Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> आपकी शिकायत
   >> पर्यटन गाइडेंस सेल
   >> स्टुडेन्ट गाइडेंस सेल
   >> सोशल मीडिया न्यूज़
   >> नॉलेज फॉर यू
   >> आज खास
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> निगम मण्डल मिरर
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> लॉं एण्ड ऑर्डर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> हास्य - व्यंग
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> येलो पेजेस
   >> रेल डाइजेस्ट
   Untitled Document
aa aa aa aa aa aa aa aa aa aa aa aa
मंत्री श्री शर्मा ने रामेश्वरम् धाम के लिये रवाना की स्पेशल ट्रेन
17 November 2019
जनसम्पर्क तथा धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने आज हबीबगंज रेलवे स्टेशन से मुख्यमंत्री तीर्थ योजना के अंतर्गत रामेश्वरम् धाम के लिये श्रद्धालुओं की स्पेशल ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस तीर्थ दर्शन यात्रा ट्रेन में भोपाल, रायसेन और विदिशा जिले के लगभग एक हजार श्रद्धालु रवाना हुए।श्री शर्मा ने ट्रेन को रवाना करने के पूर्व बोगियों में पहुँचकर श्रद्धालुओं का पुष्पहारों से स्वागत किया और सुखद एवं मंगलमय यात्रा के लिए शुभकामनाएँ दी।
इस अवसर पर पार्षद श्री योगेंद्र सिंह चौहान, श्री अमित शर्मा, श्रीमती संतोष कसाना तथा अन्य जन-प्रतिनिधि मौजूद थे।
स्वच्छता की गाड़ी देगी डेंगू और मलेरिया से बचने का संदेश
17 November 2019
लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने इंदौर में डेंगू और मलेरिया की रोकथाम के लिये अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि शहर की कॉलोनियों में डेंगू और मलेरिया की रोकथाम के लिये स्वच्छता गाड़ी के माध्यम से संदेश पहुँचाएँ। मंत्री श्री सिलावट ने इंदौर में इन बीमारियों की रोकथाम के लिये किये जा रहे प्रयासों की समीक्षा की।
बैठक में बताया गया कि इंदौर में डेंगू, मलेरिया, चिकुनगुनिया और स्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिये 16 टीमें लार्वा की खोज कर उसे नष्ट करने का कार्य कर रही हैं। अभी तक एक लाख 22 हजार घरों का सर्वे किया जा चुका है, जिसमें से 2 हजार घरों में लार्वा पाया गया, जिसे नष्ट कर दिया गया है। शहर में 38 फॉगिंग मशीन के माध्यम से दवाई का छिड़काव किया जा रहा है। शहर के संवेदनशील क्षेत्रों में संक्रमित रोगों के विरुद्ध सघन कार्यवाही तेज कर दी गई है।
मंत्री श्री सिलावट ने जन-जागरूकता अभियान को और तेज करने के निर्देश दिये। बैठक में सुझाव दिया गया कि इन रोगों की रोकथाम के लिये ऐसी जगह होर्डिंग्स लगाये जायें, जहाँ से इनका व्यापक प्रचार-प्रसार हो सके। बैठक में बताया गया कि शहर में खाली पड़े प्लाटों के मालिकों को नोटिस दिया गया है और आर्थिक दण्ड की कार्यवाही भी की गई है। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने स्थानीय निकायों के अधिकारियों को सफाई व्यवस्था पर विशेष ध्यान देने के लिये कहा।
निजी भूमि पर भी बाँस उत्पादन की योजना बनाने के निर्देश
15 November 2019
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने आज मंत्रालय में बांस मिशन की बैठक में कहा है कि बाँस प्रदेश में रोजगार और आय का साधन बने। इस दिशा में विशेष प्रयास करने की जरूरत है। उन्होंने इसके लिए वन और ग्रामीण क्षेत्रों में बाँस रोपण के साथ ही निजी भूमि पर भी बाँस उत्पादन की योजना बनाने के निर्देश दिए। बैठक में वन मंत्री श्री उमंग सिंघार तथा पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में बाँस उत्पादन के जरिए हम किसानों की आय में वृद्धि करने के साथ ही बेरोजगारों को व्यापक पैमाने पर रोजगार उपलब्ध करवा सकते हैं। उन्होंने बताया कि बाँस से उत्पादित वस्तुओं का एक बहुत बड़ा बाजार पूरे विश्व में है। इसका लाभ मध्यप्रदेश को मिले, इसके लिए सुनियोजित प्रयास किए जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाँस उत्पादन में इस बात का ध्यान रखा जाए कि इससे जुड़े उद्योगों को कौन-सी गुणवत्ता के बाँस की आवश्यकता है। उन्होंने बाँस उद्योगों को प्रोत्साहित करने के लिए उद्योग की आवश्यकता के अनुरुप बाँस उत्पादन की योजना बनाने के निर्देश दिए।
बैठक में मुख्य सचिव श्री एस.आर. मोहंती, अपर मुख्य सचिव वन श्री ए.पी. श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्रीमती गौरी सिंह, एपीसीसीएफ (सेवानिवृत्त) डॉ. ए.के. भट्टाचार्य एवं बाँस कृषक व्यवसायी श्री सुभाष भाटिया सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
बाल दिवस पर मंत्री श्री राजपूत ने बच्चों को दी शुभकामनाएँ
15 November 2019
परिवहन एवं राजस्व मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत नेहरूजी की 130वीं जयंती पर सागर के किडजी स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। श्री राजपूत को बच्चों ने अपने हाथों से बनाए छोटे-छोटे खिलौने और चित्र भेंट किये। श्री राजपूत ने बच्चों की कला और सोच को सराहते हुए उन्हें उपहार दिये। परिवहन एवं राजस्व मंत्री ने इस अवसर पर खेल प्रतियोगिताओं के प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया और बाल दिवस की शुभकामनाएँ दी।

मीटरीकरण अभियान को सफल बनाएं : ऊर्जा मंत्री श्री सिंह
15 November 2019
ऊर्जा मंत्री श्री प्रियव्रत सिंह ने बताया है कि प्रदेश के सभी शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू, इंडस्ट्रियल पॉवर और गैर घरेलू उपभोक्ताओं के परिसर में आधुनिक मीटर लगाने का काम तेजी से पूरा किया जा रहा है। उन्होंने उपभोक्ताओं से अपील की है कि वे मीटरीकरण अभियान को सफल बनाएं, जिससे वास्तविक बिजली खपत से अधिक फायदा मिल सके।
वास्तविक खपत से फायदे
इंदिरा गृह ज्योति योजना में प्रतिमाह 100 यूनिट बिजली सिर्फ 100 रूपये में मिलती है। योजना का लाभ 150 यूनिट तक की मासिक खपत पर ही मिलता है। गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के 100 वॉट लोड वाले उपभोक्ताओं को 30 यूनिट तक खपत पर मात्र 25 रूपये बिजली बिल देना होगा।
उपभोक्ताओं से अपील
ऊर्जा मंत्री ने उपभोक्ताओं से अपील की है किमीटर रीडिंग के समय अथवा बिल प्राप्त होने पर बिल में उल्लेखित रीडिंग एवं अपने मीटर की रीडिंग का मिलान कर लें। इसमें अधिक अंतर होने पर विद्युत वितरण कंपनी को तुरंत सूचना दें। मीटर बंद या खराब होने की सूचना भी तुरंत विद्युत वितरण कंपनी को दें। किसी कारणवश मीटर रीडिंग नहीं होने पर आप स्वयं पहल कर रीडिंग के आधार पर संबंधित बिजली कार्यालय से अपना बिल प्राप्त करें। विद्युत मीटर से छेड़छाड़ की घटना होने पर उसकी जानकारी तुरंत बिजली कंपनी को दें। यदि कोई व्यक्ति मीटर रीडिंग में कमी लाने का प्रलोभन देते हुए राशि की मांग करता है, तो उसकी जानकारी तत्काल बिजली कंपनी को दें।
स्कूली वाहनों में ओव्हर-लोडिंग करने पर होगी सख्त कार्रवाई : परिवहन मंत्री श्री राजपूत
6 November 2019
परिवहन मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत ने स्कूली बच्चों को लाने-ले जाने वाले वाहनों में ओव्हर-लोडिंग किए जाने अथवा नियमों का पालन नहीं करने पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए है। श्री राजपूत ने यह निर्देश परिवहन विभाग की समीक्षा करते हुए दिया।
श्री राजपूत आज मंत्रालय में प्रमुख सचिव, परिवहन एवं परिवहन आयुक्त के साथ विभागीय समीक्षा बैठक ले रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयों एवं जिला कार्यालयों में ऑटोमेटेड ड्रायविंग टेस्टिंग ट्रेक एवं ऑटोमेटिक फिटनेस सेंटर सहित जीपीएस आधारित व्हीकल लोकेशन एवं ट्रेकिंग सिस्टम की स्थापना शीघ्र की जाये। इसके क्रियान्वयन के लिये कंट्रोल एण्ड कमाण्ड सेंटर की स्थापना संबंधी अन्य प्रदेशों में कार्यरत एजेंसियों से इन सिस्टमों का प्रस्ताव आमंत्रित करें। अन्य प्रदेशों में यह सिस्टम किस प्रकार काम कर रहा है, उसके प्रस्तुतिकरण के आधार पर यह सुनिश्चित करें कि यह सिस्टम मध्यप्रदेश की भौगोलिक स्थिति एवं परिवहन व्यवस्था के परिप्रेक्ष्य में किस प्रकार अधिक से अधिक कारगर हो सकेगा।
परिवहन मंत्री ने कहा कि प्रदेश में पॉल्यूशन अण्डर कंट्रोल सेंटर की स्थापना एवं ऑनलाइन/रियल टाइम के आधार पर पीयूसी जारी करने की प्रणाली लागू करने के लिये जिन प्रदेशों में यह प्रणाली लागू हो, उनके अनुभव एवं परिणामों को देखते हुए इसे व्यावहारिक रूप से लागू करें।
श्री राजपूत ने कहा कि सरकार अपने वचन-पत्र को बिन्दुवार धरातल पर लाने के लिये वचनबद्ध है। वचन-पत्र के कई काम पूर्ण हो चुके हैं, कुछ कामों को 6 माह की समय-सीमा में पूरा किया जाये। शेष कार्यों को आगामी वर्ष के 6 माह में पूर्ण करने का लक्ष्य निर्धारित करें।
सड़क परिवहन विभाग के कर्मचारियों को अन्य विभागों में प्रतिनियुक्ति पर पदस्थ करने की कार्यवाही की जाये। जो कर्मचारी वीआरएस का लाभ लेना चाहेंगे, उनके लिये वीआरएस पैकेज का प्रस्ताव शासन के समक्ष रखा जाये।
विभागीय सीमित परीक्षा के माध्यम से लिपिक वर्ग से उप निरीक्षक-परिवहन के पदों की पूर्ति की जायेगी। इसके लिये शीघ्र ही प्रस्ताव शासन को भेजने के निर्देश उन्होंने दिये। बैठक में प्रमुख सचिव श्री एस.एन. मिश्रा, परिवहन आयुक्त श्री व्ही. मधु कुमार एवं ओएसडी श्री कमल नागर उपस्थित थे।
मंत्री श्री राठौर ने 21 करोड़ की लागत से 128 आवासों एवं पुलिस चौकियों का किया शिलान्यास
6 November 2019
वाणिज्यिक कर मंत्री श्री बृजेन्द्र सिंह राठौर ने पुलिस लाईन निवाड़ी में 128 आवास गृह, पुलिस हाईवे सुरक्षा चौकी, महिला हेल्प लाईन डेस्क निर्माण कार्य का शिलान्यास एवं भूमि-पूजन किया। मुख्यमंत्री पुलिस आवास योजना के तहत 21 करोड़ रूपये की लागत से निर्माण कार्य कराए जायेंगे।
मंत्री श्री राठौर ने कहा कि पुलिस निरंतर कठिन परिस्थितियों में कार्य करती है। उनकी जरूरतों और सहूलियतों का ध्यान रखना शासन का कर्त्तव्य है, ताकि वे पूरी लगन और समर्पण से और बेहतर कार्य कर सकें। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार की प्राथमिकता है कि पंक्ति के अंतिम व्यक्ति को भी शासन की योजनाओं का लाभ मिले। लोगों की सुरक्षा में लगी हमारी पुलिस को बेहतर सुविधाएँ एवं साधन उपलब्ध कराने की दिशा में यह एक प्रयास है।
इस अवसर पर जनप्रतिनिधि, संभागायुक्त श्री आनंद कुमार शर्मा, आईजी सागर श्री एस.के. सक्सेना, डीआईजी छतरपुर श्री अनिल माहेश्वरी, कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह, एसपी श्री एम.के. श्रीवास्तव तथा जन-प्रतिनिधिगण उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ दुबई पहुँचे
5 November 2019
दुबई मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ एशियन बिजनेस लीडरशिप फोरम में शामिल होने के लिये दुबई पहुँच गये हैं। मुख्यमंत्री बुधवार 6 नवंबर की शाम को जुमेराह एमीरेटस टॉवर में एशियन बिजनेस लीडरशिप अवार्ड समारोह में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री इसके पहले बुधवार की सुबह एमीरेट्स एयरलाइन समूह के चेयरमेन और चीफ एक्जीक्यूटिव्ह एच.एच. शेख अहमद बिन सईद अल मखदूम से इन्दौर-दुबई एमीरेट्स प्लाइट चालू करने और मध्यप्रदेश में निवेश संबंधी चर्चा करेंगे।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ इसी दिन यूएई की अंतर्राष्ट्रीय सहयोग राज्य मंत्री और एक्सपो 2020 दुबई ब्यूरो की महानिदेशक एच.ई. रीम इब्राहिम अल हाशिमी, मशरिक बैंक के सीईओ एच.ई. अब्दुल अजीज अल गुरैर और डीपी वर्ल्ड के ग्रुप चेयरमेन एवं सीईओ एच.ई. सुल्तान अहमद बिन सुलायेम से भी वन-टू-वन चर्चा करेंगे।
वन-टू-वन चर्चा के अलावा मुख्यमंत्री फ्रेंडस आफ एम.पी., यू.एई सहित आधा दर्जन प्रतिनिधि-मंडल से भी मुलाकात करेंगे।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ के साथ मुख्य सचिव श्री एस.आर. मोहन्ती, प्रमुख सचिव उद्योग डॉ. राजेश राजौरा, सचिव मुख्यमंत्री श्री सेलवेन्द्रम और प्रबंध संचालक राज्य औद्योगिक विकास निगम श्री विवेक पोरवाल दुबई प्रवास पर हैं।
मध्यप्रदेश में संकटापन्न और दुर्लभ वृक्ष प्रजाति संरक्षण
5 November 2019
देश में सर्वाधिक वन क्षेत्र मध्यप्रदेश में है। प्राचीनकाल से ही मध्यप्रदेश में जड़ी-बूटियों की बहुतायत रही है। विगत कई वर्षों में हुए शोध और अध्ययन में प्रदेश के वन क्षेत्रों में लगभग 216 वृक्ष प्रजातियाँ पाई गई हैं। इनमें से 32 प्रजातियाँ संकटापन्न और दुर्लभ स्थिति में हैं। वन विभाग ने 14 संकटापन्न और 18 विलुप्ति की कगार पर पहुँची वृक्ष प्रजातियों को बचाने के हर संभव प्रयास शुरू कर दिये हैं। इन प्रजातियों का औषधीय और वन्य-प्राणियों के लिये चारे का महत्व होने के साथ वनवासियों की परम्पराओं, रीति-रिवाजों और विभिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति से भी गहरा संबंध है। जैव-विविधता की दृष्टि से इनका स्थानीय पारिस्थितिक तंत्र में भी महत्वपूर्ण स्थान है।
अध्ययन में संकटापन्न वृक्ष प्रजातियों को 4 वर्गों-अत्यधिक खतरे में, संवेदनशील और दुर्लभ/खतरे के नजदीक वर्ग में विभाजित किया गया है। प्रदेश में 3 प्रजातियाँ दहिमन, शल्यकर्णी और मेंदा को अत्यधिक खतरे वाली प्रजाति में रखा गया है। शल्यकर्णी वृक्ष की पत्तियाँ महाभारत के युद्ध में सैनिकों के घाव को भरने के लिये ऐतिहासिक रूप से प्रसिद्ध भी हैं। इसकी छाल और पत्ती शारीरिक दर्द, मधुमेह, बवासीर, गंजापन, कैंसर में भी उपयोग करते हैं। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने 27 सितम्बर को भोपाल में वृक्ष महोत्सव के दौरान अन्य दुर्लभ प्रजातियों के साथ इस पौधे को भी रोपा है। दहिमन का प्रयोग स्त्री रोग, रक्त विकार, ह्रदय विकार, रक्तदाब, चर्मरोग और विष विकार में किया जाता है। मेंदा छाल और पत्ती का प्रयोग कैंसर, ह्रदय रोग, बवासीर, हड्डी टूटना और पशु रोग में होता है।
खतरे वाली प्रजातियों में सोनपाठा, गरुड़ वृक्ष, बीजा और लोध शामिल हैं। सोनपाठा या अरलू वृक्ष की जड़, छाल, पत्ती और फल का औषधीय प्रयोग होता है। इससे बनी दवाइयों का प्रयोग उदर विकार, घायलावस्था, श्वांस रोग, वातरोग और मिर्गी दूर करने में होता है। गरुड़ या सोनपाडर की जड़, पत्ती और फल का उपयोग उदर विकार और सर्प विष दूर करने वाली दवाइयों में होता है। बीजा वृक्ष की लकड़ी और गोंद उपयोगी हैं। गोंद का प्रयोग मधुमेह, उदर विकार, रक्तदाब और पुरुष रोग में होता है, जबकि लकड़ी का उपयोग ढोलक बनाने में होता है। लोध वृक्ष का उपयोगी भाग छाल और फूल हैं। इनका प्रयोग बुखार, कफ, ह्रदय रोग, रक्तदाब, सूजन, स्त्री और चर्म रोग में किया जाता है।
संवेदनशील प्रजातियों में कुम्भी, पीला पलाश, खरपट, पाडर, कुल्लू, रोहिना और शीशम शामिल हैं। कुम्भी की जड़, छाल और फल का उपयोग सर्पदंश, परिवार नियोजन, बुखार, कुष्ठ रोग और घाव भरने की दवा बनाने में किया जाता है। पीला पलाश या गबदी की छाल और गोंद का प्रयोग चर्म, मिर्गी रोग और उदर विकार औषधि में किया जाता है। खरपट या केंकड की छाल का प्रयोग किडनी, कैंसर और श्वांस की औषधियों में होता है। पाडर या अर्धपाकरी वृक्ष की छाल, पत्ती और फल से नेत्र और मानसिक विकार की आयुर्वेदिक औषधियाँ तैयार की जाती हैं। कुल्लू की छाल और गोंद का प्रयोग उदर विकार, ह्रदय रोग, अस्थिभंग और पशु चिकित्सा में करते हैं। रोहन या रोहिना वृक्ष की छाल रक्तदाब, ह्रदय, लीवर, प्रसूति और वात रोग की औषधियों में करते हैं। शीशम की लकड़ी का प्रयोग फर्नीचर में सर्वविदित है परंतु बहुत कम लोग जानते हैं कि इसकी छाल और पत्ती पुरुष रोग और चर्म रोग के लिये औषधि निर्माण में बहुत उपयोगी है।
खतरे के नजदीक वृक्ष श्रेणी में धावड़ा, सलई, भिलवा, गधा पलाश, धामन, निर्मली, अंजन, मोखा, तिंसा, खरहर, भेड़ार, अचार, कुसुम, भुडकुट, खटाम्बा, पीपरी बड़ प्रजाति और बड़ प्रजाति शामिल है जबकि हल्दू खतरे में (एन्डेंजर्ड) प्रजाति में शामिल है। हल्दू की छाल और पत्ती का प्रयोग पुरुष रोग और चर्म रोग औषधि तथा लकड़ी फर्नीचर बनाने में काम आती है।
धावड़ा या धवा की छाल श्वांस रोग औषधि में प्रयोग की जाती है। धवा की लकड़ी बहुत मजबूत होने के कारण इसका उपयोग कृषि उपकरण बनाने में होता है। इसकी लकड़ी बहुत देर तक जलने के कारण भी मशहूर है। सलई वृक्ष की छाल, बीज और गोंद का प्रयोग टी.बी., घायलावस्था और वात रोग की दवाइयाँ बनाने के साथ खाद्य पदार्थ और सौंदर्य प्रसाधन में भी किया जाता है। भिलवा या भिलमा वृक्ष की छाल और बीज का प्रयोग बाल एवं चर्म रोग के साथ स्याही बनाने में भी होता है।
गधा पलाश वृक्ष के छाल, पत्ते और फूल का प्रयोग सूजन, खून की कमी, पुरुष रोग और पशु रोग में होता है। कुचला या निर्मली वृक्ष के बीज का प्रयोग कैंसर, वात और चर्म रोग में होता है। इसका बीज काफी विषैला होता है। अंजन वृक्ष के सभी 5 भागों का प्रयोग स्त्री रोग और विष विकार में होता है। मोखा वृक्ष के फल का प्रयोग नेत्र विकार में करते हैं। तिंसा वृक्ष की छाल का उपयोग उदर विकार और निमोनिया में करते हैं। इसकी छाल का प्रयोग मछली पकड़ने में किया जाता है।
खरहर वृक्ष की छाल और पत्ती का उपयोग उदर, यकृत विकार, घाव भरने और पशुओं के तिलबढ़ रोग में होता है। भेड़ार वृक्ष की जड़ और फल का प्रयोग उदर और लिवर की बीमारी में होता है। अचार वृक्ष की छाल और बीज का उपयोग उदर विकार औषधि के साथ खाद्य पदार्थों में भी होता है। कुसुम वृक्ष की छाल और बीज का उपयोग विष विकार, पशु रोग और चर्म रोग में होता है। भुडकुट वृक्ष की जड़, छाल और बीज का प्रयोग सर्पदंश, पुरुष रोग, शीतवात और सूजन की दवा बनाने में होता है। खटाम्बा वृक्ष की जड़, छाल और फल का प्रयोग ह्रदय रोग, रक्तदाब, स्त्री रोग एवं उदर रोग में किया जाता है। पीपरी बड़ प्रजाति वृक्ष की छाल और पत्ती का प्रयोग मधुमेह, घाव भरने एवं मुँह के छालों में किया जाता है। बड़ प्रजाति वृक्ष की जड़, छाल एवं पत्तों का प्रयोग बुखार, चर्म रोग, घाव भरने और मुँह के छालों में किया जाता है।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने राष्ट्र की एकता और अखण्डता की शपथ दिलाई
31 October 2019
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने लौह पुरूष और देश के प्रथम गृह मंत्री स्वर्गीय श्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर आज मंत्रालय के समक्ष सरदार पटेल उद्यान में स्थित उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। श्री कमल नाथ ने उपस्थित लोगों को राष्ट्रीय एकता, अखण्डता और सुरक्षा की शपथ दिलाई।
श्री कमल नाथ के उपस्थित लोगों को संकल्प दिलाया कि 'मैं राष्ट्र की एकता, अखण्डता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए स्वयं को समर्पित करूंगा और अपने देशवासियों के बीच यह संदेश फैलाने का भी भरसक प्रयत्न करूंगा। मैं यह शपथ अपने देश की एकता की भावना से ले रहा हूँ, जिसे सरदार वल्लभ भाई पटेल की दूरदर्शिता एवं कार्यों द्वारा संभव बनाया जा सका। मैं अपने देश की आंतरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपना योगदान करने का भी सत्यनिष्ठा से संकल्प करता हूँ।'
इस मौके पर नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल, सांसद श्री विवेक तन्खा, श्री दीपक बावरिया, मुख्य सचिव श्री एस.आर. मोहंती, अपर मुख्य सचिव श्री के.के. सिंह एवं प्रमुख सचिव, सचिव तथा मंत्रालय के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ दुबई में एशियन बिजनेस लीडरशिप फोरम में शामिल होंगे
31 October 2019
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ दुबई में एशियन बिजनेस लीडरशिप फोरम में शामिल होंगे। फोरम का आयोजन 6 नवंबर को दुबई में शेख नाहयान मुबारक अल नाहयान के संरक्षण में हो रहा है। वे संयुक्त अरब अमीरात में केबिनेट मेंबर और टॉलरेन्स मंत्री हैं। आयोजन में यूएई के आर्थिक मंत्रालय और एशिया बिजनेस लीडरशिप फोरम के बीच संयुक्त भागीदारी है।
इस फोरम में बिजनेस लीडर्स के बीच वार्तालाप होगा। बिजनेस लीडर अवार्ड दिया जाएगा और बिजनेस लीडरशिप मैगजीन का विमोचन होगा। फोरम का नेटवर्क संयुक्त अरब अमीरात के अलावा पूरे विश्व में फैला हुआ है जिसका संचयी राजस्व 900 बिलियन डॉलर से अधिक है। अपने 12 वर्षों के इतिहास में फोरम पहली बार अतिथि देश "भारत" को यह आयोजन समर्पित कर रहा है। यह आयोजन महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर, जो विश्व के लिए शांति के और अहिंसा के प्रतीक हैं, हो रहा है। यह अवसर शेख जायद बिन सुल्तान अल नाहयान को भी उनके 101वें जन्म-दिन पर समर्पित है।
एशियन बिजनेस फोरम लीडरशिप अवार्ड एक वैश्विक आयोजन है। इसके माध्यम से विश्व के प्रमुख उद्योगपतियों और नीति निर्धारकों को एक मंच उपलब्ध कराया जाता है जहाँ उद्योग क्षेत्र में नई संभावनाओं पर विचार किया जा सके और एशिया की अर्थ-व्यवस्था की ताकत को दुनिया के सामने लाया जा सके।
एशियन बिजनेस फोरम लीडरशिप अवार्ड-2019 की थीम "परस्पर जुड़े विश्व में इनक्लूसिव लीडरशिप: सहनशीलता के माध्यम से निरंतरता और प्रगति" है।
इस फोरम में एशिया के जो प्रमुख उद्योगपति शामिल हो रहे हैं, उनमें डॉ. सुश्री मूलयानी इन्द्रावती, पूर्व प्रबंध संचालक और सीओओ, विश्व बैंक, डॉ. मायथा सलेम अल शम्सी मिनिस्टर ऑफ स्टेट यूएई, श्री राजीव के. लूथरा संस्थापक और प्रबंध सहयोगी एल एण्ड एल पार्टनर्स लॉ ऑफिसेस, भारत, कोल्म मेक्लोगलिन कार्यपालक उपाध्यक्ष और सीईओ, दुबई ड्यूटी फ्री, यूएई, डॉ. तौफिक बिन फवजान अल राबिया स्वास्थ्य मंत्री, सऊदी अरब, एंग मोहम्मद अहमद बिन अब्दुल अजीज अल शीही, अवर सचिव, आर्थिक मामले, संयुक्त अरब अमीरात, तारिक अल गुर्ग सीईओ, दुबई केयर यूएई, श्री गोपीचंद हिंदुजा, सह अध्यक्ष हिंदुजा ग्रुप ऑफ कंपनीज और अध्यक्ष, हिंदुजा ऑटोमोटिव लिमिटेड, यूके, सुश्री शोभना भरतिया, अध्यक्ष और संपादकीय निदेशक हिन्दुस्तान टाइम्स मीडिया, भारत, डॉ. साइरस एस पूनावाला अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, श्री कुमार मंगलम बिरला चेयरमेन आदित्य बिड़ला समूह, भारत, श्री जयदेव एस श्रॉफ ग्लोबल सीईओ, यूपीएल लिमिटेड, भारत, अब्दुलअज़ीज़ अल गुरैर चेयरमेन, मशरिक बैंक, यूएई, श्री बी.के. गोयनका अध्यक्ष, वेलस्पन ग्रुप और अध्यक्ष एसोचैम, भारत, श्री सज्जन जिंदल अध्यक्ष जे.एस. डब्ल्यू ग्रुप, भारत, डॉ. निरंजन हीरानंदानी सह-संस्थापक और प्रबंध निदेशक हीरानंदानी समूह और राष्ट्रीय अध्यक्ष, नारेदको, शम्स सालेह सीईओ, दुबई महिला प्रतिष्ठान, यूएई, अलीशा मूपेन डिप्टी एमडी और सीईओ, एस्टर डीएम हेल्थकेयर, यूएई, नाडिया जाल सीईओ, अल बरारी और ज़या लिविंग, यूएई, डॉ. शेखा अल मस्करी मानद अध्यक्ष, अल मस्करी होल्डिंग, यूएई, श्री मधुसूदन अग्रवाल सह-संस्थापक और उपाध्यक्ष अजंता फार्मा लिमिटेड, भारत शामिल हैं।
प्रदेश में 8 औद्योगिक इकाइयों में 6013.90 करोड़ रुपये पूँजी निवेश सुनिश्चित
15 October 2019
राज्य शासन ने प्रदेश के रायसेन, धार और दमोह जिले में आठ नई औद्योगिक इकाइयों की स्थापना और दो औद्योगिक इकाइयों का विस्तार करने के लिये उद्योग संवर्धन नीति के अन्तर्गत सुविधाएँ देने का निर्णय लिया है। इन औद्योगिक इकाइयों के जरिये प्रदेश में 6013 करोड़ 90 लाख रूपये का पूँजी निवेश होगा। इन इकाइयों में से रायसेन जिले में दो, धार जिले में तीन तथा दमोह जिले में एक औद्योगिक इकाई स्थापित होगी। साथ ही, रायसेन जिले में दो औद्योगिक इकाइयों का विस्तार होगा।
उद्योग संवर्धन नीति के अंतर्गत रायसेन जिले की गौहरगंज तहसील के ग्राम सिमरई में 175 करोड़ रुपये के पूँजी निवेश से फर्मास्क्यूटिकल्स एवं हेल्थ केयर प्रोटेक्ट परियोजना और 300 करोड़ रुपये के पूँजी निवेश से पर्सनल केयर प्रोडक्ट परियोजना की स्थापना की जा रही है। धार जिले के पीथमपुर स्मार्ट इण्डस्ट्रियल पार्क में 1788 करोड़ 50 लाख रुपये के पूँजी निवेश से रेडियल टॉयर निर्माण इकाई, ग्राम करोंदिया में 425 करोड़ 40 लाख रुपये के पूँजी निवेश से सीमेंट विनिर्माण परियोजना और 225 करोड़ रुपये के स्थाई पूँजी निवेश से बायर राड विनिर्माण परियोजना की स्थापना की जा रही है। दमोह जिले में 1400 करोड़ रुपये के स्थाई पूँजी निवेश से 2.20 मिलियन टन प्रतिवर्ष क्षमता का इंटीग्रेटेड सीमेंट प्लांट स्थापित किया जा रहा है। इसके अलावा रायसेन जिले में मेसर्स प्रोक्टर एण्ड गेम्बल होम प्रोडक्ट प्रा.लि. की विद्यमान इकाई का 500 करोड़ रुपये के पूँजी निवेश से विस्तार किया जा रहा है। इसी के साथ मण्डीदीप में मेसर्स एचईजी लिमिटेड द्वारा 1200 करोड़ रुपये के पूँजी निवेश से परियोजना का विस्तार किया जा रहा है।
उद्योग संवर्धन नीति-2014 (यथा संशोधित 2018) में औद्योगिक इकाइयों को प्रथम चरण में भवन, प्लांट और मशीनरी पर स्थाई पूँजी निवेश पर 20 से 40 प्रतिशत तक प्रोत्साहन सहायता प्रदान की जायेगी। प्रोत्साहन सहायता राशि अधिकतम 200 करोड़ रुपये से अधिक नहीं होगी। रोजगार एवं निर्यात गणक का लाभ अलग से प्राप्त होगा।
औद्योगिक इकाई को वाणिज्यिक उत्पादन प्रारंभ करने के दिनांक से 5 से 7 वर्ष तक के लिये 5 रुपये प्रति यूनिट की दर से विद्युत उपलब्ध कराई जायेगी। विद्युत देयक की शेष राशि (यदि कोई हो) संबंधित विद्युत वितरण कम्पनी द्वारा एम.पी.आई.डी.सी. से प्राप्त की जा सकेगी। विद्युत शुल्क में 7 से 10 वर्ष तक के लिये छूट भी दी जायेगी।
मध्यप्रदेश के मूल निवासियों को औद्योगिक इकाई में रोजगार प्राप्त होने पर तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार विभाग द्वारा नेशनल स्किल्स क्वालिफिकेशन्स फ्रेम वर्क के एलाइड पाठ्यक्रमों में प्रशिक्षण की व्यवस्था की जायेगी।
सभी औद्योगिक इकाइयों को उद्योग संवर्धन नीति-2014 (यथा संशोधित 2019) के अंतर्गत प्रावधानित अन्य सुविधाओं का लाभ शर्तों के अध्याधीन प्राप्त होगा। औद्योगिक इकाइयों को लीज भूमि पर देय स्टाम्प शुल्क और पंजीयन शुल्क की प्रतिपूर्ति औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन विभाग द्वारा की जायेगी।
धार जिले के पीथमपुर स्मार्ट इण्डस्ट्रियल पार्क में रेडियल टॉयर निर्माण इकाई को आदेश दिनांक से 4 वर्ष के भीतर वाणिज्यिक उत्पादन प्रारंभ करने की शर्त पर उद्योग संवर्धन नीति के अंतर्गत सुविधाएँ प्रदान करने का निर्णय लिया गया है। शेष औद्योगिक इकाइयों के लिये वाणिज्यिक उत्पादन प्रारंभ करने की समय-सीमा 3 वर्ष निर्धारित की गई है।
धार िजले में सीमेंट विनिर्माण परियोजना, रायसेन जिले में मेसर्स एचईजी लिमिटेड मण्डीदीप की विस्तार परियोजना और दमोह जिले की हटा तहसील के ग्राम गेसावाद में इंटीग्रेटेड सीमेंट प्लांट में सड़क परिवहन तथा अन्य संबंधित सेवाओं के लिये मध्यप्रदेश राज्य में पंजीकृत वाहनों का उपयोग सुनिश्चित करना अनिवार्य किया गया है।
धार जिले में स्मार्ट इण्डस्ट्रियल पार्क, पीथमपुर में रेडियल टॉयर निर्माण इकाई को 100 एकड़ भूमि प्रचलित प्रीमियम के 25 प्रतिशत की दर पर आवंटित करने का निर्णय लिया गया है। कम्पनी से भूमि के लिये देय राशि 4 समान वार्षिक किश्तों में प्राप्त की जायेगी।
मध्यप्रदेश भू-संपदा नीति तथा मध्यप्रदेश इलेक्ट्रिक वाहन नीति 2019 अनुमोदित
15 October 2019
मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ की अध्यक्षता में आज मंत्रालय में हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में मध्यप्रदेश भू-संपदा नीति 2019 और मध्यप्रदेश इलेक्ट्रिक वाहन नीति-2019 को अनुमोदन प्रदान किया गया। इससे प्रदेश में नवीन निवेश आकर्षित किए जा सकेंगे। डिजिटल तकनीक के माध्यम से हितग्राहियों के कार्यो में बेहतर समन्वय तथा आवेदक मित्र व्यवस्था लागू करने का प्रयास किया गया है। इससे कार्य में स्पष्टता, पारदर्शिता और जवाबदेही स्थापित हो सकेगी।
अब 27 के स्थान पर 5 दस्तावेज होंगे मान्य
मध्यप्रदेश भू-संपदा नीति 2019 में नागरिकों, कॉलोनाईजर और निवेशक सभी के लिए प्रावधान किये गये हैं। नागरिकों को छोटे आवासों की तत्काल अनुमति, नुजूल एन.ओ.सी. के प्रावधानों को कम करने, राजस्व, टाउन एंड कट्री प्लानिंग और नगरीय निकायों के दस्तावेजों में सामन्जस्य, लैंड पुलिंग के माध्यम से अधिक भूमि की वापसी, पुरानी स्कीम के लिए पारदर्शी निर्णय की प्रक्रिया, बंधक संपत्ति को चरणों में रिलीज करने की व्यवस्था, 27 प्रकार के दस्तावेज कम कर 5 दस्तावेज आवश्यक करने संबंधी व्यवस्था की गई है। कॉलोनाईजर के लिए एक राज्य एक पंजीकरण, अवैध कॉलोनाईजेशन रोकने के लिए 2 हेक्टेयर की सीमा समाप्त करने, कॉलोनी के विकास और पूर्णता की तीन चरणों में अनुमति, ईडब्ल्यूएस निर्माण की अनिर्वायता से छूट जैसे प्रावधान किए गए हैं। इसी प्रकार निवेशकों के लिए राजस्व, प्लानिंग एरिया की सीमा पर फ्री एफ.ए.आर., ईडब्ल्यूएस/एलआईजी बनाने वाले निवेशकों को प्रोत्साहन जैसे कई प्रावधान भू-संपदा नीति में किए गए हैं।
मध्यप्रदेश इलेक्ट्रिक वाहन नीति 2019 को अनुमोदन
मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश इलेक्ट्रिक वाहन नीति 2019 को अनुमोदन प्रदान किया। शहरी सार्वजनिक परिवहन को सुदृढ़ बनाने और शहरों में बढ़ते वायु प्रदूषण को कम करने तथा गैर पेट्रोलियम वाहनों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इस नीति में चार्जिंग, अधोसंरचना विकास और इलेक्ट्रिक वाहन और उसके घटकों के निर्माण पर छूट का प्रावधान है। इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद पर मोटर व्हीकल टैक्स एवं रजिस्ट्रेशन टैक्स में शत-प्रतिशत रियायत प्रदान की जाएगी। प्रथम पाँच वर्षो में नगरीय निकायों के अधीनस्थ संचालित पार्किंग में शत-प्रतिशत रियायत का प्रावधान भी है। इसके साथ ही इंजीनियरों और टेक्नीशियनों को प्रशिक्षित कर नये रोजगार सृजित किए जाएंगे।
मध्यप्रदेश गौण खनिज नियम 1996 में संशोधन
मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश गौण खनिज नियम 1996 में संशोधन को अनुमोदन प्रदान किया। गौण खनिज आधारित न्यूनतम 25 करोड़ रूपये निवेश से नवीन उद्योग/विस्तार के प्रस्तावों पर दो करोड़ रूपए की बैंक गारंटी लेने पर सीधे उत्खननपट्टा आवंटन किया जाएगा। अनुसूची-एक में मेन्युफेक्चर्ड सेंड (एम-सैंड) के नाम से एक नये गौण खनिज को जोड़ा जा रहा है, जिसकी रायल्टी 50 रूपये प्रति घनमीटर प्रस्तावित की गई है। इस प्रावधान से स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर के साथ अतिरिक्त खनिज राजस्व भी प्राप्त होगा। ग्रेनाईट एवं अन्य आकारीय पत्थर की खदानों में अतिरिक्त मात्रा में निकलने वाले अनुपयोगी पत्थर (वेस्ट) के विक्रय की व्यवस्था नहीं है। इस पत्थर की माँग निर्माण सामग्री के लिए काफी है। अत: ऐसे अनुपयोगी पत्थर को गिट्टी/बोल्डर निर्माण के लिए अनुसूची-एक में अनुक्रमांक 9 पर जोड़ा जा रहा है, जिसकी रायल्टी 120 रूपये प्रति घनमीटर प्रस्तावित की गई है। इस प्रावधान से स्थानीय स्तर पर विभिन्न निर्माण कार्यो के लिए गौण खनिज सुगमता से उपलब्ध हो सकेगा।
अनुसूची-एक और दो के चार हेक्टेयर तक के क्षेत्र जिले के कलेक्टर/अपर कलेक्टर स्वीकृत कर सकेंगे। चार हेक्टेयर से अधिक पर 10 हेक्टेयर तक के क्षेत्र, संचालक भौमिकी तथा खनिकर्म स्वीकृत कर सकेंगे तथा राज्य शासन की पूर्व अनुमति से इन खनिजों के 250 हेक्टेयर तक के क्षेत्र संचालक स्वीकृत कर सकेंगे।
उद्यमियों और स्टार्टअप को प्रोत्साहन
मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश एमएसएमई विकास नीति 2019 को अनुमोदन प्रदान किया। इसके अन्तर्गत फार्मास्यूटिकल्स, टेक्सटाईल्स और पॉवरलूम जैसे चयनित सेक्टर्स के लिए रियायतों के विशेष पैकेज, यंत्र-संयत्र के साथ-साथ भवन पर भी अनुदान तथा महिला/अजा/अजजा उद्यमियों द्वारा संचालित ईकाइयों को अतिरिक्त अनुदान का प्रावधान किया गया है।
मंत्रि-परिषद ने 'मध्यप्रदेश स्टार्टअप नीति 2019' को अनुमोदन प्रदान किया। यह नीति एक अप्रेल 2020 से लागू की जाएगी। इससे इन्क्यूबेटर्स एवं स्टार्टअप को प्रदान की जाने वाली सुविधाओं में वृद्धि होगी। इससे नवाचार युक्त एवं नवीन प्रोडक्ट्स के साथ अपना स्टार्टअप स्थापित करने के इच्छुक प्रदेश के नव उद्यमी लाभान्वित होंगे।
बेड एन्ड ब्रेकफास्ट योजना अनुमोदित
मंत्रि-परिषद ने पर्यटन क्षेत्र में रोजगार के अवसर निर्मित करने और पर्यटकों को आवास सुविधा उपलब्ध कराने के लिए नवीन योजनाओं के प्रर्वतन के क्रम में मध्यप्रदेश बेड एण्ड ब्रेकफास्ट स्थापना योजना 2019 को अनुमोदन प्रदान किया। योजना का उद्देश्य देशी-विदेशी पर्यटकों को किफायती दरों पर आवास और नाश्ता/भोजन सुविधा प्रदाय करना, देशी-विदेशी पर्यटकों को भारतीय संस्कृति तथा आतिथ्य से परिचित कराना, नागरिकों को अपने आवास में उपलब्ध अतिरिक्त क्षमता से आय अर्जन और रोजगार सृजन के अवसर प्रदान करना, स्थानीय स्तर पर पर्यटकों के लिए आवासीय सुविधाओं का विकास एवं अभिवृद्धि तथा प्रदेश में निजी क्षेत्र के माध्यम से पर्यटक आवासीय सुविधाओं का विस्तार करना है।
अन्यनिर्णय
मंत्रि-परिषद ने स्मार्ट इण्डस्ट्रीयल पार्क पीथमपुर की जापानीज तथा सुदूर पूर्व एवं दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के निवेशकों के लिए आरक्षित कुल भूमि में से 72.77 हेक्टेयर भूमि को प्रदेश/देश के निवेशकों के लिए मल्टी प्रोडक्ट औद्योगिक क्षेत्र के रूप में अनारक्षित करने को अनुसमर्थन प्रदान किया।
अनुसूचित जाति वर्ग के संवैधानिक अधिकारों और प्रावधानों का सख्ती से पालन हो
27 September 2019
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि संविधान में अनुसूचित जाति वर्ग के लिए जो प्रावधान और अधिकार हैं, सभी शासकीय विभागों में उनका सख्ती से पालन किया जाए। उन्होंने कहा कि सलाहकार मंडल सार्थक हो और इसके जरिए अनुसूचित जाति वर्ग को लाभ पहुंचना सुनिश्चित हो। यह जिम्मेदारी हम सभी की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार की मंशा है कि यह बैठक नियमित रूप से हो। इसके सुझाव और सलाह पर अनुसूचित जाति वर्ग के हित में निर्णय हों। श्री कमल नाथ ने आज 6 साल बाद मंत्रालय में हुई अनुसूचित जाति सलाहकार मंडल की बैठक में यह बात कही। सलाहकार मंडल के सभी सदस्यों ने बैठक बुलाने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने ना सिर्फ बैठक बुलाई बल्कि समय-समय पर बैठक आयोजित करने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए हैं।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि विभागीय समीक्षा के दौरान उनके ध्यान में यह बात आई िक वर्ष 2013 से अनुसूचित जाति सलाहकार मंडल की कोई बैठक नहीं हुई। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह एक गंभीर चूक थी और आगे ऐसा न हो, यह सुनिश्चित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज की बैठक में सलाहकार मंडल की भूमिका और उसकी सार्थकता के साथ एक ऐसी व्यवस्था बने, जो अनुसूचित जाति के अधिकारों की रक्षा कर सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि संविधान, कानून और अनुसूचित जाति वर्ग के हितों का संरक्षण करने वाली योजनाओं का सख्ती से पालन हो। श्री कमल नाथ ने कहा कि अनुसूचित वर्गों को लाभ पहुंचाने में हम कहाँ असफल हो रहे हैं, इसके सुझाव भी मिलें, ताकि उन कमियों को दूर किया जा सके।
मुख्यमंत्री ने कहा कि यह चिंता का विषय है कि हमारी योजनाओं की क्रियान्वयन प्रक्रिया ठीक नहीं है। इसमें व्यापक सुधार करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि सलाहकार मंडल के सिस्टम में बदलाव होना चाहिए। बैठक के पूर्व सदस्यों के सुझाव प्राप्त किए जाएं। इन सुझावों पर संबंधित विभागों की टीप के साथ बैठक में चर्चा हो, जिससे उन पर निर्णय लिया जा सकें।
सलाहकार मंडल के उपाध्यक्ष एवं अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री श्री लखन घनघोरिया ने सफाई कर्मियों की भर्ती प्रक्रिया में सुधार लाने की आवश्यकता बताई। उन्होंने कम संख्या वाली अनुसूचित जाति के लोगों को जाति प्रमाण-पत्र मिलने में होने वाली असुविधाओं का निदान करने को कहा।
चिकित्सा शिक्षा एवं संस्कृति मंत्री डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ ने कहा कि विभिन्न विभागों में अनुसूचित जाति मूलक योजनाओं के लिए जो पैसा जाता है, वह उन्हीं वर्गों के कल्याण पर खर्च हो, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अनुसूचित वर्गों के बच्चों की शिक्षा में भी व्यापक सुधार लाने की आवश्यकता है। डॉ. साधौ ने अप्रसांगिक योजनाओं को बंद करने का सुझाव दिया।
लोक निर्माण मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि अनुसूचित जाति की बस्तियों के पर्यावरण में सुधार लाना चाहिए ताकि वे अच्छे वातावरण में जीवन यापन कर सकें। उन्होंने अनुसूचित जाति वर्ग के प्रकरणों के निराकरण के लिए त्वरित गति से कार्य करने की आवश्यकता बताई। श्री वर्मा ने कहा कि हमारा प्रयास होना चाहिए कि अनुसूचित जाति तथा अन्य वर्गों के बीच विवाद के प्रकरणों का निराकरण अदालतों की बजाय आपसी सामंजस्य और सद्भाव के साथ हो। ऐसी प्रक्रिया अपनाई जाना चाहिए। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने बैकलॉग के पदों पर तत्काल भर्ती करने का सुझाव दिया। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरीने हर जिले में ज्ञानोदय विद्यालय खोलने और शिक्षा में सुधार लाने का सुझाव दिया। महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवीने कहा कि अनाथ आश्रम में रहने वाले बच्चों का भी जाति प्रमाण-पत्र बनाया जाए। छात्रावासों में अनुसूचित जाति वर्ग के भोजन की राशि में वृद्धि की जाए और इन छात्रावासों में अनुसूचित जाति वर्ग के अधीक्षक ही पदस्थ किये जाएं।
विधायक श्री हरिशंकर खटीक, श्री हरि सिंह सप्रे, श्री कमलेश जाटव, श्रीमती रक्षा संतराम सरोनिया, श्री जसमंत जाटव, श्री जजपाल, श्री शिवदयाल बागरी, श्री सोहनलाल वाल्मीक, श्री महेश परमार, श्री रामलाल मालवीय एवं श्री मनोज चावला ने भी सुझाव दिए। बैठक में अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन श्री के.के. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री वी.के. सिंह और संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
दुर्घटनाएँ रोकने के लिये रफ्तार पर नियंत्रण जरूरी: विषय विशेषज्ञों की राय
27 September 2019
सहायक पुलिस महानिरीक्षक श्री कुमार सौरभ ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार वर्ष 2020 तक दुर्घटनाओं में 50 प्रतिशत कमी लाने का लक्ष्य है। इसके मद्देनजर कई तरह के सुरक्षा उपायउपयोग में लाये जा रहे हैं। इसी कड़ी में आज सभी जिलों को ब्रीथ एनालाईजर उपलब्ध कराये गये। साथ ही उपयोग विधि द्वारा इसका प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। श्री सौरभ ने कहा कि उपकरण का बेहतर ढ़ग से उपयोग हो ताकि अच्छे परिणाम सामने आयें। श्री सौरभ आज पुलिस प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान (पी.टी.आर.आई) में सड़क सुरक्षा क्रियान्वयन समिति के नोडल अधिकारियों एवं पुलिस कर्मियों के प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
एम.ए.एन.आई.टी. के प्रोफेसर और विषय विशेषज्ञ श्री राहुल तिवारी ने बताया कि दुर्घटनाएँ अधिकतर कन्‍फ्यूजन से होती हैं। उन्होंने कहा कि दुर्घटनाओं को रोकने के लिये रफ्तार पर नियंत्रण बहुत जरूरी है। दुर्घटना के समय जितनी ज्यादा स्पीड होती है, उतनी ज्यादा मृत्यु की संभावनाएँ बढ़ जाती हैं। दुर्घटनाओं को कम करने में रोड सेफ्टी के घटकों का महत्वपूर्ण योगदान रहता है। इसमें इंजीनियरिंग, इन्फोर्समेंट और एजुकेशन बहुत जरूरी है। इसके अलावा, दुर्घटना के बाद इमरजेंसी केयर की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है।
विशेषज्ञ श्री तिवारी ने बताया कि कई बार गलत साईन बोर्ड भी दुर्घटना के कारण बनते हैं। समय और स्थान पर आवश्यकता के अनुसार साईन बोर्ड का उपयोग किया जाना चाहिये। अधिकतर देखने में आता है कि दुर्घटना के समय लोग एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाने में व्यर्थ समय बर्बाद करते हैं और पीड़ित की सुध नहीं लेते। उन्होंने स्टॉपिंग साइट डिस्टेंस और ओवर टेकिंग साइट डिस्टेंस सहित ब्लैक स्पॉट और ब्लाइंड स्पॉट की जानकारी भी दी।
प्रशिक्षण में सहायक पुलिस महानिरीक्षक श्रीमती अनिता मालवीय और श्री प्रशांत शर्मा भी उपस्थित थे।
मंत्री श्री राठौर ने खेतों में पहुँचकर देखीं क्षतिग्रस्त फसलें
27 September 2019
वाणि‍ज्यिक कर मंत्री श्री बृजेन्द्र सिंह राठौर ने कहा है कि अति-वृष्टि से क्षतिग्रस्त फसलों का सर्वे कराकर प्रभावित किसानों को नियमानुसार पूरा मुआवजा दिया जायेगा। श्री राठौर ने आज निवाड़ी जिले में अतिवृष्टि से खराब हुई फसलों का खेतों में पहुँचकर निरीक्षण के दौरान किसानों को यह जानकारी दी।
मंत्री श्री राठौर ने ग्राम दुर्गापुर मौजा, विरौराखेत, राजापुर, मकारा, जुगराई एवं वासबान सहित अनेक ग्रामों में अधिकारियों और किसानों के साथ खेतों में जाकर फसलों को देखा।


