़ाई के साथ-साथ खेल भी जरूरी है। शासकीय विद्यालयों में खेल सुविधाएँ उपलब्ध कराई जायेंगी। मन को स्वस्थ रखने के लिये खेलों से जुड़े रहना जरूरी है। मॉडल हायर सेकेण्डरी स्कूल के श्री ऋतिक विश्वकर्मा ने मुख्यमंत्री से पूछा कि यदि अच्छे नंबर नहीं आ पाये तो माता-पिता की क्या प्रतिक्रिया होना चाहिये। इस पर मुख्यमंत्री ने सभी अभिभावकों से अपील की कि बच्चों को किसी भी प्रकार का तनाव नहीं दें। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि माता-पिता केवल लाड़-प्यार के कारण बच्चों को डाँटते है ताकि वे सजग और चैतन्य रहें। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि केवल मेहनत और अच्छे से अच्छे प्रदर्शन की कोशिश करें, अच्छे नंबर अवश्य आयेंगे। विद्या विहार हायर सेकेण्डरी स्कूल की 11वीं की छात्रा सुश्री प्रियंका ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि ज्यादा से ज्यादा बच्चे इंजीनियरिंग की शिक्षा लें, इसके लिये आईआईटी में सीट बढ़ाई जानी चाहिये। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इसदिशा में कोशिश की जायेगी। सुभाष उत्कृष्ट हायर सेकेण्डरी स्कूल के 11वीं के छात्र श्री शिवालाल मंडलोई ने मुख्यमंत्री से पूछा कि शिक्षा व्यवस्था में व्यवहारिक शिक्षा को शामिल करने के लिये कौन से सुधार किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा के तीन उद्देश्य है ज्ञान देना, कौशल देना और नागरिक संस्कार देना। उन्होंने कहा कि वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में हम ज्ञान दे रहें हैं। अब कौशल देने पर भी ध्यान केन्द्रित किया गया है। भोपाल में 600 करोड़ रूपये की लागत से ग्लोबल स्किल संस्थान जुलाई से काम करना शुरू कर देगा। इसके अलावा उत्कृष्ट औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान खोले जा रहे हैं। शिक्षा पद्धति को मूल्य आधारित बनाने के लिये कोशिश की जा रही है। स्कूल-कॉलेजों में कॅरियर परामर्श की व्यवस्था भी की जा रही है। डी.ए.वी हायर सेकेण्डरी स्कूल की 12वीं की छात्रा सुश्री मोनिका यादव ने सवाल किया कि शालाओं में विद्यार्थियों की सुरक्षा के लिये सरकार ध्यान दे रही है, लेकिन कोचिंग संस्थाओं के आस-पास सुरक्षा व्यवस्था के लिये कौन से उपाय किये जा रहे हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने बताया कि जिन शहरों में कोचिंग केन्द्र हैं, उनके आने-जाने वाले रास्तों पर सीसीटीव्ही कैमरे लगाने और वहाँ पर लगातार पुलिस पेट्रोलिंग की व्यवस्था की जायेगी। इसके अलावा डॉयल-100 वाहनों को भी विशेष निर्देश इस संबंध में दिये गये हैं।
जरूरी है समय प्रबंधन मे-फ्लावर स्कूल के 9वीं कक्षा के छात्र श्री अंकित ने पूछा कि व्यवहारिक ज्ञान देने के लिये कौन-कौन से प्रयास किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा व्यवस्था में सुधार करते हुए पढ़ाई के तरीकों में बदलाव लाने पर विचार किया जा रहा है। मॉडल हायर सेकेण्डरी स्कूल की 12वीं कक्षा की छात्रा सुश्री गुंजन बघेल ने मुख्यमंत्री से समय प्रबंधन के संबंध में सवाल करते हुये कहा कि मुख्यमंत्री के नाते वे स्वयं अपना समय प्रबंधन कैसे करते हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने सुबह साढ़े पाँच बजे से लेकर रात साढ़े ग्यारह बजे तक की दिनचर्या और कार्यप्रणाली के संबंध में विस्तार से बताया। इसमें सुबह सैर करना, योग एवं प्राणायाम करना, प्रशासनिक कार्यों की तैयारी-बैठकें करना और प्रशासनिक अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों से संवाद करना, लोगों-प्रतिनिधि मंडलों और विभिन्न संगठनों से मिलना, मंत्रालय में शासकीय कार्य का संपादन करना जैसे कार्यों को विस्तार से बच्चों को बताया। उन्होंने यह भी बताया कि किस प्रकार जिलों के दौरों के समय आम लोगों से जिले में सुशासन के स्तर और नये विकास कार्यक्रमों एवं योजनाओं की आवश्यकता के संबंध में जानकारी मिलती है। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि एक मुख्यमंत्री और अभिभावक के रूप में वे अपने परिवार के लिये कैसे समय निकालते हैं और किस प्रकार सार्वजनिक और निजी जीवन में संतुलन बनाये रखते हैं।

नव-नियुक्त मंत्री एवं राज्यमंत्री को कक्ष आवंटित
3 February 2018
मध्यप्रदेश मंत्रि-परिषद में नव-नियुक्त मंत्री एवं राज्यमंत्रियों को राज्य मंत्रालय (वल्लभ भवन) में कक्ष आवंटित किये गये हैं। सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी आदेशानुसार मंत्री श्री नारायण सिंह कुशवाह को कक्ष क्रमांक-435 चतुर्थ तल आवंटित किया गया है। राज्य मंत्री श्री बालकृष्ण पाटीदार को कक्ष क्रमांक-311 तृतीय तल एवं श्री जालम सिंह पटेल को कक्ष क्रमांक-82 भूतल आवंटित किया गया है।
जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने किया शोक व्यक्त
3 February 2018
जनसम्पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने वरिष्ठ पत्रकार श्री रविन्द्र जैन के पिताश्री श्री भगवानदास जी के निधन पर गहन शोक व्यक्त किया है। डॉ. मिश्र ने दिवंगत आत्मा की शांति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की है। जनसम्पर्क मंत्री ने शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।
राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी द्वारा पवई में पॉलिटेक्निक कॉलेज भवन का लोकार्पण
2 February 2018
तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने शुक्रवार को शासकीय पॉलीटेक्निक कॉलेज पवई (जिला पन्ना) में 8 करोड़ रुपये लागत के नवीन भवन का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने बताया कि युवाओं को रोजगार गतिविधियों से जोड़ने के लिये राज्य सरकार द्वारा प्रत्येक विकासखण्ड-स्तर पर आईटीआई खोले जाएंगे। श्री जोशी ने पॉलीटेक्निकल कॉलेज में कम्प्यूटर साइंस, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं टेलीकम्युनिकेशन के 2 नये कोर्स आगामी सत्र से प्रारम्भ करने तथा छात्र-छात्राओं के लिये 50-50 सीटर 2 छात्रावास निर्माण कराने की घोषणा की। पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक कल्याण विमुक्त-घुमक्कड़ एवं अर्द्ध-घुमक्कड़ जनजाति कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती ललिता यादव ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्री रविराज सिंह यादव, विधायक श्री मुकेश नायक, एवं श्री महेन्द्र सिंह बागरी, बुंदेलखण्ड विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री महेन्द्र प्रताप सिंह, सहित बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित थे।
ऐशबाग माध्यमिक कन्या स्कूल में स्मार्ट क्लास शुरू होगी
2 February 2018
सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने शासकीय कन्या माध्यमिक शाला बाग फरहत अफजा के नवीन भवन का लोकार्पण किया। उन्होंने समारोह में कहा कि शासकीय शालाओं के भवन, खेल मैदान और परिसर को विकसित करने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। विद्यालयों में डिजीटल टेक्नोलॉजी के माध्यम से एडवांस टीचिंग लर्निग के आधार पर स्मार्ट क्लासेस भी शुरू कराई जा रही है। ऐशबाग कन्या स्कूल में जल्दी ही स्मार्ट क्लास शुरू की जाएगी। राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि कन्या माध्यमिक शाला बाग फरहत अफजा में 8 कक्ष के नवीन भवन की जरूरत थी। इस हिसाब से 30 लाख रूपये लागत से भवन का निर्माण करवाया गया है। कार्यक्रम में पार्षद और जोन अध्यक्ष श्रीमती लक्ष्मी गुप्ता, श्री विमलेश ठाकुर, श्री नितिन पाठक और श्री मुकेश साहू सहित बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक, विद्यालय स्टाफ और छात्राएँ मौजूद थीं
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का विद्यार्थियों से प्रेरणा संवाद 3 फरवरी को
2 February 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 3 फरवरी को सुबह 11 बजे से शासकीय मॉडल स्कूल, टी.टी. नगर भोपाल में विद्यार्थियों से प्रेरणा संवाद करेंगे। श्री चौहान विद्यार्थियों को बेहतर परीक्षा परिणाम देने के लिये प्रेरित करेंगे। प्रेरणा संवाद में कक्षा 10वीं, 11वीं और 12वीं के विद्यार्थी शामिल होंगे। इसके पहले 15 से 30 जनवरी तक सभी जिलों के स्कूलों में प्रेरणा संवाद हो चुका है। मुख्यमंत्री श्री चौहान प्रेरणा संवाद में मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना और प्रतिभाशाली विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना सहित अन्य योजनाओं के संबंध में विद्यार्थियों से चर्चा करेंगे। श्री चौहान आगामी परीक्षाओं के दौरान तनाव रहित समय प्रबंधन और जीवन में सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ने के टिप्स भी देंगे। प्रेरणा संवाद का दूरदर्शन मध्यप्रदेश और आकाशवाणी पर सीधा प्रसारण किया जायेगा।
विमर्श पोर्टल एवं कॅरियर मोबाइल एप का शुभारंभ मुख्यमंत्री श्री चौहान प्रेरणा संवाद में एम.पी. कॅरियर मोबाइल एप और विमर्श पोर्टल सहित अन्य योजनाओं का शुभारंभ करेंगे। एम.पी. कॅरियर मोबाइल एप विद्यार्थियों की अभिरुचि के परीक्षण के लिये तैयार किया गया है। इससे विद्यार्थी आगे की पढ़ाई किस विषय में करें, इस संबंध में जान सकेंगे। विद्यार्थियों की अभिरुचि परीक्षण रिपोर्ट के आधार पर पालकों एवं विद्यार्थियों की काउंसिलिंग भी की जायेगी। कक्षा 10वीं के विद्यार्थियों का अभिरुचि परीक्षण फरवरी में होगा।
विमर्श पोर्टल विद्यार्थियों, शिक्षकों एवं स्कूलों को अकादमिक दृष्टि से सुदृढ़ बनाने के लिये विमर्श पोर्टल तैयार किया गया है। इस पोर्टल के माध्यम से विद्यार्थी अपनी जिज्ञासाओं और समस्याओं को साझा कर समाधान प्राप्त कर सकेंगे। पोर्टल पर विद्यार्थियों के लिये महत्वपूर्ण विषयों के वीडियो, मेरिट में आने वाले विद्यार्थियों की उत्तर-पुस्तिकाएँ, विगत वर्षों के प्रश्न-पत्र और मॉडल उत्तर उपलब्ध रहेंगे। इनसे विद्यार्थी किसी भी विषय-वस्तु को आसानी से समझ सकेंगे। शिक्षकों द्वारा किये जा रहे नवाचारों एवं अध्यापन में आ रही समस्याओं को चिन्हित कर पोर्टल पर विशेषज्ञों से साझा किया जा सकेगा। स्कूल अपना स्व-मूल्यांकन प्रति माह करेंगे। इसमें मूल्यांकन और परि-सम्पत्तियों की तुलना में छात्रों के गुणात्मक विकास को प्राथमिकता दी गई है। वर्ष में दो बार इसका बाह्य मूल्यांकन भी करवाया जायेगा।

गरीबों और किसानों के कल्याण का है केन्द्रीय बजट : मुख्यमंत्री श्री चौहान
1 February 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि संसद में आज प्रस्तुत केन्द्रीय बजट गरीबों और किसानों के कल्याण का बजट है। यह भारत के आम आदमी को राहत देने वाला बजट है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ मंत्रालय में बजट पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह बजट प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नये भारत के निर्माण के सपने को साकार करने वाला है। यह बजट गरीबी दूर करने और रोजगार के अवसर सृजित करने वाला क्रांतिकारी बजट है। किसानों और गरीबों के लिये बजट में अभूतपूर्व कदम उठाये गये हैं। इसमें किसानों की आय को दोगुना करने के उपाय हैं। यह बजट ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने वाला है। उन्होंने कहा कि अर्थ-व्यवस्था के क्षेत्र में प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा उठाये गये कड़े कदमों के सुपरिणाम सामने आ रहे हैं। इस बजट से भारत की तेजी से बढ़ती अर्थ-व्यवस्था में और तेजी आयेगी। श्री चौहान ने कहा कि इस बजट में गरीब कल्याण एजेंडे का ध्यान रखा गया है। बजट में ग्रामीण क्षेत्र में एक साल में गरीबों के लिये एक करोड़ मकान बनाने की बात कही गई है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में क्रांतिकारी फैसला लिया गया है। इसके तहत दस करोड़ गरीब परिवारों के पाँच लाख रूपये तक के इलाज का खर्च सरकार वहन करेगी। प्रत्येक तीन संसदीय क्षेत्रों में एक मेडिकल कॉलेज की घोषणा भी की गई है। बजट में शिक्षा के क्षेत्र में क्रांतिकारी पहल की गई है। उज्जवला योजना के माध्यम से आठ करोड़ गरीब महिलाओं को धुएँ से मुक्ति मिलेगी। कृषि के क्षेत्र में लागत मूल्य में 50 प्रतिशत लाभ जोड़कर खरीफ और रबी में समर्थन मूल्य का निर्धारण तथा कृषि क्षेत्र में दस लाख करोड़ रूपये कर्ज की व्यवस्था की गई है। ग्रामीण अधोसंरचना के लिये 14 लाख करोड़ रूपये की व्यवस्था की गई है इससे ग्रामीण क्षेत्र में बदलाव आयेगा। अधोसंरचना क्षेत्र में निवेश से रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। सिंचाई के क्षेत्र में माइक्रो सिंचाई पर जोर देते हुये सूक्ष्म सिंचाई कोष बनाने की व्यवस्था की गई है। बांस मिशन से भी रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। सौभाग्य योजना के अंतर्गत 4 करोड़ गरीबों के घरों में नि:शुल्क बिजली पहुँचायी जायेगी। अनुसूचित जाति-जनजाति के लिये बजट में 20 प्रतिशत की वृद्धि की गई है। यह कमजोर वर्गों के उत्थान के लिये महत्वपूर्ण है। रेल्वे के विस्तार के लिये एक सौ 48 लाख करोड़ रूपये की राशि खर्च की जायेगी। ढ़ाई लाख गांव ब्रॉडबैंड से जोड़े जायेंगे। दस प्रमुख स्थलों को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा। एमएसएमई के ऋण के लिये 3 हजार 794 करोड़ रूपये की व्यवस्था की गई है, इससे रोजगार बढ़ेंगे। कुल मिलाकर इस बजट में गरीबी दूर करने और रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिये क्रांतिकारी पहल की गई है।
केन्द्रीय बजट से गाँवों और किसानों की आर्थिक स्थिति और अधिक मजबूत होगी
1 February 2018
वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने आज संसद में प्रस्तुत केन्द्रीय बजट को किसान और ग्रामीण हितैषी बताया है। उन्होंने कहा है कि प्रस्तुत बजट से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के महत्वाकांक्षी कार्यक्रम को तेजी से पूरा किया जा सकेगा। वित्त मंत्री श्री मलैया ने रबी फसलों की तरह खरीफ फसलों की एमएसपी को उत्पादन लागत से डेढ़ गुना किये जाने के निर्णय को स्वागत योग्य बताया है। इसी तरह किसानों के हितों का ख्याल रखते हुए कृषि क्षेत्र में संस्थागत ऋण को 11 लाख करोड़ रूपये तक किये जाने, छोटे और सीमांत किसानों के हितों को देखते हुए देश के 22 हजार ग्रामीण हॉटों को कृषि बाजार के रूप में विकसित करने, मत्स्य और पशु-पालन को बढ़ावा देने के लिये 10 हजार करोड़ रुपये के 2 नये कोष का गठन किये जाने का निर्णय किसानों की आमदनी बढ़ाने में महत्वपूर्ण साबित होगा। महिलाओं के सशक्तिकरण की चर्चा करते हुए वित्त मंत्री श्री मलैया ने कहा कि महिलाओं के स्व-सहायता समूह को दी जाने वाली ऋण राशि को बढ़ाकर 75 हजार करोड़ रुपये करने से ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएँ अधिक संख्या में आत्म-निर्भर हो सकेंगी। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में वर्ष 2019 तक एक करोड़ से ज्यादा आवास का निर्माण किया जाना और उज्जवला योजना में 8 करोड़ गरीब महिलाओं को नि:शुल्क घरेलू एलपीजी कनेक्शन दिये जाने का निर्णय भी महत्वपूर्ण है। वित्त मंत्री श्री मलैया ने स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार, रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिये वर्ष 2018-19 में मुद्रा के अंतर्गत 3 लाख करोड़ रुपये के ऋण वितरण और 70 लाख रोजगार के सृजन के निर्णय को भी महत्वपूर्ण बताया है। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कहा है कि अधोसंरचना के विकास के लिये भी बजट में पर्याप्त प्रावधान किये गये हैं।
आम बजट से उद्योगपतियों तथा कारोबारियों को मिलेगी राहत : उद्योग मंत्री श्री शुक्ल
1 February 2018
वाणिज्य, उद्योग, और रोजगार, एवं खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने संसद में प्रस्तुत आम बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि उद्योगपतियों तथा कारोबारियों को राहत देने वाला बजट है। उन्होंने कहा कि आम बजट देश की अर्थ-व्यवस्था, विशेषकर ग्रामीण अर्थ-व्यवस्था को मजूबत करने के साथ ही बेरोजगारी दूर करने में मददगार साबित होगा। श्री शुक्ल ने कहा कि बजट में टेक्सटाइल सेक्टर के लिए बजट राशि को बढ़ाया जाना स्वागत योग्य है। उन्होंने कहा कि आम बजट में समाज के हर वर्ग का ध्यान रखा गया है। उद्योग मंत्री ने कहा कि बजट को विकास उन्मुखी होने के साथ ही देश की अर्थ-व्यवस्था को और अधिक सुदृढ़ बनाने में सहायक होंगा। श्री शुक्ल ने बजट को देश में तीव्र विकास, विशेषकर युवाओं तथा कमजोर तबकों में शक्ति का संचार करने वाला बताया है। उन्होंने कहा है कि आम बजट का देश की अर्थ-व्यवस्था पर अच्छा असर पड़ेगा
सभी वर्गों के कल्याण का जन-हितैषी बजट है : राज्य मंत्री श्री सारंग
1 February 2018
सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने केन्द्रीय बजट-2018 को सभी वर्गों के कल्याण का जन-हितैषी बजट बताया है। श्री सारंग ने कहा है ‍िक यह बजट खेती को लाभ का धंधा बनाने और किसानों के चेहरों पर खुशियां लाने वाला है। बजट में सभी वर्गों की तरक्की के लिए प्रावधान किये गये हैं। बजट में महिलाओं, युवाओं सहित सभी वर्गों के कल्याण के लिए विशेष प्रावधान हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और वित्त मंत्री श्री अरूण जेटली को जनहितैषी केन्द्रीय बजट के लिए बधाई दी।
बजट में स्किल केन्द्र खोलने का निर्णय सराहनीय : कौशल विकास राज्य मंत्री श्री जोशी
1 February 2018
तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने कहा है कि केन्द्रीय बजट में हर जिले में स्किल केन्द्र खोलने का निर्णय सराहनीय कदम है। इससे युवाओं के कौशल उन्नयन में मदद मिलेगी।
किसानोन्मुखी है केन्द्रीय बजट : राजस्व मंत्री श्री गुप्ता
1 February 2018
राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा है कि केन्द्रीय बजट किसानोन्मुखी है। उन्होंने कहा है कि बजट में कृषि उत्पादन बढ़ाने और कृषकों के लिये किये गये प्रावधान किसानों की आय को दोगुनी करने में सहायक होंगे।
अन्त्योदय को साकार करेगा केन्द्रीय बजट - जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र
1 February 2018
जनसम्पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने संसद में पेश किए गए केन्द्रीय बजट को मध्यम और निर्धन वर्ग के लिए लाभकारी बताया है। डॉ.मिश्र ने कहा है कि केन्द्रीय बजट, सरकार की जनहितकारी नीतियों की वास्तविक अभिव्यक्ति है। इस बजट में अन्त्योदय पर विशेष ध्यान दिया गया है जो सरकार का प्रमुख लक्ष्य भी है। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा है कि केन्द्रीय बजट वर्ष-2018-19 के माध्यम से कृषि क्षेत्र को सशक्त बनाने के साथ ही प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना, जन-औषधि केन्द्रों को और कारगर बनाने, उज्जवला और सौभाग्य योजनाओं के माध्यम से नागरिकों को अधिक सुविधाएं प्रदान करने, प्रधानमंत्री आवास योजना में गरीबों को मकान उपलब्ध करवाने, मध्यम वर्ग के लिए भी आवास योजना में कम ब्याज दर की व्यवस्था, नया ग्रामीण बाजार बनाने के एलान और पासपोर्ट तैयार करने जैसे कार्यों को सीधे जनता के पक्ष में लागू करने की व्यवस्था की गई है। डॉ. मिश्र ने कहा है कि किसानों की आमदनी को आने वाले चार वर्ष में दोगुना करने के लिए आवश्यक व्यवस्थाएं केन्द्र सरकार द्वारा की जा रही हैं। उन्होंने कहा है कि बजट में समर्थन मूल्य में बढ़ोत्तरी, मेगा फूड पार्क निर्माण, किसानों के लिए पशुपालक कार्ड, बांस मिशन के माध्यम से नवीन गतिविधियों की शुरूआत, खेती के लिए कर्ज की बेहतर व्यवस्था और सब्जी उत्पादन के लिए आवश्यक वित्त व्यवस्था का ध्यान रखा गया है। यह बजट गांव के विकास की रफ्तार को तेज करने वाला बजट है। जनसम्पर्क मंत्री ने कल्याणकारी केन्द्रीय बजट के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को बधाई दी है।
किसान कल्याण और जनहितैषी उद्देश्यों से परिपूर्ण है केन्द्रीय बजट: मंत्री श्रीमती माया सिंह
1 February 2018
नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने केन्द्र सरकार के आम बजट को किसान कल्याण और जनहितैषी उद्देश्यों से परिपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा है कि बजट में समाज के प्रत्येक वर्ग के हितों को ध्यान में रखते हुए शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार के साथ-साथ अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति वर्ग के कल्याण के लिए अंत्योदय की मूल धारणा को ध्यान में रखा गया है। मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा है कि केन्द्रीय बजट में स्वच्छ भारत अभियान, अमृत योजना और स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट को सुदृढ़ बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। श्रीमती सिंह ने कहा है कि वित्त मंत्री श्री अरूण जेटली ने 'बेटी-बचाओ-बेटी-पढ़ाओ' अभियान को जारी रखते हुए महिला सशक्तीकरण को बजट के महत्वपूर्ण अंशों में शामिल कर अनुकरणीय कार्य किया है।
मंत्री श्री गोपाल भार्गव से चर्चा पश्चात दृष्टिहीन बेरोजगार संघर्ष समिति का आंदोलन समाप्त
31 January 2018
सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने दृष्टिहीन बेरोजगार संघर्ष समिति द्वारा 23 सूत्रीय मांगों को लेकर भोपाल में आंदोलनरत दृष्टिहीनों के प्रतिनिधि मंडल से निवास पर उनकी मांगों के संबंध में विस्तृत चर्चा की। मंत्री श्री भार्गव द्वारा मांगों का शीघ्र निराकरण करने का आश्वासन देने पर दृष्टिहीन बेरोजगार संघर्ष समिति ने अपना आंदोलन समाप्त कर दिया है। श्री भार्गव ने प्रतिनिधि मण्डल से चर्चा के दौरान कहा कि प्रदेश में दिव्यांग शिक्षकों की भर्ती शीघ्र की जायेगी। प्रदेश के सभी विभागों में दिव्यांगों के तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी के पदों की भर्ती तत्काल की जायेगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान भी वीडियो कान्फ्रेन्स के माध्यम से सभी जिला कलेक्‍टरों को निर्देशित करेंगे कि जिलों में दिव्यांगों के तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी के पदों की भर्ती शीघ्र की जाये। उन्होंने कहा कि नि:शक्तजनों के लिए चिन्हाकिंत पदों पर नियुक्ति के लिए जून 2018 तक की समयावधि नियत की गई है। श्री भार्गव ने कहा कि जिन अधिकारियों द्वारा नियत समयावधि में नि:शक्तजनों की भर्ती की कार्यवाही नहीं की जायेगी, उनके विरूद्ध यथोचित कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि समस्त जिलों में दिव्यांगजनों के विद्यालय एवं होस्टल के लिए तीन-तीन करोड़ रुपये की राशि उपलब्ध करवाई जा रही है। इस राशि से दिव्यांग भाई-बहनों को शिक्षा ग्रहण करने में कोई परेशानी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि अगले बजट सत्र में दिव्यांगों के उत्थान के लिए प्रदेश सरकार ने 450 करोड़ रूपये का बजट प्रावधान किया है। मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि भोपाल में दिव्यांगों के लिये 100 सीटर छात्रावास जुलाई सत्र से संचालित किया जायेगा। इस छात्रावास में 50 सीट दिव्यांग भाईयों के लिए एवं 50 सीट दिव्यांग बहनों के लिए होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार दिव्यांगजनों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। इस अवसर पर सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव श्री अशोक शाह, भोपाल संभाग के आयुक्त श्री अजात शत्रु श्रीवास्तव, विभागीय अधिकारी तथा जिला एवं पुलिस प्रशासन के अधिकारी भी उपस्थित थे।
मंत्रि-परिषद ने आबकारी नीति वर्ष 2018-19 को दी मंजूरी
31 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में बुधवार 31 जनवरी को हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में वर्ष 2018-19 की आबकारी नीति को मंजूरी दी गई । निर्णय अनुसार 01 अप्रेल 2018 से प्रदेश के गर्ल्स स्कूल, गर्ल्स कॉलेज, वैध गर्ल्स हॉस्टल/छात्रावास एवं वैध धार्मिक स्थलों से 50 मीटर की दूरी तक अवस्थित मदिरा दुकानों को बंद कर दिया जाएगा। राज्य की देशी/विदेशी मदिरा दुकानों में संचालित 149 अहाते और शॉप-बार एक अप्रैल से बंद कर दिये जायेंगे। मंत्रि-परिषद की बैठक में मध्यप्रदेश में पहली बार सुनिश्चित क्षेत्रों में उपभोग नियंत्रण नीति (Dry Zone Polcy) प्रभावशील करने का निर्णय लिया गया है। इसके अन्तर्गत पवित्र नदियाँ, स्कूल ,कॉलेज,धार्मिक स्थल एवं गर्ल्स हॉस्टल के निकटवर्ती क्षेत्र को Dry zone घोषित किया जाकर वहाँ मदिरापान पूणत: प्रतिबंधित रहेगा । ऐसे स्थानों को अधिसूचित किया जायेगा। मदिरा पीकर यदि किसी व्यक्ति द्वारा कोई अपराध घटित किया जाता है, तो ऐसे व्यक्ति को मदिरापान का लाभ ना दिया जाकर वर्धित दंड शास्ति के प्रावधान भारतीय दंड विधान संहिता में किये जाने के लिए गृह विभाग से अनुशंसा की जायेगी। आबकारी अपराधों की पुनरावृत्ति करने वाले आदतन/कुख्यात अपराधियों को कलेक्टर द्वारा 6 माह की अवधि के लिए निष्कासन करने का अधिकार मध्यप्रदेश आबकारी अधिनियम में आवश्यक संशोधन कर दिया जायेगा। बैठक में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ रही शराब उपभोग की प्रवृति पर नियंत्रण कायम करने, लोगों में जागरूकता पैदा करने एवं अवैध मदिरा निर्माण और विक्रय में संलग्न व्यक्तियों एवं स्थानों की पहचान कर आबकारी एवं पुलिस विभाग को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए सूचित किये जाने के दृष्टिकोण से ग्राम स्तर, विकास खण्ड स्तर एवं जिला स्तर पर समितियाँ गठित करने का निर्णय लिया गया है। मदिरा दुकानों के निष्पादन की व्यवस्था मंत्रि-परिषद ने आगामी वर्ष 2018-19 के लिए देशी/विदेशी मदिरा दुकानों का निष्पादन प्रचलित व्यवस्था वर्ष 2017-18 अनुसार सर्वप्रथम नवीनीकरण के माध्यम से किये जाने का निर्णय लिया है। नवीनीकरण की प्रक्रिया के पश्चात समान आरक्षित मूल्य पर सार्वजनिक रूप से लाटरी आवेदन पत्र भी आमंत्रित किये जाकर समग्र में मदिरा दुकानों का निष्पादन किया जायेगा। नवीनीकरण/लाटरी आवेदन के पश्चात निष्पादन से शेष रही मदिरा दुकानों का निराकरण ई-टेण्डर के माध्यम से ऑन लाईन व्यवस्था अन्तर्गत किये जाने का निर्णय लिया गया है। बैठक में मदिरा दुकानों के आरक्षित मूल्य में 15 प्रतिशत की वृद्धि कर ही वर्ष 2018-19 के लिए निष्पादन की कार्रवाई करने का निर्णय लिया गया है। अवैध मदिरा की बिक्री पर रोकथाम मंत्रि-परिषद की बैठक में अवैध मदिरा की रोकथाम के लिए अनेक निर्णय लिये गये । मदिरा की बोतलों पर विशेष सेक्यूरिटी होलोग्राम चस्पा होंगे, किसी भी उपभोक्ता द्वारा खरीदी गई देशी/विदेशी मदिरा की बोतल पर चस्पा होलोग्राम का नम्बर विर्निदिष्ट मोबाईल नम्बर 562634500 पर भेजने से मदिरा की वैधता की जाँच उपभोक्ता को अपने मोबाईल के माध्यम से प्राप्त हो सकेगी। इसी प्रकार मदिरा का परिवहन, निर्माणी ईकाइयों से भांडागारों तथा भांडागारों से मदिरा दुकान तक के लिए परिवहन परमिट, अनापत्ति प्रमाण-पत्र आदि की व्यवस्था ऑन लाईन किये जाने का निर्णय लिया गया। भारत-माता परिसर निर्माण मंत्रि-परिषद की बैठक में भारतमाता परिसर निर्माण के लिए नगर पालिका निगम भोपाल को भूमि आवंटन की स्वीकृति प्रदान की गई। भारतमाता परिसर के निर्माण के लिए नगर निगम भोपाल को कुल 5.046 हेक्टेयर भूमि का आवंटन किया गया। यह भूमि ग्राम सिंगारचोली, तहसील हुजूर, जिला भोपाल के खसरा क्रमांक 64 में स्थित है। बैठक में नेवल सेलिंग नोड की स्थापना के लिए भारत सरकार, रक्षा विभाग को ग्राम कोहेफिजा (खानूगाँव) तहसील हुजूर, जिला भोपाल में 0.202 हेक्टेयर भूमि आवंटन की स्वीकृति प्रदान की गई। नगरीय निकायों को सशक्त बनाने का निर्णय मंत्रि-परिषद द्वारा नगरीय निकायों को सशक्त बनाने का निर्णय लेते हुऐ नगरीय निकायों को अपने सीमा क्षेत्र में होने वाले किसी भी प्रकार के मनोरंजन, मनोविनोद तथा आमोद-प्रमोद पर कर लगाने का अधिकार दिया गया है। इससे नगरीय निकायों को आय प्राप्त होगी। अनुसूचित जाति एवं जन जाति कल्याण के निर्णय मंत्रि-परिषद की बैठक में विदेशों में शिक्षा प्राप्त करने के लिए अनुसूचित जनजाति के अभ्यार्थियों को छात्रवृत्ति योजना में आय सीमा 6 लाख रूपये वार्षिक से बढ़ाकर 10 लाख रूपये वार्षिक किये जाने की स्वीकृति प्रदान की गई। मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना को वर्ष 2017-18 से वर्ष 2019-20 तक के संचालन की निरंतरता प्रदान किये जाने का निर्णय लिया गया। मंत्रि-परिषद द्वारा अनुसूचित जाति विकास के कार्यालय भवनों के निर्माण/विदयुतिकरण योजना को वर्ष 2017-18 से 2019-20 के संचालन के लिए निरंतरता की स्वीकृति प्रदान की। गौण खनिज नियम में संशोधन मंत्रि-परिषद द्ववारा मध्यप्रदेश गौण खनिज नियम, 1996 में संशोधन करने का निर्णय लिया गया। वर्तमान में परम्परागत साधनों से ईंट/कवेलू आदि निर्माण के लिए अनुवांशिक कुम्हारों, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं इनकी सहकारी समितियों को उत्खनि-पट्टा प्राप्त करने एवं रॉयल्टी से छूट प्राप्त थी। संशोधन के पश्चात अब इनको यांत्रिक क्रियाओं द्वारा ईंट/कवेलू आदि के निर्माण पर भी छूट प्राप्त होगी। अन्य निर्णय बैठक में नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के अंर्तगत सिंचाई योजनाओं के त्वरित क्रियान्वयन के लिए नर्मदा बेसिन प्रोजेक्टस कंपनी लिमिटेड के माध्यम से वित्त पोषित करने के निर्णय का अनुमोदन किया गया। मंत्रि-परिषद द्वारा जिला सागर के खुरई में नवीन ग्रामीण थाने की स्थापना की स्वीकृति भी प्रदान की गई।
प्रदेश की राजस्व प्राप्ति का 70 प्रतिशत भाग कैशलेस
31 January 2018
मध्यप्रदेश में राज्य सरकार द्वारा सभी प्रकार के भुगतान कैशलेस माध्यम से सुनिश्चित किये जा रहे हैं। अब राज्य की राजस्व प्राप्तियों का लगभग 70 प्रतिशत भाग कैशलेस तरीके से प्राप्त हो रहा है। केन्द्र सरकार की मंशानुसार प्रदेश में कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिये आय प्रमाण-पत्र, जाति और जन्म तथा मृत्यु प्रमाण-पत्र जैसी सुविधाओं के लिये लोक सेवा केन्द्रों में ली जाने वाली फीस का भुगतान कैशलेस ट्रांजेक्शन के माध्यम से किया जा रहा है। राज्य सरकार ने सभी विद्यालयों और महाविद्यालयों में फीस का भुगतान भी कैशलेस माध्यम से करने की सुविधा प्रदान की है। राज्य में वित्तीय साक्षरता लाने के लिये ग्रामीणों को ग्रामसभा के माध्यम से विशेष ट्रेनिंग दी जा रही है। आम आदमी की रोजमर्रा की खरीदी को कैशलेस बनाने के लिये राज्य सरकार ने पीओएस मशीन में वेट टैक्स पर छूट प्रदान की है। इसके साथ ही मर्चेंट एग्रीमेंट पर देय स्टाम्प शुल्क में छूट दी गई है। प्रदेश में केन्द्रीय वित्तीय प्रबंधन और सूचना प्रणाली का विकास किया जा रहा है। इसका विकास होने पर समस्त गतिविधियाँ और जन-सेवा के कार्य पूरी तरह से ऑनलाइन और पेपरलेस हो जायेंगे। इस प्रबंधन एवं सूचना प्रणाली से 8 लाख अधिकारियों, कर्मचारियों और पेंशनरों को लाभ होगा। उनके दावों एवं प्रकरणों का निराकरण समय पर एवं त्वरित गति से किया जा सकेगा।
राजस्व मंत्री श्री गुप्ता द्वारा सामुदायिक भवन का लोकार्पण
31 January 2018
राजस्व,विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और भोपाल विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री ओम यादव ने नया बसेरा में शिव सामुदायिक भवन का लोकार्पण किया। श्री गुप्ता ने कहा कि अब यहाँ रहवासियों को सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यों के लिए घर के पास ही स्थान उपलब्ध हो सकेगा। उन्होंने सामुदायिक भवन की देख-रेख के लिए कमेटी बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने लोगों को शासन की जन-कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी। श्री ओम यादव ने कहा कि सामुदायिक भवन का निर्माण निर्धारित समय-सीमा में करवाया गया है। यह भवन रहवासियों को सौंप दिया गया है। अत: इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी स्थानीय नागरिकों की है। संत रविदास की प्रतिमा पर माल्यार्पण राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने नया बसेरा में संत रविदास की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। श्री गुप्ता संत रविदास जयंती पर निकाली गयी कलश यात्रा में भी शामिल हुए। इस दौरान माटी कला बोर्ड के अघ्यक्ष श्री रामदयाल प्रजापति एवं स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थ
मंत्री श्रीमती माया सिंह का भानपुर खंती डम्पिग क्लोजर के लिए केन्द्र से 39 करोड़ देने का अनुरोध
31 January 2018
नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने नई दिल्ली में केन्द्रीय शहरी विकास, आवासीय एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी से भेंट की। श्रीमती माया सिंह ने शहरी विकास गतिविधियों के लिए भारत सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को दी जाने वाली 2 हजार 434 करोड़ रूपये की राशि शीघ्र जारी किए जाने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा नगरीय विकास गतिविधियों पर प्राथमिकता के साथ समयबद्ध कार्यक्रम के अनुसार कार्य किया जा रहा है। श्रीमती माया सिंह ने भोपाल शहर की डम्पिंग साइड भानपुरी खंती के क्लोजर हेतु 39 करोड़ तथा इंदौर और भोपाल शहर की मेट्रो परियोजनाओं के भारत सरकार के पब्लिक इन्वेस्टमेंट बोर्ड तथा केन्द्रीय मंत्रि-परिषद से अपेक्षित अनुमति शीघ्र प्रदान करने का अनुरोध भी किया है। केन्द्रीय मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी से चर्चा के दौरान श्रीमती माया सिंह ने कहा कि भारत सरकार की शहरी विकास, शहरी आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन योजनाओं के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश द्वारा उल्लेखनीय प्रगति दर्ज करवाई गई है। इसके लिए भारत सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को समय-समय पर प्रशस्ति-पत्र भी प्रदान किया गया है। भारत सरकार के सहयोग से मध्यप्रदेश गत 3 वर्षो में प्रधानमंत्री आवास योजना, अमृत योजना, स्मार्ट सिटी योजना, स्वच्छ भारत मिशन, दीन दयाल डे-एनयूएलएम के क्रियान्वयन में देश के अग्रणी राज्यों की श्रेणी से है। श्रीमती माया सिंह ने कहा मध्यप्रदेश सरकार भोपाल और इंदौर में शीघ्र ही मेट्रो रेल सुविधा को मूर्तरूप प्रदान करना चाहती है। इसी क्रम में 'स्वच्छ भारत मिशन' के अंतर्गत नगरीय क्षेत्रों में डम्प किए गये कचरे के वैज्ञानिक निष्पादन के लिये पृथक से व्यवस्था की जाती है, तो नगरीय निकाय भविष्य में इससे आय अर्जित कर सकेंगे तथा शहरी क्षेत्र की कीमती जमीन भी डम्पिंग ग्राउण्ड से मुक्त होगी। इसी कड़ी में उन्होंने भोपाल के भानपुर खंती डम्पिंग क्लोजर हेतु 39 करोड़ रूपये की राशि शीघ्र प्रदान किए जाने का अनुरोध किया। नगरीय प्रशासन मंत्री ने कहा कि अमृत योजना के तहत वर्ष 2015-16 की 268 करोड़ 82 लाख रूपये तथा वर्ष 2016-17 की 345 करोड़ 12 लाख रूपये की राशि शीघ्र प्रदान करने किए जाने की अपेक्षा है। उन्होंने भारत सरकार द्वारा ऑफिस एडमिनिस्ट्रेशन और ऑफिस एक्सपेंन्स मद में भी लंबित राशि 31 करोड़ 23 लाख रूपये तथा प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के अंतर्गत पूर्व में स्वीकृत राशि में से एक हजार 789 करोड़ रूपये की राशि शीघ्र प्रदान कराये जाने का अनुरोध केन्द्रीय मंत्री से किया। केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री ने की मध्यप्रदेश की प्रगति की प्रशंसा केन्द्रीय शहरी विकास, आवासीय एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी ने नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह से चर्चा के दौरान मध्य प्रदेश में शहरी विकास गतिविधियों के तहत केन्द्र प्रवर्तित योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी सरकार की कार्य प्रणाली की प्रशंसा की।
प्रमुख सचिव पर्यावरण श्री अनुपम राजन द्वारा भानपुर खंती का औचक निरीक्षण
31 January 2018
प्रमुख सचिव पर्यावरण-सह-अध्यक्ष प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड श्री अनुपम राजन ने भोपाल की भानपुर खंती में अचानक लगी आग और उससे वायु प्रदूषण की शिकायत पर बुधवार को अमले के साथ स्थल का औचक निरीक्षण किया। श्री राजन ने कचरा भण्डारण क्षेत्र के चारों ओर तार फेंसिंग अथवा बाउण्ड्री-वॉल निर्माण कराये जाने तथा स्थल की सतत निगरानी के लिये कैमरे लगाने के निर्देश दिये। श्री राजन द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए फायर बिग्रेड की दमकलों से लगातार पानी डालने को कहा गया है। क्षेत्रीय अधिकारी मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा आयुक्त नगर निगम को घटना के सबंध में कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है। भानपुर खंती में आग लगने और उससे वायु प्रदूषण की शिकायत पर श्री राजन के साथ बोर्ड के सदस्य सचिव श्री ए.ए. मिश्रा, क्षेत्रीय अधिकारी भोपाल डॉ. पी.एस. बुंदेला, नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी श्री राकेश शर्मा सहित अन्य अधिकारी-कर्मचारी भी उपस्थित थे।
मीडिया विमर्श के आयोजन में सम्मानित होगें ‘अलाव’ के संपादक रामकुमार कृषक
30 January 2018
भोपाल, 30 जनवरी, 2018। हिंदी की साहित्यिक पत्रकारिता को सम्मानित किए जाने के लिए दिया जाने वाला पं. बृजलाल द्विवेदी अखिल भारतीय साहित्यिक पत्रकारिता सम्मान इस वर्ष ‘अलाव’ (दिल्ली) के संपादक श्री रामकुमार कृषक को दिया जाएगा। सम्मान कार्यक्रम आगामी 4, फरवरी, 2018 को गांधी भवन, भोपाल में दिन में 11 बजे आयोजित किया गया है। मीडिया विमर्श पत्रिका के कार्यकारी संपादक संजय द्विवेदी ने बताया कि आयोजन के मुख्यअतिथि वरिष्ठ पत्रकार डा. हिमांशु द्विवेदी होंगें तथा अध्यक्षता माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बृजकिशोर कुठियाला करेंगे। कार्यक्रम के मुख्यवक्ता प्रख्यात समालोचक डा. विजय बहादुर सिंह रहेंगे। साथ ही डा. सुधीर सक्सेना(संपादकः दुनिया इन दिनों) तथा श्री गिरीश पंकज कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि होगें। श्री रामकुमार कृषक साहित्यिक पत्रकारिता के एक महत्वपूर्ण हस्ताक्षर होने के साथ-साथ देश के जाने-माने संस्कृतिकर्मी,कवि एवं लेखक हैं। 1989 से वे लोकोन्मुख साहित्य चेतना पर केंद्रित महत्वपूर्ण पत्रिका ‘अलाव’ का संपादन कर रहे हैं।पुरस्कार के निर्णायक मंडल में सर्वश्री विश्वनाथ सचदेव, रमेश नैयर, डा. सच्चिदानंद जोशी शामिल हैं। इसके पूर्व यह सम्मान वीणा(इंदौर) के संपादक स्व. श्यामसुंदर व्यास, दस्तावेज(गोरखपुर) के संपादक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी, कथादेश (दिल्ली) के संपादक हरिनारायण, अक्सर (जयपुर) के संपादक डा. हेतु भारद्वाज, सद्भावना दर्पण (रायपुर) के संपादक गिरीश पंकज, व्यंग्य यात्रा (दिल्ली) के संपादक डा. प्रेम जनमेजय,कला समय के संपादक विनय उपाध्याय (भोपाल) संवेद के संपादक किशन कालजयी(दिल्ली) और अक्षरा(भोपाल) के संपादक कैलाशचंद्र पंत को दिया जा चुका है। त्रैमासिक पत्रिका ‘मीडिया विमर्श’ द्वारा प्रारंभ किए गए इस अखिलभारतीय सम्मान के तहत साहित्यिक पत्रकारिता के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान करने वाले संपादक को ग्यारह हजार रूपए, शाल, श्रीफल, प्रतीकचिन्ह और सम्मान पत्र से अलंकृत किया जाता है। कौन हैं रामकुमार कृषकः 1 अक्टूबर, 1943 को अमरोहा (मुरादाबाद-उप्र) के एक गांव गुलड़िया में जन्मे रामकुमार कृषक ने मेरठ विश्वविद्यालय से हिंदी में एमए की उपाधि और प्रयाग विवि से साहित्यरत्न की उपाधि प्राप्त की। दिल्ली में लंबे समय पत्रकारिता की। अध्यापन और लेखन करते हुए आठवें दशक के प्रमुख प्रगतिशील-जनवादी कवियों में शुमार हुए। गजल और गीत विधाओं में विशेष योगदान के साथ-साथ कहानी, संस्मरण, साक्षात्कार और आलोचना आदि गद्य विधाओं में भी उल्लेखनीय स्थान। सात कविता संग्रहों के अलावा विविध विधाओं में एक दर्जन से अधिक किताबें प्रकाशित।1978 से 1992 तक राजकमल प्रकाशन में संपादक और संपादकीय प्रमुख रहे। 1989 से अलाव पत्रिका के संपादक।