कागजी कार्यवाही होती रहेगी, किसानों और बाढ़ प्रभावितों को तत्काल दी जाए राहत
23 September 2019
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि कागजी कार्रवाई होती रहेगी। किसानों और बाढ़ प्रभावितों को तत्काल राहत दी जाए। उन्होंने कहा कि समय-सीमा में सभी किसानों के खातों में राशि जमा हो जाना चाहिए। श्री कमल नाथ ने कहा कि हम किसानों के चेहरे पर मुस्कुराहट देखना चाहते हैं। राहत कार्यों में कोई भी अड़चन नहीं आने दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने आज मंदसौर जिले के ग्राम कायमपुर में बाढ़ प्रभावितों से चर्चा करते हुए यह बात कही। मुख्यमंत्री के साथ जिले के प्रभारी जल संसाधन मंत्री श्री हुकुम सिंह कराड़ा और विधायक श्री हरदीप सिंह डंग उपस्थित रहे।
मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि हमारी सरकार ने कार्य करने की संस्कृति को बदला है। उन्होंने कहा कि जब हमें सामने यह दिख रहा है कि खेत डूबे हुए हैं, मकान टूटे हुए हैं, तब हमें सर्वे का इंतजार किए बगैर प्रभावितों को तत्काल राहत पहुँचाना चाहिए। हमारी प्राथमिकता है जिन किसानों की फसल नष्ट हुई है, मकान टूट गए है, घर में रखा हुआ अनाज नष्ट हो गया है, यहाँ तक की बच्चों की कॉपी-किताब तक बाढ़ में बह गई है, उन्हें तत्काल राहत और मदद पहुँचाई जाए। उन्होंने कहा कि सरकार सभी के बारे में सोच रही है। हमनें तय किया है कि 15 अक्टूबर तक हर प्रभावित व्यक्ति के पास तक मदद पहुँच जाएगी।
मुख्यमंत्री ने किसानों और बाढ़ प्रभावितों को दी जाने वाली राहत का उल्लेख करते हुए कहा कि आरबीसी 6(4) के प्रावधानों के अनुसार हम सभी प्रभावित किसानों को 33 से 50 प्रतिशत तक की फसल को क्षति पहुँचने पर 8 हजार रुपए से लेकर 26 हजार रुपए तक प्रति हेक्टेयर और 50 प्रतिशत से अधिक फसल खराब होने पर 16 हजार से लेकर 30 हजार रुपए तक प्रति हेक्टेयर मुआवजा देंगे। उन्होंने कहा कि प्रभावितों को तत्काल 50 किलो नि:शुल्क अनाज और अगले 6 माह तक परिवार के एक सदस्य के मान से 5 किलो तक का खाद्यान्न उपलब्ध करवाया जाएगा। बच्चों को कॉपी-किताब भी दी जाएगी। क्षतिग्रस्त आवासों को एक लाख रुपए और बेघर हो गए लोगों को आवास निर्माण के लिए डेढ़ लाख रुपए तक की राशि सरकार देगी। इसके अलावा, प्रभावितों को बिजली बिलों में राहत दी जाएगी। नया सवेरा योजना के पात्र हितग्राहियों के तीन माह के 300 रुपए तक के बिजली बिल तथा अन्य प्रभावितों के 1000 रुपए तक की बिजली बिल राशि सरकार चुकाएगी। पशुओं के मृत होने पर पोस्टमार्टम की अनिवार्यता समाप्त कर पात्रता के अनुसार 3 हजार रुपए से लेकर 30 हजार रुपए तक की सहायता दी जाएगी। रबी फसलों के लिए बीज उपलब्ध करवाया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने बताया कि मंदसौर जिले में 40 हजार 530 किसानों के 392 करोड़ रुपए के फसल ऋण माफ हुए है। फसल बीमा योजना में मंदसौर के 1 लाख 261 किसानों ने फसल बीमा करवाया है। बीमा की दावा राशि तत्काल किसानों को मिलेगी।
मुख्यमंत्री ने ग्राम कायमपुर के कृषक तोलाराम, खातून बी, रामकन्या बाई, गोपाल, बहादुर सिंह, श्यामलाल, मिट्ठू सिंह, त्रिलोक कुमार, आशीष, रमेशचंद्र, रामदयाल, विनोद, जसवंत सिंह, मोहन लाल, कन्हैया लाल एवं गुमान सिंह को राहत राशि वितरित की।
बाढ़ पीड़ित चिंतित न हों, सरकार पूरी मदद देगी
23 September 2019
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने आज मंदसौर जिले के बाढ़ प्रभावित गाँव पायाखेड़ी और बेटिखेड़ी का दौरा किया। श्री कमल नाथ ने बाढ़ प्रभावितों से कहा कि वे चिंतित न हों, सरकार उनके साथ है और उन्हें पूरी मदद दी जाएगी। श्री नाथ ने इस मौके पर बाढ़ पीड़ितों को बचाते हुए अपने प्राणों का बलिदान करने वाले स्वर्गीय शहजाद मंसूरी के परिवार को चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की।
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने सुवासरा तहसील के ग्राम पायाखेड़ी और बेटिखेड़ी पहुँचकर नष्ट हुई फसलों, क्षतिग्रस्त मकानों के साथ हुए अन्य नुकसानों को देखा। मुख्यमंत्री ने प्रभावितों से चर्चा भी की। मुख्यमंत्री ने प्रभावितों से कहा कि सरकार उनके साथ है, उनके हर नुकसान की भरपाई की जाएगी। जिला प्रशासन को बाढ़ से हुए नुकसान का सर्वे करने के निर्देश दे दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने किसानों को बताया कि राहत पहुँचाने का कार्य शुरू कर दिया गया है। सभी प्रभावितों को 15 अक्टूबर तक राहत पहुँचा दी जाएगी।
मुख्यमंत्री ने बाढ़ पीड़ितों से कहा कि अधिकारियों को फसलों का वास्तविक आकलन करने और सर्वे कार्य ईमानदारी के साथ समय-सीमा में करने के निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने स्व. शहजाद मंसूरी के परिवार को सांत्वना प्रदान करते हुए कहा कि उन्हें हर संभव मदद सरकार देगी।
मुख्यमंत्री के साथ जिले के प्रभारी जल संसाधन मंत्री श्री हुकुम सिंह कराड़ा, विधायक श्री हरदीप सिंह डंग, पूर्व सांसद सुश्री मीनाक्षी नटराजन और संभाग तथा जिले के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

अति-वृष्टि प्रभावित गरीब बस्तियों में पहुँचे जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा
20 September 2019
भोपाल.जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने अति-वृष्टि प्रभावित पंचशील नगर, राहुल नगर और अंबेडकर नगर जाकर जल-भराव की स्थिति और जल-निकासी व्यवस्था का निरीक्षण किया। स्थानीय रहवासियों की शिकायतों और समस्याओं को भी सुना तथा उनके निराकरण के निर्देश अधिकारियों को दिये।
मंत्री श्री शर्मा ने बस्तीवासियों को बताया कि अति-वृष्टि और बाढ़ प्रभावित लोगों को राहत देने के लिये राज्य सरकार लगातार काम कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रभावितों कों सभी सम्भव सहायता और राहत दी जा रही है। जनसम्पर्क मंत्री के साथ पार्षद श्री योगेन्द्र सिंह चौहान, श्री अमित शर्मा, श्री प्रवीण सक्सेना और अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।

केन्द्रीय मोटरयान अधिनियम में जुर्माना प्रावधानों का होगा युक्तियुक्तकरण : मंत्री श्री राजपूत
18 September 2019
राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत ने आज मंत्रालय में केन्द्रीय मोटरयान अधिनियम 1988 के प्रावधानों की समीक्षा की। श्री राजपूत ने कहा कि राज्य शासन द्वारा नागरिकों के हित में जुर्माना राशि का युक्तियुक्तकरण किया जाएगा। नियम तोड़ने वालों से उचित सीमा तक जुर्माना भी वसूला जाएगा।
बैठक में प्रमुख सचिव परिवहन श्री एस.एन. मिश्रा और परिवहन आयुक्त डॉ. शैलेन्द्र श्रीवास्तव सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


अतिवृष्टि से खराब हुई सड़कों को सुधारने की कार्यवाही करें: प्रमुख सचिव गृह श्री मिश्रा
15 September 2019
प्रमुख सचिव गृह श्री एस.एन. मिश्रा ने निर्देश दिये हैं कि प्रदेश में अतिवृष्टि के कारण बड़ी-छोटी नदियों के पुल-पुलियों से पानी उतरने पर खराब हुई सड़कों को सुधारने की कार्यवाही सड़क निर्माण एजेन्सी द्वारा शुरू की जाये। सुरक्षा की दृष्टि से पुल-पुलिया को भी बारीकियों से देख लिया जाये कि वो क्षतिग्रस्त नहीं हुई हो। पुल-पुलियों के क्षतिग्रस्त होने या उनमें दरार आने पर आवश्यक सुधार कार्य तत्काल कराये जायें। श्री मिश्रा ने आज मंत्रालय में राज्य सड़क सुरक्षा क्रियान्वयन समिति की बैठक में यह निर्देश दिये।
प्रमुख सचिव श्री मिश्रा ने कहा कि यातायात नियमों के उल्लंघन के मामलों में ड्रायविंग लायसेंस निलम्बन की कार्रवाई के लिये लायसेंस नम्बर के साथ पूरी सूची परिवहन विभाग को उपलब्ध करायें। यह कार्यवाही पूरे प्रदेश में की जाये। बताया गया कि इस वर्ष अभी तक लगभग 5726 ड्रायविंग लायसेंस निलम्बित किये गये हैं। पहले 6 माह में 306 फिटनेस निलम्बन और 408 ओव्हर लोडिंग वाहन के विरुद्ध कार्यवाही की गई है। श्री मिश्रा ने कहा कि एक स्थान पर दो या दो से अधिक दुर्घटना होने पर कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, जिला परिवहन अधिकारी और लोक निर्माण विभाग के अधिकारी आवश्यक रूप से स्थल निरीक्षण करें। बताया गया कि स्कूली बच्चों की सुरक्षा के लिये स्कूल बस पॉलिसी भी बनाई गई है।
प्रमुख सचिव ने निर्देश दिये कि 20 से 25 प्रतिशत दुर्घटनाओं वाले जिलों में दुर्घटना रोकने के लिये विशेष प्रयास किये जायें। श्री मिश्रा ने लीड एजेन्सी में नोडल अधिकारियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने को कहा। बताया गया कि प्रदेश में 44 स्थानों पर ट्रॉमा सेन्टर बनाये गये हैं। जिला चिकित्सालयों को भी ट्रॉमा सेन्टर के रूप में उपयोग किया जा रहा है। प्रमुख सचिव ने एम्बुलेंसो को दो चरणों में एकीकृत/केन्द्रीयकृत करने के निर्देश दिये।
बैठक में विशेष पुलिस महानिदेशक श्री महान भारत सागर और परिवहन आयुक्त श्री शैलेन्द्र श्रीवास्तव उपस्थित थे।
अत्यधिक वर्षा को देखते हुए सभी जिलों में आपदा से निपटने की पूरी तैयारी
15 September 2019
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ के निर्देश पर वर्षा प्रभावित जिलों में जान-माल की रक्षा और बचाव के काम युद्ध-स्तर पर तेज कर दिए गए हैं। जिला प्रशासन ने चौबीसों घंटे मुस्तैद रहते हुए आपदा से निपटने की पूरी तैयारी कर ली है। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव राजस्व एवं संबंधित जिले के कलेक्टर से सतत् संपर्क रखकर बाढ़ की स्थिति की जानकारी ली और आवश्यक निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री श्री नाथ के निर्देश पर वर्षा से प्रभावित 36 जिलों में बचाव और राहत के काम तत्काल शुरु किए गए हैं। राज्य आपदा मोचक बल (एसडीआरएफ) और राष्ट्रीय आपदा मोचक बल (एनडीआरएफ) के साथ स्थानीय जिला प्रशासन को सक्रिय किया गया है। प्रभावित क्षेत्र में 255 जिला आपदा रिस्पांस सेंटर और 51 आपात ऑपरेशन सेंटर खोले गए हैं, जो 24 घंटे निरंतर काम कर रहे हैं। एसडीआरएफ के 100 और होमगार्ड के 600 प्रशिक्षित जवान बचाव कार्य में लगाये गए हैं। एनडीआरएफ के 210 तथा 15 हजार होमगार्ड और पुलिस के जवान राहत और बचाव कार्यों में तैनात किए गए हैं।
45 हजार को सुरक्षित स्थान पर पहुँचाया गया है
राज्य-स्तर पर स्थापित आपदा नियंत्रण कक्ष 24 घंटे बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के निगरानी कर रहा है और उन्हें आवश्यक मदद उपलब्ध करवा रहा है। सेना को भी सतर्क किया गया है और जहाँ भी आवश्यकता होगी, तत्काल यह सहायता प्रभावितों की मदद के लिए उपलब्ध करवाई जाएगी। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से 45 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाया गया है। स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के लिए विशेष दल बनाये गए हैं और प्रभावित क्षेत्रों में उनके अस्थायी कैंप लगाए गए हैं। राज्य में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 150 राहत शिविरों में लोगों को पहुँचाया गया है। बाढ़ प्रभावित जिलों को 100 करोड़ रुपये की सहायता दी गई है ताकि प्रभावितों के रहने, खाने तथा अन्य नुकसान की भरपाई की जा सके। आपदा और बचाव कार्य पर 325 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। राज्य सरकार ने भारी बारिश के कारण हुए नुकसान के लिए भारत सरकार से तत्काल प्रारम्भिक आंकलन के लिए अध्ययन दल भेजने को कहा है। राज्य सरकार के आग्रह पर केन्द्र से इंटर मिनिस्ट्रीयल सेंटर टीम शीघ्र भेजने का आश्वासन मिला है।
बाढ़ प्रभावित जिलों में राहत और बचाव के कार्य युद्ध-स्तर पर शुरु
अतिवृष्टि से प्रभावित मंदसौर, रतलाम, आगर-मालवा, शाजापुर, भिंड, श्योपुर, नीमच, दमोह, रायसेन, और अशोकनगर जिले में प्रभावितों के लिए राहत और बचाव के कार्य युद्ध-स्तर पर शुरु किए गए है।
मंदसौर- मंदसौर में बाढ़ के कारण 12 हजार 800 लोग प्रभावित हुए हैं। इनमें से 10 हजार लोगों को राहत कैम्प में ठहराया गया है। पूरे जिले में 53 राहत कैम्प स्थापित किए गए हैं। शिविरों में कपड़ों,सोने और भोजन की पूरी व्यवस्था की गई है। स्वयंसेवी संस्थाएँ और नागरिक जिला प्रशासन के साथ सहयोग कर रहे हैं। आवागमन ठप्प हो जाने से मार्ग में फंसे 470 लोगों को राहत शिविरों में ठहराया गया है, जहाँ उन्हें सोने और भोजन आदि की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। प्रभावित क्षेत्रों के रहवासियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाया गया है। गाँधीसागर बाँध के आसपास के गाँवों को खाली करवा लिया गया है। मदद के लिए मोबाइल नं. 7587969401 पर कोई भी व्यक्ति फोन करके सहायता प्राप्त कर सकता है। होमगार्ड के सैनिक नाव और बोट से निरंतर निगरानी रख रहे हैं।
रतलाम- रतलाम जिले में अतिवृष्टि के हालातों से निपटने के लिए जिला प्रशासन द्वारा एनडीआरएफ की मदद से लोगों को बचाने का काम मुस्तैदी से किया गया। बाजना विकासखंड के ग्राम भड़ानखुर्द के ग्रामीणों को सुरक्षित कैम्पों में पहुँचाया गया है। इसी तरह, ग्राम रोला के 250 ग्रामीणों को पड़ोस के ग्राम रिंगनोद में शिफ्ट किया गया है। ग्राम रणायरागुर्जर के 300 नागरिकों को विभिन्न शासकीय भवनों में सुरक्षित पहुँचाया गया है, जहाँ उनके भोजन, रहने आदि की व्यवस्था की गई थी। रणायरागुर्जर में बाढ़ में फंसे मांगीलाल तथा सावत्रीबाई को एनडीआरएफ की टीम ने बचाकर राहत शिविर पहुँचाया है। पिपलौदा में भी 4 व्यक्तियों को स्थानीय पुलिस और ग्रामीणों की मदद से बचाया गया है।
आगर-मालवा- भारी वर्षा के कारण आगर-मालवा की कंठाल नदी में जलस्तर बढ़ने से नगरीय क्षेत्र सोयत में लोगों के घरों में पानी भर गया है। जिला प्रशासन ने तत्काल पुलिस-होमगार्ड और एनडीआरएफ की टीम के साथ बचाव कार्य शुरु किया और 750 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाया गया। उनके खाने-पीने, सोने आदि की व्यवस्था राहत शिविरों में की गई। जो नागरिक अपने घरों में बाढ़ के कारण फंसे हुए हैं, उन लोगों को खाने-पीने तथा अन्य जरूरी सामान बोट द्वारा पहुँचाया गया। बाढ़ के कारण दुकानों और घरों को जो नुकसान पहुँचा है, उसके लिए चार सदस्यीय टीम गठित की गई है, जिन्होंने सर्वे का काम शुरू कर दिया है। जल जनित बीमारियों की रोकथाम के लिए विशेष स्वास्थ्य दल गठित किए गए हैं, जो शिविर लगाकर लोगों को उपचार उपलब्ध करवा रहे हैं।
शाजापुर -शाजापुरजिले में बाढ़ प्रभावितों को सुरक्षित स्थान पर पहुँचाने के लिए शासकीय भवनों में राहत-शिविर खोले गये हैं। प्रभावित क्षेत्रों पर निगरानी रखी जा रही है और किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए पूरे इंतजाम किए गए हैं।
मुरैना संभाग - पार्वती और चंबल नदी में बाढ़ से निपटने के लिए जिला प्रशासन द्वारा युद्ध-स्तर पर बचाव कार्य शुरु कर दिया गया है। श्योपुर जिले में बाढ़ में फंसे 12 गाँव के लोगों को राहत शिविरों में पहुँचाया गया है। एक व्यक्ति जो बाढ़ में फंस गया था, उसे भी सुरक्षित निकाला गया है। जिले के नदियों के समीप बसे 15 गाँव, जो नदियों के किनारे बसे हैं, उनसे सतत् संपर्क रखा जा रहा है। साथ ही सेना भी बुला ली गई है। भिंड जिले में बाढ़ से निपटने के लिए आर्मी लॉ वन कॉलम दल को अटेर में तैनात किया गया है। जो लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचा रहे हैं। भिंड जिले के ग्राम कोसड़ में स्थापित राहत शिविरों में लोगों को पहुँचाया गया है। मुरैना-भिंड और श्योपुर जिले में राहत और बचाव कार्य के लिए 50 एसएएफ, 10 एसडीआरएफ और होमगार्ड के जवान तैनात किए गए हैं। पशुओं के इलाज के लिए भी चिकित्सकों को सेवा में लगाया गया है।
दमोह- दमोह जिले में आज सुबह से बचाव के लिए तैनात टीम लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाने का काम कर रही है। राहत शिविरों में पूरे इंतजाम किए गए हैं।
रायसेन- रायसेन जिले में बाढ़ के कारण हुए नुकसान पर सर्वे शुरु कर दिया गया है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने जिले के प्रभावित गांव कायमपुर और निनोद गाँव में पहुँचकर बाढ़ प्रभावितों से मुलाकात कर उन्हें आश्वस्त किया कि सरकार हर संभव मदद करेगी।
अशोकनगर- अशोक नगर जिले में बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में फसलों, मकानों तथा अन्य नुकसानों के प्रारंभिक आंकलन का कार्य शुरु कर दिया है। आंकलन के बाद सभी प्रभावितों को आरबीसी 6-4 के तहत सहायता उपलब्ध करवायी जाएगी।

मंत्री श्री शर्मा ने शुरू की टोल-फ्री 8982464232 नंबर नागरिक सेवा
15 September 2019
भोपाल.जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने आज दक्षिण-पश्चिम विधानसभा क्षेत्र के नागरिकों के लिये टोल-फ्री नम्बर सेवा शुरू की। श्री शर्मा ने अपने निवास पर नागरिकों को टोल-फ्री नंबर 8982464232 देते हुए एक कार्ड भी वितरित किया, जिसमें नागरिकों की हर समस्या और शिकायतों के बारे में उल्लेख है। उन्होंने नागरिकों से कहा कि प्रदेश में राज्य सरकार अब 'आपकी सरकार-आपके द्वार' योजना के बाद 'आपकी सरकार-आपके टेलीफोन पर' भी उपलब्ध है।
मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि नागरिकों को अपनी समस्याओं के बारे में इधर-उधर भटकने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। वे सीधे टोल-फ्री नंबर पर अपनी समस्या की जानकारी दे सकेंगे। उन्होंने कहा कि टोल-फ्री नंबर पर प्राप्त समस्याओं का निराकरण होने के बाद संबंधित नागरिक को इसकी जानकारी भी दी जायेगी। श्री शर्मा ने कहा कि टोल-फ्री नंबर और जानकारी वाला कार्ड नागरिकों को घर-घर पहुँचाया जायेगा।
जनसम्पर्क मंत्री द्वारा नागरिकों को वितरित कार्ड में पेयजल, सीवेज, स्ट्रीट लाईट, बिजली, सड़क, साफ-सफाई की समस्या का उल्लेख है। साथ ही जनोपयोगी दस्तावेज जन्म-मृत्यु प्रमाण-पत्र, राशन कार्ड, गरीब रेखा कार्ड, चिकित्सा सहायता अनुदान, शिक्षा अनुदान और वृद्धावस्था तथा कल्याणी पेंशन योजना संबंधी समस्याओं का निराकरण भी इस टोल-फ्री नंबर पर संभव होगा।

भारी बारिश से जान-माल और फसल नुकसान का प्रारंभिक आकलन करें
12 September 2019
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने सभी जिला कलेक्टर्स को भारी बारिश से जान-माल और फसल के नुकसान का प्रारंभिक आकलन करने के निर्देश दिए हैं ताकि बिना किसी विलम्ब के क्षतिपूर्ति राशि दी जा सके। उन्होंने रबी फसलों के लिए खाद की आवश्यकता का आकलन करने के भी निर्देश दिए। आज यहाँ मंत्रालय में जनाधिकार कार्यक्रम में वीडियों कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से कलेक्टर्स से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कलेक्टर्स से कहा कि किसानों की ऋण माफी के संबंध में प्राथमिक रिपोर्ट भिजवायें। हर जिले में ऋण-माफी से संबंधित समस्या का स्वरूप अलग-अलग है। उन्होंने बिजली बिलों को लेकर आने वाली शिकायतों पर भी विशेष ध्यान देने के निर्देश देते हुए कहा कि आम उपभोक्ताओं की शिकायतें अत्यधिक बिल आने से संबंधित हैं। आपकी सरकार-आपके द्वार कार्यक्रम में ऐसे प्रकरणों का समाधान प्राथमिकता के साथ करें। उन्होंने कलेक्टरों से कहा कि वे अपने जिलों में जवाबदेही का वातावरण बनायें।
वनाधिकार के अस्वीकृत प्रकरणों का निराकरण स्वविवेक से करें
मुख्यमंत्री ने वनाधिकार अधिनियम के अंतर्गत तकनीकी कारणों से अस्वीकृत किए गए प्रकरणों की तत्काल समीक्षा कर सकारात्मक निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि तकनीकी कमियों को लेकर से पात्र परिवार वनाधिकार पट्टों से वंचित नहीं रहने चाहिए। कलेक्टर अपने विवेक से भी तकनीकी कमियों को दूर कर सकते हैं। तकनीकी कमियों के कारण अस्वीकृत प्रकरणों में कलेक्टर की जवाबदेही तय की जायेगी। उन्होंने कहा कि आदिवासी परिवारों से सबूत लाने पर जोर देने से बेहतर है कि स्वविवेक से उनकी मदद करें ताकि उनके प्रकरणों का सकारात्मक निराकण हो सके।
बारिश के बाद सड़कों की मरम्मत तत्काल शुरू करें
मुख्यमंत्री ने बारिश खत्म होते ही खराब हुई सड़कों की मरम्मत प्राथमिकता के साथ शुरू कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि 20 सितम्बर से काम शुरू कर दें और 20 नवम्बर तक इसे पूरा कर लें।
श्री कमल नाथ ने गौ-शालाएँ खोलने और उन्हें संचालित करने के इच्छुक लोगों के आग्रह को देखते हुए कलेक्टरों से कहा कि इस काम को प्रोत्साहित करें। सभी जिलों में ऐसी संस्थाएँ ओर लोग सामने आ रहे हैं जो गौ-शालाएँ खोलना चाहते हैं। आगे बढ़कर उनकी मदद करें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 181 में शिकायतों का संतुष्टिपूर्वक निराकरण करने में जिन अधिकारियों का खराब प्रदर्शन रहा है उनकी सूची बनायें।
मुख्यमंत्री ने कई हितग्राहियों के प्रकरणों का समाधान किया। उन्होंने दमोह के श्री विवेक तोमर, धार के श्री रेवाराम पाटीदार, राजगढ़ की श्रीमती रायला बाई, सागर के श्री घनश्याम अहिरवार, सतना के श्री राम नरेश साहू, अनूपपुर के श्री अजय बैगा, बैतूल के श्री हनुवंत कुशवाहा के प्रकरणों का निराकरण किया और आवश्यक निर्देश दिये।

नर्स और पैरामेडिकल स्टॉफ के पद शीघ्र भरे जायेंगे : मंत्री डॉ. साधौ
9 September 2019
चिकित्सा शिक्षा एवं आयुष मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ ने कहा है कि संजय गांधी हास्पिटल तथा सुपर स्पेशियालिटी हास्पिटल से विन्ध्य क्षेत्र के लोगों को उपचार की बेहतर सेवाएँ मिलेंगी। इनमें नर्स और पैरामेडिकल पदों पर शीघ्र भर्ती की जायेगी। डॉ. साधौ ने रीवा मेडिकल कॉलेज की सामान्य सभा की बैठक में यह बात कही। उन्होंने अधूरे निर्माण कार्य 15 अक्टूबर तक पूरा करने के निर्देश दिये।
मंत्री डॉ. साधौ ने बताया कि सुपर स्पेशियालिटी हास्पिटल में डाक्टरों को भत्ते के रूप में एम्स से अच्छा पैकेज दिया जा रहा है। उन्होंने मेडिकल रिसर्च कार्य पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि संजय गांधी हास्पिटल की ओ.पी.डी. में प्रतिदिन लगभग 2000 मरीज आते हैं। डॉ. साधौ ने कैंसर और सी.टी. स्केन यूनिट्स के बारे में प्राप्त शिकायतों की जाँच कर दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा।
चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने ब्लड बैंक, पैथोलॉजी, गांधी मेमोरियल हास्पिटल के जीर्णोद्धार, आयुष्मान योजना, बर्न यूनिट और निर्माण कार्यों की समीक्षा की। बैठक में सांसद श्री जनार्दन मिश्र और विधायक श्री दिव्यराज सिंह भी उपस्थित थे।
भोपाल, रायसेन के शहरी क्षेत्रों के 35,000 स्कूली बच्चों को आधुनिक किचन से मध्यान्ह भोजन
9 September 2019
भोपाल और रायसेन जिले के शहरी क्षेत्रों के 35,000 विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण मध्यान्ह भोजन उपलब्ध कराने के लिये मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ की उपस्थिति में आज यहाँ मंत्रालय में एच.ई.जी.लि. मंडीदीप और अक्षयपात्र फाउंडेशन तथा भोपाल एवं रायसेन जिला पंचायतों के बीच एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर हुए। अक्षयपात्र फाउंडेशन अत्याधुनिक किचन स्थापित करेगा और भोपाल एवं रायसेन के शहरी क्षेत्रों की शालाओं में मध्यान्ह भोजन पहुँचायेगा।
अत्याधुनिक किचन स्थापित करने के लिये एलएनजे भीलवाड़ा ग्रुप के चैयरमेन श्री रवि झुनझुनवाला ने एच.ई.जी.लि. मंडीदीप की ओर से सामाजिक दायित्व निभाते हुए अक्षय पात्र फाउंडेशन को 7.30 करोड़ रुपए की अनुदान राशि प्रदान की है।
मुख्यमंत्री ने अक्षय पात्र फाउंडेशन द्वारा बच्चों को भोजन देने के कार्य को नेक काम बताते हुए इस प्रयास की प्रशंसा की और अन्य जिलों में भी इसके विस्तार की संभावनाएँ तलाशने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने इस नेक काम में सहयोग देने के लिये एच.ई.जी. ग्रुप की सराहना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि भोजन की कमी या अनुपलबधता के कारण शिक्षा में कमी आना या शिक्षा छूट जाना अप्रिय स्थिति है। राज्य सरकार प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिये प्रतिबद्ध है।
एच.ई.जी.लि. की ओर से अध्यक्ष श्री रवि झुनझुनवाला, सी.ओ.ओ. श्री मनीष गुलाटी और अक्षयपात्र फाउंडेशन की ओर से इसके उपाध्यक्ष श्री चंचलपति दास ने एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर किए। भोपाल जिला पंचायत की ओर से मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री सतीश कुमार एस. एवं रायसेन जिला पंचायत की ओर से मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अभि प्रसाद ने हस्ताक्षर किए।
उल्लेखनीय है कि अक्षय पात्र फाउंडेशन देश के 12 राज्यों की शासकीय शालाओं में 17.7 लाख बच्चों को मिड-डे मील कार्यक्रम के माध्यम से गुणवत्तापूर्ण भोजन पहुँचा रहा है। इसका लक्ष्य 50 लाख बच्चों को भोजन पहुँचाना है। यह काम 43 अत्याधुनिक किचन और वितरण के लिये विशेष वाहनों के माध्यम से किया जा रहा है।
इस अवसर पर अक्षयपात्र फाउंडेशन की ओर से मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ का सम्मान किया गया। ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक वर्णवाल, भोपाल कलेक्टर श्री तरूण पिथौड़े एवं वरिष्ठ अधिकारी, अक्षयपात्र फाउंडेशन की ओर से संचालक श्री भरताश्रभ दास तथा सलाहकार श्री रवीन्द्र चमेरिया उपस्थित थे।
स्व-रोजगार योजनाओं से 3,434 बेरोजगार बने व्यवसायी
4 September 2019
प्रदेश में इस वर्ष मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना और मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना से 3 हजार 434 बेरोजगार स्वावलंबी बने हैं। इन्हें परियोजना लागत पर कुल 116 करोड़ 35 लाख रूपये की अनुदान राशि प्रदान की गई है। इन्हें 3 करोड़ 14 लाख रूपये की अनुदान सहायता भी दी गई है। मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में 2,671 हितग्राही लाभान्वित हुए। इन्हें कुल 3 करोड़ 38 लाख अनुदान सहायता दी गई। मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना में 763 हिताग्राहियों को एक करोड़ 9 लाख रूपये अनुदान सहायता देकर व्यवसाय उन्नयन का लाभ दिया गया।
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में परियोजना लागत का न्यूनतम 50 हजार और अधिकतम 10 लाख तक राशि उद्यमियों को दी जाती है। कढ़ाई, वस्त्र बुनाई, बाँस शिल्प, काष्ठ शिल्प, वस्त्रों पर हाथ से छपाई, बर्तन उद्योग, कागज के थैले और लिफाफे बनाना, खेल का सामान, पत्थर शिल्प, संगमरमर की कलाकृतियाँ बनाने की इकाइयों के उन्नयन के लिए सहायता दी जाती है। मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना में शिल्प कार्य से संबंधित गतिविधियों में शिल्पियों को उद्यम की स्थापना और उपकरण खरीदने के लिए कार्यशील पूंजी के रूप में अधिकतम 50 हजार की परियोजना लागत पर अनुदान दिया जाता है। छिन्दवाड़ा में बने वस्त्रों का महानगरों में विक्रय करने के लिए सर्वे
छिन्दवाड़ा जिले में सौंसर के हाथकरघा वस्त्रों की बाजार में मांग को देखते हुए संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प और हाथकरघा विकास निगम ने पहल शुरू की है। राजधानी भोपाल सहित देश के पाँच बड़े नगर मुम्बई, दिल्ली, चेन्नई और बैंगलुरू में सौंसर के वस्त्रों के विक्रय के लिये सर्वे किया जा रहा है। हाथकरघा संचालनालय ने सौंसर के पारम्परिक वस्त्रों की मांग में वृद्धि के लिए नवीन उत्पादन विकास के लिए सात लाख रूपये की राशि स्वीकृत की है। छिन्दवाड़ा के वस्त्रों में उत्पादन विविधता, अद्यतन डिजाइन, आकर्षक रंग संयोजन के प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य सरकार का प्रयास है कि बुनकरों को निरन्तर रोजगार मिले और उनकी आय बढ़े। इस उद्देश्य से उन्हें पारम्परिक साड़ी, सूट, क्लाथ, ड्रेस मटेरियल तक सीमित न रखते हुए विभिन्न पेटर्न में कार्य के लिए प्रेरित किया जा रहा है। बाजार के ट्रेड के अनुसार बुनकरों द्वारा टसर और कॉटन शर्ट तथा अन्य ट्रेड के अनुसार उत्पाद तैयार करवाने की पहल की गई है। मृगनयनी एम्पोरियम नए उत्पादों की बिक्री में विशेष सहयोगी होंगे।
आदिवासी वर्ग को आर्थिक बोझ से बचाने शुरू हुई मदद योजना
4 September 2019
राज्य सरकार ने आदिवासी वर्ग के परिवारों को जन्म एवं मृत्यु के अनिवार्य सामाजिक संस्कारों में आर्थिक सहायता देने के लिये 89 आदिवासी विकासखण्ड में 'मदद योजना' शुरू की है। प्रारम्भिक तौर पर झाबुआ जिले के राणापुर और झाबुआ विकासखण्ड के कुल 222 गाँव को योजना के क्रियान्वयन के लिये 55 लाख 50 हजार रूपये की राशि आवंटित की गई है। इसमें से प्रतिग्राम 25 हजार रूपये के मान से झाबुआ विकासखण्ड के 127 ग्रामों के लिये 31 लाख 75 हजार और राणापुर विकासखण्ड के 95 ग्रामों के लिये 23 लाख 75 हजार रूपये की राशि आवंटित की गयी है।
योजना में आदिवासी विकासखण्ड में आदिवासी परिवार को जन्म के समय 50 किलोग्राम गेहूँ अथवा चावल और परिवार में मृत्यु होने पर 100 किलोग्राम अनाज नि:शुल्क उपलब्ध कराया जायेगा।
सिवनी जिले में शिक्षक बने मेरा विद्यालय-मेरा देवालय मनोवृत्ति के संवाहक
2 September 2019
सिवनी जिले के आदिवासी विकासखण्ड घंसौर के शासकीय हाईस्कूल कटिया के शिक्षकों ने ''मेरी शाला-मेरी जिम्मेदारी'' भावना को आत्मसात कर लिया है। यहाँ के शिक्षक अपनी शाला को देव-स्थान मानते हैं। उन्होंने ''मेरा विद्यालय-मेरा देवालय'' की मनोवृत्ति अपनाकर शाला परिसर की साफ-सफाई की जिम्मेदारी ले ली है। प्राचार्य श्री एस.के.बोपचे के निर्देशन में शाला के शिक्षक प्रतिदिन का चार्ट बनाकर परिसर की सफाई के साथ शौचालय की सफाई भी करते हैं। प्राचार्य भी सोमवार को शाला की सफाई करते हैं।
अब इस हाई स्कूल का परिसर और कक्षाएँ साफ-सुथरी और व्यवस्थित रहती हैं। इससे यहाँ पढ़ रहे बच्चे भी स्वच्छता में सहभागी हो गये हैं। इसी तरह प्राथमिक शाला कुर्मी ठेलमाल भी साफ-सफाई की मिसाल बन गई है। यहाँ के 60 वर्षीय शिक्षक चुरामन सिंह मार्को बीमारी के कारण खड़े होने में असमर्थ हैं। फिर भी अपनी शाला की स्वयं रोजाना साफ-सफाई करते हैं।
तंवर समाज बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाये : मंत्री श्री पी.सी. शर्मा
1 September 2019
जनसम्पर्क, विधि-विधायी, ससंदीय कार्य, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री श्री पी.सी. शर्मा तथा नगरीय विकास एवं आवास तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह आज राजगढ़ में बाबा रामदेव जन्मोत्सव समारोह में सम्मिलित हुए।
जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने कहा कि तंवर समाज स्वाभिमानी समाज है। समाज अपने बच्चों की शिक्षा पर विशेष ध्यान दें। राज्य शासन ने पिछड़ा वर्ग के लिये 27 प्रतिशत आरक्षण दिया हैं। उन्होंने कहा कि बाबा रामदेव के मूल स्थान की यात्रा के लिए मध्यप्रदेश सरकार द्वारा 05 सितम्बर को तीर्थ यात्रा ट्रेन भेजी जा रही है, जिसमें बुजुर्ग निःशुल्क यात्रा करें। उन्होंने कहा कि समाज बाबा रामदेव के इतिहास पर आधारित सामग्री को संकलित कर उपलब्ध करायें, जिसे जनसम्पर्क विभाग के माध्यम से एक पुस्तक के रूप में प्रकाशित करने में मदद की जायेगी। उन्होंने कहा कि नर्मदा परिक्रमा मार्ग की तर्ज पर बाबा रामदेव जन्मस्थान यात्रा मार्ग पर यात्री निवास बनवाये जा सकते हैं।
नगरीय विकास मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह ने कहा कि तंवर समाज संगठित होकर विकास करें। हम आपके साथ है। उन्होंने कहा कि जिले के कालीपीठ में गौ-शाला खोली गई है। उन्होंने कहा कि राजगढ़ जिले में सोयाबीन, मक्का की खराब फसलों का सर्वे कराया जा रहा है। तंवर समाज के पिछड़ा वर्ग छात्रावास के लिये प्रयास करेंगे। बाबा रामदेव यात्रा मार्ग में सामुदायिक भवन बनवाने का भी प्रयास किया जाएगा। मंत्री द्वय ने बाबा रामदेव के भण्डारे की प्रसादी भी ग्रहण की। संचालन विधायक श्री बापू सिंह तंवर ने किया।
ग्राम खजुरिया जोड़ में यात्री प्रतीक्षालय का भूमि-पूजन
मंत्री द्वय ने ब्यावरा तहसील के ग्राम खजुरिया जोड़, नरसिंहगढ़ रोड पर यात्री प्रतीक्षालय एवं तोरण द्वार का शिलान्यास किया। कार्यक्रम में हितग्राहियों को नया सवेरा योजना में 02-02 लाख की राशि के चेक वितरित किये गये। मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह ने कहा कि प्रतीक्षालय का शिलान्यास ग्रामीणों को मूलभूत सुविधाएँ उपलब्ध करवाने का एक प्रयास है।
मंत्री द्वय ने बाबा रामदेव के चित्र पर माल्यार्पण कर उपस्थित जन-समुदाय को सम्बोधित किया। विधायक श्री गोवर्धन दांगी, श्री बापू सिंह तंवर, सांसद श्री रोडमल नागर, पूर्व सांसद श्री नारायण सिंह आमलाबे, पूर्व विधायक श्री रघुनदंन शर्मा, अमर सिंह यादव, श्री रामचन्द्र दांगी, तंवर समाज अध्यक्ष श्री तखत सिंह, श्रीमती मोना सुस्तानी सहित बड़ी संख्या में तंवर समाज बन्धु उपस्थित रहे।
आदिवासी छात्र-छात्राओं को बेहतर शिक्षा के सभी जरूरी इंतजाम होंगे
1 September 2019
आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार सिंह मरकाम ने कहा है कि प्रदेश में आदिवासी छात्र-छात्राओं को बेहतर ‍‍शिक्षा देने के सभी आवश्यक इंतजाम सुनिश्चित किये जायेंगे। उन्होंने आदिवासी शालाओं में पदस्थ शिक्षकों से समर्पण भाव से कार्य करने का आग्रह किया। मंत्री श्री मरकाम जबलपुर में संभागीय बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। बैठक में विभाग के संभागीय अधिकारी, शालाओं के प्राचार्य और शिक्षक मौजूद थे।
मंत्री श्री मरकाम ने कहा कि आश्रम और छात्रावासों में इंटरनेट समेत सभी आधुनिक संचार सुविधाएँ उपलब्ध करवाई जा रही हैं। उन्होंने अधीक्षकों और शाला प्रभारियों से कहा कि वे शैक्षणिक संस्थाओं में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें। उन्होंने शैक्षणिक कैलेण्डर के अनुरूप पाठ्यक्रम, खेल-कूद और सांस्कृतिक गतिविधियाँ संचालित करने के निर्देश दिये। मंत्री श्री मरकाम ने आदिवासी क्षेत्रों के सभी निर्माण कार्य समय-सीमा में पूरे किये जाने के लिये कहा।
स्वर्ण पदक प्राप्त सुश्री रागिनी का किया सम्मान
मंत्री श्री मरकाम ने स्पेन के मेड्रिड में विश्व तीरंदाजी युवा चेम्पियनशिप 2019 में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाली सुश्री रागिनी मार्को का सम्मान किया। उन्होंने सम्मान स्वरूप विभाग की ओर से सोने की चेन, पेन और कॉपी भेंट की। सुश्री मार्को जबलपुर के विकासखण्ड कुण्डम के ग्राम छपरा करौंदी की निवासी हैं।
खाद्य-पदार्थों में मिलावट के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही की जाए : मुख्य सचिव श्री मोहंती
30 August 2019
मुख्य सचिव श्री एस.आर. मोहन्ती ने कहा है कि खाद्य-पदार्थों में मिलावटखोरी मानव जीवन और स्वास्थ्य के प्रति जघन्य अपराध से कम नहीं है। मध्यप्रदेश को मिलावट-मुक्त प्रदेश बनाने की दिशा में खाद्य और पेय पदार्थों में मिलावट करने वालों के विरूद्ध नियमित रूप से प्रभावी कार्यवाही की जाए। मुख्य सचिव ने यह निर्देश जबलपुर संभाग के कलेक्टर और वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक में संभागीय समीक्षा के दौरान दिए।
श्री मोहंती ने आरसीएमएस में दर्ज राजस्व प्रकरणों को अभियान चलाकर निराकृत करने तथा ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रीष्म काल में पेयजल का संकट उत्पन्न न हो, इसकी कार्ययोजना अभी से तैयार करने के निर्देश भी दिए। मुख्य सचिव ने जिलों में वर्षा और अतिवृष्टि-राहत तथा फसलों की स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में आपदा-प्रबंधन के उपायों के चलते अतिवृष्टि और बाढ़ से ज्यादा क्षति नहीं हुई है। सभी कलेक्टर खरीफ फसलों की समर्थन मूल्य पर खरीदी की आवश्यक तैयारियाँ अभी से पूर्ण कर लें। उन्होंने कहा कि खरीफ और रबी की समर्थन मूल्य पर खरीदी में किसी भी स्थिति में नान एफएक्यू जिन्स की खरीदी नहीं की जानी चाहिए।
मुख्य सचिव ने आरसीएमएस पर दर्ज राजस्व प्रकरणों के जिलेवार पंजीयन और निराकरण की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि आगामी 3 माह के भीतर पंजीकृत होने वाले राजस्व प्रकरणों की तुलना में अधिकाधिक संख्या में प्रतिमाह निराकरण भी दर्ज हो। उन्होंने जिलेवार खरीफ फसलों की बोनी, खाद-बीज की उपलब्धता और वितरण तथा रबी फसल के लिये अग्रिम खाद भण्डारण के बारे में भी जानकारी ली।
मुख्य सचिव ने विभिन्न जिलों में वनाधिकार के पट्टों के अमान्य दावों और शासन के निर्देशानुसार अमान्य दावों के ऑनलाईन पुनर्सत्यापन कार्य की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि कोई भी पात्र हितग्राही वनाधिकार से वंचित नहीं रहना चाहिये। वनमित्र सॉफ्टवेयर द्वारा अमान्य दावों के सत्यापन और हितग्राहियों के दावे के साक्ष्य के लिये संबंधित क्षेत्र और ग्राम सभाओं में व्यापक प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाये। मुख्य सचिव ने मुख्यमंत्री कार्यालय से प्राप्त सीएम मॉनिट के प्रकरणों के निराकरण की भी समीक्षा की।
मुख्य सचिव ने कहा कि आगामी माह के त्यौहारों के मद्देनजर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक समन्वित रूप से कानून-व्यवस्था की स्थिति को मजबूत रखें। वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी अपना इन्फॉरमेशन नेटवर्क भी मजबूत बनाये रखें।
मुख्य सचिव ने संभाग के प्रत्येक जिले में रेत के अवैध उत्खनन, परिवहन, भण्डारण के विरुद्ध की गई कार्यवाही की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि रेत के अवैध उत्खनन व परिवहन पर सख्त कार्यवाही की जाये।
सांसद श्री तन्खा ने सौंपा जबलपुर का विजन डाक्यूमेंट सौंपा गया राज्य सभा सदस्य श्री विवेक कृष्ण तन्खा ने मुख्य सचिव को जबलपुर के चहुँमुखी विकास का "विजन डाक्यूमेंट" सौंपा।

रेरा म.प्र. में सूचना संचार तकनीकी के उपयोग के अच्छे परिणाम मिले
30 August 2019
मध्यप्रदेश रियल एस्टेट रेग्युलरिटी अथॉरिटी (रेरा) के चेयरमेन श्री अन्टोनी डिसा ने कहा कि मध्यप्रदेश में रेरा की कार्य-प्रणाली में सूचना संचार तकनीकी (आई.सी.टी.) के उपयोग अच्छे परिणाम सामने आये हैं। उन्होंने कहा कि इस तकनीकी का प्रभावी उपयोग के व्यवसाय प्रक्रिया सुधार के साथ संचालित हुआ है। उन्होंने कहा कि सूचना संचार तकनीकी का रेरा में उपयोग अभी भी 'कार्य प्रगति पर है' के स्तर पर है, जिसे और अधिक लचीला बनाये जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अभी भी इसमें कुछ कमियाँ है, जैसे पीडीएफ फार्मेट सर्टिफिकेट, पेमेन्ट पोर्टल का एकीकृत नहीं होना, जिन्हें निर्धारित किया जाने की जरूरत महसूस हुई है। श्री डिसा आज नई दिल्ली में आई.आई.एम.टी. के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में मध्यप्रदेश में रेरा एक्ट के क्रियान्वयन में (आई.सी.टी.) सूचना संचार तकनीकी के उपयोग पर प्रेजेन्टेशन दे रहे थे।
श्री डिसा ने कहा कि मध्यप्रदेश रेरा में सूचना संचार तकनीकी (आईसीटी) के उपयोग ने न केवल उद्देश्य को पूर्ण किया है बल्कि वह उससे भी आगे बढ़ा है। उन्होंने कहा कि रेरा के कार्यों में आईसीटी के उपयोग को बढ़ावा देने के लिये देश में सबसे पहले मध्यप्रदेश रेरा ने एक सॉफ्टवेयर विकसित किया। वर्तमान में देश के अनेक राज्यों की रेरा अथॉरिटी के साफ्टवेयर इसी पर बेस्ड है। म.प्र. रेरा इस सॉफ्टवेयर में निरंतर सुधार कर रहा है। उन्होंने एक मोबाइल एप विकसित किये जाने की आवश्यकता भी बताई।
श्री डिसा ने म.प्र. रेरा में आईसीटी के उपयोग की सफलता के पीछे राजनैतिक इच्छा शक्ति, आईसीटी क्षमता निर्माण, ई-उपार्जन में आईसीटी के उपयोग के अनुभव को मिली जनस्वीकृति और व्यावसायिक सुधार प्रक्रिया के साथ समन्वय को प्रमुख कारक बताया। श्री डिसा ने कहा कि मध्यप्रदेश रेरा में उपयोग किया जा रहा एम.पी. वेब एप्लीकेशन मुख्यत: परियोजना, सम्प्रवर्तक, एजेंटस और आवंटियों के इर्द-गिर्द बनाया गया है। यह यूजर फ्रेडंली होने के साथ ही द्विभाषी भी है अर्थात् इस पर हिन्दी और अंग्रेजी दोनों में कार्य किया जा सकता है। प्रदेश रेरा में सभी एप्लीकेशन वर्तमान में ऑनलाइन प्राप्त किये जा रहे हैं। साथ ही इस पर सभी तरह का कार्य व्यवहार 'ट्रेक' किया जा सकता है।
रेरा अध्यक्ष श्री डिसा ने कहा कि मध्यप्रदेश रेरा में आईसीटी के उपयोग के जो फौरी परिणाम प्राप्त हुए हैं उनमें प्रमुखत: प्रबंधन सूचना तंत्र (एमआईएस) का जनरेशन और डाटाबेस की आसानी से उपलब्धता है। यह तकनीकी समग्र में प्राधिकरण के कार्यों में सुधार लाने और रीयल एस्टेट सेक्टर में व्यावसायिक दक्षता बढ़ाने में मददगार हो रही है। श्री डिसा ने अपने प्रेजेन्टेशन में बताया कि रेरा के प्रशासन में आईसीटी के उपयोग में कुल मिलाकर क्षमता(गति, गुणवत्ता, मूल्य), पारदर्शिता (समय पर सूचना की प्राप्ति) और कारण, जिम्मेदारी बोध और भ्रष्टाचार में कमी ( व्यक्तिगत या आमने-सामने के सम्पर्क को न्यूनतम करना) शामिल है।
श्री अन्टोनी डिसा ने कहा कि रियल एस्टेट (रेग्युलेशन एन्ड डेव्हलपमेन्ट) एक्ट 2016 के सेक्शन 4(3) और सेक्शन 34 ( बी), (सी) और ( डी) में कार्य सम्पादन में आईसीटी (सूचना संचार तकनीकी) के उपयोग का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि इन प्रावधानों का अर्थ ही रियल एस्टेट प्रोजेक्टस के पंजीयन और पर्यवेक्षण, रियल एस्टेट एजेन्टस को लायसेंस प्रदाय और उपभोक्ताओं की शिकायतों के निराकरण में आईसीटी का उपयोग है। जिसे मध्यप्रदेश में सफलता से किया जा रहा है। श्री डिसा ने प्रेजेन्टेशन में वर्तमान में म.प्र. रेरा में रियल एस्टेट परियोजनाओं ऑनलाइन पंजीयन, पंजीकृत प्रकरण में उपभोक्ताओं को राहत, शिकायतों के समाधान में आई.सी.टी. के उपयोग के आँकड़ों को भी दर्शाया।

राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जायेगा सितम्बर माह
30 August 2019
प्रदेश में राष्ट्रीय पोषण अभियान में इस वर्ष भी सितंबर माह राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जायेगा। 1 से 30 सितम्बर तक मनाये जाने वाले पोषण माह की टैग लाईन 'हर घर पोषण का त्यौहार' रखी गयी है। पूरे माह राज्य, जिला, विकासखण्ड और आँगनवाड़ी स्तर पर पोषण जागरूकता एवं इसे जन-आंदोलन का रूप देने विभिन्न कार्यक्रम होंगे।
राष्ट्रीय पोषण माह का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य एवं पोषण आवश्यकता के प्रति जागरूकता, गर्भावस्था जाँच और पोषण देखभाल, शीघ्र स्तनपान व्यवहार, सही समय पर ऊपरी आहार और निरन्तरता आदि पर प्रचार-प्रसार कर समुदाय को जागरूक करना है। इसके अतिरिक्त एनीमिया या शरीर में खून की कमी को दूर करने के लिये आयरन सेवन एवं खाद्य विविधता संबंधित उपायों तथा पाँच वर्ष तक के बच्चों की शारीरिक वृद्धि निगरानी, किशोरी-शिक्षा, पोषण शिक्षा का अधिकार, सही उम्र में विवाह, सफाई और स्वच्छता की गतिविधियों के माध्यम से पोषण विषय को जन-आन्दोलन का रूप देना है।
पोषण माह के सफल आयोजन में महिला-बाल विकास विभाग के साथ-साथ नगरीय प्रशासन एवं विकास, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, स्कूल शिक्षा, खाद्य-नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन, उच्च शिक्षा, दूरदर्शन एवं रेडियो, आकाशवाणी तथा डेव्हलपमेंट पार्टनर्स (यूनिसेफ, जीआईजेड डब्ल्यू. डब्ल्यू. एच CHAI, पीरामल फाउन्डेशन, एन.आई. ACF, न्यूट्रीशन बोर्ड, ल्यूपिन) आदि सहभागी होंगे।
पोषण माह में होने वाली सभी गतिविधियों की जानकारी केन्द्र सरकार के पोर्टल पर अपडेट की जाएगी तथा वेबसाइट के माध्यम से इसकी रोजाना समीक्षा भी होगी।

हर वर्ष ग्रामीण प्रतिभाओं को निखारने के लिये होगा म.प्र. ओलम्पिक
17 August 2019
ग्रामीण खेल प्रतिभाओं को न अच्छा अवसर मिलता है, अच्छी अधोसंरचना, बेहतर कोचिंग व्यवस्था और प्रशिक्षक नहीं मिल पाता है। यही कारण है कि इन प्रतिभाओं को वो सम्मान नहीं मिल पाता है, जिनके वे हकदार हैं। अब इन ग्रामीण प्रतिभाओं को निखारने के लिये हर वर्ष मध्यप्रदेश ओलम्पिक का आयोजन होगा। खेल मंत्री श्री जीतू पटवारी से आज शिवपुरी जिले के ग्राम नरवर के ग्रामीण धावक रामेश्वर गुर्जर ने मुलाकात की।
खेल मंत्री ने कहा कि ग्रामीण प्रतिभाओं को म.प्र. ओलम्पिक के माध्यम से चयन कर खेल अकादमी में चयन होगा। साथ ही स्कूल शिक्षा विभाग से समन्वय कर अब स्कूली खेल प्रतियोगिताओं में भी टेलेंट हंट कर खिलाड़ियों को चिन्हित किया जायेगा। श्री पटवारी ने कहा कि ग्रामीण प्रतिभाओं को अवसर प्रदान करना हमारा कर्तव्य है और हम हर संभव मदद के लिये कटिबद्ध हैं।
खेल मंत्री श्री पटवारी ने केन्द्रीय खेल मंत्री श्री किरण रिजीजू का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने मध्यप्रदेश में खेल सुविधाओं के अधोसंरचना विकास परियोजनाओं के लिये 80 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करने की स्वीकृति दी है। श्री पटवारी ने केन्द्रीय खेल मंत्री श्री रिजीजू को रामेश्वर गुर्जर को अवसर देने की बात पर साधुवाद देते हुए कहा कि अच्छी व्यवस्था को आगे बढ़ाने में श्री रिजीजू हर संभव सहयोग करेंगे।
शिवपुरी जिले में रामेश्वर गुर्जर ने नगर पंचायत में नंगे पैर 100 मीटर रेस 11 सेकेण्ड में तय की थी। खेल मंत्री ने रामेश्वर को भोपाल आमंत्रित किया था। रामेश्वर गुर्जर कहते हैं कि खेल मंत्री से मिलकर उनके मन में खेल के प्रति असीम ऊर्जा का संचार हुआ है। अब उसे एक मौका भर मिल जाये, तो किसी भी रेस में प्रदेश और देश का नाम जरूर रोशन करेगा।

भगवान महाकाल मंदिर के विकास और विस्तार की 300 करोड़ की योजना शुरु होगी
17 August 2019
भगवान महाकाल के दर्शन करने उज्जैन आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए 300 करोड़ की योजना शुरु होगी। महाकाल मंदिर के विस्तार और व्यवस्थाओं में सुधार के लिए मंत्रिमंडल के सदस्य मंत्रियों की एक त्रिस्तरीय सदस्य समिति गठित होगी। इसके साथ ही महाकाल मंदिर के अधिनियम में संशोधन का प्रस्ताव भी केबिनेट में लाया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ की अध्यक्षता में यह निर्देश आज मंत्रालय में भगवान महाकाल मंदिर की व्यवस्थाओं में सुधार और सुविधाओं के विस्तार पर हुई बैठक में दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि योजना समय-सीमा आधारित हो जिसमें काम शुरु होने से लेकर उसके पूरे होने तक का समय निर्धारित हो। श्री नाथ ने कहा कि इसकी मॉनिटरिंग मुख्य सचिव करेंगे।
महाकाल मंदिर के कारण मध्यप्रदेश की विश्व में पहचान
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने बैठक में कहा कि भगवान महाकाल के कारण पूरे विश्व में मध्यप्रदेश की पहचान है। करोड़ों श्रद्धालुओं की आस्था के इस केन्द्र का सुनियोजित विकास किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि श्रद्धालु सिर्फ दर्शन करने के लिए नहीं आए बल्कि उज्जैन में ऐसी व्यवस्थाएँ हो जिसके कारण वह एक-दो दिन रूके इसमें महाकाल मंदिर से जुड़ी पौराणिक गाथाएं तथा अन्य आकर्षण शामिल है। इससे उज्जैन शहर और यहाँ के रहवासियों का भी विकास होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि विस्तार और व्यवस्था में सुधार के दौरान महाकाल मंदिर में मूल ढांचे के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए।
मंत्रियों की त्रिस्तरीय समिति
मुख्यमंत्री श्री नाथ के निर्देश पर गठित मंत्रियों की त्रिस्तरीय समिति में उज्जैन जिले के प्रभारी एवं लोकनिर्माण मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा, आध्यात्म विभाग के मंत्री श्री पी.सी. शर्मा एवं नगरीय निकाय मंत्री श्री जयवर्धन सिंह सदस्य होंगे। यह कमेटी महाकाल मंदिर की व्यवस्थाओं से जुड़े लोगों, जन-प्रतिनिधियों से चर्चा कर विकास और विस्तार के संबंध में आवश्यक निर्णय लेगी। मुख्यमंत्री ने समिति को निर्देशित किया कि अगले तीन दिन में यह बैठक हो। उन्होंने महाकाल मंदिर एक्ट में संशोधन का प्रस्ताव भी इसी माह मंत्रिमंडल से अनुमोदित करवाने और 30 सितम्बर तक महाकाल मंदिर के विकास की योजना को अंतिम रूप देकर काम शुरु करने के निर्देश दिए।
महाकाल मंदिर विकास योजना
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ के समक्ष प्रस्तुत महाकाल मंदिर के विकास और विस्तार योजना में बताया गया कि यात्रियों की सुविधाओं को बढ़ाने के साथ ही प्रवेश और निर्गम, फ्रंटियर यार्ड, नंदी हाल का विस्तार, महाकाल थीम पार्क, महाकाल कॉरिडोर,वर्केज लॉन पार्किंग आदि का विकास और निर्माण होगा। द्वितीय चरण में महाराज बाड़ा, काम्पलेक्स, कुंभ संग्रहालय, महाकाल से जुड़ी विभिन्न कथाओं का प्रदर्शन, अन्नक्षेत्र, धर्मशाला, रुद्रसागर की लैंड स्केपिंग, रामघाट मार्ग का सौंदर्यीकरण, पर्यटन सूचना केन्द्र, रुद्र सागर झील का पुनर्जीवन, हरि फाटक पुल, यात्री सुविधाओं एवं अन्य सुविधाओं का निर्माण भी विस्तार किया जाएगा।
मध्यप्रदेश के इतिहास में पहली बार किसी मुख्यमंत्री ने महाकाल मंदिर की व्यवस्थाओं की सुध ली
बैठक में महाकाल मंदिर के पुजारी श्री आशीष पुजारी ने प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश के इतिहास में पहली बार है जब किसी मुख्यमंत्री ने महाकाल मंदिर के विकास और व्यवस्थाओं में सुधार के लिए मंत्रालय में बैठक की है। उन्होंने इसके लिए पुजारियों और श्रद्धालुओं की ओर से मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ को धन्यवाद दिया।
महाकाल मंदिर के पुजारियों ने मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ को शाल-श्रीफल देकर सम्मानित किया और उन्हें भगवान महाकाल का प्रसाद दिया
बैठक में लोक निर्माण एवं उज्जैन जिले के प्रभारी मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा, आध्यात्म एवं जनसंपर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा, नगरीय विकास मंत्री श्री जयवर्धन सिंह उज्जैन जिले के विधायक श्री मनोज चावला, श्री महेश परमार, श्री मुरली मोरवाल जनपद अध्यक्ष श्री अजीत, महाकाल प्रबंधन समिति के सदस्य श्री आशीष पुजारी श्री विजय शंकर एवं श्री दीपक मित्तल उपस्थित थे।

खेल मंत्री श्री पटवारी ने ग्रामीण धावक रामेश्वर को बुलाया भोपाल
13 August 2019
खेल मंत्री श्री जीतू पटवारी शिवपुरी जिले के ग्राम नर्वर निवासी 19 वर्षीय युवा रामेश्वर गुर्जर को नगर पंचायत में नंगे पैर 100 मीटर रेस 11 सेकेण्ड में तय करता देख बहुत प्रभावित हुए। श्री पटवारी ने रामेश्वर को भोपाल आमंत्रित करते हुए कहा कि ऐसी प्रतिभा को बेहतर खेल सुविधा, अच्छे शूज और प्रशिक्षण दिया जाए, तो वह 100 मीटर की दूरी 9 सेकेण्ड में ही तय कर सकता है। खेल मंत्री ने रामेश्वर की तरह उभरती ग्रामीण खेल प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करने के लिये हरसंभव सहयोग का भरोसा दिलाया।
रामेश्वर गुर्जर ने 10 वीं कक्षा तक पढ़ाई की है। इसके परिवार में माता-पिता और पाँच भाई-बहन हैं। पूरा परिवार खेती-किसानी करता है। रामेश्वर ने परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण आगे पढ़ाई नहीं की। मंत्री श्री जीतू पटवारी की ओर से आमंत्रण पाकर रामेश्वर के मन में खेल के प्रति असीम ऊर्जा का संचार हुआ है। अब कह रहा है कि उसे एक मौका भर मिल जाये, तो किसी भी रेस में प्रदेश और देश का नाम जरूर रोशन करेगा।

राज्य संग्रहालय में 22 अगस्त तक " स्वाधीनता आन्दोलन 1920-1947 " प्रदर्शनी
13 August 2019
राज्य संग्रहालय, श्यामला हिल्स, भोपाल में 14 से 22 अगस्त तक 'स्वाधीनता आन्दोलन 1920-1947 ' प्रदर्शनी लगायी जायेगी। संस्कृति मंत्री डॉ.विजयलक्ष्मी साधौ 14 अगस्त को दोपहर 12.00 बजे प्रदर्शनी का उद्घाटन करेंगी।
प्रदर्शनी में असहयोग आन्दोलन (1920), सविनय अवज्ञा आन्दोलन (1930) एवं भारत छोड़ो आन्दोलन (1942) से संबंधित महत्वपूर्ण ऐतिहासिक एवं दुर्लभ अभिलेख एवं छायाचित्र प्रदर्शित किये जायेंगे। आम जनता के लिये प्रदर्शनी सुबह 10.30 से शाम 05.30 बजे तक खुली रहेगी। प्रदर्शनी में प्रवेश नि:शुल्क है।

भगवान महाकाल की भस्मारती में शामिल हुए मंत्री श्री शर्मा
5 August 2019
धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री श्री पी.सी. शर्मा आज सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उज्जैन में भगवान महाकालेश्वर की भस्मारती में शामिल हुए। उन्होंने बाबा महाकाल का अभिषेक किया और प्रदेश की सुख-समृद्धि की कामना की। श्री शर्मा ने नागचंद्रेश्वर भगवान के दर्शन भी किये।
मध्यप्रदेश पर्यटन क्विज-2019 का पहला चरण 7 अगस्त को
5 August 2019
मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा प्रदेश के समस्त शासकीय एंव अशासकीय स्कूलों के 9 वीं से 12 वीं कक्षा तक अध्ययनरत बच्चों के लिये दो चरण में 'मध्यप्रदेश पर्यटन क्विज -2019' आयोजित की जा रही है। इसका टाइटल 'प्रश्नों के सही उत्तर बताओ-हिन्दुस्तान का दिल घूमकर आओ' है। क्विज का पहला चरण जिला स्तरों पर 7 अगस्त को और दूसरा चरण राज्य स्तर पर 5 सितम्बर को होगा। प्रथम चरण में चयनित 6 टीम के बीच द्वितीय चरण में आडियो, विजुअल/मल्टी-मीडिया आधारित क्विज होगा। इसमें प्रथम स्थान प्राप्त प्रतिभागी विद्यालय राज्य स्तर पर सहभागिता करेंगे।
मध्यप्रदेश पर्यटन क्विज का उद्देश्य स्कूली छात्रा-छात्राओं को प्रदेश के समृद्ध इतिहास, परम्पराओं, ऐतिहासिक धरोहर, सांस्कृतिक रंगों, कला, प्राकृतिक समृद्धि, महापुरूषों, पर्यटन महत्व की संभावनाओं से परिचित कराना तथा उनमें सीखने की प्रक्रिया विकसित करना है। क्विज के दोनों चरण में मध्यप्रदेश के पर्यटन एवं उससे संबंधित परिक्षेत्र, कला, अध्यात्म, प्राकृतिक एवं सांस्कृतिक परिवेश से संबंधित प्रश्न होंगे।
जिला स्तरीय क्विज में कलेक्टर, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, पर्यटन के प्रमोशन/संवर्धन के लिये गठित डिस्ट्रिक्ट टूरिज्म प्रमोशन काउंसिल के प्रतिनिधि, जिला शिक्षा अधिकारी एवं शिक्षा विभाग से एक क्विज मास्टर का सहयोग और समन्वय रहेगा।
प्रत्येक जिले की प्रथम 3 विजेता टीम को 2 रात 3 दिन तथा 3 उप-विजेता टीम को एक रात दो दिन मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम के होटलों में ठहरने के कूपन दिये जाएंगे। संबंधित पर्यटन स्थल तक लाना-ले-जाना, भोजन, रुकना, स्थानीय भ्रमण आदि का व्यय मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड वहन करेगा।

व्यापम की कार्य-प्रणाली की समीक्षा करेगी मंत्रि-परिषद समिति
23 July 2019
राज्य शासन ने व्यापम (प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड) की कार्य-प्रणाली और उसके विकल्पों की समीक्षा के लिए मंत्रि-परिषद समिति का गठन किया है। समिति एक माह में अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत करेगी।
समिति में मंत्री श्री बाला बच्चन, श्री तुलसीराम सिलावट, श्री प्रियव्रत सिंह, श्री पी.सी.शर्मा और श्री तरूण भनोत सदस्य बनाये गये हैं।
प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार समिति के संयोजक होंगे। समिति बोर्ड की वर्तमान कार्य-प्रणाली, बोर्ड द्वारा संचालित कार्यो के निष्पादन के लिए संभावित विकल्प और कोई अन्य विषय, जो बोर्ड के कार्यों से संबंधित हों, पर विचार करेगी।

घर के पास से मिली अगवा मासूम की जली हुई लाश, IG मौके पर
16 July 2019
भोपाल। कोलार इलाके से रविवार शाम को अगवा हुए तीन साल के वरूण की जली हुई लाश उसके घर के पास से ही मिली है। जिस मकान से बच्चे का जला हुआ शव बरामद हुआ है। वो काफी सालों से बंद था। मकान के पीछे के हिस्से का दरवाजा खोलकर अंदर शव को जलाया गया है। इस मामले में पुलिस को बड़ी लापरवाही सामने आई है। जिस दिन बच्चा अगवा हुआ था। पुलिस ने घर के सामने के मकान की ठीक से तलाशी नहीं ली थी। शुरुआती जांच में बच्चे के साथ दुष्कर्म की भी आशंका जताई जा रही है।
बच्चे का शव मिलने के बाद आईजी योगेश देशमुख के साथ ही भोपाल डीआईजी इरशाद वली मौके पर पहुंचे हैं और जांच से जुड़ी जानकारी ले रहे हैं। वहीं डॉग स्क्वॉड भी मौके पर पहुंच गया है। जिस घर के अंदर से बच्चे का शव जली हुई हालत में मिला है। उसके बाहर पैर के निशान भी मिले हैं। ऐसे में पुलिस उस सिरे को पकड़कर अपनी तलाश आगे बढ़ा रही है। इस बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी ट्वीट करके हत्या पर अफसोस जताया है। उन्होंने साफ कर दिया है कि बच्चे के हत्यारे को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।
बता दें कि रविवार शाम सात बजे वरूण टॉफी लेने गया था। उसके बाद से ही वो घर नहीं लौटा था। इस दौरान इलाके में एक संदिग्ध कार घूमते हुए नजर आई थी। इलाके के सीसीटीवी में भी इस कार की तस्वीर आई थी। इस बीच आज सुबह प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा और डीआईजी इरशाद वली बच्चे के परिजनों से मिलने पहुंचे थे। लेकिन अब उसकी मौत की खबर आ रही है।
बता दें कि ग्राम बैरागढ चीचली में रहने वाले विपिन मीणा के तीन साल के बेटे वरुण को बीते रविवार शाम को घर के बाहर से खेलते समय अगवा कर लिया गया था। शाम करीब सात बजे दादा नारायण मीणा से बच्चा टॉफी के लिए दस रुपए लेकर निकला था। उसके दादा वन विभाग में नाकेदार हैं। कोलार थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज करने के बाद एडीशनल एसपी अखिल पटेल के निर्देशन में दो सीएसपी व पांच थानों की टीम ने सर्चिंग शुरू की, लेकिन सोमवार देर रात तक सुराग नहीं मिला था।
मां का रो-रोकर बुरा हाल
माता-पिता का वरुण इकलौता बेटा है। बेटे के अपहरण के बाद से ही परिजन रात-दिन उसे खोजने में इधर-उधर तलाश कर रहे थे। मां का रो-रोकर बुरा हाल था। वह सिर्फ बच्चे को कहीं से भी लाने की बात कह रही थी। लेकिन आज ऐसी खबर आ गई है। बच्चे के दादा का कहना है कि हमारी किसी से भी कोई रंजिश नहीं थी।
जंगल और आसपास के इलाके में हो रही थी तलाश
इससे पहले बच्चे के अगवा होने के बाद से ही पुलिस बल को सर्चिंग में लगा दिया था। दो सीएसपी व पांच थानों के टीआई समेत करीब 60 जवान बैरागढ़ चीचली के जंगल और आसपास के इलाके में तलाश कर रहे थे। रात में बच्चे की उसके ही घर के आसपास तलाश की गई थी।
केरवा चौकी के वन विभाग के सुरक्षा प्रहरी से हुई थी बहस
पुलिस को जिस संदिग्ध कार में मासूम के अपहरण की आशंका थी, वो बच्चे के अगवा होने वाले दिन केरवा वन चौकी पर करीब 15 मिनट रुकी रही थी। इस दौरान वन चौकी के प्रहरी कार को नहीं जाने दे रहे थे, लेकिन कार में सवार लोगों ने अपने को पुलिस का अफसर बताकर रौब गांठा तो कार को जाने दिया था।

स्निफर डॉग डीएसपी ज्योति और राज का तबादला रुकवाने के लिए पीएचक्यू पहुंचे हैंडलर
16 July 2019
भिंड। अभी तक आपने सरकारी नौकरी कर रहे लोगों के ट्रांसफर रुकवाने के मामले जरूर सुने होंगे। पर प्रदेश में स्निफर डॉग्स के ट्रांसफर होने के बाद इन्हें रुकवाने का काम भी शुरू हो गया है। भिंड पदस्थ डीएसपी रैंक की स्निफर डॉग ज्योति और राज ट्रांसफर रूकवाने के लिए भिंड से इनके हैंडलर भोपाल आए हुए हैं।
दरअसल बीते पीएचक्यू द्वारा जारी की गई स्निफर डॉग्स की तबादला सूची में भिंड के डीएसपी रैंक की स्निफर डॉग ज्योति का ट्रांसफर उमरिया और राज का ट्रांसफर नीमच किया गया है। बुधवार को दोनों को भिंड से रिलीव भी होना है। इस बीच दोनों के हैंडलर ने भिंड के एसपी रूडोल्फ अल्वारेस को दोनों स्निफर डॉग्स को नीमच और उमरिया में होने वाली परेशानियों के बारे में बताया। हैंडलर ने एसपी से कहा कि अगर राज और ज्योति को रिलीव किया जाता है तो इस मौसम में इनके स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है। नई जगह में दोनों बीमार पड़ सकते हैं। इसलिए इनका ट्रांसफर कैंसिल किया जाए।
हैंडलर की बात सुनने के बाद एसपी ने हैंडलर को सोमवार शाम को पुलिस मुख्यालय भोपाल रवाना कर अधिकारियों से बात कर ट्रांसफर रुकवाने की बात करने भेज दिया। आज हैंडलर भोपाल में पुलिस मुख्यालय पहुंच दोनों स्निफर डॉग्स का ट्रांसफर निरस्त करने के लिए अधिकारियों से मिल रहे हैं। अगर आज दोनों स्निफर का ट्रांसफर निरस्त नहीं होता तो बुधवार को ज्योति और राज को भिंड से रिलीव कर दिया जाएगा।
स्थानांतरण आदेश शिवराज को भेजेगी कांग्रेस: कांग्रेस की मध्यप्रदेश इकाई के प्रतिनिधि आज पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के समय में हुए डॉग हैंडलर्स के स्थानांतरणों के आदेश की प्रति उन्हें भेजेंगे। मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि कांग्रेस आज शिवराज सरकार के समय हुए डॉग हेंडलर के ट्रांसफ़र के आदेश उनके घर भेजेगी। आदेश भेजकर उन्हें याद दिला जाएगा कि उनकी सरकार में भी इस तरह के आदेश होते थे। ये एक सामान्य प्रक्रिया है।

खुले बॉक्स और झूलते तारों से हादसे का डर
12 July 2019
राजधानी में बारिश के दौरान निर्बाध रूप से बिजली सप्लाई करने के लिए विद्युत कंपनी मेंटेनेंस कार्य करती है। इसके तहत खुले पड़े डिस्ट्रीब्यूशन बॉक्स और सड़कों पर झूलते तारों को दुरुस्त किया जाता है। इसके साथ ही लटकती पेड़ की शाखाएं छांटी जाती हैं। लेकिन यह काम कुछ इलाकों तक ही सीमित है। शहर की अधिकांश कॉलोनियों में मेंटेनेंस के अभाव में आए दिन बिजली गुल हो रही है। थोड़ी सी बारिश या तेज हवा चलने से लाइट चली जाती है। कई जगहों पर बिजली के तार पेड़ों की शाखाओं पर झूल रहे हैं। इस कारण तारों के टकराने से शार्ट सर्किट हो रहा है। बारिश के दौरान खुले डिस्ट्रीब्यूशन बॉक्स और खंभों में करंट फैलने से हादसे की आशंका बनी रहती है। अगर किसी इलाके की बिजली सप्लाई बंद हो जाए तो शिकायत करने के बाद भी कर्मचारी समय पर नहीं पहुंचते हैं। एमपी नगर, प्रोफेसर कॉलोनी, कोलार रोड, शाहजहांनाबाद, जहांगीराबाद, जेल रोड पर अब भी कई बाॅक्स खुले पड़े हैं।
समय पर करें
साल भर मेंटेनेंस क्यों नहीं होता है? बिजली कंपनी को बारिश के दौरान मेंटेनेंस की याद क्यों आती है? तेज हवा और बारिश होने से अक्सर फॉल्ट होते हैं और बॉक्स में आग भी लग जाती है। बिजली कंपनी बारिश से पहले मेंटेनेंस कर ले तो कुछ हद तक समस्या से निजात मिल सकती है। रवि शर्मा, निवासी, एमपी नगर
मेंटेनेंस कार्य जारी है
मेंटेनेंस चल रहा है। अगर कहीं नहीं हुआ है तो शीघ्र ही हो जाएगा। बिजली कंपनी के अधिकारी भी फील्ड में रहकर काम देख रहे हैं। मनोज द्विवेदी, पीआरओ, मक्षेविवि कंपनी

पांच लाख बेरोजगारों का भविष्य दांव पर
12 July 2019
प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) ने फरवरी-मार्च 2019 में शिक्षक भर्ती परीक्षा आयोजित की थी। लेकिन इसका परिणाम घोषित न होने से करीब पांच लाख युवाओं का भविष्य दांव पर लग गया है। उनका आरोप है कि इसी परीक्षा के साथ नीट की ऑनलाइन परीक्षा भी हुई थी, लेकिन उसका परीक्षा परिणाम आ चुका है। इस मामले में युवाओं ने पीईबी के अधिकारियों से संपर्क किया तो वे संतोषजनक जवाब नहीं दे पा रहे हैं।
परीक्षार्थियों का कहना है कि उन्हें धोखे में रखकर विभाग परिणाम आगे बढ़वाने पर तुला है। परीक्षार्थियों को डर है कि अगर परिणाम आने में देरी हुई तो ओवर एज होने के कारण यह मौका भी उनके हाथ से न निकल जाए। वहीं कुछ परीक्षार्थी ऐसे भी हैं जिन्होंने नौकरी छोड़कर इस परीक्षा के लिए तैयारी की थी। उन्हें उम्मीद थी कि परीक्षा परिणाम जल्द आएगा तो वे सरकारी नौकरी में आ जाएंगे। लेकिन रिजल्ट घोषित न होने से उनका भविष्य भी अधर में लटक गया है। विभाग पहले दो बार रिजल्ट जल्द घोषित होने की बात कह चुका है। अब वह तीसरी बार भी कह रहा है कि इस माह के अंत तक रिजल्ट घोषित हो जाएगा। लेकिन परीक्षार्थियों को उनकी बात पर भरोसा नहीं है।
किसी प्रकार का अन्याय नहीं होगा
शिक्षक भर्ती परीक्षा का परिणाम क्यों अटका है? इस मामले में पीईबी के अधिकारियों से चर्चा की जाएगी। परीक्षार्थियों को चिंता करने की जरूरत नहीं है। मैं उनको आश्वस्त करता हूं कि उनके साथ अन्याय नहीं होगा। प्रभुराम चौधरी, स्कूल शिक्षा मंत्री
पीईबी कोई स्पष्ट जवाब नहीं दे रहा
मैंने शिक्षक भर्ती परीक्षा की तैयारी प्राइवेट नौकरी छोड़कर इस आशा से की थी, ताकि जल्द परीक्षा परिणाम घोषित होने पर नई नौकरी ज्वॉइन कर लूंगा। लेकिन परिणाम घोषित करने में देरी की जा रही है। पीईबी भी स्पष्ट जवाब नहीं दे रहा है। सुरजीत सिंह, परीक्षार्थी

मंत्री श्री शर्मा ने छात्र संघ शपथ ग्रहण समारोह में छात्रों को दिलाई शपथ
6 July 2019
जनसंपर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने आज आकृति ईको सिटी स्थित वर्ल्ड वे इंटरनेशनल स्कूल में छात्र संघ शपथ ग्रहण समारोह में छात्रों को शपथ दिलाई। इस दौरान मंत्री श्री शर्मा ने नए प्रवेश सत्र में छात्रों की हौसला अफजाई करते हुए कहा कि सभी छात्र नई ऊर्जा से पढ़ाई में जुट जाएं। अपने लक्ष्य को पाने के लिए निरंतर प्रयास करते रहें ,तो सफलता मिलती ही है। मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार छात्रों को अच्छी और तकनीकी शिक्षा देने की तरफ अग्रसर है। अब कोई भी छात्र चाहे वो किसी भी वर्ग या धर्म का हो, सबको शिक्षा के समान अधिकार के तहत प्रदेश सरकार पूरी मदद करेगी।
शब्दों का मकड़जाल और महँगाई बढ़ाने वाला बजट - मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ
6 July 2019
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने केन्द्रीय वित्त मंत्री सुश्री निर्मला सीतारमण द्वारा आज संसद में प्रस्तुत बजट 2019-20 को शब्दों का मकड़जाल बताया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह बजट कम भाषण ज्यादा है। बजट के महत्वपूर्ण बिन्दुओं का कोई उल्लेख नहीं किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट युवाओं, किसानों और मध्यम वर्ग को बेहद निराश करने वाला है। जनता अपने आपको ठगा-सा महसूस कर रही है। जैसा कि केन्द्र की सरकार की पहचान नये जुमले बनाने वाली सरकार के रूप में होने लगी है, इस बजट में भी कोई ठोस बात नहीं की गई है। पिछले कार्यकाल की बातें दोहराने की नाकाम कोशिश की है। जो काम मामूली सुधार से हो सकते थे उन्हें बजट में शामिल कर ध्यान भटकाने की कोशिश हुई है। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि देश को अपेक्षा थी कि बजट में किसानों के दुख:-दर्द को दूर करने वाले उपायों के बारे में उल्लेख होगा। बेरोजगारी दूर करने और युवाओं के सपनों को साकार करने के बारे उल्लेख होता। अनुसूचित वर्गों के विकास की चर्चा होती। इन बिन्दुओं पर बजट ने निराश किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट से एक बात साफ हो जाती है कि चंद महीने पहले पेश किये गये अंतरिम बजट में राज्यों को जो हिस्सा मिलना था उसे कम कर दिया गया है। मध्यप्रदेश के हिस्से के 2677 करोड़ रूपये कम कर दिये गये हैं। शायद इसी कारण वित्त मंत्री ने महत्वपूर्ण योजनाओं और खर्च के संबंध में चुप रहना ही ठीक समझा। इससे केन्द्र सरकार के बेहद खराब आर्थिक प्रबंधन की झलक मिलती है। बजट से सरकार के आर्थिक वृद्धि दर के गलत आंकड़े भी सामने आये हैं। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि बजट के पहले उम्मीद थी कि पेय जल के लिये नये मेगा प्लान की घोषणा होगी जिससे लोगों की जल समस्या दूर होगी। इसके विपरीत वित्त मंत्री के बजट भाषण में इस संबंध में कोई स्पष्ट उल्लेख नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पेट्रोल और डीजल पर विशेष एक्साइज ड्यूटी बढ़ाने से आम लोगों का जीना मुश्किल हो जायेगा। इससे व्यापार पर विपरीत प्रभाव तो पड़ेगा ही साथ ही महँगाई भी बढ़ेगी। यह ऐसा बजट है जो महँगाई बढ़ाने वाला है। उन्होंने कहा कि हाल में चुनाव में विकास के सभी जरूरी मुद्दों को दरकिनार किया गया और अब नये भारत का जुमला बनाकर फिर से जनता को परोसा गया है। गरीबी, महँगाई और बेरोजगारी के साथ नया भारत कैसे बनेगा, इसका कोई रोडमैप बजट में नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेरोजगारी दूर करने के उपायों और युवाओं को आगे बढ़ने के मौके देने के बारे में बजट में कोई ठोस बात नहीं है। मीडिया और बीमा क्षेत्र को विदेशी पूंजी निवेश के लिए खोलने का कदम 'मेक इन इंडिया' के विपरीत है क्योंकि इससे देश की प्रतिभाओं को अनावश्यक प्रतियोगिता का दबाव सहना पड़ेगा। स्टार्टअप शुरू करने वाले युवाओं को भी चुनौती का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि गाँव, गरीब और किसान की बातें 2014 से हर साल हो रही हैं लेकिन इस बजट में भी उनके लिये कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है।
मध्‍यप्रदेश में ठंड का पलटवार, अगले कुछ दिनों तक रहेगा यही हाल
9 February 2019
भोपाल। प्रदेश के कई स्थानों पर बरसात होने। साथ ही राजस्थान पर बने प्रेरित चक्रवात के समाप्त होने के कारण ठंड ने फिर यू टर्न लिया है। जिसके चलते प्रदेश में दिन और रात के तापमान में एक बार फिर गिरावट का दौर शुरू हो गया है। इसी क्रम में गुरुवार-शुक्रवार की दरमियानी रात को भोपाल का तापमान 8.6 डिग्रीसे. दर्ज हुआ,जो बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात के तापमान(16.4) के मुकाबले 7.8 डिग्रीसे.कम रहा। इसके पूर्व फरवरी 2014 में न्यूनतम तापमान 7 डिग्रीसे.दर्ज किया गया था। शुक्रवार को इंदौर, श्यौपुरकला, उज्जैन, शाजापुर, रतलाम, धार और खंडवा में शीतल दिन रहा। उधर, शुक्रवार शाम से हवा का रुख बदलकर उत्तरी हो गया है। इससे मौसम विज्ञानियों ने अभी 3-4 दिन तक वातावरण में ठंड बढ़ने की संभावना जताई है। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक पिछले दिनों राजस्थान पर एक प्रेरित चक्रवात बना हुआ था। उस सिस्टम के कारण प्रदेश के ग्वालियर, चंबल, सागर, रीवा संभाग के जिलों में बरसात हो रही थी। इससे वातावरण में ठंडक बढ़ गई। शुक्रवार को सिस्टम के समाप्त होने से आसमान साफ होने लगा है। वरिेष्ठ मौसम विज्ञानी उदय सरवटे ने बताया कि राजस्थान पर बने सिस्टम के समाप्त होने से शुक्रवार शाम से हवा का रुख भी दक्षिणी, पश्चिमी से बदलकर उत्तरी हो गया है। इससे एक बार फिर उत्तर भारत की सर्द हवाएं आने लगी हैं। इससे रात के तापमान में अभी 3-4 दिन तक गिरावट बनी रहेगी। शुक्रवार को चार महानगरों का तापमान शहरअधिकमतन्यूनतम भोपाल23.38.6 इंदौर21.87.4 ग्वालियर23.68.6 जबलपुर24.114.2
मंत्री ने कार्यकर्ताओं से कहा- जिस अधिकारी-कर्मचारी को हटाना है, आपसी सहमति से लिस्ट बनाओ
8 February 2019
भोपाल। जिन्हें हटाना है उन अधिकारी-कर्मचारी की आपसी सहमति से लिस्ट बना लो.. यह नहीं होना चाहिए कि एक पैरवी करे और एक हटाने की बात करे.. जो होने लायक काम हैं वह तो करेंगे ही.. लेकिन जो काम करने लायक नहीं हैं वह भी हम करेंगे। आप लोग चिंता मत करिए। एक नहीं ऐसे 50 काम करेंगे। यह बात गुरुवार को सहकारिता मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने रोशनपुरा स्थित जिला कांग्रेस कार्यालय की बैठक में कही। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की जंबूरी मैदान में सभा की तैयारी को लेकर बैठक का आयोजन किया गया था। बैठक में कई पदाधिकारियों ने वरिष्ठ नेताओं व मंत्रियों द्वारा कार्यकर्ताओं को अनदेखा करने की बात बैठक में कही थी। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, विधायक आरिफ मसूद, जिलाध्यक्ष कैलाश मिश्रा, कांग्रेसी पार्षदों व जिला पदाधिकारियों के साथ कई कार्यकर्ता बैठक में मौजूद थे। पदाधिकारियों ने सभा की तैयारी से ज्यादा कार्यकर्ताओं की समस्याओं पर फोकस किया। मंत्रियों को ट्रेनिंग देने की जरूरत है बैठक में सेवा दल के प्रदेश संयोजक योगेश यादव ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की मजबूत स्थिति कार्यकर्ताओं के कारण है। नए मंत्रियों को ट्रेनिंग देकर सिखाने की जरूरत है। मंत्रियों को यह पता नहीं है कि अधिकारियों के साथ मीटिंग से पहले 15 सालों से तपस्या कर रहे कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करनी चाहिए। नगर निगम नेता प्रतिपक्ष मो. सगीर ने कहा कि कार्यकर्ताओं ने लंबे समय से पार्टी के लिए लड़ाई लड़ी है। परिवार के बारे में भी नहीं सोचा। हकीकत यह है कि दो वक्त की रोजी-रोटी के लिए भी परेशान होना पड़ रहा है। हम हमेशा पार्टी के साथ हैं। सरकार को हमारे लिए रोजगार की योजना बनानी चाहिए। पास की व्यवस्था कराई जाए ग्रामीण कांग्रेस जिलाध्यक्ष अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि पहले भी ऐसे कई कार्यक्रम हुए, जहां लोगों को तवज्जो नहीं दी गई। ग्रामीण क्षेत्रों में सिर्फ पास देखकर ही खुश हो जाते हैं। भोपाल से सटे आसपास क्षेत्रों के लोगों के लिए ज्यादा से ज्यादा पास की व्यवस्था कराई जानी चाहिए। बैठकें और संवाद जरूरी है बैठक में पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी ने कहा कि कार्यकर्ताओं से ही पार्टी है। कार्यकर्ताओं को मान-सम्मान और उचित स्थान मिलना चाहिए। कार्यकर्ताओं के साथ बैठकें और निरंतर संवाद भी जरूरी है। कोलार को निगम सीमा से अलग करने की मांग बैठक में जिलाध्यक्ष कैलाश मिश्रा ने कोलार को नगर निगम सीमा से अलग करने की मांग की। उन्होंने कहा कि यदि ऐसा होता है तो भोपाल व कोलार में आगामी चुनावों में कांग्रेस का महापौर होगा। निकाय चुनावों में जीत के लिए यह बेहद जरूरी है। इस संबंध में जल्द नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्धन सिंह से मिलने की बात कही। साथ ही मंत्री गोविंद सिंह से मांग करते हुए कहा कि परिसीमन की तारीख को आगे बढ़ाई जाए।
Lok Sabha Elections सिर पर, MP में भाजपा सांसद और स्थानीय नेताओं के बीच नहीं थम रहे विवाद
6 February 2019
भोपाल। लोकसभा चुनाव सिर पर हैं, लेकिन विधानसभा चुनाव की हार के बाद सांसदों और स्थानीय भाजपा नेताओं के बीच शुरू हुए विवाद थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। इन विवादों से पार्टी के लिए कई सीटों पर मुश्किलें खड़ी हो गई हैं। मंडला में पूर्व केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते और संपतिया उईके, बुंदेलखंड में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव और सांसद प्रहलाद पटेल, मंदसौर में सुधीर गुप्ता बनाम यशपाल-सकलेचा, उज्जैन में चिंतामणि मालवीय और पारस जैन व मोहन यादव, खंडवा में नंदकुमार सिंह चौहान बनाम अर्चना चिटनीस, बालाघाट में पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन और सांसद बोध सिंह भगत के बीच विवाद लगातार बढ़ते जा रहे हैं। इन नेताओं के बीच विवाद प्रहलाद पटेल - दमोह सीट से सांसद प्रहलाद पटेल और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के बीच पांच साल से पटरी नहीं बैठ रही है। विधानसभा चुनाव में भी संबंध बेहद तल्ख रहे। भार्गव ने एक सांसद प्रतिनिधि को चुनाव में खड़ा करने का आरोप भी लगाया। भार्गव के बेटे अभिषेक ने फेसबुक पर सांसद के खिलाफ बड़ी पोस्ट लिखी थी। प्रहलाद के साथजयंत मलैया के रिश्ते भी ठीक नहीं हैं। नंदकुमार सिंह चौहान - पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस के साथ कई साल पहले से विवाद चला आ रहा है। विधानसभा चुनाव में हार के बाद चिटनीस ने खुला आरोप लगाया कि उनके ख्ािलाफ खड़े हुए निर्दलीय प्रत्याशी सुरेंद्र सिंह शेरा को चौहान ने सपोर्ट किया। इसी सीट के विजय शाह, देवेंद्र वर्मा और टिकट काटे जाने से लोकेंद्र सिंह तोमर भी चौहान से नाराज हैं। बोधसिंह भगत - बालाघाट सांसद बोधसिंह भगत का पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन के साथ विवाद सार्वजनिक मंच पर गाली-गलौज तक पहुंच चुका है। भगत का टिकट काटे जाने और बिसेन की बेटी मौसम को टिकट दिए जाने को लेकर कवायद चल रही है। यहां आठ में से मात्र तीन सीट पर भाजपा जीती है। पूर्व सांसद केडी देशमुख से भी भगत की पटरी नहीं बैठ रही। सुधीर गुप्ता - मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता के खिलाफ कई विधायक हैं। जिले के वरिष्ठ नेता यशपाल सिंह सिसोदिया, ओमप्रकाश सकलेचा, राजेंद्र पांडे और जगदीश देवड़ा सांसद से नाराज हैं। यशपाल ने तो पार्टी से शिकायत की थी कि सांसद ने उनके विधानसभा क्षेत्र में विरोधियों का साथ दिया। चिंतामणि मालवीय - उज्जैन सांसद मालवीय से स्थानीय विधायक मोहन यादव और पारस जैन नाराज हैं। मालवीय को लेकर क्षेत्र में हस्तक्षेप करने का आरोप है। पार्टी के समक्ष तराना से भाजपा प्रत्याशी रहे अनिल फिरोजिया ने तो हारने के लिए मालवीय को जिम्मेदार ठहराया। गणेश सिंह - सतना सांसद गणेश सिंह के खिलाफ ओबीसी बनाम सामान्य विवाद चल रहा है। शंकरलाल तिवारी और सांसद के बीच तो पहले से ही तल्ख रिश्ते रहे हैं। रामपुर बघेलान से जीते विक्रम सिंह ने विधानसभा चुनाव में सिंह पर विरोध करने का आरोप लगाया था। सांसद के बारे में कहा जाता है कि वे सिर्फ ओबीसी लोगों की ही मदद करते हैं। कहीं संकट का सामना न करना पड़ जाए पार्टी सूत्रों के मुताबिक सीधी सांसद रीति पाठक, शहडोल सांसद ज्ञानसिंह, मंडला सांसद फग्गनसिंह कुलस्ते, धार सांसद सावित्री ठाकुर, भोपाल सांसद आलोक संजर सहित कई सांसद स्थानीय स्तर पर पार्टी के ही नेताओं का विरोध झेल रहे हैं। ऐसे हालात में लोकसभा चुनाव में पार्टी को संकट का सामना करना पड़ सकता है। आंतरिक लोकतंत्र है पार्टी में किन्हीं समसामयिक विषयों पर सहमति या असहमति को विवाद नहीं कहा जा सकता है। भारतीय जनता पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र है। हम सभी वरिष्ठ नेता भी इन सब विषयों पर ध्यान देते रहते हैं।
स्वाद के जरिये समाज में बदलाव संभव: शेफ संजीव कपूर
6 February 2019