सहकारिता राज्य मंत्री श्री सारंग ने करोंद में निकाली तिरंगा यात्रा
30 January 2018
सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने सैकड़ों बाइकों के साथ करोंद में तिरंगा यात्रा निकाली। तिरंगा यात्रा में ट्राईकलर पगड़ी और हाथों में तिरंगा थामे सभी वर्गों, समुदाय के लोगों ने भाग लिया। तिरंगा यात्रा में तीन कतारों में बाईक सवार पूरी तरह अनुशासित बद्ध होकर चल रहे थे। राज्य मंत्री श्री सारंग मोटर साईकिल पर सवार होकर पूरी यात्रा में चले। तिरंगा यात्रा छोला मंदिर से प्रारंभ होकर रसधाम गार्डन पर सम्पन्न हुई| पूरे यात्रा मार्ग में नागरिकों ने मानव श्रंखला बनाकर पुष्पवर्षा से यात्रा का स्वागत किया l गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित तिरंगा यात्रा में 69 स्वागत मंच बनाए गए। करोंद क्षेत्र के 5 वार्डों से कार्यकर्ताओं ने तिरंगा यात्रा में 5 वाहिनी के रूप में भाग लिया। श्री सारंग स्वयं तिरंगा लेकर छोला मंदिर से रसधाम गार्डन तक पूरी यात्रा में शामिल रहे। राज्य मंत्री ने कहा कि राष्ट्र प्रेम, देश भक्ति की भावना जगाने और निष्ठावान अनुशासित, समर्पित नागरिक के मूल्यों की प्रेरणा देने के लिए तिरंगा यात्रा का भव्यता और उत्साह के साथ तिरंगा यात्राओं का आयोजन हुआ। पहली यात्रा 25 जनवरी को सुभाष नगर और स्टेशन मंडल की निकाली जा चुकी है। 30 जनवरी को करोंद मंडल की तिरंगा यात्रा निकाली गयी है।
मस्याखेट पारिश्रमिक भुगतान समय पर नहीं करने पर दण्ड ब्याज लगेगा
30 January 2018
मछुआ कल्याण एवं मत्स्य विकास मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य की अध्यक्षता में मत्स्य महासंघ की काम-काज समिति की बैठक में निर्णय लिया गया कि यदि अनुबंधग्रहिता द्वारा मत्स्याखेट पारिश्रमिक राशि का भुगतान समय पर नहीं किया जाता है तो उस दशा में सप्ताह के अंत से देय राशि पर 3 प्रतिशत मासिक की दर से दण्ड ब्याज की वसूली महासंघ द्वारा की जायेगी। महासंघ द्वारा इस राशि का उपयोग मछुओं के कल्याण के लिये किया जायेगा। बैठक में तय किया गया कि निविदा प्रक्रिया में लेटर ऑफ ऑफर जारी करने के बाद यदि संबंधित अनुबंधग्रहिता अनुबंध निष्पादन के लिये उपस्थित नहीं होता है तो ऐसे निविदाकारों को एक वर्ष की अवधि के लिये काली-सूची में डाला जायेगा। इसके कारण वे आगामी एक वर्ष की अवधि में महासंघ के किसी भी जलाशय की निविदा कार्यवाही में भाग नहीं ले सकेंगे। बैठक में जानकारी दी गई कि जनश्री बीमा योजना के स्थान पर अब प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना का लाभ दिया जायेगा। इसमें सामान्य मृत्यु पर 2 लाख रुपये तथा दुर्घटना से मृत्यु पर मछुआ परिवार को दो लाख की अतिरिक्त बीमा राशि उपलब्ध करवाई जाएगी। बैठक में मत्स्य महासंघ के जलाशयों से आखेटित मत्स्य विक्रय के लिये निष्पादित अनुबंध एवं अन्य अनुबंधों से संबंधित आर्बिट्रेशन प्रकरणों में विवाद की स्थिति में म.प्र. सहकारी सोसायटी अधिनियम-1960 की धारा-64 के प्रावधान अनुसार आर्बिट्रेशन की कार्यवाही करने का निर्णय लिया गया। इसके अतिरिक्त मत्स्य महासंघ की प्रचलित मत्स्य बीज संचय नीति में परिवर्तन, नील-क्रांति योजना के तहत आवंटित राशि से केजो का निर्माण, नौका क्रय एवं बर्फगार निर्माण, हलाली जलाशय में चीतल प्रजाति के मत्स्य बीज के संचयन की प्रगति, मत्स्य महासंघ कर्मियों को 3 प्रतिशत महँगाई भत्ते की स्वीकृति, प्रोत्साहन राशि, महासंघ कर्मियों को म.प्र. वेतन पुनरीक्षण लागू तथा महिला कर्मियों को प्रसूति अवकाश नब्बे दिवस के स्थान पर 180 दिवस करने पर भी स्वीकृति प्रदान की गई। बैठक में अपर प्रमुख सचिव श्री विनोद सेमवाल, मत्स्य महासंघ के संचालक श्री महेन्द्र धाकड़ एवं संचालक श्री ओ.पी. सक्सेना उपस्थित थे। राज्य-स्तरीय मछुआ कार्यशाला मछुआ कल्याण एवं मत्स्य विकास मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने राज्य-स्तरीय मछुआ कार्यशाला का शुभारंभ करते हुए कहा कि मछुआरों के उत्थान के लिये अप्रैल माह में मछुआ महा-पंचायत का आयोजन किया जायेगा। कार्यशाला का आयोजन मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विकास एवं मछुआ कल्याण बोर्ड के संयुक्त तत्वावधान में हुआ। मत्स्य-पालन मंत्री श्री आर्य ने कहा कि इस कार्यशाला के माध्यम से मछुआरों के हित संरक्षण और चलित योजनाओं के सुदृढ़ीकरण के लिये प्राप्त सुझावों पर विचार-विमर्श कर सही निर्णय लिया जायेगा। इस अवसर पर मंत्री श्री आर्य ने मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विकास विभाग की वेबसाइट का लोकार्पण किया तथा संचालनालय को ISO अवार्ड प्रमाण-पत्र भी प्रदान किये। कार्यशाला में म.प्र. मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. कैलाश विनय, उपाध्यक्ष श्री सीताराम बाथम और श्री राजू बाथम तथा बड़ी संख्या में सभी जिलों के मछुआरा प्रतिनिधि उपस्थित थे।
पंचायतों का मूल अनुदान युक्ति-संगत बनाने की आवश्यकता - मंत्री श्री भार्गव
30 January 2018
पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने केन्द्र सरकार से आग्रह किया है कि पंचायतों को मिलने वाले मूल अनुदान को युक्ति-संगत बनाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा है कि ऐसा करने से छोटी पंचायतों को अधोसंरचना निर्माण के लिये अधिक राशि प्राप्त हो सकेगी। श्री भार्गव नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित राष्ट्रीय पंचायती राज सम्मेलन में मध्यप्रदेश के संदर्भ में चर्चा कर रहे थे। राष्ट्रीय पंचायती राज सम्मेलन की अध्यक्षता केन्द्रीय पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने की। सम्मेलन में विभिन्न राज्यों के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री तथा राज्यों के वित्त आयोग के अध्यक्षों ने भाग लिया। सम्मेलन के आयोजन का मुख्य उद्देश्य केन्द्र शासन को राजस्व प्राप्ति उपरांत राज्यों को दी जाने वाली राशि के मानक और वितरण के प्रभावी मापदण्ड निर्धारित करना रहा। राष्ट्रीय सम्मेलन में बताया गया कि भारत शासन द्वारा 15वाँ वित्त आयोग गठित किया जा चुका है। इस आयोग की अनुशंसाएँ वर्ष 2020 से क्रियान्वित की जायेंगी। सम्मेलन में जानकारी दी गयी कि 14वें वित्त आयोग में मध्यप्रदेश की पंचायतों को मूल अनुदान के रूप में 12,200 करोड़ रुपये तथा परफार्मेंस ग्रांट मद में 1355 करोड़ रुपये की राशि प्रावधानित रही है। यह राशि सीधी ग्राम पंचायतों द्वारा व्यय की जाती है।
गांधी जी के जीवन दर्शन से सीख लेकर चुनौतियों का सामना करें- राज्यपाल
30 January 2018
राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि गांधीजी का संपूर्ण जीवन एक आंदोलन की तरह था। उन्होंने कहा कि आज हमारी संस्कृति और परम्पराओं को बचाने की चुनौती है। इन चुनौतियों का सामना हमें महात्मा गांधी के जीवन दर्शन से सीख लेकर और आदर्शों पर चलकर ही करना है। राज्यपाल ने गांधी भवन में महात्मा गांधी की पुण्य तिथि पर आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा को संबोधित करते हुए यह बात कही। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने महात्मा गांधी की मूर्ति पर सूत की माला पहनाकर श्रद्धांजलि दी और पुष्पांजलि अर्पित की। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि गांधीजी के सत्य, अहिंसा और सर्वधर्म समभाव के आदर्श आज भी प्रासंगिक हैं। आज के दिन, महात्मा गांधी को हमारी सच्ची श्रद्धाँजलि यही होगी कि हम सब मानवता की रक्षा के साथ-साथ राष्ट्रीय एकता और प्राचीन भारतीय संस्कृति को मजबूत बनाने का संकल्प लें। महात्मा गांधी के आदर्शों को आत्मसात करें। उन्होंने कहा कि गांधी जी जीवन भर उस सत्य के आग्रही रहे जिसे वे ईश्वर मानते थे। वे कहा करते थे 'पहले मैं समझता था कि ईश्वर ही सत्य है, अब समझ गया हूँ कि सत्य ही ईश्वर है। गांधीजी का सत्याग्रह इसी ईश्वर की आराधना थी। अहिंसा के इस पुजारी ने जीवन में जो आलोक बिखेरा था, वह आज भी मनुष्यता के मार्ग को आलोकित कर रहा है। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि मुझे गर्व है कि मेरा संबंध भी महात्मा गांधी की जन्म स्थली गुजरात से है। राज्यपाल ने इस अवसर पर उपस्थित छात्र-छात्राओं को अपने पास बुलाकर बापू के जीवन के बारे में बोलने के लिए प्रोत्साहित किया। इस पर छात्र-छात्राओं ने खुले मन से सबके सामने अपनी बात कही। राज्यपाल ने गांधीजी की पुण्य तिथि पर आयोजित चित्रकला और ज्ञान प्रतियोगिता में विजेता छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत किया। इस अवसर पर गांधी भवन ट्रस्ट के सचिव श्री दयाराम नामदेव, ट्रस्टी श्री महेश सक्सेना, स्कूलों के छात्र-छात्राएं और बापू के अनुयायी उपस्थित थे।
भोपाल सहित 15 जिला रोजगार कार्यालय बनेंगे प्लेसमेंट सेंटर
30 January 2018
जिला रोजगार कार्यालयों का आधुनिकीकरण और उन्नयन कर इन्हें प्लेसमेंट सेंटर के रूप में विकसित किया जायेगा। पहले चरण में भोपाल, इंदौर, जबलपुर, रीवा, ग्वालियर, सागर, उज्जैन, होशंगाबाद, शहडोल, धार, खरगौन, देवास, सिंगरौली, सतना और कटनी कुल 15 जिलों के रोजगार कार्यालयों का आधुनिकीकरण किया जायेगा। आधुनिकीकरण पीपीपी मोड में होगा। तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने कार्य जल्द पूरा करने के निर्देश दिये। श्री जोशी ने मंत्रालय में प्रोजेक्ट का प्रेजेंटेशन देखा और जरूरत के अनुसार सभी स्वीकृतियाँ समय-सीमा में देने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिस मद में जितना बजट है, उसका सदुपयोग करें। श्री जोशी ने कहा कि बजट लेप्स नहीं होना चाहिये। उन्होंने मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन और कौशल्या योजना में प्रशिक्षण जल्द शुरू करने के निर्देश भी दिये। बैठक में बताया गया कि प्लेसमेंट सेंटर में 2 काउंसिलिंग रूम, 2 इंटरव्यू रूम और एक कम्प्यूटर लैब भी रहेगी। स्थान की उपलब्धता के आधार पर इसमें परिवर्तन हो सकेगा। सेंटर में युवाओं को प्लेसमेंट से संबंधित तैयारी करवायी जायेगी। इन आधुनिक रोजगार कार्यालयों कम प्लेसमेंट सेंटर के माध्यम से 6 महीने में लगभग 25 हजार युवाओं को प्लेसमेंट देने का लक्ष्य है। बैठक में मध्यप्रदेश रोजगार निर्माण बोर्ड के अध्यक्ष श्री हेमंत देशमुख, प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्री संजय बंदोपाध्याय, संचालक कौशल विकास श्री संजीव सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
राज्यपाल द्वारा संत रविदास जयंती पर बधाई और शुभकामनाएँ
30 January 2018
राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने संत रविदास जयंती के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। राज्यपाल ने संदेश में कहा है कि संत रविदास महान सन्त थे। उन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। संत रविदास ने विनम्रतापूर्ण आचरण करने, आपस में मेल-जोल और भाईचारा बढ़ाने, समानता और समरसता का संदेश दिया है। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने युवाओं से संत रवीदास के सिद्धांतों और आदर्शों के मार्ग पर चलकर देश के विकास में योगदान देने की अपील की है।
शहीदों की स्मृति में मौन धारण सम्पन्न
30 January 2018
ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन एवं मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह की उपस्थिति में महात्मा गांधी की पुण्य तिथि एवं शहीदों की स्मृति में प्रात:11 बजे राज्य मंत्रालय के सामने सरदार वल्लभ भाई पटेल पार्क में 2 मिनिट का मौन धारण किया गया। इस मौके पर अपर मुख्य सचिव गृह श्री के.के.सिंह, अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन श्री प्रभांशु कमल, अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खाण्डेकर, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड़ मुखर्जी सहित मंत्रालय तथा सतपुडा एवं विंध्याचल भवन के अधिकारी-कर्मचारी कर्मचारी उपस्थित थे
राज्यपाल की उपस्थिति में "बीटिंग द रिट्रीट" सम्पन्न
29 January 2018
राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल की उपस्थिति में गणतंत्र दिवस समारोह के समापन पर मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में '' बीटिंग द रिट्रीट'' सम्पन्न हुआ। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्‍ला के मार्गदर्शन में मध्यप्रदेश पुलिस ब्रास बैण्ड ,पुलिस पाईप बैण्ड और मास बैण्ड द्वारा कन्सर्ट , मार्च पास्ट एवं सामूहिक वादन की प्रस्तुति दी गई। बीटिंग द रिट्रीट सैन्य व अर्ध्द सैन्य बलों की प्राचीन परंपरा है। युद्ध के बाद जब सैन्य टुकड़ियां वापस अपने कैम्पों में आती थीं, तो युद्ध के तनाव को कम करने के लिए बैण्ड वादन का कार्यक्रम रखा जाता था। भारत में इस कार्यक्रम के साथ ही गणतंत्र दिवस के कार्यक्रमों की औपचारिक समाप्ति होती है। बीटिंग द रिट्रीट कार्यक्रम की शुरूआत शाम 4.30 बजे राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल को राष्ट्रगान द्वारा सम्मान प्रकट कर की गई। फिर पुलिस ब्रास बैण्ड द्वारा हिन्दी एवं अंग्रेजी क्लासिकल धुनों के साथ ही नई एवं पुरानी हिन्दी फिल्मों के 11 गानों की आकर्षक संगीतमय प्रस्तुति दी गई। तीनों बैण्ड द्वारा मार्चपास्ट करते हुए बैण्डवार सामूहिक प्रस्तुतियाँ दी गई। कार्यक्रम की समाप्ति में बैण्ड ने सामूहिक प्रस्तुति दी एवं '' सारे जहां से अच्छा '' की धुन पर मार्चपास्ट किया । राष्ट्रगान के पश्चात आतिशबाजी का आकर्षक कार्यक्रम हुआ। सैयद बन्ने अहमद के नेतृत्‍व में पुलिस पाईप बैण्ड,श्री सुनील कटारे के नेतृत्‍व में ब्रास बैण्ड, हवलदार श्री सोहम‍ सिंह के नेतृत्‍व मे आर्मी पाईप बैंड और मास्ड बैण्डस द्वारा संगीतमयी प्रस्‍तुतियां दी गयी। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह , विशेष पुलिस महानिदेशक श्री के.एन.तिवारी अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक श्री एस.एल.थाउसेन,सहित अन्‍य अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक तथा वरिष्ठ अधिकारी, सेवानिवृत्‍त वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी तथा बड़ी संख्या में नागरिकों ने उपस्थित रहकर ''बीटिंग द रिट्रीट ''की संगीतमयी संध्या का आनंद लिया। कार्यक्रम के अंत में आकर्षक आतिशबाजी प्रदर्शित की गई।
हर वार्ड में एक सेंटर बनायें, जो युवाओं को गाइड करे
29 January 2018
हर वार्ड में एक ऐसा सेंटर बनायें, जो युवाओं को रोजगार एवं स्व-रोजगार के संबंध में गाइड करे। इसमें सफल उद्यमियों की मदद लें। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह बात कमला नगर में प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत आयोजित कौशल एवं रोजगार मेला में कही। मेले का आयोजन शीतल जन-कल्याण समिति द्वारा किया गया था। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री गुप्ता ने कहा कि एक तरफ तो बेरोजगारी है, लेकिन दूसरी तरफ कुशल व्यक्तियों की बेहद कमी है। उन्होंने कहा कि माँग के अनुरूप युवाओं को ट्रेनिंग दी जाये। श्री गुप्ता ने कहा कि प्रशिक्षित युवा मुख्यमंत्री स्व-रोजगार और मुख्यमंत्री उद्यमी योजना में लोन लेकर रोजगार लेने वाले नहीं, देने वाले बने। उन्होंने कहा कि कोई भी काम छोटा-बड़ा नहीं होता, ईमानदारी से परिश्रम करें तो सफलता आपके कदम चूमेगी। श्री गुप्ता ने कहा कि सिर्फ सर्टिफिकेट के लिये नहीं, हुनरमंद बनने के लिये प्रशिक्षण लें। उन्होंने कहा कि परम्परागत व्यवसाय से जुड़े लोगों को टेस्ट के बाद प्रमाण-पत्र देने की भी योजना बनायी गयी है। श्री गुप्ता ने बताया कि सरकार का लक्ष्य है सभी को भोजन, आवास और रोजगार देना। उन्होंने बताया कि मुद्रा बैंक योजना में साढ़े 12 करोड़ से अधिक युवाओं ने रोजगार के लिये लोन लिया है। श्री गुप्ता ने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत प्रशिक्षित युवक और युवतियों को प्रमाण-पत्र वितरित किये। उन्होंने प्रशिक्षणार्थियों द्वारा निर्मित सामग्री की प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।
शौर्य स्मारक का निर्माण सरकार की दृढ़ इच्छाशक्ति का फल
29 January 2018
राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज शौर्य स्थल का भ्रमण कर यहाँ स्थापित शहीद स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की। प्रमुख सचिव, संस्कृति विभाग श्री मनोज श्रीवास्तव और अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा कि स्मारक में सीमा पर सेना और सैनिकों की गतिविधियों को बहुत अच्छे से प्रदर्शित किया गया है ऐसा लगता है कि हम प्रत्यक्ष रूप से सीमा पर सब देख रहे हैं। उन्होंने प्रदेश सरकार की शौर्य स्मारक की स्थापना के लिए प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि यह राज्य सरकार की दढ़ इच्छाशक्ति का प्रमाण है। राज्यपाल ने कहा कि युद्ध और सीमा की गतिविधियों के फोटोग्राफ और चिंत्राकन अनूठा है। प्रदर्शन युद्ध और कश्मीर की सीमा के हालात ऐसे दिखाये गये हैं जिन्हें देखकर सैनिकों के प्रति मन में उत्पन्न भाव हमेशा के लिए बना रहता है। श्रीमती आनंदीबेन ने कहा कि सैनिकों की स्कूलों और कालेजों में विद्यार्थियों से भेंट कराना चाहिए। राज्यपाल ने कहा कि आज हम आजाद देश में चैन से सो रहे हैं वह शहीद सैनिकों के बलिदान का ही फल है। हमारे देश के हर शहीद की शौर्य गाथा हमारे लिए इतिहास है। सभी बच्चों और युवाओं को इस स्मारक को देखना चाहिए। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन ने कहा कि माता-पिता को बच्चों के साथ इस स्थल को जरूर देखना चाहिए इससे उन्हें देश भक्ति और देशसेवा की प्रेरणा मिल सकेगी। राज्यपाल महोदया ने शौर्य स्थल पर मध्यप्रदेश के शहीदों के गाँवों से लाई गई मिट्टी(शौर्य रज) पर भी पुष्पांजलि अर्पित की।
मंत्री डॉ. मिश्र ने बच्चों को पल्स पोलियो की दवा पिलाई
28 January 2018
जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया की राजघाट कॉलोनी से पल्स पोलिया अभियान की शुरूआत की। उन्होंने नन्हे बच्चों को पल्स पोलियो की दवा पिलाई। डॉ. मिश्र ने पल्स पोलियो अभियान को सफल बनाने के लिये मोटर साईकिल रैली को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिले की अगोरा ग्राम पंचायत के ग्राम आनंदपुर पहुँचकर अम्बेडकर प्रतिमा का अनावरण किया। इस दौरान बौद्ध संत भी उपस्थित थे। डॉ. मिश्र ने कहा कि बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर देव तुल्य मानव थे। मध्यप्रदेश एवं केन्द्र सरकार द्वारा उनकी स्मृति को अक्षुण्ण बनाये रखने के लिए नई दिल्ली, महू, तथा लंदन सहित पांच स्थानों पर बाबा साहब की स्मृति में तीर्थ स्थल बनाए गए हैं।
पीथमपुर में बनकर तैयार हुआ एशिया का सबसे बड़ा ऑटो टेस्टिंग ट्रेक
28 January 2018
केन्द्रीय राज्य मंत्री भारी उद्योग श्री बाबुल सुप्रियो और प्रदेश के उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने रविवार को धार जिले के पीथमपुर में एशिया के सबसे बड़े ऑटो टेस्टिंग ट्रेक का उद्घाटन किया। केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री सुप्रियो ने इस मौके पर कहा कि पीथमपुर में ट्रेक निर्माण हो जाने से देश में ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग और टेक्नालॉजी के क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि आने वाले समय में पीथमपुर ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री का हब बनेगा। केन्द्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने 4 हजार एकड़ भूमि नेट्रिप को उपलब्ध करवाई है। इसमें से नेट्रिप द्वारा 3 हजार एकड़ भूमि में नेशनल ऑटो टेस्टिंग ट्रेक विकसित किया गया है। शेष एक हजार एकड़ भूमि पर उद्योगपति अपनी ऑटोमोबाइल यूनिट स्थापित कर सकते हैं। उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि यह ट्रेक देश में ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री के विकास की धुरी साबित होगा। उन्होंने कहा कि युवाओं को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर उपलब्ध करवाने के लिये औद्योगिक क्रांति जरूरी है। प्रदेश में अधिक से अधिक उद्योग आने पर युवाओं को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर मिलेंगे। प्रदेश के अधोसंरचना विकास की चर्चा करते हुए श्री शुक्ल ने कहा कि मध्यप्रदेश बिजली के मामले में सरप्लस स्टेट है। यहाँ हाल ही के वर्षों में फोरलेन सड़कों का बड़ी संख्या में निर्माण भी करवाया गया है। श्री राजेन्द्र शुक्ल ने बताया कि पीथमपुर में महिन्द्रा, फोर्स, मान ग्रुप हेवी इंडस्ट्रीज, अर्थ मूविंग और कंस्ट्रक्शन इक्यूपमेंट बनाने वाली कम्पनियाँ हैं। उन्होंने केन्द्रीय राज्‍य मंत्री से आग्रह किया कि पीथमपुर में अगर अर्थ मूविंग एवं कंस्ट्रक्शन इक्यूपमेंट की टेस्टिंग फेसेलिटी उपलब्ध करवाई जाती है तो पीथमपुर के ऑटोमोबाइल एवं कमर्शियल वाहनों के लिये यह मददगार साबित होगी। समारोह को महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा ऑटो कम्पनी के एमडी श्री पवन गोयनका, आयशर एवं वाल्वो कम्पनी के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर श्री आर.एस. सचदेवा ने भी संबोधित किया।
58 वां लोक व्याख्यान आयोजित
28 January 2018
प्रज्ञा प्रवाह के सहयोग से प्रतिमाह आयोजित की जाने वाली लोक व्याख्यानों की श्रंखला का 58 वां व्याख्यान आज स्वामी विवेकानंद लाइब्रेरी में आयोजित हुआ । "भारत की एकता एवं अखंडता के समक्ष चुनौतियाँ" विषय पर आयोजित इस व्याख्यान के मुख्य वक्ता माखनलाल विश्वविद्यालय के कुलपति बी के कुठियाला थे । कार्यक्रम की अध्यक्षता मध्यप्रदेश के पशुपालन संचालक डॉ आर के रोकड़े ने की । कार्यक्रम में वक्ताओं द्वारा कहीं गईं प्रमुख बातें प्रोफेसर बी के कुठियाला ने कहा सबसे पहले तो हमें यह तय करना होगा कि देश में एकता चाहिए है या एकात्मकता । क्योंकि एकता हमेशा दिखाई नहीं देती, देश में एकता के बावजूद कई महत्वपूर्ण मौकों पर देश का एक वर्ग देश की मुख्य धारा से अलग राय रखता आया है । चाहे वह भारत चीन युद्ध हो या 1971 का युद्ध, हर समय देश के किसी ना किसी वर्ग ने इसका विरोध किया था । इसलिए ऐसी एकता के स्थान पर हमें देश में एकतात्मकता लाने के बारे में सोचना चाहिए एकता की बात करने से पहले हमें यह तय करना होगा कि हम कैसा देश चाहते हैं । वह भारत जो हमारी 5000 साल की सांस्कृतिक विरासत पर आधारित हो या वह भारत जो इस विरासत और अनुभव को सिरे से नकारता हो देश के बुद्धिजीवियों के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती यही है कि वे भारत के सांस्कृतिक अनुभव को आज इतने अच्छे से प्रस्तुत करें कि आज की व्यवस्था उसे स्वीकार्य करने योग्य मान ले पिछले 100 सालों से भारत के सांस्कृतिक अनुभव को मिटाने की कोशिश की जा रही थी जो सफल नहीं हो सकी । भारत के धुर विरोधी भी भारत की सांस्कृतिक विरासत के महत्व को समझते हैं यही कारण है कि आज अमेरिका के 100 से विश्वविद्यालयों में भारतीय ज्ञान पर रिसर्च चल रही है । पूरी दुनिया भारतीय ज्ञान को और जान लेने के लिए उतावली है बस भारत में इसको लेकर कोई उत्सुकता नहीं है । दुनिया में भारत के बारे में जो भी रिसर्च प्रोजेक्ट्स चल रहे हैं उनका नेतृत्व भारत के कट्टर विरोधी कर रहे हैं इसलिए वे हमेशा भारत की नकारात्मक छवि को ही सामने लाते हैं मैक्स मूलर को भारत की नकारात्मक छवि को सामने लाने के लिए ही वेदों के अनुवाद के कमा में लगाया गया था । उन्हें उस समय हर पेज के अनुवाद पर 5 डॉलर मिलते थे भारत के पास जनशक्ति और भौतिक संसाधनों की अपार क्षमता मौजूद है भारत प्रकृतिक रूप से बना देश है इसे प्रकृति ने बनाया है किसी व्यक्ति ने नहीं भारत में इस समय एक 'भारत तोड़ो ब्रिग्रेड" काम कर रही है । ये वो लोग हैं जिनके मन में गलत धारणाएँ बैठा दी गईं हैं
मुख्यमंत्री को लिखा सांसद श्री आलोक संजर ने पत्र लालघाटी स्थित निर्माणाधिन सेतु का नाम हेमु कालाणी रखने की मांग - दुर्गेश केसवानी
27 January 2018
27 जनवरी 2018। भोपाल के सांसद आलोक संजर ने मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान को पत्र लिखकर लालघाटी स्थित निर्माणाधिन सेतु का नाम अमर शहीद हेमु कालाणी रखने की मांग की है। सेवा संस्था सेवा के अध्यक्ष दुर्गेश केसवानी ने सांसद को पूर्व मंे सौपे दो सुत्रीय ज्ञापन में कहा था कि लालघाटी स्थित निर्माणाधीन ओवर ब्रिज का नाम सिन्धु वीर अमर शहीद हेमु कालाणी के नाम पर रखने एवं उनकी जीवनी को मध्यप्रदेश के पाठ्यक्रम मंे शामिल करवाने की मांग की गई थी। दुर्गेश केसवानी ने कहा कि सिन्धु वीर अमर शहीद हेमु कालाणी ने जो त्याग और वलिदान दिया है उससे युवाओं को प्रेरणा लेना चाहिए।
तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री श्री जोशी ने देवास में ध्वजारोहण किया
27 January 2018
तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने गणतंत्र दिवस पर देवास में ध्वजारोहण किया और परेड की सलामी ली। उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, शहीदों के परिजन और मीसा बंदियों को शाल श्रीफल से सम्मानित किया। श्री जोशी ने समारोह में मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया। श्री जोशी ने उत्कृष्ट कार्य प्रदर्शन करने वाले अधिकारियों/कर्मचारियों को पुरस्कृत किया। राज्य मंत्री राजोदा में माध्यमिक विद्यालय पहुंचे और बच्चों के साथ मध्यान्ह भोजन किया। समारोह में जिला पंचायत अध्यक्ष श्री नरेन्द्र सिंह राजपूत, महापौर श्री सुभाष शर्मा एंव अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।
सौभाग्य योजना से इंदौर, मंदसौर, नीमच जिलों के शत-प्रतिशत घरों में पहुंची बिजली
27 January 2018
मध्यप्रदेश में सहज बिजली हर घर योजना सौभाग्य के क्रियान्वयन के बाद इंदौर, मंदसौर और नीमच जिलों के शत-प्रतिशत घरों में बिजली-कनेक्शन उपलब्ध करवाये जा चुके हैं। राज्य शासन ने इन जिलो के सौ फीसदी घरों का विद्युतीकरण निर्धारित समय से पहले पूरा होने पर संबंधित अधीक्षण यंत्री को प्रशस्ति-पत्र जारी किये हैं। प्रशस्ति-पत्र में ऊर्जा विभाग के अधिकारियों की लगन एवं उत्कृष्ट कार्यप्रणाली के लिए सराहना की गई। इंदौर के अधीक्षण यंत्री श्री अशोक कुमार शर्मा, मंदसौर के श्री देवी सिंह चौहान और नीमच के श्री सुरेश चन्द्र वर्मा को प्रशस्ति-पत्र जारी किये गये है। तीनों जिलों में विद्युत कनेक्शन के लिये मुनादी भी करवाई गई है, ताकि कोई घर छूट न गया हो। पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के क्षेत्र में आने वाले इन जिलों के सभी रहवासियों से निरंतर जानकारी ली जा रही है कि उनके घर में बिजली कनेक्शन मिल चुका है या नहीं। सौभाग्य योजना में अब तक प्रदेश के सभी 51 जिलों के 6 लाख 14 हजार 215 घरों को बिजली कनेक्शन मुहैया करवाये जा चुके हैं। बिजली कनेक्शन की सुविधा न होने से पहले इन घरों को लालटेन या मोमबत्ती का सहारा लेना पड़ता था। केन्द्र और राज्य शासन की पहल पर अब इन घरों को बिजली कनेक्शन देकर रोशनी से जगमग किया जा चुका है। घरों में बिजली पहुंचाने से हितग्राहियों के चेहरे पर संतोष और उत्साह की झलक स्पष्ट देखी जा सकती है। प्रदेश में पूर्व विद्युत वितरण कम्पनी के 20 जिलों के 2 लाख 1 हजार 564, मध्य क्षेत्र विद्यत वितरण कम्पनी के 16 जिलों के 2 लाख 21 हजार 937 और पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के 15 जिलों के एक लाख 90 हजार 714 घरों को बिजली कनेक्शन से जोड़ा चुका है
जनता और सरकार के एक साथ खड़े होने से तरक्की के मुकाम पर पहुँचा मध्यप्रदेश
26 January 2018
राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने भोपाल के लाल परेड मैदान पर हुए राज्य-स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह में कहा कि मध्यप्रदेश तरक्की के जिस मुकाम पर है, वह प्रदेश की जनता और सरकार के एक साथ खड़े होने से संभव हुआ है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि प्रदेश की आगे की यात्रा और समृद्ध तथा सुखद होगी। राज्यपाल ने नागरिकों को गणतंत्र दिवस की बधाई और शुभकामनाएँ भी दीं। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि राज्य सरकार के सुशासन और बेहतर वित्तीय प्रबंधन का ही नतीजा है कि मध्यप्रदेश की विकास दर देश की औसत विकास दर से अधिक है। उन्होंने कहा कि डेढ़ दशक पूर्व तक मध्यप्रदेश बीमारू राज्यों की श्रेणी में गिना जाता था। प्रदेश की विकास दर तो कुछ वर्षों तक नकारात्मक भी रही और देश की औसत विकास दर से हमेशा नीचे होती थी। आज मध्यप्रदेश देश के अग्रणी राज्यों में शामिल है और विकास दर पिछले एक दशक से दो अंकों के करीब रही है। कृषि विकास दर तो 18 से 20 प्रतिशत तक प्रति वर्ष हो रही है। प्रदेश का बजट 2 लाख करोड़ रुपये पार कर चुका है और प्रति व्यक्ति आय में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। राज्यपाल ने कहा कि विकास दर न केवल अधिक रहे, बल्कि वह समावेशी भी हो। विकास में गरीबों की भी उतनी ही भागीदारी हो, जितनी बड़े लोगों की हो। राज्य की समावेशी विकास नीति को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने गरीबों के लिये रोटी, कपड़ा, मकान, पढ़ाई, दवाई और रोजगार की महत्वाकांक्षी योजनाएँ चलाई हैं। राज्यपाल ने अपने संदेश में कहा कि प्रदेश में दीनदयाल गरीब कल्याण वर्ष मनाते हुए सरकार ने प्रदेश के हर गरीब व्यक्ति तक पहुँचने का प्रयास किया है। मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना के अंतर्गत प्रदेश में 5.50 करोड़ से अधिक जनसंख्या तक एक रुपये प्रति किलो के मूल्य पर अनाज पहुँचाया गया है। शहरों में दीनदयाल रसोई के माध्यम से गरीबों को 5 रुपये में स्वादिष्ट भोजन उपलब्ध करवाया जा रहा है। सरकार ने प्रत्येक गरीब को छत मुहैया कराने का बीड़ा उठाया है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में शासकीय भूमि पर रहने वाले 27 लाख ग्रामीणों को अभी तक भू-अधिकार-पत्र दिये जा चुके हैं। सभी पात्र बेघर परिवारों को आवास के लिये भूखण्ड उपलब्ध के लिये प्रदेशभर में भूखण्ड अधिकार अभियान शुरू किया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में प्रधानमंत्री आवास योजना सहित विभिन्न योजनाओं में 17.50 लाख से अधिक आवास बने हैं और अगले साल तक 15 लाख आवास बनाये जायेंगे। शहरी क्षेत्रों में इस वर्ष के अंत तक 5 लाख आवास तथा वर्ष 2022 तक 10 लाख आवासीय इकाइयाँ बनाने का लक्ष्य है। राज्यपाल श्रीमती आनंदबेन पटेल ने महिलाओं के स्वास्थ्य की चर्चा करते हुए कहा कि उज्जवला योजना से महिलाओं को धुआँ-रहित रसोई मिली है। प्रदेश में प्रधानमंत्री की उज्जवला योजना से 31 लाख परिवारों को नि:शुल्क गैस कनेक्शन मिले हैं। राज्य सरकार द्वारा नि:शक्तजन, वृद्धजन, निराश्रितों, कन्याओं एवं विधवा परित्यक्ताओं के लिये संचालित कार्यक्रमों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में सिंगल क्लिक से 36 लाख पेंशनरों के खातों में प्रति माह एक तारीख को 116 करोड़ की वृद्धावस्था पेंशन दी जा रही है। स्कूल शिक्षा से जन-समुदाय को जोड़ने के लिये 'मिल-बाँचे मध्यप्रदेश'' कार्यक्रम एक लाख से अधिक शालाओं में चलाया गया। पिछले 10 वर्षों में राज्य में हाई स्कूलों की संख्या पौने तीन गुना और हायर सेकेण्डरी स्कूलों की संख्या ढाई गुना से भी अधिक हुई है। शासकीय विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों के लिये नि:शुल्क पाठ्य-पुस्तक, छात्रवृत्ति, सिला हुआ गणवेश और साइकिल जैसी सुविधाएँ दी जा रही हैं। राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना के पहले वर्ष में ही 28 हजार से ज्यादा बच्चों को स्नातक शिक्षा के लिये लाभ दिया है। राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश में स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में कमी को दूर करने के लिये पढ़ाने वालों की केवल एक ही श्रेणी बनाने का निर्णय लिया गया है। प्रदेश में उच्च शिक्षा की पहुँच दुर्गम इलाकों तक सुनिश्चित करने के लिये पिछले वर्ष 15 नये कॉलेज और 3 नये मॉडल कॉलेजों की स्थापना की गई है। स्वास्थ्य सेवा स्वास्थ्य सेवाओं में विस्तार का जिक्र करते हुए राज्यपाल ने कहा कि बाल मृत्यु दर में पिछले एक वर्ष में सर्वाधिक 10 अंकों की कमी मध्यप्रदेश में रिकार्ड हुई है। इन्द्रधनुष योजना में टीकाकरण की दर 74 फीसदी से बढ़कर 90 फीसदी तक हो गई है। सभी 51 जिलों में नि:शुल्क डायलिसिस की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। प्रदेश में डॉक्टरों की उपलब्धता बढ़ाने के लिये आगामी शैक्षणिक सत्र से 7 नये मेडिकल कॉलेज प्रारंभ किये जा रहे हैं। इसके साथ ही पूर्व से चल रहे मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की सीटों में वृद्धि की जा रही है। जबलपुर, ग्वालियर और रीवा में सुपर स्पेशियलिटी सेंटर की स्थापना की जा रही है। प्रथम बोनमेरो ट्रांसप्लांट की स्थापना इंदौर मेडिकल कॉलेज में की गई है। कुपोषण से निपटने के लिये ठोस प्रयास राज्यपाल ने कहा कि पिछड़ी जनजातियाँ बैगा, भारिया और सहरिया परिवारों के लिये राज्य सरकार द्वारा एक नई योजना प्रारंभ की गई है। प्रत्येक परिवार को एक हजार रुपये प्रति माह का भुगतान उनके बैंक खाते में किया जा रहा है। राज्य के 15 जिलों की किशोरियों को सबला योजना के तहत टेक-होम पोषण-आहार दिया जा रहा है। राज्य के अति कुपोषित 85 विकासखण्डों में साढे 11 लाख स्कूली बच्चों को सप्ताह में तीन दिन गुड़-मूंगफली की चिक्की देने की योजना लागू की जा रही है। राज्य सरकार टेक-होम राशन की वर्तमान व्यवस्था में एक बहुत बड़ा बदलाव करने जा रही है। अब टेक-होम राशन की तैयारी कम्पनियों के स्थान पर महिला स्व-सहायता समूहों के जिला-स्तरीय संघ द्वारा की जायेगी। स्वच्छता अभियान प्रदेश में प्रधानमंत्री जी द्वारा शुरू किये गये स्वच्छ भारत मिशन की चर्चा करते हुए राज्यपाल ने कहा कि 13 जिले और 10 हजार से अधिक ग्राम-पंचायतें खुले में शौच से मुक्त हुई हैं। प्रदेश में 81 लाख से अधिक घरों में शौचालय सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। उन्होंने जन-सामान्य से स्वच्छता मिशन में सक्रिय भागीदारी निभाने की अपील की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सभी ग्रामों को चरणबद्ध तरीके से नल-जल योजना के माध्यम से पीने का साफ पानी उपलब्ध करवाया जायेगा। इसके अलावा प्रदेश में मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना भी प्रारंभ की गई है। इसके तहत एक हजार तक की आबादी वाले गाँवों को नल-जल योजना से जोड़ा जायेगा। रोजगार के अवसर गरीबों के लिये रोजगार और कौशल संवर्धनको जरूरी बताते हुए राज्यपाल ने कहा कि राज्य सरकार ने युवा सशक्तिकरण मिशन के नाम से एक नया मिशन प्रारंभ किया है, जिसके तहत हर साल 7 लाख 50 हजार युवाओं को कौशल विकास से जोड़ा जायेगा। दीनदयाल अंत्योदय योजना के तहत ग्रामीण आजीविका मिशन से सवा 23 लाख व्यक्तियों को 2 लाख से ज्यादा स्व-सहायता समूहों से जोड़ा गया है। मिशन द्वारा 6 लाख 25 हजार बेरोजगारों को रोजगार के साथ जोड़ने के साथ-साथ 14 लाख 50 हजार परिवारों को आजीविका गतिविधियों से जोड़ने का कार्य किया गया है। राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन में एक लाख 6 हजार हितग्राहियों को कौशल प्रशिक्षण देकर 52 हजार से ज्यादा हितग्राहियों को स्व-रोजगार में लाया गया है। नर्मदा नदी संरक्षण और एकात्म यात्रा राज्यपाल ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा नदी संरक्षण का संदेश देने वाला अभूतपूर्व अभियान साबित हुआ जो जनता की सक्रिय भागीदारी के कारण सफल हो पाया। संरक्षण अभियान को मूर्तरूप देने के लिये नर्मदा सेवा मिशन के नाम से परियोजना तैयार की गई। प्रदेश में 2 जुलाई को नर्मदा कछार में 6 करोड़ से अधिक पौधे रोपे गये हैं। नदी के तटों पर 4,500 शांतिधाम बनाये गये हैं और 250 सार्वजनिक शौचालयों के निर्माण किये जा रहे हैं। जिन उद्योगों का पानी नदी में जाता था, उनमें सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट और पाइप-लाइन बिछाने का कार्य प्रगति पर है। एकात्म यात्रा की चर्चा करते हुए राज्यपाल ने कहा कि यह यात्रा सांस्कृतिक एकता के देवदूत अद्वैत दर्शन के प्रखर प्रवक्ता और सनातन संस्कृति के पुनरुद्धारक आदि शंकराचार्य के एकात्म दर्शन को जन-सामान्य तक पहुँचाने में सफल रही है। कृषि क्षेत्र में प्रगति राज्यपाल ने प्रदेश में पिछले 14 साल में कृषि के क्षेत्र में हुए उल्लेखनीय कार्यों का जिक्र करते हुए कहा कि पिछले 4 वर्ष में 18 प्रतिशत सालाना से अधिक औसत कृषि विकास दर प्राप्त करने वाला मध्यप्रदेश देश का एकमात्र प्रदेश है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसानों की आय 5 वर्षों में दोगुना करने के लिये रोड-मेप बनाकर कार्य किया जा रहा है। प्रदेश में फसल भावांतर भुगतान योजना की बदौलत किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ सोयाबीन, उड़द, मूँग, मूँगफली और मक्का आदि फसलों में मिल पाया है। इस योजना की प्रशंसा राष्ट्रीय-स्तर पर भी की गई है। प्रदेश में किसान भाइयों के प्रयास से उद्यानिकी क्षेत्र का रकबा अब 19 लाख हेक्टेयर से ज्यादा हो चुका है। उन्होंने कहा कि 2 वर्षों में पौने तीन लाख मीट्रिक टन प्याज की भण्डारण क्षमता बढ़ाई गई है। प्रदेश में दुग्ध उत्पादन में हो रही लगातार वृद्धि की चर्चा करते हुए राज्यपाल ने कहा कि दुग्ध उत्पादन की वार्षिक वृद्धि दर 10.70 प्रतिशत रही है, जो देश की वृद्धि दर से दोगुनी है। खेती का खर्च कम करने के लिये राज्य सरकार ने किसानों को शून्य ब्याज दर का लाभ दिया है। इससे 17 लाख किसानों को लाभ पहुँचा है। प्रदेश में सिंचाई का रकबा बढ़ाने के लिये भी लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। नर्मदा का पानी क्षिप्रा में डालकर और पहाड़ी क्षेत्रों में सुरंग बनाकर पानी ले जाने को भी राज्य सरकार ने चुनौती के रूप में स्वीकार किया है। प्रदेश में 7 लाख 50 हजार हेक्टेयर सिंचित रकबे से बढ़ाते हुए सिंचाई की क्षमता वर्ष 2025 तक शासकीय स्रोतों से 60 लाख हेक्टेयर करने का लक्ष्य तैयार किया गया है। इस वर्ष अब तक करीब 25 हजार हेक्टेयर क्षमता की 65 लघु सिंचाई परियोजनाएँ पूर्ण की गई हैं। बिजली की उपलब्धता राज्यपाल ने कहा कि मध्यप्रदेश आज बिजली के क्षेत्र में न केवल आत्म-निर्भर हुआ है, बल्कि सरप्लस बिजली बेचने की क्षमता भी रखता है। प्रधानमंत्री की सौभाग्य योजना के तहत वर्ष 2018 तक हर घर में बिजली पहुँचाने का लक्ष्य राज्य सरकार ने तय किया प्रदेश में जून-2019 तक 5 लाख अस्थाई कनेक्शनों को स्थाई कनेक्शन में बदल दिया जायेगा। सड़क निर्माण और अमृत योजना राज्यपाल ने बताया कि प्रदेश में सड़कों का नेटवर्क सुधारने के लिये व्यापक प्रयास किये गये हैं। तीन हजार किलोमीटर के नये राष्ट्रीय राजमार्ग मंजूर किये जा चुके हैं। इसके अलावा 2,383 किलोमीटर नये राष्ट्रीय राजमार्गों की सैद्धांतिक स्वीकृति दी गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में 75 हजार किलोमीटर से अधिक ज्यादा लम्बाई की सड़कों का निर्माण हो चुका है। एक लाख से अधिक आबादी वाले 33 शहर और पर्यटन शहर ओंकारेश्वर में अमृत योजना में 5 वर्ष में 6,200 करोड़ की राशि व्यय की जायेगी। अनुसूचित जाति-जनजाति, अल्पसंख्यक वर्ग का कल्याण राज्यपाल श्रीमती आनंदबेन पटेल ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा अनुसूचित जाति-जनजाति के विकास के लिये एक पंचवर्षीय एकीकृत कार्य-योजना तैयार की गई है। वन अंचल में रहने वाले वनवासियों को करीब ढाई लाख वन अधिकार-पत्र बाँटे जा चुके हैं। अनुसूचित-जाति और जनजाति वर्ग को स्व-रोजगार योजना से जोड़ा जा रहा है। अल्पसंख्यक वर्ग के कल्याण के लिये कौशल विकास की योजना चलाई जा रही है। भारत सरकार की छात्रवृत्तियों के लिये करीब डेढ़ लाख प्रकरण भेजे गये हैं। भोपाल में हज-हाउस बन गया है। वक्फ सम्पत्ति का कम्प्यूटरीकरण जारी है। महिला सशक्तिकरण राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश की महिला सशक्तिकरण की कोशिशें देश में मिसाल बनी हैं। लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ 27 लाख बालिकाओं को मिल चुका महिलाओं के लिये अनुकूल वातावरण बनाने में सफल रहे 82 हजार शौर्या दल की प्रशंसा अनेक अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों द्वारा की गई है। लाडो अभियान में 83 हजार बाल-विवाह रोकने में सफलता मिली है। निवेशकों की पहली पसंद मध्यप्रदेश राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि पिछले वर्षों में मध्यप्रदेश निवेशकों की पहली पसंद बना है। ईज ऑफ बिजनेस की रेंकिंग में मध्यप्रदेश को वर्ष 2015-16 में पाँचवीं रेंक मिली है। प्रदेश में 2300 करोड़ की लागत से 22 नवीन औद्योगिक क्षेत्रों की स्थापना का कार्य इस वर्ष पूरा हो जायेगा। मध्यप्रदेश में एमएसएमई विकास नीति और एमएसएमई प्रोत्साहन योजना अप्रैल-2018 से प्रभावशील हो जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में औद्योगिक शांति की आदर्श स्थिति है। सुशासन राज्यपाल ने कहा कि सुशासन राज्य सरकार की प्रमुख प्राथमिकता है। समय-सीमा में नागरिकों को सेवाएँ प्रदान करने की कानूनी गारंटी के बाद राज्य सरकार अब इससे एक कदम आगे जा रही है और 'समाधान एक दिन'' लागू करने का निर्णय लिया है। प्रदेश में भूमि संबंधी विवादों के निपटारे के लिये राज्य न्यायालयों के कार्य में कसावट लायी जा रही है। राजस्व महा-अभियान में 10 लाख अविवादित नामांतरण एवं बँटवारे निराकृत हुए हैं। किसानों को सवा चार करोड़ खसरा एवं खतौनी की नकल नि:शुल्क बाँटी गयी है। पर्यटन एवं संस्कृति राज्यपाल ने कहा कि मध्यप्रदेश पर्यटकों के लिये पसंदीदा जगह बन गया है। अब जिला-स्तर पर धार्मिक पर्यटन-स्थलों के विकास की योजना है। हनुवंतिया की तर्ज पर ओंकारेश्वर के नजदीक सैलानी टापू को जल-पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित किया गया है। इस वर्ष गाँधी सागर में जल-महोत्सव की शुरूआत की जा रही है। उज्जैन, जबलपुर और ग्वालियर में बहु-उद्देश्यीय सांस्कृतिक कला-संकुल स्थापित किये गये हैं। स्वाधीनता संग्राम के दस्तावेजीकरण, संग्राम में जन-जातियों की भागीदारी, जन-जातीय चेतना और संघर्ष को रेखांकित करने वाला पहला और अकेला प्रयास मध्यप्रदेश में किया गया है। वन सम्पदा राज्यपाल ने अपने संदेश में कहा कि मध्यप्रदेश वन के मामले में समृद्धशाली राज्य माना जाता है। वनों के संरक्षण और संवर्धन की प्रभावी पहल का ही परिणाम है कि वनों और उन पर आश्रित ग्रामीणों की स्थिति में सुधार हुआ है। राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश में तेंदूपत्ता संग्राहकों के लिये चरण-पादुका योजना प्रारंभ की गई है। योजना से 21 लाख से अधिक संग्राहकों को लाभ होगा। आनंद विभाग और कानून-व्यवस्था राज्यपाल ने गणतंत्र दिवस पर कहा कि प्रदेश में भौतिक प्रगति के पैमाने से आगे बढ़कर राज्य सरकार ने देश में पहली बार आनंद विभाग का गठन किया है। पचास हजार लोग स्वेच्छा से आनंदक बने हैं। शासकीय सेवकों में सकारात्मक सोच के विकास के लिये 780 अल्प ग्राम कार्यक्रम किये गये। उन्होंने कानून-व्यवस्था की स्थिति का जिक्र करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश हमेशा अच्छे राज्यों में गिना जाता है। यहाँ राज्य सरकार ने पुलिस आधुनिकीकरण और पुलिस बलों में वृद्धि के विशेष प्रयास किये हैं। महिला अपराधों को नियंत्रित करने के लिये मध्यप्रदेश सरकार ने विशेष कानून पारित किया है, जिसमें 12 वर्ष से कम उम्र की बालिका के साथ बलात्कार अथवा सामूहिक बलात्कार के लिये मृत्यु दण्ड की व्यवस्था की गई है। कर्मचारी कल्याण राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि राज्य सरकार ने कर्मचारियों के कल्याण पर भी हमेशा ध्यान दिया है। अध्यापक संवर्ग को छठवें वेतनमान का लाभ दिया गया है। अनुसूचित-जाति और जनजाति वर्ग के रिक्त पदों को भरने के लिये विशेष भर्ती अभियान की समय-सीमा भी बढ़ाई गई है। राज्यपाल ने कहा कि पुलिसकर्मियों के लिये अगले 5 साल में 25 हजार नये मकान बनाये जायेंगे। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने प्रदेशवासियों को ईमानदारी के साथ अपने कार्य-क्षेत्र में कर्त्तव्यों का निर्वहन कराने का संकल्प दिलाया। राज्यपाल ने गणतंत्र दिवस पर प्रदेश की उन हस्तियों को बधाइयाँ दीं, जिन्हें भारत सरकार के पद्मश्री से अलंकृत किया गया है।
जनता के सहयोग से मध्य प्रदेश ने स्थापित किये विकास के नए कीर्तिमान
26 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में बेघर परिवारों को भूखंड उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए प्रदेशव्यापी भूखंड अधिकार अभियान शुरू किया जा रहा है। श्री चौहान ने नागरिकों का आह्वान किया कि ईमानदारी से अपने-अपने कार्य क्षेत्र में अपने निर्धारित कर्तव्यों का पालन करें, संविधान के अनुरूप आचरण करें और समृद्ध मध्यप्रदेश के निर्माण में स्वयं को समर्पित करें। मुख्यमंत्री आज गुना जिला मुख्यालय पर आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में ध्वजारोहण करने के बाद नागरिकों को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने समारोह में परेड की सलामी ली और नागरिकों को गणतंत्र दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दी। जारी रहेगी समृद्धि यात्रा मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश ने विकास और प्रगति के नये कीर्तिमान स्थापित किये हैं। जनता और सरकार के एक साथ खड़े होने से ही यह संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि आगे भी मध्यप्रदेश की समृद्धि की यात्रा जारी रहेगी। मुख्यमंत्री ने विकास की विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि विकास दर दो अंकों में रही है और कृषि विकास दर 18 से 20 प्रतिशत प्रति-वर्ष रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश का बजट दो लाख करोड़ रुपये से ऊपर जा चुका है और प्रति व्यक्ति आय में भी अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। मध्यप्रदेश की विकास दर देश की औसत विकास से अधिक है। श्री चौहान ने कहा कि सभी वर्गों के विकास पर ध्यान देने के लिये समावेशी विकास नीति को अपनाया गया है। श्री चौहान ने विभिन्न क्षेत्रों में विकास का जिक्र करते हुए कहा कि शहरी क्षेत्रों में इस वर्ष के अंत तक पांच लाख आवास तथा वर्ष 2022 तक 10 लाख आवास इकाईयां बन जाएंगी। उज्जवला योजना में अगले एक साल में तीन लाख परिवारों को निशुल्क गैस कनेक्शन दिये जायेंगे। वृद्धजन कल्याण की चर्चा करते हुए श्री चौहान ने कहा कि हर माह सिंगल क्लिक से 36 लाख पेंशनरों के खाते में 116 करोड रुपए की वृद्धावस्था पेंशन दी जा रही है। विधवाओं को पेंशन योजना का लाभ देने में गरीबी रेखा का बंधन नहीं रहेगा। दिव्यांगों के कल्याण के लिए राज्य सरकार की प्रतिबद्धता दोहराते हुए श्री चौहान ने कहा कि इस वर्ष करीब एक लाख 67 हजार दिव्यांगों को यूनिक कार्ड जारी किए गए हैं। यह देश में सर्वाधिक हैं। मेधावी बच्चों की पढ़ाई का खर्चा उठायेगी सरकार शिक्षा के क्षेत्र में हुई प्रगति का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में प्रदेश में हाई स्कूलों की संख्या पौने तीन गुना और हायर सेकंडरी स्कूलों की संख्या ढाई गुना से ज्यादा बढ़ी है। बारहवीं कक्षा में ज्यादा अंक लाने वाले लगभग 19 हजार विद्यार्थियों को कंप्यूटर खरीदने के लिये प्रत्येक विद्यार्थी को 25000 रूपये दिए गए हैं। गरीब मेधावी बच्चों को 12वीं के बाद उच्च शिक्षा की पढ़ाई के लिये धनराशि का अभाव नहीं होने दिया जाएगा । इसके लिये मुख्यमंत्री मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत सरकार उच्च शिक्षा का खर्च उठाएगी। पढ़ाने वालों की केवल एक श्रेणी मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूली शिक्षा में गुणवत्ता के लिए पढ़ाने वालों की केवल एक ही श्रेणी बनाई जा रही है जिसमें अध्यापन कार्य में लगे कर्मचारी अपने मूल कार्य अध्यापन पर ध्यान दे पाएंगे। उन्होंने कहा कि गरीब बच्चों को आसानी से उच्च शिक्षा की सुविधा देने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। जिला चिकित्सालयों में ट्रामा यूनिट स्वास्थ्य के क्षेत्र में उठाया गये नवाचारी प्रयासों की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बाल मृत्यु दर में पिछले एक वर्ष में सर्वाधिक 10 अंकों की कमी आई है जो एक रिकॉर्ड है। टीकाकरण की दर बढकर कर 90% हो गई है। उन्होंने बताया कि सभी जिला चिकित्सालयों में ट्रामा यूनिट की स्थापना की जाएगी और चुने हुए 19 जिला चिकित्सालयों में सीटी स्कैन की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। महिलाओं के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देते हुए आगामी 8 मार्च से 30 मार्च तक महिला स्वास्थ्य परीक्षण शिविर पूरे प्रदेश में लगाए जाएंगे। मेडिकल कालेजों में एमबीबीएस की सीटें बढाई जा रही है। उन्होंने कहा कि कुपोषण दूर करने के लिये साढ़े ग्यारह लाख स्कूली बच्चों को सप्ताह में तीन दिन गुड़-मूंगफली की चिक्की देने की योजना शुरू की जा रही है। टेक होम राशन की व्यवस्था महिला स्व सहायता समूहों के जिला स्तरीय संघों को दी जायेगी। हर साल साढ़े सात लाख युवाओं का कौशल विकास श्री चौहान ने कहा कि छह बड़े शहरों में कचरे से बिजली बनाने की इकाई स्थापित की जा रही हैं। समूह नलजल योजनाओं के जरिए लगभग 5000 गांवों की 56 लाख आबादी को पीने का स्वच्छ पानी उपलब्ध हो जाएगा। एक हजार तक की आबादी वाले गांवों को नलजल योजनाओं से जोड़ा जाएगा। रोजगार के लिए कौशल संवर्धन की आवश्यकता पर जोर देते हुए श्री चौहान ने कहा कि युवा सशक्तिकरण मिशन के अंतर्गत हर साल साढे़ सात लाख युवाओं को कौशल विकास और इतने ही युवाओं को रोजगार औरस्वरोजगार से जोड़ा जाएगा। उन्होंने बताया कि भोपाल में एशियन विकास बैंक की मदद से विश्वस्तरीय ग्लोबल स्किल पार्क की स्थापना की जा रही हैं। श्री चौहान ने कहा कि दीनदयाल अंत्योदय योजना के अंतर्गत ग्रामीण आजीविका मिशन से तेईस लाख से ज्यादा परिवार दो लाख से ज्यादा स्व सहायता समूहों से जोड़े गये हैं। राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन में एक लाख छह हजार हितग्राहियों को कौशल प्रशिक्षण देकर 52 हजार से ज्यादा हितग्राहियों को रोजगार और स्वरोजगार में लगाया गया है। नर्मदा में नहीं मिलेगा प्रदूषित पानी नर्मदा नदी के संरक्षण के लिये निकाली गई अभूतपूर्व नर्मदा सेवा यात्रा की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा नदी के संरक्षण के अभियान को मूर्त रूप देने के लिए नर्मदा सेवा मिशन बनाया गया है। इसके अंतर्गत नर्मदा कछार में छह करोड़ से ज्यादा पौधे रोपे गए हैं। नदी के तट पर चार हजार शांतिधाम बनाए गए हैं ढाई सौ सार्वजनिक शौचालयों का निर्माण किया जा रहा है। पांच घाटों का निर्माण कार्य शुरू किया गया है। नदी में प्रदूषित पानी मिलने से रोकने के लिए सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बनाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि ओंकारेश्वर में आदि शंकराचार्य की 108 फुट ऊंची अष्टधातु की प्रतिमा स्थापित करने के लिए शिलान्यास हो चुका है। उनके एकात्म दर्शन को घर-घर पहुंचाने के लिए एकात्म यात्रा निकाली गई। आदि गुरु शंकराचार्य की स्मृति और प्रेरणा में सांस्कृतिक चेतना न्यास का गठन किया गया है। भावांतर में किसानों को 1500 करोड़ का लाभ कृषि क्षेत्र में हुई अभूतपूर्व प्रगति का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले चार सालों में 18 प्रतिशत सालाना से अधिक औसत कृषि विकास दर हासिल करने वाला देश का एकमात्र प्रदेश है मध्यप्रदेश। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार की मंदी के कारण किसानों को नुकसान की भरपाई के लिए ऐतिहासिक कदम उठाते हुए फसल भावांतर योजना शुरु की गई है । इसमें किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ मिल पाया है । लगभग बारह लाख किसानों को करीब 1500 करोड़ रुपए का लाभ मिलेगा। डिफाल्टर किसानों के लिये समाधान योजना श्री चौहान ने किसानों के लिए खेती का खर्च कम करने के प्रयासों की चर्चा करते हुए कहा कि लगभग 17 लाख किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर का लाभ मिला है । ऐसे किसान जो मजबूरीवश सहकारी बैंकों में डिफाल्टर हो गए हैं, उन्हें भी शून्य प्रतिशत ब्याज परऋण की सुविधा मिलेगी । इसके लिए जल्दी ही समाधान योजना शुरू की जाएगी। कृषि उत्पादन बढ़ाने में सिंचाई के महत्व का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2025 तक प्रदेश में सिंचाई क्षमता 60 लाख हेक्टेयर कर दी जाएगी। नर्मदा-पार्वती, नर्मदा-कालीसिंध नदी को जोड़ने वाली परियोजनाओं पर काम शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिजली के क्षेत्र में प्रदेश पूरी तरह आत्मनिर्भर हो चुका है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्थाई कृषि पंप योजना के अंतर्गत अगले साल जून माह तक पांच लाख अस्थाई कनेक्शनों को स्थाई कर दिया जाएगा। सड़क नेटवर्क से जुड़ेगा हर गांव सड़क नेटवर्क को मजबूत बनाने के प्रयासों की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में अब तक 75 हजार किलोमीटर से ज्यादा सड़कों का निर्माण हो चुका है। अब प्रदेश का कोई भी गांव पहुंच विहीन नहीं रह पाएगा। अनुसूचित जाति, जनजाति के विकास के लिए अपना संकल्प दोहराते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इन वर्गों के विकास के लिए पंचवर्षीय एकीकृत योजना तैयार की जा रही है। अल्पसंख्यक वर्ग के कल्याण की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार को छात्रवृत्तियों के लिए करीब डेढ़ लाख प्रकरण भेजे गए हैं। महिला सशक्तिकरण की दिशा के लिये किये गए प्रयासों का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि लाडली लक्ष्मी योजना में 27 लाख बालिकाओं को लाभ मिल चुका है। प्रदेश के 18 जिलों में वन स्टॉप सेंटर प्रारंभ हो गए हैं और अन्य आठ जिलों में भी जल्दी ही ये सेंटर खोले जाएंगे। बदल रहा निवेश परिवेश बदलते निवेश परिदृश्य के संबंध में मुख्यमंत्री ने बताया कि निवेशकों की सुविधा के लिए इन्वेस्ट पोर्टल बनाया गया है। प्रदेश में 2300 करोड रूपये की लागत से इस वर्ष 22 नए औद्योगिक क्षेत्रों की स्थापना की जायेगी। उन्होंने कहा कि सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग इकाइयों के लिए प्रोत्साहन योजना अप्रैल माह से प्रभावशील हो जाएगी। मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना, कृषक उद्यमी योजना, मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना, मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना का उल्लेख करते हुए श्री चौहान ने कहा कि इन योजनाओं से छह लाख युवाओं को लाभान्वित किया गया है। उन्होंने कहा कि पब्लिक स्कूल की तर्ज पर इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर में स्थापित हो रहे श्रमोदय विद्यालयों में इस शैक्षणिक सत्र से 3200 बच्चों को प्रवेश दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सुशासन की दिशा में एक बड़ा कदम उठाते हुए अब 'समाधान एक दिन में' योजना लागू की जा रही है। इसके अंतर्गत लोगों को एक ही दिन में चयनित नागरिक सेवाएं प्राप्त हो जाएंगी। भू राजस्व संहिता में होगा जरूरी बदलाव राजस्व प्रशासन में आये सुधार का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले साल करीब साढे़ ग्यारह लाख राजस्व प्रकरणों का निराकरण किया गया । राजस्व महाभियान में दस लाख अविवादित नामांतरण एवं बंटवारे के प्रकरणों का निराकरण हुआ है। किसानों को सवा चार करोड़ खसरा खतौनी की नकलें निशुल्क दी गई हैं। उन्होने कहा कि भू-राजस्व संहिता में जरूरी बदलाव के लिए समिति गठित की गई है। पर्यटन विकास की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 जल क्षेत्रों पर जल पर्यटन केंद्र विकसित किए जा रहे हैं। इस वर्ष गांधी सागर में जल महोत्सव की शुरुआत की जा रही है। भोपाल में भारत माता की प्रतिमा और वीर भारत परिसर का निर्माण किया जायेगा। अगले माह शुरू होंगी रेत खदानें मुख्यमंत्री ने बताया कि नई रेत उत्खनन नीति में अगले माह से बड़ी संख्या में रेत खदानें शुरू हो जाएंगी। तेंदूपत्ता संग्राहकों के लिए चरण पादुका योजना शुरू की जा रही है। इसके अंतर्गत 21 लाख से ज्यादा संग्राहकों को जूता चप्पल, पानी की बॉटल और महिला संग्राहकों को साड़ी दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आनंद विभाग के अंतर्गत 172 स्थानों पर अधिक सामान जरूरतमंदों के लिये छोड़ने की व्यवस्था की गई है। नरपिशाचों को मिलेगी फांसी महिला अपराधों को नियंत्रित करने के उद्देश्य विशेष कानून का जिक्र करते हुए श्री चौहान ने कहा कि 12 वर्ष से कम उम्र की बालिका के साथ दुष्कर्म अथवा सामूहिक दुष्कर्म के लिए दोषियों को मृत्युदंड देने का प्रावधान किया गया है। केंद्र सरकार से स्वीकृति मिलने के बाद यह कानून लागू हो जाएगा। उन्होंने डायल 100 व्यवस्था, शहरों में सीसीटीवी लगाने जैसे प्रयासों का भी उल्लेख किया।
मुख्यमंत्री ने स्व.जावेद की पत्नी को दिया दो लाख का चेक
26 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गुना में स्व.श्री जावेद के घर जाकर उनकी पत्नी को दो लाख रूपये का चेक प्रदान किया। मुख्यमंत्री ने जावेद के नवजात शिशु का नामकरण कर उसका नाम अब्दुल कादिर रखा। उल्लेखनीय है कि एक सड़क हादसे में श्री जावेद की मृत्यु हो गई थी और जानकारी मिलने पर गुरूवार को रात्रि में मुख्यमंत्री उनके घर गए थे, जहां उन्होंने पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की थी और सहायतानुदान राशि देने की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री ने दो लाख रूपये जावेद की पत्नी और दो लाख रूपये उसके नवजात शिशु को देने की घोषणा की है।
सभी आवासहीनों को जमीन का मालिक बनाया जाएगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान
26 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान गुरुवार रात गुना में बूढ़े बालाजी झुग्गी बस्ती में पहुँचे। बस्तीवासियों को मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य सरकार ने प्रदेश में गरीब वर्गों के लिये एक रूपये किलो गेहूं एवं एक रूपये किलो चावल उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि इस व्यवस्था का उद्देश्य है कि कोई भी गरीब भूखा न रहे। मुख्यमंत्री ने झुग्गीबस्ती वासियों को बताया कि मध्यप्रदेश की धरती पर कोई भी गरीब बगैर जमीन के नहीं रहेगा। सबको पट्टा देकर जमीन का मालिक बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सभी आवासहीनों को पट्टा देने का अभियान शुरू किया जा रहा है। पट्टे की जमीन पर उन्हें मकान भी बनाकर दिलवाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि गुना शहर में अभी इस तरह के 1800 मकान बनवाए जा रहे हैं। इस तरह के मकान और भी बनवाएं जाएंगे। कोई भी व्यक्ति बगैर मकान के नहीं रहेगा। श्री चौहान ने बेटा-बेटियों से कहा कि खूब पढ़ो, आगे बढ़ो। बारहवीं कक्षा में अच्छे नंबरों से पास हो तो मेडीकल कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज, आई.टी.आई, पॉलीटेक्निक कॉलेज, लॉ कॉलेज या विदेशों में उच्च शिक्षा संस्थानों में एडमिशन दिलवाने के लिए जो भी फीस लगेगी, उसका भुगतान राज्य सरकार करेगी। मुख्यमंत्री ने लोगों से आग्रह किया कि अपने बेटे-बेटियों को बराबर समझें और बेटों के समान ही बेटियों को भी पढ़वायें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को समाज के हर वर्ग के कल्याण की चिंता है। राज्य सरकार इस दिशा में लगातार काम भी कर रही है।
मुख्यमंत्री निवास में प्रमुख सचिव श्री मिश्रा ने किया ध्वजारोहण
26 January 2018
गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री निवास पर मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री एस.के. मिश्रा ने आज सुबह ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री सचिवालय के अधिकारी, मुख्यमंत्री के निजी प्रशासनिक एवं सुरक्षा स्टाफ में पदस्थ अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे।
राज्यपाल द्वारा राजभवन में ध्वजारोहण
26 January 2018
राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज गणतंत्र दिवस पर राजभवन परिसर में प्रात: आठ बजे राष्ट्रीय ध्वज फहराया। ध्वजारोहण के पश्चात राज्यपाल ने पुलिस की टुकड़ी की सलामी ली। राज्यपाल ने इस अवसर पर राजभवन उद्यान में पीपल का पौधा भी लगाया। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने इस अवसर पर राजभवन के अधिकारियों और कर्मचारियों तथा बच्चों को गणतंत्र दिवस की बधाई दी तथा मिष्ठान वितरित किया। गरिमामय ध्वजारोहण कार्यक्रम में राज्यपाल के प्रमुख सचिव डॉ. एम. मोहनराव तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।
गणतंत्र दिवस समारोह में लाल परेड ग्राउण्ड पर हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम
26 January 2018
भोपाल के लाल परेड ग्राउण्ड में राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल की उपस्थिति में हुए राज्य-स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह में स्कूल के बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये। प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में हासिल की गई उपलब्धियों को आकर्षक झाँकियों के माध्यम से प्रदर्शित किया गया। राज्यपाल ने इस मौके पर राजस्व विभाग के अधिकारियों को उनके द्वारा किये गये उत्कृष्ट कार्य के लिये सम्मानित किया। राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल ने लाल परेड ग्राउण्ड पर पौध-रोपण भी किया। राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस पर लोक-रंगीय समारोह में आकर्षक प्रस्तुतियाँ दी गईं। सांस्कृतिक समारोह की पहली प्रस्तुति शासकीय दृष्टि एवं श्रवण बाधितार्थ उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, भोपाल के मूक-बधिर बच्चों ने तिरंगा बनाकर अपनी राष्ट्रभक्ति की भावना का प्रदर्शित किया। मॉडल उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों ने डिजिटल इण्डिया और स्वच्छ भारत की थीम पर प्रस्तुति दी। नृत्य प्रस्तुति में मध्यप्रदेश के तीर्थ-स्थल और पर्यटन-स्थलों को दिखाने के साथ-साथ राजाभोज के गौरव और मध्यप्रदेश की नीतियों का भी आकर्षक ढंग से वर्णन किया गया। शासकीय कन्या कमला नेहरू उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, टी.टी. नगर की छात्राओं ने सामूहिक नृत्य के माध्यम से भारत की सांस्कृतिक धरोहर की बहु-रंगीय झलकियाँ प्रस्तुत कीं। नृत्य के माध्यम से सांस्कृतिक विविधता को प्रस्तुत किया गया था। शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, बरखेड़ा, भेल की छात्राओं ने गाँधीजी के सपनों का भारत थीम पर नृत्य की प्रस्तुति दी। नृत्य में भारत की गौरव-गाथा के साथ-साथ चरखे से भारत की आजादी का सपना दिखाया गया। सरोजनी नायडू कन्या विद्यालय, शिवाजी नगर की छात्राओं ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर नृत्य की प्रस्तुति दी। प्रस्तुत गीत में 'बेटी है तो माँ है, बेटी है तो सृष्टि है, बेटी है तो कल'' को प्रदर्शित किया गया। नृत्य में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा बेटियों के उत्थान में शुरू की गई महत्वपूर्ण योजनाओं का समावेश किया गया था। प्रदेश के आदिवासी अंचल की लोक-संस्कृति को भगोरिया नृत्य के माध्यम से प्रस्तुत किया गया। भगोरिया नृत्य में आदिवासी युवक-युवतियों ने नृत्य की आकर्षक मुद्राएँ प्रस्तुत कीं। उनकी रंग-बिरंगी वेशभूषा और श्रृंगार आकर्षण का केन्द्र रही। झाँकियों का प्रदर्शन उद्यानिकी विभाग की झाँकी में उद्यानिकी फसलों के बढ़ते रकबे और उद्यानिकी उत्पाद के निर्यात को आकर्षक तरीके से प्रस्तुत किया गया। आदिम-जाति कल्याण विभाग की झाँकी में 'उत्थान'' जनजातीय विकास के सुनहरे दस साल को दिखाया गया। झाँकी में आदिवासी अंचलों में स्वास्थ्य सेवा, युवाओं के हुनरमंद और आत्म-निर्भरता को भी दिखाया गया। किसान-कल्याण तथा कृषि विभाग की झाँकी में कृषि कर्मण अवार्ड के लगातार हासिल होने, गेहूँ उत्पादन में देश के बड़े उत्पादक राज्यों को पीछे छोड़कर दूसरा स्थान हासिल करने, शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर कृषि ऋण और भावांतर भुगतान योजना से प्रदेश के किसानों को मिली राहत को दर्शाया गया। गृह (पुलिस) विभाग की झाँकी में मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना डॉयल-100 को प्रदर्शित किया गया। झाँकी में महिला अपराध हेल्पलाइन-1090 को भी प्रदर्शित किया गया। इसके साथ दस्यु उन्मूलन और आतंकवादमुक्त मध्यप्रदेश के लिये किये जा रहे प्रयासों को भी प्रदर्शित किया गया। जल-संसाधन विभाग की झाँकी में कुण्डालिया वृहद परियोजना का बाँध, जो 3448 करोड़ रुपये की लागत से राजगढ़ जिले के विकासखण्ड जीरापुर के ग्राम कोठरी में बनाया जा रहा है, उसे प्रदर्शित किया गया। झाँकी में सिंचाई जल के अपव्यय को रोकने के लिये माइक्रो इरीगेशन को भी प्रदर्शित किया गया। जेल विभाग की झाँकी में 10 वर्ष में प्रदेश के जेलों में किये गये विकास कार्य एवं कैदियों को हुनरमंद बनाने के कार्यों को प्रदर्शित किया गया। नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा विभाग की झाँकी में सोलर पम्प और सोलर रूफटॉप योजना को प्रदर्शित किया गया। इसके साथ ही झाँकी में प्रदेश में एलईडी बल्बों के वितरण को भी दिखाया गया। पशुपालन विभाग की झाँकी में पशु चिकित्सा सेवा का विस्तार, गोकुल महोत्सव में पशु चिकित्सा कैम्पों का आयोजन, दुग्ध उत्पादन में वृद्धि को आकर्षक ढंग से प्रदर्शित किया गया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की झाँकी में स्वच्छता मिशन से आ रहे बदलाव और प्रधानमंत्री आवास योजना के क्रियान्वयन की जानकारी दी गई। पुरातत्व अभिलेखागार की झाँकी में 18वीं शताब्दी का महिदपुर दुर्ग और गोहद का किला को दिखाया गया। पर्यटन विभाग की झाँकी में पर्यटन विकास का सुनहरा दशक और 'एम.पी. में दिल हुए बच्चे सा'' की थीम को प्रदर्शित किया गया। झाँकी में हेरीटेज सिटी चंदेरी का 'बादल महल दरवाजा'' को प्रदर्शित किया गया। उच्च शिक्षा विभाग की झाँकी में विश्वविद्यालय के गौरव पूर्व छात्र नोबल पुरस्कार विजेता श्री कैलाश सत्यार्थी के चित्र को प्रदर्शित किया गया। इसके साथ ही बरकतउल्ला विश्वविद्यालय, भोपाल के कार्यकलापों को भी झाँकी में प्रदर्शित किया गया। महिला बाल विकास विभाग की झाँकी में लाड़ली लक्ष्मी योजना, तेजस्विनी कार्यक्रम, दत्तक ग्रहण की ऑनलाइन प्रक्रिया को प्रदर्शित किया गया। इसके साथ ही झाँकी में महिलाओं के कल्याण के लिये चलाई जा रही योजनाओं में मिले राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों को भी प्रदर्शित किया गया। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय की झाँकी 'मजबूत लोकतंत्र सबकी भागीदारी'' के अंतर्गत सुलभ निर्वाचन थीम पर तैयार की गई थी। झाँकी में मतदाता शिक्षा, आदर्श मतदान-केन्द्र और 'व्हीव्हीपीएटी जागरूकता वैन'' को प्रदर्शित किया गया था। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की झाँकी में घरेलू नल-कनेक्शन के माध्यम से पेयजल आपूर्ति का दृश्यांकन किया गया था। वन विभाग की झाँकी में प्रदेश की वन सम्पदा, लघु वनोपज का संग्रहण एवं संग्राहकों को दी जाने वाली सुविधा एवं बाघों की बढ़ती संख्या को प्रदर्शित किया गया। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद की झाँकी में उज्जैन में नव-निर्मित तारा-मण्डल और वेधशाला की प्रतिकृति प्रस्तुत की गई। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग विभाग की झाँकी में स्टार्ट-अप योजना और उद्योग केन्द्रों में स्व-रोजगार के लिये दी जाने वाली काउंसिलिंग को प्रदर्शित किया गया। स्कूल शिक्षा विभाग की झाँकी में विद्यार्थियों को दी जाने वाली विभिन्न प्रकार की छात्रवृत्ति के सरलीकरण के लिये शुरू की गई समेकित छात्रवृत्ति योजना मिशन वन क्लिक को प्रदर्शित किया गया। प्रदेश में 8 विभागों की 30 प्रकार की छात्रवृत्ति समग्र शिक्षा पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन करते हुए स्कूल शिक्षा विभाग को नोडल अधिकारी बनाया गया है। मिशन वन क्लिक में करीब डेढ़ करोड़ विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति का वितरण ऑनलाइन द्वारा किया जा रहा है। इसका प्रदर्शन स्कूल शिक्षा विभाग की झाँकी में आकर्षक तरीके से किया गया।
गणतंत्र दिवस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान गुना में करेंगे ध्वजारोहण
24 January 2018
गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान गुना में ध्वजारोहण करेंगे। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा होशंगाबाद और उपाध्यक्ष श्री राजेन्द्र कुमार सिंह सतना में ध्वजारोहण करेंगे। विभिन्न जिलों में मंत्रिमंडल के सदस्य ध्वजारोहण एवं मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे। क्र. नाम मंत्री/राज्य मंत्री जिला 1 श्री जयंत मलैया दमोह 2. श्री गोपाल भार्गव जबलपुर 3. डॉ. गौरीशंकर शेजवार रायसेन 4. डॉ.नरोत्तम मिश्रा दतिया 5. श्री ओमप्रकाश धुर्वे डिण्डोरी 6. कुंवर विजय शाह इंदौर 7. श्री गौरीशंकर बिसेन बालाघाट 8. श्री रूस्तम सिंह मुरैना 9. श्रीमती अर्चना चिटनिस बुरहानपुर 10. श्री उमाशंकर गुप्ता छिन्दवाड़ा 11. सुश्री कुसुम मेहदेले पन्ना 12. श्री पारस जैन उज्जैन 13. श्री राजेन्द्र शुक्ल रीवा 14. श्री अंतर सिंह आर्य बड़वानी 15. श्री रामपाल सिंह सीहोर 16. श्रीमती माया सिंह ग्वालियर 17. श्री भूपेन्द्र सिंह सागर 18. श्री जयभान सिंह पवैया भिण्ड 19. श्री दीपक जोशी देवास 20. श्री लाल सिंह आर्य बैतूल 21. श्री सुरेन्द्र पटवा आगर-मालवा 22. श्री संजय सत्येन्द्र पाठक कटनी 23. श्रीमती ललिता यादव छतरपुर 24 श्री विश्वास सारंग राजगढ़ 25. श्री सूर्यप्रकाश मीणा विदिशा शेष जिलों में कलेक्टर ध्वजारोहण करेंगे और मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे।
अमरकंटक को 155 करोड़ से मिनी स्मार्ट सिटी बनाएंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान
24 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अमरकंटक को मिनी स्मार्ट सिटी बनाएंगे। इस कार्य पर 155 करोड़ रूपये की राशि व्यय की जायेगी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में नर्मदा के बिना सुखमय जीवन की कामना नहीं की जा सकती। मुख्यमंत्री नर्मदा जयंती पर अनूपपुर जिले के अमरकंटक में रामघाट पर आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित विशाल जन-समुदाय को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अमरकंटक में 12 करोड़ 56 लाख रूपये लागत की जल प्रदाय योजना और साढ़े 18 करोड़ रुपये लागत के सीवरेज प्लांट का भूमि-पूजन किया। श्री चौहान ने अमरकंटक में स्वच्छता और अधोसंरचना विकास के लिये सवा 5 करोड़ रुपये देने की घोषणा भी की। श्री चौहान ने कहा कि नमामि देवि नर्मदे-सेवा यात्रा के दौरान नर्मदा को प्रदूषण-मुक्त बनाने के लिये जो संकल्प राज्य सरकार ने लिया था, उसे सामाजिक सहभागिता के साथ पूरा किया जायेगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा के तट पर स्थित सभी शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों में जन-जागरण के साथ-साथ निर्माण कार्य कराने का काम सरकार द्वारा किया जा रहा है। इसी कड़ी में गत वर्ष नर्मदा तटीय क्षेत्रों पर लगभग 2 करोड़ पौधे रोपित करने का कार्य किया गया था। इस वर्ष भी पौध-रोपण करवाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने लोगों का आव्हान किया कि नर्मदा में गन्दा पानी न छोड़ें और जल-संरक्षण एवं संवर्द्धन के कार्य करवाने के लिये आगे आयें। उन्होंने माँ नर्मदा की निर्मलता को बनाये रखने के लिये मिलकर प्रयास करने की आवश्यकता बतायी। इस अवसर पर सांसद श्री ज्ञान सिंह, अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष श्री नरेन्द्र सिंह मरावी, विधायक श्रीमती प्रमिला सिंह, अमरकंटक विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अम्बिका प्रसाद तिवारी सहित अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे। अध्यापक संवर्ग ने किया मुख्यमंत्री का स्वागत कार्यक्रम में अध्यापक संवर्ग ने शिक्षकों के हित में मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा हाल ही में लिये गये निर्णय की सराहना की और मुख्यमंत्री का ह्रदय से स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि अध्यापक खूब पढ़ायें, बच्चों को आगे बढ़ायें। अध्यापक संवर्ग का कहना था कि हम सबके जीवन की आकांक्षा मुख्यमंत्री निर्णय ने पूरी कर दी है। शालाओं एवं समाज में हमारा जो दोयम दर्जा था, उससे मुक्ति मिल गई है। हम ईमानदारी से कार्य करते हुए बच्चों एवं देश के भविष्य को सँवारने में जुट गये हैं।
नर्मदा नदी से लगे शहरों में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाये जायेंगे
24 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि डिण्डोरी शहर में 31 करोड़ 53 लाख रुपये की लागत से सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया जायेगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी को प्रदूषित नहीं होने दिया जायेगा। श्री चौहान आज नर्मदा जयंती के अवसर पर डिण्डोरी में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के शिलान्यास के बाद आयोजित जिला-स्तरीय अंत्योदय मेले को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि डिण्डोरी में लगने वाले सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट से मल-जल को साफ किया जायेगा और साफ पानी को खेतों में सिंचाई के लिये पहुँचाया जायेगा। उन्होंने नागरिकों से नर्मदा नदी में पूजन सामग्री नहीं डालने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूजन सामग्री के लिये नर्मदा नदी के तटों पर पूजन-कुण्ड बनाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट को सफलतापूर्वक संचालित करने के लिये निर्माण करने वाली संस्था से 10 वर्ष के लिये करार किया जायेगा। स्कूल शिक्षा की गुणवत्ता की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जल्द ही करंजिया, समनापुर और अमरपुर में एक-एक कॉलेज खोला जायेगा। मुख्यमंत्री ने डिण्डोरी महाविद्यालय में आगामी शिक्षण सत्र से एम.कॉम. की कक्षाएँ प्रारंभ करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही अध्यापकों के अलग-अलग संवर्गों का स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन किया जायेगा। श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में नर्मदा जयंती का पर्व पूरी धूमधाम से तीन दिन तक मनाया जायेगा। आगामी 2 जुलाई को नर्मदा नदी के क्षेत्र को हरा-भरा रखने के लिये 8 करोड़ पौधे लगाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी मध्यप्रदेश की जीवन-दायिनी है। नर्मदा नदी के जल से खेतों में सिंचाई और घरों में बिजली मिलती है। उन्होंने कहा कि 'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा में लिये गये संकल्पों को पूरा किया जायेगा। कार्यक्रम को खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री ओमप्रकाश धुर्वे ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर विधायक श्री ओमकार मरकाम और स्थानीय जनप्रतिनिधि भी उपस्थित थे।
प्रदेश में वर्ष 2022 तक हर व्यक्ति का होगा अपना पक्का मकान
24 January 2018
वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि वर्ष 2022 तक हर व्यक्ति का अपना पक्का मकान होगा। जिनके पास मकान के लिये जमीन नहीं है, उन्हें जमीन का पट्टा दिया जायेगा। कोई भी पात्र व्यक्ति आवास से वंचित नहीं रहेगा। वित्त मंत्री श्री मलैया ने आज दमोह में 252 हितग्राहियों को आवास अधिकार-पत्र वितरित किये। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कहा कि राज्य सरकार ने जरूरतमंद वर्ग की भलाई के लिये अनेक काम किये हैं। आवागमन की सुविधा के लिये गाँव को सड़कों से जोड़ा गया है। गरीब परिवार के प्रतिभावान बच्चे उच्च शिक्षण संस्थान में पढ़ाई कर सकें, इसके लिये उनकी फीस की प्रतिपूर्ति राज्य सरकार द्वारा की जायेगी। वित्त मंत्री ने बताया कि 45 करोड़ की लागत से जुझार-घाट से दमोह में पानी लाया गया है और 27 करोड़ की लागत से शहर में पाइप लाइन डाली जा रही है। अब हर घर में नल कनेक्शन होगा। जरूरतमंद सम्मानजनक तरीके से व्यापार कर सकें, इसके लिये सब्जी मार्केट में 240 शेड बनाये जा रहे हैं।
हजारों बाइकों के साथ तिरंगा यात्रा निकालेंगे राज्य मंत्री श्री सारंग
24 January 2018
सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री(स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग लोगों में देशप्रेम और राष्ट्रीय भावना जगाने के लिए गणतंत्र दिवस के एक दिन पूर्व नरेला क्षेत्र के सुभाष नगर स्टेशन और मंडल में निकलने वाली तिरंगा यात्रा का नेतृत्व करेंगे। तिरंगा यात्रा 25 जनवरी को सुबह 09.30 बजे अन्नानगर बौद्ध विहार के चैराहे से शुरू होगी। यात्रा का 68 स्थानों पर भव्य स्वागत किया जाएगा। गणतंत्र दिवस की 68वीं वर्षगांठ पर आयोजित तिरंगा यात्रा में इस वर्ष 68 स्वागत मंच बनाए गए हैं। तिरंगा यात्रा में दोनों मंडलों के 12 वार्डों से 12 वाहिनी शामिल होंगी। वार्ड 36 से भगत सिंह वाहिनी, वार्ड 37 से राजगुरू वाहिनी, वार्ड 38 से सुखदेव वाहिनी, वार्ड 39 से चन्द्रशेखर आजाद वाहिनी, वार्ड 40 से रामप्रसाद बिस्मिल, वार्ड 41 से अशफाक उल्ला खान, वार्ड 44 से सुभाष चन्द्र बोस , वार्ड 58 से वीर सवारकर , वार्ड 59 से खुदीराम बोस, वार्ड 69 से तत्या टोपे वाहिनी, वार्ड 70 से लक्ष्मीबाई वाहिनी और वार्ड 71 से मंगल पांडे वाहिनी तिरंगा यात्रा में शामिल होंगी। राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग ने बताया है कि तिरंगा यात्रा में सम्मिलित मोटर साईकिल सवार तीन रंगो की पगड़िया पहनेंगे और कतारबद्ध होकर अनुशासित ढंग से चलेंगे। यात्रा रूट पर नागरिक मानव श्रंखला बनाएंगे और राष्ट्रीय ध्वज का पुष्पों द्वारा स्वागत करेंगे। राज्य मंत्री श्री सारंग ने बताया कि वह स्वयं तिरंगा लेकर बौद्ध विहार से दुर्गाधाम मंदिर तक यात्रा में शामिल होंगे। राष्ट्र प्रेम, देश भक्ति की भावना जगाने और निष्ठावान, अनुशासित, समर्पित नागरिक मूल्यों की प्रेरणा देने के लिए तिरंगा यात्रा का आयोजन नरेला विधानसभा क्षेत्र के नागरिकों द्वारा पिछले अनेक वर्षों से किया जा रहा है। यात्रा में स्व-प्रेरणा से स्थानीय नागरिक शामिल होते हैं और उत्साह के साथ व्यवस्था में भाग लेते हैं। राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग ने बताया कि रैली में पूरी तरह अनुशासित होकर बाइक सवार शामिल होंगे। रैली के दौरान स्वागत स्थानों पर रैली में शामिल यात्रियों के लिए पेयजल आदि की पर्याप्त व्यवस्था रहेगी। उन्होंने बताया कि देशभक्ति के गीतों की धुन पर रैली में चलने वालों का अदभुत दृश्य होता है। यात्रा बौद्ध विहार से प्रारंभ होकर विधानसभा क्षेत्र के प्रमुख स्थानों अन्नानगर, सिक्युरिटी लाइन, विकास नगर, कैलाश नगर, चेतक ब्रिज, आफिस काम्प्लेक्स, विवेकानंद चैराहा, स्वाभीमान चैक, जनता क्वाटर, पुराना नगर, पशुपतिनाथ मंदिर, आचार्य नरेन्द्रदेव नगर, अन्नपूर्णा नगर, खेल मैदान ओल्ड सुभाष नगर, शक्ति मंदिर, डायनामिक स्कूल, सुदामा नगर, महेश्वरी शादी हाल गोविंद गार्डन, रोशन हाॅस्पिटल, अप्सरा टाकिज, अर्जुन नगर, प्रभात चैराहा, अमृत काम्प्लेक्स, बाबा चैराहा, 80 फिट रोड़, परिहार चैराहा, नेहरू नगर, विवेकानंद चैराहा, दुर्गाधाम मंदिर, सोनिया गांधी, ऐशबाग, चाणक्यपुरी, महामाई का बाग, कम्मू का बाग, पुष्पानगर चैराहा, हिनोतिया, शिवनगर, माली कैंपस, बजरिया चैकी, गरम गड्डा रोड़, चांदबड़ से पावर हाउस रोड़, स्टेशन, द्वारका नगर, राजेन्द्र नगर, खुशीपुरा, विजय नगर, सेमरा, सेमरा मंदिर, सुभाष काॅलोनी, सौभाग्य नगर, सुन्दर नगर, थाना अशोका गार्डन से होते हुए दुर्गाधाम मंदिर अशोका गार्डन में यात्रा का समापन होगा।
पुराने लंबित राजस्व प्रकरणों के निराकरण में तेजी लायें: मुख्य सचिव श्री सिंह
24 January 2018
मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह ने आज सतना में रीवा संभाग के राजस्व प्रकरणों की समीक्षा करते हुए राजस्व अधिकारियों से कहा कि पुराने लंबित राजस्व प्रकरणों का तेजी से निराकरण किया जाये। उन्होंने संभाग में राजस्व वसूली के लक्ष्य को तय समय-सीमा में हासिल करने के निर्देश दिये। मुख्य सचिव ने कहा कि जिलों में भू-अर्जन के मामलों में शत-प्रतिशत मुआवजा राशि का भुगतान होना चाहिये। उन्होंने कहा कि सी.एम. हेल्पलाइन के प्रकरण अत्यंत संवेदनशील की श्रेणी में आते हैं। इन प्रकरणों का हर हाल में निराकरण सुनिश्चित किया जाये। मुख्य सचिव ने संभाग के 4 जिलों में राजस्व प्रकरणों के निराकरण की प्रगति पर संतुष्टि जाहिर की। प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरुण कुमार पाण्डे ने निर्देश दिये कि जनवरी माह के अंत तक विधानसभा आश्वासन के लंबित प्रकरणों में आश्वासन की पूर्ति कर उसका प्रतिवेदन वरिष्ठ कार्यालय को भेजा जाये। प्रमुख सचिव लोक सेवा प्रबंधन श्री हरिरंजन राव ने बताया कि प्रदेश में गुणवत्तापूर्ण राजस्व प्रशासन और प्रबंधन के लिये विशेष पहल की जा रही है। आर.सी.एम.एस. में नई सुविधाओं को जोड़ा गया है। अब आर.सी.एम.एस. को सम्पदा एप्लीकेशन के साथ जोड़ा जाना है। इससे रजिस्ट्री होते ही नामांतरण और बँटवारा के प्रकरण राजस्व न्यायालय में स्वत: ही दर्ज हो जायेंगे। उन्होंने बताया कि जल्द ही प्रदेश में सभी प्रकार के राजस्व शुल्क जमा करने के लिये मनी ट्रांजेक्शन के विकल्प भीम एप का उपयोग किया जा सकेगा। उन्होंने वेब बेस्ड भू-अभिलेख संबंधी प्रक्रिया की भी जानकारी दी। सतना, सिंगरौली, सीधी और रीवा के राजस्व अधिकारियों ने न्यायालयों में किये गये नवाचार के बारे में जानकारी दी।
बेरोजगार सेना जन प्रतिनिधियों से मांगेगी समर्थन 24 January 2018
बेरोजगार सेना प्रमुख अक्षय हुंका ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर जानकारी दी कि बेरोजगार सेना शिक्षित युवा गारंटी कानून की मांग को लेकर लगातार आंदोलन कर रही है। रविवार को सेना द्वारा बोर्ड आफिस चौराहे पर प्रदर्शन किया गया था, जिसमें सैकड़ों युवा शामिल हुए थे। केवल 10 पहले बनी इस सेना में अब तक 2000 लोग शामिल हो चुके हैं। अक्षय हुंका ने बताया कि इस मुहिम को और तेज करने के लिए बेरोजगार सेना जन प्रतिनिधियों से मुलाकात करेगी। पहले चरण में भोपाल शहर के युवा पार्षदों से मुलाकात कर समर्थन मांगा जाएगा। कल शाम से प्रारंभ हुई इस मुहिम में पहले दिन ही निम्न पार्षदों ने इसका समर्थन किया। श्री गिरीश शर्मा (पार्षद वार्ड 67) श्री प्रदीप मोनू सक्सेना (पार्षद वार्ड ) रईसा मालिक जी (पार्षद वार्ड 22) श्री अमित शर्मा (पार्षद वार्ड 31) श्री शाहबर मंसूरी (पार्षद वार्ड 19)
राष्ट्रीय मतदाता-दिवस आज
24 January 2018
राष्ट्रीय मतदाता दिवस 25 जनवरी को उत्कृष्ट विद्यालय सुभाष स्कूल में नागरिकों को मतदाता दिवस की शपथ मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह दिलवायेंगे। इसके साथ ही सभी जिले में भी कार्यक्रम होंगे। मध्यप्रदेश में इस साल आठवीं बार मनाया जा रहा है राष्ट्रीय मतदाता दिवस। मध्यप्रदेश में 25 जनवरी को भोपाल सहित सभी जिलों में राष्ट्रीय मतदाता-दिवस मनाया जायेगा। जिलों में होने वाले कार्यक्रम में नागरिकों को मतदाता-दिवस की शपथ दिलवायी जायेगी। राज्य-स्तरीय समारोह भोपाल के सुभाष उत्कृष्ट विद्यालय में सुबह 11 बजे से होगा। समारोह के मुख्य अतिथि मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह होंगे। कार्यक्रम में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्रीमती सलीना सिंह और अन्य विशिष्ट जन उपस्थित रहेगे। मुख्य सचिव, भारत में निर्वाचन प्रक्रिया संबंधी प्रदर्शनी का शुभारंभ भी करेंगे। भारत निर्वाचन आयोग ने इस साल मतदाता-दिवस की थीम 'सुलभ-निर्वाचन'' रखी है। मुख्य सचिव नये मतदाताओं को 'मतदाता होने का गर्व है' का बैज लगाकर वोटर आईडी प्रदान करेंगे। कार्यक्रम में मतदाता दिवस पर फिल्म का प्रदर्शन भी होगा। पुरस्कार समारोह में वर्ष 2017 के दौरान निर्वाचन प्रक्रिया में श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिये कटनी के जिला कलेक्टर श्री विशेष गढ़पाले, उप जिला निर्वाचन अधिकारी की श्रेणी में छिन्दवाड़ा के श्री आलोक कुमार श्रीवास्तव, बालाघाट की श्रीमती मीना मेश्राम और सिवनी जिले के श्री कामेश्वर चौबे, जिला निर्वाचन पर्यवेक्षक की श्रेणी में छिन्दवाड़ा के श्री सुधीर कोहले, बालाघाट के श्री डी.के. पटले, दमोह के श्री मनोज कुमार राज, निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी श्रेणी में पाढुर्ना जिला छिन्दवाड़ा के श्री दीपक कुमार, बैहर जिला बालाघाट के श्री गोविन्द दुबे और ब्यावरा जिला राजगढ़ की सुश्री अंजली शाह को पुरस्कृत किया जायेगा। संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में 18-19 आयु वर्ग के अधिकतम मतदाताओं के नाम जोड़ने पर 6 बीएलओ को पुरस्कृत किया जायेगा। इनमें अलीराजपुर के 7-झडोली बूथ के श्री दीवान सिंह गेहलोद, कटनी जिले के मुड़वारा के बूथ क्रमांक 230 के श्री दिनेश विश्वकर्मा, झाबुआ जिले के पेटलावाद के बूथ क्रमांक 288 के श्री दिनेश टाँक, होशंगाबाद जिले के पिपरिया के बूथ क्रमांक 48 -हथावस के श्री डी.पी. राय एवं खरगोन जिले के डोंगरगांव के श्री अरविन्द पाटीदार शामिल है। सीईओ कार्यालय के अधिकारी-कर्मचारी वर्ष 2017 के दौरान निर्वाचन कार्यों में सक्रिय भागीदारी और श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिये मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में पदस्थ 25 अधिकारी-कर्मचारियों को भी इस अवसर पर पुरस्कृत किया जायेगा। इनमें संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री एस.एस.बंसल, सहायक मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री जमील खान, प्राध्यापक (सीहोर) श्रीमती ऊषा नायर, प्राध्यापक (भोपाल) श्री पवन पंडित, निज सचिव श्री बी.एस. सावनेर, ए.एस.एल.आर. श्री नीलम जैन, सहायक प्रोग्रामर श्री प्रवास जैन, स्टेनोग्राफर श्री दिनेश रघुवंशी, सहायक ग्रेड-2 श्रीमती अनिता तिवारी व श्री गणेशराम, ड्राफ्टमेन श्रीमती संगीता वर्मा, प्रोग्रामर श्री विनय देशमुख, वेबसाइट डेव्हलपर श्री राहुल बाघमारे, प्रोग्रामर श्री अरविन्द गोहिते व श्री सौरभ सिंह, डाटा एन्ट्री ऑपरेटर श्री भारत भूषण शर्मा व श्री राधेश्याम गढ़वाल, कॉल सेन्टर समन्वयक श्री अंकित शर्मा, वाहन चालक सर्वश्री अजय सातनकर, महेश कुमार, अभिषेक, इलेक्ट्रिशीयन श्री चन्द्रिका प्रसाद शर्मा, भृत्य सर्वश्री देवीदास पाटील, राकेश सौदे, वीरेन्द्र, सुभाष कुर्वे, सुरेश पाल तथा होमगार्ड सर्वश्री शिव प्रताप सोनी, लटूरी सिंह और कमलेश रैकवार शामिल हैं।
शुक्रगुजार हैं हम मुख्यमंत्री के
24 January 2018
मुख्यमंत्री बाल ह्रदय उपचार योजना से मेरी बेटी को जिंदगी मिली और किसान सम्मेलन में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने जब से मेरी बेटी जोया को गोद में लेकर दुलराया है, तब से समाज में भी इज्जत बढ़ने का एहसास हो रहा है। शुक्रगुजार हैं हम मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के जिनके कारण हमारी जिंदगी में खुशियों का सैलाब आया। यह कहना है मंदसौर के खानपुरा निवासी मोहम्मद शकील का। मोहम्मद शकील ने बताया कि उनकी बेटी जोया को जन्म से ही दिल में छेद की समस्या थी। वह बच्चों के साथ खेल भी नहीं पाती थी। मेरी रंगाई के काम से इतनी आमदनी नहीं थी कि मैं उसकी बीमारी पर 5 हजार रुपये महीने का खर्च उठा पाता। ऐसे में एक दिन मुझको राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में मुख्यमंत्री बाल ह्रदय उपचार योजना की जानकारी मिली। मैंने तुरंत आवेदन दिया और जोया के इलाज के लिये एक लाख 50 हजार रुपये की राशि मंजूर हो गई। इस राशि से जोया की एक नवम्बर, 2017 को इंदौर के मेदांता अस्पताल में ओपन हॉर्ट सर्जरी हुई। आठ दिन तक आईसीयू में रहने के बाद जोया में आश्चर्यजनक सुखद बदलाव दिखने लगे। पूरे परिवार में जोश और खुशी की लहर दौड़ने लगी। अब जोया 2 साल 4 महीने की हो चुकी है और दूसरे बच्चों के साथ खेलती भी है। सामान्य बच्चों की तरह जोया को देखकर उसके माता-पिता भी उसके अच्छे भविष्य के ख्वाब बुनने लगे हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गत 20 जनवरी को जिले के दलौदा में हुए किसान सम्मेलन के दौरान जब जोया को गुड़िया दी तो वह बहुत खुश हुई। उसकी मुस्कुराहट देखकर उन्होंने उसे गोद में लिया और बातें कीं
हाइटेक बनेंगे 680 शासकीय आवास
24 January 2018
स्‍मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में पलाश होटल के सामने 680 शासकीय आवास बनाये जायेंगे। आवास कवर्ड, फुली आटोमेटेड और हाइटेक होंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 29 जनवरी को अपरान्ह 3.30 बजे शासकीय आवासों का भूमि-पूजन करेंगे। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और महापौर श्री आलोक शर्मा ने स्थल निरीक्षण कर अधिकारियों को भूमि-पूजन की तैयारियाँ समय-सीमा में करने के निर्देश दिये। शासकीय आवास जी प्लस-14 मंजिल के बनेंगे। कुल 680 आवास में से 328 एफ-टाइप और 352 जी टाइप के बनेंगे। एफ टाइप के आवास का कुल क्षेत्रफल 1157 वर्ग फीट होगा। इनमें तीन बेडरूम रहेंगे। जी-टाइप 876 वर्ग फीट के बनेंगे। इनमें दो बेडरूम रहेंगे। कुल 28 लिफ्ट लगायी जायेंगी। पूरा परिसर वाई-फाई होगा। छत पर सोलर पेनल लगाया जायेगा। इससे एक मेगावाट बिजली मिलेंगी, जो केम्पस की बिजली की मांग पूरी करेगी। पूरे केम्पस में सी.सी.टीव्ही. कैमरे लगाए जायेंगे। आरएफआईडी कार्ड के द्वारा ही प्रवेश मिलेगा। वीडियो डोर फोन की व्यवस्था रहेगी। कुल लागत 200 करोड़ रूपये है। आवासों का निर्माण 2 वर्ष में कराना है। इस दौरान माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष श्री राम दयाल प्रजापति, कलेक्टर श्री सुदाम खाड़े, कमिश्नर नगर निगम श्रीमती प्रियंका दास, सीईओ स्मार्ट सिटी श्री चन्द्रमौली शुक्ला एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
नव नियुक्त राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल का शपथ ग्रहण समारोह सम्पन्न
23 January 2018
मध्यप्रदेश की नव नियुक्त राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल को मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायधीश जस्टिस हेमंत गुप्ता ने आज पद की शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण समारोह राजभवन परिसर में प्रात:10 बजे आयोजित किया गया। मुख्यसचिव श्री बसंत प्रताप सिंह ने शपथ ग्रहण समारोह की कार्यवाही का संचालन किया। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन को शपथ ग्रहण के पश्चात गार्ड ऑफ आनर दिया गया। राज्यपाल ने सलामी गारद का निरीक्षण किया। समारोह में राज्यपाल के परिजन भी उपस्थित थे। शपथ ग्रहण समारोह में लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती समित्रा महाजन एवं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान शामिल हुए। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा, नेता प्रतिपक्ष श्री अजय सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री श्री कैलाश जोशी, पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर, प्रदेश मंत्रिमंडल के सदस्य, विधायकगण, महापौर श्री आलोक शर्मा, निगम मंडलों के अध्यक्ष, लोकायुक्त जटिस्ट नरेश गुप्ता, मुख्य सूचना आयुक्त श्री के.डी.खान, उच्च न्यायालय के न्यायधीश, विश्वविद्यालयों के कुलपति, सेना और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी, विभिन्न धार्मिक, राजनैतिक और सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि और पत्रकार उपस्थित रहे
जो न पहुँचे हम तक, हम पहुँचे उन तक; सघन मिशन इन्द्रधनुष
23 January 2018
सघन मिशन इन्द्रधनुष में स्वास्थ्य विभाग की टीकाकरण टीम उन स्थानों तक भी पहुँची जहां लोग टीकाकरण के लिये नहीं आते थे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आनंद महिन्द्रा और बीएमओ डॉ अभिलेष सिंह रायपुर कर्चूलियान (रीवा) के नेतृत्व में टीकाकरण टीम एशिया के सबसे बड़े निर्माणाधीन सोलर प्लांट गुढ में काम करने वाले बच्चों तक पहुंची और उनका टीकाकरण किया। टीम ने दस्तक अभियान में भी बदवार पहाड़ी के वीरान क्षेत्रों के एक-एक घर का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान 0 से 2 वर्ष तक उम्र के 4 बच्चे मिले जिनका टीकाकरण किया गया। टीम को निरीक्षण के दौरान एक अतिकुपोषित बच्ची स्वाति पवार भी मिली। लगभग 6 माह की यह बच्ची महाराष्ट्र के हिंगोली निवासी भगवान पवार की बेटी है जो फिलहाल बदवार सोलर प्लांट में मजदूरी करने आया हुआ है। बच्ची की दादी को स्वास्थ्य विभाग द्वारा कांउसिंलिंग के बाद पास के पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती के लिये राजी किया गया। बच्ची को तुरंत खून चढ़ाये जाने की आवश्यकता थी। समय रहते बच्ची का समुचित उपचार किया गया। केन्द्रीय मंत्री श्री जे.पी. नड्डा ने की प्रशंसा चिकित्सा अधिकारियों ने एमसीपी कार्ड के सत्यापन के दौरान पाया कि बदवार एएनएम ने अभियान के दौरान हर माह सोलर प्लांट में जाकर टीकाकरण किया जो प्रशंसनीय रहा। केन्द्रीय लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री जे.पी. नड्डा और राज्य मंत्री श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने इस प्रयास की सराहना अपने मंत्रालय के टिव्ट्टर पर की है।
बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दें- राज्यपाल श्रीमती पटेल
23 January 2018
राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि बच्चे देश का भविष्य हैं, इनके नेतृत्व में हमारा देश विश्व का महान राष्ट्र बनेगा। इसलिए बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने आज प्रात: राज्यपाल का पदभार ग्रहण करने के बाद सबसे पहले अंकुर आंगनबाड़ी केन्द्र तथा बाल निकेतन जाकर बच्चों से भेंट कर उन्हें मिठाई और फल वितरित किये। राज्यपाल ने बच्चों से उनकी शिक्षा तथा खानपान के बारे में जानकारी ली। राज्यपाल ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि जो बच्चे आगे पढ़ाई करना चाहते हैं, उन्हें पूर्ण सहयोग दिया जाये। उन्होंने कहा कि जो बच्चे किसी कारणवश स्कूल जाने से वंचित है, उन्हें स्कूल भेजा जाये। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने बाल निकेतन पहुंचकर वहां बच्चों द्वारा बनाई पेंटिंग तथा चित्रकारी का अवलोकन किया। राज्यपाल को बच्चों द्वारा तैयार की गई शाल और चुनरी भेंट की गई। इस अवसर पर महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, राज्यपाल की पुत्री श्रीमती अनार पटेल, आयुक्त एकीकृत बाल विकास श्री संदीप यादव, आयुक्त महिला सशक्तिकरण श्रीमती जयश्री कियावत, बाल निकेतन ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री सुशील तापड़िया और अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।
अमृत योजना के बेहतर क्रियान्वयन में अव्वल रहा मध्यप्रदेश
23 January 2018
देश के छोटे शहरों और कस्बों में बेहतर बुनियादी सुविधायें मुहैया कराने के लिये केन्द्र सरकार की 'अमृत' (अटल मिशन फॉर रेजुवेनेशन एण्ड अर्वन ट्रासफार्मेशन) योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश ने प्रथम राज्य का गौरव हासिल किया है। प्रदेश में इस योजना में सभी 34 चिन्हित शहरों के लिए 6 हजार 200 करोड़ रुपये की पाँच वार्षिक योजनाओं को स्वीकृति प्रदान की गई। साथ ही 2 हजार 824 करोड़ रुपये लागत की 39 कार्य योजनाओं पर कार्य भी प्रारंभ दिया गया है। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मार्च 2020 तक प्रदेश के सभी 34 शहरों में अमृत के सभी घटकों के लक्ष्यों को प्राप्त कर लिया जाएगा। योजना के कारगर क्रियान्वयन के लिए नगरीय विकास विभाग द्वारा समयबद्ध एवं चरणबद्ध कार्य-योजना तैयार की गई है। योजना अन्तर्गत कार्यों की प्रगति की सतत् मॉनिटरिंग प्रमुख सचिव नगरीय विकास और आयुक्त नगरीय विकास द्वारा की जा रही है। अमृत योजना के तहत चिन्हित शहरों में विभिन्न घटकों पर 6 हजार करोड़ की राशि जल आपूर्ति, सीवेज एवं सेप्टिक प्रबंधन, वर्षा जल निकासी, शहरी परिवर्तन, हरित स्थल और पार्क विकास पर व्यय की जाएगी। इस राशि का 5 प्रतिशत (267 करोड़ रुपये) अर्बन ट्रासपोर्ट पर, 30 प्रतिशत (1,795 करोड़ रुपये) वाटर सप्लाई पर, सर्वाधिक 60 प्रतिशत (3,772 करोड़ रुपये) सिवरेज और सैप्टिज मेनेजमेंट पर तथा 4 प्रतिशत ड्रेनेज प्रावधान पर व्यय करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। योजना के क्रियान्वयन में प्रदेश के 10 लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में केन्द्र सरकार द्वारा 33 प्रतिशत और राज्य शासन द्वारा वित्तीय सहयोग दिया जाएगा। स्थानीय नगरीय निकाय को इस योजना के कार्यों में मात्र 17 प्रतिशत अंशदान लगाना होगा। ऐसे निकाय जिनकी आबादी 10 लाख तक है, उनके लिए केन्द्राश: 50 प्रतिशत राज्यांश, 40 प्रतिशत और नगरीय विकास का अशंदान 10 प्रतिशत होगा। उल्लेखनीय है कि देश में अमृत योजना के क्रियान्वयन में उत्कृष्ट प्रगति के लिये मध्यप्रदेश को भारत सरकार द्वारा सम्मानित भी किया गया है। इसके एवज में इन्सेटिव के रूप में 33 करोड़ 45 लाख रुपये की राशि भी प्रदेश को प्राप्त हो चुकी है।
मालवा के लिये नर्मदा जल का मुख्यमंत्री का संकल्प धरातल पर उतरा
22 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का मालवा को जलसंकट से उबारने का ऐतिहासिक संकल्प साकार होना निश्चित हो गया है। मुख्यमंत्री ने उज्जैन प्रेस क्लब में इस संकल्प को व्यक्त करते हुए कहा था कि मालवा की दम तोड़ रही क्षिप्रा, गम्भीर, पार्वती और कालीसिंध नदियों को नर्मदा जल से पुनर्जीवित किया जायेगा। तब असंभव दिखने वाला यह संकल्प अब दृढ़ इच्छाशक्ति की ऊर्जा से साकार हो रहा है। नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण ने इस सर्वाधिक कठिन और जटिल चुनौती को पूर्ण करने का मार्ग निश्चित कर लिया है। पहले, पायलट प्रोजेक्ट के रूप में नर्मदा-क्षिप्रा-सिंहस्थ लिंक योजना को केवल 14 माह में पूरा कर यह प्रमाणित किया कि नर्मदा को चार सौ मीटर ऊंचे मालवा पठार पर लाना संभव है। इस उपलब्धि के बाद मुख्यमंत्री ने नर्मदा नियंत्रण मण्डल के अध्यक्ष के रूप में नर्मदा-गम्भीर, नर्मदा-पार्वती, नर्मदा-कालीसिंध लिंक और नर्मदा-क्षिप्रा लिंक (दूसरे चरण) की योजनाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता से प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की। इन नर्मदा-मालवा लिंक योजनाओं पर कुल 20 हजार 409 करोड रूपये का व्यय होगा। लिंक योजनाएं मालवा अंचल के इन्दौर, उज्जैन, शाजापुर, सीहोर, देवास, राजगढ़ जिलों में 4 लाख 80 हजार हेक्टेयर विशाल कृषि क्षेत्र को नर्मदा जल पहुँचायेंगी। इन योजनाओं से मालवा में पेयजल और औद्योगिक जल का संकट पूरी तरह समाप्त हो जायेगा। लिंक योजनाओं का कार्य तेजी से जारी है। नर्मदा-मालवा-गम्भीर लिंक का 90 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है। निकट भविष्य में इन्दौर, उज्जैन जिले के 50 हजार हेक्टेयर क्षेत्र तक नर्मदा जल पहुँचने लगेगा। नर्मदा-पार्वती लिंक (प्रथम चरण) और नर्मदा-कालीसिंध (प्रथम चरण) का निर्माण आरम्भ करने के लिये टेण्डर प्रक्रिया आरम्भ की जा चुकी है। नर्मदा-कालीसिंध और नर्मदा-पार्वती लिंक के द्वितीय चरण का निर्माण भी निकट भविष्य में हाथ में लिया जायेगा। नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण उपाध्यक्ष श्री रजनीश वैश ने बताया कि उज्जैन, देवास नगरों को पर्याप्त पेयजल तथा दिल्ली मुंबई औद्योगिक कॉरिडोर तथा देवास के उद्योगों को औद्योगिक जल सुलभ कराने के लिये नर्मदा-क्षिप्रा संगम-स्थल से एक विशेष ग्रेविटी पाइप लाईन डाली जा रही है जिससे बिना पम्पिंग के 2.2 क्यूमेक्स जल की सीधे लक्ष्य तक पूर्ति की जा सकेगी।
श्रीमती आनंदीबेन मफतभाई पटेल (जीवन-परिचय)
22 January 2018
नाम श्रीमती आनंदीबेन मफतभाई पटेल जन्म 21 नवंबर, 1941 स्थान खरोद, विजयपुर तालुका, जिला मेहसाणा। शिक्षा एमएससी, एमएड (गोल्ड मेडलिस्ट)। व्यवसाय सेवानिवृत्त प्राचार्य (मोहिनाबा हाई स्कूल, अहमदाबाद) एवं समाज-सेवा। संसदीय जीवन राज्य सभा सदस्य, वर्ष 1994-98। 10वीं गुजरात विधानसभा की वर्ष 1998 से 2002 (मांडल विधानसभा क्षेत्र) तक सदस्य। वर्ष 1998 से 1999 तक शिक्षा राज्य मंत्री (वयस्क शिक्षा रहित) (स्वतंत्र प्रभार), महिला एवं बाल कल्याण (स्वतंत्र प्रभार), वर्ष 1999 से 2002 तक शिक्षा (प्रारंभिक, माध्यमिक, वयस्क) एवं महिला एवं बाल कल्याण मंत्री। 11वीं गुजरात विधानसभा की (पाटन विधानसभा क्षेत्र) वर्ष 2002 से 2007 तक सदस्य रहीं एवं शिक्षा (प्रारंभिक, माध्यमिक, वयस्क), उच्च एवं तकनीकी शिक्षा, महिला एवं बाल कल्याण, खेल, युवा एवं सांस्कृतिक गतिविधि मंत्री के पद पर रहीं। 12वीं गुजरात विधानसभा की (पाटन विधानसभा क्षेत्र) वर्ष 2007 से 2012 तक सदस्य। राजस्व, आपदा प्रबंधन, सड़क एवं भवन, राजधानी परियोजना, महिला एवं बाल कल्याण मंत्री 4 जनवरी, 2008 से 25 दिसम्बर, 2012 तक। 26 दिसम्बर, 2012 से 21 मई, 2014 तक राजस्व, सूखा राहत, भूमि सुधार, पुनर्वास, पुनर्निर्माण, सड़क एवं भवन, राजधानी परियोजना, शहरी विकास और आवास मंत्री। 22 मई, 2014 से 7 अगस्त, 2016 तक गुजरात राज्य की प्रथम महिला मुख्यमंत्री। गतिविधियाँ वर्ष 1988 से 90 एवं 1992 से 96 तक अध्यक्ष राज्य महिला मोर्चा, भारतीय जनता पार्टी। वर्ष 1990 से 1992 तक गुजरात में भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश उपाध्यक्ष रहीं। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महिला मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति की 8 वर्ष तक सदस्य रहीं। स्कूली शिक्षा के दौरान आपको मेहसाणा जिला के स्कूल स्पोर्टस फेस्टिवल में वर्ष 1988 में 'वीर बाला' पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वर्ष 1990 में गुजरात राज्य के 'श्रेष्ठ शिक्षक' पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसके बाद राष्ट्रीय स्तर के 'श्रेष्ठ शिक्षक' सम्मान से सम्मानित हुई। आपको मोहिनता कन्या विद्यालय की दो छात्राओं को नर्मदा नदी में डूबने से बचाने के लिए गुजरात सरकार के 'वीरता पुरस्कार' से नवाजा गया। श्रीमती आनंदी बेन पटेल को ज्योति संघ, अहमदाबाद द्वारा 'चारूमति योद्धा पुरस्कार' से भी सम्मानित किया गया। वर्ष 1999 में पटेल जागृति मंडल, मुंबई द्वारा 'सरदार पटेल पुरस्कार', वर्ष 2000 में श्री तपोधन ब्राह्मण विकास मण्डल द्वारा 'विद्या गौरव' पुरस्कार और वर्ष 2005 में पटेल समुदाय द्वारा 'पाटीदार शिरोमणि' पुरस्कार दिया गया। आपको अम्बु भाई पुरानी व्यायाम विद्यालय, राजपीपला द्वारा भी सम्मानित किया गया। साहित्यिक गतिविधियाँ समय-समय पर 'धराती', 'साधना' एवं 'सखी' पत्रिकाओं के लिये लेख लिखती हैं। रूचि अध्ययन, लेखन, यात्रा, जनसम्पर्क। विदेश यात्रा चौथी वर्ल्ड वूमेन्स कान्फ्रेंस बीजिंग (चीन) में भारत सरकार के दल में शामिल हुई। वर्ष 1996 में भारतीय संसदीय दल के साथ बुलगारिया की यात्रा एवं फ्रांस, जर्मनी, हालैण्ड, इंग्लैण्‍ड, नीदरलैंड, अमेरिका, कनाडा एवं मेक्सिको आदि की शिक्षा अध्ययन यात्राएँ की हैं। वर्ष 2002 में कॉमन वेल्थ पार्लियामेन्ट्री एसोसिएशन की गुजरात शाखा के दल के साथ 48वीं सीपी कान्फ्रेंस में शामिल हुईं। आपने नामीबिया एवं साउथ अफ्रीका का अध्ययन दौरा भी किया है। सितम्बर 2009 में आपने लंदन में 'विलेज इंडिया' प्रोग्राम में गुजरात का प्रतिनिधित्व किया। स्थायी पता 'धरम', शान बंगलोस के पास, शिलाज, तालुका दशक्रोई, जिला अहमदाबाद। पता के-3, सेक्टर-19, गांधीनगर।
नेतृत्व विकास शिविर का शुभारंभ आज
22 January 2018
जनजातीय कार्य एवं अनुसूचित जाति विकास विभाग द्वारा मेधावी विद्यार्थियों के लिये आयोजित किये जाने वाला नेतृत्व विकास शिविर-2018 का शुभारंभ जनजातीय कार्य एवं अनुसूचित जाति विकास विभाग के राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य के द्वारा किया जायेगा। शिविर का शुभारंभ 23 जनवरी को प्रात: 9 बजे शासकीय गुरुकुलम आवासीय विद्यालय बावड़िया कला में किया जायेगा। यह शिविर 23 जनवरी से 27 जनवरी तक आयोजित किया जायेगा।
मध्य्प्रदेश के श्री ओपी रावत बने मुख्य निर्वाचन आयुक्त
22 January 2018
मध्यप्रदेश केडर के भारतीय प्रशासनिक सेवा केअधिकारी श्री ओ पी रावत मंगलवार 23 जनवरी को देश के भारत निर्वाचन आयोग में मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त का पदभार संभालेंगे। श्री रावत अब तक आयोग के निर्वाचन आयुक्त थे ।श्री रावत की गिनती देश के ईमानदार आई ए एस अफसरों में की जाती है। श्री रावत मध्‍यप्रदेश कैडर के पहले आईएएस अधिकारी है, जो भारत निर्वाचन आयोग के इस सर्वोच्‍च पद पर पहुंचे। साथ ही निर्वाचन आयुक्‍त के रिक्‍त होने वाले पद पर अशोक लबासा को नियुक्‍त किया गया है। उल्लेखनीय है कि देश के मुख्‍य निर्वाचन अायुक्‍त अचल कुमार ज्‍योति का कार्यकाल 22 जनवरी को पूरा हो रहा है। श्री ओ पी रावत का कार्यकाल मात्र 11 माह का रहेगा, लेकिन उन्‍हें इस वर्ष  के अंत तक मप्र समेत आठ राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव कराने हैं। उनके 11 माह के कार्यकाल में मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और कर्नाटक समेत नगालैंड, त्रिपुरा, मेघालय और मिजोरम के विधानसभा चुनाव होंगे। वे दिसंबर 2018 में सेवानिवृत्त हो जाएंगे। बता दें कि मुख्य चुनाव आयुक्त का कार्यकाल छह वर्ष या 65 वर्ष की आयु ( दोनों में से जो भी पहले हो) तक रहता है। श्री रावत वर्ष 2013 में केंद्र सरकार में भारी उद्योग एवं लोक उपक्रम मंत्रालय में सचिव (लोक उपक्रम) के पद से सेवानिवृत्त हुए थे। इसके बाद केंद्र सरकार ने उन्हें 13 अगस्त 2015 को चुनाव आयोग में आयुक्‍त नियुक्‍त किया था। मध्य प्रदेश में जनसम्पर्क, आदिम जाति कल्याण, वाणिज्यिक कर और आबकारी विभाग सहित कई महत्वपूर्ण विभागों में अपनी सेवाएं दे चुके श्री ओपी रावत 2013 में रिटायर हो गए थे। उसके बाद उन्हें सरकार ने अगस्त 2015 में चुनाव आयोग में आयुक्त पद पर नियुक्त किया था। बता दें की हाल ही में एमपी कैडर की स्नेहलता श्रीवास्तव भी लोकसभा की पहली महिला महासचिव नियुक्त हुईं हैं। इस पद पर उनका कार्यकाल 1 दिसंबर 2017 से 30 नवंबर 2018 तक है।
अध्यापकों के अलग-अलग संवर्गों का शिक्षा विभाग में संविलियन होगा
21 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अध्यापकों के अलग-अलग संवर्गों का शिक्षा विभाग में संविलियन होगा। अब सिर्फ एक संवर्ग शिक्षक संवर्ग होगा। अध्यापक संवर्ग सहित संविलियित सभी संवर्गों को, शिक्षकों को जो सुविधाएँ मिलती हैं, वह मिलेंगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास पर अध्यापक संघों के पदाधिकारियों और अध्यापकों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज के फैसले का लाभ अध्यापक और अन्य संवर्गों के लगभग तीन लाख लोगों को मिलेगा। ऐतिहासिक अन्याय दूर हुआ मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज के दिन से अध्यापकों के साथ ऐतिहासिक अन्याय दूर हो रहा है। अध्यापकों को मिल रही सुविधाओं में स्थानांतरण नीति, गुरुजियों का वरिष्ठता क्रम तथा शिक्षिकाओं के लिये मातृत्व अवकाश की सुविधा शामिल रहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस प्रदेश ने वह दौर भी देखा है जिसमें शिक्षकों को कर्मी बना दिया गया था। वर्तमान सरकार ने प्रदेश में शिक्षा क्षेत्र में कर्मी कल्चर समाप्त कर नयी शैक्षणिक संस्कृति स्थापित करने के लिये वर्ष 2004 से आज तक अनेक महत्वपूर्ण फैसले लेकर उन्हें लागू किया है। निश्चिंत होकर बच्चों की शिक्षा पर दे ध्यान मुख्यमंत्री ने कहा कि अब अध्यापकों सहित शिक्षक संवर्ग में शामिल सभी संवर्गों का दायित्व है कि वे निश्चिन्त होकर अपना ध्यान बच्चों की शिक्षा-दीक्षा पर लगाये। पूरी मेहनत और निष्ठा से बच्चों को पढ़ायें और उनका भविष्य बनायें। शिक्षकों का भविष्य राज्य सरकार बनायेगी। संभाग स्तर पर होंगे शिक्षा गुणवत्ता सम्मेलन संभाग स्तर पर गुणवत्ता सम्मेलन आयोजित किये जायेंगे ताकि शासकीय स्कूलों के विद्यार्थियों के बेहतर परीक्षा परिणाम आयें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि राज्य सरकार ने तय किया है कि बारहवीं कक्षा में सत्तर प्रतिशत अंक लाने वाले बच्चों का प्रवेश मेडिकल, इंजीनियरिंग जैसे पाठ्यक्रमों में होने पर उनकी फीस राज्य सरकार भरेगी। इस अवसर पर लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, अध्यापक संगठनों के पदाधिकारी सर्वश्री दर्शन चौधरी, भरत पटेल, जगदीश यादव, बलराम पवार, राकेश पटेल, जावेद खान, शैलेन्द्र त्रिपाठी, भरत भार्गव, श्रीमती सुषमा, ब्रजेश्वर झारिया सहित बड़ी संख्या में अध्यापकगण उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान से मिले बोहरा समाज के धर्म गुरु के छोटे भाई शेहज़ादा मालेकुलअश्तर
21 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज यहां मुख्यमंत्री निवास पर बोहरा समाज के धर्म गुरु के छोटे भाई शेहज़ादा मालेकुलअश्तर भाई ने सौजन्य भेंट की। इस अवसर पर शेख कुतुबद्दीन भाई, शेख युसुफ भाई, शेख मुर्तजा अली, शेख झल्ला वाला, शेख नूरउद्दीन यमानी उपस्थित थे।
राज्यमंत्री श्री सारंग द्वारा 25 लाख की दो सड़कों का भूमिपूजन
21 January 2018
सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज 25 लाख रूपये लागत की दो सड़कों का भूमि-पूजन किया। इनमें महामाई का बाग बस्ती में 80 फिट रोड़ से स्टेशन को जोड़ने वाली सड़क और वार्ड 44 के पद्मनाभ नगर बस्ती को रायसेन की ओर जाने वाली मुख्य सड़क को जोड़ने वाली सड़क शामिल है। राज्यमंत्री श्री सारंग ने इस अवसर पर कहा कि सड़क को तय समय-सीमा में उच्च गुणवत्ता के साथ बनवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी वार्डों में लगातार विकास कार्य चल रहे हैं। बस्तियों में आंतरिक मार्ग एवं नाली निर्माण का कार्य करवाया जा रहा है। श्री सारंग ने कहा कि नरेला विधानसभा क्षेत्र के शत् प्रतिशत घरों में नर्मदा जल की नियमित सप्लाई सुनिश्चित की गई है। इस मौके पर स्थानीय पार्षद और बड़ी संख्या में नागरिक गण मौजूद थे
आईपीएस सर्विस मीट की रंगारंग सांस्कृतिक संध्या
19 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज यहां पुलिस ऑफिसर्स मेस के प्रांगण में आयोजित तीसरी आई.पी.एस. सर्विस मीट पर आयोजित सांस्कृतिक संध्या में शामिल हुए। उन्होंने प्रतिभागियों के आग्रह पर ' नदिया चले चले रे धारा ' गीत गाया। मुख्यमंत्री ने कहा पुलिस अधिकारियों में सांस्कृतिक प्रतिभा है। उन्होंने कहा कि नागरिकों को प्रदेश पुलिस पर गर्व है। पुलिस महानिदेशक श्री आर.के.शुक्ला ने मुख्यमंत्री और श्रीमती साधना सिंह चौहान का स्वागत किया। विभिन्न जोन से आये पुलिस अधिकारियों ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। विभिन्न अंचलों के लोकनृत्यों की प्रस्तुतियां विशेष आकर्षण का केंद्र थी। मुख्यमंत्री ने विभिन्न जोन की सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के विजेताओं को सम्मानित किया। इंदौर जोन प्रथम, भोपाल दूसरे और महाकौशल तीसरे स्थान पर रहा।
जनसेवा के लिये है पुलिस: मुख्यमंत्री श्री चौहान
19 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पुलिस जनसेवा के लिये है। पुलिस की सेवा को नौकरी नहीं माना जा सकता। लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी मिलना बहुत सौभाग्य की बात है। पुलिस का कर्तव्य किसी भी अन्य सेवा से अधिक महत्वपूर्ण है। उन्होंने पुलिस अधिकारियों से कहा कि सामाजिक जटिलताओं का कुशलतापूर्वक सामना करते हुए आमजन का विश्वास जीतना होगा। अधिकारी धैर्य, उत्साह और सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ कार्य करें। मन, मस्तिष्क और शरीर को चुस्त-दुरूस्त रखने के लिये योग, व्यायाम और मनोरंजन की गतिविधियों में भी शामिल हों। मुख्यमंत्री ने पुलिस बल में अवकाश की संकल्पना पर विचार करने की जरूरत बतायी। श्री चौहान आज विधानसभा सभागार में तृतीय आई.पी.एस. ऑफीसर्स मीट के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में आत्मीयता के भाव से सरकार चलाने का प्रयास किया गया है। मध्यप्रदेश पुलिस ने अनेक ऐसे कार्य किये हैं, जिन पर गर्व किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि समस्याएं आती रहती हैं, जरूरत उनके समाधान के निरंतर प्रयास की है। चुनौतियों का सामना विशेषज्ञता के साथ किया जाना चाहिये। पुलिस अधिकारियों के समूह बनाकर विषयवार होने वाले चिंतन के निष्कर्षों पर मुख्यमंत्री एवं गृह मंत्री पुलिस अधिकारियों के साथ मिलकर रोडमैप का निर्माण करेंगे। पुलिस और जनता के मध्य दूरियों को कम करने के लिये सामुदायिक पुलिसिंग के प्रयोग किये गये हैं। इन्हें और अधिक विस्तारित करना होगा। श्री चौहान ने आईपीएस मीट के आयोजन की सराहना करते हुये कहा कि संगोष्ठी के विषय समसामयिक और सराहनीय हैं। आज पूरी दुनिया के सामने कट्टरवाद की चुनौती है। लोगों को अलग-अलग बाँटने की कोशिशें लोकतंत्र के लिये घातक हैं। इनका सामना करने के लिये जरूरी है कि उदारवादी दृष्टिकोण को प्रसारित किया जाये। भारतीय समाज और संस्कृति में एक ही चेतना की मान्यता है, जिसमें भेदभाव के लिये कोई स्थान नहीं है। सामाजिक समरसता का संदेश देने के लिये ही एकात्म यात्रा का आयोजन किया गया है। संगोष्ठी का मंथन निश्चय ही इस दिशा में सार्थक पहल होगा। मुख्यमंत्री ने अखिल भारतीय पुलिस अधिकारी सेवा संघ के अध्यक्ष श्री संजय राणा को जन्मदिन की बधाई भी दी। विधानसभा अध्यक्ष श्री सीताशरण शर्मा ने कहा कि शासन का सबसे प्रमुख अंग सुरक्षा बल होते हैं। लोकतांत्रिक शासन प्रणाली जनहित की सबसे अच्छी प्रणाली है। उन्होंने मीट के आयोजन पहल की सराहना करते हुये कहा कि संगोष्ठी के विषयों पर विचार-विमर्श सुशासन के लिए महत्वपूर्ण होंगे। इसके सकारात्मक परिणाम आयेंगे। उन्होंने सोशल मीडिया और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के दुरूपयोग की समस्या पर भी विचार व्यक्त किये। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने विषय प्रर्वतन किया। उन्होंने कहा कि जनता की सेवा पुलिस का प्राथमिक दायित्व है। जन अपेक्षाओं को पूरा करने की चुनौती बहुत कठिन कार्य है। आर्थिक और तकनीकी परिवर्तन की चुनौतियां भी तेजी से बढ़ रही हैं। जनता और पुलिस के मध्य दूरी को पाटने के प्रयास पुलिस द्वारा निरंतर किये जा रहे हैं। मीट के दौरान इन चुनौतियों का सामना करने के लिये कार्यशाला का आयोजन कर युवा और वरिष्ठ अधिकारियों के मध्य संवाद का प्रयास किया गया है। स्वागत उद्बोधन में आईपीएस एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री संजय राणा ने बताया कि संगोष्ठी का आयोजन कट्टरवाद का उदारीकरण : चुनौतियां और सोशल मीडिया के नए आयाम कानून प्रवर्तन एजेंसियों के लिए चुनौतियां विषयों पर किया गया है। आभार प्रदर्शन अपर महानिदेशक पुलिस श्री व्ही.के. महेश्वरी ने किया। कार्यक्रम संचालन श्री राजेश मिश्रा ने किया। इस अवसर पर भारतीय पुलिस सेवा के वर्तमान और सेवानिवृत्त अधिकारी उपस्थित थे
जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र द्वारा श्री तिवारी के निधन पर शोक व्यक्त
19 January 2018
जनसम्पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया। डॉ. मिश्र ने शोक संदेश में कहा है कि श्री तिवारी ने राजनीति में विभिन्न पदों पर आसीन रहते हुए निरंतर सेवाभाव से कार्य किया। श्री तिवारी ने दीर्घकालिक राजनीतिक एवं सामाजिक जीवन में सक्रिय भूमिकाओं का निर्वहन किया। श्री तिवारी ने विधानसभा अध्यक्ष के पद को भी सुशोभित किया। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा है कि मेरे साथ ही अन्य अनेक विधानसभा सदस्यों ने श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी की कार्य-प्रणाली से विधानसभा में कार्य संचालन का तरीका और सदन चलाने की प्रक्रिया जैसी संवैधानिक बातें सीखी हैं। डॉ. मिश्र ने कहा है कि विधानसभा सदस्यों ने श्री तिवारी से जो ज्ञान अर्जित किया है, वो अनेक सदस्यों के लिए पूंजी के समान है। उन्होंने कहा कि सामाजिक क्षेत्र में भी श्री तिवारी की सेवाएं सदैव याद रखी जाएंगी। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दिवंगत आत्मा की शांति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की है। साथ ही, शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहन संवेदना व्यक्त की है