पब्लिक रिलेशन सोसाइटी, भोपाल द्वारा मंगलवार को स्वराज भवन में 'चेंजिंग फ़ूड ट्रेंड्स इन इंडिया' पर विशेष व्याख्यान आयोजित किया गया। इस अवसर पर सेलिब्रिटी शेफ संजीव कपूर ने इस विषय पर व्याख्यान दिया।
बदलाव समय के साथ होता है बदलाव धीरे-धीरे होता है कोई भी बदलाव बहुत बड़ा नहीं होता है हमारे नजरिए की वजह से यह बदलाव बड़े लगने लगते हैं यह कहना था 'चेंजिंग फ़ूड ट्रेंड्स इन इंडिया' पर स्पेशल लेक्चर देने आए सिलेब्रिटी शेफ संजीव कपूर का भारतीय व्यंजनों के बदलते स्वरूप विषय पर बात करते हुए उन्होंने बताया कि हमारे यहां आज चार स्वाद जाने जाते हैं खट्टा, मीठा, तीखा और नमकीन। वहीं करीब 100 साल पहले जापानियों द्वारा पांचवे स्वाद उमामी की खोज की गई जबकि 5000 साल पहले हमारी भारतीय संस्कृति में “छठ रस” की बात की जा चुकी है भारत में खाने के बदलते स्वरूप पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि हमारे यहां खाने में आखरी बदलाव चौदहवी शताब्दी में हुआ था वही आलू मिर्च और टमाटर जिनके बिना आज के भारतीय खाने की कल्पना भी नहीं की जा सकती है आज से 400 साल पहले पुर्तगालियों के साथ भारत आए थे।
भोजन में एथिक्स है जरूरी
सेलिब्रिटी शेफ संजीव कपूर संजीव कुमार ने कहा कि खाने-खिलाने के बदलते स्वरूप से नैतिकता गायब होती जा रही है उनका मानना है कि भोजन को अगर नैतिकता के साथ जोड़ा जाए तो उसमें स्वाद अपने आप आ जाएगा।
स्वाद से समाज में बदलाव संभव
समाज में आ रहे बदलाव के लिए कहीं ना कहीं स्वाद जिम्मेदार है उन्होंने कहा कि जब से महिलाओं ने समाज के अलग-अलग क्षेत्रों में अपनी पहचान बनानी शुरू की है तब से समाज में बदलाव आने शुरू हो चुके हैं उन्होंने कहा कि हमारे समाज में हमेशा किचन से महिलाओं का नाता रहा है लेकिन बदलते परिवेश के साथ वे समाज के अन्य क्षेत्रों में व्यस्त होती चली गई। वही किचन के रोल में फिट होने में पुरुष आज भी संकोच करता है जिसकी वजह से घर में खाना बनाने का कल्चर कम होने लगा है उनका मानना है कि अगर सारी विषमताओं को भूल कर पुरुष भी बराबरी निभाए किचन में सहयोग करें और इसे अपनी जिम्मेदारी समझे तो समाज में सार्थक बदलाव मुमकिन है।
घर के भोजन की आदत डालें
दुनिया में भारतीय जायके को पहचान दिलाने वाले शैफ ने कहा कि हम घर के खाने से दूर होते जा रहे हैं जबकि बाहर का खाना कभी भी स्वाद और पौष्टिकता के मामले में घर के खाने की बराबरी नहीं कर सकता। उनका सुझाव है कि अगर आपको जंक फूड भी खाना हो तो उसे घर पर ही बनाने की कोशिश करें क्योंकि अपनेपन और प्यार से भरा खाना कभी भी आपके और आपके अपनों के लिए हानिकारक नहीं हो सकता । अपनी बात रखते हुए संजीव कपूर ने कहा कि हर जगह की विशेषताएं होती हैं वहां कुछ ना कुछ ऐसा जरूर होता है जो उसकी पहचान बन जाए उन्होंने खुले शब्दों में कहा कि अपने आतिथ्य के लिए प्रसिद्ध भोपाल खुद के स्वाद से अछूता है। इसलिए आज हमें खुद की जड़े तलाश कर उसे प्रचारित करने की जरूरत है।
कुछ अलग करने की चाह ने बना दिया शेफ
शेफ बनने का ख्याल कब आया इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वह भीड़ से हटकर कुछ अलग करना चाहते थे और यह फील्ड उन्हे चैलेंजिंग लगा जिससे उन्होंने यह रास्ता चुन लिया वहीं इस सवाल से जुड़े एक अन्य जवाब में उन्होंने बताया कि अगर आज अगर शेफ नहीं होते तो वह एक आर्किटेक्ट होते।
ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने की जरूरत
आज की इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में खुद को फिट रखना किसी चैलेंज से कम नहीं है और ऐसे में केमिकल पेस्टिसाइड्स खाना बेहद हानिकारक हो सकता है उनका कहना है कि मुनाफे से ऊपर उठकर किसानों को ऑर्गेनिक खेती की तरफ मुड़ना चाहिए और यह तभी संभव है जब हम ऑर्गेनिक खाने को अपनी प्राथमिकता देना शुरू करेंगे इस मौके पर उपस्थित भोपाल के जाने-माने उद्यमी नवाब राजा साहब ने कहा कि व्यवसाय में नैतिकता बहुत आवश्यक है कोई भी व्यवसाय समाज हित से जुड़ा हो तो वह आगे बढ़ता है आज होटल इंडस्ट्री रेस्टोरेंट्स हॉस्पिटैलिटी समाज हित से जुड़ी बातें हो रही हैं अच्छा भोजन ऑर्गेनिक भोजन सेहतमंद भोजन उपलब्ध कराना भी हमारी प्राथमिकताओं में होना चाहिए तभी यह व्यवसाय सही दिशा में अग्रसर होगा इस कार्यक्रम में संजीव कपूर के साथ ही सिनेमा उद्योग मुंबई से आए अमित कुमार सिंह संजीव कपूर की कंपनी के सीईओ राजीव महटा, सीएफओ संजय वल्लभ और प्रशासनिक हैड केदार गोडसे, बाबू की कुटिया के प्रबंधक नवीन के साथ ही पब्लिक रिलेशन सोसाइटी भोपाल के अध्यक्ष पुष्पेंद्र पाल सिंह, संजीव गुप्ता कोषाध्यक्ष, मनोज द्विवेदी, संयुक्त सचिव योगेश पटेल, गोविंद चौरसिया डॉक्टर बीएन पाठक , इरफान हैदर एवं परवेज़ उपस्थित रहे।