बुन्देलखण्ड पैकेज में दतिया जिले में बन रहे 26 स्टॉप डेम 19 January 2018
बुन्देलखण्ड पैकेज के अंतर्गत दतिया जिले में 26 स्टॉप डेम के निर्माण का कार्य जारी है। इन कार्यों की संयुक्त लागत 1150.22 लाख रुपए है। बुन्देलखण्ड पैकेज के अंतर्गत जल संरक्षण कार्यों की समीक्षा बैठक में यह जानकारी दी गई। जल संसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में बताया गया कि जिले के ग्राम धनौली में निर्मित डेम से वर्षा जल का संग्रहण भी होने लगा है। इसी तरह अन्य स्टॉप डेम का निर्माण भी किया जा रहा है, ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध हो सकेगा। सिंचाई के अलावा मवेशियों के लिए पीने के पानी और ग्रामीण आबादी के लिए अन्य निस्तार के कार्य के लिए अधिक पानी उपलब्ध हो सकेगा। ग्रामवासी भी जल संरक्षण कार्यों में सहभागिता बढ़ा रहे हैं।
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा श्रीनिवास तिवारी के निधन पर शोक
19 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष श्री श्रीनिवास तिवारी के निधन पर गहन दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने शोक संदेश में कहा है कि कहा है कि श्री तिवारी संसदीय मामलों के ज्ञाता थे। उनका प्रदेश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। श्री चौहान ने दिवंगत आत्मा की शांति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की है। साथ ही शोक संतृप्त परिजनों के प्रति गहन संवेदना भी व्यक्त की है।
कर्मी कल्चर को खत्म कर स्कूल शिक्षा में संविदा शिक्षकों को दिया गया सम्मानजनक पद
19 January 2018
मध्यप्रदेश में राज्य सरकार द्वारा शिक्षण क्षेत्र में कर्मी कल्चर को समाप्त कर अध्यापक संवर्ग का गठन कर शिक्षाकर्मियों और संविदा शाला शिक्षकों को सम्मानजनक पदनाम एवं वेतनमान दिया गया है। प्रदेश में वर्ष 1994 से 1997 तक पंचायत एवं नगरीय निकायों में शिक्षकों के नियमित रिक्त पदों के विरूद्ध शिक्षा-कर्मी वर्ग-1, वर्ग-2 एवं वर्ग-3 के पद पर एक हजार, आठ सौ एव पाँच सौ रूपये के मासिक मानदेय पर नियुक्ति की जाती थी। इसके बाद से वर्ष 1998 में विधिवत नियम बनाते हुए स्थानीय निकायों (ग्रामीण एवं नगरीय निकायों) में वर्ष 2003 तक शिक्षाकर्मी वर्ग-1 को 3600, वर्ग-2 को 2990 और वर्ग-3 को 2350 मासिक वेतन दिया जाता था। वर्तमान सरकार ने 1 अप्रैल 2007 से अध्यापक संवर्ग का गठन किया। सहायक अध्यापक को 9100, अध्यापक को 12000 और वरिष्ठ अध्यापक का मासिक वेतन बढ़ाकर 14 हजार 700 रुपये किया गया। इसके बाद 1 अप्रैल 2013 से अध्यापक संवर्ग को दिये जा रहे वेतनमान में पुन: वृद्धि करते हुए रूपये 4500-25000 का वेतन बैण्ड स्वीकृत किया गया। सहायक अध्यापक, अध्यापक और वरिष्ठ अध्यापक को वेतन बैण्ड पद क्रमश: 1250, 1650 और 1900 संवर्ग वेतन तथा शासकीय कर्मचारियों के बराबर महँगाई भत्ता दिया गया, जिससे अध्यापक संवर्ग के वेतन में 1000 से लेकर 2500 रुपये तक की वृद्धि हुई। यही नहीं अध्यापक संवर्ग को शासकीय कर्मचारियों को देय छठवां वेतनमान, जो 1 सितम्बर 2017 से दिया जाना था, एक वर्ष पूर्व एक जनवरी 2016 से स्वीकृत किया गया। छठवां वेतन मान दिये जाने से नवनियुक्त सहायक अध्यापक, अध्यापक और वरिष्ठ अध्यापक को क्रमश: 23 हजार 500, 29 हजार 500 और 33 हजार रुपये मासिक वेतन प्राप्त हो रहा है। पूर्व से कार्यरत सहायक अध्यापक, अध्यापक एवं वरिष्ठ अध्यापक को क्रमश: 33 हजार 500, 37 हजार और 43 हजार 500 रुपये मासिक वेतन प्राप्त हो रहा है। अध्यापक संवर्ग को 12 और 24 वर्ष की सेवा के बाद क्रमोन्नति का लाभ भी दिया जा रहा है। स्कूल शिक्षा विभाग ने छठवें वेतनमान के अनुरूप क्रमोन्नत वेतनमान दिये जाने के आदेश भी जारी कर दिये हैं। संविदा शाला शिक्षक को दो गुना मासिक पारिश्रामिक संविदा शाला शिक्षकों को 1 नवंबर 2011 से संविदा मासिक पारिश्रमिक में 100 प्रतिशत वृद्धि करते हुए दो गुना संविदा मासिक पारिश्रमिक दिया जा रहा है। वर्तमान में संविदा शाला शिक्षक श्रेणी-3 को 5000 रुपये, श्रेणी-2 को 7000 और श्रेणी-1 को 9000 रुपये मासिक संविदा वेतन दिया जा रहा है। साथ ही तीन वर्ष की सेवा अवधि के बाद संविदा शाला शिक्षक को अध्यापक के पद पर नियुक्त किया जाता है और शासकीय कर्मचारियों के समान उन्हें छठवाँ वेतनमान दिया जाता है।
विधायक निधि से बनेगा पंचशील नगर में मंगल भवन : राजस्व मंत्री
19 January 2018
वार्ड-47 स्थित पंचशील नगर में मंगल भवन बनाया जायेगा। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौ़द्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने मंगल भवन का भूमि-पूजन किया। श्री गुप्ता मंगल ने भवन में निर्माण के लिए विधायक निधि से 5 लाख रूपये दिये हैं। श्री गुप्ता ने कहा कि मंगल भवन बन जाने से रहवासियों को सामाजिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए स्थान उपलब्ध हो सकेगा। उन्होंने कार्य समय-सीमा में पूरा करवाने के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने लोगों को शासन की जन-कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
19 January 2018
एक समय था जब नीमच की यादवमण्डी में बेरोजगार युवक विवेक सागर रेडीमेड कपड़ों की दुकान पर काम करता था। आज मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना की बदौलत विवेक की नीमच में अपनी स्वयं की 'सिग्नेचर गारमेन्ट' नाम से दुकान है। विवेक ने पहले रेडीमेड गारमेन्ट शोरूम पर काम कर, गारमेन्ट व्यवसाय की बारिकियों को सीखा। फिर मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना के बारे में जानकारी हॉसिल कर अंत्यावसायी विभाग से ऋण प्रकरण तैयार करवाकर इन्डियन ओवरसीज बैंक नीमच शाखा को भिजवाया। बैंक ने उसे रेडीमेड गारमेन्टस व्यवसाय के लिए 5 लाख रूपये का ऋण दिया। इस पर उसे शासन की ओर से एक लाख 50 हजार रूपये का अनुदान भी मिला। मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में 5 लाख का ऋण मिलने पर विवेक सागर ने नीमच में वीरपार्क रोड पर एक दुकान किराये पर लेकर 'सिग्नेचर गारमेन्टस' के नाम से अपना स्व-रोजगार प्रारंभ किया। आज विवेक अपने स्वयं के रेडीमेड गारमेन्ट व्यवसाय से दुकान के किराये, बिजली बिल के भुगतान व अन्य खर्चों को निकालने के बाद भी 25-30 हजार रूपये हर माह आसानी से, इमानदारी से कमा रहा है। बैंक से लिये ऋण की 10 हजार 400 रूपये की किश्त भी वह पिछले सात माह से नियमित रूप से जमा कर रहा है। अपने व्यवसाय की कमाई से ही परिवार का भरण-पोषण भी अच्छे से कर रहा है। आज विवेक एक सफल व्यवसायी बन गया है।
सौभाग्य योजना में नई सर्विस केबल के साथ कनेक्शन देने के निर्देश
19 January 2018
प्रमुख सचिव ऊर्जा श्री आई.सी.पी. केशरी ने कहा है कि सौभाग्य योजना में उपभोक्ताओं के घरों में नई सर्विस केबल लगाई जाए, तभी उस कनेक्शन को योजना में शामिल माना जाएगा। उन्होंने कहा कि जहां-जहां विद्युत सामग्री आ गई है, वहां नई केबल के साथ मीटर और पूरी किट के साथ सौभाग्य योजना में कनेक्शन दिया जाए। श्री केशरी एक बैठक में विभागीय गतिविधियों की समीक्षा कर रहे थे। प्रमुख सचिव ने विद्युत कंपनियों के मैदानी अधिकारियों से स्पष्ट कहा है कि दूर-दराज के क्षेत्रों में गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले परिवारों और ए.पी.एल. परिवारों को गुणवत्तापूर्ण और विश्वनीय बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। इसमें किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाशत नहीं की जाएगी। सौभाग्य योजना में गुणवत्तापूर्ण केबल लगाई जाए। उन्होंने कहा कि उपभोक्ताओं को सौभाग्य योजना में शत-प्रतिशत संतुष्टि होना चाहिए। जिन मजरे-टोलों और गांवों में लाइनों के विस्तार की आवश्यकता है, वहां कामों को प्राथमिकता से पूरा किया जाए ताकि सौभाग्य योजना में शत-प्रतिशत लक्ष्य अक्टूबर माह तक पूर्ण किया जा सके। श्री आई.सी.पी. केशरी ने पंचायत, ब्लॉक, तहसील एवं जिला स्तर पर सौभाग्य योजना में जागरूकता अभियान चलाने की जरूरत बताई है। उन्होंने कहा है कि कॉन्ट्रेक्टरों से संवाद स्थापित कर यह सुनिश्चित किया जाए कि सभी निर्माण कार्य निर्धारित समयावधि में पूर्ण हों। प्रमुख सचिव ने कहा कि गर्मी का मौसम अप्रैल माह से शुरू हो जाएगा। इसके लिए नल-जल योजना के लंबित प्रकरणों का तत्काल निपटारा किया जाए ताकि गर्मियों में पेयजल की समस्या नहीं हो। एम.पी. पॉवर मैनेजमेंट कंपनी के प्रबंध संचालक श्री संजय कुमार शुक्ल ने कहा कि विद्युत वितरण कंपनियों को अपनी बिलिंग दक्षता में सुधार की जरूरत है। उन्होंने कहा कि भोपाल शहर के कोलार इलाके में जले तथा खराब मीटरों को प्राथमिकता पर बदला जाए। श्री शुक्ल ने कहा कि शत-प्रतिशत उपभोक्ताओं को एसएमएस अलर्ट भेजा जाना चाहिए। इसके लिए मोबाइल नंबर को बिलिंग प्रणाली में जोड़ने के लिए अभियान चलाया जाए। उन्होंने कहा कि सौभाग्य योजना में आधार एवं मोबाइल नंबर आदि की जानकारी कनेक्शन देते समय ही ले ली जाए। इस मौके पर तीनों कंपनी के प्रबंध संचालकों ने अपने-अपने क्षेत्रों में चल रही योजनाओं की प्रगतिऔर लक्ष्यों की पूर्ति के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी
ओंकारेश्वर में सांस्कृतिक न्यास एवं वेदांत संस्था की स्थापना की जाएगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान
18 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज होशंगाबाद जिले के बाबई में एकात्म यात्रा में आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में कहा है कि दुनिया से आतंकवाद एवं नस्लवाद की समाप्ति आदि गुरू शंकराचार्य के अद्वैत वेदांत दर्शन से ही संभव है। श्री चौहान ने इस मौके पर ओंकारेश्वर में आदि गुरू शंकराचार्य सांस्कृतिक न्यास एवं वेदांत संस्था की स्थापना कराने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने जनसंवाद में कहा कि परमात्मा को प्राप्त करने के तीन रास्ते हैं। पहला ज्ञान, दूसरा भक्ति और तीसरा कर्म। उन्होंने कहा कि अधिकांश व्यक्ति कर्म के मार्ग पर चलते हैं। कर्म वह है जब एक शिक्षक बच्चों को सही तरीके से पढ़ाये, कर्म वह है जब एक डॉक्टर मरीज का उपचार सही तरीके से करे, कर्म वह है जब एक इंजीनियर पुल का निर्माण बेहतर तरीके से करे और कर्म वह है जब जनप्रतिनिधि शुद्ध मन से जनता की सेवा करे। डॉ. श्रीकृष्ण गोपाल ने जनसंवाद कार्यक्रम में कहा कि आदि गुरू शंकराचार्य का जन्म तो केरल में हुआ, लेकिन अध्ययन करने के लिए वे नर्मदा तट के किनारे आए थे। केदार नाथ से केरल तक भारत एक है। इस विश्वास के आधार पर उन्होंने दक्षिण के मठ में उत्तर के एवं उत्तर के मठ में दक्षिण के पुजारियों की नियुक्ति की। डॉ. गोपाल ने कहा कि आदि गुरू का दर्शन आज भी श्रेष्ठ है। उन्होंने कहा कि आदि गुरू ने नर्मदा नदी के तट पर दीक्षा प्राप्त की। इससे मध्य प्रदेश की धरती धन्य हुई। महामण्डलेश्वर अखिलेश्वरानंद ने कहा कि पचमठा से शुरू हुई एकात्म यात्रा के प्रति आम जनता में आदर का भाव है। एकात्म यात्रा में शामिल हुए मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री श्री चौहान बाबई में एकात्म यात्रा में शामिल हुए। मुख्यमंत्री आदि गुरू शंकराचार्य की सांकेतिक चरण पादुका को सिर पर रखकर पैदल जनसंवाद स्थल तक पहुंचे। श्री चौहान ने इस अवसर पर स्कूलों में हुई चित्रकला प्रतियोगिता के विजेताओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। जनसंवाद कार्यक्रम में धुव्रा बैण्ड के 9 सदस्यीय दल ने आदि गुरू शंकराचार्य विरजित संस्कृत श्लोकों एवं स्त्रोतों की शानदार प्रस्तुति दी। धुव्रा बैण्ड ने म.प्र. गान की भी संस्कृत में प्रस्तुति दी। उल्लेखनीय है कि धुव्रा बैण्ड विश्व का एक मात्र ऐसा संगीत बैण्ड है जो संस्कृत भाषा में अपनी प्रस्तुति देती है। धुव्रा बैण्ड की इस अनोखी एवं शानदार प्रस्तुति नेसभी लोगों का मन मोह लिया। धुव्रा बैण्ड पचमठा से एकात्म यात्रा में शामिल हुआ है और 22 जनवरी को ओंकारेश्वर में भी प्रस्तुति देगा। एकात्म यात्रा के जनसंवाद कार्यक्रम में जिले के प्रमुख विभागों ने जनकल्याणकारी योजनाओं की प्रदर्शनी भी लगाई। जनसंवाद कार्यक्रम में पहुंचे मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से होशंगाबाद जिले के अटल बाल पालकों ने भेट की और जिले को कुपोषण मुक्त करने हेतु किए जा रहे प्रयासों एवं अनुभव से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। जनसंवाद कार्यक्रम में म.प्र. विधान सभा के अध्यक्ष डॉ. सीताशरण शर्मा, यात्रा के समन्वयक श्री शिव चौबे, सांसद श्री उदय प्रताप सिंह, विधायक श्री सरताज सिंह, श्री विजयपाल सिंह और श्री ठाकुर दास नागवंशी, राज्य अंत्योदय समिति के सदस्य श्री हरिशंकर जयसवाल, नगरपालिका होशंगाबाद के अध्यक्ष श्री अखिलेश खंडेलवाल, आचार्य उमेश, आचार्य बलराम, साध्वी संयम भारती, जनप्रतिनिधिगण, ग्रामीणजन एवं प्रिन्ट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधिगण मौजूद थे।
सामाजिक सदभाव में अग्रणी है दतिया : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र
18 January 2018
जनसम्पर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र मुस्लिम समाज के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों के शपथ ग्रहण समारोह में सम्मिलित हुए। इस अवसर पर जनसम्पर्क मंत्री ने कहा कि दतिया साम्प्रदायिक सद्भाव के टापू के रूप में जाना जाता है। यहां मुस्लिम समाज सहित अन्य वर्ग साम्प्रदायिक सद्भाव की मिसाल हैं। इस अवसर पर मुस्लिम समाज ने जनसम्पर्क मंत्री का शॉल-श्रीफल से सम्मान किया। कार्यक्रम के दौरान श्री इकबाल खान ने बताया कि जनसम्पर्क मंत्री द्वारा प्रदत्त 25 लाख की राशि से कब्रिस्तान की बाउण्ड्रीवाल बनवाई गई है। कार्यक्रम में जनसम्पर्क मंत्री ने सभी पदाधिकारियों को प्रमाण-पत्र दिए। जनसंपर्क मंत्री ने सामुदायिक भवन के लिए पांच लाख रूपये देने की घोषणा भी की। जनसम्पर्क मंत्री ने किया 58 लाख की मशीनों का लोकार्पण जनसम्पर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया नगर पालिका के लिए खरीदी गई दो अत्याधुनिक मशीनों का लोकार्पण किया। इन दो मशीनों में 32 लाख लागत की नई तकनीक युक्त फायर बिग्रेड तथा 26 लाख लागत की कचरा कंपेक्शन मशीन शामिल हैं। जनसम्पर्क मंत्री ने फायर बिग्रेड मशीन को स्वयं चलाकर देखा। जनसम्पर्क मंत्री खटोला पहुंचकर शोक संवेदना व्यक्त की जनसम्पर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिले के ग्राम खटोला पहुंचकर श्री प्रमोद लोधी के असामयिक निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की। हाल ही में बिजली का करंट लगने से श्री प्रमोद लोधी की मृत्यु हो गई थी। जनसम्पर्क मंत्री ने शोकाकुल लोधी परिवार को ढांढस बंधाते हुए आवश्यक आर्थिक मदद का भरोसा दिलाया।
म.प्र. पुलिस की गौरवशाली परम्पराओं को बनाये रखें- राज्यपाल
18 January 2018
राज्यपाल श्री ओम प्रकाश कोहली से आज भारतीय पुलिस सेवा के नव-नियुक्त पुलिस अधिकारियों ने भेंट की। राज्यपाल ने अधिकारियों को नये उत्तरदायित्वों के लिए बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश पुलिस की गौरवशाली परम्परा की गरिमा सदैव बनाये रखें। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारियों को ऐसी छवि बनानी चाहिए जिससे अपराधियों को डर लगे और आम नागरिक पुलिस को अपना मित्र और सहायक समझे। पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला ने राज्यपाल को बताया कि नये पुलिस अधिकारियों को दो वर्ष का प्रशिक्षण दिया जाता है। इस प्रशिक्षण के अंतर्गत इन्हें 6 माह के लिए जिलों में पदस्थ किया जाता है। इस अवसर पर राज्यपाल के प्रमुख सचिव डॉ. एम मोहनराव, स्पेशल डीजी श्री के.एन. तिवारी तथा अपर पुलिस महानिदेशक प्रशिक्षण श्री अशोक अवस्थी उपस्थित थे।
प्रदेश में मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि कई गुना बढ़ाई गई
18 January 2018
किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा है की राज्य सरकार प्रत्येक जरूरतमंद को बीमारी के समय आर्थिक मदद पहुँचाना चाहती है। राज्य में मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि में काफी इजाफा किया गया है। प्रदेश में डॉक्टरर्स की कमी को दूर करने के लिए 5 नये मेडिकल कॉलेज खोले गए हैं। प्रत्येक मेडिकल कॉलेज में 150-150 सीट रखी गई है। इसके साथ ही पूर्व से संचालित 7 मेडिकल कॉलेज में सीटें बढ़ायी गई है। इसके साथ ही सरकारी अस्पतालों में मरीजों की सुविधा के लिये बिस्तरों की संख्या भी बढ़ाई गई है। बालाघाट जिला अस्पताल में बिस्तरों की संख्या बढ़ाकर 500 कर दी गई है। किसान कल्याण मंत्री श्री बिसेन आज बालाघाट में मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर के शुभारंभ समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। किसान कल्याण मंत्री श्री बिसेन ने कहा है की राज्य सरकार जनसामान्य को अच्छी स्वास्थ्य सेवा देना चाहती है। उन्होंने कहा की बीमार लोगों के इलाज के लिए धन की कमी को बाधा नहीं बनने दिया जायेगा। श्री बिसेन ने इस मौके पर ट्रामा सेंटर में मरीजों की जाँच एवं उपचार के लिये बनाये गए काउंटर का निरीक्षण किया। किसान कल्याण मंत्री जिला अस्पताल की बर्न यूनिट में भर्ती श्रीमती माया मरकाम को भी देखने गए। उन्होंने डॉक्टरों से श्रीमती माया के स्वास्थ्य की जानकारी ली। लाल बर्रा तहसील के ग्राम सेलवा की श्रीमती माया पिछले दिनों खाना बनाते समय जल गई थी। डॉक्टर ने बताया की वे 36 प्रतिशत जल गई है। लेकिन श्रीमती माया खतरे से बाहर है।
सौभाग्य योजना से 4.68 घरों में पहुँची बिजली
18 January 2018
मध्यप्रदेश में सहज बिजली हर घर योजना सौभाग्य में अब तक 4 लाख 68 हजार घरों को बिजली कनेक्शन देकर रोशन किया जा चुका है। योजना में 43 लाख घरों का अक्टूबर 2018 तक विद्युतीकृत किये जाने का लक्ष्य रखा गया है। सौभाग्य योजना के क्रियान्वयन में प्रदेश की तीन विद्युत वितरण कम्पनी और उनका अमला सक्रिय है। मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्यत वितरण कम्पनी को क्षेत्र के 20 जिलों के 15 लाख 7 हजार 20 कनेक्शन विहीन घरों को बिजली से जोड़ने काक लक्ष्य दिया गया है। कम्पनी ने अब तक एक लाख 45 हजार 191 घरों को बिजली कनेक्शन से जोड़ा है। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी ने क्षेत्र के 16 जिलों के 18 लाख 55 हजार 325 बिजली कनेक्शन विहीन घरों के विद्युतीकरण के लक्ष्य के विरुद्ध एक लाख 57 हजार 218 घरों को रोशन किया है। इसी प्रकार पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी द्वारा अक्टूबर 2018 तक क्षेत्र के 15 जिलों में 7 लाख 16 हजार 189 बिजली कनेक्शन विहीन घरों को बिजली सुविधा मुहैया करवाने के लक्ष्य के विरुद्ध एक लाख 66 हजार 234 में बिजली कनेक्शन उपलब्ध करवा दिये गये है। सौभाग्य योजना के क्रियान्वयन में इंदौर जिला 84.99 प्रतिशत एवं नरसिंहपुर 60.45 प्रतिशत लक्ष्य पूर्ति के साथ सबसे आगे चल रहा है। इनके अलावा शाजापुर 59.99 प्रतिशत, देवास 47.16 प्रतिशत, बुरहानपुर 45.94 प्रतिशत, रतलाम 40.45 प्रतिशत, नीमच 30.02 प्रतिशत, गुना 29.88, सिवनी 26.96 प्रतिशत, खंडवा 26.90 प्रतिशत, धार 24.34 प्रतिशत, मन्दसौर 22.69 प्रतिशत और दमोह 22.02 प्रतिशत उपलब्धि के साथ आगे है। सौभाग्य योजना में 60 प्रतिशत राशि केन्द्र से अनुदान के रूप में उपलब्ध करवाई जा रही है। शेष 40 प्रतिशत राशि का प्रबंध राज्य शासन एवं तीनों विद्युत वितरण कम्पनी द्वारा किया जा रहा है। योजना में आर्थिक, सामाजिक रूप से पिछड़े हितग्राहियों को नि:शुल्क कनेक्शन दिये जा रहे हैं। अन्य हितग्राहियों से 500 रुपये की राशि 10 किश्तों में मासिक विद्युत बिल के साथ ली जायेगी।
स्व-रोजगार एवं कौशल सम्मेलन में 23665 आवेदकों को मिली नौकरी
17 January 2018
जिला स्तरीय मुख्यमंत्री स्व-रोजगार एवं कौशल सम्मेलन में जहाँ 23 हजार 665 आवेदकों को विभिन्न कंपनियों में नौकरी मिली वहीं 10 हजार 83 आवेदकों के स्व-रोजगार के प्रकरण भी स्वीकृ‍त किये गए। तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने कहा है कि सम्मेलन की सफलता को देखते हुए इस तरह के सम्मेलन कुछ समय बाद फिर करवाये जायेंगे। उज्जैन में हुए सम्मेलन में सर्वाधिक 1722 आवेदकों को नौकरी मिली। जिला रायसेन 640, राजगढ़ 1230, सीहोर 440, विदिशा 485, हरदा 267, होशंगाबाद 287, बैतूल 716, अशोक नगर 964, ग्वालियर 839, दतिया 186, गुना 1050, शिवपुरी 208, भिण्ड 72, मुरैना 578, श्योपुर 200, अलीराजपुर 268, बड़वानी 176, बुराहनपुर 318, धार 466, इंदौर 250, झाबुआ 250, खण्डवा 349, खरगौन 375, छिन्दवाड़ा 531, डिण्डोरी 192, जबलुपर 250, कटनी 12, नरसिंहपुर 310, रीवा 506, सतना 310, सिंगरौली 854, अनूपपुर 151, शहडोल 79, उमरिया 260, छतरपुर 613, दमोह 22, पन्ना 307, सागर 1585, टीकमगढ़ 278, देवास 1282, मंदसौर 352, नीमच 380, रतलाम 152, शाजापुर 1134, आगर-मालवा 410, बालाघाट 275, मण्डला 349 और सिवनी में 435 आवेदकों को सम्मेलन में ही नौकरी दी गयी।
भोपाल में 26 से 30 जनवरी तक लोकरंग राष्ट्रीय समारोह
17 January 2018
संस्कृति विभाग द्वारा प्रति वर्ष गणतंत्र दिवस को लोकपर्व के रूप में राष्ट्रीय समारोह 'लोकरंग'' का प्रतिष्ठापूर्ण आयोजन किया जाता है। तीन दशक की इस कला यात्रा में लोकरंग ने अपनी जनोन्मुखी पहचान और सर्वव्यापी प्रतिष्ठा बनाई है। इस वर्ष भी यह समारोह 26 से 30 जनवरी तक बीएचईएल दशहरा मैदान भोपाल में आयोजित होगा। उल्लेखनीय है कि वर्ष 1986 से प्रारंभ हुए इस आयोजन का यह 33वाँ वर्ष है। प्रमुख सचिव, संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव ने जानकारी देते हुए बताया है कि परम्परा के बहुवर्णी उत्सव लोकरंग को प्रति वर्ष किसी एक विषय पर एकाग्र आयोजन परिकल्पित किया जाता है। इस वर्ष के समारोह का केन्द्रीय विषय 'कलाओं के नाग'' (सर्प) रखा गया है। समारोह में इस वर्ष सुषिर वाद्यों पर वृहद प्रदर्शनी, चित्र शैलियों में नाग अंकन पर एकाग्र प्रदर्शनी, विश्व के अन्य देशों के हिन्दू मंदिर और स्थापत्य पर एकाग्र प्रदर्शनी, शक्ति के 108 स्वरूपों की पहली चित्र प्रदर्शनी का संयोजन किया जायेगा। लोकरंग के इस भव्य आयोजन में समवेत नृत्य-नाट्य प्रस्तुति 'पिथौरा एक अनोखी भीली जलकथा', जनजातीय और लोक के प्रदर्शनकारी नृत्य रूपों का प्रदर्शन, शिल्प मेला, बच्चों के लिये गतिविधियाँ, व्यंजन मेला मुख्य आकर्षण होंगे। लोकरंग के अंतिम दिन राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की पुण्य-तिथि के अवसर पर भक्ति संगीत संध्या भी होगी।
महिला आयोग द्वारा डेढ़ साल में 10 हजार 200 प्रकरणों का निराकरण
17 January 2018
राज्य महिला आयोग ने डेढ़ वर्ष की अल्पअवधि में 10 हजार 200 से भी ज्यादा प्रकरणों का निराकरण किया है। यह जानकारी आज आयोग की अध्यक्ष श्रीमती लता वानखेड़े की अध्यक्षता में सम्पन्न समीक्षा बैठक में दी गई। आयोग की अध्यक्ष श्रीमती वानखेड़े ने बैठक में पुराने नस्तीबद्ध प्रकरणों की समीक्षा भी की। बैठक में आयोग के वार्षिक प्रतिवेदन पर भी चर्चा हुई। इस मौके पर बताया गया कि आयोग ने 10 अगस्त 2016 से दिसम्बर 2017 के बीच पारिवारिक विवाद, कार्य स्थल पर प्रताड़ना, पति-पत्नी विवाद आदि के प्रकरणों का निराकरण भोपाल और जिलों में संयुक्त बैंच के माध्यम से किया। बैठक में आयोग के वार्षिक प्रतिवेदन पर भी चर्चा की गई। समीक्षा बैठक में आयोग की सदस्य श्रीमती प्रमिला बाजपेयी, श्रीमती सूर्या चौहान, श्रीमती संध्या राय, अनुभाग अधिकारी श्रीमती नन्दिता मित्रा, विधि अधिकारी श्री शंकर लाल पवार और श्रीमती आभा सिंह बैस मौजूद थे
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
17 January 2018
देवास जिले के ग्राम चंदाना में खजूर के पत्तों से झाड़ू बनाने वाली 50 वर्षीय शकुंतलाबाई सिसोदिया झाड़ू बनाने के बाद बचे हुए कचरे को जलाकर खाना पकाती थीं। इससे उनका पूरा घर धुआँ-धुआँ हो जाता था। घर के सभी लोग आँखों में जलन के साथ खाँसने लगते थे। शकुंतला को उज्जवला योजना का पता लगा तो सहेलियों के साथ आवेदन दिया और गैस का कनेक्शन नि:शुल्क मिल गया। शकुंतलाबाई पहले दिन-भर में 20 झाड़ू ही बना पाती थीं और उसी से गुजर-बसर करती थीं। कई बार तो ईंधन के इंतजाम और खाना बनाने में दिन भर चला जाता था। अब गैस के चूल्हे पर खाना झटपट बन जाता है। लकड़िया बीनने बाहर भी नहीं जाना पड़ता। इससे आमदनी दोगुनी हो गई है। इसी तरह, देवास जिले के मुकुंदखेड़ी की ताराबाई के लिये बरसात के मौसम में खाना बनाना सबसे मुश्किल काम होता था। लकड़ियाँ गीली होने से जलती भी मुश्किल से थीं। पूरे घर में धुआँ ही धुआँ हो जाता था। आँखों में आँसू और खाँसते-खाँसते बुरा हाल हो जाता था। कभी-कभी तो खाना ही नहीं बन पाता था। इसी प्रकार, रुकमाबाई को लकड़ियों और कण्डों से खाना बनाना बहुत भारी पड़ता था। धुएँ से मकान भी काला पड़ गया था। मेहमानों के आने पर काफी झेंप होती थी। सरकार से मुफ्त में मिले गैस कनेक्शन और चूल्हे से अब इन गरीब महिलाओं के घर में फटाफट खाना बन जाता है। थकान नहीं होती और धुआँ भी नहीं झेलना पड़ता। टीकाखुर्द की जसोदाबाई तो लकड़ियाँ फूँकते-फूँकते आँखों की बीमारी की शिकार हो गई थी। आँखें धुएँ से कमजोर हो गई थीं। अब गैस पर खाना बनाने के बाद आँखों को राहत मिली है। शकुंतलाबाई, ताराबाई, रुकमाबाई और जसोदाबाई की तरह देवास जिले में 47 हजार 927 गरीब महिलाओं को नि:शुल्क घरेलू गैस कनेक्शन और गैस चूल्हा मिल गया है। अब इन महिलाओं के घरों में स्वादिष्ट खाना आसानी से बनता है।। बरतन भी काले नहीं होते और आसानी से साफ हो जाते हैं। घर भी काला नहीं होता। आँखों की जलन और खाँसी से भी इन महिलाओं को छुटकारा मिल गया है। सबसे बड़ी बात लकड़ी बीनने, खाना बनाने और बरतन माँजने में खर्च होने वाला समय बचने से इन महिलाओं को अपने लिये भी वक्त मिलने लगा है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान से निवेशकों की मुलाकात
16 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से मुख्यमंत्री निवास पर पाँच उद्योग समूहों के प्रतिनिधियों ने मुलाकात कर प्रदेश में निवेश के प्रस्ताव दिये। मुख्यमंत्री श्री चौहान से ट्राइडेंट ग्रुप, सुजलान एनर्जी, मे. वेकमेट इंडिया लिमिटेड, मे. अल्ट्राटेक सीमेंट लिमिटेड, मे. सनफार्मा लिमिटेड के प्रतिनिधियों ने मुलाकात की। इस दौरान वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया और मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में उद्योग मित्र नीति लागू है। उन्होंने निवेशकों से चर्चा के दौरान निर्देश दिये कि प्रदेश में वस्त्र उद्योग को प्रोत्साहन देने की नीति बनायें। सोलर और विण्ड एनर्जी को बढ़ावा दिया जाये। उद्योगों से जुड़े मुद्दों पर निश्चित समय-सीमा में कार्रवाई करें। चर्चा के दौरान ट्राइडेंट ग्रुप के चेयरमेन श्री राजेन्द्र गुप्ता ने बताया कि ट्राइडेंट ग्रुप द्वारा 6250 करोड़ रूपये के पूँजी निवेश से बुदनी में मेगा इंडस्ट्रियल टेक्सटाईल हब बनाया जायेगा जिससे 16 हजार 500 लोगों को रोजगार मिलेगा। सुजलान एनर्जी के चेयरमेन श्री तुलसी तांती ने बताया कि कम्पनी द्वारा 2 हजार मेगावॉट के सोलर-विण्ड हाइब्रीड पॉवर प्रोजेक्ट की स्थापना का प्रस्ताव है। मे. वेकमेट इंडिया लिमिटेड के सीएमडी श्री डी.सी.अग्रवाल ने विद्युत टैरिफ में छूट की मांग की। मे. अल्ट्राटेक सीमेंट लिमिटेड के प्रतिनिधि श्री अतुल डागा ने बताया कि कम्पनी द्वारा प्रदेश के धार जिले में एक और सीमेंट प्लाण्ट की स्थापना की जा रही है, जिसमें तीन हजार करोड़ रूपये का निवेश संभावित है। मे. सन फार्मा लिमिटेड के प्रतिनिधि श्री मनीष संघवी ने बताया कि कंपनी द्वारा मालनपुर में 200 करोड़ रूपये से नया प्लांट शुरू किया जा रहा है। साथ ही 200 करोड़ रूपये की लागत का सोलर प्लांट भी स्थापित किया जायेगा। सन फार्मा द्वारा अगले तीन वर्ष में मंडला जिले को मलेरिया मुक्त जिला बनाने का पायलट प्रोजेक्ट भी क्रियान्वित किया जा रहा है। चर्चा में अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग श्री मो. सुलेमान, प्रमुख सचिव ऊर्जा श्री आई.पी.सी. केसरी, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा तथा ट्राइफेक के प्रबंध संचालक श्री डी.पी. आहूजा उपस्थित थे।
जनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने डायरी, कैलेण्डर का विमोचन किया
16 January 2018
जनसम्‍पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज निवास पर साप्ताहिक कृषक जगत भोपाल द्वारा प्रकाशित वर्ष 2018 की डायरी का विमोचन किया। इस अवसर पर समाचार पत्र के संपादक श्री सुनील गंगराड़े और संपादकीय सहयोगी श्री राजेश दुबे उपस्थित थे। जनसम्पर्क मंत्री ने निवास पर दैनिक लोकोत्तर, भोपाल द्वारा प्रकाशित वर्ष 2018 के टेबिल कैलेण्डर का भी विमोचन किया। विमोचन अवसर पर अखबार के संपादक श्री विवेक पटैरिया और प्रबंध संपादक श्री कैलाश वाजपेयी उपस्थित थे।
नगरीय निकाय एवं पंचायत निर्वाचन की सभी तैयारियाँ पूर्ण : श्री परशुराम
16 January 2018
राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री आर. परशुराम ने बताया कि नगरीय निकाय एवं पंचायतों के आम/उप निर्वाचन शांतिपूर्वक करवाने के लिये सभी तैयारियाँ पूरी कर ली गई हैं। उन्होंने कहा है कि मतदाता किसी भी तरह की अफवाह पर ध्यान न दें। मतदान केन्द्रों पर सुरक्षा के पर्याप्त बंदोबस्त किये गये हैं। श्री परशुराम ने बताया है कि मतदान केन्द्रों में अभ्यर्थियों द्वारा शपथ-पत्र में दी गई जानकारी का फ्लेक्स भी लगाया जायेगा। मतदान 17 जनवरी को सुबह 7 बजे से शाम 5 बजे तक होगा। मतगणना 20 जनवरी को सुबह 9 बजे से होगी। गौरतलब है कि धार जिले में नगर पालिका परिषद धार, मनावर और पीथमपुर नगर परिषद सरदारपुर, राजगढ़, धरमपुरी, धामनोद, कुक्षी और डही, बड़वानी जिले में नगर पालिका परिषद बड़वानी, सेंधवा नगर परिषद पानसेमल, खेतिया, पलसूद, अंजड़ और राजपुर, खण्डवा जिले में ओंकारेश्वर नगर परिषद, गुना जिले में राघौगढ़ विजयपुर और अनूपपुर जिले के जैतहरी नगर परिषद में आम निर्वाचन होगा। भिण्ड जिले की नगर परिषद अकोड़ा, देवास जिले की नगर परिषद करनावद और राजगढ़ जिले की नगर परिषद खिलचीपुर में अध्यक्ष को अपने पद से वापस बुलाने के लिये निर्वाचन होगा। रीवा जिले की नगर परिषद सेमरिया के अध्यक्ष पद के लिए उप-निर्वाचन होना हैं। सिंगरौली के वार्ड क्रमांक 27, बालाघाट नगर पालिका परिषद मलाज खण्ड के वार्ड क्रमांक 24,25,26, बैतूल नगर पालिका परिषद सारणी के वार्ड क्रमांक 15, मण्डला नगर परिषद निवास वार्ड 14,15, सीधी के चुरहट वार्ड 3, सागर के शाहगढ़ वार्ड 10, सतना के नागोद वार्ड 4, छतरपुर के चंदला वार्ड 9, झाबुआ के मेघनगर वार्ड 4 और दमोह के नगर परिषद पथरिया के वार्ड क्रमांक 13 में पार्षद पद का उप निर्वाचन होगा। मतदान 17 जनवरी को और मतगणना 20 जनवरी को होगी। इसके साथ ही 7,035 पंच, 168 सरपंच, 17 जनपद पंचायत सदस्य और 3 जिला पंचायत सदस्य के लिये भी आम/उप निर्वाचन होगा।
सरकारी स्कूलों के 6 लाख विद्यार्थियों का होगा अभिरुचि परीक्षण
16 January 2018
मध्यप्रदेश में सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले कक्षा 10वीं के विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा पाठ्यक्रमों और अपने कॅरियर के विकल्पों की जानकारी देने के लिये स्कूल शिक्षा विभाग ने इस वर्ष 6 लाख विद्यार्थियों का अभिरुचि परीक्षण (इन्टरेस्ट टेस्ट) कराने का निर्णय लिया है। इसके लिये पुणे के श्यामची आई फाउण्डेशन के साथ 3 वर्ष का एमओयू किया गया है। यह एजेंसी अभिरुचि परीक्षण और कॅरियर काउंसिलिंग का कार्य नि:शुल्क रूप से करेगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कुछ समय पहले विद्यार्थियों को उनकी अभिरुचि के अनुसार विषय चयन के लिये प्रति वर्ष एक लाख विद्यार्थियों के एप्टीट्यूड टेस्ट और कॅरियर काउंसिलिंग कराने की घोषणा की थी। इसी संदर्भ में स्कूल शिक्षा विभाग ने यह कार्यक्रम तैयार किया है। पुणे की संस्था द्वारा विद्यार्थियों के अभिरुचि परीक्षण और एप्टीट्यूड टेस्ट के लिये मोबाइल एप तैयार किया जा रहा है। इसके साथ ही विभिन्न विभागों से जानकारी प्राप्त कर कॅरियर काउंसिलिंग के लिये संबंधित एजेंसी द्वारा एम.पी. कॅरियर पोर्टल भी तैयार किया जा रहा है। अभिरुचि परीक्षण विद्यार्थियों को अभिरुचि को परिभाषित करने में सहायता करती है। इस टेस्ट के माध्यम से यह पता लगता है कि विद्यार्थी को क्या पसंद है और उनमें मौजूद क्षमता के अनुरूप वह किस दिशा में बढ़ सकते हैं। इनमें कला, विज्ञान, नृत्य, संगीत, खेल और पेंटिंग के विषय हो सकते हैं। एप्टीट्यूड टेस्ट के माध्यम से विद्यार्थी किस विषय का अध्ययन करें, इसके लिये टेस्ट किया जाता है। टेस्ट के बाद उन्हे मार्गदर्शन दिया जाता है। कॅरियर काउंसिलिंग में विद्यार्थियों को यह बताया जाता है कि उनकी रुचि के अनुसार अध्ययन की व्यवस्था किन शिक्षण संस्थानों में मौजूद है और वहाँ किस तरह प्रवेश लिया जा सकता है। इस वर्ष तैयार किये गये कार्यक्रम के अनुसार कक्षा 10वीं में पढ़ने वाले 6 लाख विद्यार्थियों का अभिरुचि परीक्षण फरवरी-2018 में किया जायेगा। परीक्षण का परिणाम 2 अप्रैल, 2018 तक घोषित किया जायेगा। इसी दिन एम.पी. कॅरियर मित्र पोर्टल लांच होगा। दो अप्रैल को ही लगभग एक लाख विद्यार्थियों का एप्टीट्यूड टेस्ट होगा। एप्टीट्यूड टेस्ट का परिणाम जून-2018 में होगा। कॅरियर काउंसिलिंग के लिये शिक्षकों का प्रशिक्षण मई और जून माह में इस वर्ष किया जायेगा। जून माह में ही विद्यार्थियों की कॅरियर काउंसिलिंग और पालकों से चर्चा की जायेगी।
डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य
15 January 2018
नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा है कि मध्यप्रदेश शत-प्रतिशत नगरीय निकायों से डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। स्वच्छ भारत अभियान में भारत सरकार द्वारा कराये जा रहे स्वच्छता सर्वेक्षण अभियान की मॉनीटरिंग कड़ाई से की जाये, जिससे प्रदेश में किये जा रहे प्रयासों से मध्यप्रदेश देश में पुन: नई पहचान बना सके। उन्होंने यह बात मंत्रालय में स्वच्छ भारत अभियान-2018 की समीक्षा बैठक में कही। श्रीमती माया सिंह ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान में नगरीय क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति दर्ज की गई है। शत-प्रतिशत नगरीय क्षेत्रों में खुले में शौच की कुप्रथा से मुक्ति दिलाने के बाद डोर-टू-डोर कचरा प्रबंधन का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में निजी जन-भागीदारी से ठोस अपशिष्ट प्रबंधन का कार्य लैण्डफिल साइट एवं प्र-संस्करण द्वारा किया जा रहा है। यह कार्य निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण कराये जायें। उन्होंने कहा कि ठोस अपशिष्ट प्रबंधन में क्लस्टर बनाते समय नगरीय निकायों के बीच की दूरी पर विशेष ध्यान दिया जाये, जिससे एक दिन में ही कचरा मुख्य संग्रहण केन्द्रों तक पहुँच सके। उन्होंने ठोस अपशिष्ट प्रबंधन केन्द्रों की प्रगति की साप्ताहिक रिपोर्ट प्राप्त करने के निर्देश भी दिये। उन्होंने कहा कि कचरा संग्रहण का कार्य अवकाश के दिनों में भी जारी रखा जाये। प्रमुख सचिव श्री विवेक अग्रवाल ने बताया कि स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 पूरे देश के साथ प्रदेश में भी जारी है। प्रथम चरण में 26 निकायों का सर्वेक्षण पूर्ण हो चुका है। शेष निकायों में सर्वेक्षण द्वितीय चरण में किया जायेगा। स्वच्छता सर्वे और डोर-टू-डोर कलेक्शन कार्य की नियमित समीक्षा भोपाल-स्तर से की जा रही है। सभी 51 जिलों के लिये एक-एक नोडल अधिकारी नियुक्त किये गये हैं। श्री अग्रवाल ने बताया कि निजी जन-भागीदारी आधारित ठोस अपशिष्ट प्रबंधन योजना में 26 क्षेत्रीय इकाइयों में से 6 इकाइयों में विद्युत उत्पादन इकाइयाँ स्थापित की जायेंगी। इनके माध्यम से 65 मेगावॉट विद्युत उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। शेष 20 इकाइयों से कचरे से जैविक खाद बनाया जाना प्रस्तावित है।
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
15 January 2018
भारत की बेटियों ने अपने दमखम और अपने शौर्य की गौरवशाली मिसाल लगातार पेश कर रही हैं। मध्यप्रदेश के हरदा जिले के फुलड़ी गांव की बेटी दिव्या गौर इन दिनों बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स में सेवा देकर गांव और जिले का नाम रोशन कर रही है। अपनी मेहनत के दम पर दिव्या दिल्ली राजपथ पर अपने हैरतअंगेज बाइक स्टंट का प्रदर्शन आगामी 26 जनवरी को दिल्ली के राजपथ पर होने जा रही परेड में करेंगी। दिव्या इस समय 135 राजस्थान रामगढ़ बटालियन में पदस्थ है जिसमें कुल 35 जॉबाज महिला कमांडर है। ग्राम फुलडी की दिव्या बचपन से ही देश सेवा करना चाहती थी। प्रारंभिक शिक्षा हरदा जिले के फुलडी गांव में ही प्राप्त की और रहटगांव के निजी स्कूल में बतौर टीचर काम किया। आर्थिक परिस्थिति अनुकूल नहीं होने के बाद भी दिव्या ने बीएससी की पढ़ाई की और देश सेवा के लिए तैयारी आरम्भ की। दिन रात कड़ी मेहनत करने के बाद 15 दिसम्बर 2014 को सफलता मिली। 69वें गणतंत्र दिवस के मौके पर ये मध्यप्रदेश की जांबाज बेटी कुछ ऐसे हैरतअंगेज कारनामों को अंजाम देंगी, जिसे देखकर हर कोई इस बेटी को शाबाशी देने को मजबूर हो जाएगा। बीएसएफ की ये महिला बाइकर्स अपने हौसले को एक नई उड़ान देने में जुटी हैं। ये बेटियां आसमां की ऊचाइयों को अपने हौसले के दम पर छूने को तैयार हैं। राजपथ में इन दिनों बीएसएफ लेड़ी बाइकर्स की एक जांबाज टीम का हौसला देखते ही बनता है। अब तक सिर्फ घर के अंदर घूंघट में रहने वाली भारतीय महिला की तस्वीर अब गुजरे दौर की बात हो गई है, क्योंकि हमारी बेटियां अब घर की दहलीज से बाहर कामयाबी के आसमान पर सबसे ऊंची उड़ान भर रही हैं। बीएसएफ की इस लेडी ब्रिगेड ने दिन-रात कड़ी मेहनत कर खुद को तपाकर फौलाद बना लिया है। जो लड़की कल तक साइकिल भी नहीं चला सकती थीं वो अब जांबाजी के साथ मोटरसाइकिल पर एक नया इतिहास रचने को बेताब है।
डॉ. त्रिखा ने संस्कारवान पत्रकारों की पीढ़ी तैयार की : मुख्यमंत्री श्री चौहान
15 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने वरिष्ठ पत्रकार एवं मीडिया शिक्षाविद् डा. नंद किशोर त्रिखा के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। डॉ. त्रिखा का आज नई दिल्ली में निधन हो गया। वे 82 वर्ष के थे। श्री चौहान ने कहा है कि डॉ. त्रिखा ने अपने जीवन में पत्रकारिता अध्यापन और मीडिया कर्मियों के कल्याण के लिए उल्लेखनीय कार्य किये। संस्कारवान पत्रकारों की नई पीढ़ी को तैयार करने में उनका योगदान अतुलनीय है। श्री चौहान ने पुण्यात्मा की शांति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की है और शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहन संवेदना व्यक्त की है।
उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने 6 महाविद्यालयों के संचालकों को आदेश प्रतियाँ सौंपी
15 January 2018
उच्च शिक्षा विभाग ने शिक्षण संस्थानों में एक जुलाई से शिक्षण सत्र प्रारंभ करने के लिये नई व्यवस्था की है। नई व्यवस्था के अनुसार प्रदेश में नवीन महाविद्यालय, महाविद्यालयों में नवीन विषय प्रारंभ करने और निरंतरता प्रस्ताव पर अनुमति देने के लिये ऑनलाइन प्रक्रिया प्रारंभ की गई है। प्रक्रिया को 30 जनवरी तक अनिवार्य रूप से पूरा कर लिया जायेगा। नई व्यवस्था की श्रंखला में आज उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने 25 अशासकीय नवीन महाविद्यालय तथा नवीन विषय शुरू करने के आदेश संचालकों को सौंपे। आयुक्त उच्च शिक्षा श्री नीरज मण्डलोई ने बताया कि ऑनलाइन प्रक्रिया से महाविद्यालय के संचालकों को अनावश्यक रूप से चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे और अनुमति देने में भी विलम्ब नहीं होगा।
उच्च शिक्षण संस्थानों को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के प्रयास हो
15 January 2018
उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि प्रदेश में उच्च शिक्षण संस्थानों में गुणवत्ता सुधार कर उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के प्रयास किये जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थान की लायब्रेरी और लेब में सुधार के लिये भी विशेष अभियान की आवश्यकता है। उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया आज मंत्रालय में राज्य उच्च शिक्षा परिषद की पाँचवीं बैठक में बोल रहे थे। बैठक में राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) में किये गये कार्यों की समीक्षा की गई। बैठक में अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा श्री दीपक खांडेकर और शिक्षाविद् भी मौजूद थे। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि लेग्वेंज लेब में केवल अंग्रेजी सुधार के लिए ही काम न हो बल्कि हिन्दी समेत अन्य भाषाओं के ज्ञान के विकास के लिए काम किया जाना चाहिये। उन्होंने उच्च शिक्षण संस्थानों में केन्द्र और राज्य सरकार से मिलने वाली आर्थिक सहायता राशि का समय पर उपयोग किये जाने के निर्देश दिये। बताया गया कि प्रदेश में वर्ष 2003 में 311शासकीय महाविद्यालय और 447 अशासकीय महाविद्यालय हुआ करते थे, जो बढ़कर वर्ष 2017 में 469 और 914 हो गये हैं। ग्रामीण क्षेत्रों तक उच्च शिक्षा की पहुंच सुनिश्चित करने के उद्देश्य से महाविद्यालय खोले जाने के प्रयास किये जा रहे हैं। बताया गया कि रूसा परियोजना में विभिन्न कम्पोनेंट में 269 करोड़ की राशि का अनुमोदन किया गया है। नेक से हुए मूल्यांकन के बाद बी ग्रेड के 33 कॉलेजों और 3 विश्वविद्यालयों को आर्थिक मदद देने के लिये अनुमोदित किया गया है। बैठक में बताया गया कि पं. एस.एन. शुक्ला विश्वविद्यालय शहडोल को 55 करोड़ रुपये की अनुदान राशि जारी की गई है। राशि से स्वीकृत सभी कार्य अक्टूबर 2018 तक पूरे कर लिये जाएंगे। शिक्षाविदों ने सुझाव दिया कि संभाग के कम से कम एक उच्च शिक्षण संस्थान में राष्ट्रीय स्तर की विषय विशेष पर कार्यशाला हो। कार्यशाला में मिलने वाले सुझाव का उपयोग गुणवत्ता सुधार के लिये किया जाये। आयुक्त उच्च शिक्षा श्री नीरज मंडलोई ने बताया कि विभाग में टीचिंग स्टाफ की कमी को दूर करने के लिये जून 2018 तक 3000 सहायक प्राध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया को पूरा कर लिया जायेगा। बैठक में शिक्षाविद डॉ. देवेन्द्र दीपक, डॉ. प्रकाश बरतुनिया, डॉ.चित्रलेखा चौहान, डॉ. शशि राय, एस.एन. शुक्ला विश्वविद्यालय के कुलपति श्री मुकेश तिवारी मौजूद थे।
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
15 January 2018
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना भिण्ड जिले में अनुसूचित जाति वर्ग के बृजेन्द्र, नरेन्द्र, शिवकुमार, सोनेलाल एवं सुरेन्द्र के लिए जीविकोपार्जन का सशक्त जरिया बन गई है। जिला मुख्यालय भिण्ड के बृजेन्द्र धानुक, नरेन्द्र जाटव निवासी रतनपुरा, शिवकुमार कोरी निवासी वार्ड क्र.11 रेखानगर भिण्ड, सोनेलाल खटीक निवासी इटावा रोड भिण्ड एवं सुरेन्द्र जाटव निवासी भीमनगर भिण्ड कुछ दिन पहले तक रोजगार के लिये इधर-उधर भटर रहे थे। तभी उन्हें अखबारों से जानकारी मिली कि मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में अंत्यावसायी कार्यालय से ऑटो रिक्शा, ऑटो लोडिंग और ई-रिक्शा व्यवसाय के लिए ऋण मिल सकता है। तब उन्होंने जिला अन्त्यावसायी कार्यालय में अपने ऋण आवेदन प्रस्तुत किए। बृजेन्द्र और नरेन्द्र ने ऑटो रिक्शा, शिवकुमार ने लोडिंग ऑटो और सोनेलाल एवं सुरेन्द्र ने ई-रिक्शा व्यवसाय के लिए जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति से ऋण स्वीकृत कराए। बृजेन्द्र एवं नरेन्द्र को ऑटो रिक्शा के लिये क्रम्राश: 2 लाख 73 हजार 750 रूपए के स्वीकृत ऋण में अनुदान राशि 82,125 रूपये की अनुदान राशि मिली। शिवकुमार को लोडिंग ऑटो के लिए 2 लाख 64 हजार स्वीकृत ऋण में 79 हजार 200 रूपए की अनुदान सुविधा और सोनेलाल तथा सुरेन्द्र को ई-रिक्शा के लिए क्रम्राश: 1 लाख 70 हजार 900 रूपए के स्वीकृत ऋण में 51 हजार 270 की अनुदान राशि की छूट उपलब्ध कराई गई। कलेक्टर डॉ. इलैया राजा टी ने सामान्य प्रशासन राज्यमंत्री श्री लाल सिंह आर्य की उपस्थिति में अभी 12 जनवरी को बृजेन्द्र, नरेन्द्र, शिवकुमार, सोनेलाल एवं सुरेन्द्र को क्रम्राश: ऑटो रिक्शा, लोडिंग ऑटो एवं ई-रिक्शा की चाबी सौंपी।
महिला स्व-सहायता समूहों की मदद के लिये हर जिले में होगा एक नोडल अधिकारी
14 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में महिला स्व-सहायता समूहों की आर्थिक गतिविधियां आँदोलन का रूप ले रही हैं। महिला स्व-सहायता समूहों को मजबूत बनाने और आर्थिक गतिविधियां चलाने में उनकी मदद और तकनीकी परामर्श के लिये हर जिले में एक नोडल अधिकारी होगा। ये नोडल अधिकारी संबंधित विभागों, जिला प्रशासन, बैंकों और संबंधित संस्थाओं से समन्वय स्थापित कर स्व-सहायता समूहों को आगे बढ़ने में मदद करेंगे। मुख्यमंत्री आज यहां आकाशवाणी और दूरदर्शन से प्रसारित दिल से कार्यक्रम में महिला स्व-सहायता समूहों की सदस्य बहनों को संबोधित कर रहे थे। उन्होने स्व-सहायता समूहों के गठन, प्रबंधन, उत्पादों, मार्केटिंग, संगठनात्मक शक्ति, नई जिम्मेदारियां पूरी करने और महिला सुरक्षा से जुड़े कई विषयों पर विस्तार से बातचीत की। मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। मासूम बेटियों के साथ दुराचार करने वाले हैवानों को फांसी देने का कानून बनाकर राष्ट्रपति के अनुमोदन के लिये भेजा गया है। उन्होंने महिलाओं की सुरक्षा के लिये किये गये कई अनूठे प्रयासों और उपायों की भी विस्तार से चर्चा की। श्री चौहान ने कार्यक्रम में मकर संक्रांति की बधाई और शुभकामनाएं दीं। उन्होंने बताया कि सहभागिता, बंधुत्व तथा परस्पर सहयोग की भावना को बढ़ाकर जन-जीवन में आनंद का संचार करने के लिये ग्रामीण और शहरी, सभी क्षेत्रों में 14 से 21 जनवरी तक आनंद उत्सव मनाया जा रहा है। स्व-सहायता समूहों को मिलेंगी नई जिम्मेदारियां श्री चौहान ने कहा कि सरकार महिलाओं के स्व-सहायता समूहों को कई सहूलियतें दे रही है। स्व-सहायता समूहों की प्रशिक्षण नीति की समीक्षा कर नई नीति बनाई जायेगी। यदि स्व-सहायता समूह अच्छी गुणवत्ता का कोई उत्पाद बनाते हैं, तो उनके उत्पादों की खरीदी पर भी विचार किया जायेगा। श्री चौहान ने कहा कि महिलाओं के स्व-सहायता समूह के फेडरेशन को टेक होम राशन निर्माण की जिम्मेदारी दी जा रही है। उन्हें उच्च स्तरीय प्रशिक्षण दिया जायेगा ताकि वे वैज्ञानिक रूप से पोषण आहार तैयार कर सकें। उन्होंने कहा कि महिला स्व-सहायता समूहों के फेडरेशन को मिलने वाले पांच करोड़ रुपये तक के लोन की बैंक गारंटी सरकार देगी। राज्य आजीविका मिशन के अंतर्गत गठित और अन्य स्व-सहायता समूह द्वारा लिये गये ऋण पर देय ब्याज का तीन प्रतिशत ब्याज सरकार चुकायेगी। उन्हें स्टाम्प शुल्क नहीं लगेगा। श्री चौहान ने कहा कि कई महिला स्व-सहायता समूह विद्यालयों में मध्यान्ह भोजन एवं आंगनवाड़ी में गर्म पोषण आहार उपलब्ध करवा रहे हैं। ये समूह लगभग 1500 करोड़ रूपये का कार्य कर रहे हैं। इन समूहों से जुड़ी बहनों को अब स्कूली बच्चों के यूनिफार्म बनाने की जिम्मेदारी भी दी जा रही है। ये प्रति वर्ष 70 लाख बच्चों की यूनिफॉर्म तैयार करेंगी। इससे वह 280 करोड़ रूपये का सालाना कारोबार करेंगी। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्र में बिजली मीटर रीडिंग एवं बिल वितरण कार्य में भी महिला स्व-सहायता समूहों को जोड़ा जा रहा है। उन्हें बिजली मीटर रीडिंग, बिल वितरण और राजस्व वसूली की जिम्मेदारी मिलेगी। यह व्यवस्था प्रयोग के तौर पर पहले रायसेन, विदिशा एवं राजगढ़ जिले के 10-10 गांव में शुरू होगी। श्री चौहान ने कहा कि स्वच्छता अभियान को कामयाब बनाने में स्व-सहायता समूहों की मदद ली जायेगी। इन बहनों को वाहन एवं सफाई में काम आने वाले उपकरणों के लिये वित्तीय सहायता दी जायेगी। वे सफाई दूत बनेंगी और उनके समूहों की आमदनी भी बढ़ेगी। उन्होंने बताया कि किस प्रकार स्व-सहायता समूह की 7300 महिलाएं मनरेगा के अंतर्गत कार्यों का सोशल आडिट कर रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आधुनिक समय की नारी अबला नहीं बल्कि सबला है और बेटियां अब बोझ नहीं वरदान हैं। उन्होंने कहा कि परिवार, समाज, प्रदेश और देश की उन्नति के लिये महिलाओं का आर्थिक सशक्तीकरण जरूरी है। इसके लिये महिलाओं के स्व-सहायता समूहों को मजबूत किया जायेगा। उन्होंने कहा कि आगे बढ़ने का मजबूत इरादा रखने वाली बहनें जब एकजुट होकर कोई काम करती हैं, तो बड़ी से बड़ी मुश्किल आसान हो जाती है। एक जैसी सोच रखने वाली बहनों का समूह ही स्व-सहायता समूह का रुप ले लेता है। उन्होंने कहा कि जब दृढ़ संकल्प, कौशल, लगन और आत्मविश्वास एक साथ मिल जायें तो इतनी ऊर्जा उत्पन्न होती है कि कोई भी काम असंभव नहीं रहता। जब एक जैसी सोच वाले लोग मिलकर काम करें तो प्रगति के नये रास्ते खुलने लगते हैं। बहनों को आगे बढ़ने के अवसर मिलें, तो वे समाज में बड़ा परिवर्तन ला सकती हैं। ढ़ाई सौ करोड़ की बचत मुख्यमंत्री ने बताया कि करीब दो लाख से ज्यादा महिलाओं के स्व-सहायता समूहों की बचत ढ़ाई सौ करोड़ रुपए हो गई है। विपत्ति में इससे मदद मिलती है। उन्होने बताया कि 1 लाख 43 हजार से अधिक स्व-सहायता समूहों की सदस्य बहनों की सालाना आमदनी 1 लाख रुपये से भी ज्यादा हो रही है। वे अपने परिवारों में खुशहाली लाई हैं। मुख्यमंत्री करेंगे समूहों के उत्पादों की ब्रांडिंग मुख्यमंत्री ने कहा कि वे स्वयं महिलाओं के स्वसहायता समूहों के उत्पादों की ब्रांडिंग करेंगे। कई स्व-सहायता समूह के उत्पाद ब्रांडेड कंपनियों के उत्पादों से बेहतर हैं। जड़ी-बूटी युक्त साबुन, कुटकी चावल, अगरबत्ती, रोस्टेट अलसी, गुड़ और फल्ली दाने की चिक्की, फूल मालाएं, हल्दी पाउडर जैसे उत्पादों की चर्चा बाजार में हो रही है। उन्होने कहा कि महिला स्व-सहायता समूह साबुन-निर्माण, गुड़, मूंगफली चिक्की निर्माण, अगरबत्ती उत्पादन, सब्जी उत्पादन, हथकरघा, परिधान-निर्माण, सेनेटरी नेपकिन निर्माण, मुर्गीपालन एवं विभिन्न कृषि आधारित आदि कार्य कर रहे हैं। जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए इनके द्वारा वर्मीपीट और नॉडेप भी बनाये गये हैं। डिण्डौरी जिले में महिलाएं कोदो-कुटकी का उत्पादन एवं प्रसंस्करण कर रही हैं। एक परियोजना में आंगनवाड़ियों में कोदो-कुटकी की चिक्की भी प्रदाय कर रही हैं। महिला स्व-सहायता समूह की सदस्यों ने 10 मुर्गी उत्पादक कम्पनियां बनाई हैं जिनमें पांच हजार से ज्यादा महिलाएं मुर्गी पालन एवं मुर्गियों का व्यापार कर रही हैं। वर्ष 2016-17 में इन महिलाओं ने लगभग 175 करोड़ रुपये का व्यापार किया है। आर्थिक गतिविधियों के अलावा महिलाओं के स्व-सहायता समूह सामाजिक जन-जागरण के कामों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। इसमें नशा-मुक्ति, बाल विवाह रोकने, बेटी बचाओ-बेटी बढ़ाओ अभियान जैसे सामाजिक कार्य शामिल हैं। सफल स्व-सहायता समूहों की सराहना मुख्यमंत्री ने कई सफल स्व-सहायता समूहों का उल्लेख करते हुए उनकी सराहना की। उन्होंने बड़वानी जिले के भिलखेड़ा गांव के गणेश स्व-सहायता समूह, सागर जिले के देवरी विकासखंड के सिमरिया के सपना स्व-सहायता समूह, शहडोल जिले के सुहागपुर विकासखंड के कल्याणपुर के लक्ष्मी स्व-सहायता समूह, श्योपुर जिले के रतोदन गांव के महादेव स्व-सहायता समूह की चर्चा की और इनसे जुड़ी महिला सदस्यों की आर्थिक प्रगति का उल्लेख किया। उन्होंने बैतूल जिले के 70 गांवों की 931 आदिवासी महिलाओं की सतपुड़ा वूमन सिल्क प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड की चर्चा करते हुए बताया कि कैसे इन महिलाओं ने रेशम उत्पादन से अपनी जिन्दगी बदली। महिला सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता महिला सुरक्षा के प्रति सरकार का संकल्प दोहराते हुए श्री चौहान ने कहा कि बेटियों की गरिमा को धूमिल करने वालों को फांसी होगी। इसके लिये कानून बनाकर राष्ट्रपति के अनुमोदन के लिये भेजा गया है। उन्होने महिला सुरक्षा के लिये किये गये प्रयासों का उल्लेख करते हुए बताया कि 82 हजार से अधिक शौर्या दल कार्य कर रहे हैं। महिलाओं की सुरक्षा के लिए राज्य स्तरीय महिला हेल्प लाईन 1090 शुरू की गई है, जिसमें महिलाएं निडर होकर अपनी शिकायतें दर्ज करा रही हैं। महिलाओं की सुरक्षा के लिये जिला मुख्यालयों में निर्भया पेट्रोलिंग की व्यवस्था की गई है। बिना सीसीटीवी वाली बसों को परमिट नहीं श्री चौहान ने बताया कि प्रदेश में मैत्री पुलिस पेट्रोलिंग शुरू की गई है। इसमें पेट्रोलिंग वाहन विद्यालयों, महाविद्यालयों, उद्यानों एवं अन्य सार्वजनिक स्थानों की निगरानी करते हैं। महिला थाने भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, उज्जैन, सतना, सागर, जबलपुर, रीवा, रतलाम और कटनी में स्थापित किये गये हैं। इनमें पीड़ितों की त्वरित सुनवाई होती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल एवं सिटी बसों में बहनों और बेटियों के साथ छेड़छाड़ की घटनाओं को रोकने और अपराधियों पर सख्त कार्यवाही करने के लिए इन बसों में सी.सी.टी.वी. कैमरे लगाना अनिवार्य किया गया है। जो बस मालिक कैमरे लगायेंगे, उन्हें ही बस का परमिट दिया जायेगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि इसके अलावा सभी जिलों में फास्टट्रेक कोर्ट गठित किये गये हैं। उन्होने बेटियों और महिलाओं से आग्रह किया किया सोशल मीडिया पर कोई भी व्यक्ति यदि अभद्र व्यवहार करता है तो आप निडर होकर पूरे साहस के साथ इसकी शिकायत करें। पुलिस की वेबसाइट एवं एप्प एम.पी.ई.कॉप पर एस.ओ.एस. सुविधा उपलब्ध है। इस सुविधा का उपयोग कर डायल 100 पर एवं अपने नजदीकियों को तत्काल जानकारी भेजी जा सकती है। श्री चौहान ने कहा कि महिलाओं की शिकायतों की त्वरित सुनवाई सुनिश्चित करने के लिये 141 महिला डेस्क स्वीकृत की गई हैं। महिलाओं की सुरक्षा सरकार और समाज की साझा जिम्मेदारी मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा सरकार की जिम्मेदारी है और पूरी संवेदनशीलता के साथ सरकार अपनी जिम्मेदारी निभा रही है, लेकिन समाज का सहयोग भी जरूरी है। उन्होंने समाज के सभी वर्गो का आव्हान किया कि वे सरकार के प्रयासों में पूरा सहयोग करें। बच्चों को महिलाओं और बेटियों का सम्मान करने का संस्कार दें। उन्होंने कहा कि इस विषय पर स्कूली पाठ्यक्रमों में इस संबंध में पाठ शामिल किये जायेंगे और नये सिरे से ‘बेटी बचाओ अभियान’ प्रारंभ किया जायेगा। उन्होंने भिण्ड जिले का उदाहरण देते हुए कहा कि सरकार के सघन अभियान के फलस्वरूप अब भिण्ड में लिंगानुपात सुधर रहा है। श्री चौहान ने स्वामी विवेकानंद जयंती- युवा दिवस की चर्चा करते हुए कहा कि स्वामी जी के विचारों में लोगों को ऊर्जावान बनाने की अदभुत शक्ति है। श्री चौहान ने प्रदेश में 19 दिसम्बर से शुरू हुई ‘एकात्म यात्रा’ की चर्चा करते हुए कहा कि यह यात्रा चार अलग-अलग मार्गों से प्रारम्भ की गई है। केरल में शंकराचार्य जी की जन्मस्थली से ‘शंकराचार्य संदेश वाहिनी’ भी रवाना की गई है। सभी यात्रायें 21 जनवरी को ओंकारेश्वर पहुँचेंगी। इन यात्राओं के माध्यम से अद्वैत वेदांत दर्शन के प्रति लोगों को जागरूक करना है। समाज के सहयोग से ओंकारेश्वर में 108 फीट ऊँची आदि शंकराचार्य जी की अष्टधातु की विशाल प्रतिमा स्थापित की जायेगी। श्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश के रहने वाले विदेशों में बसे भारतीयों का इंदौर में फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. सम्मेलन – 3 और 4 जनवरी को आयोजित किया गया । इसमें 20 से अधिक देशों के मित्र शामिल हुये। सम्मेलन में मध्यप्रदेश के विकास में सहयोग से जुडे विषयों पर चर्चा हुई। अपने शहरों को स्वच्छ बनायें श्री चौहान ने नागरिकों से अपील की कि वे अपने-अपने शहरों को साफ रखने में स्व प्रेरणा से योगदान दें। स्वच्छ सर्वेक्षण – 2018 में उत्साहपूर्वक भागीदारी करें। पिछले सर्वेक्षण में भारत के सौ में से 22 शहर मध्यप्रदेश के चुने गये थे। इस सर्वेक्षण में भी अपने शहरों की साफ-सफाई में योगदान दें। श्री चौहान ने कहा कि अगली 24 जनवरी को नर्मदा जयंती आ रही है। उन्होंने नर्मदा मैया को साफ सुथरा रखने का संकल्प दोहराने का आव्हान किया। भावांतर भुगतान योजना की चर्चा करते हुए उन्होने कहा कि इसे सफलता मिली है। किसानों के लिये यह हितकारी साबित हुई है। अभी तक 6 लाख 35 हजार किसानों को 834 करोड़ रुपए का भुगतान किया हो चुका है। बाकी राज्य भी इसे अपने यहां लागू करने के लिये इसका अध्ययन कर रहे हैं।
जनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. मिश्र द्वारा दतिया ट्राफी क्रिकेट स्पर्धा का समापन
14 January 2018
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना भिण्ड जिले में अनुसूचित जाति वर्ग के बृजेन्द्र, नरेन्द्र, शिवकुमार, सोनेलाल एवं सुरेन्द्र के लिए जीविकोपार्जन का सशक्त जरिया बन गई है। जिला मुख्यालय भिण्ड के बृजेन्द्र धानुक, नरेन्द्र जाटव निवासी रतनपुरा, शिवकुमार कोरी निवासी वार्ड क्र.11 रेखानगर भिण्ड, सोनेलाल खटीक निवासी इटावा रोड भिण्ड एवं सुरेन्द्र जाटव निवासी भीमनगर भिण्ड कुछ दिन पहले तक रोजगार के लिये इधर-उधर भटर रहे थे। तभी उन्हें अखबारों से जानकारी मिली कि मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में अंत्यावसायी कार्यालय से ऑटो रिक्शा, ऑटो लोडिंग और ई-रिक्शा व्यवसाय के लिए ऋण मिल सकता है। तब उन्होंने जिला अन्त्यावसायी कार्यालय में अपने ऋण आवेदन प्रस्तुत किए। बृजेन्द्र और नरेन्द्र ने ऑटो रिक्शा, शिवकुमार ने लोडिंग ऑटो और सोनेलाल एवं सुरेन्द्र ने ई-रिक्शा व्यवसाय के लिए जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति से ऋण स्वीकृत कराए। बृजेन्द्र एवं नरेन्द्र को ऑटो रिक्शा के लिये क्रम्राश: 2 लाख 73 हजार 750 रूपए के स्वीकृत ऋण में अनुदान राशि 82,125 रूपये की अनुदान राशि मिली। शिवकुमार को लोडिंग ऑटो के लिए 2 लाख 64 हजार स्वीकृत ऋण में 79 हजार 200 रूपए की अनुदान सुविधा और सोनेलाल तथा सुरेन्द्र को ई-रिक्शा के लिए क्रम्राश: 1 लाख 70 हजार 900 रूपए के स्वीकृत ऋण में 51 हजार 270 की अनुदान राशि की छूट उपलब्ध कराई गई। कलेक्टर डॉ. इलैया राजा टी ने सामान्य प्रशासन राज्यमंत्री श्री लाल सिंह आर्य की उपस्थिति में अभी 12 जनवरी को बृजेन्द्र, नरेन्द्र, शिवकुमार, सोनेलाल एवं सुरेन्द्र को क्रम्राश: ऑटो रिक्शा, लोडिंग ऑटो एवं ई-रिक्शा की चाबी सौंपी।
राज्य मंत्री श्री सारंग पतंग महोत्सव में शामिल हुए
14 January 2018
सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग आज ओल्ड सुभाष नगर, चांदबड़ और करोंद में आयोजित पतंग महोत्सव में शामिल हुए। मकर संक्रांति पर्व के अवसर पर ओल्ड सुभाष नगर में सुभाष खेल मैदान, चांदबड़ में कपड़ा मिल मैदान और करोंद में दशहरा मैदान में पतंग महोत्सव का आयोजन किया गया। श्री सारंग ने नागरिकों को मकर संक्रांति पर्व की शुभकामनाएं भी दी। राज्य मंत्री श्री सारंग ने बच्चों के साथ पतंग में मांजा बांधा और बाल सुलभ ढंग से पतंग उड़ाई। महोत्सव में स्थानीय पार्षद, जन-प्रतिनिधि तथा नागरिक गण शामिल हुए।
मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना
14 January 2018
मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना में 12 जनवरी तक 27 हजार 116 विद्यार्थियों की 53 करोड़ 16 लाख 9 हजार 318 रुपये की फीस का भुगतान किया जा चुका है। योजना में कुल 28 हजार 88 आवेदन प्राप्त हुए थे। इनमें से 27 हजार 197 आवेदन स्वीकृत हो चुके हैं। स्वीकृत आवेदनों में से आईआईएम के दो, तकनीकी शिक्षा के 187, मध्यप्रदेश स्थित आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी, एनआईएफटी, एसपीए के 32 और मध्यप्रदेश के बाहर की इन संस्थाओं के 171, क्लेट के 24, जेईई रैंक (प्रदेश के बाहर के प्रायवेट कॉलेज) के 23, मेडिकल के 618, उच्च शिक्षा के 25,873 और अन्य विषयों के 267 आवेदन स्वीकृत हो चुके हैं। योजना में खरगौन के श्री पवन मण्डलोई का नीट के माध्यम से अरविंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस इंदौर, भोपाल की कु. शुभांगी बागरे का स्कूल ऑफ प्लानिंग एण्ड ऑर्किटेक्चर भोपाल, इंदौर की कु. अनुज्ञा मुकाती का क्लेट के माध्यम से एनएलआईयू भोपाल, सिवनी के श्रेयांश ठाकुर का आईआईटी इंदौर में एडमिशन हुआ है। इनके साथ ही अन्य सभी चयनित विद्यार्थियों की फीस मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना के माध्यम से दी गई है
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी मकर संक्रांति की शुभकामनायें
13 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने लोगों को मकर संक्रांति पर्व की बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। श्री चौहान ने कहा कि स्नान, दान और सूर्य उपासना का यह पर्व उत्साह, उमंग और खुशियों का प्रतीक पर्व है। उन्होंने मकर संक्रांति पर लोगों की समृद्धि की कामना करते हुए कहा कि सरकार ऐसे सभी संभव कदम उठा रही है जो हर नागरिक और हर परिवार को खुशहाल, निरोग और समृद्ध बनाने में सहयोगी हो।
उद्योग मंत्री श्री शुक्ल द्वारा मकर संक्रांति पर्व की बधाई
13 January 2018
वाणिज्‍य, उद्योग और रोजगार तथा खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने मकर संक्रांति के पावन अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएँ देते हुए सुख-समृद्धि की कामना की है। श्री शुक्ल ने कहा है कि भारत पर्वों का देश है, मकर संक्रांति का पर्व भी इनमें से एक है। सूर्य की दिशा बदलने और ऋतु परिवर्तन के उदघोष के साथ यह पर्व जीवन में मिठास घोलने और भाईचारे की परम्परा को मजबूत बनाने की प्रेरणा देता है।
पचमठा रीवा से चली एकात्म यात्रा का भोपाल में हुआ आत्मीय स्वागत
13 January 2018
राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने शनिवार को बाणगंगा में आदि शंकराचार्य की चरण-पादुका और ध्वज का पूजन कर एकात्म यात्रा को रवाना किया। यह यात्रा 19 दिसम्बर को पचमठा रीवा से चलकर भोपाल पहुँची है। श्री गुप्ता सिर पर आदि शंकराचार्य की चरण-पादुका रख यात्रा में शामिल हुए। यात्रा का जगह-जगह पुष्प-वर्षा कर शहरवासियों ने स्वागत किया। यात्रा में विधायक श्री रामेश्वर शर्मा ध्वज लेकर चल रहे थे।
अम्बेडकर जयंती पार्क में जन-संवाद एकात्म यात्रा के पंचशील नगर स्थित अम्बेडकर जयंती पार्क पहुँचने पर जन-संवाद किया गया। जन-संवाद में विभिन्न वार्डों से आई कलश-यात्रा भी शामिल हुईं। जन-संवाद में श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि धर्म की मर्यादाओं का पालन करने पर देश का कल्याण होता है। उन्होंने बताया कि प्राचीन-काल में राजा किसी अन्य दण्ड नहीं सिर्फ धर्म-दण्ड से ही दण्डित हो सकता था। श्री गुप्ता ने बताया कि आदि शंकराचार्य ने देश की एकता और अखण्डता के लिये ही देश के चारों कोनों में मठ की स्थापना की थी। उन्होंने कहा कि आदि शंकराचार्य की शिक्षाओं से सीख लें और देश की एकता और अखण्डता को अक्षुण्ण बनाये रखें। गौ-संवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष एवं महामण्डलेश्वर अखिलेश्वरानंद गिरि महाराज ने कहा कि भारत को विश्व गुरु बनाने वाली हमारी आध्यात्मिक परम्परा है। उन्होंने बताया कि आदि शंकराचार्य ने अद्वैतवाद का दर्शन पूरे विश्व को दिया है। आदि शंकराचार्य को गुरु की उपाधि ओंकारेश्वर में मिली थी, इसीलिये यहाँ इनकी विशाल प्रतिमा स्थापित करने का निर्णय लिया गया है। एकात्म यात्रा 22 हजार ग्राम-पंचायतों और 52 हजार गाँवों से होकर गुजरेगी। महंत श्री चन्द्रमादास महाराज ने भी विचार रखे। खनिज निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे ने यात्रा के उद्देश्यों की जानकारी दी। जन-संवाद के पहले मंत्रोच्चार के साथ पादुका, ध्वज और कन्या-पूजन किया गया। जन-समुदाय को एकात्मता का संकल्प दिलाया गया। जन-संवाद में बैंगलुरु से आये स्वामी श्रीनिवास एवं अन्य साधु-संत, सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग, महापौर श्री आलोक शर्मा, सांसद श्री आलोक संजर, विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, पूर्व महापौर श्रीमती कृष्णा गौर, नगर निगम के अध्यक्ष डॉ. सुरजीत सिंह चौहान एवं नागरिक उपस्थित थे।

कोलारस और मुंगावली विधानसभा उप-चुनाव की तैयारियाँ शुरू
13 January 2018
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने शिवपुरी जिले के 27-कोलारस और अशोकनगर जिले के 34-मुंगावली विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के होने वाले उप-चुनाव के लिए तैयारियाँ शुरू कर दी हैं। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दोनों उप-चुनाव की घोषणा शीघ्र किये जाने की संभावना है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने दोनों जिलों के कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी और रिटर्निंग ऑफिसर को निर्वाचन व्यय निगरानी के संबंध में चुनाव आयोग के निर्देशों के अनुसार कार्यवाही करने को कहा है। निर्वाचन व्यय निगरानी के संबंध में चुनाव आयोग के सितंबर 2016 के अद्यतन निर्देश चुनाव आयोग की वेबसाइट www.eci.nic.in पर उपलब्ध है, जो इन उप-चुनावों पर भी लागू रहेंगे। दोनों जिलों के निर्वाचन और रिटर्निंग ऑफिसर को निर्देशों का भली-भांति अध्ययन कर प्रत्येक स्तर पर पालन करवाने को कहा गया है। निर्वाचन व्यय निगरानी के लिए जिला नोडल अधिकारी की नियुक्ति कर संबंधितों की बैठक आयोजित करने के निर्देश भी दिये गये है। विभिन्न सामग्री की दरों के निर्धारण के लिए राजनैतिक दलों के साथ बैठक करने के निर्देश दिये गये हें। सहायक व्यय प्रेक्षक (एईओ), फ्लांइग स्क्वाड (एफएसटी), स्थैतिक निगरानी टीम (एसएसटी), वीडियो निगरानी टीम (वीएसटी), वीडिओ अवलोकन टीम (वीवीटी), एकाउंट टीम (एटी), मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण समिति (एमसीएमसी) तथा शिकायत अणुवीक्षण नियंत्रण कक्ष और कॉल सेंटर का गठन निर्देश भी दिये गये हैं। कॉल सेंटर 24 x7 कार्य करेगा। निर्वाचन अधिकारियों को अवैध शराब के परिवहन व वितरण को रोकने के लिए आबकारी विभाग के उड़नदस्ते तैनात करने को कहा गया है। बैंकों को अभ्यर्थियों का खाता खोलने तथा चैक बुक आदि प्रदाय करने के लिए अभी से व्यवस्था करने के निर्देश दिये गये हैं। राजनैतिक दलों को भी दिन-प्रतिदिन के लेखे तथा निर्वाचन व्यय निगरानी के निर्देशों से अवगत करवाने के लिए कहा गया है। नामंकन भरने वाले अभ्यर्थियों को लेखे का अद्यतन रजिस्टर नामांकन भरने के साथ ही प्रदाय किये जाना चाहिए। जिला कलेक्टर को निर्वाचन व्यय संबंधी संवेदनीशल क्षेत्रों की जानकारी तत्काल उपलब्ध करवाने के लिए कहा गया है। निर्वाचन व्यय संबंधी संवेदनशील पॉकेट चयन कर सेक्टर एवं पुलिस अधिकारियों आदि से इनपुट प्राप्त करने के लिए भी कहा गया है। साथ ही निर्वाचन व्यय निगरानी संबंधी जानकारी से सभी को अवगत करवाने के निर्देश भी दिये गये हैं।
मध्यप्रदेश में बाल मृत्यु दर में पहली बार 7 अंकों की गिरावट
12 January 2018
केन्द्र शासन द्वारा हाल ही में जारी सेम्पल रजिस्ट्रेशन सर्वे (एसआरएस-2016) में मध्यप्रदेश में बाल मृत्यु दर में 7 अंकों की भारी गिरावट दर्ज की गई है। परिणाम स्वरूप 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों की बाल मृत्यु दर वर्ष 2015 के 62 से गिरकर 55 प्रति हजार जीवित जन्म हो गई है। यह गिरावट राज्य शासन द्वारा आरंभ किये गये दस्तक अभियान, विभिन्न स्वास्थ्य योजनाओं और अन्य प्रयासों के चलते हुई है। देश में सर्वाधिक गिरावट दर्ज करने वाले राज्यों में 10 अंक के साथ असम प्रथम और 7 अंक के साथ मध्यप्रदेश द्वितीय स्थान पर है। भारत में बाल मृत्यु दर में 4 अंकों की गिरावट दर्ज हुई है। यह दर वर्ष 2015 में 43 से घटकर 39 प्रति हजार जीवित जन्म रिपोर्ट हुई है। बाल मृत्यु के प्रमुख कारणों में निमोनिया 14 प्रतिशत, दस्त रोग 9.2 प्रतिशत, गंभीर कुपोषण 45 प्रतिशत और गंभीर एनीमिया हैं। इसे मद्देनजर रखते हुए प्रदेश में 6 माह के अंतराल में घर-घर जाकर दस्तक अभियान में पीड़ित बच्चों की पहचान, उपचार और प्रबंधन की कार्यवाही की जा रही है। अभियान में 9 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों को विटामिन-ए की खुराक रोग प्रतिरोधक क्षमता के विकास के लिये दी जा रही है। गंभीर रक्ताल्पता से ग्रसित बच्चों को नि:शुल्क खून चढ़ाया जा रहा है। इससे वे बाल्यावस्था में होने वाली बीमारियों से बच रहे हैं। दस्त रोग की रोकथाम के लिये हर घर में ओआरएस तथा जिंक गोली वितरण के साथ उचित शिशु एवं बाल आहार की समझाइश भी परिवारों को दी जा रही है। सुदूर इलाकों में परिवारों को बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण के बारे में भी जागरूक किया जा रहा है। इसी का परिणाम है कि पहली बार प्रदेश में बाल मृत्यु दर में इतनी महत्वपूर्ण गिरावट दर्ज की गई है। दस्तक अभियान के 15 जून से 31 जुलाई-2017 के मध्य हुए प्रथम चरण में 5 वर्ष से कम उम्र के 76 लाख बच्चों तक घर-घर पहुँच बनाई गई। गंभीर कुपोषण, गंभीर एनीमिया, निमोनिया, दस्त रोग, जन्मजात विकृतियों तथा अन्य बीमारियों की सक्रिय पहचान की गई। द्वितीय चरण 18 दिसम्बर, 2017 से 18 जनवरी, 2018 के मध्य किया जा रहा है। अब तक 68 लाख बच्चों की नामजद जानकारी दर्ज करने के साथ 23 लाख बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण कर चिन्हित बच्चों का नि:शुल्क उपचार किया जा रहा है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिये विटामिन-ए का सप्लीमेंट दिया गया है। पोषण पुनर्वास केन्द्रों में 1500 बच्चों को भर्ती किया जा चुका है और शेष बच्चों को नि:शुल्क परिवहन से लाने की व्यवस्था की जा रही है। 514 बच्चों को नि:शुल्क ब्लड ट्रांसफ्यूजन (खून चढ़ाना) किया जा चुका है, शेष की व्यवस्था की जा रही है। जन्मजात विकृतियों वाले 3237 बच्चों की पहचान कर उनके इलाज का नि:शुल्क प्रबंध किया जा रहा है। निमोनिया के 2245 और दस्त रोग के 3351 बच्चों की पहचान कर उपचारित किया गया है। गंभीर संक्रमण सेप्सिस से पीड़ित 1318 बच्चों की पहचान कर उपचारित किया जा रहा है। यह बच्चे दो माह से कम उम्र के हैं। करीब 25 हजार बच्चों में अन्य बीमारियाँ पाई गईं जिनके उपचार का प्रबंध दस्तक दल द्वारा किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान निज निवास में करेंगे एकात्म यात्रा का स्वागत
12 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आदि शंकराचार्य की प्रतिमा के लिये सांकेतिक धातु संग्रहण एवं जन-जागरण के लिये चल रही एकात्म यात्रा का 13 जनवरी को शाम 6.30 बजे मुख्यमंत्री निवास में स्वागत करेंगे। स्वागत कार्यक्रम शाम 8.30 बजे तक चलेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि भारत की आध्यात्मिक शक्ति के अविरल प्रवाह को प्रवाहमान बनाये रखने में आदि शंकराचार्य जी के कार्य एवं दर्शन की महत्वपूर्ण भूमिका है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि आदि गुरु शंकराचार्य ने भारत को सांस्कृतिक एकता में जोड़ने का महान कार्य किया है। ऐसे समय में जब देश और दुनिया को भौगोलिक रूप से ही नहीं, वरन् मानवीय संवेदनाओं को भी विभाजित करने का प्रयास किया जा रहा है तब आदि गुरु शंकराचार्य का जीवन एवं उनकी शिक्षाएँ अत्यंत प्रासंगिक हो जाती हैं। श्री चौहान ने कहा है कि 19 दिसम्बर, 2017 से ओंकारेश्वर, उज्जैन, पचमढ़ा (रीवा) एवं अमरकंटक से शुरू हुई एकात्म यात्रा में हर वर्ग के लोग सहभागी बनें एवं आदि शंकराचार्य के शाश्वत दर्शन को जीवन में आत्मसात करें।
बच्चो की परवरिश के लिये माता-पिता की काउंसलिंग आवश्यक- मंत्री श्रीमती चिटनिस
12 January 2018
महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा है कि बच्चों की परवरिश (पेरेन्टिग) के लिये माता-पिता की काउंसलिंग की आवश्यकता है। इसके लिए उच्च शिक्षा विभाग के सहयोग से मॉडयूल विकसित किये जायेंगे। इस संबंध में श्रीमती चिटनिस तथा उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने मंत्रालय में विभागीय अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में बताया गया कि मॉडयूल विकसित करने में स्वास्थ्य विभाग, आनंद विभाग, गायत्री परिवार, गुजरात में संचालित बाल विश्वविद्यालय सहित पेरेन्टिग के क्षेत्र में कार्य कर रहे स्वयं सेवी संगठनों तथा विषय विशेषज्ञों का सहयोग लिया जायेगा। बैठक में श्रीमती चिटनिस ने कहा कि परिवार और समाज के बदलते परिवेश तथा प्राथमिकताओं को देखते हुए यह आवश्यक है कि बच्चों के प्रति दायित्व के बेहतर निर्वहन के लिये माता-पिता को मार्गदर्शन उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा कि बच्चो के पोषण, मनोविज्ञानिक आवश्यकताओं, सामाजिक व्यवहार, शारीरिक विकास, सुरक्षा तथा अन्य घटकों पर माता-पिता को आवश्यक तथ्य परक जानकारी उपलब्ध कराते हुए इसे व्यवहार में लाने के लिए प्रेरित किया जायेगा। वातावरण निर्मित करने के लिए कार्यशाला एवं सेमीनार आयोजित किये जाएंगे। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि आँगनवाडी स्तर पर गर्भवती महिलाओं तथा बच्चो की जानकारी उपलब्ध रहती है। इसलिये आँगनवाड़ी के माध्यम से इस प्रकार की काउंसिलंग की व्यवस्था को समाज में व्यापक विस्तार दिया जा सकता है। उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने महाविद्यालीन कक्षाओं के आधारभूत पाठ्यक्रम में इन मॉडयूल्स को शामिल करने की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि माड्यूल विकसित करने में शहरी, ग्रामीण तथा सामाजिक एवं आर्थिक परिवेश का विशेष ध्यान रखा जाये। बैठक में प्रमुख सचिव महिला बाल विकास श्री जे.एन. कन्सोटिया, उच्च शिक्षा आयुक्त श्री नीरज मंडलोइ, अटल बिहारी बाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रामदेव भारद्धाज, राष्ट्रीय बाल स्वस्थ्य कार्यक्रम के प्रभारी डॉ. विनय दुबे तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
वर्षों के संचित ज्ञान का आविष्कार है सूर्य नमस्कार
12 January 2018
स्वामी विवेकानंद जयंती पर आज पूरे प्रदेश में सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया। सभी जिलों में उत्साहपूर्वक स्कूली बच्चों, गणमान्य नागरिकों और सभी सम्‍प्रदायों के लोगों ने सामूहिक सूर्य नमस्कार में भाग लेकर सूर्य की आराधना की। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राजधानी भोपाल में लाल परेड ग्राउंड में आयोजित मुख्य समारोह में भाग लिया । यह सामूहिक सूर्य नमस्कार का ग्यारहवां आयोजन है। उल्लेखनीय है कि स्वामी विवेकानन्द के जन्म दिन को प्रदेश में युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन सभी शिक्षण संस्थाओं में स्वामी जी के व्यक्तित्व और उनके वेदांत दर्शन की व्याख्याओं पर आधारित शैक्षणिक, सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी विवेकानंद की जयंती को पूरे प्रदेश में युवा उत्सव के रूप में मनाया जा रहा है। उन्होने कहा कि स्वामी विवेकानंद का साहित्य सकारात्मक कार्य करने की ऊर्जा और प्रेरणा देता है। स्वामी विवेकानंद के विचारों का संदर्भ देते हुए श्री चौहान ने कहा कि स्वामीजी के विचार प्रेरणा के अनन्य स्त्रोत हैं। श्री चौहान ने कहा कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन रहता है। समाज में अच्छे काम करने के लिये तन और मन का स्वस्थ होना जरूरी है। उन्होने कहा कि भारत के ऋषियों-मुनियों ने अपने वर्षों के संचित ज्ञान से योग का सबसे सरल व्यायाम सूर्य नमस्कार का आविष्कार कर हमें सौंपा है। उन्होने विद्यार्थियों का आव्हान किया कि वे सूर्य नमस्कार को सिर्फ एक दिन नहीं बल्कि हर दिन करें। इससे सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। उन्होने कहा कि विश्व के सभी देशों ने योग की शक्ति और महत्व को स्वीकार किया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की पहल से पूरे विश्व में 21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जाता है। पिछले साल 172 देशों ने विश्व योग दिवस पर योग करने का संकल्प लिया।
योग करें, स्वस्थ रहें, खूब पढ़े श्री चौहान ने विद्यार्थियों से कहा कि दसवीं, ग्यारहवीं, बारहवीं की परीक्षाएं शुरू होने वाली हैं। खूब मन लगाकर पढ़ें और अच्छे नम्बर लाकर राष्ट्रीय शैक्षणिक संस्थानों में जायें। पढ़ाई का खर्चा सरकार उठायेगी। श्री चौहान ने विद्यार्थियों का आव्हान किया कि वे खूब योग करें और खूब पढ़ाई करें, स्वस्थ रहें, अपने माता पिता का आदर करें, शिक्षकों का आदर करें। उन्होने योग विज्ञान के अनुसार स्वस्थ रहने के तरीकों को साझा करते हुए कहा कि जितना जरूरी और हितकारी हो, उतना भोजन करें। भूख से थोड़ा कम भोजन करें और मौसम के अनुसार फल, सब्जी को भोजन में शामिल करें। पिज्जा बर्गर से दूर रहें। मुख्यमंत्री ने देवी सरस्वती और स्वामी विवेकानंद के चित्रों पर फूल चढ़ाए। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी, सांसद श्री आलोक संजर, मेयर श्री आलोक शर्मा, विधायक श्री सुरेन्द्र नाथ सिंह और गणमान्य नागरिकों ने सामूहिक सूर्य नमस्कार में भाग लिया।

कोयला आवंटन के लिये आवेदन आमंत्रित
12 January 2018
राज्य शासन की नवीन प्रक्रिया एवं नीति के तहत जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र भोपाल द्वारा कोल-आवंटन के लिये आवेदन आमंत्रित किये गये हैं। जिले में कार्यरत कोयला उपयोग करने वाली इकाइयाँ अधिक जानकारी के लिये कार्यालयीन समय में जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र, भोपाल में सम्पर्क कर सकती हैं
मंत्रालय में ई-फाइल सिस्टम शुरू होगा: विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री गुप्ता
12 January 2018
राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि जल्द ही मंत्रालय में ई-फाइल सिस्टम शुरू होगा। ई-गवर्नेंस से समय पर प्रकरणों का निराकरण होगा। श्री गुप्ता शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या महाविद्यालय, भोपाल में 'ई-गवर्नेंस: कांसेप्ट इश्यूज एंड चेलेंजेस' विषय पर वेबिनार एंड नेशनल वर्कशॉप को संबोधित कर रहे थे। वेबिनार 3 जनवरी को शुरू हुआ था। श्री गुप्ता ने कहा कि प्रदेश में जल्द ही ई-केबिनेट भी शुरू होने वाली है। उन्होंने बताया कि राजस्व विभाग में रेवन्यू कोर्ट मैनेजमेंट सिस्टम लागू होने से राजस्व प्रकरणों के निराकरण में तेजी आयी है। तीन माह में ही लगभग 10 लाख प्रकरणों का निराकरण किया गया। कोई भी व्यक्ति घर बैठे प्रकरण दर्ज करवा सकता है, सुनवाई की तारीख देख सकता है और निर्णय के बाद उसकी कॉपी निकाल सकता है। उन्होंने कहा कि देश की आजादी का सपना ई-गवर्नेंस के माध्यम से ही पूरा हो सकता है। जन-भागीदारी समिति की अध्यक्ष श्रीमती मंजू सराठे ने कहा कि ई-गवर्नेंस से कागज की बचत होगी, पर्यावरण भी सुधरेगा। अतिरिक्त संचालक भोपाल-होशंगाबाद संभाग श्रीमती सुधा बैसा ने बताया कि इस तरह की कॉन्फ्रेंस मध्यप्रदेश में पहली बार हो रही है। इसमें वेब के माध्यम से देश ही नहीं, विदेश के लोग भी शामिल हुए। महाविद्यालय की प्राचार्य ने आयोजन के उद्देश्यों की जानकारी दी। वेबिनार के सहभागियों ने भी आयोजन की सराहना की। दस दिवसीय वेबिनार में विभिन्न विषय-विशेषज्ञों ने ई-गवर्नेंस पर महत्वपूर्ण विचार रखे।
राज्य मंत्री श्री सारंग द्वारा शासकीय कन्या विद्यालय स्टेशन क्षेत्र परिसर का निरीक्षण
12 January 2018
सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने शासकीय कन्या उच्चतर माध्यिमक विद्यालय स्टेशन क्षेत्र के पांच कमरों के एक ब्लाक की जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि खराब हालत होने से बन्द इन कमरों की जांच कर यह तय किया जाये कि यह मरम्मत योग्य हैं तो इनकी मरम्मत करवाई जाये। राज्य मंत्री श्री सारंग आज विद्यालय परिसर का निरीक्षण कर रहे थे। राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि जिन कमरों को खराब‍हालत होने के चलते बन्द रखा है, उनका निर्माण पाँच वर्ष पहले हुआ था। उन्होंने कहा कि निर्माण एजेन्सी द्वारा गुणवत्ता और मानकों का निर्माण के दौरान पालन नहीं किया गया, इसलिए यह स्थिति बनी है। उन्होंने इसे निर्माण एजेन्सी की गंभीर लापरवाही माना। श्री सारंग ने निर्माण एजेन्सी के विरूद अपराधिक प्रकरण दर्ज करवाने के लिये भी कहा है। राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि मरम्मत नहीं होने की स्थिति में नया निर्माण करवाया जाएगा। राज्य मंत्री ने स्कूल में 'स्मार्ट क्लास' शीघ्र प्रारंभ करवाने की बात कही। उन्होंने बताया कि 'स्मार्ट क्लास' में ग्राफिक्स, डिजाइन, आडियो-विजुअल, स्टोरी-टेलिंग आदि आधुनिक अध्यापन तकनीक के माध्यम से विषय विशेषज्ञों द्वारा तैयार पाठ्यक्रम पढा़या जाता है। कम्प्यूटर, प्रोजेक्टर आदि की मदद से एडवान्स लार्निग की 'स्मार्ट क्लास' शासकीय कन्या स्कूल (हबीबिया) में अब शीघ्र शुरू करवाई जाएगी। स्कूल परिसर के निरीक्षण के दौरान प्राचार्य श्रीमती अल्का सक्सेना, स्थानीय पार्षद भी उपस्थित थे।
70 साल में पहली बार आठ गाँवों में पहुँची बिजली
12 January 2018
मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले के 8 दुर्गम वन ग्रामों में पिछले 70 साल से बिजली की रोशनी का इंतजार तब खत्म हुआ जब इन गाँवों में बिजली का बल्ब जलाकर दिखाया गया। जिले के भिलमाढाना वन एवं राजस्व, कोटरी, छींदखेड़ा, हींगपानी, टुईयापानी, सांवरी तथा भौंभरी गाँवों ने इससे पहले कभी बिजली की रोशनी नहीं देखी थी। कठिनाइयों, घने जंगलों एवं दुर्गम पहाड़ों के कारण गाँवों तक बिजली पहुँचाना बेहद कठिन था, लेकिन ऊर्जा विभाग के अमले की दृढ़-इच्छाशक्ति ने इस कार्य को भी कर दिखाया है। आज इन गाँवों में लालटेन के स्थान पर बिजली की रोशनी देखकर त्यौहार जैसा माहौल बना हुआ है। ग्रामवासियों को चहुँमुखी विकास की धारा में शामिल होने का अवसर प्राप्त हुआ है। पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के प्रबंध संचालक श्री मुकेश चन्द गुप्ता ने नरसिंहपुर के अधीक्षण यंत्री एवं उनकी टीम की सराहना की है। नरसिंहपुर जिले के गाडरवारा एवं तेंदूखेड़ा के घने जंगलों से घिरे सतपुड़ा की चोटी पर स्थित इन गाँवों में ग्रामीणों की दिनचर्या सूर्यास्त के बाद ठहर जाती थी। बिजली न होने के कारण मजदूरी के अलावा रोजगार के अन्य कोई साधन भी नहीं थे। इन दुर्गम गाँवों तक बिजली पहुँचाने के लिये इसके पूर्व भी कई प्रयास किये गये लेकिन विभिन्न बाधाओं के कारण ये गाँव हमेशा विद्युतीकरण से अछूते रहे। केन्द्र सरकार की दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना लागू होने के बाद इन गाँवों की तस्वीर बदल गई है। योजना के तहत आवंटित राशि से गाँवों के विद्युतीकरण की प्रक्रिया प्रारंभ की गई तथा वन एवं पर्यावरण मंत्रालय से अनुमति मिलने के बाद वन विभाग को लगभग एक करोड़ 26 लाख रुपये की क्षतिपूर्ति तथा 6.286 एकड़ वैकल्पिक जमीन आवंटित करने के बाद ही यह भागीरथी प्रयास सफल हो सका। विद्युतीकरण कार्य में स्थानीय ग्रामवासियों को रोजगार स्वरूप कार्य करने का अवसर भी प्राप्त हुआ है। जिले में बड़ी संख्या में हो रहे अन्य विद्युतीकरण के कार्यों में भी उनके लिये रोजगार की संभावनाएँ उत्पन्न हुई हैं। ग्रामों में बिजली आ जाने से मुख्यमंत्री स्थायी कृषि पम्प और अन्य योजनाओं में ग्रामवासियों को शामिल होने का अवसर भी मिल गया है। इन गाँवों के विद्युतीकरण में सबसे बड़ी चुनौती सामग्री के परिवहन की थी। घने जंगलों में बसे इन गाँवों के पहुँच मार्ग परिवहन लायक नहीं थे, जिससे बिजली के खम्भों, ट्रांसफार्मर, केबिल तथा अन्य सामग्री भेजना कठिन था, लेकिन कम्पनी के अधिकारियों-कर्मचारियों की लगन से यह कार्य पूरा हो सका। बिजली पहुँचाने के इस अभियान में 8 गाँवों में 8 ट्रांसफार्मर, 11 के.व्ही. की 45 कि.मी. केबिल, 7.5 कि.मी. एल.टी. लाइन का उपयोग किया गया। सौभाग्य योजना में 353 हितग्राहियों को नि:शुल्क नवीन कनेक्शन प्रदान किये गये। इस प्रकार लगभग 2 हजार 600 ग्रामवासी लाभान्वित हुए। इस अभियान में कुल 4 करोड़ 56 लाख 34 हजार रुपये व्यय हुए।
सबसे कम संख्या वाले भिण्ड जिले में जन्मीं सबसे अधिक लाड़ली
11 January 2018
राज्य शासन, पीसीपीएनडीटी, कलेक्टर, महिला बाल विकास विभाग के पिछले कुछ सालों से लक्ष्य केन्द्रित निरंतर प्रयास भिण्ड जिले में सुखद परिणाम लेकर आये हैं। जनगणना-2011 के अनुसार भिण्ड मध्यप्रदेश का सबसे कम लिंगानुपात वाला जिला था। देश ही नहीं एशिया में भी लिंगानुपात में सबसे नीचे रहा यह जिला अब एक नई इबारत लिख रहा है। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ वाले जिलों में सबसे अधिक कन्या जन्म भिण्ड जिले में ही हुआ है। वर्ष 2011 की जन-गणना में भिण्ड में प्रति एक हजार बालकों पर जहाँ मात्र 896 ही बेटियाँ थीं, वह वर्ष 2017 में 929 पहुँच गई हैं। भिण्ड जिले में वर्ष 2014-15 में 13 हजार 829 बालिकाओं और 15 हजार 50 बालकों का जन्म हुआ। दोनों की जन्म संख्या में 1221 का अंतर था। वर्ष 2015-16 में 14 हजार 547 बालिकाओं के जन्म के विरुद्ध 16 हजार 231 बालकों ने जन्म लिया और दोनों की जन्म संख्या में 1684 का अंतर था। वर्ष 2016-17 में 13 हजार 797 बालिकाओं के जन्म के विरुद्ध 14 हजार 845 बालकों ने जन्म लिया और दोनों के बीच का अंतर कम होकर 1,048 बचा। भिण्ड जिले में बेटा-बेटी के भेदभाव को खत्म करने और लोगों को जागरूक करने के लिये समुचित प्राधिकारी पीसीपीएनडीटी एवं कलेक्टर भिण्ड के मार्गदर्शन में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ चौराहों का निर्माण करवाया गया। यह चौराहे वहाँ से गुजरने वालों को मूक नैतिक संदेश देने में सफल रहे हैं। कलेक्टर के नेतृत्व में पीसीपीएनडीटी की अनिवार्य रूप से नियमित तिथि पर बैठकें हुईं। समीक्षा बैठकों में भी कलेक्टर द्वारा लाड़ली लक्ष्मी योजना के क्रियान्वयन पर विशेष चर्चाएँ की गईं। मातृ एवं शिशु मृत्यु दर की समीक्षा कर मृत्यु के कारणों का विशेष अध्ययन कर ऐसे गाँवों को चिन्हित किया गया, जिनमें बालिकाएँ जन्म के 5 वर्ष तक की आयु तक जीवित नहीं रहती थीं। इन गाँवों पर विशेष ध्यान दिया गया। वर्ष 2015-16 में भिण्ड के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन में पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत भिण्ड में चल रहे अवैध गर्भपात रैकेट का स्टिंग ऑपरेशन कर पुलिस कार्यवाही की गई। मामला न्यायालय में लम्बित है। इस तरह की कार्यवाहियों से अवैध गर्भपात रैकेट पर शिकंजा कसा। जिले को गौरवान्वित करने वाली बालिकाओं को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान का ब्रॉण्ड एम्बेसडर बनाया गया। उच्च सेवा में चयनित, खेलों आदि में गौरवान्वित करने वाली इन बालिकाओं के पोस्टर सार्वजनिक-स्थलों पर लगाये गये और कार्यक्रमों में सम्मानित किया गया। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय केनोइंग-कायकिंग प्रतियोगिताओं में विजेता कु. पूजा ओझा का मुख्यमंत्री के 18 दिसम्बर को भिण्ड आगमन पर सम्मान कराया गया। भिण्ड के जिला चिकित्सालय में गौरी-कक्ष का निर्माण किया गया, जिसमें बालिका को जन्म देने वाली माताओं का प्राथमिकता के आधार पर आधार-कार्ड बनवाया जाना, प्रसव उपरांत ममता किट की प्रदायगी के साथ जननी सुरक्षा योजना की राशि प्रदायगी के लिये जीरो बैलेंस पर खाता खुलवाया गया। पुलिस अधीक्षक और जिले के अन्य अधिकारियों ने मेधावी छात्राओं को गोद लेकर आर्थिक सहायता और उनकी उन्नति के लिये जा काम किये, उससे भी समाज में बेटियों के प्रति सम्मान बढ़ा। कलेक्टर की पहल पर लोक सेवा आयोग एवं संघ लोक सेवा आयोग की पूर्व तैयारी के लिये नि:शुल्क संकल्प कोचिंग शुरू की गई। इसमें बालिकाओं को उच्च सेवाओं की तैयारी के लिये वरीयता एवं प्रोत्साहन दिया गया। बेटियों के लालन-पालन में सरकार द्वारा दी जाने वाली सभी योजनाओं के क्रियान्वयन में विशेष सतर्कता बरती गई। नवजात शिशु हत्या के विरुद्ध देश का पहला प्रकरण दर्ज करने वाला जिला एशिया में जन्म के बाद सबसे अधिक लिंगानुपात अंतर के लिये बदनाम भिण्ड जिले के ग्राम खरौआ के सरपंच रहे श्री रामअख्तिया सिंह गुर्जर ने पूर्व सरपंच श्री सूर्यभान सिंह गुर्जर द्वारा अपनी बेटी को मारे जाने की सूचना पुलिस को दी। देश में यह पहली बार था, जिसमें नवजात शिशु हत्या पर भारतीय दण्ड संहिता की धारा-302 के तहत पहली बार प्रकरण दर्ज किया गया था
एकात्म यात्रा को अदभुत जनसमर्थन : मुख्यमंत्री श्री चौहान
11 January 2018
एकात्म यात्रा आगामी 22 जनवरी को ओंकारेश्वर पहुँचेगी। यात्रा के समापन कार्यक्रम में आदि गुरू शंकराचार्य की भव्य प्रतिमा, शंकर संग्रहालय और वेदांत संस्थान स्थल का भूमि पूजन किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ एकात्म यात्रा के संबंध में समीक्षा बैठक ली। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में कहा कि एकात्म यात्रा को अदभुत जनसमर्थन मिल रहा है। इसमें समाज के हर वर्ग के लोग शामिल हो रहे हैं। अद्वैत दर्शन में वर्तमान की सभी समस्याओं का समाधान है। यात्रा के समापन के अवसर पर आयोजित भव्य और गरिमामय समारोह के माध्यम से दुनिया को अद्वैत दर्शन का संदेश दिया जायेगा। इस विचार के प्रसार के लिये सांस्‍कृतिक एकता न्यास की स्थापना की जायेगी। समापन समारोह में धार्मिक और आध्यात्मिक धर्मगुरू उनके अनुयायी और बुद्धिजीवी वर्ग के प्रतिनिधि शामिल होंगे। आदि शंकराचार्य की भव्य प्रतिमा ओंकार पर्वत पर स्थापित की जायेगी। यात्रा में शामिल हुए 17 लाख से ज्यादा लोग बैठक में बताया गया कि मुख्य समारोह बड़वाह-ओंकारेश्वर मार्ग पर ग्राम थापना में आयोजित होगा। इसके लिये 800 से ज्यादा विषय-विशेषज्ञों और धर्माचार्यों को आमंत्रित किया जा रहा है। गत 19 दिसम्बर से प्रारंभ हुई यह यात्रा अब तक दो हजार 231 ग्रामों और शहरों से गुजरी है तथा यात्रा के दौरान 6 हजार 624 किलो मीटर दूरी तय की गई है। यात्रा के दौरान 17 लाख से अधिक लोग शामिल हुये हैं तथा 20 हजार 519 धातु पात्र अब तक संकलित किये गये हैं। चार यात्राएं ओंकारेश्वर, उज्जैन, पचमठा और अमरकंटक से निकली है। इसके अलावा एक यात्रा केरल के कालड़ी से शुरू हुई है जो पूरे देश में घूम रही है। यह पाँचों यात्राएं ओंकारेश्वर पहुँचेगी। कार्यक्रम स्थल का आकल्पन आदि गुरू शंकराचार्य के जीवन की प्रमुख घटनाओं के चित्र तैयार कर किया जायेगा। बैठक में जनअभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पांडेय, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस.के. मिश्रा, प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री विवेक अग्रवाल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री हरिरंजन राव, आयुक्त जनसंपर्क श्री पी. नरहरि, कमिश्नर एवं आई.जी. इंदौर, कलेक्टर और एस.पी. खण्डवा सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र द्वारा सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास
11 January 2018
जल संसाधन, संसदीय कार्य और जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया जिले के बसई ग्राम में 11.8 करोड़ रुपए लागत के बड़ौरा-पिछोर सड़क निर्माण कार्य का शिलान्यास किया। डॉ. मिश्र ने ग्राम मकड़ारी में 65 लाख रुपए की नल-जल योजना का शुभारंभ भी किया। जनसम्पर्क मंत्री ने इस अवसर पर सहरिया जनजाति की 200 महिलाओं को पौष्टिक आहार योजना के लिए एक-एक हजार रुपए की मासिक सहायता राशि के प्रमाण पत्र वितरित किए। इस अवसर पर सांसद डॉ. भागीरथ प्रसाद, स्थानीय जन-प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे
वस्त्र वितरण पुण्य का कार्य : मंत्री डॉ. मिश्र
11 January 2018
जनसम्पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र दतिया में गरीबों के वस्त्र वितरण कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान करीब 200 व्यक्तियों को वस्त्र वितरित किए गए। डॉ. मिश्र ने समाज सेवा के क्षेत्र में सक्रिय भागीदारी निभाने वाले 20 समाज सेवियों को शाल और श्रीफल भेंटकर सम्मानित भी किया। डॉ. मिश्र ने इस अवसर पर कहा कि कड़ाके की ठंड में गरीब और कमजोर वर्ग के लोगों, वृद्धों, असहायों को वस्त्र उपलब्ध कराना पुण्य का कार्य है। उन्होंने नागरिकों से अपील की कि जिनके पास जरूरत से अधिक वस्त्र हैं, उनका दान कर पुण्य कार्य से जुड़े । अनायम आश्रम पहुँचे मंत्री डॉ. मिश्र मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र आज दतिया में अनायम आश्रम पहुँचे। उन्होंने स्वामीजी की समाधि पर माथा टेका। इस अवसर पर सर्वश्री प्रणव ढेंगुला, महेश गुप्ता, रामप्रकाश विश्वकर्मा, कैलाश बाबू शर्मा, दतिया नगर पालिका अध्यक्ष श्री सुभाष अग्रवाल, तथा उपाध्यक्ष श्री योगेश सक्सेना उपस्थित थे।
सौभाग्य योजना से पौने चार लाख से अधिक घर हुए रोशन
11 January 2018
मध्यप्रदेश में सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) में अब तक 3 लाख 79 हजार घरों को बिजली कनेक्शन देकर रोशन किया जा चुका है। योजना में आगामी अक्टूबर तक 43 लाख बिजली कनेक्शनविहीन घरों को विद्युतीकृत किये जाने का लक्ष्य है। सौभाग्य योजना में 60 प्रतिशत राशि केन्द्र से अनुदान के रूप में उपलब्ध करवाई जा रही है। शेष 40 प्रतिशत राशि का प्रबंध राज्य शासन एवं तीनों विद्युत वितरण कम्पनी द्वारा किया जा रहा है। योजना में आर्थिक, सामाजिक रूप से पिछड़े हितग्राहियों को नि:शुल्क कनेक्शन दिये जा रहे हैं। अन्य हितग्राहियों से 500 रुपये की राशि 10 किश्तों में मासिक विद्युत बिल के साथ ली जायेगी। योजना का सतत क्रियान्वयन कर रही तीनों विद्युत वितरण कम्पनी ने अपने-अपने क्षेत्र में एक-एक लाख से अधिक हितग्राहियों को लाभान्वित किया है। पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के जबलपुर, सागर, रीवा क्षेत्र के 20 जिलों में एक लाख 8 हजार से अधिक, हितग्राहियों के घरों को बिजली कनेक्शन देकर रोशन करवाया है। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के भोपाल, ग्वालियर क्षेत्र के 16 जिलों में एक लाख 24 हजार से अधिक बिजली कनेक्शनविहीन घरों को बिजली से जोड़ा गया है। इसी प्रकार पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के इंदौर और उज्जैन क्षेत्र के 15 जिलों में एक लाख 47 हजार से अधिक घरों को रोशनी देकर हितग्राहियों के चेहरे पर मुस्कान लायी गयी है।
एमएसएमई विकास नीति-2017 में बीमार औद्योगिक इकाइयों को मिलेगी रियायतें : राज्य मंत्री श्री पाठक
11 January 2018
प्रदेश में लघु-स्तर की बीमार औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करने के लिये सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग पॉलिसी पैकेज बनवाकर रियायतों ओर वित्तीय सहायता की सुविधा उपलब्ध करायेगा। राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री संजय-सत्येन्द्र पाठक ने एमएसएमई विकास नीति-2017 में किये गये प्रावधान की चर्चा करते हुए यह जानकारी दी। राज्य मंत्री श्री पाठक ने बताया कि बीमार लघु औद्योगिक इकाइयों की ऊर्जा विभाग या किसी अन्य शासकीय बकाया की चालू देनदारियों की राशि को 5 वर्ष की अवधि के लिये आस्थगित किया जा सकेगा। पुनर्जीवन के लिये बैंक द्वारा दिये गये ऋण का 5 फीसदी ब्याज अनुदान, अधिकतम 25 लाख रुपये 5/7 साल तक एमएसएमई विभाग उपलब्ध करायेगा। सीपीएफ गुणवत्ता और पेटेंट पर रियायत को व्यवहार्य बीमार इकाइयों तक विस्तारित किया जायेगा। श्री पाठक ने बताया कि लघु-स्तर की बीमार इकाइयों की पहचान करने के साथ ही बैंकों के साथ समन्वय कर एक सकल पुनर्जीवन पैकेज तैयार किया जायेगा। संभावित बीमार इकाइयों की पहचान होगी रुग्णता के लक्षण वाली लघु इकाइयों को सुविधा प्रदान करना तथा ऋण प्रवाह की निगरानी के लिये उद्योग आयुक्त एमएसएमई विभाग की अध्यक्षता में साधिकार समिति गठित होगी। साधिकार समिति में संबंधित विभाग, जिसकी देनदारियों को स्थगित किया जाना है, के वरिष्ठ नामित अधिकारी तथा संबंधित बैंक शाखा के क्षेत्रीय प्रबंधक सदस्य होंगे और एमएसएमई विभाग के संयुक्त/उप संचालक समिति के सदस्य सचिव होंगे।
सी.एम. हेल्पलाइन की शिकायतों का जन-संतुष्टि से समाधान
10 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा उत्कृष्ट कार्य करने वालों की सराहना और सार्वजनिक सम्मान करने की पहल का सी.एम. हेल्पलाइन में प्रभावी क्रियान्वयन किया जा रहा है। विभाग द्वारा उत्कृष्ट कार्यकर्ताओं का हर माह चयन करने की परम्परा स्थापित की गई है। मुख्यमंत्री हेल्पलाईन के प्रकरणों को आवेदक की संतुष्टि के साथ निराकरण करने वाले लेवल वन के शासकीय सेवकों को मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित किया जाता है। इस पहल से उत्कृष्ट कार्य के लिए अधिकारी-कर्मचारी प्रोत्साहित हुए हैं। उनके बीच आमजन की समस्याओं का त्वरित और अधिकतम संतुष्टि के साथ निराकरण करने की स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का वातावरण बना है। उत्कृष्ट कार्य की इस प्रतिस्पर्धा में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग नीमच में पदस्थ सहायक यंत्री श्री एन.एल. बोरना अव्वल रहे हैं। उन्होंने विगत 9 माह से लगातार मुख्यमंत्री हेल्पलाइन के आवेदकों की शिकायतों का संतुष्टि के साथ निराकरण उत्कृष्टता के साथ करने का कीर्तिमान बनाया है। उनकी इस उपलब्धि की मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समाधान आनलाइन में भूरि-भूरि सराहना की है। मुख्यमंत्री को बताया गया कि श्री बोरना को सी.एम. हेल्पलाइन के हॉल ऑफ फेम में स्थान दिया गया है। यह सम्मान पाने वाले वह राज्य के पहले शासकीय सेवक है। विभाग ने वर्तमान में श्री बोराना को प्रभारी कार्यपालन यंत्री देवास पदस्थ किया है। नवम्बर 2017 में सी.एम. हेल्पलाइन के प्रकरणों की अधिकतम जनसंतुष्टि से निराकृत करने के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल में पदस्थ नगरीय विकास विभाग के स्वास्थ्य अधिकारी श्री मोहम्मद काशिफ, बैतूल जिले की जनपद पंचायत प्रभातपट्टन में पदस्थ श्री गिर्राज शर्मा, सागर जिले में पदस्थ सहायक आबकारी आयुक्त श्री यशवंत धनौरा, सिंगरौली जिले के वन विभाग में पदस्थ रेंजर श्री विनय सिंह और नरसिंहपुर में पदस्थ सहायक यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री रंजन सिंह, देवास के उपायुक्त सहकारिता डॉ. मनोज जायसवाल, छतरपुर जिले में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के सहायक यंत्री श्री मुजीब-उल हसन, सिंगरौली जिले के नगरीय विकास विभाग के सहायक यंत्री श्री संतोष पान्डे, बालाघाट जिले में ऊर्जा विभाग में पदस्थ कनिष्ठ अभियंता श्री नीरज कुमार सोनकर, हरदा जिले के जल संसाधन विभाग में पदस्थ कार्यपालन यंत्री श्री ए.के. जाटव की प्रशंसा की है और इन सभी को प्रशस्ति-पत्र देने के निर्देश दिए है
रेरा में प्रचलित परियोजनाओं को पंजीयन का अंतिम अवसर 30 अप्रैल तक
10 January 2018
म.प्र. भू-सम्पदा विनियामक प्राधिकारण (RERA) के अध्यक्ष श्री अंटोनी डिसा ने निर्धारित समयावधि में पंजीयन नहीं हुईं प्रचलित परियोजनाओं को पंजीयन के दायरे में लाने के लिये एक अंतिम अवसर देने का निर्णय लिया है। अब प्रचलित परियोजनाओं के संप्रवर्तक विलम्ब शुल्क के साथ प्राधिकरण में 30 अप्रैल 2018 तक आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं। अध्यक्ष श्री डिसा ने बताया कि भू-सम्पदा क्षेत्र की विभिन्न प्रचलित परियोजनाओं को प्राधिकरण में वर्तमान में पंजीयन कराने के लिये आवासीय परियोजनाओं के लिये निर्धारित पंजीयन शुल्क 10 रुपये प्रति वर्गमीटर के अतिरिक्त 30 रुपये प्रति वर्गमीटर के मान से विलम्ब शुल्क देना होगा। इसी प्रकार, गैर-आवासीय परियोजनाओं के लिये निर्धारित पंजीयन शुल्क 20 रुपये प्रति वर्गमीटर के अतिरिक्त 60 रुपये प्रति वर्गमीटर के मान से विलम्ब शुल्क के भुगतान किये जाने पर पंजीयन के लिये आवेदन स्वीकार किये जा सकेंगे। श्री अंटोनी डिसा ने कहा है कि 30 अप्रैल-2018 के बाद भी यदि किसी अपंजीकृत प्रचलित परियोजना प्राधिकरण के संज्ञान में आती है तो उन्हें अधिनियम की धारा-59 के तहत अभियोजित किया जायेगा।
दीनदयाल रसोई में 2 लाख लोग कर चुके भरपेट भोजन
10 January 2018
राज्य शासन द्वारा गरीब और जरूरतमंद लोगों के लिये लागू की गई दीनदयाल रसोई योजना नरसिंहपुर जिले में सर्वाधिक सफल हुई है। जिला मुख्यालय पर यह योजना अस्पताल परिसर में समाजसेवियों के सहयोग से संचालित की जा रहा है। यहाँ मात्र 5 रुपये में भरपेट स्वादिष्ट भोजन मिला रहा है। नरसिंहपुर जिले में इस दीनदयाल रसोई में लगभग 2 लाख व्यक्ति अब तक भोजन कर चुके हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर प्रदेश में लागू की गई यह योजना गरीबों और जरूरतमंदों के लिये बहुत फायदेमंद साबित हुई है। नरसिंहपुर जिला इस बात का सशक्त प्रमाण बन गया है। जिले में इस योजना का संचालन शुरू में समाजसेवी संस्था रोटरी क्लब के सहयोग से किया गया। बाद में जिले के समाजसेवी संगठन, शिक्षण संस्थाएँ और समाजसेवी संस्थाएँ भी इस योजना से जुड़ती चली गई। नरसिंहपुर में चलाई जा रही दीनदयाल रसोई में इलाज के लिये दूर-दराज से अस्पताल आने वाले लोगों और उनके परिजनों को भी केवल 5 रुपये में भरपेट स्वादिष्ट भोजन मिल रहा है। यहाँ मजदूरी करने के लिये आने वाले लोगों और स्थानीय दिहाड़ी मजदूरों को भी भोजन मिलता है। रसोई रोज सुबह 11 बजे से शुरू होती है और दोपहर 3 बजे तक यहाँ लोग भोजन करते हैं। रोजाना लगभग 700 जरूरतमंद लोगों को दीनदयाल रसोई में स्वादिष्ट भोजन मिल रहा है। आज कल दीनदयाल रसोई में स्थानीय प्रयास संस्था का सक्रिय सहयोग मिल रहा है। संस्था के प्रमुख श्री विक्रांत पटेल रोजाना सुबह 9 बजे ही रसोई में पहुँच जाते है और अपनी देख-रेख में भोजन तैयार करवाते हैं। भोजन की क्वालिटी और साफ-सफाई पर यहाँ विशेष ध्यान दिया जाता है। समय-समय पर जिला कलेक्टर और अन्य अधिकारी भी इस रसोई का भ्रमण करते हैं, जन-प्रतिनिधियों का भी आना-जाना बना रहता है। अब तो लोगों ने अपने परिजनों की स्मृति में और बच्चों और बड़ों के जन्मदिन पर भी गरीबों को इस रसोई में भोजन करवाना शुरू कर दिया है।
सुठालिया कस्बे में दिन-रात उपलब्ध है ई-रिक्शा सेवा
10 January 2018
राजगढ़ जिले के सुठालिया कस्बे में किसी को भी, कभी भी ई-रिक्शा सेवा की आवश्यकता होती है तो वह सीधे कैलाश मेहर को मोबाइल पर फोन करता है और तुरंत सेवा उपलब्ध होती है। कैलाश मेहर को यह ई-रिक्शा राज्य सरकार की मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में ऋण पर मिला है। युवा कैलाश मेहर केवल आठवीं कक्षा तक पढ़े होने के कारण कुछ दिनों पहले तक मजूदरी करके अपने परिवार का भरण-पोषण करते थे। स्थानीय नगर परिषद् की मदद से उन्हें मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में प्रशिक्षण मिला और ई-रिक्शा भी। इसके लिये इन्हें 1.40 लाख रुपये का लोन बैंक से दिलवाया गया जिसमें 20 हजार रुपये का शुद्ध अनुदान भी शामिल है। इन्होंने लोन की दो किश्तें समय पर जमा कर दी हैं। तीसरी किश्त जमा करने के बाद इन्हें 5 हजार रुपये का अतिरिक्त अनुदान भी मिलेगा। ई-रिक्शा के मालिक बन चुके कैलाश मेहर आज आसानी से 8-10 हजार रुपये महीना अपने कस्बे में ही रहकर कमा रहे हैं। आसपास के 6-7 गांव में भी अपनी सेवा दे रहे हैं। साथ ही, सप्ताह में मंगलवार और शुक्रवार के दिन आँगनवाड़ी केन्द्रों तक टीकाकरण की वेक्सीन पहुँचाने का पुनीत कार्य भी कर रहे हैं। अब सुठालिया कस्बे में कैलाश मेहर एक जाना-माना नाम है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समाधान ऑनलाइन में प्रशासनिक कसावट के दिये निर्देश
9 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों से कहा है कि प्रशासनिक कसावट के लिये भ्रष्टाचार को पकड़ने के साथ ही व्यवस्था को सुधारने, कमियों को दूर करने और समयानुसार आवश्यक बदलाव पर फोकस करें। उन्होंने मुख्यालय और जिलास्तर के अधिकारियों से कहा कि वे अपने-अपने स्तर पर इस दिशा में प्रयास करें। स्वयं को सही रखने के साथ ही व्यवस्था को सही रखना भी अधिकारियों की जिम्मेदारी है। उन्होंने मुख्यमंत्री हेल्पलाइन व्यवस्था के समान अच्छा कार्य करने वालों को प्रतिमाह सम्मानित किये जाने की जरूरत बताई। पेंशन प्रकरणों के त्वरित निराकरण के लिये आधुनिक तकनीक का उपयोग करने की जरूरत बताते हुये पेंशन प्रकरण निराकरण व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिये राज्य स्तर पर तीन सदस्यीय टीम गठित कर प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिये। श्री चौहान आज मंत्रालय में समाधान ऑनलाइन में अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में बारह आवेदकों की समस्याओं का मौके पर समाधान हुआ। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह सहित विभिन्न विभागों के प्रमुख सचिव उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि भावांतर भुगतान योजना ने किसानों में प्रसन्नता का संचार किया है। आवश्यकता है कि किसानों के बैंक खातों में राशि समय से जमा हो जाये। आगामी फसलों के लिए पंजीयन और सत्यापन की कार्रवाई भी समय रहते हो जाये। उन्होंने कहा कि सामाजिक समरसता का वातावरण बना रहे यह प्रशासन की जिम्मेदारी है। इस दिशा में सक्षम कार्रवाई की जाये। जहाँ कमियाँ हैं, उन्हें दूर करने और कमजोर वर्ग को संरक्षण देने के प्रभावी कार्य किये जायें। विघटनकारी तत्वों का सावधानी पूर्वक आंकलन कर नियोजित ढ़ंग से कार्रवाई करें। श्री चौहान ने इंदौर में स्कूली बस दुर्घटना पर चिंता व्यक्त करते हुये कहा कि बच्चों की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता है। स्कूलों की परिवहन व्यवस्था के नियमन के प्रभावी प्रयास किये जायें। मुख्यालय स्तर पर कलेक्टर, पुलिस और परिवहन विभाग स्कूल प्रशासन के साथ कार्य करे। स्कूल वाहनों की गति की मॉनीटरिंग केन्द्रीयकृत प्रणाली से करने का भी प्रयास हो रहा है। उन्होंने विशेष पिछ़ड़ी जनजातियों भारिया, बैगा के सम्मेलन आयोजित करने। जनवरी माह में 15 से 30 जनवरी के मध्य प्रदेश के सभी शासकीय, अशासकीय स्कूलों में प्रेरणा संवाद कार्यक्रम आयोजित कर 11वी, 12वी के बच्चों को मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना से लाभान्वित होने के लिये प्रेरित करने और इस कार्य में समाज के गणमान्य, बुद्धिजीवी, प्रेरक व्यक्तियों को शामिल करने के लिए कहा। उन्होंने एकात्म यात्रा को सामाजिक समरसता की पहल बताते हुये कहा कि राज्य के चार स्थानों और केरल से आदि शंकराचार्य के जन्म स्थान से निकली एकात्म यात्राएं आगामी 22 जनवरी को ओंकारेश्वर पहुँचेगी। प्रतिमा स्थापना कार्यक्रम में समाज के सभी वर्गों विचारों के गणमान्य व्यक्तियों की भागीदारी सुनिश्चित कर सामाजिक समरसता के वातावरण को मजबूती प्रदान करने के प्रयासों की जरूरत बताई। आगामी 14 से 21 जनवरी के मध्य आनंद उत्सव आयोजनों को रोचक बनाने के लिए स्थानीय स्तर पर नवाचार करने के लिये भी कहा। समाधान एक दिवस को प्रभावी बनाने और खाद्य विभाग द्वारा नई पात्रता पर्ची धारकों को खाद्यान्न मिलना सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने कहा कि नर्मदा तट के जिलों में 24 से 31 जनवरी के मध्य नर्मदा समग्र यात्रा के उद्देश्यों के लिए किये जाने वाले कार्यों को सम्पन्न करायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैंकों और बीमा कंपनियों द्वारा हितग्राहियों को राशि वितरण कार्य के प्रति उदासीनता के प्रकरणों पर गहरी चिंता व्यक्त की। हितग्राहियों के खातों में राशि अंतरण और उनके दावे के भुगतान में विलम्ब अत्यंत खेदपूर्ण है। उन्होंने कहा कि वे केन्द्रीय वित्त मंत्री से भेंट कर संबंधित बैंकों और बीमा कंपनियों के विषय में जानकारी देंगे। श्री चौहान ने मजदूर संतान अनास और मोनिशा को छात्रवृत्ति में विलंब पर मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान से दस-दस हजार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की। 12 आवेदकों की समस्याओं का हुआ समाधान मुख्यमंत्री हेल्पलाइन का प्रशासनिक कसावट की कारगर पहल सिद्ध हो रही है। समाधान ऑन लाइन के दौरान ऐसा रोचक मामला समाने आया जब मुख्यमंत्री हेल्प लाइन की शिकायत को गंभीरता से नहीं लेने वाले अधिकारी को स्वयं अपनी समस्या के समाधान के लिये मुख्यमंत्री हेल्पलाइन की मदद लेना पड़ी। बालाघाट के सेवानिवृत्त खण्डविकास अधिकारी श्री रामअवतार द्विवेदी 31 जनवरी 2017 को सेवानिवृत्त हुये किन्तु उनका पेंशन भुगतान पत्र जारी नहीं हो रहा था। विवश होकर उन्होंने मुख्यमंत्री हेल्पलाइन में शिकायत की जिस पर 6 जनवरी को उनका पेंशन भुगतान आदेश जारी हो गया। इस प्रकरण में उस समय रोचक मोड़ आ गया जब बालाघाट कलेक्टर ने बताया श्री द्विवेदी पूर्व में मुख्यमंत्री हेल्पलाइन में हुई शिकायत पर कार्रवाई नहीं करने के दृष्टिगत निलंबित रहे थे। समाधान ऑनलाइन में अशोकनगर जिले के मुंगावली के ग्राम तमाशा निवासी अंसार अली की पुत्री मुनीशा अली और पुत्र अनास को विगत 3 वर्षों से लंबित भवन संनिर्माण कर्मकार मंडल द्वारा दी जाने वाली छात्रवृत्ति की राशि मिल गयी। शिवपुरी जिले के श्री छोटे लाल के पुत्र की मृत्यु दुर्घटना में हो गई थी कलेक्टर द्वारा स्वीकृत लंबित सहायता राशि का भुगतान 05 जनवरी को प्राप्त हो गया। भोपाल जिले के श्री विनोद कुशवाह को बैंक द्वारा को मसाला उद्योग के लिये तीन लाख रूपये का ऋण भुगतान में विलंब किया जा रहा था। हेल्प लाइन में शिकायत होने पर भुगतान प्राप्त हो गया। सागर जिले की श्री हरगोविंद अहिरवार को भी मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास योजना के अंतर्गत द्वितीय किस्त की राशि का भुगतान भी प्राप्त हो गया। सागर जिले के श्री राघवेंद्र विश्वकर्मा का मोबाइल सोमनाथ जबलपुर एक्सप्रेस में गुम हो गया था। सागर पुलिस द्वारा बिहार से उनका मोबाइल बरामद करवा दिया गया मुख्यमंत्री द्वारा इस कार्य में विलंब के मद्देनजर पुलिस अधिकारियों को कार्यवाही करने के लिए निर्देशित किया। शिवपुरी जिले की निवासी श्रीमती भूरिया बाई के पति गजुआ जाटव केंद्रीय जेल ग्वालियर में बंदी थे जेल में उपार्जित मजदूरी की राशि 25000 का चैक भुगतान प्राप्त हो गया। पन्ना जिले के राकेश कुमार को भी भैंसों के बीमा की राशि का भुगतान 61 हजार मिल गया। मंदसौर निवासी श्री रमेश ने तालाब में भूमि डूब का मुआवजा नहीं मिलने की शिकायत की उन्हें बताया गया कि विधिक कार्रवाई पूर्ण होने पर एक माह के भीतर मुआवजा राशि मिल जायेगी। उमरिया जिले के निवासी श्री संतोष कुमार प्‍यासी को सियार के काटने पर मिलने वाली क्षतिपूर्ति की राशि का भुगतान 06 जनवरी को मिल गया। कटनी जिले के श्री राकेश कुमार पटेल की शिकायत पर अवैध मदिरा विक्रय करने वालों के विरूद्ध कार्रवाई हुई। भिंड जिले के निवासी श्री पंचम सिंह ने जयपुरिया महाविद्यालय सुरपुरा जिला भिंड से बीएससी फाइनल की परीक्षा दी थी जिसके परिणाम में उन्हें अनुपस्थित दर्शाया गया था। मुख्यमंत्री हेल्पलाइन में शिकायत करने पर उनकी शिकायत का समाधान हो गया, उन्हें अंकसूची उपलब्ध करा दी गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुख्यमंत्री हेल्पलाइन के प्रकरणों की समीक्षा कर जिन विभागों, जिलों और अधिकारियों ने अच्छा कार्य किया उनकी सराहना एवं सम्मान पत्र प्रदान किया
15 साल से पुराने स्कूल वाहनों को परमिट देने पर होगी कार्यवाही
9 January 2018
पन्द्रह साल से पुराने स्कूल वाहनों को परमिट देने पर संबंधित आरटीओ के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी। आरटीओ सप्ताह में चार दिन फील्ड में विजिट कर वाहनों की चेकिंग करें। तीस जनवरी तक विशेष चेकिंग अभियान चलायें। गृह एवं परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने यह बात परिवहन एवं पुलिस अधिकारियों की बैठक में कही। परिवहन मंत्री श्री सिंह ने कहा कि चेकिंग अभियान के लिये पर्याप्त पुलिस बल उपलब्ध करवाया जायेगा। उन्होंने कहा कि स्पीड गवर्नर और जीपीएस गुणवत्तापूर्ण होने चाहिये। वाहन में बैठने वाले बच्चों की संख्या निर्धारित हो। स्कूल वाहनों की गति 40 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक नहीं होना चाहिये। वाहन चालकों को समय-समय पर प्रशिक्षण दिलवाया जाये। श्री सिंह ने बताया कि जिला-स्तर पर कलेक्टर, एस.पी. और आरटीओ तथा अनुभाग-स्तर पर एसडीएम और एसडीओपी की कमेटी बनाई गई है। यह कमेटी पालकों से चर्चा कर बच्चों की सुरक्षा के संबंध में समुचित कदम उठायेगी। उन्होंने कहा कि स्कूल बसों के लिये निर्धारित मापदण्डों का शत-प्रतिशत पालन करवाया जाये। यात्री बसों की टाइमिंग औचित्यपूर्ण हो परिवहन मंत्री ने कहा कि यात्री बसों की टाइमिंग औचित्यपूर्ण हो, जिससे उनके बीच रेस नहीं हो। उन्होंने कहा कि दो बसों के रवानगी के समय में 5 मिनट से कम का गैप नहीं होना चाहिये। इन वाहनों की भी नियमित चेकिंग की जाये। मार्गों का सूत्रीकरण करें परिवहन मंत्री ने कहा कि सभी मार्गों का 30 जनवरी तक सूत्रीकरण करें। उन्होंने कहा कि सूत्रीकरण के बाद आवश्यकतानुसार नये परमिट जारी किये जायें। प्रमुख सचिव परिवहन श्री मलय श्रीवास्तव ने कहा कि इस अभियान में स्कूल शिक्षा विभाग की भी सहभागिता सुनिश्चित की जायेगी। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने कहा कि अभियान में पुलिस पूरा सहयोग करेगी। परिवहन आयुक्त श्री शैलेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि ऑटो और वैन के संबंध में कार्यवाही के लिये पालकों के साथ चर्चा के बाद निर्णय लिया जायेगा। इस दौरान परिवहन एवं पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
पीपीपी मोड पर खुलेंगे रोजगार कार्यालय : तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री श्री जोशी
9 January 2018
प्रदेश में पीपीपी मोड पर रोजगार कार्यालय खोले जायेंगे। प्रथम चरण में 15 रोजगार कार्यालय खुलेंगे। यह रोजगार कार्यालय कॉर्पोरेट ऑफिस की तरह कार्य करेंगे। तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने यह बात विभागीय योजनाओं की समीक्षा के दौरान कही। श्री जोशी ने कहा कि जिला-स्तर पर हर माह रोजगार मेले लगाये जायेंगे। इन मेलों में अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार दिलवाने के लिये कार्य-योजना बनाई गई है। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि सभी पॉलिटेक्निक और इंजीनियरिंग कॉलेजों के लिये जरूरी सामग्री की खरीदी जल्द करें। उन्होंने कहा कि कार्पस फण्ड के माध्यम से इंजीनियरिंग कॉलेजों में रिनोवेशन करवाया जाये। श्री जोशी ने कहा कि इस बात पर विशेष ध्यान दें कि विद्यार्थियों को कोई असुविधा नहीं हो। उन्होंने तकनीकी संस्थाओं में स्मार्ट क्लॉस-रूम बनवाने और कैम्पस को वाई-फाई करने के लिये जरूरी कदम उठायें। बैठक में कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड की कार्यकारिणी के अध्यक्ष श्री हेमंत देशमुख, प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्री संजय बंदोपाध्याय और संचालक तकनीकी शिक्षा डॉ. वीरेन्द्र कुमार उपस्थित थे।
बैरागढ़ स्टेशन भोपाल रेल मण्डल में शामिल
9 January 2018
सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने बैरागढ़ रेलवे स्टेशन को भोपाल रेल मण्डल का हिस्सा बनाने पर रेल मंत्री श्री पीयूष गोयल का आभार व्यक्त किया है। श्री सारंग ने रेल मंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि प्रशासनिक कार्य सुविधा के लिये यह बहुत जरूरी था। इससे रेलवे और राज्य शासन के विभागों के बीच बेहतर प्रशासनिक तालमेल रहेगा। रेलवे की सुविधाओं से इस क्षेत्र में विकास और तेजी से होगा। श्री सारंग ने कहा कि उनके द्वारा पूर्व में भी इस संबंध में रेल मंत्री और रेलवे विभाग को पत्र लिखकर अनुरोध किया गया था। रतलाम मण्डल से बैरागढ़ रेलवे स्टेशन को भोपाल रेल मण्डल में शामिल करने के सकारात्मक परिणाम मिलेंगे। यात्रियों और क्षेत्र के नागरिकों को इससे बहुत लाभ होगा। श्री सारंग ने बताया कि निशातपुरा आरओबी के निर्माण की प्रगति संबंधी उनके द्वारा की गई समीक्षा, स्थल मुआयना आदि में स्थानीय अधिकारियों के नहीं होने और रेल अधिकारियों के रतलाम से आने पर सहजता नहीं मिली। कई बार रतलाम रेल मण्डल के अधिकारियों से फोन पर ही कार्य के संबंध में चर्चा करना पड़ी। वह अधिकारी के साथ मौका मुआयना कर स्थल पर ही चर्चा करना चाहते थे।
राष्ट्रपति श्री कोविंद ने काफी टेबल बुक रामदर्शन का लोर्कापण किया
8 January 2018
राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने आज सतना जिले के चित्रकूट प्रवास के दौरान रामदर्शन प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इस दौरान उन्होंने प्रदर्शनी में रामायण के विविध प्रसंगों पर आधारित भित्ती चित्रों और चित्रमय झांकियों को मनोयोग से देखा। इस मौके पर राष्ट्रपति ने काफी टेबल बुक 'रामदर्शन' का लोकार्पण भी किया। इस अवसर पर राज्यपाल श्री ओ.पी. कोहली, उत्तरपदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक, केन्द्रीय मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद, प्रभारी मंत्री श्री ओमप्रकाश धुर्वे, दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव श्री अभय महाजन उपस्थित थे।