मप्र / मुंगेरी लाल के सपने देख रही कांग्रेस, बिहार में राहुल और नाथ ने गलत जानकारी दी: शिवराज
4 February 2019
भोपाल. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा है कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी मुंगेरी लाल जैसे सपने देख रहे हैं। रविवार को राहुल और मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बिहार में कहा कि उन्होंने मध्यप्रदेश में सरकार बनते ही किसानों का कर्जा माफ कर दिया है। लेकिन, हकीकत में प्रदेश में अभी तक एक भी किसान का कर्जा माफ नहीं हुआ है। कांग्रेस सरकार कागज के टुकड़ों पर कर्ज माफ कर रही है। शिवराज सिंह सोमवार को भोपाल में भाजपा के प्रदेश कार्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अगर कर्जमाफी में घोटाला हुआ है तो दोषियों को तुरंत गिरफ्तार कर जेल में डाला जाना चाहिए। कांग्रेस सरकार की मंशा ठीक नहीं है। कर्जमाफी के नाम पर सिर्फ समय काट रही है। उसे मालूम है कि लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लगने वाली है। अभी तक फार्म भरवाए जा रहे हैं। उन्होंने 22 फरवरी की डेट दी है। तब इक्का-दुक्का किसानों का कर्ज माफ कर देंगे। इसके बाद आचार संहिता लगा जाएगी और कर्ज माफ नहीं करने का ठीकरा इस पर फोड़ देंगे। मोदी सरकार ने किए काम : शिवराज ने कहा कि अगला लोकसभा चुनाव सिर पर है। बीते साढ़े चार साल में जितने काम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किए हैं। उतने काम कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकारों ने कभी नहीं किए। उन्होंने कहा कि भाजपा का घोषणापत्र कमरों में बैठकर नहीं बल्कि लोगों से पूछकर बनाया जाएगा। इसके लिए ये रथ 29 लोकसभा क्षेत्रों के हर विधानसभा क्षेत्र में जाकर लोगों से उनके सुझाब एकत्रित करेंगे। 29 डिजिटल रथ : प्रदेश भाजपा ने लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए 29 डिजिटल रथ तैयार किए गए हैं। ये रथ प्रदेश की सभी 29 संसदीय क्षेत्रों में जाकर लोगों को केंद्र सरकार की योजनाएं बताएंगे और लोगों से चुनाव घोषणा पत्र के लिए सुझाब मांगेगे। ये रथ प्रदेश की सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों तक पहुंचेंगे। जनसंपर्क मंत्री ने कहा जरूर होगी गिरफ्तारी: किसानों की कर्जमाफी के बाद सामने आ रहे घोटाले सामने आने के बाद मुख्यमंत्री के बयान के बाद जनंसपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि घोटाले की जांच शुरू हो गई है। जिम्मेदार लोगों की गिरफ्तारी भी जरूर होगी। पटना में क्या कहा था कमलनाथ ने : मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर देश के किसानों तथा नौजवानों को धोखा देने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी सरकार जल्द ही भाजपा के राज में मध्यप्रदेश में किसानों को कर्जा देने में हुए घोटाले का बड़ा खुलासा करेगी। नाथ ने पटना में कांग्रेस की 'जन आकांक्षा' रैली को संबोधित करते हुए कहा कि आज इस देश की जनता मोदी से सवाल कर रही है कि किसान बिना दाम के, नौजवान बिना काम के तो फिर मोदी-नीतीश किस काम के। उन्होंने कहा कि भाजपा राज में मध्यप्रदेश बलात्कार में नंबर वन था, बेरोजगारी में नंबर वन था, किसानों की आत्महत्या में नंबर वन था और महिलाओं पर अत्याचार में नंबर वन था। जनता ने जब यह सच्चाई जानी तो उन्होंने 15 साल के भाजपा शासन को नकार दिया। एक महीने में कर्जा माफ हो जाएगा : नाथ ने कहा कि आज 3 फरवरी है, अगले 3 मार्च को प्रदेश के 30 लाख किसानों का कर्जा माफ हो जाएगा और उसके बाद 15 लाख किसानों का शेष कर्जा माफ किया जाएगा।
Madhya Pradesh के 75 लाख किसानों को मिलेगी छह हजार रुपए सम्मान निधि
2 February 2019
भोपाल। केंद्र सरकार की किसान सम्मान निधि का लाभ प्रदेश के 75 लाख खातेधारक किसानों को मिलेगा। इसमें सीमांत किसान 48.33 लाख और लघु किसान 27.24 लाख हैं। इन्हें छह हजार रुपए सम्मान निधि के तौर पर सीधे खाते में मिलेंगे। हालांकि, केंद्र के इस कदम को कृषि के जानकार फौरी राहत करार दे रहे हैं। इनका मानना है कि यह स्थाई हल नहीं है। यदि किसानों को उपज का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) वास्तव में दे दिया जाता है तो सरकारों को ऐसे कदम उठाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी। कृषि विभाग के आंकड़ों के हिसाब से 75 लाख 57 हजार लघु और सीमांत खातेधारक किसान हैं। इसमें एक किसान के पास दो या इससे अधिक खाते भी हो सकते हैं। जब निधि की राशि किसानों के खाते में ट्रांसफर होगी, तभी वास्तविक लाभार्थियों की संख्या पता लग पाएगी। वैसे प्रदेश में लघु और सीमांत किसानों की संख्या कुल किसानों की 70 फीसदी से ज्यादा है। जोत लगातार घटने की वजह से यह संख्या बढ़ी है। एमएसपी का डेढ़ गुना मिलता तो ज्यादा फायदा होता वहीं, पूर्व कृषि संचालक जीएस कौशल ने इस योजना को चुनावी साल में उठाया गया कदम करार दिया है। उन्होंने कहा कि छह हजार रुपए सालाना पांच एकड़ तक के किसान के लिए कोई बड़ी राशि नहीं है पर इससे राहत तो मिलेगी। वैसे देखा जाए तो किसान को इसकी जरूरत नहीं है। किसान को सरकार यदि एमएसपी का डेढ़ गुना वास्तव में दिला दे तो उन्हें किसी तरह की मदद की दरकार ही नहीं है। यदि सरकारें वास्तव में किसान का भला करना चाहती हैं तो वे लालच देना छोड़कर ग्राम आधारित प्रोसेसिंग यूनिट लगवाए और उनके उत्पाद को बाजार मुहैया करा दें। उधर, भारतीय किसान संघ के संगठन मंत्री शिवाकांत दीक्षित का कहना है कि हमारी अपेक्षा कहीं अधिक थी। इस राशि से देश के 12 करोड़ किसानों की मदद तो होगी पर यह एक हजार रुपए माह होती तो ज्यादा बेहतर होता। पांच सौ रुपए महीना कम है। ब्याज प्रोत्साहन भी अच्छा कदम माना जाएगा।
MP के खनिज मंत्री बोले- पुलिस की अवैध वसूली से महंगी हो रही रेत
1 February 2019
भोपाल। भोपाल-होशंगाबाद रेत सप्लायर एसोसिएशन इन दिनों पुलिस की चौथ वसूली के खिलाफ हड़ताल पर है। दो दिन पहले एसोसिएशन ने खनिज मंत्री प्रदीप जायसवाल से मुलाकात की थी। बुधवार को खनिज मंत्री जायसवाल गृहमंत्री बाला बच्चन से मिले और उनसे पुलिस की अवैध वसूली रोकने का आग्रह किया। जायसवाल ने कहा कि रेत कारोबारियों से बुदनी, औबेदुल्लागंज और मंडीदीप-मिसरोद सहित कई थानों की पुलिस ओवर लोडिंग के नाम पर अवैध वसूली करती है। इस कारण रेत महंगी हो रही है। कारोबारियों ने खनिज मंत्री को सारी हकीकत से अवगत कराया था। उन्होंने मंत्री को बताया कि हर थाने में 50-50 लाख रुपए महीने की वसूली सिर्फ रेत कारोबार से हो रही है। इनका कहना है कार्रवाई करेंगे खनिज मंत्री रेत कारोबारियों की समस्या लेकर मेरे पास आए थे। ऐसी कोई दिक्कत है तो हम उस पर उचित कार्रवाई करेंगे।
CM कमलनाथ का बड़ा आरोप, शिवराज सरकार ने किसानों के नाम पर 3 हजार करोड़ का घोटाला किया
30 January 2019
भोपाल। प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पूर्ववर्ती भाजपा सरकार पर 3 हजार करोड़ से ज्यादा घोटाले का आरोप लगाया है। कमलनाथ ने निशाना साधते हुए कहा कि किसानों के नाम पर शिवराज सरकार ने बड़ा घोटाला किया है। इस घोटाले में सीएम ने शासन को बैंक अधिकारियों के खिलाफ FIR करने के निर्देश भी दिए हैं। भोपाल में मीडिया से चर्चा में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि उन्होंने 3-4 जिलों के किसानों से मुलाकात की। किसान ऋण माफी योजना को लेकर उन्हें आ रही परेशानियों के बारे में उन्होंने बताया। किसानों ने ये भी बताया कि उन्होंने कर्ज लिया ही नहीं, फिर भी उनका नाम बकायादार की सूची में आ रहा है। ऐसे कई मामले सामने आ रहे हैं। इसी से समझ आ रहा है कि पिछली सरकार में फर्जी ऋण बांटा गया। ये बड़ा घोटाला है। उन्होंने कहा कि ये घोटाला 2 से 3 हजार करोड़ तक का घोटाला हो सकता है। कमलनाथ ने कहा- हम किसी को नहीं छोड़ेंगे। हम इसकी पूरी जांच करेंगे और दोषियों को सजा दिलाएंगे। कमलनाथ ने दोषियों के खिलाफ FIR दर्ज कराने के निर्देश दिए। गौ शाला के मामले पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें इस बात से बहुत दुख पहुंचा कि पिछले 15 सालों में शिवराज सरकार ने एक भी गौ शाला नहीं बनाई। जबकि ये लोग खुद को बड़े गौ रक्षक होने का दावा करते हैं। कमलनाथ ने घोषणा की कि हम अपने वचन पत्र में किए वादे के मुताबिक 4 महीनों में 1000 गौ शाला बनाएंगे। हम हर माह इसकी समीक्षा भी करेंगे। उन्होंने ये भी बताया कि गौ शाला निर्माण से 1 लाख निराश्रित गोवंश को आसरा मिलेगा। कमलनाथ ने कहा कि हमारी सरकार गोल्फ कोर्स की सरकार नहीं है, इसलिए हमने गोल्फ कोर्स निरस्त करने का निर्णय लिया। राम मंदिर को लेकर हुए सवाल पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि जब चुनाव आते हैं तभी मोदीजी को राम मंदिर की याद आती है। साढ़े 4 साल में मोदी सरकार को कभी राम मंदिर की याद नहीं आई। उन्होंने ये भी बताया कि युवा स्वाभिमान स्वरोजगार योजना को जल्द कैबिनेट में पेश किया जाएगा।
Cold Wave In MP: यहां एक डिग्री हुआ तापमान, कारों पर जम गई बर्फ
29 January 2019
भोपाल/इंदौर/जबलपुर। कश्मीर में जारी बर्फबारी और उत्तरी हवाओं का असर पूरे प्रदेश में बना हुआ है। प्रदेश के अधिकतर शहरों में सोमवार को न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से कम रहा। वहीं, खजुराहो का न्यूनतम तापमान 3 डिग्री सेल्सियस, नौगांव 3.0, बैतूल 3.5, दतिया 2.6 दर्ज किया गया। प्रदेश के अनेक शहरों में आठवीं तक के विद्यार्थियों की छुट्टी घोषित कर दी गई है। वहीं शाजापुर में भी ठंडी हवाओं का सितम जारी है। यहां आज का न्यूनतम तापमान 3.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। ठंड से बचने के लिए लोग अलाव का सहारा ले रहे हैं। यहां बच्चे पहले ठिठुरते हुए स्कूल पहुंचे और फिर उन्हें उल्टे पांव लौटा दिया गया। प्रशासन की लेटलतीफी के चलते समय पर नहीं जारी हो सका छुट्टी का आदेश। ऐसे में बच्चों को सुबह-सुबह कड़ाके की ठंड के बीच स्कूल पहुंचना पड़ा। विंध्य और महाकोशल में भी ठंड का सितम जारी है। डिंडोरी में तेज ठंड से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। यहां न्यूनतम तापमान एक डिग्री दर्ज किया गया है। कारों पर बर्फ की परत जम गई है। सुबह आठ बजे तक यहां कोहरा छाया रहा। सब्जी के साथ तेज ठंड की वजह से फसलें भी प्रभावित हो रही हैं। नरसिंहपुर में भी शीतलहर ने ठिठुरन बढ़ा दी है। वहीं सतना और आसपास के दूसरे जिलो में भी ठंड से राहत मिलती नहीं दिख रही है। तेज धूप के बाद भी सर्द हवाएं कपकंपाने पर मजबूर कर रही हैं। सोमवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 19.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 7 डिग्री कम है। वहीं, न्यूनतम तापमान 6.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो कि सामान्य से पांच डिग्री सेल्सियस कम है। राजधानी में दिनभर शीतलहर चली। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि हिमालयी क्षेत्रों में पश्चिमी विक्षोभ का असर प्रदेश में पड़ रहा है। वहीं आसमान खुलते ही हवाओं का रुख उत्तरी हो गया है। इससे वातावरण में नमी की मात्रा कम हुई और हवा की रफ्तार बढ़ी है। जिसके कारण ठंड का अहसास हो रहा है। मौसम विभाग के अनुसार आगामी 24 घंटे के अंदर सागर, उज्जैन, होशंगाबाद, ग्वालियर, चंबल, रीवा, जबलपुर और इंदौर संभाग के कुछ जिलों में तीव्र शीतलहर चलने की संभावना है। वहीं ग्वालियर, उज्जैन, होशंगाबाद, सागर, रीवा संभाग में पाला पड़ने की भी संभावना जताई गई है। भोपाल के स्कूलों में छुट्टी नहीं, पर समय बढ़ाया इधर, शीतलहर के बावजूद राजधानी के स्कूलों में अवकाश तो घोषित नहीं किया गया, लेकिन समय बढ़ा दिया गया है। कलेक्टर डॉ. सुदाम पी खाडे का कहना है कि मौसम विभाग से मंगवाई रिपोर्ट में उन्होंने मौसम के सामान्य होने की बात कही है, इसलिए स्कूलों में अवकाश नहीं दिया गया है। हालांकि, ठंड के चलते प्रदेश के इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर, रतलाम, सहित अन्य शहरों में स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया गया है। खंडवा में भी पहली से आठवीं कक्षा के लिए कलेक्टर ने घोषित किया अवकाश। मौसम विभाग का यह है पक्ष पिछले 24 घंटे के दौरान प्रदेश में मौसम शुष्क रहा। कुछ स्थानों पर कोल्ड-डे रहा तथा जबलपुर, सागर होशंगाबाद, भोपाल, इंदौर उज्जैन एवं ग्वालियर संभाग में शीतलहर चली। रीवा एवं शहडोल संभाग के कुछ जिलों में न्यूनतम तापमान में खासी गिरावट आई है। जबलपुर, सागर एवं होशंगाबाद संभाग के जिलों में भी न्यूनतम तापमान काफी गिरा है। शेष संभागों में कोई विशेष परिवर्तन नहीं रहा। चार बड़े शहरों में अधिकतम और न्यूनतम तापमान की स्थिति भोपाल19.36.4 इंदौर 20.17.3 जबलपुर 21.27.6 ग्वालियर 20.94.5
पिताजी ने कहा था, उस्ताद कभी मत बनना, हमेशा शागिर्द रहना
28 January 2019
भोपाल। मोबाइल पर इधर से जैसे ही उस्तादजी नमस्कार कहा गया, उधर से गूंज भरी आवाज उभरी... भाई मैं उस्ताद नहीं हूं। मुझे आप जाकिर या जाकिर भाई कहो। उस्ताद कभी बनना भी नहीं चाहूंगा, क्योंकि पिताजी ने कहा था कि उस्ताद बनने की कोशिश मत करना। हमेशा शागिर्द बने रहना, क्योंकि संगीत में इतनी गहराई है कि उम्र भर सीखते रहो तो भी कम है। इसलिए उस्तादी के मायाजाल में नहीं उलझना। मैं सोचने लगा कि जिस शख्स को दुनिया उस्ताद कहते नहीं थकती है, वो इस आसमानी कामयाबी के बावजूद किस कदर जमीन से जुड़ा है। ध्यान उनकी गूंज भरी आवाज पर भी गया, जिसका नाद तबले की नायाब थाप जैसा ही एहसास करा रहा था। बात हो रही है विश्वविख्यात तबला नवाज उस्ताद जाकिर हुसैन की। लाइव से विशेष चर्चा में उस्ताद ने कहा कि भोपाल और इंदौर शहर से कई खूबसूरत यादें जुड़ी हैं। पहली बार यहां आया था तब उम्र 12-13 साल रही होगी। लौटते समय मैं बाबा (उस्ताद अल्लारखा) के साथ ट्रेन से रतलाम की ओर जा रहा था। प्यास लगी तो बाबा एक स्टेशन पर पानी लाने उतर गए। वो पानी ला पाते, इससे पहले ही ट्रेन चल दी। उस दिन पहली दफा पिताजी को मैंने दौड़ते हुए देखा। किसी तरह उन्होंने ट्रेन तो पकड़ ली मगर इस बात का ध्यान रखा कि पानी भरे कुल्हड़ से पानी न छलक जाए वरना उनका बेटा प्यासा रह जाएगा। आज भी वो दृश्य यादकर अनजाने ही आंखें छलक उठती हैं। उल्लेखनीय है कि उस्ताद जाकिर हुसैन सोमवार को इंदौर में एक कार्यक्रम में प्रस्तुति देने आ रहे हैं। इंदौर में मिले वो पांच रुपए पिताजी को इंदौर में प्रोग्राम देना था उसमें पं. रविशंकर, उस्ताद अली अकबर खां, पं. ओंकारनाथ ठाकुर, उस्ताद बिस्मिल्ला खां और पं. कुमार गंधर्व भी परफॉर्म कर रहे थे। किसी ने पिताजी से पूछा आपका बेटा भी तो तबला बजाता है। फिर मुझे स्टेज पर बिठा दिया गया। मैंने सोलो बजाया तो लहरा देने के लिए हारमोनियम पर अप्पा झलगांवकर मौजूद थे। तब मेरा वादन सुनकर पं. ओंकारनाथ ने हाथ में पांच रुपए रखते हुए पूछा तुम मेरे साथ बंदिश बजाओगे? उन्होंने राग नट नारायणी की बंदिश बजाई थी। और वैसा ही हुआ पं. जसराज के साथ मैंने कई बड़े कंसर्ट्स में हिस्सा लिया। अमेरिका में एक कंसर्ट के दौरान किसी वजह से हारमोनियम वादक नहीं आ सका तो उन्होंने कहा जाकिर भाई तबले से हारमोनियम की कमी भी पूरी कर देंगे। इनके बाएं से भी सुर निकलता है और फिर कुछ ऐसा ही हुआ। तीन घंटे तक प्रोग्राम चला मगर क्या मजाल कि श्रोताओं को हारमोनियम की रत्ती भर कमी खली हो। मुझे लगता है कि ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि पं. जसराज को तबले की गहरी समझ है। शास्त्रीय गायन सीखने से पहले उन्होंने खूब तबला बजाया है। मैं बेस्ट तबला प्लेयर नहीं पं. सामता प्रसाद, किशन महाराज और पिताजी को मैं तबले का त्रिदेव मानता हूं। इन्होंने पेशकार, रेले, तिहाई, लग्गी, लड़ियां इस तरह बनाई हैं कि उनका जवाब नहीं है। इसलिए जब लोग कहते हैं कि आपकी वजह से तबला इतना मकबूल हो रहा है तो मैं उनसे इत्तेफाक नहीं रखता। आज भी 15-20 कलाकार ऐसे हैं जो मेरे बराबर या शायद मुझसे कहीं बेहतर बजा रहे हैं। जिनकी वजह से ये साज दुनिया भर में पसंद किया जा रहा है। अब तो अनुराधा पाल का अनुसरण कर कई लड़कियां कर रही हैं।
मध्‍यप्रदेश के मंत्री सज्‍जन सिंह वर्मा ने BJP को बताया रावण की वंशज
24 January 2019
भोपाल। प्रदेश के लोक निर्माण विभाग के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा है कि हमने वचन पत्र के माध्यम से वचन को पूरा किया तो हम राम के वंशज हैं और जिन्होंने तीन चुनाव के वादों को नहीं निभाया वे रावण के वंशज हुए। भाजपा तीन चुनाव से किसानों के 50 हजार रुपए के कर्ज माफ करने का वादा कर रही थी, लेकिन कभी पूरा नहीं किया। इसलिए जो वचन नहीं निभाए, वह रावण का वंशज हैं। यह बात वर्मा ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में बुधवार को किसान विजय रथ यात्रा के शुभारंभ कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि जनता ने दिखा दिया है कि जो यथार्थ के धरातल पर किसान, नौजवान के हित की बात करेगा, वह उनके दिल और प्रदेश पर राज करेगा। किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुर्जर की विधानसभा चुनाव के पहले की गई यात्रा पर वर्मा ने कहा कि उससे किसानों में कांग्रेस के प्रति विश्वास जागा। किसान, महिलाओं, नौजवानों, दलित और शोषित लोगों ने सरकार बनाई है। लोस चुनाव के बाद किसान जो कहेगा वह होगा वर्मा ने कहा है कि किसानों का आभार जताने के लिए यात्रा निकाली जा रही है, जिससे उन्हें बताया जा सके कि किसान का बेटा कहने वाले ने 15 साल तक उनकी छाती पर मूंग दली है और असली किसानों की हितैषी पार्टी कांग्रेस है। वर्मा ने कहा कि यात्रा से किसानों को विश्वास दिलाएं कि लोकसभा चुनाव में केंद्र में कांग्रेस सरकार बनाने पर किसान जो कहेगा, वह सरकार करेगी। किसान ही नहीं, सेना के साथ भी भाजपा ने छल किया। रथ यात्रा स्थानीय नेताओं के जिम्मे किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुर्जर ने बीमारी का हवाला देते हुए कहा कि डॉक्टरों ने उन्हें आराम की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि वे भोपाल के आसपास के क्षेत्र में यात्रा के साथ रहेंगे और प्रदेशभर में स्थानीय किसान कांग्रेस नेता यात्रा संभालेंगे। कुल 41 दिन प्रदेश में घूमने के बाद पांच मार्च को यात्रा मनासा में पहुंचेगी, जहां इसका समापन होगा। इस मौके पर जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा, वाणिज्यिक कर मंत्री बृजेंद्र सिंह राठौर, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल, किसान कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष नाना पटोले, एआईसीसी के सचिव महेंद्र जोशी, पीसीसी महामंत्री प्रशासन राजीव सिंह भी मौजूद थे।
मैडम...! वाट्सएप व फेसबुक के कारण नहीं हो रही पढ़ाई, कैसे पाएं छुटकारा
23 January 2019
भोपाल। मैडम! वाट्सएप व फेसबुक के कारण पढ़ाई नहीं हो पा रही है, इससे कैसे छुटकारा मिलेगा। जब भी वाट्सएप पर मैसेज आता है तो ध्यान वहीं चला जाता है, जबकि बोर्ड परीक्षा पास है। यह प्रश्न सीबीएसई स्कूल के एक छात्र ने माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) की हेल्पलाइन में पूछा। काउंसलर ने उसकी परेशानी को समझते हुए सलाह दी कि परीक्षा तक आप मोबाइल से दूर रहें। जब पढ़ाई करते-करते थक जाएं तो थोड़ी देर मनोरंजन के लिए मनपसंद गाने सुन लें। इस समय सोशल साइट्स से बिल्कुल दूरी बना लें, नहीं तो आप परीक्षा पर केंद्रित नहीं हो पाएंगे। काउंसलिंग में एक विद्यार्थी ने पूछा कि स्कूल में गणित का कोर्स पूरा नहीं हो सका है। इसका रिवीजन नहीं हो पा रहा है। गणित में मैं कमजोर हूं, इसलिए परीक्षा से डर लग रहा है, कोई विशेषज्ञ का नंबर दे दीजिए। हेल्पलाइन में विषय से संबंधित शिक्षकों की पैनल विषयों का समाधान कर रही है। माशिमं की हेल्पलाइन में कई सीबीएसई स्कूल के विद्यार्थियों के भी व्यक्तिगत समस्याओं से संबंधित कॉल आ रहे हैं। एक जनवरी से शुरू हुई हेल्पलाइन में अब तक 4700 कॉल आ चुके हैं। काउसंलर्स का मानना है कि गणित विषय की तैयारी से संबंधित प्रश्न अधिक पूछे जा रहे हैं। अभी विद्यार्थियों को पढ़ाई पर पूरा ध्यान लगाना चाहिए, उन्हें टीवी या सोशल साइट्स से दूर रहना चाहिए। वहीं माशिमं द्वारा विषय विशेषज्ञों की पैनल बनाई गई है। यदि किसी भी विद्यार्थी को विषय संबंधी समस्या होती है, तो उसे संबंधित विषय के टीचर का नंबर देकर उसकी समस्या का समाधान किया जाता है। समय प्रबंधन कर करें तैयारी काउंसलर्स ने बताया कि लगभग एक माह का समय बचा है। ऐसे में समय प्रबंधन कर सभी विषयों को बराबर समय सीमा में बांटकर पढ़ाई करें। सभी विषयों की बराबर तैयारी करें। साथ ही रिवीजन के लिए लिखकर प्रयास करें तो परीक्षा के समय स्पीड भी बरकरार रहेगी। हेल्पलाइन में विद्यार्थियों द्वारा अभिभावकों द्वारा दबाव बनाने की शिकायतें भी आ रही हैं। जिस पर काउंसलर्स की अभिभावकों को सलाह है कि बच्चों पर पढ़ाई करने या अधिक नंबर लाने का दबाव नहीं बनाएं। इन हेल्पलाइन में नंबरों में करें संपर्क फोन नं. 0755-2570248, 2570258 टोल फ्री नंबर 18002330175 परीक्षा से संबंधित कॉल ज्यादा परीक्षा से संबंधित विद्यार्थियों द्वारा प्रश्न पूछे जा रहे हैं। अभी विषय विशेषज्ञों के लिए अधिक कॉल आ रहे हैं, साथ ही कुछ व्यक्तिगत समस्याओं से संबंधित प्रश्न भी विद्यार्थियों द्वारा पूछे जा रहे हैं
शिक्षा विभाग में प्रमुख पदों पर महिलाएं, फिर भी स्कूल जाने में छात्राएं पीछे
22 January 2019
भोपाल । प्रदेश में सरकारी स्कूलों में साल-दर-साल बच्चों की संख्या कम हो रही है। हर साल प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों में 3 से 4 लाख बच्चों की संख्या घट रही हैं। प्रदेश में चल रहे 'स्कूल चले हम' अभियान, 'बेटी पढ़ाओ' सहित अनेक योजनाओं में सालाना करोड़ों रुपए खर्च करने के बावजूद सरकारी स्कूलों में बच्चों की दर्ज संख्या में बढ़ोतरी नहीं हो रही। हालात यह है कि पिछले दो सालों में छह लाख बच्चों ने सरकारी स्कूल छोड़ दिया है। शाला त्यागी (ड्राप आउट) बच्चों में छात्राओं की संख्या छात्रों के मुकाबले ज्यादा है। स्कूल शिक्षा विभाग ने यह रिपोर्ट जारी की है। वहीं, शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत गैर सरकारी संगठन प्रथम के वार्षिक सर्वेक्षण एनुअल स्टेटस ऑफ एजुकेशन रिपोर्ट (असर) में भी यह बात सामने आई है कि आठवीं में शाला त्यागी छात्राओं का प्रतिशत 26.8 है, जबकि छात्रों की संख्या 20.2 प्रतिशत है। हालांकि छात्राओं के नामांकन का प्रतिशत छात्रों के मुकाबले ज्यादा है, लेकिन स्कूल छोड़ने में भी छात्राएं आगे हैं। यह स्थिति तब है जब स्कूल शिक्षा विभाग में विभिन्न पदों पर महिलाएं ही प्रमुख हैं। इनमें स्कूल शिक्षा प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी, लोक शिक्षण संचालनालय की आयुक्त जयश्री कियावत और राज्य शिक्षा केंद्र की संचालिका आईरिन सिंथिया हैं, फिर भी छात्राओं को स्कूल में आकर्षित करने में ये महिला अधिकारी पीछे हैं। बच्चों को लुभाने में 500 करोड़ खर्च करता है विभाग प्रदेश सरकार की सभी योजनाएं बच्चों को लुभाकर सरकारी स्कूल तक पहुंचाने की हैं। इसमें केंद्र सरकार द्वारा भी 500 करोड़ का बजट स्कूल चले हम अभियान के तहत दिया जाता है। सरकारी स्कूलों में बच्चों की दर्ज संख्या बढ़े, इसके लिए सरकार निःशुल्क किताबें, यूनिफार्म व साइकिल वितरण जैसी योजनाएं चला रही है। सिर्फ किताबों के लिए 200 करोड़ रुपए का कागज खरीदा जाता है। इसी तरह प्रत्येक बच्चे के हिसाब से गणवेश के लिए 600 रुपए व लगभग 2500 रुपए साइकिल खरीदने के लिए दिए जाते हैं। स्कूल शिक्षा विभाग के आंकड़े प्रदेश में स्कूल की स्थिति - प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों की संख्या : 1,42,512 - 2016-17 में बच्चों की दर्ज संख्या : 72,04,678 2017-18 में बच्चों की दर्ज संख्या : 70,20,008 - 2016-17 में शाला त्यागी बच्चे : 4,18,844 इनमें छात्राएं - 2,53,252 व छात्र- 1,65,592 - वर्ष 2017-18 में शाला त्यागी बच्चे - 1,84,670 इनमें छात्राएं- 95,872, व छात्र- 88,798 असर की रिपोर्ट - नामांकन ड्रॉपआउट आठवीं कक्षा में छात्राएं (2018) 61 % 26.8 % आठवीं कक्षा में छात्र (2018) 59.4 % 20.2 % आठवीं कक्षा में छात्राएं (2016) 57.2 % 29.8 % आठवीं कक्षा में छात्र (2016) 55.4 % 20.2 % इनका कहना है हमारा प्रयास होगा कि अधिक से अधिक संख्या में बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ने जाएं। इसमें छात्राओं की उपस्थिति बढ़ाने के लिए विभागों द्वारा जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। साथ ही अभिभावकों को भी जागरूक किया जाएगा- प्रभुराम चौधरी, स्कूल शिक्षा मंत्री, मप्र सरकारी स्कूलों में आठवीं के बाद छात्राओं की संख्या ग्रामीण क्षेत्रों में कम होने का सबसे बड़ा कारण अभिभावकों के मन में बालिकाओं को लेकर असुरक्षा का भाव पैदा होना है। इसके अलावा उनकी शादियां भी कम उम्र में कर दी जाती है- सुनीता सक्सेना, शिक्षाविद्
महिला थाने में एक साल में दर्ज हुए 78 फीसदी दहेज प्रताड़ना के केस
21 January 2019
भोपाल। दहेज प्रथा पर रोक लगाने के लिए चाहे कितने भी कानून बन जाएं, लेकिन ऐसे मामलों में कमी नहीं आ रही है। राजधानी के महिला थाने में साल 2018 में सबसे अधिक दहेज प्रताड़ना के मामले दर्ज हुए हैं। एक साल में दर्ज हुए कुछ 177 अपराधों में से 139 दहेज प्रताड़ना के हैं। बता दें कि 78.5 प्रतिशत दहेज प्रताड़ना, 10.1 प्रतिशत मारपीट, 4.5 प्रतिशत दुष्कर्म के मामले दर्ज हुए हैं। वहीं छेड़छाड़ के 3.9 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए हैं। इस साल देह व्यापार का भी एक मामला दर्ज हुआ है। शिकायत पर कराई जाती है काउंसलिंग काउंसलर का कहना है कि महिला थाने में पहुंचने वाली शिकायतों पर पहले परिवार परामर्श केंद्र में काउंसलिंग कराई जाती है। जब दोनों पक्ष तैयार नहीं होते, तब एफआईआर दर्ज की जाती है। सबसे पहले तीन से चार बार पति-पत्नी और बाद में घरवालों की भी काउंसलिंग की जाती है। जब मामला बिल्कुल नहीं संभलता, तब एफआईआर दर्ज की जाती है। केस-1 : 5 लाख रुपए और कार की मांग कोलार निवासी शकुंतला साहू (काल्पनिक नाम) ने शिकायत कर अपने पति योगेश साहू और ससुराल पक्ष के खिलाफ 5 लाख रुपए और एक कार मांगने को लेकर दहेज प्रताड़ना का केस दर्ज कराया। इनकी शादी को तीन साल हुए थे और ससुराल वाले महिला को शारीरिक व मानसिक रूप से दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे थे और मायके में छोड़ दिया था। केस-2 : ससुराल वालों पर दर्ज कराया केस अशोकागार्डन निवासी प्राची यदुवंशी (काल्पनिक नाम) की शादी डेढ़ साल पहले रेलवे में कार्यरत राजेश यदुवंशी से हुई थी। ससुराल वाले हमेशा दहेज की मांग करते थे। प्राची ने पति व ससुराल वालों के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का केस दर्ज कराया। जबकि प्राची के घर वाले इस शादी में करीब 15 लाख रुपए खर्च कर चुके हैं। फैक्ट फाइल महिला थाना में साल 2018 में दर्ज मामले : 177 दहेज प्रताड़ना : 139 छेड़छाड़ : 07 दुष्कर्म : 08 मारपीट : 18 पीटा : 01 अन्य : 07 पहले काउंसलिंग कराते हैं थाने में आने वाली शिकायतों पर दो से तीन बार काउंसलिंग कराकर घर बचाने का प्रयास करते हैं, जब ससुराल वाले बिल्कुल नहीं मानते हैं, तब एफआईआर दर्ज की जाती है। पिछले साल सबसे अधिक दहेज प्रताड़ना के मामले दर्ज हुए हैं-
Madhya Pradesh में कर्मचारियों की पदोन्नति को लेकर उलझन में कमलनाथ सरकार
18 January 2019
भोपाल। प्रदेश के कर्मचारियों की पदोन्नति को लेकर राज्य सरकार उलझन में है। जहां कर्मचारी नई सरकार से पदोन्नति शुरू करने की आस लगाए बैठे हैं, वहीं सरकार लोकसभा चुनाव को देखते हुए बर्र के छत्ते में हाथ डालने से बच रही है। हालांकि हर स्तर पर कर्मचारियों को भरोसा दिलाया जा रहा है कि सरकार उनके साथ है और पदोन्नति शुरू करने के लिए हरसंभव कोशिश करेगी। गौरतलब है कि बीते 34 माह में प्रदेश में 36 हजार कर्मचारी बगैर पदोन्नति सेवानिवृत्त हो गए हैं। कमलनाथ सरकार ने 17 दिसंबर को कार्यभार संभाला है। सरकार को एक माह हो गया है, लेकिन अब तक कर्मचारियों की पदोन्न्ति पर सरकार का नजरिया स्पष्ट नहीं हुआ है। इससे कर्मचारियों में नाराजगी देखी जा रही है। वे विधि मंत्री और स्थानीय विधायक पीसी शर्मा से मिलकर पदोन्नति शुरू कराने का अनुरोध कर चुके हैं। उन्हें आश्वासन भी मिला है पर पदोन्नति शुरू होने की संभावना दिखाई नहीं देने से कर्मचारी कांग्रेस सरकार के खिलाफ भी मुखर होने लगे हैं। कर्मचारी चाहते हैं कि लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लगने से पहले सरकार फैसला ले, लेकिन वर्तमान में इसके आसार नहीं दिख रहे हैं। वोट बैंक की राजनीति के चलते भाजपा की तरह ही कांग्रेस सरकार भी इस मामले में कुछ भी करने से बच रही है। 34 माह में 36 हजार का हक छिना प्रदेश में पदोन्नति पर रोक लगे मार्च में तीन साल पूरे हो जाएंगे। यानी 34 माह से पदोन्नति पर रोक है। इस अवधि में करीब 55 हजार अधिकारी-कर्मचारी सेवानिवृत्त हुए हैं। उनमें से 36 हजार को इसी अवधि में पदोन्नति मिलनी थी। उल्लेखनीय है कि 30 अप्रैल 2016 को जबलपुर हाई कोर्ट ने पदोन्नति में आरक्षण मामले में फैसला सुनाते हुए 'मप्र लोक सेवा (पदोन्नति ) अधिनियम 2002" खारिज कर दिया था। मई 2016 में राज्य सरकार ने इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई थी, जिस पर सुनवाई चल रही है। इस बीच 2006 में आए एम. नागराज प्रकरण में गलत फैसले का तर्क दिया गया, जिसकी सुनवाई कर संविधान पीठ ने फैसला सुना दिया है। अब नए सिरे से युगल पीठ ने इस मामले में सुनवाई शुरू की है। पहले ही सुना चुके थे व्यथा कर्मचारी विधानसभा चुनाव से पहले ही कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और अब मुख्यमंत्री कमलनाथ को अपनी व्यथा सुने चुके हैं। कानूनी लड़ाई में फंसकर पदोन्न्ति गंवा बैठे दोनों वर्ग के कर्मचारी भी सशर्त पदोन्नति के लिए तैयार हैं। पिछली सरकार ने दोनों पक्षों के इस प्रस्ताव को सुना, पर सहमति नहीं दी। हालांकि पूर्ववर्ती सरकार ने अधिकारियों और कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति आयु 62 साल करके इस विरोध को साधने की कोशिश की है। इनका कहना है संविधान पीठ ने अपने फैसले में सब साफ कर दिया है। इस हिसाब से जबलपुर हाई कोर्ट का अप्रैल 2016 को आया फैसला सही है। सरकार को उस फैसले को लागू करना चाहिए। यदि दिक्कत हो, तो सशर्त पदोन्नति तो शुरू करें। हमने विधि मंत्री को ज्ञापन सौंपा है। अजय जैन, संस्थापक सदस्य, सपाक्स संविधान पीठ फैसला सुना चुकी है। बिहार सरकार इस फैसले के संदर्भ में आदेश जारी कर चुकी है जिससे वहां पदोन्न्ति शुरू हो गई हैं। यहां भी सरकार को ऐसा ही करना चाहिए। यदि ऐसा करने में कोई अड़चन ही है, तो सरकार को सशर्त पदोन्नति देना चाहिए। इसे लेकर हम सीएम से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंप चुके हैं। विजय श्रवण, प्रवक्ता, अजाक्स
Madhya Pradesh में बंद नहीं होगी मीसाबंदी सम्मान निधि, सत्यापन के बाद मिलेगी
17 January 2019
भोपाल। मीसाबंदियों को दी जा रही मासिक सम्मान निधि कमलनाथ सरकार बंद नहीं करेगी। लोकतंत्र सेनानियों का भौतिक सत्यापन घर जाकर किया जाएगा। इस दौरान स्थानीय व्यक्तियों से पूछताछ भी की जाएगी। सब कुछ ठीक पाए जाने पर सम्मान निधि का भुगतान होना शुरू हो जाएगा। सत्यापन के लिए सामान्य प्रशासन विभाग ने मंगलवार को कमिश्नर और कलेक्टरों को निर्देश दिए। यह काम राजस्व निरीक्षक स्तर से कम का अधिकारी नहीं करेगा। प्रदेश में लगभग दो हजार व्यक्तियों को सरकार मीसाबंदी सम्मान निधि दे रही है। कांग्रेस ने वचन पत्र में इस योजना को बंद करने का वादा किया था। सामान्य प्रशासन विभाग ने कमलनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद इस योजना को लेकर निर्णय करने का प्रस्ताव भेजा था। सरकार ने मीसाबंदियों को दी जा रही सम्मान निधि पर रोक लगाते हुए पहले सत्यापन कराने का निर्णय लिया। सामान्य प्रशासन विभाग ने मंगलवार को इसके आदेश जारी कर दिए। इसमें सभी कमिश्नर और कलेक्टरों से कहा गया है कि वे लोकतंत्र सेनानियों और दिवंगत लोकतंत्र सेनानियों के आश्रित के भौतिक सत्यापन की कार्यवाही स्थल पर जाकर कराएं। यह कार्यवाही राजस्व निरीक्षक स्तर के कर्मचारी से कराई जाए। इस दौरान स्थानीय व्यक्तियों से पूछताछ भी हो। सत्यापन के बाद सम्मान निधि की राशि के वितरण किया जाए। उल्लेखनीय है कि मीसाबंदी सम्मान निधि बंद किए जाने की संभावना को देखते हुए लोकतंत्र के सेनानियों ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने की चेतावनी दी थी। वहीं, सरकार योजना में किसी प्रकार का बदलाव करती है तो इसके लिए विधानसभा में संशोधन विधेयक लाना होगा, क्योंकि शिवराज सरकार ने लोकतंत्र सेनानी सम्मान निधि अधिनियम बना दिया है।
Organ Transplant Center: भोपाल में बनेगा प्रदेश का सबसे बड़ा ऑर्गन ट्रांसप्लांट केन्द्र
15 January 2019
भोपाल। ऑर्गन ट्रांसप्लांट के लिए प्रदेश का सबसे बड़ा सेंटर भोपाल में बनाने की तैयारी है। यहां पर हार्ट, लिवर, किडनी, कॉर्निया व अंगों का ट्रांसप्लांट हो सकेगा। चिकित्सा शिक्षा संचालनालय इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर रहा है। ईदगाह हिल्स में खाली पड़ी सरकारी जमीन पर यह केन्द्र बनाया जाना है। 2015 से प्रदेश में कैडेवर डोनेशन बढ़ा है। इसमें ब्रेन डेड मरीज (जिसके ब्रेन ने काम करना बंद कर दिया है) के अंग दान किए जाते हैं। इस मामले में पहले नंबर पर इंदौर और दूसरे नंबर पर भोपाल है। इसके चलते सरकारी आर्गन ट्रांसप्लांट सेंटर बनाने की जरूरत महसूस की जा रही थी। भोपाल प्रदेश के बीचों-बीच होने की वजह से यहां पर सेंटर बनाने की तैयारी है। चिकित्सा शिक्षा संचालनालय के अफसरों ने बताया कि हार्ट, लिवर, कॉर्निया, बोनमैरो ट्रांसप्लांट की सुविधा शुरू होगी। बता दें कि एम्स समेत प्रदेश के किसी भी सरकारी अस्पताल में हार्ट, किडनी, लिवर ट्रांसप्लांट नहीं हो रहा है। इस वजह से मरीजों को निजी अस्पतालों में आर्गन ट्रांसप्लांट कराना पड़ रहा है। एम्स व हमीदिया समेत कुछ अस्पतालों में सिर्फ कार्निया का ट्रांसप्लांट हो रहा है। यह होगा फायदा -मरीजों का कम खर्च में आर्गन ट्रांसप्लांट हो जाएगा। य पीजी व सुपर स्पेशलिटी कोर्स की पढ़ाई करने वाले छात्र आर्गन ट्रांसप्लांट के बारे में सीख सकेंगे। -एक ही जगह पर सभी तरह के ट्रांसप्लांट होने मरीज और डॉक्टर दोनों के लिए आसानी होगी।
Rose exhibition: 7 हजार गुलाब के फूल शामिल, ये वैराइटी बनी किंग ऑफ द शो
14 January 2019
भोपाल। शहर वासियों को लिंक रोड़ नंबर एक पर न सिर्फ 'राजा' बल्कि 'रानी' से भी रूबरू होने का मौका मिला। इसके अलावा उन्हें राजकुमार से भी मिलने का मौका मिला। एक से बढ़कर एक चटख रंगों के गुलाब देखकर मन खिल गया। इन फूलों की खूबसूरती देखने के लिए बड़ी संख्या में पर्यटक रविवार को गुलाब उद्यान पहुंचे। गुनगुनी धूप के साथ फूल की दुनिया के साथ समय बिताना सुखद आनंद की अनुभूति दे गया। मप्र रोज सोसायटी की ओर से जारी 38वीं गुलाब प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। इसमें 450 लोगों की एंट्री आई थी, जिसमें सात हजार गुलाब के फूल शामिल थे। इस प्रदर्शनी में निर्णायक के तौर पर कोलकाता के संजय मुखर्जी, दिल्ली के एडवोकेट राहुल कुमार और पुणे रोज सोसायटी के रविंद्र भिड़े शामिल हुए। पिछले साल की तुलना में कम रहे गमले मप्र रोज सोसायटी के अध्यक्ष एसएस गद्रे ने बताया कि इस बार पिछले साल की तुलना में गमलों की एंट्री कम हुई है। इस बार करीब 100 गमले कम आए हैं। वहीं फूलों की ज्यादा एंट्री आई है। जोकि पिछले वर्ष से 1000 ज्यादा हैं। उन्होंने बताया कि 'किंग ऑफ द शो' शीर ब्लिस और 'क्वीन ऑफ द शो' समर स्नो को चुना गया। किंग ऑफ द शो का खिताब सिंगल फूल की कैटेगिरी में दिया जाता है, जबकि क्वीन ऑफ द शो का खिताब गुच्छे वाले फूलों की कैटेगिरी में मिलता है, वहीं प्रिंस ऑफ द शो मिनिएचर कैटेगिरी में और प्रिंसेज ऑफ द शो पॉलीयन कैटेगिरी में दिया जाता है। ऐसे ही रेड रोज, यलो रोज, पिंक रोज, सेंटेड और व्हाइट रोज जैसी कैटेगिरी भी होती हैं
MP CM Kamalnath: मंत्रियों को जिलों के प्रभार सौंपे, CM कमलनाथ ने जरूरी निर्देश भी दिए
12 January 2019
भोपाल। कमलनाथ मंत्रिमंडल के गठन के बाद सभी को इंतजार था कि आखिरकार किस मंत्री को कौन से जिले का प्रभार दिया जाएगा। काफी दिनों की अटकलों के बाद कमलनाथ ने मंत्रियों को जिलों का प्रभार सौंप दिया है। इसमें खास बात ये है कि मंत्रियों को अपने गृह जिलों से दूर रखा गया है। कमलनाथ सरकार ने जिलों का प्रभार सौंपने के साथ ही मंत्रियों को किसान कर्जमाफी, पाला प्रभावित किसानों की सुनवाई के अलावा किसानों और अन्य वर्गों से जुड़े मामलों पर संवेदनशीलता बरतने के निर्देश भी दिए। सरकार कर्जमाफी की प्रक्रिया 15 जनवरी से शुरू कर रही है, ऐसे में सरकार का सबसे ज्यादा फोकस इसी योजना को लेकर है। प्रभारी मंत्रियों की सूची इस प्रकार है -
जानिए क्यों 14 साल बाद राष्ट्रीय राजनीति में भेजे गए पूर्व सीएम शिवराज
11 January 2019
भोपाल। पिछले 13 साल से प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे शिवराज सिंह चौहान का मध्यप्रदेश में दखल कम करने की कोशिश परवान चढ़ने लगी है। बताया जाता है कि विधानसभा चुनाव में मिली पराजय से नाराज पार्टी शिवराज द्वारा नेता प्रतिपक्ष के चयन में हाईकमान के फैसलों को चुनौती देने से खुश नहीं थी। विधानसभा स्पीकर व डिप्टी स्पीकर चुनाव के फैसले को गलत बताना भी पार्टी को रास नहीं आया। विधायक दल में खुद को आगे करने और नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी पर बैठने जैसी छोटी-छोटी बातें हाईकमान तक पहुंचाई जा रही थीं। माना जा रहा है कि अब उन्हें किसी अन्य राज्य का प्रभार देकर प्रदेश की राजनीति से रोजमर्रा का होने वाला दखल खत्म कर दिया। मुख्यमंत्री बनने के बाद कमलनाथ ने जिस तरह शिवराज की तारीफ की उसकी शिकायतें भी दिल्ली तक पहुंचाई गईं। हाल ही में उन्होंने पाला पीड़ित क्षेत्रों में दौरा करने का कार्यक्रम भी बनाया है। वे यह भी चाह रहे थे कि लोकसभा चुनाव में उनकी सक्रिय भूमिका मध्यप्रदेश में दिखे। इन सब कारणों के चलते पार्टी ने शिवराज को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाकर राष्ट्रीय राजनीति में सक्रिय कर दिया। गौरतलब है कि 14 साल पहले वे राष्ट्रीय महामंत्री पद से प्रदेश अध्यक्ष बनाए गए थे। तब से वे प्रदेश में काम कर रहे हैं। राष्ट्रीय कार्यसमिति से ठीक पहले हुए इस फैसले का प्रदेश की राजनीति पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा।
मध्‍यप्रदेश में कर्जमाफी के लिए मात्र 5 हजार करोड़ का इंतजाम, भाजपा बनाएगी मुद्दा
10 January 2019
भोपाल।कांग्रेस के वचन पत्र में किसानों की कर्जमाफी का मुद्दा अहम था। सरकार में आते ही कांग्रेस ने कैबिनेट में फैसला भी कर लिया पर अनुपूरक बजट में इसके लिए कोई खास इंतजाम नहीं किया गया है। 35 हजार करोड़ रुपए की जरूरत है और पांच हजार करोड़ की व्यवस्था की गई है। विभिन्न् किसान संगठन भी कर्जमाफी में देरी से नाराज हैं और वे आंदोलन की रणनीति बना रहे हैं। इधर, भाजपा किसान मोर्चे ने भी कर्जमाफी पर आंदोलन की चेतावनी दी है। मुख्यमंत्री बनते ही कमलनाथ ने भी सबसे पहले कर्जमाफी की फाइल पर हस्ताक्षर किए थे। इसके बाद किसानों का दो लाख रुपए तक का कर्जमाफ करने के दिशा-निर्देश जारी किए गए। माना जा रहा है कि लगभग 33 लाख किसानों को इस योजना का लाभ मिलेगा पर अनुपूरक बजट में की गई व्यवस्था से स्पष्ट है कि सरकार खाली खजाने में से इससे अधिक रकम कर्जमाफी के लिए नहीं निकाल सकती थी। ऊंट के मुंह में जीरा बराबर : अग्रवाल भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल का कहना है कि कांग्रेस ने वचन पत्र में जो वादा किया, उसके मुताबिक नियमित और डिफॉल्टर किसानों के सभी प्रकार के लोन यानी फसलीय और गैर फसलीय कर्ज माफ करना था, जिनके लिए पांच हजार करोड़ ऊंट के मुंह में जीरा समान है। दस दिन के बजाय सौ दिन में भी सौ किसानों के कर्ज माफ होने की प्रक्रिया का पालन सरकार नहीं कर पा रही है। हम किसानों से यही आग्रह करेंगे कि बैंक जाएं और पता लगाएं कि उनका दो लाख का लोन माफ हुआ या नहीं। लोकसभा चुनाव तक कांग्रेस कर्ज वसूली पर रोक लगा ले पर उसके बाद किसानों को प्रताड़ित करने का काम होगा। जैसा कर्नाटक में हो रहा है, जहां मात्र 800 किसानों का कर्ज माफ हुआ है।
मप्र विधानसभा: प्रजापति विधानसभा अध्यक्ष बने, ऐसे खारिज हुआ भाजपा का दावा
8 January 2019
भोपाल। गोटेगांव से कांग्रेस विधायक एनपी प्रजापति मप्र विधानसभा के अध्यक्ष होंगे। प्रोटेम स्पीकर ने भाजपा प्रत्याशी के प्रस्ताव स्वीकार नहीं करते हुए नियमों के तहत प्रजापति को अध्यक्ष घोषित कर दिया गया। इससे पहले मप्र विधानसभा में सदन में दूसरे दिन की कार्रवाई हंगामे का साथ शुरू हुई। विधानसभा में अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर ये हंगामा उस समय मचा जब प्रोटेम स्पीकर दीपक सक्सेना ने भाजपा प्रत्याशी विजय शाह का प्रस्ताव स्वीकार नहीं किया। इस पर भाजपा विधायक नाराज होकर आसंदी तक पहुंच गए और जमकर हंगामा किया। हंगामे के बीच प्रोटेम स्पीकर ने नियमों का हवाला देते हुए कहा कि कांग्रेस के प्रत्याशी का प्रस्ताव पास नहीं होगा उसके बाद ही भाजपा का प्रस्ताव लिया जाएगा। लेकिन सदन में मत विभाजन की स्थिति नहीं बनीं और ऐसे में भाजपा प्रत्याशी का प्रस्ताव स्वीकार नहीं किया जा सकता। लिहाजा एनपी प्रजापति विधानसभा के अध्यक्ष होंगे। भाजपा ने इसे लोकतंत्र की हत्या बताया है। इधर इससे पहले चर्चा थी कि संख्या बल में खुद को पिछड़ता देख भाजपा विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव से हट सकती है और विजय शाह अपना नामांकन वापस ले सकते हैं। लेकिन हंगामे के बीच प्रजापति मप्र विधानसभा के नए स्पीकर बन गए। प्रजापति 4 बार के विधायक हैं और वे कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में से हैं।
भाजपा विधायकों ने भोपाल में किया सामूहिक वंदे मातरम गान
7 January 2019
भोपाल। अपनी पूर्व घोषणा के मुताबिक भाजपा विधायकों और नेताओं ने मंत्रालय के सामने स्थित उद्यान में सामूहिक वंदे मातरम गायन किया। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में हुए इस गायन में भाजपा के अधिकांश विधायक पहुंचे। इस मौके पर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सरकार कोई परंपरा तोड़ेगी तो उसका मजबूती से विरोध किया जाएगा। गौरतलब है कि भाजपा की पूर्ववर्ती सरकार ने हर महीने की पहली तारीख को वंदे मातरम गायन की परंपरा शुरू की थी, लेकिन प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनते ही ये परंपरा टूट गई। वंदे मातरम का गायन नहीं होने पर भाजपा ने जबर्दस्त विरोध किया और इससे कांंग्रेस बैकफुट पर आई और कमलनाथ सरकार ने इसे नए स्वरुप के साथ शुरू करने की बात कही। लेकिन इसी दौरान शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में मंत्रालय के सामने उद्यान में सामूहिक वंदे मातरम गाने की घोषणा की। इसी घोषणा के मुताबिक भाजपा के विधायकों ने सामूहिक वंदे मातरम का गायन किया। वंदे मातरम गायन की परंपरा टूटने पर शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा था कि अगर कांग्रेस को राष्ट्र गीत के शब्द नहीं आते हैं या फिर राष्ट्र गीत के गायन में शर्म आती हैए तो मुझे बता दें! हर महीने की पहली तारीख को वल्लभ भवन के प्रांगण में जनता के साथ वंदे मातरम मैं गाऊंगा। वंदे मातरम गायन के बाद शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भाजपा नेता मार्च करते हुए विधानसभा नहीं जाएंगे। क्योंकि सरकार ने वंदे मातरम अलग फॉर्म में शुरू किया है। उन्होंने ये भी कहा कि सरकार कोई परंपरा तोड़ेगी तो प्रचंड विरोध किया जाएगा।
मध्य प्रदेश में दोहराया जा सकता है कर्नाटक एपीसोड, बचने के लिए कांग्रेस ने उठाया ये कदम
5 January 2019
भोपाल। 15 साल बाद सरकार में लौटी कांग्रेस के लिए अगले चार-पांच दिन अग्नि परीक्षा से कम नहीं हैं। खुद के असंतुष्ट और सहयोगी दलों सहित निर्दलीय विधायकों को स्पीकर के चुनाव तक पार्टी एकजुट रखना चाह रही है। इसके लिए राजधानी के होटलों में ठहराने के इंतजाम भी किए गए हैं। उनसे मिलने-जुलने वालों पर नजर रखने के लिए कांग्रेस के लोगों को भी उनके साथ ही ठहराया जा रहा है। कांग्रेस को डर है कि भाजपा कर्नाटक की तरह उनके विधायकों को प्रलोभन में फंसा सकती है। कांग्रेस ने प्रदेश में सरकार बनाने के लिए राजभवन को अपने 114 विधायकों के साथ चार निर्दलीय, दो बहुजन समाज पार्टी और एक समाजवादी पार्टी के विधायकों के आधार पर बहुमत जताया था। कांग्रेस ने विधायकों के लिए की होटल में व्यवस्था मंत्रिमंडल गठन के बाद पनपे असंतोष और भाजपा द्वारा स्पीकर का चुनाव लड़ने की खबरों से कांग्रेस सहमी हुई है। मायावती द्वारा भी समर्थन वापसी की धमकी ने कांग्रेस की नींद उड़ा रखी है। कांग्रेस सूत्रों ने भी स्वीकार किया कि वह ऐसे सभी विधायकों के संपर्क में है। इधर एक लक्जरी होटल में रियल स्टेट कंपनी के नाम से कमरों की बुकिंग कराई गई है। इसमें कल से राजधानी पहुंचने वाले विधायकों को ठहराया जाएगा। सरकार गिराना चाहती है भाजपा: दिग्विजय पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया है कि भाजपा प्रदेश की कांग्रेस सरकार को गिराना चाहती है। उसके कुछ विधायक कांग्रेस विधायकों को खरीदने के लिए रुपए लेकर घूम रहे हैं। मगर कांग्रेस विधायक इतने कमजोर नहीं हैं कि वे बिक जाएं। दिग्विजय सिंह ने यह आरोप एक न्यूज चैनल के साथ बातचीत में लगाए हैं। उन्होंने यह भी कहा है कि जिस तरह 2003 में वे अकेले पड़ गए थे, उसी तरह 2018 में शिवराज सिंह चौहान अकेले पड़ गए और भाजपा हार गई। कांग्रेस में सभी नेताओं के प्रयासों से प्रदेश में सरकार बन सकी है।
कांग्रेस का एक और वचन पूरा: आनंद और धर्मस्व को मिलाकर बनाया ये नया विभाग
4 January 2019
भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस के वचन पत्र के एक और वादे को गुरुवार को पूरा कर दिया। सामान्य प्रशासन विभाग ने अध्यात्म विभाग के गठन की अधिसूचना राजपत्र में प्रकाशन के लिए भेज दी। प्रदेश के इस 68वें विभाग में आनंद और धर्मस्व विभाग को समाहित (मर्ज) कर दिया गया। नया विभाग नर्मदा न्यास, ताप्ती, मंदाकिनी और क्षिप्रा नदी के न्यास का गठन, मध्यभारत गंगाजली निधि न्यास, पवित्र नदियों को जीवित इकाई बनाने के संबंध में कार्यवाही, राम वनगमन पथ में पड़ने वाले अंचलों का विकास सहित धर्मस्व और आनंद विभाग के अधीन आने वाले काम करेगा। सीएम बनने के बाद कमलनाथ ने अध्यात्म विभाग गठित किए जाने फैसला किया था, जिसे गुरुवार को मूर्त रूप दे दिया गया। इसमें धार्मिक न्यास और धर्मस्व व आनंद विभाग को मिला दिया। विभाग भारत व प्रदेश के मिश्रित संस्कृति के विकास के लिए प्रयास करेगा। विभाग के अंतर्गत वे सभी अधिनियम और नियम भी आएंगे, जो धर्मस्व विभाग के अधीन आते हैं। यह काम भी करेगा विभाग -धर्मस्थानों से जुड़े ऐतिहासिक स्थानों का रखरखाव। -धार्मिक स्थलों पर लगने वाले मेलों और आयोजनों पर भीड़ प्रबंधन एवं सुरक्षा की विशेष व्यवस्थाओं पर सुझाव देना। प्रदेश और बाहर के चिह्नित तीर्थस्थलों की यात्रा का प्रबंधन। - धार्मिक संस्थाओं की भूमि का प्रबंधन। पुजारी, महंत और कथावाचकों की नियुक्ति और उनको हटाना। -नगर, शहर और स्थानों को पवित्र घोषित करना।
Habibganj Station: फ्री हैंड तो छोड़ा नहीं, फिर पार्किंग में 1000 रुपए तक क्यों वसूल रहे
3 January 2019
भोपाल। हबीबगंज स्टेशन के री-डेवलपमेंट के लिए बंसल पाथ-वे हबीबगंज प्राइवेट लिमिटेड से रेलवे ने एग्रीमेंट ही तो किया है। फ्री हैंड तो नहीं छोड़ा है। फिर पार्किंग में यात्रियों से 1000-500 रुपए वसूल करने की शिकायतें संसद तक क्यों पहुंच रही हैं। आप (री-डेवलपमेंट कंपनी के अधिकारी की तरफ इशारा करते हुए) ये बंद करवा दो। हबीबगंज में वसूली का मामला काफी दिनों से गरमा रहा है। मेरे पास संसद, आम नागरिक और जनप्रतिनिधियों तक की शिकायतें हैं। ये चौथ वसूली बंद नहीं हुई तो परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहना। हबीबगंज स्टेशन में बुधवार सुबह 11.58 बजे ये चेतावनी रेलवे बोर्ड की पैसेंजर सर्विसेस कमेटी के चेयरमैन रमेश चंद्र रत्न ने डेवलपर कंपनी के अधिकारियों को दी। चेयरमैन के साथ कमेटी के सदस्य सुरेंद्र भगत, पूजा विधानी, रमेश शर्मा और एडीआरएम अजीत रघुवंशी व सीनियर डीसीएम विनोद तमोरी थे। सभी ने हबीबगंज व भोपाल स्टेशन पर यात्री सुविधाओं का जायजा लिया। कमियां मिलने पर फूड प्लाजा व स्टाल संचालकों पर 1 लाख 35 हजार रुपए का जुर्माना ठोंका। हबीबगंज व भोपाल स्टेशन में इन कमियों पर ठोंका जुर्माना 1- प्लेटफार्म-1 के मुख्य फूड प्लाजा में गंदगी मिली। कुछ खान-पान सामग्री खुली मिली। ज्यादातर पर प्रिंट रेट नहीं मिला। ऐसी खाद्य सामग्री भी थी, जिन्हें बेचने की अनुमति नहीं थी। -प्लेटफार्म 4-5 के फूड स्टालों में रेट लिस्ट, बिलिंग सुविधा, कर्मचारियों के मेडिकल प्रमाण पत्र, लाइसेंस नहीं मिले। एक स्टाल पर बदबूदार क्रीमरोल मिले। भोपाल स्टेशन के प्लेटफार्म-1 के रेलवे भोजनालय में भी ये कमियां मिलीं। एक फूड स्टॉल पर पेटिस में आलू का मसाला पुराना मिला। इन सभी कमियों को लेकर संचालकों पर जुर्माना लगाया। साथ ही सुधार करने चेतावनी दी। 2- हबीबगंज के प्लेटफार्म नंबर 4 व 5 पर यात्रियों ने बताया कि रैंप हटाने से बुजुर्ग व बीमार यात्री परेशान हैं। इस पर अधिकारियों से पूछा कि कब तक समस्या खत्म होगी। जवाब मिला कि सब-वे तैयार हैं, जल्द चालू कर देंगे। 3- हबीबगंज स्टेशन पर जीआरपी जवानों के लिए स्टेशन परिसर में अलग शौचालय नहीं होने की शिकायत मिली। इस पर बोले कि जवान शौच करने बाहर जाएंगे तो यात्रियों की सुरक्षा कौन करेगा। जल्द शौचालय बनवाओ। 4- मौके पर कई लोगों ने पार्किंग में अधिक वसूली की शिकायत की। इस पर जमकर भड़के। बोले- रेलवे बोर्ड में इस मुद्दे को उठाएंगे। ऐसा नहीं चलने देंगे। 5- हबीबगंज री-डेवलपमेंट के काम में देरी होना बताया और आपत्ति जताई। स्टेशन को वर्ल्ड क्लास बनाने के पहले पार्किंग में अधिक वसूली को बंद करने की चेतावनी दी। 6- भोपाल स्टेशन के बुक स्टालों पर सालों से बिकने वाली मैगजीन में भड़कीले फोटो होने को लेकर अश्लील पठन सामग्री बताई और न बेचने की सलाह दी। 7- भोपाल स्टेशन पर प्लेटफार्म व ट्रेनों के बीच अधिक गैप होने पर आपत्ति जताई। कहा- यात्री की जान जा सकती है। इसे ठीक करें। 8- भोपाल पर रिजर्वेशन रूम में गए, यात्रियों की कम संख्या होने पर आपत्ति ली। प्लेटफार्म 4 व 5 पर रेलनीर पानी की बोतल नहीं मिलने पर पूछताछ की। साफ-सफाई में कमियां मिलने पर बोले कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छता अभियान में कमी नहीं रहनी चाहिए। इन सवालों के गोलमाल जवाब दिए - हबीबगंज की पार्किंग में 1000-500 रुपए की वसूली करने की शिकायत किसने की है, यह पूछने पर कहा कि नहीं बताएंगे। लेकिन शिकायत करने वाले झूठ नहीं बोलेंगे। - दो महीने में कमेटी ने यात्री सुविधाओं में क्या कमियां पाईं और क्या सुधार होंगे। इस पर कुछ नहीं बता पाए। - रेलवे बोर्ड के तत्कालीन चेयरमैन अश्वनी लोहानी व इंडियन रेलवे स्टेशन डेवलपमेंट कार्पोरेशन के एमडी एसके लोहिया द्वारा हबीबगंज को 31 दिसंबर 2018 तक वर्ल्ड क्लास बनाने के दावे और काम की जमीनी हकीकत के बारे में पूछा तो कहने लगे कि देरी हो रही है, बोर्ड में इस पर चर्चा करेंगे। हालांकि, एग्रीमेंट के मुताबिक काम पूरा होने की अवधि जुलाई 2019 है। पूर्व के दौरे की तरह ही खानापूर्ति की कमेटी के चेयरमैन व सदस्यों ने पूर्व में हुए दौरे की तरह ही खानापूर्ति की। कोई नई पहल या नई कार्रवाई नहीं की। निरीक्षण के दौरान कुछ स्थानीय नेता हावी दिखे। स्टेशनों पर चली आ रही सालों पुरानी समस्याओं जैसे गंदगी, यात्रियों को बिल नहीं देने, बासी खाद्य सामग्री व रेलवे द्वारा निर्धारित से अलग सामग्री बेचने पर ही पूरा फोकस किया। ये नहीं चेतावनी दी कमेटी के चेयरमैन रमेशचंद्र रतन ने कहा कि केंद्र में नरेंद्र मोदी की सख्त सरकार है। हमें जो कमियां मिली हैं वे ठीक हुई है या नहीं, इसकी कभी भी मॉनीटरिंग कर सकते हैं। हमारे लोग सभी जगह हैं। इसलिए दौरे को गंभीरता से लें। चेयरमैन व सदस्यों की शाम को हबीबगंज डीआरएम दफ्तर में अधिकारियों के साथ बैठक हुई, जिसमें कमियों पर चर्चा हुई। इन पर लगाया जुर्माना हबीबगंज फूड प्लाजा पर 50 हजार व एक स्टाल संचालक पर 15 और दो स्टाल संचालकों पर 10-10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया। इसी तरह भोपाल में आरआर भोजनालय पर 20 हजार, एचआर चोपड़ा, मेसर्स खिलौना स्टॉल, एक्सप्रेस फूड, हरिश तिवारी, एसके एंड संस व अन्य पर 5-5 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। वहीं, सूत्रों का कहना है कि देर शाम को कुछ फूड प्लाजा व स्टाल संचालकों पर ठोका गया जुर्माना मान-मनव्वल के बाद माफ कर दिया है। लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई।
लोकसभा चुनाव में हार-जीत से तय होगा मंत्रियों का दमखम, सीटों की मिल सकती है जिम्मेदारी
2 January 2019
भोपाल । कमलनाथ मंत्रिमंडल के मंत्रियों की परीक्षा लोकसभा चुनाव में होने वाली है। वरिष्ठता और कनिष्ठता का भेद किए बिना मंत्री बनाने के बाद पार्टी अब लोकसभा चुनाव में पार्टी के क्षेत्रीय प्रत्याशी को मिलने वाली हार-जीत से उनका दमखम (क्षमता) तय करने का विचार कर रही है। दिग्गजों की सीटों को छोड़कर अन्य सीटों पर मंत्रियों को जिम्मेदारी देने की तैयारी है। मध्य प्रदेश में 15 साल बाद कांग्रेस सत्ता में लौटी है और अब उसकी नजरें लोकसभा चुनाव पर हैं। विधानसभा चुनाव के नतीजों को देखें तो कांग्रेस मुरैना, भिंड, ग्वालियर, गुना, दमोह, बालाघाट, मंडला, छिंदवाड़ा, राजगढ़, उज्जैन, रतलाम, धार, खरगोन, खंडवा लोकसभा क्षेत्रों में ही भाजपा के मुकाबले ज्यादा विधानसभा सीटें जीत सकी है, जबकि भाजपा ने सागर, टीकमगढ़, खजुराहो, सतना, रीवा, सीधी, होशंगाबाद, विदिशा, भोपाल, मंदसौर लोकसभा सीटों में कांग्रेस से ज्यादा विधानसभा सीटें जीती हैं। वहीं शहडोल, जबलपुर, देवास, इंदौर और बैतूल सीटों पर दोनों ही पार्टियों ने चार-चार विधानसभा सीटें जीती हैं। सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस लोकसभा चुनाव में 24 सीटों का लक्ष्य लेकर रणनीति तैयार करने में जुटी है। इसके लिए मंत्रियों को भी लोकसभा सीट जिताने की रणनीति बनाए जाने पर विचार मंथन शुरू हुआ है। उनकी क्षमता को लोकसभा चुनाव में दी जाने वाली सीट की हार-जीत से जोड़े जाने की तैयारी है। हालांकि इसको लेकर संगठन स्तर पर पदाधिकारी चुप्पी साधे हैं। गौरतलब है कि इस तरह की रणनीति भाजपा सरकार भी हर चुनाव में अपनाती रही है। भाजपा के प्रभाव वाले क्षेत्र पर जोर सूत्रों का कहना है कि सागर, टीकमगढ़ और दमोह सीटों के लिए मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, बृजेंद्र सिंह राठौर, हर्ष यादव को जिम्मेदारी मिलने की संभावना है। वहीं जबलपुर में लखन घनघोरिया, मंडला में ओंकार सिंह मरकाम, विदिशा में डॉ. प्रभूराम चौधरी, भोपाल में पीसी शर्मा व आरिफ अकील, देवास में सज्जन सिंह वर्मा, धार में उमंग सिंघार, बैतूल में सुखदेव पांसे, खरगोन व खंडवा में डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ व सचिन यादव तो इंदौर में दोनों मंत्री तुलसीराम सिलावट व जीतू पटवारी को लोकसभा चुनाव जिताने का जिम्मा सौंपने पर विचार चल रहा है। किस सीट पर कांग्रेस की कैसी स्थिति
माता-पिता समझें कि पढ़ाई कर रहा है, बच्चे ने किताब काटकर फिट कर दिया मोबाइल
28 December 2018
भोपाल। एक निजी स्कूल का 12वीं का छात्र दिन-रात मोबाइल पर चैटिंग करता था। इसलिए मां-बाप उसे टोकते रहते थे। उनकी डांट से बचने के लिए उसने किताब को काटकर उसमें मोबाइल फिट कर दिया। घरवालों को लगता बेटा सुधर गया है और पढ़ने लगा है। लेकिन जब वह छमाही परीक्षा में फेल हुआ, तब माता-पिता को उसके कारनामे का पता चला। यह मामला काउंसलिंग के लिए चाइल्ड लाइन में पहुंचा। काउंसलर्स ने माता-पिता और बच्चे की काउंसलिंग कर समझाइश दी। बच्चा साकेत नगर में रहता है। उसकी मां प्रोफेसर और पिता बैंक में कार्यरत हैं। तब बेटे की काउंसलिंग के लिए माता-पिता उसे लेकर चाइल्ड लाइन पहुंचे। बता दें कि चाइल्ड लाइन में एक माह में करीब 5 से 6 ऐसे मामले आ रहे हैं, जिसमें मोबाइल पर रोकटोक और पढ़ाई के डर से बच्चे घर छोड़ कर भाग रहे हैं। ऐसा करने वालों में 13 ये 18 वर्ष की उम्र के बच्चे शामिल हैं। चाइल्ड लाइन की काउंसलर्स का कहना है कि मोबाइल के लिए रोक-टोक करने पर आजकल बच्चे अग्रेसिव हो जा रहे हैं। ऐसे बच्चों की काउंसलिंग बहुत जरूरी है। ऐसे मामलों में बच्चों को चाइल्ड लाइन में अन्य बच्चों के साथ रखने के लिए भी अभिभावकों से कहा जाता है, ताकि वे दूसरे बच्चों की परेशानी को समझ सके। काउंसलिंग में कई ऐसे मामले आ रहे हैं। केस- 1 शाहपुरा निवासी 16 वर्षीय किशोरी अपनी मां की डांट से परेशान होकर घर छोड़कर चली गई थी। दो-तीन बाद झांसी से रेलवे चाइल्ड लाइन ने उसे सीडब्ल्यूसी में पेश किया। काउंसिलिंग में बालिका ने बताया कि उसकी मां उसे मोबाइल पर बात कम करने और पढ़ाई करने के लिए डांटती थी। जिससे परेशान होकर वह घर छोड़कर चली गई। केस-2 अशोका गार्डन निवासी 9वीं की छात्रा के माता-पिता ने चाइल्ड लाइन में शिकायत की कि उनकी बेटी रात-रात भर फोन पर बात करती है। मना करते हैं तो वह खुद को कमरे में बंद कर लेती है। सामान तोड़ने-फोड़ने लगती है। काउंसलिंग में छात्रा ने बताया कि मम्मी-पापा फोन पर बात करने से रोकते हैं, जो उसे अच्छा नहीं लगता है। केस-3 कोलार निवासी 11वीं के छात्र को पिता ने दिनभर मोबाइल पर चैटिंग करने से रोका तो वह घर छोड़कर ही भाग गया। वह मुंबई चला गया। करीब तीन से चार दिन बाद छात्र को भोपाल चाइल्ड लाइन लेकर आई। जब बच्चे की काउंसलिंग की गई तो उसने बताया कि पापा उसे मोबाइल पर चैटिंग के लिए डांटते और पढ़ाई के लिए कहते रहते थे। समझाइश देते हैं चाइल्ड लाइन में हर माह 5 से 6 किशोर बच्चों के भागने के मामले सामने आ रहे हैं, जिसमें वे मोबाइल पर रोक लगाने और पढ़ाई करने के लिए अभिभावकों से मिले डांट-फटकार के कारण बच्चे घर छोड़कर भाग रहे हैं। काउंसलिंग कर उनको समझाइश दी जाती है-
भोपाल: प्रोफेसर समेत तीन महिलाओं को लूटा, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात
27 December 2018
भोपाल। शहर में बाइक सवार लुटेरे फिर सक्रिय हो गए हैं। बुधवार को महिलाओं के साथ लूट के तीन मामले सामने आए हैं। अकेले कोलार में दोपहर को एक घंटे में दो वारदात हुईं। पहली लूट सीआई पार्क व्यू कोलार में रिटायर्ड डीजीएम की पत्नी के साथ हुई। उनका पर्स लूट लिया गया। दूसरी वारदात इसके एक घंटे बाद गुड शेफर्ड कॉलोनी में महिला प्रोफेसर के साथ हुई। बदमाश उनका मंगलसूत्र छीनकर फरार हो गए। जबकि तीसरी लूट बागसेवनिया में बुजुर्ग महिला के साथ हुई। बाइक सवार उनकी सोने की चेन छीनकर फरार हो गए। इन तीनों वारदात में बदमाशों का हुलिया एक जैसा होने की बात सामने आ रही है। सीसीटीवी में बदमाश कैद हो गए हैं, लेकिन फुटेज धुंधले हैं। पुलिस मामले दर्ज कर बदमशों को तलाश रही है। कोलार थाना प्रभारी एसआई नवीन पांडे के मुताबिक ऐश्वर्या मिश्रा (40) डीके-2 में रहती हैं। वह आईईएस कॉलेज रातीबड़ में प्रोफेसर हैं। बुधवार दोपहर वह कॉलेज की बस से लौटीं। दो बजे गुड शेफर्ड कॉलोनी चौराहे पर उतरकर वह घर के लिए पैदल जाने लगी। इसी दौरान बाइक सवार दो बदमाश आए और गले पर झपट्टा मारकर डेढ़ तोले का मंगलसूत्र ले उड़े। उसकी कीमत 32 हजार रुपए बताई जा रही है। बदमाशों की तस्वीर सीसीसीवी कैमरे में कैद हो गई है। लेकिन फुटेज धुंधले हैं। बाइक चला रहा बदमाश हेलमेट पहने हुए था, जबकि पीछे बैठा बदमाश सिर पर पगड़ी जैसा कुछ पहना हुआ था। बाइक पर नंबर नहीं था। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है लुटेरे से संघर्ष में रिटायर्ड डीजीएम की पत्नी घायल सीआई पार्क व्यू कोलार में रहने वाली 64 वर्षीय क्षमा भटनागर गृहिणी हैं। उनके पति जीके भटनागर दुग्ध संघ से डीजीएम पद से रिटायर हुए हैं। पीड़िता के परिवार का कहना है कि बुधवार दोपहर एक बजे क्षमा सामान लेकर मार्केट से घर लौट रही थी। रास्ते में एक पैदल बदमाश तेजी से उनके पास आया और झपट्टा मारकर पर्स छीनकर फरार हो गया। बुजुर्ग महिला ने बदमाश से संघर्ष किया, लेकिन वह सड़क पर गिरकर घायल हो गईं। पर्स में 700 रुपए थे। घर पहुंचने पर उन्होंने परिजनों को पूरा घटनाक्रम बताया। इस वारदात की सूचना उन्होंने पुलिस को नहीं दी है। महिला से पता पूछने के बहाने गले से चेन झपटी इधर बागसेवनिया में एक बुजुर्ग महिला से लूट का मामला सामने आया है। पीड़िता घर के बाहर धूप सेंक रही थी। इस दौरान बाइक सवार लुटेरे आए और पता पूछने के बहाने उनकी चेन लूटकर फरार हो गए। कौशल्या सोनी (62) 9-बी साकेत नगर में रहती हैं और गृहणी हैं। बुधवार की दोपहर को वे अपने घर के बाहर बैठकर धूप सेंक रही थी। इसी दौरान बाइक सवार दो बदमाश उनके पास पहुंचे। पता पूछने के बहाने एक बदमाश उनके नजदीक आया। महिला ने पते की जानकारी नहीं होने की बात कही, तभी बदमाश ने गले पर झपट्टा मारकर सोने की चेन खींच ली। महिला ने भी चेन हाथ से पकड़ ली और शोर मचाने लगी, तभी बदमाश मौके से भाग निकले। कौशल्या से टूटी हुई चेन का हिस्सा तो मिल गया, लेकिन तीन ग्राम वजनी सोने का पैंडल नहीं मिला है। इस मामले में भी बदमाशों का हुलिया वही बताया गया है, जो कोलार इलाके में वारदात करने वालों का बताया गया था।
तौलिए चोरी होने से तंग रेलवे अब मुसाफिरों को देगा ईको फ्रेंडली नैपकिन, ऐसे होगा खास
25 December 2018
भोपाल। ट्रेनों में तौलिए चोरी होने से परेशान रेलवे अब अपने यात्रियों को पर्यावरण फ्रेंडली डिस्पोजल नैपकिन देने की तैयारी कर रहा है। ये नैपकिन एक बार उपयोग होंगे। खुले में फेंकने पर ये पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। क्योंकि ये बायोडिग्रेडेबल होंगे। यानी पूरी तरह पर्यावरण फ्रेंडली होंगे। अभी ट्रेनों के एसी कोचों में सफर करने वाले यात्रियों को रेलवे द्वारा बेडशीट, कंबल के साथ तौलिए दिए जाते हैं। रेलवे एक यात्री के लिए एक तौलिए देता है। यात्री सफर के दौरान इन तौलियों का उपयोग करते हैं। बाद में रेलवे की गिनती में ये तौलिए कम निकलते हैं, रेलवे का तर्क है कि तौलिए चोरी हो जाते हैं। अभी हबीबगंज से हजरत निजामुद्दीन के बीच चलने वाली भोपाल एक्सप्रेस के एसी-1 और एसी-2 में यात्रियों को तौलिए मिलते हैं। अकेले भोपाल एक्सप्रेस में से सालाना 250 से लेकर 300 तौलिए चोरी हो जाते हैं। इसके पहले सालाना 800 से 1000 तौलिए चोरी होते थे। यही स्थिति देशभर में चलने वाली राजधानी, शताब्दी, दुरंतो एक्सप्रेस और मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों में रहती है। इस समस्या को देखते हुए शनिवार भोपाल पहुंचे रेलवे बोर्ड के एडीशनल मेंबर (मैकेनिकल) अनिल अग्रवाल ने हबीबगंज डिपो में कहा कि अब ट्रेनों में यात्रियों को नैपकिन देना चाहिए। भोपाल एक्सप्रेस में भी उन्होंने तौलिए की जगह डिस्पोजल नैपकिन देने की बात कही है। ये होंगे डिस्पोजल नैपकिन के फायदे - चोरी होने की चिंता नहीं होगी। क्योंकि एक बार उपयोग करने के बाद ये दोबारा उपयोग करने योग्य नहीं बचेगी। - तौलिए की तरह धुलाई की चिंता नहीं होगी। अभी तौलिए को धुलना पड़ता है। एक बार में तौलिए को धुलने में 2 से 3 रुपए का खर्च आता है। जबकि डिस्पोजल नैपकिन की कीमत 2 से ढाई रुपए की होती है। ऐसे में नैपकिन ही ज्यादा ठीक हो सकते हैं। - कई बार तौलिए ठीक से साफ नहीं होते, इसके कारण यात्रियों को उपयोग करने में संकोच होता है। नैपकिन के साथ यह स्थिति नहीं होगी। - ज्यादातर यात्री पुराने तौलिए का उपयोग करना ठीक नहीं समझते। ऐसे यात्री खुद साथ में तौलिए लेकर सफर करते हैं। इन यात्रियों को आशंका रहती है कि किसी दूसरे के द्वारा उपयोग किए गए तौलिए को ठीक से धोया नहीं होगा। कई बार तो रेलवे को तौलिए से बदबू तक आने की शिकायत मिल चुकी है। - तौलिए चोरी होने पर संबंधित ट्रेन में चलने वाले अटेंडर के वेतन से उसकी कीमत वसूली जाती है, इसके कारण उन्हें नुकसान होता है। नैपकिन देने से यह समस्या खत्म हो जाएगी। ये हो सकती है दिक्कत अभी एक यात्री को एक तौलिए दिए जाते हैं, जिसका वह सफर के दौरान कई बार उपयोग करता है। लेकिन नैपकिन का एक बार ही उपयोग किया जा सकता है। ऐसे में एक यात्री को एक से अधिक नैपकिन देने होंगे। यात्रियों से लिया जाएगा फीडबैक रेलवे बोर्ड के अधिकारियों की माने तो तौलिए की जगह नैपकिन देने के बाद रेलवे यात्रियों से फीडबैक लेगा। फीडबैक में यात्रियों ने नैपकिन को उचित बताया तो ही नैपकिन देने वाली व्यवस्था को स्थाई रूप से लागू किया जाएगा।
प्रदेश के सबसे बड़े हॉस्पिटल में नहीं हो पा रही बेसिक जांचें
23 November 2018
भोपाल, हमीदिया-सुल्तानिया बिस्तरों के लिहाज से प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल हैं। दोनों अस्पतालों में मिलाकर हर दिन करीब 70 ऑपरेशन होते हैं। लेकिन, इनकी सर्जरी तभी हो सकती है, जब जांचें बाहर से कराकर लाएं। वजह है, हमीदिया अस्पताल में करीब महीने भर से एक दर्जन जरूरी जांचें बंद हैं। किट नहीं होने की वजह से यह जांचें नहीं हो पा रही हैं। ओपीडी में आने वाले मरीजों में हर दिन करीब 200 मरीज बिना जांच लौट रहे हैं। बजट की कमी के चलते किट की खरीदी नहीं हो पा रही है। दो महीने पहले भी इसी तरह की दिक्कत हुई थी। इसके बाद कुछ दिन के लिए किट आ गईं। अब फिर से वही हालात बन गए हैं। मरीजों को आधी जांचें हमीदिया में और उतनी ही बाहर से करानी पड़ रही हैं। एक जांच पर 150 से लेकर 450 रुपए तक खर्च होते हैं। सबसे ज्यादा दिक्कत इमरजेंसी में आने वाले या भर्ती मरीजों को हो रही है। अपरान्ह 3 बजे से अगले दिन सुबह 9 बजे तक इन मरीजों की सिर्फ सुगर व इलेक्ट्रोलाइट (सोडियम व पोटेशियम) की जांच की जाती है। यह जांचें नहीं हो रहीं ट्राइग्लिसराइड : खून को गाढ़ा करने वाला तत्व कोलेस्ट्रॉल : नसों को ब्लॉक करने वाले तत्व की जांच बिलीरुबिन (टोटल व डायरेक्ट) : पीलिया की जांच सीरम एल्केलाइन फॉस्फेट : लिवर की जांच सीपीके एमबी : नसों में ब्लॉकेज का रिस्क पता करने के लिए यूरिया : किडनी की बीमारी, आर्थराइटिस व अन्य की जांच के लिए क्रेटनिन : किडनी की बीमारी एचबीए 1सी : डायबिटीज की जांच सीरम एसिड फॉस्फेट : किडनी की जांच - कई जरूरी जांचें आज तक शुरू ही नहीं हुईं हमीदिया अस्पताल की सेंट्रल पैथोलॉजी लैब में हमीदिया-सुल्तानिया के मरीजों की जांच की जाती है। करीब 250 मरीजों की हर दिन 1500 से 1800 जांचें यहां की जाती हैं। मेडिकल कॉलेज होने के बाद यहां कई जरूरी जांचें नहीं हो रही हैं। डॉक्टर निजी लैब से जांच कराने की सलाह देते हैं। विभिन्न विभाग के डॉक्टर हर दिन करीब 40 मरीजों को विटामिन डी व विटामिन बी-12 की जांच कराने की सलाह देते हैं। हमीदिया में यह जांच नहीं हो रही हैं। प्रोस्टेट कैंसर का पता करने के लिए पीएसए, किडनी की बीमारी पता करने के लिए माइक्रो एल्बुमिन साधारण जांचें हैं, जो हमीदिया में नहीं हो रही हैं।
ऑनलाइन ठगी की जांच के लिए अमेरिकी जांच एजेंसी FBI भोपाल पहुंची, मामले से जुड़े अहम साक्ष्य सौंपे
20 November 2018
भोपाल, अमेरिका की खुफिया एजेंसी एफबीआई की टीम सोमवार को भोपाल पहुंची और साइबर क्राइम भोपाल के अफसरों से मुलाकत की। उनका भोपाल आने का एक ही मकसद है कि इंद्रपुरी में संचालित कॉल सेंटर द्वारा अमेरिकी और कैनेडियन नागरिकों से हुई धोखाधड़ी के आरोपितों की गिरफ्तारी की जा सके। एफबीआई की टीम ने ठगी के शिकार अमेरिकी नागरिकों के बयान भी साइबर क्राइम को सौंप दिए हैं। टीम ने भरोसा दिलाया है कि उनको किसी भी नागरिक के बारे में जानकारी चाहिए तो वह वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए ले सकते हैं। यह पहला मौका है कि किसी आपराधिक मामले को लेकर एफबीआई भोपाल पहुंची है और साइबर क्राइम के साथ मिलकर जांच कर रही है। इस ठगी के खुलासे के लिए सायबर पुलिस को अमेरिकी एजेंसी एफबीआई से प्रशंसा पत्र और स्मृति चिह्न भी मिला है। बता दें कि भोपाल के इंद्रपुरी में अवैध कॉल सेंटर संचालित किया जा रहा था। जहां पर साइबर क्राइम ने 31 अगस्त को छापा मारा तो लोगों के साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी के काफी साक्ष्य बरामद किए थे। वहीं पर पुलिस को अमेरिका के नागरिकों का डाटा भी मिला था, जिन्हें ठगी का शिकार बनाया गया था। अभी इस मामले में आठ लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। इसके साथ ही जयपुर में भी इसी प्रकार के रैकेट का खुलासा किया गया था। एफबीआई की टीम ने सौंपे अहम साक्ष्य अमेरिका की खुफिया एजेंसी एफबीआई ने सोमवार को ठगी के शिकार हुए अमेरिकी नागरिकों कथन, अपराध में उपयोग किए गए फर्जी ईमेल, आईडी, अमेरिका के नाािगरिकों को भेजे जा रहे फर्जी दस्तावेज, अरेस्ट वारंट, जब्त अमेरिकन नागरिकों का डाटा वेरीफिकेशन कर साक्ष्य साइबर क्राइम को सौंप दिए। पिछले दिनों ही साइबर क्राइम की स्पेशल डीजी अरुणा मोहन राव अपनी टीम के साथ दिल्ली गई थीं। जहां एफबीआई टीम को इस धोखाधड़ी के बारे में जानकारी दी गई थी। एफबीआई ने नई शिकायतें भी सौंपी साइबर क्राइम के एसपी राजेश सिंह भदौरिया का कहना है कि एफबीआई की टीम भोपाल पहुंची है। एफबीआई के अफसर सुहैल दाउद ने अमेरिकन नागरिकों द्वारा की नई शिकायत की गई थी । जिनको भी साइबर क्राइम को सौंप दिया। उन्होंने भरोसा दिलाया है कि जिनके साथ धोखाधड़ी हुई थी। वह साइबर क्राइम को वीडियो कान्फ्रेसिंग के जारिए जानकारी के उपलब्ध रहेंगे। एफबीआई के अफसर ने साइबर क्राइम के अफसरों से भी मुलाकत की और भरोसा दिलाया कि आगे भी इस प्रकार की ठगी में आगे भी कोई मदद की जरूरत हो तो वह मदद को तैयार हैं। अमेरिकी लैंग्वेज में आस्ट्रेलियन तथ्य थे एफबीआई के अफसर सुहैल दाउद ने साइबर क्राइम को बताया कि आरोपियों द्वारा जो पीड़ितों को भेजे गए अरेस्ट वारंट फर्जी थे। उनमें अमेरिकी लैंग्वेज के साथ आस्ट्रेलियन तथ्यों को भी जोड़ा गया था, जिसे पीड़ित समझ नहीं पाए और जालसाजी का शिकार हो गए। अब एफबीआई वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अमेरिका में बैठे पीड़ितों के बयान जिला अदालत में दर्ज कराएगी।
भोपाल: सीएम शिवराज का विरोध करने वाले पूर्व विधायक गिरिजाशंकर शर्मा की भाजपा में वापसी
15 November 2018
भोपाल। पूर्व विधायक और भाजपा से निष्कासित किए गए पूर्व विधायक गिरिजाशंकर शर्मा की भाजपा में वापसी हुई है। भाजपा के प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे ने गिरिजाशंकर शर्मा की वापसी कराई। गिरिजाशंकर शर्मा ने नर्मदा में अवैध उत्खनन को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तक का विरोध किया था। हालांकि पार्टी ने उनका निलंबन वापस ले लिया है। आपको बता दें कि गिरिजाशंकर शर्मा विधानसभा अध्यक्ष सीतासरन शर्मा के भाई हैं और पूर्व विधायक हैं। नगरीय निकाय चुनाव के दौरान उन्होंने पार्टी से बगावत की थी जिसके चलते भाजपा ने उन्हें 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया था। लेकिन गुरुवार को उनकी ससम्मान पार्टी में वापसी हुई। उनके साथ 10 अन्य लोग की भी पार्टी में वापसी हुई। इस दौरान भाजपा के प्रदेश कार्यालय में विनय सहस्त्रबुद्बे के अलावा संगठन महामंत्री सुहास भगत, विनोद गोटिया, ब्रजेश लूनावत और अन्य नेता मौजूद थे। गिरिजाशंकर ने सीएम शिवराज सिंह के खिलाफ बुधनी में हुए कांग्रेस के जल सत्याग्रह में भी हिस्सा लिया। वे बुधनी से ही कांग्रेस से टिकट चाह रहे थे, लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिला। बाद में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा के बाद उनकी वापसी तय हुई। गिरिजाशंकर की वापसी से भाजपा को होशंगाबाद में लाभ मिलेगा। क्योंकि फिलहाल होशंगाबाद से डॉ. सीतासरण शर्मा के खिलाफ पूर्व मंत्री सरताज सिंह मैदान में हैं।
भोपाल: जीका का कहर जारी, 15 नए मरीज सामने आए
13 November 2018
भोपाल, शहर में जीका वायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। सोमवार को इससे पीड़ित 15 नए मरीज सामने आए हैं। एम्स भोपाल में हुई जांच में उनमें जीका वायरस होने की पुष्टि हुई है। अंतिम जांच के लिए यह नमूने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) पुणे भेजे गए हैं। मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही बुखार व लार्वा सर्वे में लगी टीमों की संख्या कम होती जा रही है। शुरू में 165 टीमें लगी थीं, पर अब सिर्फ 125 टीमें ही काम कर रही हैं। टीम कम होने के चलते जीका प्रभावित जगह से सिर्फ एक किमी के दायरे में छिड़काव किया जा रहा है। नेशनल वेक्टर बार्न डिसीज कंट्रोल प्रोग्राम (एनवीडीसीपी) की गाइड लाइन के अनुसार प्रभावित जगह से तीन किमी के दायरे में सर्वे जरूरी है। 15 नए मरीज मिलने के साथ ही भोपाल में जीका पीड़त मरीजों की संख्या 44 हो गई है। इनमें 39 मरीज पिछले पांच दिन में मिले हैं। इन मरीजों के घरों व दफ्तरों के तीन किमी के दायरे में बुखार व लार्वा सर्वे करने के लिए कम से कम 400 टीमों की जरूरत है। कर्मचारी कम होने की वजह से टीमें नहीं बढ़ाई जा रही हैं। लिहाजा अब सर्वे का दायरा कम कर दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि चारों ओर एक किमी के दायरे में सर्वे किया जा रहा है। हालांकि, हकीकत यह है कि 400 मीटर के दायरे में आने वाले घरों में ही सर्वे किया जा रहा है। ऐसे में मरीजों की संख्या और बढ़ने की आशंका है। कोचिंग, स्कूल और दफ्तरों से मिल रहा जीका का संक्रमण चार इमली क्षेत्र में जीका का पहला मरीज मिला था। उसके साथ कोचिंग में पढ़ने वाले गौतम नगर एक छात्र भी जीका की चपेट में आ गया। कोचिंग से उसे जीका का संक्रमण मिला। भोपाल में मिले अभी तक मरीजों में 60 फीसदी स्कूल, कॉलेज या दफ्तर जाने वाले हैं। जीका मच्छर दिन में काटता है। लिहाजा घर की जगह बाहर से उन्हें संक्रमण का खतरा ज्यादा है, लेकिन टीमें कम होने की वजह से स्वास्थ्य विभाग सिर्फ प्रभावित मरीज के घर के एक किमी दायरे में ही सर्वे करा रहा है। सोमवार को कहां कितने मिले नए मरीज भोपाल- 15 सीहोर- 20 विदिशा- 31 नरसिंहपुर- 1 रायसेन- 3 सागर- 1 भोपाल से भेजे गए नमूने- 20 प्रदेश में अब तक लिए गए नमूने- 241 जीका से संक्रमित मरीजों की संख्या- 109 गर्भवती महिलाएं- 11 जांच रिपोर्ट आना बाकी- 43 मौत- 2 इनका कहना है जीका से संक्रमित 109 मरीज मिले हैं, लेकिन किसी की मौत नहीं हुई है। इस वायरस से मौत नहीं होती। हां, गर्भवती महिला के संक्रमित होने पर शिशु का सिर छोटा हो सकता है। इसके लिए संक्रमित मिलीं गर्भवती महिलाओं की सोनोग्राफी कराई जा रही है। उन्हें प्रसव होने तक निगरानी में रखा जाएगा
MP Election 2018 भाजपा ने जारी की 177 उम्मीदवारों की सूची
2 November 2018
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने शुक्रवार सुबह मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपने 177 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में हुई बैठक के बाद नाम तय किए गए। इस लिस्ट में 2 वर्तमान मंत्री और 27 विधायकों का टिकट कट गया है। मंत्री माया सिंह का टिकट गया गया है उनकी जगह पर ग्वालियर ईस्ट से सतीश सिकरवार को उम्मीदवार बनाया गया है। वहीं मंत्री गौरीशंकर शेजवार की जगह उनके बेटे मुदित को सांची से टिकट दिया गया है। जिन सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की गई है उसमें इंदौर की सीटों सहित कैलाश विजयवर्गीय की सीट महू और भोपाल में बाबूलाल गौर की सीट शामिल हैं। ये हैं बड़े नाम - बुधनी से शिवराज सिंह चौहान - मुरैना से रुस्तम सिंह - गोहद से लालसिंह आर्य दतिया से नरोत्तम मिश्रा - शिवपुरी से यशोधरा राजे सिंधिया दमोह से जयंत मलैया - विजयराघवगढ़ से संजय पाठक बालाघाटा से गौरीशंकर बिसेन - हरदा से कमल पटेल - भोपाल दक्षिण-पश्चिम से उमाशंकर गुप्ता - देवास से गायत्री राजे पवार - हरसूद से विजय शाह - शहपुरा से ओमप्रकाश धुर्वे - बुरहानपुर से अर्चना चिटनीस - सेंधवा से अंतर सिंह आर्य - धार से नीना वर्मा - उज्जैन उत्तर से पारस जैन
नहीं पड़ेगी सर्जरी की जरूरत, सिर्फ एक इंजेक्शन से दूर होगा हर मर्ज से जुड़ा दर्द
8 October 2018
भोपाल। कैंसर का दर्द, जोड़ों का दर्द, रीढ़ की हड्डी का दर्द, ऑपरेशन के बाद का दर्द या हर तरह के न्योरोलॉजिकल दर्द का इलाज अब आसानी से हो सकेगा। इसके लिए सर्जरी की जरूरत नहीं होगी। सिर्फ एक इंजेक्शन से ही असहनीय दर्द को दूर किया जा सकता है। यह संभव है इंटरनेशनल पेन मैनेजमेंट के जरिए। यह बात रविवार को हमीदिया अस्पताल में आयोजित वर्कशॉप में इंटरनेशनल पेन विशेषज्ञ डॉ. कैलाश कोठारी फोर्टिस अस्पताल मुंबई और गांधी चिकित्सा महाविद्यालय के डॉ. जयदीप सिंह ने कही। उन्होंने कहा कि दर्द की जांच कर बीमारी का पता लगाया जाता है। जिस जगह पर असहनीय दर्द है, वहां पर विशेष दवा का इंजेक्शन लगाया जाता है। इसके बाद यह दर्द हमेशा के लिए खत्म हो जाता है। इसे पेन मैनेजमेंट थैरेपी कहा जाता है। हमीदिया अस्पताल के डॉ. जयदीप सिंह ने कहा कि दर्द नस दबने से होता है। सर्जरी में दर्द के कारक को काटकर अलग कर दिया जाता है, लेकिन इससे उस पूरे अंग को नुकसान होता है। पेन मैनेजमेंट में एक निडिल के आकार का कैमरा दर्द की मूल जड़ तक भेजा जाता है। वजह पता करने के बाद नस के उस सटीक स्थान पर इंजेक्शन से दवा डाली जाती है। इस वर्कशॉप का आयोजन निश्चेतना विभाग गांधी चिकित्सा महाविद्यालय के विभागाध्यक्ष द्वारा किया गया। उन्होंने बताया कि अब हमीदिया अस्पताल में इस तरह की अत्यधिक सुविधाएं पेन क्लीनिक में प्रत्येक सोमवार उपलब्ध रहेंगी।
भोपाल उत्‍तर सीट पर मतदाताओं की नाराजगी भेद सकती है कांग्रेस का किला
3 October 2018
भोपाल। बीते बीस सालों से अभेद किले के रूप में राजधानी की उत्तर विधानसभा कांग्रेस की मजबूत सीट मानी जाती है। वर्ष 1998 से इस सीट से कांग्रेस विधायक आरिफ अकील का कब्जा रहा है। लेकिन इस बार के विधानसभा चुनावों में जीत बरकरार रखना कांग्रेस के लिए मुश्किल होगा। करीब 1 लाख 26 हजार मतदाताओं के इस क्षेत्र में सालों पुरानी समस्याएं आज भी जस की तस है। राजधानी के सबसे पिछड़े क्षेत्र में से एक उत्तर सीट पर आज भी मुद्दे मूलभूत आवश्कताओं से जुड़े हैं। मुस्लिम बाहुल्य इस विधानसभा में पानी की किल्लत, ट्रैफिक,अव्यवस्थित बसाहट, अवैध कब्जे और गरीबी के साथ-साथ गैस पीड़ितों की भी समस्याएं हैं। हालांकि यहां मुद्दों से ज्यादा जातिगत समीकरण ही जीत-हार तय करते हैं। अल्पसंख्यकों में विधायक आरिफ अकील की बेहद गहरी पकड़ मानी जाती है लेकिन इस बार क्षेत्र में उनकी निष्क्रियता भी लोगों में नाराजगी की बड़ी वजह है। वहीं इस बार भाजपा ने सीट पर पकड़ बनाने के लिए पार्षदों के माध्यम से पिछली बार की अपेक्षा ज्यादा काम कराया है। मुस्लिम समुदाय में पकड़ ली जीत की राह पुराने भोपाल के इस विधानसभा क्षेत्र के 2008 और 2013 के चुनावी आंकड़ों में नजर डाली जाए तो छह हजार के आसपास ही जीत का आकड़ा रहा है। वहीं कुछ हद तक निर्णायक भूमिका में सिख, सिंधी और एससी वर्ग के मतदाता भी अपनी अहम भूमिका निभाते हैं। बीते चुनावों की तर्ज पर इस बार भी भाजपा मुस्लिम उम्मीदवार पर दांव खेल सकती है। भाजपा के अल्पसंख्यक नेताओं में रशीद खान उजीजुउद्दीन व ऐजाज खान बीते एक साल से क्षेत्र में सक्रिय है। वहीं रमेश शर्मा, पंकज चौकसे, महेश मकवाना, आलोक शर्मा, हरदीप सिंह भी भाजपा की ओर से दावेदार हैं। गैस पीड़ितों में भी रोष उत्तर विधानसभा में गैस पीड़ित मतदाताओं की संख्या कम नहीं है लिहाजा पेंशन, रोजगार और गैस राहत के अस्पतालों में चिकित्सकों की कमी भी एक बड़ा मुद्दा है। गैस राहत से जुड़े आधा दर्जन संगठन लगातार सरकार के खिलाफ लामबंदी कर रहे हैं। मतलब साफ है कि भाजपा सरकार पर गैस पीड़ितों का रोष भारी पड़ सकता है। अब तक इस क्षेत्र के गैस पीड़ितों का वोट बैंक कांग्रेस के पाले में रहा है। लेकिन स्थानीय विधायक की क्षेत्र में ज्यादातर गैर मौजूदगी और व्याप्त समस्याओं के कांग्रेस से यह वर्ग खफा है। उत्तर विधानसभा में अब तक सिर्फ एक बार खिला कमल यह सीट 1977 में अस्तित्व में आई। तब पहली बार इस सीट से जनता पार्टी के हामिद कुर जीते। इसके बाद 1980 और 1985 में कांग्रेस के रसूल अहमद चुनाव जीते। 1990 में हुए चुनाव में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा। 1990 में निर्दलीय उम्मीदवार आरिफ अकील को जीत मिली। इस सीट पर बीजेपी का खाता साल 1993 में खुला, जब रमेश शर्मा यहां से विजयी हुए । 1998 से लेकर अब तक आरिफ अकील विधायक हैं।
समाज ही तय करे विधानसभा चुनाव में किसे उम्मीदवार बनाना है: डॉ. त्रिवेदी
29 September 2018
भोपाल। विधानसभा चुनाव में किसे कहां से उम्मीदवार बनाना है समाज (लोकल कम्युनिटी) तय करेगा। संस्था अपनी तरफ से किसी का नाम घोषित नहीं करेगी। अभी 70 लोगों ने बतौर उम्मीदवार मैदान में उतरने की इच्छा जाहिर की है। यह बात सपाक्स समाज संस्था (सामान्य, पिछड़ा, अल्पसंख्यक कल्याण समाज संस्था) के संरक्षक डॉ. हीरालाल त्रिवेदी ने कही। वे 30 सितंबर को राजधानी में प्रस्तावित संस्था की महाक्रांति रैली और आमसभा की तैयारियों पर बात कर रहे थे। डॉ. त्रिवेदी ने साफ कहा कि कौन चुनाव लड़ेगा और कौन नहीं सब समाज पर छोड़ दिया है। स्थानीय लोग अपना प्रत्याशी तय करेंगे। उन्होंने कहा हम वोट बैंक की राजनीति नहीं करते। इसलिए शक्ति प्रदर्शन की जरूरत नहीं है। यह तो हमारे संगठित होने का प्रमाण होगा। उन्होंने कहा हमारी लड़ाई एट्रोसिटी एक्ट में हुए संशोधन और पदोन्न्ति में आरक्षण को लेकर है। हम चाहते हैं कि आरक्षण आर्थिक आधार पर दिया जाए और एट्रोसिटी एक्ट में फिर से संशोधन किया जाए। डॉ. त्रिवेदी ने संस्था को बाहरी आर्थिक सहयोग और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बयानों को राजनीति से प्रेरित बताया। मुद्दों से सहमत हैं तो साथ आएं अजाक्स के बयान पर डॉ. त्रिवेदी ने कहा कि उन्हें अनारक्षित वर्ग के वोटों की जरूरत नहीं होगी। हमें तो है और हम सभी से सहयोग मांगेंगे। जो हमारे मुद्दों से सहमत हैं, वे साथ आएं। एक लाख लोगों के आने की उम्मीद कलियासोत एडवेंचर ग्राउंड पर 30 सितंबर को आयोजित सपाक्स की महाक्रांति रैली में एक लाख से ज्यादा लोगों के आने की उम्मीद जताई जा रही है। हालांकि संस्था इस मामले में पत्ते नहीं खोल रही है। संरक्षक डॉ. त्रिवेदी कहते हैं कि लोग स्व-प्रेरणा से आ रहे हैं। हमारा तो सिर्फ आव्हान है। इसलिए यह नहीं कह सकते कि कितने लोग आएंगे। महाक्रांति रैली में आने वाले लोगों से खाना साथ लाने या उसका इंतजाम खुद करने को कहा है। डॉ. त्रिवेदी ने बताया कि ग्राउंड पर आमसभा होगी। जिसमें आगे की रणनीति जाहिर की जाएगी।
10 लोगों से शुरू हुआ संगठन विश्व की सबसे बड़ी पार्टी बन गया : अमित शाह
25 September 2018
भोपाल। अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि आज हम सभी भाजपा के कार्यकर्ताओं के लिए संकल्प लेने का दिन है। आज पंडित दीनदयाल जी की जयंती है, उनकी अगली जयंती आएगी तब 5 राज्यों चुनाव सहित केंद्र में चुनाव भी आएगा। जो पार्टी 10 सदस्यों के साथ शुरू हुई वो विश्व की सबसे बड़ी पार्टी बन गई है। 19 प्रदेश में भाजपा की सरकार है। केंद्र में पहली बार गैरकांग्रेसी दल की पूर्ण बहुमत की सरकार बनी है, वो भाजपा की है। भारत के मानचित्र पर देश के 70 प्रतिशत भूभाग पर भाजपा की सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बनी है। उन्होंने कहा कि इस महाकुंभ में लाखों की संख्या में जो कार्यकर्ता उपस्थित हैं उनसे कहना चाहता हूं। भाजपा को हर गांव, हर बूथ तक पहुंचाने का काम कार्यकर्ताओं को करना है। मप्र के 65 हजार से ज्यादा बूथों से जो कार्यकर्ता आएं हैं वे सभी संकल्प लेकर जाएं। आने वाले चुनावों में मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकार बने और केंद्र में फिर भाजपा की सरकार बने।
किस आधार पर वोट मांगेंगी कांग्रेस शाह ने कहा कि राहुल बाबा कहीं भाषण कर रहे थे और कह रहे थे कि मप्र, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनेगी। राहुल बाबा सपना देखने में कोई दिक्कत नहीं है। लेकिन किसके आधार पर आप इन राज्यों में सरकार बनाएंगे। देश की सुरक्षा को ताक पर रखने वाली बात के आधार पर वोट मांगोगे। मप्र में राजा, महाराजा और उद्योगपति की तिकड़ी के आधार पर वोट मांगोंगे। कांग्रेस ने मप्र के बीमारू राज्य बना दिया था। भाजपा की सरकार को मध्यप्रदेश में 18 साल हो गए, इसे और आगे बढ़ाना है। पहले सिर्फ मप्र की सरकार काम करती थी, क्योंकि केंद्र में यूपीए की सरकार थी। लेकिन केंद्र में मोदी जी की सरकार आने के बाद मप्र की और तरक्की हुई। यूपीए की सरकार ने भाजपा शासित राज्यों के साथ सही व्यवहार नहीं किया था। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा नरेंद्र मोदी सरकार ने किया है वो है देश का गौरव बढ़ाने का काम। इस बार प्रधानमंत्री दाओस गए और वहां पर पूरी दुनिया को देश की भाषा हिंदी में भाषण देकर उन्हें अपने देश की ताकत से परिचय कराया। मोदी जी ने देश की सरकार के सोचने का स्केल बदलने का काम किया। पहले पंचवर्षीय योजनाएं होती थी, उसमें तय किया जाता था कि क्या काम किया जाएगा। उन्होंने तय किया कि ऐसे फैसले नहीं होते हैं, उन्होंने सोचने का तरीका बदला। आज देश में आज 2 करोड़ घरों में बिजली पहुंच गई। साढ़े सात करोड़ से ज्यादा घरों में शौचालय बन गया। मुद्रा लोन देने का काम भाजपा की सरकार ने किया। फिर भी राहुल बाबा को सपना आता है कि उनकी सरकार बनेगी।
चुनाव में ऐसी विजय दिलाएं कि दुश्मनों का दिल दहल जाए शाह ने कहा कि जहां-जहां राज्यों में चुनाव आए वहां कांग्रेस और अन्य पार्टी गई और भाजपा की सरकार बनी। जहां भाजपा का नाम भी नहीं था वहां भी आज हमने भाजपा की सरकार बनाई। ये मध्यप्रदेश है, यहां आपकी सरकार बन ही नहीं सकती। मध्यप्रदेश में इसी वर्ष में चुनाव आने वाला है, हमारी यह चुनावी विजय ऐसी करें कि दुश्मनों के दिल दहल जाएं। अभी-अभी मेरे आने के पहले नमो ऐप डाउनलोड किया गया है। आज भोपाल छोड़ने के पहले मेरा आपसे अनुरोध है कि आप नमो ऐप डाउनलोड करिए। इसके बाद आप खुद मप्र की जनता को बता सकते हो कि हमारी सरकार ने क्या-क्या काम किए हैं। हमारी सरकार ने कोई भी ऐसा काम नहीं किया है कि कार्यकर्ताओं को सिर झुकाना पड़े। वो सीना तानकर लोगों के पास जाकर अपनी सरकार की उपलब्धियां बताएं। सभी कार्यकर्ता 3-3 लोगों को नमो ऐप डाउनलोड कराएं। नए लोगों को जोड़िए, पार्टी का विस्तार करिए। उन्होंने कहा कि जब-जब चुनाव आता है तब कांग्रेस ध्यान भटकाने का काम करती है। किसी भी मामले में हमारी स्पर्धा नहीं हो सकती
पीएम मोदी का संबोधन एनआरसी में 40 लाख घुसपैठिए सामने आए, इस देश से घुसपैठिए जाने चाहिए कि नहीं जाने चाहिए। एनआरसी जैसे ही हमने किया, कांग्रेस ने इसका विरोध किया। आप जितना रोकने का प्रयास करना हो करो, एनआरसी की प्रक्रिया रूकने वाली नहीं है। विकास के मामले में हमारी स्पर्धा नहीं हो सकती, अर्थ तंत्र को सुधारने के मामले में हमारी स्पर्धा नहीं हो सकती। राष्ट्र भक्ति के मामले में हमारी स्पर्धा नहीं हो सकती। शाह ने कहा कि हमें इस तरह चुनाव जीतना है कि टीवी पर हमारे विरोधी नतीजें देखें तो उनका दिल धड़कना बंद हो जाए।