प्रधानमंत्री श्री मोदी को मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी भावभीनी विदाई
8 January 2018
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी आज शाम ग्वालियर से दो दिवसीय दिल्ली के लिये रवाना हुए। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने विमानतल पर उन्हें भावभीनी विदाई दी। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को विमानतल पर स्मृति चिन्ह भी भेंट किए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गृह मंत्री श्री सिंह को भावभीनी विदाई दी केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह को मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्वालियर विमानतल पर भावभीनी विदाई दी। केन्द्रीय गृह मंत्री तीन दिवसीय टेकनपुर (ग्वालियर) प्रवास के पश्चात आज शाम वायुसेना के विमान से दिल्ली के लिये रवाना हुए। विमानतल पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह को विदाई देने जल संसाधन एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह, उच्च शिक्षा एवं लोक सेवा प्रबंधन मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, मध्यप्रदेश सामान्य निर्धन वर्ग कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री बालेन्दु शुक्ल, महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मनीषा यादव, ग्वालियर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अभय चौधरी, विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राकेश जादौन, निगम सभापति श्री राकेश माहौर एवं अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।

स्कूली परिवहन व्यवस्था सुधारी जाये : मुख्यमंत्री श्री चौहान
Our Correspondent :8 January 2018

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने स्कूली बच्चों की परिवहन व्यवस्था सुधारने के लिये अधिकारियों को सख्त निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि विद्यार्थियों के परिवहन में लगे वाहन निर्धारित मानदण्डों के अनुरूप होना सुनिश्चित किया जाये। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। श्री चौहान ने स्पष्ट कहा कि 15 साल से अधिक पुरानी बसें स्कूलों में नहीं चलेंगी। साथ ही इन वाहनों की जाँच के लिये ऑटोमेटिक फिटनेस सेंटर स्थापित किये जायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज यहाँ स्टेट हेंगर में संबंधित अधिकारियों की आपात बैठक ली। उन्होंने कहा कि शैक्षणिक संस्थानों में बच्चों के परिवहन के लिये उपयोग की जाने वाली बसों की अधिकतम आयु सीमा 15 वर्ष निर्धारित करने के निर्देश तत्काल जारी किये जायें। ऑटोमैटिक फिटनेस सेन्टर स्थापित किये जायें, जिनमें बस सीधे अंदर जायेगी और फिटनेस की जांच ऑटोमैटिक तरीके से होगी। स्कूली बसों की स्पीड भी अधिकतम 40 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी। यदि ज्यादा गति पायी जाती है तो बस चालक के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। इसके अलावा स्पीड गर्वनर और जीपीएस की क्वालिटी में सुधार के लिये एक केन्द्रीयकृत डाटा सेन्टर बनाने का भी निर्णय लिया गया है। इस सेन्टर के माध्यम से बसों की लोकेशन और स्पीड का अनुमान लगाया जा सकेगा कि कौन सी बस स्पीड से ज्यादा चल रही है। इससे बसों की स्पीड कंट्रोल करने में मदद मिलेगी। श्री चौहान ने कहा कि परिवहन विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ पुलिस विभाग के अधिकारियों के माध्यम से भी नियमित रूप से शैक्षणिक संस्थानों में उपयोग होने वाले वाहनों के मापदण्डों के अनुरूप होने की जांच सुनिश्चित की जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूली बच्चों के परिवहन में उपयोग किये जाने वाले वाहनों को मापदण्डों के अनुरूप सुनिश्चित करने के लिये पालकों की सहभागिता हेतु उनकी शैक्षणिक संस्था के स्तर पर समिति गठित की जाये। इस व्यवस्था को सुनिश्चित कराने के लिये जिला स्तर पर जिला कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक व क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी तथा अनुभाग स्तर पर अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) तथा अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) की भी समिति गठित की जाये। श्री चौहान ने कहा कि ऑटोमेटिक ड्रायविंग टेस्ट ट्रेक्स बनाये जायें। स्कूली बच्चों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिये वाहनों की क्षमता के दृष्टिगत अधिकतम बच्चों की संख्या निर्धारित की जाकर उसका पालन सुनिश्चित किया जाये। साथ ही बसों में सीट बेल्ट लगाये जाने की व्यवस्था के लिये समस्त शैक्षणिक संस्थाओं को समझाईश दी जाये। इन निर्देशों का पालन नहीं करने वाली शालाओं की मान्यता तत्काल निरस्त करने हेतु कार्यवाही की जाये। सी.बी.एस.ई/आई.सी.एस.ई. अथवा अन्य बोर्ड से संबंधित शालाओं द्वारा यदि स्कूल बसों की सुरक्षा से संबंधित उपर्युक्त निर्देशों का पालन नहीं करने पर उनकी संबद्धता के लिये राज्य शासन द्वारा जारी किए गए अनापत्ति प्रमाण पत्र को निरस्त करने की कार्यवाही की जाये। बैठक में प्रमुख सचिव परिवहन श्री मलय श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल, प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन श्री विवेक अग्रवाल, प्रमुख सचिव स्कूली शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड़ मुखर्जी आदि अधिकारी उपस्थित थे।


जल्दी शुरू होगा जिला एवं राज्य स्तरीय मुख्यमंत्री दिव्यांग कप
8 January 2018
खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा है कि जल्दी ही विधायक कप एवं मुख्यमंत्री कप की तर्ज पर मुख्यमंत्री दिव्यांग कप का आयोजन किया जाएगा। श्रीमती सिंधिया सोमवार को टी.टी. नगर स्टेडियम में राज्य स्तरीय जिला खेल अधिकारियों की समीक्षा बैठक को संबोधित कर रही थी। खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में मध्यप्रदेश ने खेलों में अपनी अलग पहचान बनायी है और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपना परचम लहराया है। दिव्यांग कप के शुरू होने से मध्यप्रदेश अब पैरा ओल्पिंक में भी अपने प्रदेश के खिलाड़ियों की उपस्थित दर्ज कराने में सफल होगा। उन्होंने जिला खेल अधिकारियों को निर्देश दिए कि समाज कल्याण विभाग से समन्य स्थापित कर प्रत्येक जिले में दिव्यांग खिलाड़ियों की जानकारी एकत्रित कर दो दिन में संचालनालय में भेजें। साथ ही, जिला स्तर पर दिव्यांग बच्चों के लिये खेलों का आयोजन कर टैलेन्ट सर्च करें। समीक्षा बैठक में श्रीमती सिंधिया ने प्रदेश में उपलब्ध समस्त खेल अधोसंरचना में पे-एण्ड -प्ले योजना लागू करने, मुख्यमंत्री कप के आयोजन में विकासखण्ड, जिला तथा संभाग स्तर पर सहभागिता सुनिश्चत करने तथा जिलों में संचालित हॉकी फीडर सेंटर की जानकारी निधारित प्रपत्र में संचालनालय को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। इस अवसर पर प्रमुख सचिव खेल एवं युवा कल्याण श्री अनिरूद्ध मुखर्जी तथा संचालक खेल एवं युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन उपस्थित थे।
देश को आर्थिक महाशक्ति बनाने में निर्यात की महत्वपूर्ण भूमिका : उद्योग मंत्री श्री शुक्ल
8 January 2018
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने विकास में निर्यात की महती भूमिका निरूपित करते हुए कहा कि निर्यात को बढ़ावा देकर देश आर्थिक महाशक्ति के रूप में उभर सकता है। श्री शुक्ल आज नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित काउसिंल फॉर ट्रेड एण्ड डेवलपमेंट की तीसरी बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक की अध्यक्षता केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री श्री सुरेश प्रभु ने की। बैठक में अन्य राज्यों के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सहित केन्द्र और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। उद्योग मंत्री श्री शुक्ल ने दोहराया कि अर्थ-व्यवस्था का अहम् पहलू है निर्यात। मध्यप्रदेश में निर्यात में 17 प्रतिशत की दर से बढ़ोत्तरी हुई है। ऑर्गेनिक फार्मिंग के निर्यात में 20 प्रतिशत की दर से बढ़ोत्तरी हुई है। जीएसटी लागू होने के बाद राज्य सरकार ने उन कम्पनियों को 20 प्रतिशत अतिरिक्त लाभ देने की योजना बनाई है, जिनका निर्यात 25 प्रतिशत से अधिक रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वर्ष 2014 में आयोजित ग्लोबल इनवेस्टर्स समिट में बताया था कि देश में कुल निर्यात में मध्यप्रदेश 40 प्रतिशत योगदान करता है। श्री राजेन्द्र शुक्ल ने बताया कि मध्यप्रदेश की भौगोलिक स्थिति के कारण यहाँ लॉजिस्टिक हब का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाता है। उन्होंने लॉजिस्टिक सेक्टर को बढ़ाने की मांग की। श्री शुक्ल ने लॉजिस्टिक क्षेत्र को उद्योग का दर्जा देने के फैसले का स्वागत करते हुए केन्द्र से इस सम्बन्ध में आर्थिक सहयोग की मांग की। उन्होंने कहा कि इससे क्षेत्र में विभिन्न उद्योगों के लोगों को समान अवसर प्राप्त होंगे। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री ने पूर्वी और दक्षिणी मध्यप्रदेश में अंतर्राष्ट्रीय कन्टेनर डिपो के लिए सहायता का उल्लेख करते हुए बताया कि मध्यप्रदेश में पोर्ट के अभाव में निर्यात की सुविधा के लिए सात अंतर्देशीय कन्टेनर डिपार्टमेंट (आईसीडी) बनाये गये हैं। ये आईसीडी पश्चिम और उत्तर प्रदेश में केन्द्रित हैं। रीवा, जबलपुर, और अन्य दक्षिणी क्षेत्र उद्योग की इस सेवा से वंचित हैं। उद्योग मंत्री श्री शुक्ल ने मध्यप्रदेश के पूर्वी और दक्षिण क्षेत्रों में आईसीडी खोलने की जरूरत बतायी।
शिक्षकों द्वारा बनाये गए मॉडल अन्य स्कूलों में भी भेजें : मंत्री श्री गुप्ता
8 January 2018
शिक्षकों द्वारा बनाये गये उपयोगी माडल अन्य स्कूलों में भी भेजे जाएं। इससे वहां के शिक्षक और विद्यार्थी नवाचार के लिए प्रेरित होंगे। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह बात मेपकास्ट में मध्यप्रदेश विज्ञान प्रतिभा सम्मान समारोह में कही। श्री गुप्ता ने नवाचारी शिक्षिकों द्वारा बनाए गए मॉडल भी देखे। उन्होंने कहा कि भारत के उन वैज्ञानिक तथ्वों को सामने लाएँ, जो छिपे हुए हैं। शिक्षक विद्यार्थियों को नए-नए प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित करें। उन्होंने कहा कि हमारे हर त्यौहार के पीछे कोई न कोई वैज्ञानिक आधार है। श्री गुप्ता ने 3 नवाचारी शिक्षक, 50 कनिष्ठ विज्ञान ओलंपियड, 50 वरिष्ठ ओलंपियाड, 35 क्षेत्रीय गणित ओलंपियाड, 8 पश्चिम भारत विज्ञान मेला, एक नेहरू विज्ञान केन्द्र मुम्बई में, मध्यप्रदेश का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रतिभागी, 30 राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस में प्रदेश का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रतिभागी और 3 इसरो द्वारा आयोजित अंतरिक्ष विज्ञान प्रतियोगिता हैदाराबाद में मध्यप्रदेश का प्रतिनिधित्व करने वाली प्रतिभागियों को सम्मानित किया। नवाचारी शिक्षक रतलाम के डॉ. ललित मेहता, छिन्दवाड़ा के मो. शाहिद अंसारी और भोपाल की डॉ. भारती द्विवदी सम्मानित किये गये। विद्यार्थियों में व्यक्तिगत प्रोजेक्ट श्रेणी में सीहोर के श्री पवन बैरागी, उज्जैन के श्री सिद्धार्थ चौहान और देवास के श्री यश शुक्ला को सम्मानित किया गया। विभिन्न श्रेणी में अन्य शिक्षकों और विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया। मेपकास्ट के महानिदेशक श्री नवीन चन्द्रा ने संस्था द्वारा विज्ञान के प्रचार-प्रसार के लिए किये जा रहे कार्यों की जानकारी दी। वैज्ञानिक डॉ. आर.के. आर्य और डॉ. सुनील गर्ग ने भी विचार व्यक्त किये। इस दौरान विभिन्न जिलों से आए शिक्षक और विद्यार्थी उपस्थित थे।
अगले शिक्षा सत्र में छात्राओं को कॉपी-पेन उपलब्ध करवाऊंगा : राज्य मंत्री श्री जोशी
8 January 2018
तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने कहा है कि अगले शिक्षा सत्र में शासकीय कन्या उच्चतर महाविद्यालय, जहाँगीराबाद की छात्राओं को कॉपी-पेन उपलब्ध करवाऊँगा। उन्होंने कहा कि मैं जन्म-दिन में उपहार के रूप में सिर्फ कॉपी, पेन, कम्पास और स्कूल बैग ही लेता हूँ। पिछले वर्ष 32 हजार विद्यार्थियों को कॉपी-पेन उपलब्ध करवाये थे। श्री जोशी ने स्कूल में अमूल्य योगदान देने वाले श्री महेश सक्सेना, पत्रकार श्री सैयद जाहिर मीर एवं सुश्री रंजना दुबे, शिक्षक श्री अजय सिंह सोलंकी और अतिथि शिक्षक श्री धीरज टिक्कस को सम्मानित किया गया। उन्होंने छात्राओं को डिजिटल एजुकेशन के सर्टिफिकेट और स्वेटर भी प्रदान किये। स्वेटर श्री परवेज खान द्वारा उपलब्ध करवाये गये थे। उन्होंने सेवा सदन चिकित्सालय द्वारा छात्राओं का नि:शुल्क नेत्र परीक्षण करने तथा चश्मे उपलब्ध करवाने पर चिकित्सक को सम्मानित किया। श्री जोशी ने कहा कि बारहवीं में 70 प्रतिशत से अधिक अंक लायें तो इंजीनियर, डॉक्टर बनाने की फीस सरकार भरेगी। उन्होंने कहा कि बारहवीं में अच्छे अंक लाने पर लेपटॉप और कॉलेज में एडमिशन लेने पर स्मार्ट-फोन भी मिलेंगे। स्कूल की प्राचार्य ने विद्यालयीन गतिविधियों की जानकारी दी। इस दौरान छात्राएँ और अभिभावक उपस्थित थे
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का ग्वालियर विमानतल पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने किया आत्मीय स्वागत
7 January 2018
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी भारतीय वायुसेना के विमान से प्रात: 8.55 बजे ग्वालियर विमानतल पहुँचे। कुछ समय रूकने के पश्चात प्रधानमंत्री हेलीकॉप्टर द्वारा बीएसएफ टेकनपुर में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के लिये रवाना हो गये। विमान तल पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री की आत्मीय अगवानी की। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का ग्वालियर विमानतल पर केन्द्रीय पंचायती राज, ग्रामीण विकास एवं खनन मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, प्रदेश के जल संसाधन एवं जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह , उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर, सांसद श्री अनूप मिश्रा, सांसद डा. भागीरथ प्रसाद, ग्वालियर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अभय चौधरी,ग्वालियर विशेष क्षेत्र प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राकेश जादौन, संगठन मंत्री श्री शैलेन्द्र बरूआ, भाजपा जिला अध्यक्ष श्री देवेश शर्मा, ग्रामीण अध्यक्ष श्री वीरेन्द्र जैन ने स्वागत किया। प्रदेश के पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ल, ग्वालियर संभाग के आयुक्त श्री बी एम शर्मा और आई जी श्री अनिल कुमार भी उपस्थित थे। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी बीएसएफ टेकनपुर में दो दिवसीय कार्यक्रम में शामिल होने के बाद 8 जनवरी को ग्वालियर से दिल्ली जायेंगे।
राज्य सरकार बच्चों की चिकित्सा के लिए हर संभव व्यवस्था सुनिश्चित करायेगी
7 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान रविवार को डीपीएस स्कूल की बस दुर्घटना में घायल हुए बच्चों को देखने इन्दौर के बाम्बे हास्पिटल पहुँचे। उन्होंने हास्पिटल के डाक्टरों से चर्चा की तथा बच्चों के बेहतर से बेहतर इलाज के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने घायल बच्चों के परिजनों से भी चर्चा की तथा उन्हें आश्वस्त किया कि राज्य सरकार बच्चों की चिकित्सा के लिए हर संभव व्यवस्था सुनिश्चित करायेगी और बेहतर से बेहतर चिकित्सा उपलब्ध करायी जायेगी। पाँच जनवरी को डीपीएस की बस दुर्घटना में 4 मासूम बच्चों की मौत हो गई थी तथा 6 बच्चे गंभीर रूप से घायल होकर बाम्बे अस्पताल में भर्ती है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह बहुत ही हृदयविदारक घटना है, जिसके कारण हमारे 4 बच्चे असमय ही अपने परिवार से बिछुड़ गये। इस घटना से मन दर्द और पीड़ा से भरा हुआ है। पूरा इंदौर शहर इस दुर्घटना के कारण दु:खी व व्यथित है। उन्होंने कहा कि मैं इंदौर की जनता की संवेदनाओं को प्रणाम करता हूँ कि इंदौर का हर शहरी दु:ख की इस घड़ी में मासूम बच्चों के परिवारों के साथ खड़ा हुआ है। वहीं खून देने वालों की अस्पताल में लाइन लग गई। उन्होंने कहा कि इंदौर की जनता ने मानवीयता का यह अनुपम उदाहरण प्रस्तुत किया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बाम्बे आस्पताल में 6 मासूम बच्चे भर्ती है, जिनकी सर्जरी हुई है। डाक्टरों द्वारा इन मासूम बच्चों के इलाज के हरसंभव प्रयास किये जा रहे है। उन्होंने बताया कि कुछ बच्चे स्वस्थ है और कुछ गहन निगरानी में रखे गये हैं। डाक्टरों से कहा गया है कि यदि शहर से बाहर के डाक्टरों को बुलाना पड़े तो उन्हें बुलाकर भी चिकित्सा की व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि घटना की विस्तृत जांच के आदेश दे दिये गये हैं। आईएएस अधिकारी द्वारा जांच करायी जा रही है। जांच रिपोर्ट 15 दिन में प्राप्त हो जायेगी। जांच में जो तथ्य सामने आएंगे, उसके आधार पर कड़ी कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने बताया कि क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी के व्यवहार को लेकर जो शिकायतें मिली हैं उन्हें दृष्टिगत रखते हुए क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी को हटाने का फैसला लिया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इस प्रकार की बस दुर्घटनाएँ दुबारा न हो इसलिए सरकार ने फैसला लिया है कि 15 साल से पुरानी बसें नहीं रखी जायेगी। पन्द्रह साल से पुरानी बसों को रिप्लेस करने के निर्देश दिये जा रहे हैं। प्रदेश भर में बसों की जांच कराके आगामी तीन माह में 15 साल से ज्यादा पुरानी सभी बसों को रिप्लेस कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि हर जिले में अब एक ऑटोमैटिक फिटनेस सेन्टर होगा, जिसमें बस सीधे अंदर जायेगी और फिटनेस की जांच ऑटोमैटिक तरीके से हो जायेगी ताकि मेन्युअल आधार पर फिटनेस की जांच को समाप्त किया जा सके। स्कूली बसों की स्पीड भी अधिकतम 40 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी। यदि ज्यादा गति पायी जाती है तो बस चालक के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सरकार ने केन्द्रीयकृत डाटा सेन्टर बनाने का भी निर्णय लिया है। इस सेन्टर के माध्यम से बसों की लोकेशन और स्पीड का अनुमान लगाया जा सकेगा कि कौन सी बस निर्धारित स्पीड से ज्यादा गति पर चल रही है। इससे बसों की स्पीड मॉनिटरिंग में मदद मिलेगी तथा ज्यादा गति से चलाने वाले बस चालकों के विरूद्ध कार्यवाही की जा सकेगी। जिन स्कूलों में बसों से बच्चों का लाने-ले जाने की व्यवस्था है वहां के स्कूल प्रबंधकों व पालकों की समिति बनायी जायेगी तथा समिति की नियमित बैठकों की व्यवस्था सुनिश्चित करायी जायेगी। समिति बसों की फीस के अलावा व्यवस्थाओं के नाम पर ली जाने वाली अन्य फीसों की समीक्षा करेगी। यदि पालक किसी व्यवस्था से संतुष्ट नहीं होंगे तो वे सरकार को जानकारी देंगे। सरकार जानकारी के आधार पर कार्यवाही करेगी।
शहीद कैप्टन श्रेयांश गाँधी को श्रद्धांजलि
7 January 2018
भोपाल के वीर सपूत शहीद कैप्टन श्रेयांश गाँधी की पुण्य-तिथि पर आज शौर्य स्मारक के सभाकक्ष में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर 2 मिनिट का मौन रखा गया। 7 जनवरी, 2003 को कैप्टन गाँधी बीकानेर, राजस्थान के रंजीतपुरा में अपने कर्त्तव्यों के निर्वहन के दौरान शहीद हुए थे। इस अवसर पर 53 इंजीनियरिंग रेजीमेंट में पदस्थ कैप्टन गाँधी के कमांडिंग ऑफिसर रहे ब्रिगेडियर संजीव मलिक विशेष रूप से उपस्थित थे। वे इन दिनों भोपाल में सुदर्शन चक्र कोर में चीफ इंजीनियर हैं। ब्रिगेडियर मलिक ने कहा कि कैप्टन गाँधी एक निडर, साहसी और पराक्रमी सैन्य अधिकारी थे। उन्होंने सेवा के दौरान कैप्टन गाँधी के सराहनीय कार्यों से अवगत कराया। ब्रिगेडियर मलिक ने बताया कि रंजीतपुरा में एक स्कूल कैप्टन गाँधी के नाम से संचालित है। आज के दिन वहाँ विशेष शोक सभा की जाती है, जिसमें उनके पिता श्री वी.के. गाँधी भी उपस्थित रहते हैं। इस अवसर पर मेजर जनरल अशोक कुमार, ब्रिगेडियर विनायक, कर्नल एस. कुमार, कर्नल एस.सी. दीक्षित सहित सेवारत एवं सेवानिवृत्त सैन्य कार्मिक तथा उनके परिवारजन उपस्थित थे।
प्रधानमंत्री आवास योजना में दमोह जिले में कोई भी पात्र व्यक्ति आवास से वंचित नहीं रहेगा
7 January 2018
वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि दमोह जिले में प्रत्येक आवासहीन व्यक्ति को प्रधानमंत्री आवास योजना में आवास दिलाया जायेगा। उन्होंने कहा कि जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना में निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप गुणवत्तापूर्ण आवास बनाये जायेंगे। वित्त मंत्री श्री मलैया शनिवार को दमोह जिले के ग्राम महुआखेड़ा और कुआंखेड़ा में 12-12 लाख की लागत से बनने वाले सामुदायिक भवन का भूमि-पूजन कर रहे थे। वित्त मंत्री श्री मलैया ने ग्रामीणों से उनकी समस्याओं पर भी चर्चा की। मंत्री श्री मलैया ने कहा कि जिले में सिंचाई सुविधा का विस्तार किया जायेगा। जल्द ही सीतानगर में डेम बनाने के लिये सर्वे किया जायेगा। पंचमनगर और सतधरू सिंचाई योजना की चर्चा करते हुए वित्त मंत्री ने बताया कि आने वाले वर्ष में जिले में एक लाख हेक्टेयर से अधिक भूमि पर सिंचाई होने लगेगी। विधायक श्री लखन पटेल ने भी संबोधित किया।
मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना से कामिनी कुशवाहा बनी सफल उद्यमी
6 January 2018
प्रदेश में मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना उद्योग लगाने वाले युवाओं के लिये काफी मददगार साबित हो रही है। इस योजना से नरसिंहपुर जिले के गोटेगाँव की श्रीमती कामिनी कुशवाहा भी सफल उद्यमी बन गई हैं। श्रीमती कामिनी ने बी.कॉम. तक शिक्षा प्राप्त की थी। उनकी इच्छा थी कि वे परिवार में आर्थिक रूप से सहयोग करें। श्रीमती कुशवाहा उस परिवार से ताल्लुक रखती हैं, जहाँ इलेक्ट्रिक रिपेयरिंग का काम होता है। घर में लगातार काम देखते-देखते उनकी भी इलेक्ट्रिक के काम में रुचि हो गई। हाल ही के वर्षों में ऊर्जा संरक्षण के क्षेत्र में सीएफएल बल्बों की माँग ज्यादा बढ़ गई। परिवार में सलाह मश्वरे के बाद उन्होंने सीएफएल बल्ब निर्माण इकाई लगाने का निर्णय लिया। श्रीमती कामिनी कुशवाहा के हौसले को देखते हुए जिला उद्योग केन्द्र नरसिंहपुर ने उनके प्रकरण का परीक्षण करवाया और 15 लाख रुपये का ऋण प्रकरण बैंक ऑफ इण्डिया को भेजा। आज उनकी निर्माण इकाई में 3 वॉट से लेकर 18 वॉट तक के सीएफएल बल्ब का निर्माण किया जा रहा है। उनकी इकाई अब तक 25 हजार सीएफएल बल्बों का निर्माण कर चुकी है। कामिनी कुशवाहा बताती हैं कि उनका ध्येय है कि गुणवत्तापूर्ण सीएफएल बल्ब का निर्माण हो और जन-सामान्य का उनमें विश्वास बढ़े। जल्द ही उनकी निर्माण इकाई में 50 वॉट तक के सीएफएल बल्ब का निर्माण होगा। आज वे जबलपुर संभाग के बाजारों में सीएफएल बल्ब बेच रही हैं। कामिनी कुशवाहा समय पर बैंक की किश्त भी अदा कर रही हैं। उनकी निर्माण इकाई में 5 लोगों को रोजगार भी मिल रहा है।
सरकार, स्टार्ट-अप और स्पेस
5 January 2018
भोपाल, एम.एस.एम.ई सेक्टर में डिग्रोथ की ताज़ा रिपोर्ट के बीच आज शुक्रवार को स्पेस इंक्यूबेशन सेंटर में आयोजित “गेट योर स्टार्ट-अप गवर्नमेंट रिकगनॉइज” मेगा इवेंट के लिये सैकड़ों युवाओं ने पूछताछ की, अधिक संख्या के कारण रजिस्ट्रेशन रोकने पड़े कई चरणों में चुनिंदा स्टार्ट-अपस् इंटरप्रोनर्स को एम.एस.एम.ई. और अर्नेस्ट एण्ड यंग के उच्च अधिकारियों ने म.प्र. स्टार्ट-अप पॉलिसी तथा शासकीय प्रक्रिया से अवगत कराया. शासकीय मान्यता प्राप्त प्रदेश का लीडिंग इंक्युबेटर “स्पेस” राज्य के अनेकों स्टार्ट-अप को सरकारी सहायता के लिये लगातार काम कर रहा है. रोज़गार संकट के दौर में नये इंटरप्रोनर्स के मन में स्पेस इंक्युबेटर के प्रति आभार का भाव था वहीं स्वरोज़गार स्थापना को लेकर अनेकों प्रश्न थे, शहर व प्रदेश में इंटरप्रोनर्स के लिये ईको-सिस्टम और सेक्टर के डिग्रोथ को लेकर भारी चिन्ता थी. पॉलिसी मेकर्स ने सपोर्ट सिस्टम व समाधान समझाये, सुधार-सुझाव अपनाने के आश्वासन दिये. डायवर्सीफाइड स्टार्ट-अपस् ने अपने आइडिया शेयर किये. बडी संख्या में वीमेन इंटरप्रोनर्स सामिल हुयीं, पेरेंटस में भी ख़ासा आकर्षण रहा. सामयिक आयोजन के लिये स्पेस के सीईओ तैतिल सिंह की सबने खूब सराहना की. 10 नं. मार्केट स्थित स्पेस इंक्यूबेशन एण्ड को-वर्किग सेंटर मध्यप्रदेश का पहला निजी इंक्युबेटर है. जिसे यू.के. से पी.जी. करके भोपाल लौटे तैतिल सिंह ने क्वालिटी एम्प्लाइमेंट क्रियेशन और राज्य के युवाओं में मार्डन नेक्स्ट लेवल इंटरप्रोनरशिप स्किल डेवलपमेंट को ध्यान में रखकर विकसित किया है. 2016 में प्रारंभ हुआ “स्पेस” प्रतिभाशाली युवाओं, एंजल इन्वेस्टर्स, मेंटर्स और सोसल व बिज़नेस इंटरप्रोनर्स की पंसंदीदा जगह है. बिज़नेस इंक्यूबेशन का यह कॉन्सेप्ट बढते आन्ट्रप्रनरस् और स्टार्टअप उद्यमियों के रुझान के चलते तेज़ी से फैल रहा है. इस तरह के स्पेस विकसित देशों और इंडियन मैट्रो सिटीज में नये उद्यमियों के कामकाजी आकर्षण की जगह बन गयी हैं और उच्च आय वाले रोज़गार सृजित हो रहे हैं. यूथ जॉब सीकर की जगह जॉब क्रियेटर बन रहे हैं. स्टार्टअपस् की ग्रोइंग सक्सेस-स्टोरीज़ को देखते हुये केन्द्र और राज्य सरकार ने स्किल डेवलपमेन्ट के इस कॉन्सेप्ट को युवा आन्ट्रप्रनरस् में प्रमोट करने के लिये नीति आयोग के 'अटल इंक्यूबेशन सेंटर' सहित कम दरों पर पूँजी और अनेकों प्रभावी योजनायें प्रारंभ की हैं. मध्यप्रदेश सरकार ने इंक्यूबेसन सेन्टर और स्टार्टअप पॉलिसी सरकार जारी की है. “स्पेस” पॉलिसी को पॉज़िटिव मानता है और सरकार के साथ मिलकर नये स्टार्टअपस् को पॉलिसी का लाभ दिलाने को प्रयासरत है ताकि प्रतिभा का पलायन रुके आने वाले समय में राजधानी भोपाल का यूथ भी बेंगलूरू, हैदराबाद की तरह नयी ऊँचाइयों पर पहुँच सके.
जनसम्पर्क मंत्री होंगे प्रधानमंत्री के प्रवास के लिए "मिनिस्टर इन वेटिंग"
5 January 2018
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का 7-8 जनवरी को ग्वालियर प्रवास प्रस्तावित है। प्रधानमंत्री की अगवानी एवं विदाई के लिए जनसम्पर्क एवं जल संसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र को 'मिनिस्टर इन वेटिंग' नामित किया गया है
नवीन मदरसों के पंजीयन के लिये ऑनलाइन आवेदन
5 January 2018
शिक्षा सत्र 2018-19 के लिये मदरसा बोर्ड द्वारा नवीन मदरसों के पंजीयन एवं समिति पंजीयन के ऑनलाइन आवेदन करने की सुविधा 8 जनवरी से 28 फरवरी तक MPOnline के Portal सेवा केन्द्रों पर उपलब्ध कराई गई है। नवीन मदरसा पंजीयन आवेदन करने के फॉर्मेट/विस्तृत जानकारी पोर्टल पर मदरसा बोर्ड के पृष्ठ के डाउनलोड मेन्यू में New Madarsa Registration Instructions Links एवं मदरसा बोर्ड की वेबसाइट www.mpmb.org.in पर उपलब्ध है। आवेदक नवीन मदरसे का आवेदन MPOnline Limited के Online Poartal सेवा के KIOSK के माध्यम से निर्धारित तिथि में कर सकेंगे।
विश्व की सभी समस्या का हल भारतीय सोच और चिन्तन में
5 January 2018
भानपुरा पीठ के शंकराचार्य स्वामी श्री दिव्यानन्द तीर्थ ने कहा है कि भगवान शिव भारत के आदि देव हैं। शुद्धभाव से हर-हर महादेव कहने से ही शिव की उपासना पूर्ण होती है। महाकाल की नगरी में आयोजित शैव महोत्सव प्रशंसनीय एवं अनुकरणीय है। यह विश्व को एक नई दिशा प्रदान करेगा। शंकराचार्य स्वामी दिव्यानन्द तीर्थ तीन दिवसीय शैव महोत्सव का शुभारंभ कर रहे थे। स्वामी दिव्यानन्द तीर्थ ने कहा कि भारत जैसा कोई दूसरा देश नहीं है, जहाँ के लोगों को गीता का अमृत उपदेश मिला। इसके पूर्व भानपुरा पीठ के शंकराचार्य स्वामी श्री दिव्यानन्द तीर्थ, डॉ.मोहनराव भागवत, मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान, आचार्य महामण्डलेश्वर विश्वात्मानन्द, महामण्डलेश्वर विशोकानन्दजी, महामण्डलेश्वर श्री भवानीनन्दन यतिजी, महामण्डलेश्वर सबिदानन्दजी, महामण्डलेश्वर ब्रम्हयोगानन्दजी एवं महामण्डलेश्वर पुण्यानन्दजी महाराज ने दीप जला कर महोत्सव का शुभारंभ किया। महोत्सव आयोजन की स्वागत समिति के अध्यक्ष एवं केन्द्रीय सिंहस्थ समिति के अध्यक्ष श्री माखनसिंह भी मौजूद थे। हमारी संस्कृति के पदचिन्ह दुनिया में मिलते हैं : डॉ. मोहन भागवत उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि डॉ. मोहन भागवत ने कहा कि हमारी संस्कृति के पदचिन्ह दुनियाभर में मिलते हैं। विष पीकर अमर होने वाला देश भारत ही हो सकता है। हमारा कर्त्तव्य बनता है कि दुनिया को राह दिखाने का काम करें। शिव का पहला नाम रूद्र है, रूद्र का अर्थ है शक्ति। बिना शक्ति के शिव होने का कोई मतलब नहीं है। दुनिया की सारी दुष्ट शक्तियों को भस्म करने वाले रूद्र ही शिव हैं। हम लोगों को शक्ति की उपासना करना पड़ेगी। शारीरिक ताकत ही सबकुछ नहीं होती, उसके साथ आन्तरिक ताकत भी होना आवश्यक है। हमको भौतिक बल से साथ आध्यात्मिक बल-सम्पन्न संवेदनशील समाज बनाना पड़ेगा। दक्षिण में शिव की भभूति लगाकर बिना स्नान के भी चल सकता है। मन में कोई विकार नहीं है तो शिव का प्रतीक भस्म लगाने से तन और मन पवित्र हो जाता है। शिव भगवान अत्यन्त शातिपूर्वक बर्फीले टीले पर बैठकर आराधना पूरी करते हैं और वहीं से दुनिया को देखते हैं। शिव के समान आन्तरिक एवं बाह्य पवित्रता का वरण करने वाले को ही रूद्र की शक्ति प्राप्त होती है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय और व्यक्तिगत चरित्र शिव के समान होना चाहिये। शांति के लिए युद्ध नहीं करना पड़ता है। इसके लिये सम्पूर्ण स्वार्थ का त्याग करना होता है। हम लोगों का दायित्व है कि हम शिव को समझें। सम्राट विक्रमादित्य ने 2100 वर्ष पूर्व शैव महोत्सव प्रारंभ किया था। आज से आयोजित शैव महोत्सव आम जन में शिवत्व की प्रेरणा जगाएगा। डॉ. भागवत ने कहा कि भगवान राम ने उत्तर से दक्षिण को, भगवान कृष्ण ने पूर्व से पश्चिम को जोड़ने का काम किया किन्तु भगवान शिव सम्पूर्ण भारत के कण-कण में विद्यमान है। हिमालय के दोनों ओर सागर तट तक फैली हुई भूमि में शिव का पूजन किया जाता है। सम्पूर्ण दुनिया को जीवन जीने की कला सिखाने वाली भारतीय संस्कृति विश्वव्यापी है। उन्होंने कहा कि कई वर्षो पूर्व जब वे केन्या गए थे तब वहां उन्होंने भगवान शिव के स्वयंभू लिंग के दर्शन किए। इसी तरह तंजानिया और केन्या के बीच फैले विक्टोरिया सरोवर के किनारे भी शिव के दर्शन हुए। विश्व को शान्ति मार्ग भारत ही दिखायेगा –मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि दुनिया के विकसित देशों में जब सभ्यता का विकास ही नहीं हुआ था, तब हमारे भारत में वेदों की ऋचाएँ रच ली गई थीं। विश्व को शान्ति का मार्ग भारत ही दिखायेगा। उन्होंने कहा कि भगवान शिव भारत ही नहीं सृष्टि के कण-कण में विराजित हैं। शैव महोत्सव की प्राचीन परम्परा जारी रहना चाहिये। उज्जैन से प्रारम्भ हुआ शैव महोत्सव द्वादश ज्योतिर्लिंगों तक जायेगा। थोड़ी-सी पूजा में प्रसन्न होने वाले भगवान शंकर ही हैं। उनका श्रृंगार भस्म से हो जाता है और भोग में भांग व धतूरा चलता है। श्री चौहान ने कहा कि भगवान शंकर ऐसे व्यक्तियों को स्वीकार करते हैं, जिनको दुनिया ठुकरा देती है। समुद्र मंथन में निकले विष को धारण करने वाले देव नीलकंठ कहलाये। सबको साथ लेकर चलने वाले, सबको प्रेम करने वाले एकमात्र भगवान शंकर हैं। भगवान शंकर सामाजिक समरसता का सन्देश देने वाले हैं। शैव महोत्सव सामाजिक समरसता का सन्देश देने का कार्य करेगा। दुनिया को अगर बचाना है तो भारतीय संस्कृति को बचाना होगा। एकात्म यात्रा हो या शैव महोत्सव, दोनों का सन्देश यही है कि सारे भेद मिटाते हुए समाज को जोड़ा जाये। विश्व में आज जिस तरह का टकराव सामने आ रहा है, इस समस्या को दूर करने का उपाय भारतीय संस्कृति करेगी। सभी सुख से रहें और सभी निरोगी रहें, हमारी संस्कृति की यही मूल भावना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनसे जब अमेरिका में प्रश्न पूछा गया कि 'भारत देश का विचार क्या है? तो उन्होंने जवाब दिया 'सत्यमेव जयते' एवं 'वसुधैव कुटुम्बकम' देश का विचार है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार का काम विकास करना तो है ही लोगों की जिन्दगी भी बनाना आवश्यक है, इसलिये नर्मदा सेवा, एकात्म यात्रा एवं शैव महोत्सव जैसे आयोजन करना आवश्यक है। डाक टिकिट का विमोचन भारतीय डाकतार विभाग द्वारा शैव महोत्सव-2018 विषय पर डाक टिकिट जारी किया गया। डाक टिकिट का विमोचन अतिथियों की उपस्थिति में किया गया। इस अवसर पर भारतीय डाकतार विभाग के श्री राकेश कुमार, सुश्री प्रीति अग्रवाल एवं श्री बीएस तोमर मौजूद थे। डाकतार विभाग द्वारा विशेष कवर, जिसमें महाकाल शिखर का चित्र है, भी जारी किया गया। द्वादश ज्योतिर्लिंग पर विशेष 12 पोस्टकार्ड भी जारी किये गये एवं सम्राट विक्रमादित्य द्वारा आयोजित प्रथम शैव उत्सव की स्मृति के रूप में प्राप्त हुई मुद्रा, जिसमें ब्राह्मी लिपि में शैव महोत्सव का विवरण अंकित है, के डाक टिकिट का भी विमोचन अतिथियों द्वारा किया गया। श्री मुले को महाकालेश्वर वेद अलंकरण सम्मान वर्ष 2017 के लिये महाकालेश्वर वेद अलंकरण महाराष्ट्र के वेदमूर्ति श्री दुर्गादास अम्बादास मुले को दिया गया। अलंकरण में श्री मुले को डॉ.मोहन भागवत एवं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने एक लाख रूपये का चेक, रजत पत्र एवं प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया। श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के सदस्य श्री विभाष उपाध्याय ने श्री मुले का प्रशस्ति-वाचन करते हुए बताया कि महाराष्ट्र में जन्मे श्री मुले को पूर्व में आदर्श वैदिक धनपाठी एवं अन्य पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। इन्होंने 1200 से अधिक विद्यार्थियों को अपनी संस्था में विद्याध्यन कराया है। इनके द्वारा 1985 से अनवरत वेद पाठशाला एवं वेद विद्या का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। प्रारम्भ में अतिथियों का स्वागत मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, स्वागत समिति के अध्यक्ष श्री माखनसिंह चौहान, श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति के सदस्य श्री विभाष उपाध्याय, श्री प्रदीप पुजारी, श्री जगदीश शुक्ला एवं प्रशासक श्री अवधेश शर्मा द्वारा किया गया। इस अवसर पर विधायक डॉ.मोहन यादव, यूडीए अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल, श्री श्याम बंसल, प्रशासनिक अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक मौजूद थे। संचालन श्री मयंक शुक्ला ने किया। साधु-सन्तों एवं अतिथियों का स्वागत मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महोत्सव में आये स्थानीय साधु-सन्तों एवं द्वादश ज्योतिर्लिंग से आये अतिथियों का स्वागत पुष्पहार एवं श्रीफल भेंट कर किया।
सहकारिता राज्य मंत्री श्री सारंग के निर्देशों पर अमल
5 January 2018
सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग के बकाया ऋण की वसूली और ऋण प्राप्त करने वालों को ऋण आदायगी में राहत देने के निर्देशों पर राज्य सहकारी आवास संघ द्वारा 'एक मुश्त समझौता योजना' शुरू की गई है। एक जनवरी 2018 से शुरू यह योजना 31 मार्च 2019 तक के लिए है। योजना का लाभ 200 संस्था और 3133 ऋणी सदस्य ले सकेंगे। योजना की विस्तृत जानकारी संघ के सभी क्षेत्रीय प्रबंधकों को भेज कर आयुक्त सहकारिता द्वारा सभी संस्थाओं और सदस्यों को लाभ लेने के लिए प्रेरित करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रबंध संचालक आवास संघ श्री सी.एस. डाबर ने बताया कि आवासीय संघ द्वारा वित्त पोषित गृह निर्माण समितियों और उनके सदस्यों के लिए कालातीत ऋण वसूली की 'एक मुश्त समझौता योजना' में ऋण मुक्ति का सुनहरा मौका दिया गया है। उन्होंने बताया कि योजना से एक ओर ऋणी ऋण से उऋण होंगे तो दूसरी ओर संघ को कार्य व्यवसाय के लिए पूँजी प्राप्त हो सकेगी। योजना में आदतन बकायादार और ऋण का दुरूपयोग करने वालों को लाभ नहीं देने का प्रावधान भी है। समझौता के प्राप्त प्रकरणों में मूल ऋण पर कालातीत होने की स्थिति में लगाये गये दण्ड ब्याज को माफ किया जायेगा। समझौता होने के बाद ऋण लेने वालों को सम्पूर्ण बकाया राशि का भुगतान एक माह की अवधि में करना होगा। प्राथमिक गृह निर्माण सहकारी संस्था के सदस्यों के लिए खातों में अधिकतम कालातीत बकाया ऋण 5 लाख से अधिक होने की दशा में योजना का लाभ मिल सकेगा। योजना की पूरी प्रक्रिया को पारदर्शी बनाया गया है। संघ स्तर पर गठित कमेटी योजना के अंतर्गत प्राप्त प्रकरणों में बिना भेदभाव के समान रूप से निर्णय करेगी। समझौता प्रकरणों में परीक्षण में सरलता एवं एकरूपता को ध्यान में रख प्रारूप बनाया गया है। एकमुश्त समझौता के लिए ऋण संस्था अथवा सदस्य को निर्धारित प्रारूप में प्रकरण प्रस्तुत करना होगा।
मंत्री डॉ. मिश्र द्वारा मुंगावली में डॉ. अम्बेडकर की प्रतिमा का अनावरण
4 January 2018
जनसम्पर्क, जल संसधान एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज अशोक नगर जिले के मुंगावली में बाबा साहब डॉ. अम्बेडकर की प्रतिमा का अनावरण किया। समारोह में डॉ. मिश्र ने बाबा साहब का स्मरण करते हुए कहा कि उन्होंने जातिगत भेदभाव मिटा कर समाज में समरसता का संदेश दिया। यही संदेश जीवन की सफलता का मूलमंत्र है। डॉ. मिश्र ने कहा कि आज मुंगावली में बाबा साहब की मूर्ति की स्थापना का संकल्प पूरा हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार जातिगत भेदभाव को समाप्त कर समाज में एकरूपता लाने का प्रयास कर रही है। बाबा साहब की जन्म स्थली महू को तीर्थ स्थल का दर्जा दिलाया गया है। साथ ही बाबा साहब का भव्य स्मारक बनवाया गया है। यहाँ आने वाले दर्शनार्थियों के ठहरने एवं अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराई गई हैं। जनसम्पर्क मंत्री ने कहा कि मुंगावली में सर्वागीण विकास हर हाल में सुनिश्चित किया जाएगा। कार्यक्रम में अशोकनगर के विधायक श्री गोपीलाल जाटव, सहित अन्य जनप्रतिनिधि ,ग्रामीणजन तथा गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।
राज्य मंत्री श्री सारंग ने 50 लाख की सड़कों का किया भूमि-पूजन
4 January 2018
सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज कस्तूरबा नगर, गौतम नगर और रचना नगर में 50 लाख रूपये से अधिक लागत की सड़कों का भूमि-पूजन किया। राज्य मंत्री श्री सारंग ने भूमि-पूजन कार्यक्रम में कहा कि नरेला विधान सभा क्षेत्र में 5 फ्लाईओवर बनाये गये है। उन्होंने कस्तूरबा नगर में नर्मदा जल सप्लाई सुनिश्चत करने के लिए 10 लाख लीटर क्षमता की पानी की नई टंकी निर्माण करवाने का आश्वासन दिया।
अकल्पनीय बदलाव के साथ मध्यप्रदेश निरन्तर विकास की ओर अग्रसर
4 January 2018
मुख्य स