भारत बंद: प्रदेश सरकार के मंत्री ने कहा- कांग्रेस के गुंडे करा रहे बंद, उज्जैन में पेट्रोल पंप में तोड़फोड़, कटनी में रेल रोकी
10 September 2018
भोपाल। कांग्रेस ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हो रही बढ़ोतरी और डॉलर के मुकाबले रुपए की गिरती कीमतों को लेकर सोमवार को भारत बंद आंशिक सफल रहा। कांग्रेस के बंद को लेकर प्रदेश सरकार के सहकारिता मंत्री विश्वास सारंग ने कहा है कि कांग्रेस के गुंडे जबरन बंद कराकर आम जनता को परेशान कर रहे हैं। उज्जैन में चिमनगंज मंडी के सामने पेट्रोल पंप पर कांग्रेसियों द्वारा तोड़फोड़ की गई। कटनी में रेल रोकी गई। कांग्रेसी पटरियों पर लेटे हुए हैं। सागर में भी पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं की झड़प हुई। नए भोपाल में इसका असर नजर नहीं आ रहा है, वहीं पुराने भोपाल में दुकाने जरूर बंद रहीं। कांग्रेस का दावा है कि 21 दलों ने बंद को समर्थन दिया है। बंद को लेकर शनिवार को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भोपाल में मार्च निकाला था। वहीं कमलनाथ भी व्यापारियों के साथ बैठक कर बंद की रणनीति बनाई थी। मुरैना में ही कमलनाथ के पोस्टर पर कालिख फेंकी गई है। कमलनाथ ने की अपील मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने भारत बंद पर लोगों से समर्थन की अपील करते हुए बीजेपी की केंद्र और राज्य सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने आरोप लगाया है कि बीजेपी भारत बंद असफल करने में जुटी है। एमपी में किसी बड़े नेता के सड़क पर नहीं उतरने को लेकर उन्होंने कहा कि मेरी लहार में सभा है, मैं वहां जा रहा हूं। उन्होंने कहा कि सरकार और बीजेपी जनता की आवाज नहीं सुन रही है। तोड़फोड़ की खबरों पर कमलनाथ ने कहा कि हम तोड़फोड़ की घटना की निंदा करते हैं। नेताओं के पोस्टरों पर कालिख लगाई मप्र में बंद को सफल बनाने के लिये पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया और नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह सहित तमाम नेताओं ने मोर्चा संभाला हुआ है। कांग्रेसियों द्वारा लोगों से बंद की अपील की जा रही है। वही कई जगहों पर नेताओं के पोस्टरों पर कालिख फेंकी गई है। भोपाल के एमपी नगर स्थित बोर्ड ऑफिस चौराहे पर कुछ लोगों ने बीजेपी और कांग्रेस नेताओं के चित्रों पर कालिख पोत कर विरोध जताया है। मुरैना में भी पीसीसी चीफ कमलनाथ के पोस्टरों पर कालिख पोती गई है। बंद कराए गए पेट्रोल पंप मप्र में भी सुबह से ही कई शहरों में इसका असर देखने को मिला। कई स्थानों पर बसें नही चली। बंद का सबसे ज्यादा असर मालवा-निमाण रहा। यहां बाजार पूरी तरह से बंद रहे। बसें भी नहीं चल रही हैं। भोपाल में कांग्रेस द्वाला जबरदस्ती पेट्रोल पंप बंद कराए गए।
प्रदेश में एक साथ तेंदूपत्ता संग्राहकों को बांटा जाएगा 495 करोड़ रुपए बोनस; सीहोर में मुख्यमंत्री बांटेंगे
31 August 2018
भोपाल. तेंदूपत्ता संग्राहकों को सीजन 2017 का प्रोत्साहन पारिश्रमिक (बोनस) शुक्रवार को प्रदेशभर में एक साथ बांटा जा रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने विधानसभा क्षेत्र और सीहोर जिले के लाड़कुई गांव में संग्राहकों को राशि बांटेंगे। वहीं मंत्रियों, सांसद और विधायकों को जिले आवंटित किए गए हैं, जहां वे संग्राहकों को राशि का वितरण करेंगे। इस दौरान बोनस के रूप में 495 करोड़ रुपए बांटे जाएंगे। 35 हजार 420 तेंदुपत्ता संग्राहकों को मुख्यमंत्री देंगे बोनस : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सीहोर जिले के लाड़कुई, शाहगंज, बुधनी, रेहटी, चकल्दी, मजालपुर, गोपालपुर, श्यामपुर, ब्रिजिसनगर, मेतवाड़ा एवं बिलकिसगंज के 35 हजार 420 तेंदुपत्ता संग्राहकों को 2017 का छह करोड़ का बोनस बांटेंगे। इसके साथ ही करीब 314 करोड़ रुपए के निर्माण कार्यों का शिलान्यास करेंगे। ये पहला मौका है जब तेंदुपत्ता संग्राहकों को पत्ता तोड़ने के महज सवा साल में बोनस दिया जा रहा है। आमतौर पर बोनस तैयार करने में दो साल से ज्यादा समय लग जाता है। इसके बाद ही बोनस बांटा जाता है। इस साल विधानसभा चुनाव को देखते हुए सरकार व मप्र राज्य लघु वनोपज संघ ने इसमें खासी जल्दबाजी दिखाई और सालभर में ही बोनस तैयार कर दिया। बोनस वितरण कार्यक्रम सभी जिलों में ठीक दोपहर साढ़े 12 बजे शुरू होगा। विधानसभा अध्यक्ष होशंगाबाद में बांटेंगे बोनस : विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा होशंगाबाद, वनमंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार शहडोल, वित्तमंत्री जयंत मलैया दमोह, परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह सागर के मालथौन, महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनिस बुरहानपुर, खनिज साधन मंत्री राजेन्द्र शुक्ल सिंगरौली, सांसद ज्ञान सिंह उमरिया, स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री दीपक जोशी देवास के हाटपिपल्या, सामान्य प्रशासन राज्यमंत्री लाल सिंह आर्य बैतूल, खाद्य मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे और सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते मंडला और डिंडौरी के संयुक्त कार्यक्रम में तेंदुपत्ता संग्राहकों को बोनस बांटेंगे।
मध्य प्रदेश में बोगस नहीं, डुप्लीकेट वोटर्स हैं : मुख्य चुनाव आयुक्त
28 August 2018
भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले चुनाव आयोग भी हरकत में आ गया है। मंगलवार को भोपाल पहुंचे मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा, 'चुनाव आयोग सभी राजनीतिक दलों से मिल रही शिकायतों को गंभीरता से लेकर उन पर संज्ञान ले रहा है, लेकिन बोगस मतदाताओं को लेकर की जा रही शिकायत की जांच में सामने आया कि वे बोगस नहीं, बल्कि डुप्लीकेट वोटर थे।' बकौल रावत, चुनाव आयोग मल्टीपल वोटर्स के नाम हटाने का काम कर रहा है। आयोग राजनीतिक पार्टियों की हर तरह की समस्या को हल करेगा। मुख्य चुनाव आयुक्त ने मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ बैठक कर कानून-व्यवस्था और प्रशासनिक तैयारियों की समीक्षा भी की। समीक्षा के बाद ही चुनाव के तैयारियों की स्थिति तय की जाएगी। मुख्य चुनाव आयुक्त होटल जहांनुमा पैलेस में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से चर्चा कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस ने मुख्यमंत्री को लेकर एक शिकायत दर्ज कराई है। कांग्रेस नेता जेपी धनोपिया का आरोप है कि मुख्यमंत्री निवास स्थान भाजपा कार्यालय की तर्ज पर उपयोग में आ रहा है। सीएम हाउस में लगातार गैर सरकारी काम हो रहे हैं। कांग्रेस ने इस पर रोक लगाने की मांग की है। इस दौरे पर मुख्य चुनाव आयुक्त नर्मदा भवन में दोपहर से रात तक पुलिस अधिकारियों और कलेक्टर के साथ भी बैठक करेंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त शाम को मीडिया से विस्तृत चर्चा करेंगे।
भोपाल में भारी बारिश: मकान ढहने से मां सहित दो बेटियों की मौत, निचली बस्तियों में पानी भरा
21 August 2018
भोपाल। सोमवार रात को हुई तेज बारिश के बाद कमला पार्क स्थित एक मकान की मकान ढह गया, जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई। मृतकों में एक महिला और दो बच्चे शामिल हैं। गुनगा थाना क्षेत्र में बारिश से एक व्यक्ति की मौत हो गई।टीलाजमालपुरा क्षेत्र में 15 वर्षीय एक बालक के नाले में डूबने की खबर है. महापौर आलोक शर्मा सहित कलेक्टर सुदाम खाड़े, डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी, नगर निगम कमिश्नर अविनाश लवानिया सहित आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। भोपाल में कई कॉलोनियों में घुटने तक पानी भर गया है। अरेरा कॉलोनी, कोलार रोड, शाहपुरा, राजीव नगर, अशोका गार्डन, होशंगाबाद रोड के स्नेह नगर, रेलवे स्टेशन के आस-पास के इलाकों में घरों में पानी घुस गया है। बीते 24 घंटों में भोपाल में छह इंच बारिश दर्ज की गई है। शहर के धोबीघाट इलाके में देर रात हुई भारी बारिश से एक कच्चा मकान ढह गया। घटना में एक महिला और उसकी दो बच्चियों की मौत हो गई और पति को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतकों के नाम शुमाइला(मां) और दो बेटियां तंजीम और अरीबा बताए जा रहे हैं। भोपाल कलेक्टर सुदाम खाड़े ने 4-4 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की है। शहर में देर रात हुई बारिश से निलचे इलाकों में पानी भर गया। अवधपुरी राधाकुंज, टैगौर नगर के सभी घरों में पानी भर गया है। अवधपुरी राधाकुंज के नाले पर अतिक्रमण होने से सड़क ही बह गई। अचानक पानी का बहाव आया और घरों में पानी घुस गया, रहवासी यहां पूरी रात परेशान होते रहे। कई इलाकों 4-4 फीट तक पानी भर गया है। 24 घंटों में बारिश का हाल मिमी में :भोपाल - 153.9, जबलपुर - 57.8, इंदौर - 37.3, खजुराहो- 22, सतना - 2, रीवा - 27.6, सीधी - 7.4, ग्वालियर - 31.2, सागर - 9.2, दमोह - 1, नौगांव - 2, रायसेन - 164.6, होशंगाबाद - 32.8, पचमढ़ी, 34, बैतूल - 24.2, गुना - 48.4, उज्जैन - 28.6, शाजापुर -15, उमरिया - 16.3, मलांजखंड - 19.4, नरसिंहपुर - 62, सिवनी - 40, खंडवा - 95, खरगोन - 40.6, धार - 46.7, श्योपुरकलां - 19, टीकमगढ़ - 6, मंडला - 55.2, दतिया - 42.2, छिंदवाड़ा -14.2। 21 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट मौसम विभाग ने 21 जिलों में भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है। इन जिलों में आलीराजपुर, बड़वानी, धार, रतलाम, झाबुआ, इंदौर, उज्जैन, देवास, खंडवा, खरगोन, बैतूल, हरदा, होशंगाबाद, बुरहानपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, जबलपुर, राजगढ़, गुना और शिवपुरी में तेज बारिश होने की आशंका जताई गई है। इन सभी जिलों में प्रशासन को अलर्ट रहने के लिए कहा गया है। गौरतलब है राजगढ़ में भारी बारिश से जिला मुख्यालय का संपर्क अन्य इलाकों से टूट गया है। सभी सड़क मार्ग बाधित हो गए हैं। मालवा-निमाड़ में भी बारिश जारी है। भोपाल से सागर और रायसेन का सड़क संपर्क टूट गया है।
हरिद्वार में होगा अटलजी का अस्थि विसर्जन, मध्य प्रदेश में अटल कलशयात्रा निकालने का प्लान
18 August 2018
भोपाल/ग्वालियर।रविवार को अटलजी की अस्थियां हरिद्वार में गंगा में प्रवाहित की जाएंगी। इसके अलावा उत्तर प्रदेश की सभी नदियों में चिता की भस्म का कलश प्रवाहित किया जाएगा। इधर मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में अटल कलशयात्रा निकालने की प्लान तैयार किया जा रहा है। भारतीय जनता पार्टी विधानसभा चुनाव से पहले तीनों प्रदेशों के हर गांव तक अटल स्मृति सभाएं भी करेगी। जिसमें स्थानीय लोगों से अटलजी के संस्मरण सुने जाएंगे। हालांकि पार्टी आलाकमान अमित शाह इस बारे में अंतिम फैसला लेंगे। मध्य प्रदेश के लगभग सभी बड़े नेता अभी दिल्ली में है। रविवार शाम तक सभी के वापस आने की संभावना है। रविवार को ही पार्टी अध्यक्ष अमित शाह स्वयं अस्थि परिजनों के साथ अस्थिकलश लेकर हरिद्वार जाएंगे। इसके बाद तीनों प्रदेशों में कलशयात्रा निकलाने के बारे में उनसे चर्चा की जाएगी। पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अमित शाह से चर्चा इस बात को लेकर होनी है कि अटल कलश यात्रा मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा के साथ निकली जाए या अलग से। क्योंकि जन आशीर्वाद यात्रा को स्थगित कर दिया गया है। वैसे मध्य प्रदेश में भाजपा इस अटल कलशयात्रा मुख्यमंत्री की यात्रा से अलग निकालना चाहती है। जानकारी के अनुसार एक अस्थिकलश उनके पैतृक गांव बटेश्वर(आगरा) भी ले जाया जाएगा। यहां इसे यमुना में प्रवाहित किया जाएगा। इस अस्थिकलश को अटलजी के भांजे अनूप मिश्रा लेकर पहुंचेगे। इसके बाद एक अन्य कलश ग्वालियर लाया जाएगा। जिले उनके शिंदे की छावनी, कमल सिंह के बाग स्थित पैतृक निवास पर रखा जाएगा। इस कलश को चंबल में प्रवाहित किया जाएगा।
बाबूलाल गौर की साइकिल पर पीछे बैठते थे अटलजी, भोपाल में बड़े तालाब पर जाते थे नहाने
16 August 2018
भोपाल। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत चिंताजनक बनी हुई है। भोपाल शहर से भी अटलजी की यादें जुड़ी हुई हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर बताते हैं कि अटलजी का भोपाल से गहरा नाता रहा है। वर्ष 1973-74 में अटलजी जब भोपाल आते थे तो उनके बरखेड़ी स्थित घर में रुकते थे। अटलजी को गौर अपनी साइकिल पर पीछे बैठाकर बड़े तालाब नहाने के लिए ले जाया करते थे। बाबूलाल गौर उम्र में अटलजी से उम्र में करीब चार साल छोटे हैं। गौर ने बताया कि अटलजी उस समय बस और ट्रेन से अकेले ही दौरे करते थे। उनके बैग में दो-तीन जोड़ी कुरता और धौती रहती थीं। एक जोड़ी कपड़े वह तीन-चार दिन पहने रहते थे। जब भोपाल आते तो मैं उन्हें नहलाने और कपड़े धुलवाने के लिए अपनी साइकिल से लेकर बड़े तालाब जाता था। यहां शीतल दास की बगिया में पहले वो कपड़े धौते और जब सूख जाते तो नहाते थे। इसके बाद वही कपड़े पहनकर वापस आ घर आ जाते। गौर कहते हैं कि आधे रास्ते वो साइकिल चलाते और आधे रास्ते अटलजी साइकिल चलाते थे। अटलजी के कई पारिवारिक लोग भी भोपाल में रहते हैं। ऐसे ही उनके एक रिश्तेदार लक्ष्मी टॉकीज के पास रहते थे। यहां से उनके लिए अकस्र टिफिन जाता था। अटलजी अपने इन रिश्तेदार के पास संदेश भेज देते थे कि उन्हें क्या खाना है। इसके बाद उन्हें उनका पसंदीदा भोजन बनाकर भिजवा दिया जाता था। ऐसे ही अटलजी की एक रिश्तेदार रायसेन में रहते हैं। अटलजी चुनाव रैली के समय वहां पहुंचे। उन्होंने अपने रिश्तेदार का नाम लेकर पनौछा की सब्जी खाने की फरमाइश की और रायसेन में रहने वाले अपने रिश्तेदार के घर से बनवाकर लाने पार्टी के लोगों से कहा। रिश्तेदार के परिचित अटलजी के घर पहुंचे और उन्हें अटलजी की फरमाइश बताई। और भोजन सहित रिश्तेदार को लेकर रेस्ट हाउस पहुंचे और अटलजी को भोजन कराया।
मूक-बधिर लड़कियों से दुष्कर्म का मामला: कांग्रेस मीडिया प्रभारी शोभा ओझा ने मंत्री गोपाल भार्गव पर लगाए गंभीर आरोप
13 August 2018
भोपाल। जिला अदालत ने चार मूक-बधिर लड़कियों से दुष्कर्म के आरोपी अश्वनी शर्मा की रिमांड एक दिन के लिए ओर बढ़ा दी है। इधर, इस मामले में सोमवार को कांग्रेस की मीडिया प्रभारी शोभा ओझा ने प्रदेश सरकार पर गंभीर आरोप लगाए। मामले की सीबीआई जांच की मांग करते हुए शोभा ओझा ने कहा कि इस पूरे मामले में सामाजिक न्याय विभाग के मंत्री गोपाल भार्गव की भूमिका संदिग्ध है शोभा ओझा ने कहा कि इस मामले को रफा-दफा करने के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। मुख्यमंत्री के करीबी अश्विनी शर्मा की हॉस्टल को 74 बच्चों का अनुदान मिल रहा था। सामाजिक न्याय मंत्री गोपाल भार्गव का कहना है कि अश्विनी के एनजीओ को कोई सरकारी सहायता सीधे नहीं दी गई। जबकि सामाजिक न्याय विभाग के एक आदेश के अनुसार श्रवण बाधित निशक्तजनों को हॉस्टल सुविधा के लिए 800 रुपए प्रति विद्यार्थी प्रति माह के आधार पर अनुदान दिया था। शोभा ओझा ने कहा कि पूरे मामले में उनकी भूमिका संदिग्ध है। दुष्कर्म के आरोपी की एनजीओ रजिस्टर्ड थी या नही अब तक दस्तावेज नहीं मिले हैं। इसके बावजूद इस कथित एनजीओ को सामाजिक न्याय विभाग से 5 लाख 50 हजार रुपए दिए। इसके प्रमाण पुलिस को मिले हैं। भाजपा नेताओं से करीबी का प्रमाण:ओझा ने कहा है कि भाजपा नेताओं और आरोपी की निकटता का प्रमाण है कि यह विशेष योजना के तहत विशेष प्रकरण मानते हुए इस संस्था को 2013 के नियम 12 (3) के अनुसार यह अनुदान राशि दी गई। यह इस बात का सूचक है कि भ्रष्टाचार में इन हॉस्टलों के माध्यम से चल रही अनैतिक कारगुजारियों में नीचे से लेकर ऊपर तक सभी शामिल है। उन्होंने कहा कि जब 74 निशक्त बच्चों के नाम पर अनुदान दिया जा रहा था तो जांच केवल 4 बच्चियों तक ही सीमित क्यों है। बाकी 70 बच्चों का क्या हुआ, वे कहा हैं। शोभा ने कहा कि इस मामले में आरोपी अश्विनी शर्मा के मुख्यमंत्री से करीबी संबंध है। इस बात का प्रमाण कांग्रेस के पास है।
15 अगस्त से टाई-बेल्ट और ब्लेजर में नजर आएंगे सरकारी स्कूल के छात्र-छात्राएं
4 August 2018
भोपाल। कॉन्वेंट स्कूल की तर्ज पर अब सरकारी स्कूलों में भी टाई-बेल्ट और ब्लेजर में बच्चे नजर आएंगे। शिक्षा विभाग ने सरकारी प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों में नए सत्र से यूनिफॉर्म परिवर्तन करने के निर्देश जारी किए हैं। नए यूनिफॉर्म में माध्यमिक स्कूल में छात्रों को टाई व बेल्ट लगाना अनिवार्य होगा। वहीं छात्राओं को ब्लेजर पहनना होंगे। - नए आदेश जारी करने साथ ही स्कूलों से बच्चों की पूरी संख्या मांगी गई है, ताकि समय पर उन्हें राशि जारी की जा सके। सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों में मनोवैज्ञानिक परिवर्तन लाने के लिए यह कदम उठाया है। - आमतौर पर प्राइवेट स्कूल के बच्चे अच्छी ड्रेस पहनकर जाते हैं। सरकारी स्कूलों के बच्चे जब उन्हें देखते हैं तो उनके मन में अलग भाव आते हैं। इस भेद को दूर करने के लिए विभाग ने यह निर्णय लिया है। - विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार सर्व शिक्षा अभियान मद से अजा-अजजा व बीपीएल के बच्चों को यूनिफॉर्म राशि जारी होगी। वहीं सामान्य वर्ग के बच्चों को राज्य योजना मद से यूनिफॉर्म के लिए राशि दी जाएगी। इसके लिए 600 रुपए प्रति छात्र के मान से राशि देंगे। शिक्षक भी नजर आएंगे जैकेट में :नए शिक्षा सत्र से शिक्षक भी ड्रेस कोड में नजर आने वाले हैं। शिक्षिकाएं मेहरून रंग और शिक्षक नेवी ब्लू रंग के जैकेट में स्कूल पहुंचेंगे। इसके साथ जैकेट पर राष्ट्र निर्माता का बैच भी लगा होगा। शिक्षकों को इसके लिए एक हजार रुपए दिए जाएंगे। जून में यह आदेश दिया था, लेकिन अभी तक इस संबंध में शिक्षकों को निर्देश जारी नहीं हुए हैं। ऐसी होगी सरकारी स्कूलों की नई यूनिफॉर्म:सरकारी प्राथमिक स्कूलों में ट्यूनिक व शर्ट के साथ लेगिन्स व बालकों के लिए हाफ पेंट व हाफ शर्ट को एक जोड़ी यूनिफॉर्म माना जाएगा। माध्यमिक स्कूल में बालिकाओं के लिए सलवार-कुर्ती के साथ जैकेट और बालकों के लिए फुल शर्ट, फुल पैंट व टाई होगी। प्रत्येक बच्चे को दो यूनिफॉर्म दी जाएगी। इसका रंग व डिजाइन का चयन शाला प्रबंधन समिति द्वारा स्थानीय स्तर पर किया जाएगा।
अगर मैं भी किसी काम को बोलूं तो इतनी हिम्मत होनी चाहिए कि मना कर सकें: आनंदीबेन पटेल
1 August 2018
भोपाल.बरकतउल्ला विश्वविद्यालय के 48वें स्थापना दिवस समारोह शुरू हो गया है। राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने दीप प्रज्वलित कर ज्ञान-विज्ञान भवन में स्थापना दिवस समारोह का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में टीबी के उन मरीजों को भी बुलाया गया था, जिन्हें प्रोफेसर्स ने गोद लिया है। इसके बाद राज्यपाल ने सभी विभागाध्यक्षों और प्रोफसर्स के साथ मीटिंग की। विश्वविद्यालय के शिक्षा सत्र में सुधार और विद्यार्थियों की समस्याओं के निपटारे पर चर्चा की गई। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल सेंट्रल लाइब्रेरी और गर्ल्स हॉस्टल भी गईं। वहां पर उन्होंने छात्र-छात्राओं से बातचीत कर फीडबैक लिया। इस मौके पर राज्यपाल और विश्वविद्यालय की कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने कहा कि ये पहला विश्वविद्यालय है, जहां मैं विभागाध्यक्षों की मीटिंग ले रही हूं। मैं कोई क्लास लेने नहीं आई हूं। मैं बस ये देखना चाहती हूं कि मैं खुद कैसा काम कर रही हूं। विश्वविद्यालय में परीक्षाएं देरी से हो रही हैं, परीक्षा परिणाम देरी से आ रहे हैं, विद्यार्थी परेशान हैं। एक विद्यार्थी मेरे पास अपनी समस्या लेकर आया था, उसने अपनी समस्या बताई। किसी के दबाव में आकर काम नहीं करना है : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि किसी के दबाव में आकर काम नहीं करना है और न ही नियम विरुद्ध काम करना है। अगर मैं भी किसी काम के लिए कहूं तो आपमें इतनी हिम्मत होनी चाहिए कि नियमों के विरुद्ध गलत काम को करने से मना कर सकें। कार्यक्रम में कुलपति डॉ. डीसी गुप्ता ने गोद लिए गए टीबी मरीजों को बुलाया और उन्हें फल बांटे गए।
प्रधानमंत्री आवास योजना में फ्लैट दिलाने के नाम पर अधिमान्य पत्रकार ने 11 लोगों से ठगे 15 लाख
28 July 2018
भोपाल.प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान दिलाने का झांसा देने वाला जालसाज अधिमान्य पत्रकार निकला। आरोपी ने पहले हबीबगंज इलाके में 5 लोगों से सवा सात लाख रुपए ठगे थे। अब उसका एक और कारनामा सामने आया है। उसने टीटी नगर क्षेत्र में भी 6 लोगों को शिकार बनाया है। पुलिस ने एक और केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। एसपी साउथ राहुल कुमार लोढा के मुताबिक पहला केस हबीबगंज पुलिस ने दो दिन पहले ज्योति केवट की शिकायत पर दर्ज किया था। पुलिस ने इस आधार पर कुमार सौरभ श्रीवास्तव को आरोपी बनाया था। उसने ज्योति समेत पांच लोगों को अंबेडकर नगर में बनाए जा रहे प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत फ्लैट दिलाने का झांसा दिया था। सभी से डेढ़-डेढ़ लाख रुपए ऐंठकर फर्जी आवंटन लेटर भी थमा दिए। इसके बाद टीटी नगर में भी उसके खिलाफ केस दर्ज किया गया है। इस बार उसने ऐसे छह लोगों से रकम ऐंठी है। उसकी करतूत तब उजागर हुई, जब लोग आवंटन लेटर लेकर नगर निगम दफ्तर पहुंचे। इस आधार पर पुलिस ने गोरखपुर, उप्र निवासी 35 वर्षीय सौरभ श्रीवास्तव को गिरफ्तार कर लिया। इन दिनों वह युगांतर कॉलोनी, अवधपुरी में रह रहा था। फर्जी आवंटन लेटर लैपटॉप पर ही तैयार करता था :पुलिस ने आरोपी के कब्जे से जिला स्तरीय अधिमान्य पत्रकार का आईकार्ड जब्त किया है। यह कार्ड ईनायडो डिजिटल हैदराबाद के प्रमुख संवाददाता के नाम पर है, जो 31 दिसंबर तक वैध है। पुलिस फिलहाल ये पता लगा रही है कि कार्ड वाकई जनसंपर्क कार्यालय से जारी हुआ भी है या नहीं। जालसाज कार्ड दिखाकर लोगों को झांसे में ले लेता था। फर्जी आवंटन लेटर वह अपने लैपटॉप पर ही तैयार करता था। शासकीय आदेश की कापी भी वह इंटरनेट से निकाल लेता था। आरोपी पर्यावास भवन स्थित सिल्वर टच टेक्नोलॉजी में पदस्थ था, जो जनसंपर्क विभाग से संबंधित है
मध्य प्रदेश के सभी जूनियर डॉक्टरों ने दिया इस्तीफा, मांगे नहीं माने जाने से नाराज
24 July 2018
भोपाल/ग्वालियर।अपनी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे प्रदेश के सभी मेडीकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों ने आज सामूहिक इस्तीफा दे दिया। 10 हजार रुपए तक का स्टाइपेंड बढ़ाने की मांग को लेकर जूनियर डॉक्टरों ने बेमियादी हड़ताल शुरू की थी, लेकिन शाम को राज्य शासन ने एस्मा लागू कर दिया। भोपाल में जूनियर डॉक्टरों ने आज डीन से मुलाकात की। इसके बाद जूनियर डॉक्टरों ने सामूहिक इस्तीफा देने का फैसला किया। डीन से मुलाकात के दौरान जूडा ने इस बात पर नाराजगी जताई कि सरकार को जूडा की मांग को लेकर चर्चा करना थी लेकिन सरकार ने जूडा और पैरामेडिकल स्टाफ की सेवाओं को अत्यावश्यक घोषित करते हुए एस्मा लगा दिया। इससे साफ है कि सरकार मांगों को लेकर बात नहीं करना चाहती। लिहाजा अब इस्तीफे के अलावा कोई विकल्प जूडा के सामने नहीं है। इसके बाद प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों ने सामूहिक इस्तीफा दे दिया। जूडा की मांगें: स्टाइपंड 45 से 65 हजार किया जाए - पीजी फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट को अभी 45 हजार स्टाइपंड मिलता है। इसे 65 हजार रुपए किया जाए। - सेकंड ईयर के लिए यह राशि 47 हजार से बढ़ाकर 67 हजार रुपए की जाए। - थर्ड ईयर के छात्रों के लिए यह राशि 49 हजार से बढ़ाकर 69 हजार रुपए की जाए। - बॉन्ड के तहत गांव में सेवा देने वाले डॉक्टरों का मानदेय 36 हजार से बढ़ाकर 70 हजार किया जाए। - मप्र मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी जबलपुर द्वारा छात्रों से ली जाने वाली मनमानी फीस बढ़ोतरी पर रोक लगे। भोपाल में मरीज हो रहे परेशान: हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल में हड़ताल के दूसरे दिन भी मरीजों की फजीहत हो रही है। सोमवार को जूनियर डॉक्टर्स और पैरामेडिकल कर्मचारियों द्वारा ड्यूटी का बहिष्कार करने के बाद दोनों अस्पतालों में भर्ती 60 मरीजों के रूटीन ऑपरेशन टाल दिए गए। वहीं दूसरी ओर राज्य सरकार ने जूनियर डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की हड़ताल को खत्म कराने अगले तीन महीने के लिए अत्यावश्यक सेवा कानून (एस्मा) लागू कर दिया है। इससे पहले जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सचेत सक्सेना की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने एसीएस चिकित्सा शिक्षा राधेश्याम जुलानिया के साथ अपनी मांगों को लेकर बैठक की, जो बेनतीजा रही। जूनियर डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की हड़ताल का सीधा असर हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल में भर्ती मरीजों के इलाज पर हुआ। पैरामेडिकल स्टाफ नहीं होने के कारण हड्‌डी और सर्जरी डिपार्टमेंट के वार्डों में भर्ती तमाम मरीजों की ड्रेसिंग तक नहीं हुई। जबकि जूनियर डॉक्टर्स के ड्यूटी पर नहीं होने के कारण हमीदिया अस्पताल के विभिन्न वार्डों में भर्ती 35 और सुल्तानिया अस्पताल में 25 मरीजों के ऑपरेशन टाल दिए गए। इन मरीजों को उनकी सर्जरी स्थगित करने की सूचना सोमवार सुबह 10 बजे दी गई। जबकि सर्जरी प्रोटोकॉल के तहत इन मरीजों का खाना रविवार शाम से ही बंद कर दिया गया था। ग्वालियर:जेएएच में नर्सेस और पैरामेडिकल स्टाफ की हड़ताल से मरीज बेहाल हो गए। ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले मरीजों की हालत सबसे ज्यादा खराब है। इस कारण की व्यवस्थाएं गड़बड़ा गईं। ओपीडी में दोपहर 12 बजे तक मरीजों के प्लास्टर नहीं हुए। जूनियर डॉक्टरों के वार्ड में न पहुंचने के कारण सीनियर डॉक्टरों ने मोर्चा संभाला तो ओपीडी में उनके लिए मरीज इंतजार करते रहे। वहीं सेंट्रल पैथोलॉजी लैब में जांच के लिए पहुंचे कमलेश की 4 साल की बेटी दीप्ति को लौटा दिया गया। सोमवार को ओपीडी 2250 रही लेकिन दोपहर 2 बजे तक सिर्फ 70 मरीज ही भर्ती हुए। इंदौर एमवायएच में मरीज परेशान:जूडा और नर्सिंग स्टाफ के हड़ताल पर जाने से स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं। अस्पताल प्रबंधन ने स्थिति से निपटने के लिए निजी नर्सिंग कॉलेज की मदद ली है। अधीक्षक डॉ. वीएस पाल ने बताया सुबह 150 नर्सों की ड्यूटी रहती है, लेकिन उनमें से 120 ने ड्यूटी की। दोपहर और शाम को परेशानी आई, लेकिन हमने निजी नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं की ड्यूटी लगा दी है। उधर, सोमवार को ओपीडी में 2000 मरीज इलाज करवाने पहुंचे, जबकि 85 मरीज भर्ती हुए।
भोपाल के फिल्टर प्लांट से गैस रिसाव, आसपास धुआं ही धुआं, सांस लेने में हो रही तकलीफ
20 July 2018
भोपाल.राजधानी भोपाल में बिरला मंदिर के पास फिल्टर प्लांट से गैस लीकेज का मामला सामने आया है। ये प्लांट भेल का है और बिरला मंदिर के पास स्थित है, जहां पर शुक्रवार को सुबह क्लोरीन गैस का रिसाव हुआ। इससे आसपास धुआं ही धुआं छा गया। पूरे इलाके में लोगों को सांस लेने में परेशानी होने लगी। लोगों का बाहर निकलना मुश्किल हो गया। गैस के रिसाव की सूचना मिलते ही भेल से अधिकारियों और कर्मचारियों का अमला मौके पर पहुंचा। उन्होंने आनन-फानन गैस रिसाव को बंद कराया। इसके बाद डैमेज सिलेंडर को दुरुस्त कराया गया। आधे घंटे की रिसाव में आसपास की कालोनी के लोगों का सांस लेना दूभर हो गया था। - असल में, प्लांट से क्लोरीन गैस का रिसाव हुआ, जिसकी बदबू इतनी तेज थी कि लोगों को सांस लेने में दिक्कत होने लगी। मौके पर भेल की टीम मौजूद रही है। नगर निगम के फायर ब्रिगेड अमले ने गैस रिसाव पर आधे घंटे की मशक्कत के बाद काबू पा लिया। फिल्टर प्लांट भेल का है, जहां पर बड़े तालाब से पानी लाया जाता है और यहां से फिल्टर होकर भेल सप्लाई किया जाता है। बताया जा रहा है कि गैस के कुछ सिलेंडर डैमेज कंडीशन में है। ऐसे में कभी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। पांच साल पहले भी क्लोरीन गैस का रिसाव हुआ था। जिससे कई लोग बीमार हो गए थे। भेल का वाटर फिल्टर प्लांट :यहां पर बड़े तालाब से पानी नगर निगम उपलब्ध कराता है। इसकी क्षमता हर रोज 225 लाख लीटर पानी साफ करता है। इसके बाद पानी भेल में सप्लाई किया जाता है।
भोपाल, इंदौर में 24 घंटे तक भारी बारिश की चेतावनी, गुजरात के गिर गढड़ा में एक दिन में 25 इंच पानी गिरा
17 July 2018
मध्यप्रदेश, गुजरात, ओडिशा और उत्तराखंड के कई इलाकों में बारिश का दौर जारी है। मौसम विभाग ने भोपाल, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद और सागर में अगले 24 घंटे तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। उधर, गुजरात के सात जिलों में नदी-नाले उफान पर हैं। सोमनाथ जिले के गिर गढड़ा में सोमवार से मंगलवार के बीच 25.5 इंच बारिश हुई। राज्य में कई जगह बाढ़ के हालात पैदा हो गए हैं। निचले इलाकों में पानी भर गया है। गणदेवी, नवसारी, अमरेली, जूनागढ़ और सूरत में फंसे करीब 1000 लोगों को सुरक्षित स्थान पर भेजा गया है। 14 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट: मौसम विभाग ने मंगलवार को कोंकण और गोवा, गुजरात में सौराष्ट्र रीजन, पूर्वी और पश्चिमी मध्यप्रदेश, और महाराष्ट्र के विदर्भ और मध्य महाराष्ट्र, तटीय कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और पश्चिमी राजस्थान, छत्तीसगढ़, ओडिशा, तटीय आंध्र प्रदेश, तेलंगाना भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। सोमवार को कहां-कहां हुई बारिश : सोमवार को दिल्ली के सफदरजंग, लोधी रोड और पालम समेत कई इलाकों में तेज बारिश से सड़कों पर पानी भर गया। कुछ जगहों पर लंबा जाम भी लगा। उत्तराखंड के चमौली में बदल फटने से कई मकान और दुकानों को नुकसान पहुंचा। 10 से ज्यादा गाड़ियां पानी में बह गईं। ऋषिकेश को गंगोत्री और यमुनोत्री को जोड़ने वाले हाईवे पर कई जगह लैंडस्लाइड हुआ। ओडिशा के 12 जिलों में रविवार से सोमवार तक औसतन 50 मिलीमीटर बारिश हुई। भुवनेश्वर, कटक और पुरी में जनजीवन प्रभावित हुआ। केरल में भी बारिश रेल और सड़क यातायात पर असर पड़ा। यहां हफ्तेभर में 12 लोगों की जान गई
अपनी ही पार्टी के केंद्रीय पर्यवेक्षकों को हटवाएंगे कमलनाथ; कहा- शिकायतें मिली हैं, क्षेत्र में जाकर करते हैं नेतागिरी
10 July 2018
भोपाल. कांग्रेस के मध्य प्रदेश चीफ कमलनाथ ने आगामी चुनावों को देखते हुए एनजीओ से कांग्रेस घोषणापत्र के लिए सुझाव मांगा है। इसके साथ ही उन्होंने केंद्रीय पर्यवेक्षकों के व्यवहार और कार्यप्रणाली पर सवाल उठाएं हैं। उन्होंने कहा कि शिकायतें मिली हैं, कुछ केंद्रीय पर्यवेक्षक क्षेत्र में जाकर नेतागिरी कर रहे हैं, उनका व्यवहार अच्छा नहीं है। ऐसे पर्यवेक्षकों को हटवाया जाएगा, इस संबंध में पर्यवेक्षकों से मिल रहा हूं। मेरी नीति है सबको जोड़कर साथ चलने की है। एनजीओ सच्चाई का साथ दें :मंगलवार को एनजीओ के साथ बैठक कर रहे कमलनाथ ने कहा कि हम एनजीओ को समझाना चाहते हैं, वैसे तो एनजीओ हमसे ज्यादा समझदार हैं। एनजीओ से यही कहूंगा कि वह प्रदेश की तस्वीर देखकर तय करें। एनजीओ कोई कांग्रेस या बीजेपी से नहीं जुड़े हैं। पर सच्चाई से उन्हें जोड़ना चाहता हूं। वह प्रदेश की तस्वीर देखकर सच्चाई से जुडे। किस तरह से मध्य प्रदेश की जनता को ठगा गया है। मध्य प्रदेश के भविष्य को नष्ट किया है। आज आवश्यकता है कि प्रदेश के भविष्य का नक्शा तैयार किया जाए। भाजपा नेताओं को लोग भगा रहे हैं : भाजपा के किसान चौपाल लगाने पर कहा, इनके पास अब कुछ बचा नहीं है। जहां जा रहे है, जनता इन्हें भगा रही है। अब धनबल से ये जनता को पटाना चाहते है। आज प्रदेश में बिजली संकट है, जबकि बिजली सरप्लस है। सब जानते है कि ये किसको किस रेट में बिजली बेच रहे है। किसकी बिजली किसको दे रहे हैं। आज किसानों को बिजली नहीं मिल पा रही है। एनजीओ से मांगा घोषणा पत्र पर सुझाव : कमलनाथ ने कहा कि एनजीओ की बैठक में बोला कि आपका राजनीति से कोई जुड़ाव नहीं है। आप तो हमें घोषणा पत्र को लेकर सुझाव दें। प्रदेश के अच्छे भविष्य को लेकर हमारा साथ दें। कमलनाथ ने कहा हमें राष्ट्रवाद का पाठ वो लोग पढ़ा रहे है, जिनका एक भी सदस्य आज़ादी के आंदोलन में नज़र नहीं आया।
हाईकोर्ट ने दिए फैकल्टी के री-ज्वॉइनिंग के आदेश, राजीव गांधी विश्वविद्यालय ने किया इंकार
5 July 2018
भोपाल.राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (आरजीपीवी) में कांट्रेक्ट फैकल्टी का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। यूआईटी में पहले से कार्यरत फैकल्टी ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की तो कोर्ट ने इन्हें दोबारा से ज्वॉइन करने का आदेश जारी कर दिया। लेकिन प्रशासन ने ऐसा करने से इंकार दिया है। इस बात को लेकर उम्मीदवारों ने तकनीकी शिक्षा विभाग और राजभवन तक शिकायत पहुंचाई है। इस पर विभाग ने तीन दिन में इन्हें ज्वॉइन कराने के लिए पत्र भी लिख दिया है। आरजीपीवी द्वारा यूआईटी, झाबुआ, शहडोल और पॉलिटेक्निक के लिए 177 कांट्रेक्ट फैकल्टी की भर्ती की जा रही है। उम्मीदवारों का आरोप है कि सिर्फ ऑनलाइन परीक्षा और फाॅर्म बुलाने को ही ट्रांसपेरेंसी नहीं कहा जाता। यह सब दिखाकर गाेलमाल किया जा रहा है। इंटरव्यू की प्रक्रिया पूरी होने को है। लेकिन, अभी तक यह बात सार्वजनिक नहीं है कि किस डिपार्टमेंट में कितनी पोस्ट खाली हैं। कितनी पोस्ट किस कैटेगरी की हैं। उम्मीदवारों की आशंका यह भी है कि कहीं बाहरी राज्यों के उम्म्ीदवारों को फायदा देने के लिए तो यह नहीं किया जा रहा है। परीक्षा क्वालीफाई करने पर जवाब मिला कि आप पात्र नहीं बुधवार को इंटरव्यू के लिए उम्मीदवारों को बुला तो लिया लेकिन एेन मौके पर अपात्र बताकर इंटरव्यू में शामिल नहीं किया। गणित विषय के लिए बुधवार को इंटरव्यू हुए। इसके लिए सभी के फाॅर्म भरा लिए गए। उम्मीदवारों ने ऑनलाइन एग्जाम को क्वालिफाई कर लिया। इसके बाद जब वे इंटरव्यू देने गए तो जवाब मिला कि आप इस भर्ती के लिए योग्य नहीं हो और उनके इंटरव्यू लेने से इंकार कर दिया
जून में मध्य प्रदेश के 51 जिलों में से 35 में हुई सामान्य बारिश, तीन-चार दिन बाद झमाझम की उम्मीद
2 July 2018
भोपाल। तीन-चार दिन बाद मध्य प्रदेश में फिर से बारिश होने की संभावना मौसम विभाग ने व्यक्त की है। जून में हुई मानसून के पहले दौर की बारिश में प्रदेश के 51 में से 35 जिलों में सामान्य या समान्य से अधिक बारिश हुई है। शेष जिलों में समान्य से कम बारिश हुई। ये अधिकांश जिले पूर्वी मध्यप्रदेश के हैं। कुल मिलाकर मध्यप्रदेश में जून में वर्षा समान्य है। मौसम खुलने से किसानों को बोवनी करने के लिए अच्छा समय मिल गया है। - मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार मानसून ने जब मध्य प्रदेश में प्रवेश किया था तब एक साथ तीन सिस्टम एक साथ सक्रिय हुए थे। पिछले दिनों जैसलमेर,कोटा से टीकमगढ़ होकर डाल्टनगंज से बंगाल की खाड़ी तक मानसून द्रोणिका (ट्रफ) बनी हुई थी। इसके प्रभाव से पूरे प्रदेश में कई स्थानों पर अच्छी बरसात हो रही थी। - दो दिन पहले मानसून द्रोणिका हिमालय की तरफ शिफ्ट हो गई। इसलिए कश्मीर, हिमाचल में भारी बारिश का दौर जारी है। वहीं मध्य प्रदेश में बरसात थम गईं। कहीं-कहीं हल्की बूंदा-बांदी फुहारे पड़ रही हैं वो लोकल सिस्टम के कारण हैं। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ला के अनुसार आगामी तीन-चार दिन बाद तेज बौछारें पड़ने की संभावना है। धूप निकलने के कारण अब दिन के तापमान में बढ़ोतरी होने के साथ ही वातावरण में उमस भी बढ़ने लगी है। अब जुलाई से उम्मीद - मौसम विभाग के अनुसार जुलाई में अच्छी बारिश की उम्मीद है। हालांकि, महीने के पहले सात दिन छुटपुट बारिश को छोड़ सूखे रह सकते हैं। अरब सागर में जो सिस्टम अभी बन रहा है, अगर उसे बैक प्रेशर ठीक तरह से मिला तो वह सात जुलाई तक मध्य प्रदेश में अच्छी बारिश करा सकता है। - मौसम विभाग के रिकॉर्ड के मुताबिक, भोपाल में जुलाई के महीने में 14 दिन बारिश के होते हैं और औसत बारिश 371.6 मिलीमीटर होती है। - जुलाई 1986 में अब तक की सबसे ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की थी जब पूरे महीने में 1031 मिलीमीटर बारिश रिकाॅर्ड की गई थी। - 22 जुलाई 1973 में 24 घंटे में 275.7 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी जो अब भी एक रिकॉर्ड है। - सबसे कम बारिश 35.8 मिलीमीटर 2002 में दर्ज की गई थी। 12 जुलाई 1966 को सबसे ज्यादा दर्ज हुआ था तापमान - मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जुलाई महीने का औसत तापमान अधिकतम 30.6 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 23.3 डिग्री सेल्सियस रहता है। - 12 जुलाई 1966 को भोपाल में 41.2 डिग्री तापमान रिकॉर्ड किया गया था। न्यूनतम तापमान सबसे कम 13 जुलाई 1959 और 30 जुलाई 2013 को 19.0 डिग्री सेल्सियस रिक़ॉर्ड किया गया था। कब कितनी हुई बारिश 2008- 219.7 2009- 528.3 2010- 244.9 2011- 310.0 2012- 360.0 2013- 429.1 2014- 485.5 2015- 472.7 2016- 670.2 2017- 292.6
पुलिस ने छापा मार एमपी नगर के तीन हुक्का लाउंज से 26 युवक-युवती को पकड़ा
30 Jun 2018
भोपाल।रविवार रात पुलिस ने एमपी नगर जोन वन में अवैध रूप से संचालित किए जा रहे हुक्का लाउंज 26 युवक-युवती हुक्का गुड़गुड़ाते हुए पकड़ा है। पुलिस ने हुक्का लाउंज से हुक्का, मशीन, तम्बाकू फ्लेवर के सामान जब्त किए हैैं। पकड़े गए युवक-युवतियों में 18 से 25 साल तक के लोग शामिल हैैं। हालांकि पुलिस ने युवतियों को समझाइश देकर छोड़ दिया गया है। - जानकारी के अनुसार पुलिस को सूचना मिली थी कि महाराणा प्रताप नगर स्थित जोन-1 में ट्वेंटी, सोशलाइट्स सेवन और वेफर्स नामक तीन हुक्का लाउंज अवैध रूप से संचालित किए जा रहे हैं। सूचना ये भी थी कि यहां आने वाले लड़के-लड़कियों को हुक्कर के साथ ही नशीले पदार्थों का सेवन करवाया जा रहा है। - तीनों स्थानों पर पहले पुलिस ने अपने मुखबिर को भेज मामले की पुष्टि कराई और फिर रविवार रात पुलिस ने ट्वेंटी, सोशलाइट्स सेवन और वेफर्स नामक तीन हुक्का लाउंज पर छापा मारा। छापे के दौरान पुलिस को 26 युवक-युवती हुक्का गुडग़ुड़ाते मिले, जोकि तम्बाकू के विभिन्न फ्लेवर का सेवन कर रहे थे। - पुलिस ने दो हुक्का संचालकों को गिरफ्तार किया है। वहीं, सी-20 हुक्का लाउंज से चार ग्राहकों को गिरफ्तार किया है। सोशलाइट्स सेवन से भी कई लोगों को गिरफ्तार किया। अवैध रूप से शराब पिलाई जा रही थी। पुलिस ने युवतियों को समझाइश देकर छोड़ दिया। वहीं, लड़कों के परिजनों को थाने बुलाया गया है।
अस्पताल में भर्ती एएसआई अमृतलाल भिलाला की मौत, तीन युवकों ने चेकिंग के दौरान कार से रौंद दिया था
29 Jun 2018
भोपाल. वाहन चेकिंग के दौरान कार से रौंदे गए भोपाल में पदस्थ एएसआई अमृतलाल भिलाला की मौत हो गयी है। 10 दिन से भोपाल के एक निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। अब पुलिस आरोपियों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज करेगी। पुलिस ने तीनों आरोपियों को दूसरे दिन ही गिरफ्तार कर लिया था। क्या था मामला... - 10 दिन पहले 16 जून को वाहन चेकिंग के दौरान कार सवार तीन युवकों ने एएसआई अमृतलाल भिलाला को रौंद दिया था। आरोपी कई मीटर तक एएसआई घसीटते हुए ले गए थे। घटना रात करीब 9:30 बजे की है। एएसआई अमृतलाल भिलाला निशातपुरा थाने में पदस्थ थे। वो गाड़ियों की रुटीन चेकिंग कर रहे थे, इसी दौरान एक तेज़ रफ़्तार कार को उन्होंने रोकने की कोशिश की। - आरोपियों ने अपनी गाड़ी चेकिंग के लिए नहीं रोकी और एएसआई भिलाला को रौंदते हुए गाड़ी दौड़ा ले गए। भिलाला करीब आधा किमी तक घसीटते चले गए। आगे जाकर आरोपी कार लेकर भाग निकले। बुरी तरह से जख्मी हुए थे एएसआई - इस दिल दहला देने वाली घटना में भिलाला बुरी तरह ज़ख्मी हो गए थे। पैर में दो फ्रैक्चर और कंधे की हड्डी टूट गयी थी। साथ ही पीछे के हिस्से की चमड़ी और मांस उधड़ गया था। तब से एएसआई भिलाला का भोपाल के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। इस हादसे के अगले दिन कार के ड्राइवर सहित उसमें सवार 2 लोगों को गिरफ़्तार कर लिया गया था। भिलाला 52 साल के थे। सीएम खुद गए थे एएसआई को अस्पताल देखने - थाना निशातपुरा में पदस्थ एएसआई अमृतलाल भिलाला को देखने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी गए थे। उन्होंने अमृत लाल से बात की और उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली थी। डॉक्टरों ने सीएम को भिलाला को आई गंभीर चोटों के बारे में बताया था। नर्मदा ट्रामा सेंटर की एक्सपर्ट टीम एएसआई का इलाज कर रही थी।
शहर में आज : विश्व संगीत दिवस पर योगनाद में पंडित शिवकुमार शर्मा बेटे राहुल शर्मा के साथ करेंगे जुगलबंदी
21 Jun 2018
भोपाल.राजधानी भोपाल में गुरुवार को एक बार फिर से पंडित शिवकुमार शर्मा और उनके बेटे राहुल शर्मा की जुगलबंदी सुनने को मिलेगी। असल में, गुरुवार को विश्व संगीत दिवस और अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस दोनों साथ हैं। ऐसे में उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत एवं कला अकादमी भारत भवन में योग नाद का आयोजन कर रही है। इस मौके पर योग ध्यान पर व्याख्यान भी होगा। इसमें द योग इंस्टीट्यूट मुंबई की निदेशक हंसा जी योग ध्यान पर व्याख्यान देंगी। वहीं पंडित शिवकुमार शर्मा व राहुल शर्मा संतूर वादन की प्रस्तुति देंगे। उनके साथ तबले पर राम कुमार मिश्रा संगत करेंगे। योगनाद में पंडित शिवकुमार शर्मा व राहुल शर्मा का संतूर वादन कहां-भारत भवन समय - 07.00 बजे प्रवेश- नि:शुल्क
नगरीय निकाय कर्मचारियों को सातवें वेतनमान की सौगात, प्रदेश के 35 हजार से ज्यादा अधिकारियों-कर्मचारियों को फायदा
18 Jun 2018
भोपाल. चुनावी साल में राज्य सरकार ने एक और मांग पूरी करते हुए नगरीय निकाय के कर्मचारियों-अधिकारियों को सातवां वेतनमान की सौगात दी है। इन्हें 1 जनवरी, 2016 से 7वें वेतनमान दिया जाएगा। सरकार ने सोमवार को इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। इससे प्रदेश के 35 हजार से ज्यादा कर्मचारियों को फायदा होगा। - 7वां वेतनमान एक अप्रैल 2018 से लागू किया जाना था, लेकिन इसमें मामला अटक गया था। सरकार के आदेश के बाद 1 जनवरी, 2016 से अब तक के वेतन एरियर्स की राशि दी जाएगी। हालांकि इस संबंध में आदेश अलग से जारी किया जाएगा। लंबे समय से हो रही थी मांग - नगरीय प्रशासन मंत्री माया सिंह ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा अपने नियमित कर्मचारियों को 7वें वेतनमान के भुगतान की स्वीकृति के समय से ही नगरीय निकायों के कर्मचारी संगठनों द्वारा निरंतर मांग की जा रही थी। नगरीय निकाय संगठन के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भेंट कर सातवां वेतनमान का लाभ दिए जाने की मांग की थी। 1 जनवरी 2016 से दिया जाएगा वेतन - मुख्यमंत्री के निर्देश पर ही नगरीय विकास एवं आवास विभाग ने प्रस्ताव तैयार कर वित्त विभाग को भेजा था। सिंह ने स्पष्ट किया है कि 1 जनवरी, 2016 से 31 मार्च, 2018 तक की अवधि में सेवानिवृत्त कर्मचारियों के स्वत्वों के निर्धारण के संबंध में विभाग द्वारा अलग से निर्देश जारी किए जाएंगे। 35 हजार कर्मचारियों को फायदा - मप्र के 378 नगरीय निकायों के 35 हजार से ज्यादा कर्मचारियों को सातवें वेतनमान का फायदा मिलेगा। करीब एक महीने पहले नगरीय विकास विभाग ने निकायों के कर्मचारियों को सातवां वेतनमान देने का फैसला करने के लिए कैबिनेट का प्रस्ताव बनाकर भेजा था। कैबिनेट में रखने से पहले इसे वित्त विभाग की मंजूरी के लिए भेजा गया, जिसकी मंजूरी मिलने के बाद इसका आदेश जारी कर दिया गया। नगरीय निकायों पर आएगा बोझ - कर्मचारियों को सातवां वेतनमान नगरीय निकाय अपने बजट से ही देंगे, इसलिए सरकार पर इसका अतिरिक्त भार नहीं पड़ेगा। हालांकि भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन जैसे बड़े नगर निगमों पर इसका ज्यादा बोझ आएगा, क्योंकि यहां कर्मचारियों की संख्या भी ज्यादा है।
भोपाल में मानसून के लिए अभी 10 दिन और इंतजार
12 Jun 2018
भोपाल. प्री-मानसून बारिश से भले ही शहर भीग चुका हो, लेकिन मानसून के यहां पहुंचने में अभी दस दिन और लगेंगे। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि मानसून अगले दो दिन बाद अटक सकता है। इसी वजह से यह भोपाल में देरी से पहुंचेगा। पिछले 5 वर्षों में सिर्फ एक बार ही वर्ष 2013 में मानसून अपने तय समय(13 जून) से पहले राजधानी पहुंचा था। - मौसम एक्सपर्ट एसके नायक ने बताया कि अगले 48 घंटे के दौरान मानसून का प्रभाव यानी उसका करंट कमजोर होने की संभावना है। इसलिए अगले 10 दिन तक मानसून के भोपाल पहुंचने की संभावना है। इधर, शहर में सोमवार को भी प्री मानसून गतिविधियां बनी रहीं। सुबह से बादल छाए थे। दोपहर को धूप भी निकली। शाम को 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से धूल भरी आंधी चली। इसके बाद बूंदाबांदी भी हुई। मानसून की प्रोग्रेस मुंबई तक ठीक- ठाक चला। वहां से यह विदर्भ, छत्तीसगढ़, ओडिसा और उत्तर पूर्वी राज्यों के कुछ हिस्सों में ही आगे बढ़ सका। सोमवार को यह महाराष्ट्र के अहमद नगर, बुलढाणा, अमरावती, गोंदिया और भवानी पटना, पुरी, कोलकाता, सोहरा, उत्तरी लखीमपुर तक पहुंचा। कई इलाकों में बूंदाबांदी नए व पुराने शहर के कई इलाकों में बूंदाबांदी भी हुई। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ला ने बताया कि सोमवार को दिन का तापमान 35.1 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 3 डिग्री कम रहा। रात का तापमान 25.2 डिग्री दर्ज किया गया। यह भी सामान्य से 1 डिग्री कम रहा। शहर में 5 सालों में कब आया मानसून 2013 में 11 जून, 2014 में 07 जुलाई, 2015 में 22 जून, 2016 में 21 जून, 2017 में 22 जून कोे।
Good News : 75 फीसदी अंक लाने वाले सभी विद्यार्थियों को मिलेगा लैपटॉप; सीएम शिवराज की घोषणा
8 Jun 2018
भोपाल. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 12वीं में 75 फीसदी अंक लाने वाले सभी विद्यार्थियों को लैपटॉप देने का ऐलान किया है। उन्होंने ये घोषणा एक छात्रा के सवाल के जवाब में दी। असल में, भोपाल की एक छात्रा ने कहा कि मेरे 84.6 फीसदी अंक हैं तो क्या मुझे लैपटॉप नहीं मिल पाएगा। इस पर सीएम शिवराज ने कहा कि 75 फीसदी अंक लाने वाले सभी विद्यार्थियों को लैपटॉप दिया जाएगा। - सीएम ने विद्यार्थियों की मांग पर प्रदेश के हर जिले में कैरियर काउंसिलिंग सेंटर खोलने का ऐलान किया है। साथ ही उन्होंने विद्यार्थियों के लिए मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना जुलाई से लागू करने की घोषणा कर दी। इसके तहत हर निम्न और मध्यमवर्गीय गरीब छात्रों की पढ़ाई का खर्च मध्य प्रदेश सरकार उठाएगी। - सीएम शिवराज शुक्रवार को 'हम छू लेंगे आसमां' के दूसरे चरण में विद्यार्थियों से बात की। उन्होंने कहा, फेल होने से सब कुछ खत्म नहीं हो जाता है। उन्होंने विद्यार्थियों को क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर, महाकवि कालिदास और तुसलीदासजी सहित कई लोगों के उदाहरण दिए। उन्होंने कहा आपके लिए सफलता कोई एक नहीं, कई रास्ते हैं। खुला आसमान है, किसी भी क्षेत्र में कैरियर बना सकते हैं - उन्होंने कहा कि इन सभी लोगों ने अपने-अपने क्षेत्र में अपना नाम बनाया, आप भी पसंदीदा क्षेत्र में नाम बना सकते हैं। देश में एक तरफ बेरोजगारी है तो दूसरे तरफ ऐसे लोगों की कमी है जो स्किल्ड हो। इतने तरह की आवश्यक्ताएं है कि कई बार इसके लिए बाहर से लोग बुलाने पड़ते हैं। पिता जी चाहते थे डॉक्टर बनूं, मैंने मना कर दिया - सीएम ने कहा कि मैं आप लोगों से बहुत प्यार करता हूं। किसी के कहने पर अपने करियर की राह मत चुनना, हमेशा सलाह लेना। मेरे पिताजी मुझे डॉक्टर बनना चाहते थे, लेकिन मैं डिशेक्शन नहीं करना चाहता था। मैंने अपनी बात निर्भयता के साथ पिताजी को बताई थी और वो मान गए। पढ़ाई भी रुचि के अनुसार होनी चाहिए, जिसमें मन लगे और आनंद आए। करियर काउंसलिंग इसीलिए हम कर रहे हैं, ताकि बच्चे अपने लिए सही मार्ग चुन सकें। मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना में गरीब विद्यार्थी शामिल - हमने 70 प्रतिशत ज्यादा लाने वाले बच्चों के लिए मेधावी विद्यार्थी योजना बनाई है, लेकिन 70 से कम लाने वाले गरीब परिवार के बच्चों के लिए मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना होगी। इसे जुलाई से लागू कर रहे हैं। इसके तहत गरीब परिवार और निम्न मध्यमर्गीय परिवार के बच्चों को फायदा मिलेगा। सरकार इन बच्चों की फीस भरेगी। हर कोई आगे बढ़ सकता है, इच्छाशक्ति हो - उन्होंने कहा कि भगवान ने सबको समान बुद्धि दी है, आपको इसका इस्तेमाल करना चाहिए। कई बच्चे सोचते हैं कि मैं कुछ नहीं कर सकता और थर्ड डिवीजन और ग्रेस में भी संतुष्ट हो जाते हैं, ऐसे बच्चे आगे नहीं बढ़ सकते। सीएम क्या, पीएम भी बन सकते हो - सीएम ने बच्चों के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि अगर आपके दिल में लोगों के लिए कुछ करने की इच्छा हो तो आप सीएम तो क्या पीएम भी बन सकते हैं। सफलता पाने के लिए धैर्य चाहिए। कुछ लोग हतोत्साहित करते हैं, उनके तरफ ध्यान न दें। दूसरे चरण में इतने छात्र शामिल - बता दें कि इस योजन के पहले चरण में मुख्यमंत्री ने 21 मई को भोपाल के मॉडल स्कूल, टी.टी. नगर से आकाशवाणी और दूरदर्शन के माध्यम से विद्यार्थियों से सीधा संवाद किया था। छू लेंगे आसमाँ के दूसरे चरण में 8 से 15 जून तक 12वीं बोर्ड की परीक्षा में उत्तीर्ण तथा 70 प्रतिशत से कम अंक प्राप्त करने वाले करीब 3 लाख 33 हजार विद्यार्थियों से काउंसिलिंग की जायेगी। हम छू लेंगे आसमाँ योजना का क्रियान्वयन स्कूल शिक्षा, तकनीकी शिक्षा और उच्च शिक्षा विभाग संयुक्त रूप से मिलकर कर रहे हैं। कार्यक्रम में मंत्री दीपक जोशी, सीएम के पीएस अशोक वर्णवाल, शिक्षा मंडल के अध्यक्ष SR मोहंती सहित अनेक अधिकारी, शिक्षक, छात्र-छात्राएं शामिल हुए।
चिट्ठी लीक मामले में पहली बार सामने आए कमलनाथ; बोले- चिट्ठी में कुछ भी गलत नहीं लिखा
4 Jun 2018
भोपाल.राहुल गांधी को लिखी चिट्ठी लीक मामले में पहली बार सामने आए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने सफाई दी है। उन्होंने कहा कि मैंने चिट्ठी में कुछ भी गलत नहीं लिखा था, उपमुख्यमंत्री सुभाष यादव ओबीसी नेता थे तो यह लिखने में क्या हर्ज। चिट्ठी लीक होने की बात गलत है, मीडिया मुझसे मांगता तो उन्हें भी दे देता। भोपाल में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कमलनाथ ने अलग-अलग जाति वर्ग के आधार पर चुनाव लड़ने के जवाब में कहा, "हम कोई अलग जाति वर्ग पर आधारित राजनीति नहीं कर रहे हैं और न ही इस आधार पर चुनाव लड़ेंगे।" हैरान था चुनाव आयोग - मतदाता सूची में फर्जीवाड़े को लेकर कमलनाथ ने कहा कि जब हमने मतदाता सूची में 60 लाख फर्जी वोटर होने की शिकायत तो चुनाव आयोग से तो वह हैरान थे, इसके बाद ही जांच करने के आदेश दिए। मेरा मानना है कि 2013 में भी फर्जीवाड़ा हुआ है, हर साफ्टवेयर में प्रोग्रामर होता है, जिससे अपने अनुसार सेटिंग की जा सकती है। अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए - बता दें मध्यप्रदेश में कम से कम 60 लाख फर्जी वोटर शामिल किए जाने का दावा करते हुए कांग्रेस ने चुनाव आयोग से शिकायत की है। कमलनाथ ने शिवराज सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए चुनाव आयोग से गड़बड़ी करने वाले सभी रिटर्निंग आफिसर्स के खिलाफ सख्त कार्रवाई की भी मांग की है। कमलनाथ ने कहा कि भाजपा ने मतदाता सूची बनाने में प्रशासनिक दुरुपयोग हुआ है, उन अधिकारियों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए। बिल्ला लेकर न घूमें अधिकारी - कमलनाथ ने कहा जिन अधिकारियों ने बीजेपी का बिल्ला जेब मे रखा है, उन पर भी हम एक्शन लेंगे। कमलनाथ ने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि भाजपा का बिला लेकर न घूमें। सरकार राहुल की रैली को असफल करने में जुटी - किसान आंदोलन पर कमलनाथ बोले किसानों से बॉन्ड भरवाए जा रहे हैं, शिवराज को बॉन्ड भरना चाहिए, शिवराज ने कलाकारी घोषणाओं की राजनीति की है। उन्होंने कहा 6 जून को मंदसौर में ऐतिहासिक यात्रा में राहुल गांधी शामिल होंगे, सभा सफल नहीं होने देने के लिए सरकार कोशिश में जुटी हुई है। किसान के साथ खड़ी है कांग्रेस - कमलनाथ ने कहा कांग्रेस मध्य प्रदेश के हर किसान के साथ खड़ी है। हम किसी किसान संगठन के साथ नहीं है। उन्होंने कहा मेरे पुलिस करियर में पहली बार ऐसा देख रहा हूँ जब प्रदेश में हर वर्ग सरकार से परेशान है, पूरे प्रदेश में सब दुखी है चाहे किसान हो महिला हो या आम आदमी। नाथ ने आगे कहा भाजपा के कुछ नेता भी कांग्रेस का साथ देने आने वाले है। खुलासों को लेकर कहा कई खुलासे हमने किये, चुनाव से पहले और भी बड़े खुलासे होंगे। भाजपा के कई नेता संपर्क में - भाजपा के कई नेता संपर्क में हैं, परंतु हम देखेंगे कि किसका कितना उपयोग है और क्षेत्र में कितनी दखल रखते हैं। मीडिया ने जब पूछा कि वह कब से आएंगे तो कमलनाथ केवल मुस्कुरा दिए। उन्होंने कहा, इसका भी जल्द ही खुलासा होगा।
बैंक हड़ताल : प्रदेश के बैंकों में कामकाज ठप, 3 लाख 74 हजार करोड़ बैंकिंग कारोबार प्रभावित
30 May 2018
भोपाल.नौ बैंक यूनियनों के संगठन यूनाईटेड फोरम आफ बैंक यूनियन के बैनर तले बुधवार और गुरुवार को राष्ट्रव्यापी हड़ताल शुरू हो गई। इस दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के 21 बैंकों और निजी क्षेत्र के पुराने बैंकों और विदेशी क्षेत्र के बैंकों में काम-काज नहीं हुआ। इससे राजधानी भोपाल में बैंकों की करीब 400 शाखाओं में बैंक का कामकाज प्रभावित रहा। दफ्तर सूने रहे और कामकाज बुरी तरह से प्रभावित रहा है। इससे करीब 3 लाख 74 हजार करोड़ रुपए से अधिक का कारोबार प्रभावित होगा। 4 हजार शाखाओं के 40 हजार कर्मचारी - बैंक यूनियन नेता अरुण भगोलीवाल एवं डीके पोद्दार ने बताया कि प्रदेश में 4 हजार शाखाओं के करीब 40 हजार कर्मचारी, अधिकारी हड़ताल पर हैं। इससे करीब 3 लाख 74 हजार करोड़ रुपए से अधिक का कारोबार प्रभावित होगा। वहीं, भोपाल में करीब 400 शाखाओं के कर्मचारी-अधिकारी हड़ताल पर हैं। - इससे पहले हड़ताल के मद्देनजर बैंक कर्मचारियों ने मंगलवार को प्रदर्शन किया। अरेरा हिल्स स्थित पंजाब नेशनल बैंक के जोनल आफिस के सामने किए गए प्रदर्शन के दौरान कर्मचारियों ने मांगों को लेकर नारेबाजी की। इसके बाद सभा हुई। जिसे वीके शर्मा, डीके पोद्दार, संजीव सबलोक, संजय कुदेसिया, जेपी झंवर समेत कई पदाधिकारियों ने संबोधित किया था। - वक्ताओं ने कहा कि वर्तमान वेतन समझौता नवंबर 2017 से लंबित है। बातचीत के 15 दौर हो चुके हैं। आखिरी दौर में बैंक प्रबंधन ने सिर्फ दो फीसदी वेतन वृद्धि का प्रस्ताव रखा। हड़ताल क्यों ...? - बैंक कर्मचारियों ने वेतन में 2 फीसदी की वृद्धि के प्रस्ताव के खिलाफ हड़ताल पर गए हैं। इन दो दिनों की हड़ताल से आम लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। एआईबीईए के महासचिव सीएच वेंकटचलम ने बताया कि वह इस बात पर अड़े हैं कि अधिकारियों की बातचीत पर स्केल 3 तक ही सीमित रहेगी। पिछली बार आईबीए ने 15 फीसदी की बढ़ोत्तरी की थी। साथ ही हमारी मांग वेतन वृद्धि समझौता लागू करना, सेवा शर्तों में सुधार शामिल है। देश के करीब 10 लाख कर्मचारी हड़ताल पर हैं - देश के तकरीबन 10 लाख कर्मचारी इस हड़ताल में शामिल हैं। वेतन में वृद्धि की मांग को लेकर बैंक कर्मचारी सड़कों पर उतर आए हैं। विभिन्न राज्यों में इस हड़ताल का असर साफ दिखाई दे रहा है। सरकारी बैंकों और एटीएम पर ताले लग गए हैं, जिसकी वजह से लोगों को परेशानियों का सामने करना पड़ रहा है। - हड़ताल से देश की बैंकिंग व्यवस्था पर काफी बुरा असर पड़ने की आशंका है लेकिन इसका सबसे ज्यादा खामियाजा सरकारी बैंकों को उठाना पड़ सकता है। असल में, सरकारी क्षेत्र के 17 बैंकों को पिछली तिमाही में 60 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का घाटा हो चुका है। - ये बैंक आगे का काम चलाने के लिए सरकार से अतिरिक्त वित्तीय मदद मांग रहे हैं। ऐसे में दो दिनों की हड़ताल से इन पर वित्तीय दबाव और बढ़ सकता है। एनपीए वसूली जैसी गतिविधियों पर भी असर होगा।
किसानों के 10 दिन के बंद का समर्थन करेगी आम आदमी पार्टी : आलोक अग्रवाल
28 May 2018
भोपाल। आम आदमी पार्टी ने शाहजहानी पार्क में अनिश्चितकालीन अनशन के तीसरे दिन किसान संगठनों के गांव बंद कार्यक्रम का समर्थन किया है। पार्टी के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल ने कहा कि गांव बंद कार्यक्रम किसानों की अपनी ताकत दिखाने का जरिया है। आम आदमी पार्टी के सभी कार्यकर्ता इस शांतिपूर्ण तरीके के जरिये किसानों के साथ अपनी एकता प्रदर्शित करते हुए गांव बंद कार्यक्रम को पूरी तरह से सफल बनाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रशासन ने हमसे बात की और कहा कि हमारे पास अनशन की अनुमति नहीं है। हम कहना चाहते हैं कि क्या हमें शांतिपूर्ण अनशन का संवैधानिक अधिकार भी नहीं है। दूसरे अनशन भी हो रहे हैं। - इस सरकार को अनशन की मांगों पर ध्यान देना चाहिए और मांगों को पूरा करना चाहिए। लेकिन सरकार ऐसा नहीं कर अनशन तोडऩे की कोशिश करती है, तो आम आदमी पार्टी का कहना है कि हम शांतिपूर्ण अनशन कर रहे हैं और यह अनशन हमारी मांगें पूरी होने तक जारी करेगा। - उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यह सरकार उद्योगपतियों के कर्ज को माफ करने में कोई देर नहीं करती है, लेकिन किसानों के महज 40 हजार करोड़ के कर्ज को माफ नहीं करना चाहती है। सबकुछ सरकार के हाथ में - उन्होंने कहा कि प्रदेश का बजट 2 लाख करोड़ से ज्यादा का है। इसमें से आधा पैसा यानी करीब 1 लाख करोड़ रुपए भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाता है। अगर शिवराज सरकार चाहे तो बस एक साल के लिए भ्रष्टाचार न करके भी किसानों के कर्ज को माफ कर सकती है। - उन्होंने कहा कि आज सरकार को लगता है कि किसानों की कोई कीमत नहीं है। हम उन्हें इस कीमत का अहसास कराएंगे। किसान संगठनों के गांव बंद कार्यक्रम को समर्थन देकर आम आदमी पार्टी इसमें सक्रिय भागीदारी करेगी। - इसमें हम अपना सामान बाहर लेकर नहीं जाएंगे, बस जिसे हमारा सामान लेना है, वह गांव में आए। कई जगह से आए कार्यकर्त्ता - अनशन के तीसरे दिन सिंगरौली, रीवा, जबलपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, डिंडोरी, मंडला, उज्जैन, नीमच, मंदसौर, आगर-मालवा समेत अन्य जिलों से आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता आए। अनशन में प्रदेश भर से कार्यकर्ता, किसान और युवाओं के आने का सिलसिला जारी है। साथ ही कई संगठनों के लोग भी लगातार अनशन स्थल पर आकर समर्थन दे रहे हैं। अनशन को प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल के अलावा प्रदेश संगठन मंत्री पंकज सिंह, प्रदेश संगठन सचिन मुकेश जायसवाल, उज्जैन जोन के सचिव इंद्र विक्रम सिंह, प्रदेश सचिव दुष्यंत दांगी समेत अन्य पदाधिकारियों ने संबोधित किया।
कमलनाथ का शिवराज सरकार पर हमला, ये कैसी भावांतर, किसान नुक़सान में, व्यापारी फ़ायदे में
19 May 2018
भोपाल.आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी के साथ कांग्रेस ने भी प्रदेश में सक्रियता बढ़ा दी है। प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ लगातार प्रदेश के दौरे कर रहे हैं। इसी कड़ी में वे शनिवार को बैतूल पहुंचे, जहां पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से मिले। इस दौरान उन्होंने मंच और ट्वीट के जरिए शिवराज सरकार की महत्वाकांक्षी योजना भावांतर को लेकर सरकार बड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि भावांतर के बावजूद किसान नुकसान में है और व्यापारी फायदे में। सीएम किसान के विकास की बात करते हैं, हालात जस के तस - कमलनाथ ने लोगों से बात करते हुए शिवराज सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार ने किसानों के फायदे के लिए भावांतर भुगतान योजना शुरू की, जिसमें गेहूं और अन्य फसलों को शामिल किया गया। किसानों के विरोध के बाद प्याज और लहसुन को भी बाद में शामिल कर किसानों को बड़ी राहत दी, लेकिन वह राहत कहीं नजर नहीं आ रही है। सरकार किसान के हित में काम करने के दावे तो करती है, लेकिन किसानों की स्थिति जस की तस है। भावांतर के बाद भी किसान को उसकी उपज का लाभी नहीं मिल रहा है। वहीं व्यापरी मौज कर रहे हैं। - कमलनाथ ने मामले में एक ट्वीट भी किया, जिसमें उन्होंने लिखा है 'कांग्रेस शुरू से कह रही है कि भावन्तर योजना किसानों के लिए नहीं, अपितु भाजपा समर्थित व्यापारियों के फायदे के लिए बनी है। लेकिन शिवराज सरकार मानने को तैयार नहीं। अब लहसुन के बाद प्याज़ के इस योजना में आते ही प्याज के भाव गिरे। किसान नुक़सान में, व्यापारी फ़ायदे में।
माह-ए-रमजान : तारावीह की नमाज के साथ रमजान का आगाज, पुराने भोपाल के बाजार में रौनक
17 May 2018
भोपाल.माह-ए-रमजान शुरू होने के साथ ही गुरुवार को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पहला रोजा पूरी शिद्दत के साथ रखा। इसी के साथ मस्जिदों और अन्य स्थानों पर सुबह तारावीह पढ़ी गई। इसके पहले बुधवार देर रात भोपाल में नहीं दिखने की स्थिति में शहर काजी सैयद मुश्ताक अली नदवी ने दिल्ली के जामा मस्जिद के प्रमुख इमाम बुखारी और लखनऊ व हैदराबाद के इमामों से फोन पर वहां चांद दिखने की तस्दीक की। इसके बाद उन्होंने यहां गुरुवार से रमजान के आगाज का ऐलान कर दिया। -इसके बाद लोगों को मस्जिदों में लगे लाउडस्पीकर के जरिए इसकी सूचना दी गई। जैसे ही लोगों को ये पता लगा, उनमें खुशी की लहर दौड़ गई। देर रात जैसे ही लोगों को चांद दिखने की इत्तिला मिली, लोगों के चेहरों पर खुशी छा गई। बहुत से लोग तरावीह के लिए मस्जिदों में पहुंचने लगे तो अनेक लोगों ने बाजार की ओर रूख किया। उन्होंने बाजारों में भी जरूरी सामान की खरीदी शुरू कर दी। रात बनी रही असमंजस की स्थिति मसाजिद कमेटी के सचिव यासिर अराफात ने पुष्टि कर दी है कि दिल्ली, लखनऊ व कई अन्य शहरों में चांद दिखने की जानकारी मिल चुकी है। इसलिए पहला रोजा अब गुरुवार से शुरू होगा। मस्जिदों से रमजान के आगाज व तरावीह शुरू करने का ऐलान भी करा दिया गया है। बुधवार शाम रूअते हिलाल कमेटी के सदस्य शहर काजी सै. नदवी आदि की मौजूदगी में चांद देखने के लिए मोती मस्जिद स्थित बगिया में इकट्‌ठा हुए थे। जैसे ही चांद दिखने का ऐलान हुआ लोग तरावीह के इंतजाम में जुट गए थे, वहीं बाजारों में भी जरूरी सामगर की खरीद-फरोख्त करने भीड़ बढ़ गई थी। -अफ्तार 17 मई -शाम 7.01 बजे -सेहरी 18 मई -सुबह 3.49 बजे
गाली देने वालों को जनता जवाब देती है, कर्नाटक में उन्हें जवाब मिल गया : सीएम शिवराज
15 May 2018
भोपाल. इंडियन नेशनल कांग्रेस को नाम बदलकर कांग्रेस पीएमपी यानि पंजाब, मिजोरम, पुडुचेरी कर देना चाहिए। ये ट्वीट सीएम शिवराज सिंह चौहान ने किया है। कर्नाटक में रुझानों में बीजेपी की बढ़त से खुश सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि मेरी आलोचना करने और गाली देने वालों को क्या कहूं। अब देख लीजिए कर्नाटक में भी जनता ने दे दिया जवाब। इस बीच भोपाल के भाजपा कार्यालय में जश्न का माहौल है, यहां पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष राकेश सिंह को कार्यकर्ताओं ने मिठाई खिलाई और पटाखे फोड़कर खुशियां मनाईं। पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व और बीएस यदुरप्पा की जिम्मेदारी में कर्नाटक में हम जीत रहे हैं। होशंगाबाद में हर्बल घाट पर हुए कार्यक्रम में सीएम शिवराज ने कहा कि कर्नाटक की जीत, भाजपा सरकारों के विकास की राजनीति का परिणाम है। अब जिन्हें काम नहीं करना है, सिर्फ आलोचना करनी है। उन्हें जनता जवाब देती है। कर्नाटक में रुझानों में बीजेपी बहुमत की ओर -कर्नाटक विधानसभा की 224 में से 222 सीटों पर हुए चुनावों के रुझानों में भाजपा को बहुमत मिल गया है। वह 113 सीटों पर आगे चल रही है। कांग्रेस 67, जेडीएस को 40 और अन्य 2 सीटों पर बढ़त बनाए हुए हैं। मतगणना के शुरुआती आधे घंटे में कांग्रेस ने बढ़त बनाई। इसके बाद एक घंटे तक उसकी भाजपा से कड़ी टक्कर देखने को मिली। लेकिन साढ़े नौ बजे के बाद भाजपा आगे निकलकर बहुमत तक पहुंच गई। -राज्य में भाजपा से ज्यादा वोट शेयर हासिल करने के बाद भी कांग्रेस उसे शिकस्त नहीं दे पाई। बल्कि सत्ताधारी पार्टी की सीटें पिछली बार से आधी रह गईं। कर्नाटक हारने के बाद कांग्रेस की सरकार पंजाब, मिजोरम और पुडुचेरी में बची है। वहीं, भाजपा अब 31 राज्यों में से 21 में सत्ता में पहुंची है।
भोपाल में हाईप्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, पुलिस ने दो विदेश युवतियों समेत 11 लोगों को हिरासत में लिया
11 May 2018
भोपाल. निशातपुरा पुलिस ने शुक्रवार सुबह हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए दो विदेशी युवतियों समेत 11 लोगों को हिरासत में लिया है। इसमें छह युवतियां और पांच युवक बताए जा रहे हैं। पकड़ी गई छह लड़कियों में दो लड़कियां युगांडा की बताई जा रही हैं। लड़कियों ने पहले पुलिस को बर्थ डे पार्टी से लौटने का हवाला देकर गुमराह करने की कोशिश की, लेकिन पुलिस की कड़ाई के बाद मामला खुल गया। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है, आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक विश्वकर्मा नगर में रहने वाले लोगों ने पुलिस को शिकायत करके बताया था कि एक किराए के घर में सेक्स रैकेट चल रहा है। पुलिस ने पुष्टि होने पर छापामार कार्रवाई करते हुए लड़के और लड़कियों को सुबह-सुबह धर दबोचा। बताया जा रहा है कि पुलिस के छापे के दौरान घर में डांस करते हुए संदिग्ध अवस्था मिले थे। -मकान रमेश शर्मा का बताया जा रहा है, जहां युवतियां किराए से रहती हैं। पकड़े गए आरोपियों ने पहले पुलिस को गुमराह करते हुए बताया था कि वह बर्थ डे पार्टी मनाकर गुनगा स्थित फार्म हाउस से लौटे थे। पहले कोहेफिजा से चल रहा था कारोबार -बताया जा रहा है कि विश्वकर्मा नगर में चल रहा कारोबार कोहेफिजा से संचालित हो रहा था। पुलिस को आरोपियो के पास से मोबाइल फोन भी मिले हैं। जिसके आधार पर पुलिस आरोपियों से जुड़े कुछ बड़े लोगों का खुलासा हो सकता है। पुलिस ने उनके मोबाइल फोन जब्त कर उनकी कॉल डिटेल निकलवा रही है। महिला थाना पुलिस के पहुंचने के बाद युवतियों से पूछताछ की जा रही है।
मिशन MP : अमित शाह बोले, राहुल बाबा आप जीत की बात कहते हो, आपको कांग्रेस का अस्तित्व दूरबीन लेकर खोजना पड़ेगा
4 May 2018
भोपाल.भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह शुक्रवार दोपहर मिशन एमपी के तहत भोपाल पहुंचे। 2 घंटे के अल्प प्रवास पर भोपाल पहुंचे शाह ने दशहरा मैदान पर कार्यकर्ताओं को आगामी चुनाव में जीत का मंत्र दिया, साथ ही कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने राहुल गांधी के मप्र में जीत के दावे पर कहा कि राहुल बाबा को कांग्रेस का अस्तित्व दूरबीन लेकर खोजना पड़ेगा, जीत को दूर की बात है। इसके पहले एयरपोर्ट स्थित स्टेट हैंगर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने उनकी अगवानी की। पीएम मोदी जैसा लीडर मिलना गर्व की बात - बीजेपी सुप्रीमो शाह ने अपने संबाेधन की शुरुआत पीएम मोदी को याद करते हुए किया। उन्होंने कहा कि आज जो यहां पर हो रहा है उसकी आवाज पीएम मोदी तक जानी चाहिए, क्योंकि हर मंडल अध्यक्ष विजयश्री के लिए संकल्पित है। मप्र देश का दिल है, जहां भगवान महाकाल स्वयं विराजित हों, ऐसी धरा बीजेपी के लिए पूज्यनीय है। पीएम मोदी जैसा लीडर मिलना हमारे लिए गर्व की बात है। राहुल बाबा के बयान पर हंसी आती है - मप्र के नए अध्यक्ष कमलनाथ और राहुल बाबा बड़े विश्वास के साथ बोल रहे हैं कि इस बार मप्र में कांग्रेस की सरकार बनेगी। मुझे उनके बयान को सुनकर हंसी आती है। राहुल बाबा को कांग्रेस का अस्तित्व दूरबीन लेकर ढूंढना पड़ेगा। आज कांग्रेस के जो नेता हमें देख रहे हैं, मैं उन्हें इस मंच के माध्यम से बताना चाहता हूं कि आप में दम नहीं है कि बीजेपी को हरा सको। मंच से शाह ने गिनाई पार्टी की उपलब्धि - शाह ने बीजेपी की विजयश्री को गिनाते हुए कहा कि कांग्रेस जो बात कह रही है मैं उन्हें याद दिलाना चाहता हूं कि लोकसभा चुनाव के बाद सबसे पहले महाराष्ट्र चुनाव हुआ, उसे बीजेपी ने जीता, फिर हरियाणा, जम्मू, असम, मणिपुर, उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश, गोवा, हिमाचल, मेघालय, नागालैंड, त्रिपुरा में हम जीत चुके हैं और हमारे कार्यकर्ता अब मई में पटाखे तैयार रखें, कर्नाटक भी हम जीतने वाले हैं। राहुल बाबा राजा-महाराजा को लेकर चुनाव में उतरे हैं - शाह ने कहा कि राहुल बाबा को मैं बताना चाहता हूं कि मप्र तो बीजेपी संगठन का गढ़ है। यहां बीजेपी की पैठ अंगद के पैर की तरह है, जिसे उखड़ फेंकना अापके बस की बात नहीं है। उन्होंने राहुल गांधी पर तंज करते हुए कहा कि आप क्या जीत की बात करते हो बीजेपी गरीबों की बात करती है, और आप राजा-महाराजा की। अब की बार ये लड़ाई कॉर्पोरेट और किसानों के बीच की है। राहुल बाबा राजा-महराजा को लेकर चुनाव मैदान में उतरे हैं, हमें उसने डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि मेरा तो बूथ का कार्यकर्ता राजा-महाराजा को हराने की क्षमता रखता है। कांग्रेस देशभर में विभाजन की राजनीति कर रही है - शाह ने एंटी इनकंबेंसी को नकारते हुए उन्होंने कार्यकर्ताओं में जोश भरने के लिए कहा कि कांग्रेस को सत्ता भोगने की आदत है, इसलिए उसे एंटी इनकंबेंसी का डर सताता है। बीजेपी सत्ता में आते ही सेवा में जुट जाती है, इसलिए उसे ऐसा कोई डर नहीं रहता। कांग्रेस देशभर में विभाजन की राजनीति कर रही है, वह जातियों को बांटने का काम कर रही है। कांग्रेस ने दुनियाभर में हिंदू संस्कृति को बदनाम किया - शाह ने हिंदू टेरर का जिक्र करते हुए कांग्रेस को जमकर कोसा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने एक फर्जी केस के जरिए हिंदू टेरर नाम देकर हिंदू संस्कृति को दुनियाभर में बदनाम किया है। अब जब कोर्ट ने पूरे मामले को ही नकार दिया है तो कांग्रेस चुप क्यों हैं। राहुल गांधी ने 2014 के चुनाव में जिस कदर देशभर में घूम-घूमकर हिंदू टेरर रट रहे थे। अब तो उन्हें माफी मांग लेनी चाहिए, लेकिन वे ऐसा नहीं करेंगे। हमें ही जन-जन तक उनके इस कारनामे को पहुंचाना होगा। मप्र को शिवराज ने बीमारू राज्य से बाहर निकाला - शाह ने सीएम शिवराज की तारीफ करते हुए कहा कि मप्र में शिवराज सरकार ने जो काम किया है, शायद ही किसी प्रदेश में हुआ हो। उन्होंने विकास को लेकर एक उदाहरण देते हुए कहा कि जब हम गुजरात से महाकाल दर्शन करने आते थे तो दाहोद तक तो नींद में होते थे, लेकिन जैसे ही मप्र में कदम रखते गड्‌ढे उठा देते थे। वो समय था कांग्रेस राज का। मप्र में आज सड़क का जाल है। विकास दर सबसे ज्यादा है। शाह ने दिया जीत का मंत्र - शाह ने जीत का मंत्र देते हुए कहा कि संगठन में काम करते हुए जन-जन तक हमें जाना होगा। हमें बूथ ल लेवल पर काम करना होगा। उन्होंने कहा कि वे खुद हर जिले में पहुंचेंगे और बूथ लेवल के कार्यकर्ताओं के बीच बैठेंगे। मप्र में हमारे एक करोड से ज्यादा कार्यकर्ता बने हैं। उसमें से 65 लाख कार्यकर्ताओं का हमारे पास पूरा डाटा है। यदि 65 लाख कार्यकर्ता पांच दिन भी चुनाव प्रचार करते हैं तो हमें जीत से कोई रोक नहीं सकता। इस बार चुनाव में विजय के लिए नहीं जाएं, जीत के अंतर को बढ़ाने के लिए जाएं। विजय का अंतर इतना बड़ा हो कि विरोधियों की नींद उड़ जाए। - जीत का मंत्र देते हुए उन्होंने अपने बचपन की एक बात मंच पर बताई। उन्होंने कहा कि बचपन में मेरे यहां गीता का पाठ हो रहा था। तीसरे दिन मैंने मां से कहा कि भगवान कृष्ण ने इतनी बड़ी गीता थोड़ी ना कही होगी। इस पर पंडित जी ने कहा कि हां बेटा तुम ठीक कह रहे हो, उन्होंने तो बस अर्जुन से इतना कहा होगा कि पूरे जीवन में मैंने तुम्हें जो धर्म की सीख दी है उसे स्मरण करो और धनुष उठाकर दुश्मनों का नाशकर दो। अाप भी उसी प्रकार से दुश्मनों पर टूट पड़ो, विजय अापकी होगी। सीएम बोले, नरेंद्र मोदी भगवान का वरदान - सीएम शिवराज ने कहा कि जिनके नेतृत्व में असम और त्रिपुरा जैसे राज्य बीजेपी ने फतह की, ऐसे अमित भाई का हम दोनों हाथ उठाकर स्वागत करते हैं। मैं विश्वास से कहता हूं कि अब कर्नाटक भी कांग्रेस हारने वाली है। हमारे प्रधानमंत्री देश ही नहीं दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता हैं। मोदी जी भगवान का वरदान हैं। गरीबों, विकास के लिए जितनी तड़प नरेंद्र मोदी जी में है, शायद किसी नेता में हो। बीजेपी का मुकाबला कांग्रेस के बस की बात नहीं। 2003 में जब हम आए तक, गरीब मप्र, अंधकारमय मप्र, गड्‌डे वाला मप्र, पिछड़ा मप्र था, जो अब इस सब से बाहर निकल चुका है। आज प्रदेश एक खुलहाल प्रदेश है। आज प्रदेश में अन्न के भंडार भर गए हैं। - शुक्रवार सुबह अमित शाह के आने के पहले प्रदेश कार्य समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक को संबोधित करते हुए सीएम शिवराज सिंह चाैहान अपने कुर्सी वाले बयान पर फिर से सफाई दी। सीएम ने कहा कि मेरे मजाक से कुछ लोगों के मन में लड्डू फूट गए। सीएम ने कहा कि शाह अनहोनी को होनी करने वाले नेता हैं। 2018 और 19 चुनाव में हम रिकॉर्ड जीत हासिल करेंगे। शाह के स्वागत में राजधानी बीजेपी मय दिखाई दे रही है। दशहरा मैदान में बीजेपी नेताओं कार्यकर्ताओं का जमावड़ा लग गया है। यहां बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, मंत्री नरोत्तम मिश्रा, विश्वास सारंग, उमाशंकर गुप्ता, आलोक संजर, रामेश्वर शर्मा, सुरेंद्र नाथ सिंह, आलोक शर्मा सहित कई मंत्री और विधायक मौजूद हैं। अागामी चुनाव में रिकॉर्ड जीत दर्ज करेंगे - प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कांग्रेस राज में मध्यप्रदेश अंधकार में डूबा था। आज प्रदेश बदल चुका है। आने वाला समय फिर हमारा होेगा। 2018 और 2019 में बीजेपी रिकॉर्ड जीत दर्ज करेगी। जनता हमारे काम से पूरी तरह से संतुष्ट है। केंद्रीय मंत्री ने कहा बीजेपी कार्यकर्ता होने पर गर्व - केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि हमें बीजेपी के कार्यकर्ता होने पर गर्व है। राकेश जी हमारी पार्टी के जमीनी कार्यकर्ता हैं। उन्होंने संगठन में अनेक भूमिकाओं को सफलतापूर्वक निर्वहन किया है। आगामी चुनाव को लेकर हर स्तर पर समीक्षा की जा रही है। हम सभी कार्यकर्ताओं एक होकर एक बार फिर बीजेपी को 2018 और 2019 चुनाव में फतह हासिल करना है। हमारे सीएम शिवराज जी ही हैं और आगे भी वही रहेंगे। सीएम शिवराज ने जो कार्य मप्र के लिए वह किसी और सरकार ने नहीं किया। हम कार्यकर्ताओं की ताकत ने ही 2008 में जीत हासिल की, 2013 फतह किया और अब 2018 भी जीतेंगे। शिव सैनिकाें ने दिखाए काले झंडे - अल्प प्रवास पर भोपाल पहुंचे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को शिव सैनिकों ने चेतक ब्रिज के पास काले झंडे दिखाए। शिवसेना की जिला इकाई के कार्यकर्ता पूर्व सपा नेता नरेश अग्रवाल को बीजेपी में शामिल किए जाने से नाराज हैं। बता दें कि नरेश अग्रवाल ने हिन्दू देवी-देवताओं को लेकर टिप्पणी की थी, जिसका विरोध शिव सैनिक कर रहे हैं। ट्रैफिक व्यवस्था बदली गई - भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दौरे को देखते हुए ट्रैफिक व्यवस्था बदली गई। शाह हैंगर से कार्यक्रम स्थल तक नरसिंहगढ़ तिराहा, वीआईपी रोड, रेतघाट, पॉलिटेक्निक, रोशनपुरा, लिंक रोड-1 से बोर्ड ऑफिस, ज्योति टॉकीज, कॅरियर कॉलेज होते हुए पहुंचे। ट्रैफिक पुलिस का प्लान - महात्मा गांधी चौराहे से चेतक ब्रिज और चेतक ब्रिज से महात्मा गांधी चौराहे की ओर आने-जाने वाले वाहन भेल गेट नंबर 6 से गुलाब उद्यान तिराहा, हबीबगंज विद्युत सब स्टेशन, कस्तूरबा अस्पताल के सामने से जवाहर लाल नेहरू स्कूल तिराहा होकर सांची दूध डेयरी से आईएसबीटी की तरफ आ-जा सकेंगे। - आईटीआई से सिक्योरिटी लाइन चौराहा, कॅरियर कॉलेज तिराहा से अन्ना नगर जाने वाले वाहनों को सावंतिका पेट्रोल पंप से चेतक ब्रिज होकर जाना पड़ेगा। - अनुमति प्राप्त भारी मालवाहक एवं यात्री वाहन कार्यक्रम समाप्ति तक प्रतिबंधित रहेंगे। एम्बुलेंस, फायर ब्रिगेड आदि को प्राथमिकता दी जाएगी। 800 मंडल अध्यक्षों ने किया शिरकत - बीजेपी की मंडल स्तरीय पदाधिकारियों की मीटिंग में प्रदेश के 800 मंडल अध्यक्ष भोपाल पहुंचे। जिन्हें पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह चुनाव में जीत का मंत्र दिया। मंडल अध्यक्ष को शाह राज्य और केंद्र सरकार की योजनाओं और उनसे हुए लाभ के बारे में भी ग्रामीणों को बताने और प्रचार-प्रसार करने को कहा। 6 हजार कार्यकर्ता शामिल - बैठक में करीब 6000 नेता, कार्यकर्ता भी शामिल हुए। इसमें बीजेपी के करीब 58 जिलाध्यक्ष और 800 से ज्यादा मंडल अध्यक्षों के शामिल थे। कितने बने स्पेशल 11 की जानकारी भी ली - शाह लगे हाथ युवा मोर्चा के चलो पंचायत अभियान की तैयारियों की व्यापक समीक्षा की। मोर्चा को 14 मई तक मध्यप्रदेश की 23 हजार पंचायतों में स्पेशल 11 सदस्य बनाने हैं, शाह ने मोर्चा से इसकी जानकारी ली। विधायक दल की बैठक अब 30 को - भाजपा विधायक दल की 26 अप्रैल को होने वाली बैठक टल गई है। वह अब 30 अप्रैल को होगी, जिसमें विधायकों के साथ जिलाध्यक्षों को भी बुलाया गया है।
लोकप्रियता ही बनेगी विधानसभा टिकट का आधार, किसी भी हारने वाले पर दांव नहीं लगाएंगे: सीएम शिवराज
1 May 2018
भोपाल. मध्य प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए सरगर्मी तेज हो गई हैं। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के मेगा रोड शो के बीच मंगलवार को बीजेपी चुनाव प्रबंधन समिति की बैठक बुलाई गई। यहां पर प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा कि हमारा धन शक्ति से नहीं, जनशक्ति से मुकाबला और जनता हमारे साथ है। राकेश 14 मई को पूरे प्रदेश की पंचायतों में सांसद विधायक हितग्राही सम्मेलन करेंगे। -सोमवार को देर शाम सीएम शिवराज सिंह ने प्रदेश के विधायकों व जिला अध्यक्षों की मीटिंग बुलाई थी, जिसमें कहा गया था कि विधायकों का सर्वे करा लिया गया है। उन्होंने दो टूक कहा है कि लोकप्रियता ही विधानसभा टिकट का आधार बनेगी। किसी भी हारे हुए प्रत्याशी पर पार्टी दांव नहीं लगाएगी। -इधर, चुनाव प्रबंध कमेटी की बैठक में 4 मई को अमित शाह की तैयारियां को लेकर व्यापक चर्चा हुई, साथ ही तय हुआ है कि 15 मई से 15 जून तक विकास यात्राएं निकाली जाएंगी। बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, भूपेंद्र सिंह, नरोत्तम मिश्रा, माया सिंह, लाल सिंह आर्य मौजूद रहे। दो बजे बुलाई गई मंत्रियों की बैठक -सीएम शिवराज सिंह चौहान ने दोपहर 2 बजे से सभी मंत्रियों की बैठक बुलाई है, ये सुचना सभी मंत्रियों को भेज दी गई है। सभी को मुख्यमंत्री निवास में दो बजे उपस्थित होने को कहा गया है। 4 मई को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दौरे के पहले प्रदेश स्तर पर तैयारी की जा रही हैं। मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह हर विधायक और जिला अध्यक्ष से बात कर रहे हैं। बता दें कि अमित शाह मंडल अध्यक्षों की मीटिंग करेंगे। किसानों के घर जाएं और उन्हें योजनाओं के बारे बताएं -मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि विधायक क्षेत्र में नई सड़कों के निर्माण की मांग न करें, पुरानी से ही काम चलाएं। नई सड़कें बनाए जाने के लिए सरकार के पास पैसा नहीं है। उन्होंने कहा कि हमने किसानों के लिए बिजली के लिए 9000 करोड़ रुपए खर्च किए हैं, लेकिन वह अहसान नहीं मानते। विधायकों को जनता के घर-घर तक पहुंचना होगा, उन्हें बताना होगा कि किसानों के कल्याण के लिए सरकार ने क्या-क्या कार्य किए हैं।
कमलनाथ को मध्य प्रदेश कांग्रेस की कमान, सिंधिया चुनाव कैंपेन कमेटी के चेयरमैन बनाए गए
26 April 2018
भोपाल.कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और छिंदवाड़ा सांसद कमलनाथ को मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया है। वहीं, गुना सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया चुनाव कैंपेन कमेटी के चेयरमैन बनाए गए हैं। ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी कार्यालय से राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत की तरफ से गुरुवार को इस संबंध में पत्र जारी कर किया। 4 कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए - बाला बच्चन, सुरेंद्र चौधरी, जीतू पटवारी और रामनिवास रावत को कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया है। - कांग्रेस के दिग्गज और दो बार प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे दिग्विजय सिंह और नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह को फिलहाल कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई है। - कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अब तक पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में काम कर रहे अरुण यादव की तारीफ की। कहा कि उन्होंने अपनी जिम्मेदारियां बखूबी निभाईं। - वहीं, कांग्रेस ने गिरीश चोदनकर को गोवा का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। गिरीश ने शांताराम नाइक की जगह ली है। नाइक ने कुछ दिन पहले अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। - गहलोत ने कहा, "पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश के अध्यक्ष पद पर कमलनाथ और कैंपेन कमेटी के चेयरमैन पद पर ज्योतिरादित्य सिंधिया की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है।' इसी साल प्रदेश में होने हैं चुनाव - मध्यप्रदेश में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं। जानकारों का कहना है कि कमलनाथ की नियुक्ति के दम पर कांग्रेस प्रदेश में सत्ता में लौटना चाह रही है। - हालांकि कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि पार्टी ने अभी तक मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार तय नहीं किया है। फिलहाल कमलनाथ और सिंधिया दोनों ही रेस में हैं। - बता दें कि मध्य प्रदेश में 2003 से बीजेपी सत्ता में है।
वेलेंटाइन डे के दिन हुई शादी के दो महीने बाद ही सिपाही बहू ने फांसी लगाकर की आत्महत्या
23 April 2018
भोपाल/दमोह. जिले के पटेरा में दो महीने में ही दहेज उत्पीड्न से परेशान होकर एक सिपाही बहू ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतक के परिजनों ने ससुराल वालों पर दहेज उत्पीड़न का आरोप लगाया है। बताया जाता है कि ससुराल वालों से परेशान हो वह शादी के कुछ ही में अपने मायके आ गई थी। पति-पत्नी में शनिवार-रविवार की दरम्यानी देर रात तक बातचीत हुई। फोन पर बातचीत में ही विवाद हो गया। इसके बाद पत्नी शालिनी ने अपने पति से फांसी लगा लेने की धमकी दे डाली। पति कपिल उसे मनाता रहा और मना किया, लेकिन पत्नी शालिनी ने फोन कट कर दिया। शव लेने आए पति की महिलाओं ने की पिटाई -फोन कटने के बाद पति कपिल राजपूत ने शालिनी के पड़ोसी जिनेंद्र जैन को फोन लगाया। जिनेंद्र ने कांच तोड़कर दरवाजा खोला और शालिनी को फांसी के फंदे से नीचे उतारा। पड़ोसियों की मदद से महिला को जिला अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। मृतका के मायके पक्ष ने ससुराल पक्ष पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। वहीं, अपनी पत्नी का शव लेने के लिए दमोह आए पति की आक्रोशित महिलाओं ने मर्चुरी के पास पिटाई कर दी। पुलिस ने उसे मर्चुरी में बंद कर बचाया। पति कपिल ने सारे आरोपों से इंकार किया है। वेलेंटाइन डे के दिन हुई शादी -दमोह जिले के पटेरा में रहने वाले राजपूत परिवार ने वेलेन्टाईन डे यानि 14 फरवरी को अपनी नाजों से पाली बेटी शालिनी राजपूत का विवाह होशंगाबाद में रहने वाले कपिल राजपूत से किया था। पुलिस में ड्यूटी पर रहते मौत के बाद कपिल के पिता की नौकरी कपिल को मिल गई। इसके बाद उसका शालिनी के साथ विवाह हो गया। ड्यूटी के दौरान हुई थी दोस्ती -शालिनी खुद भी महिला पुलिस में आरक्षी थी और पहले से उसका कपिल से परिचय था। यहीं पर दोनों के बीच देास्ती हो गई। आरोप है कि विवाह के बाद से ही शालिनी की सास व उसका पति दहेज को लेकर प्रताड़ित करने लगे। इसके चलते शालिनी अपने मायके दमोह आ देहात थाना के विजयनगर में अपने भाई के साथ रहने लगी।
भोपाल : बस की टक्कर से चार साल की बच्ची की मौत, नाराज लोगों ने किया ट्रैफिक जाम, बस में तोड़फोड़
12 April 2018
भोपाल. शहर के लाल घाटी इलाके में बस और बाइक की टक्कर में एक बच्ची की मौत हो गई। इसके नाराज स्थानीय लोगों ने बस में तोड़फोड़ कर दी और चक्का जाम कर दिया। चक्काजाम से ड़ेढ घंटे तक ट्रैफिक बाधित रहा, जिससे लोगों को खासी परेशानी हुई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लोगों को समझाइश देकर जाम छुड़ाया। बस की टक्कर से बाइक में सवार तीन अन्य को भी गंभीर चोटें आई हैं, उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है जानकारी के अनुसार, गुरुवार को सुबह 8.30 बजे भौंरी बकानिया डीआईजी बंगला जा रहे बाइक सवार सिराज अपनी बहन और दो छोटे बच्चों के साथ जा रहा था। लाल घाटी के टर्न पर सामने से आती बस ने उन्हें जोरदार टक्कर मार दी। इससे बाइक में सवार सिराज की 4 साल की बेटी सना उछलकर सड़क पर जा गिरी। गिरने से उसके सिर में गंभीर चोट आई, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। बच्ची की मौत से नाराज स्थानीय लोगों ने हंगामा कर दिया। उन्होंने बस में पथराव और तोड़फोड़ कर दी। बस के कांच तोड़ डाले, इसके बाद चक्काजाम कर दिया। चक्काजाम करने से आवागमन डेढ़ घंटे तक बाधित रहा। -बस आरजीपीवी की बताई जा रही है। बाइक में सवार सिराज और उनकी बहन रानी, सिराज का बेटा शादाब (8) और सिराज की भांजी सना (4) बैठे हुए थे। टक्कर मारने के बाद ड्राइवर मौके से फरार हो गया है। पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है।
भीषण आग में 100 से ज्यादा झुग्गियां जलकर राख, सिलेंडर फटने से हुआ हादसा
9 April 2018
भोपाल.राजधानी के अलकापुरी इलाके में झुग्गियों भीषण आग लग गई, जिसमें करीब 100 से ज्यादा झुग्गियां जलकर राख हो गईं हैं। मौके पर पहुंची दमकल की करीब एक दर्जन गाड़ियां आग पर काबू करने की कोशिश में जुटी हुई हैं। अलकापुरी इलाके के गेट नम्बर दो पर सिलेंडर फटने से झुग्गियों में आग लग गई। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप ले लिया। आग ने 100 से ज्यादा झुग्गियों को अपनी चपेट में ले लिया। आग लगने से झुग्गी में रहने वालों में हाहाकार मच गया। आग से लोगाें का सामान और घरों के अंदर रखा रुपया भी जल गया। हालांकि आग में अब तक कोई जनहानि नहीं होने की सूचना है, घटना की खबर लगते ही मौके पर नगर निगम और बीएचईएल की एक दर्जन से अधिक दमकल मौके पर पहुंच गए हैं। झुग्गियों में रहने वाले अपने सामान को बचाने में लगे हुए हैं। -आग लगने से लोगों का सामान और रुपए पैसे भी जलकर खाक हो गए। इस बीच एक महिला अपना सामान बचाने के लिए आग में कूदने लगी, उन्हें फायर कर्मियों ने फौरन रोककर दूर कर दिया। बताया जा रहा है पिछले कुछ दिनों से प्रशासन और नगर निगम इसे हटाने की बात कर रहा था, इसलिए आग लगाए जाने की संभावना भी जताई जा रही है।
कानून व्यवस्था व शहर की सुरक्षा के लिए अफसर उतरे सड़क पर, निकाला फ्लैग मार्च
3 April 2018
भोपाल.एससी-एसटी एक्ट में बदलाव को लेकर हुई हिंसा के बाद प्रदेश में आठ लोगों की मौत हो चुकी है। ग्वालियर, भिंड और मुरैना के कई इलाके में कर्फ्यू जारी है और रैपिड एक्शन फोर्स तैनात की गई हैं। तनाव को देखते हुए शांति व सुरक्षा व्यवस्था के लिए भोपाल पुलिस और प्रशासन ने मंगलवार को फ्लैग मार्च निकाला। इसमें पुलिस, रैपिड एक्शन फोर्स, वज्र और एसएएफ के वाहन शामिल रहे। फ्लैग मार्च के लिए शहर को दो हिस्सों में बांटा गया है। साउथ और नार्थ। दिन में 12 बजे साउथ में फ्लैगमार्च निकाला गया। नार्थ फ्लैग मार्च शाम को 5.30 बजे निकाला जाएगा। -सुरक्षा एजेंसियों और जिला प्रशासन की तरफ से निकाले गए साउथ में निकाले गए फ्लैग मार्च में 50 से ज्यादा गाडियां शामिल रहे। इसमें पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारी मौजूद रहे। फ्लैग मार्च में जिला पुलिस, एसटीएफ, आरएएफ एवं एसएएफ का बल शामिल रहा। साउथ का फ्लैग मार्च:कंट्रोल रूम से प्रारंभ होकर रोशनपुरा चौराहा, बाण गंगा चौराहा, होटल पलाश, जवाहर चौक, डिपो चौराहा, पीएनटी चौराहा, अंबेडकर नगर, गीतांजलि, माता मंदिर चौराहा, हर्षवर्धन नगर, पंचशील नगर, अर्जुन नगर, सुभाष तिराहा, कोलार तिराहा होते हुए सर्वधर्म, चुनाभट्टी, बंसल हॉस्पिटल, मनीषा मार्केट, 1100 क्वाटर, 10 नंबर मार्केट, आरओबी होते हुए साकेत नगर, डीआरएम ऑफिस, कस्तूरबा नगर, अन्ना नगर, गौतम नगर होते हुए चेतक ब्रिज, बोर्ड ऑफिस चौराहा, जेल पहाड़ी होते हुए कंट्रोल रूम पहुंचा।
ओला-पाला प्रभावित किसानों को कांग्रेस की मदद, 'ऊंट के मुंह में जीरा के समान थी': सीएम शिवराज
29 March 2018
भोपाल.एक अप्रैल से शुरू हो रही भाजपा की किसान सम्मान यात्रा के ठीक पहले गुरुवार को मुख्यमंत्री किसान मोर्चा और संगठनों के नेताओं से मिले। उन्होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार के समय ओला, पाला प्रभावित किसानों को दिया जाने वाला मुआवजा ऊंट के मुंह में जीरा के समान थी। लेकिन हमारी सरकार ने किसानों का जितना नुकसान हुआ, उसकी भरपाई की। -सीएम शिवराज ने कहा, "एक अप्रैल किसानों के लिए उत्सव का दिन होगा, जब किसानों के खाते में 2650 करोड़ रुपए जाएंगे। इससे वह ब्याज मुक्त हो जाएंगे। किसान अन्नादाता है और हमने अन्नदाता सुखी रहे, इसके लिए हर उपाय किए हैं। फसलों में समर्थन मूल्य बढ़ाया, भावांतर योजना से किसानों को लाभ दिया, ऋणी किसानों की ब्याज माफ की गई।" 1)किसान सम्मान यात्रा क्यों ? -चुनावी साल में भाजपा ने किसानों पर फोकस बढ़ा दिया है। नाराज चल रहे किसानों को साधने के लिए सौगात देने के बाद अब भाजपा प्रदेश की सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों में किसान सम्मान यात्रा निकालेगी। इस मौके पर सीएम ने किसान सम्मान यात्रा का थीम सांग भी लांच किया। हर विधानसभा क्षेत्र में किसान रथ तैयार किए गए हैं और विधायक खुद इस रथ को लेकर निकलेंगे। इस रथ में सरकार द्वारा किसानों के लिए चलाई जा रही योजनाओं की पूरी जानकारी होगी। 2)एक अप्रैल को मुरैना से होगी शुरुआत -किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रणवीर सिंह रावत ने बताया कि यात्रा का शुभारंभ बलराम पूजा के साथ मथुरा से होगा। यात्रा धौलपुर होते हुए प्रदेश की सीमा में प्रवेश करेगी, जो एक अप्रैल को दोपहर में मुरैना पहुंचेगी। यहां से केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर और भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह मस्त रथ लेकर निकलेंगे। इसी दिन मुरैना में बड़ी सभा होगी। इसमें शिवराज सिंह चौहान शामिल होंगे। 3)ग्राम पंचायतों तक जाएगा रथ -किसान सम्मान यात्रा में सभी विधायक विधानसभा वार अपने क्षेत्रों में जाएंगे। पांच अप्रैल से एक साथ पूरे प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों में किसान सम्मान यात्राएं शुरू होंगी। ये यात्राएं सभी ग्राम पंचायतों तक जाएंगी। इस यात्रा में उत्कृष्ट किसानों को पुरस्कृत भी किया जाएगा। हर विधानसभा में एक रथ होगा, गांव पहुंचने पर चौपाल लगाई जाएगी, जिसमें सभी किसानों को बुलाया जाएगा। केंद्र व राज्य सरकार की किसानों को लेकर चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। 4)भावांतर पर पूरा फोकस -इस यात्रा में सरकार की भावांतर योजना पर भी फोकस रहेगा। इसमें सोयाबीन की फसल का लाभ लेने वाले किसानों का सम्मान किया जाएगा। वहीं, चौपाल पर चर्चा की जाएगी। प्रचार इस बात का भी होगा कि पिछले साल गेहूं बेचने वालों को भी 200 रुपए क्विंटल का अतिरिक्त बोनस दिया जाएगा। यात्रा खत्म होने के अगले ही दिन 16 अप्रैल को किसानों के खाते में 200 का भुगतान किया जाएगा। अभियान के जरिए किसानों की नाराजगी को कम करने की कोशिश होगी।
मेरा आदेश है, फिर कैसी परमिशन, बहन-बेटी को गलत निगाह से देखने वाले गुंडों के निर्माण ध्वस्त कर दो: CM
26 March 2018
भोपाल.मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अवैध कॉलोनियों के नियमितीकरण के संबंध में आयोजित कार्यशाला में कहा कि प्रदेश में अब और अवैध कॉलोनी नहीं बनने दी जाएगी। प्रदेश में 5 हजार कालोनियों को वैध किया जाएगा। इसके लिए सीएम ने 15 अगस्त तक की डेडलाइन दी है। इस दौरान सभी अवैध कॉलोनियों को वैध किया जाएगा। अधिकारियों को फटकार लगाते हुए कहा, अफसरी नहीं चलेगी और न ही कोई बहाना चलेगा। वैध करना है तो करना है। जो अफसर ऐसा नहीं कर सकते हैं, उन्हें बाहर कर दूंगा। इसकी मॉनिटरिंग मैं खुद करुंगा, सीएम डैशबोर्ड में सारी रिपोर्ट आनी चाहिए। यहां पर देखूंगा। सीएम सोमवार को प्रशासन अकादमी में आयोजित अवैध कालोनियों की वर्कशॉप में बोल रहे थे। कैसी परमिशन, मेरा आदेश है ध्वस्त करो गुंडों के निर्माण -सीएम ने कहा कि गुंडों के अवैध निर्माण तोड़ने ही हैं, मैं आदेश दे रहा हूं। इसके बाद कैसी परमिशन चाहिए। सीधे तोड़ दो, बाद में देखेंगे जो होगा। बहन-बेटी और महिलाओं पर बुरी नजर रखने वाले गुंडों और बदमाशों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि कालोनी को वैध करने और फिर सड़क, बिजली, सीवर और पानी की व्यवस्था सभी कालोनियों में दुरुस्त किया जाएगा। डेपलपमेंट चार्ज के रूप में रहवासियों से 20 प्रतिशत और 80 प्रतिशत नगरीय निकाय देगा। सीएम ने ये भी कहा कि गरीबों को मकान देने की योजना के लिए एक अप्रैल से रजिस्ट्रेशन शुरू किया जाए। -मंत्री माया सिंह ने कहा कि पहले महीने में 500 कॉलोनियों को वैध की जाएंगी। मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है जो अवैध कॉलोनियों को वैध कर रहा है। मंत्री ने कहा कि नियंत्रण और निर्देशों का दुरुपयोग न हो इसके लिए अब खास ध्यान रखना होगा। अब पैनी निगाह रखी होगी कि कहीं भी अवैध कॉलोनी नहीं बने।
एयरपोर्ट पर रायपुर, पुणे जाने वाले यात्रियों का हंगामा, टाइम से पहले रवाना कर दी फ्लाइट
23 March 2018
भोपाल. राजा भोज एयरपोर्ट से एयर इंडिया की भोपाल-रायपुर-पुणे फ्लाइट समय से पहले रवाना कर दी गई। जबकि फ्लाइट के जाने का समय सुबह 10.15 बजे है। ऐसे में भोपाल से रायपुर और पुणे जाने वाले यात्रियों ने हंगामा कर दिया। उनका आरोप लगाया कि हम फ्लाइट के समय पर ही एयरपोर्ट पहुंचे हैं, लेकिन फ्लाइट समय से पहले रवाना कर दी गई। शोर-शराबा सुनकर एयरपोर्ट के अधिकारी लाउंज में पहुंचे तो यात्रियों ने उन्हें भी घेर लिया। हालांकि अब तक ये वजह सामने नहीं आई है कि फ्लाइट समय से पहले क्यों रवाना कर दी गई। अधिकारी कुछ भी बताने को तैयार नहीं थे। -एयरपोर्ट के अधिकारी उन्हें समझाइश देते रहे, लेकिन यात्रियों का हंगामा जारी रहा। उन्होंने बताया कि अब हम कैसे जाएंगे। असल में, एयर इंडिया की भोपाल-रायपुर-पुणे फ्लाइट समय से पहले कर दी गई, फ्लाइट का समय सुबह 10:15 बजे है, लेकिन एयर इंडिया के अधिकारियों ने फ्लाइट सुबह 9:35 बजे ही रवाना कर दी। एयरपोर्ट पर कई यात्रियों की एयरपोर्ट अधिकारियों और एयर इंडिया के अधिकारियों से फ्लाइट समय से पहले रवाना करने पर बहस चलती रही।
गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में रात 3 बजे लगी भीषण आग, बड़े नुकसान की आशंका
20 March 2018
भोपाल. गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में रात को तीन बजे भीषण आग लग गई। इससे लाखों के नुकसान की संभावना जताई जा रही है। आग लगने की वजह साफ नहीं हो सकी है। रात तीन बजे लगी आग को काबू करने के लिए फायर बिग्रेड की एक दर्जन से ज्यादा गाडि़यों को लगाया गया। इसके बाद भी आग मंगलवार को सुबह तक धधकती रही। पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीमें सुबह तक जुटी रहीं, मामले की जांच की जा रहही है। साथ ही नुकसान का आकलन भी कर रहे हैँ। अाग इतनी भीषण थी कि दूर से आग की लपटों को देखा जा सकता था। आग लगने की सूचना स्थानीय लोगों ने फायर विभाग और पुलिस को दी। तत्काल पहुंची दमकल की आग बुझाने में जुट गईं। आग प्लाट नंबर 33 में लगी है। सुबह भी आग बुझाने की कोशिश जारी है।
MP को 5वीं बार कृषि कर्मण अवार्ड, पीएम मोदी बोले, न्यू इंडिया के दो पहरी, किसान और वैज्ञानिक
17 March 2018
भोपाल/इंदाैर. मध्यप्रदेश लगातार पांचवीं बार कृषि कर्मण अवार्ड लेने वाला पहला राज्य बन गया है। प्रदेश को यह अवार्ड वर्ष 2015-16 में गेहूं के उत्पादन की श्रेणी में दिया गया। शनिवार को दिल्ली में पीएम नरेंद्र मोदी ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को ट्रॉफी सौंपी। इस अवार्ड के साथ ही मप्र ने पंजाब-हरियाणा को गेहूं उत्पादन में पीछे छोड़ दिया है। अवार्ड के रूप में प्रदेश को ट्रॉफी, प्रशस्ति-पत्र और 2 करोड़ रु. नगद पुरस्कार दिया गया। पीएम बोले, न्यू इंडिया के दो पहरियों से मिलने का मौका मिला - प्रधानमंत्री पीएम ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि न्यू इंडिया को बनाने में बहुत बड़ी भूमिका कृषि मेले की है। इस मेले के माध्यम से न्यू इंडिया के दो पहरियाें से बात करने का मौका मिला है। न्यू इंडिया का प्रथम पहरी हमारा अन्नदाता है, जो अपनी मेहनत से हमें भोजन उपलब्ध करवाता है। वहीं दूसरे प्रहरी हमारे वैज्ञानिक हैं, जो नई तकनीकी से किसान का जीवन आसान करने में लगे हुए हैं। आज हमारे किसान तकनीकी माध्यम से हमसे सीधे जुड़े हुए हैं। - यहां आने से पहले मैंने यहां लगे विशाल मेले को देखा, वहां किसानों से वैज्ञानिकों से मिला, बात की और नई तकनीकी को देखा। यहां कृषि के क्षेत्र में बेहतरीन कार्य करने वाले किसानों को सम्मानित करने का मौका मिला है। यह पुरुस्कार अापकी मेहतन का नतीजा है। अाप का काम अन्य किसानों के लिए एक प्रेरणा है। मेघायल को एक अलग पुरस्कार दिया गया है। क्षेत्रफल में छोटा होने के बाद भी मेघायल ने पैदावार में 5 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। यहां के किसान बधाई के पात्र हैं। सरकार किसानों की आय को दोगुनी करने के लिए प्रयासरत है। हरियाणा-पंजाब को पीछे छोड़ा - मप्र ने पारंपरिक रूप से सर्वाधिक गेहूं उत्पादन वाले हरियाणा और पंजाब को भी पीछे छोड़ दिया है। सीएम ने इस उपलब्धि के लिए सभी को बधाई देते हुए किसानों के लिए और अधिक काम करने की बात कही है। 2015-16 में 7.64 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी - बता दें कि, कृषि अवार्ड मिलने की स्पष्ट वजह यह थी कि गेहूं उत्पादन में वर्ष 2014-15 के मुकाबले वर्ष 2015-16 में 7.64 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। - वर्ष 2014-15 में 171.03 लाख टन गेहूं उत्पादन हुआ था, जो 2015-16 में बढ़कर 184.10 लाख टन हो गया है। मुख्यमंत्री का मानना है कि किसानों की लगन और कृषि वैज्ञानिकों, विशेषज्ञों और कृषि विभाग के मैदानी अमले के सहयोग से यह उपलब्धि हासिल हुई है। प्रति हैक्टेयर उत्पादन बढ़ा - प्रदेश में गेहूं की उत्पादकता बढ़कर 3115 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर हो गई है। पिछले साल यह 2850 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर थी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर किसानों को कई प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है। - इनमें सिंचाई, विद्युत, तकनीकी परामर्श, ब्याज रहित ऋण, मंडी प्रांगण में उपार्जन की ई-सुविधा मुख्य रूप से परिवर्तनकारी साबित हुई है। - कृषि कर्मण अवार्ड के साथ-साथ प्रदेश के कृषक समाज के प्रतिनिधि के रूप में प्रदेश के 2 सर्वश्रेष्ठ गेहूं उत्पादक कृषकों, एक पुरुष कृषक तथा एक महिला कृषक को भी पुरस्कार के रूप में सम्मान स्वरूप दो-दो लाख रुपए की नगद राशि का पुरस्कार एवं प्रशस्ति-पत्र मिला। - इससे पहले वर्ष 2013-14 में भी मध्यप्रदेश को यह पुरस्कार गेहूं उत्पादन के क्षेत्र में मिला था, जबकि वर्ष 2011-12, वर्ष 2012-13 एवं वर्ष 2014-15 में कुल खाद्यान्न उत्पादन में यह अवार्ड मिल चुका है। इन्हें भी मिला पुरस्कार - मप्र के अलावा तलहन के लिए पश्चिम बंगाल को अवार्ड दिया गया, जबकि तिलहन के लिए असम को पुरस्कृत किया गया। मेघायल को उच्चतम उत्पादन के लिए प्रोत्साहन राशि दी गई। - पंडित दीनदयाल कृषि विज्ञान प्रोत्साहन राशि का राष्ट्रीय पुरस्कार छत्तीसगढ़ के कांकेर कृषि विज्ञान केंद्र को दिया गया। क्षेत्रिय पुरुस्कार हिमाचल के मंडी औरर कृषि विज्ञान केंद्र कुरूक्षेत्र हरियाणा को दिया गया। जोनवार इन्हें मिला पुरस्कार - लखनऊ और कोसांबी कृषि विज्ञान केंद्र, औरंगाबाद, बिहार, सोनितपुर असम, मेघालय, तापी, गुजरात, दतिया मप्र, वेस्ट गोदावरी आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु और केरला शामिल हैं।
चायवाले का बेटा दो साल की मेहनत से पहले ही अटैम्प्ट में बना मिस्टर इंडिया
13 March 2018
भोपाल.राजधानी भोपाल के फरहान कुरैशी ने गोवा में मिस्टर इंडिया यूनिव -2018 का खिताब जीत लिया। उन्होंने रूबरू मिस्टर इंडिया यूनिवर्स कॉम्पिटीशन में पार्टिसिपेट किया था। इसके साथ ही फरहान मिस्टर इंडिया इंटरनेशनल के लिए चुने गए हैं। अब वह इस प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय स्तर की कॉम्पिटिशन में देश का प्रतिनिधित्व करेंगे। इस खिताब को जीतने के बाद फरहान सोमवार को भोपाल पहुंच गए हैं। जहां उनका दोस्तों और परिवार ने स्वागत किया। फरहान मंगलवार को अपने फैंस से रूबरू हुए। -भास्कर से खास बातचीत में फरहान ने कहा,"पापा हमेशा से मेरे मॉडलिंग के लिए जाने से नाराज थे, उनकी नाराजी के कारण ही पूरे दो साल मैंने 8 घंटे हमारी चाय की दुकान पर बिताने के बाद जिम, पर्सनालिटी डवलपमेंट और ओवरऑल ग्रोथ पर काम किया। सारी तैयारियां चल रही थीं, लेकिन कहीं न कहीं एक डर था कि, असफलता मिली, तो पापा की नाराजगी और बढ़ जाएगी।" पापा का फोन आया तो उत्साह दोगुना हो गया -फरहान कहते हैं, " उसरोज मिस्टर नेशनल के पेजेंट की प्रतियोगिता शुरू होने के महज एक घंटे पहले जब मेरे फोन पर पापा की कॉल आई और उन्होंने हर कदम पर मेरे साथ रहने का हौंसला दिया, तो तैयारियों में जो कसर थी, वो भी पूरी हो गई। मैंने अपने आंसू पोंछे और अब पापा भी मेरे साथ हैं यह सोच रैंप पर जा उतरा। कुछ राउंड्स और फिर पेजेंट्स का ऐलान। मैंने सबसे पहला कॉल पापा को ही लगाया।" 13 साल की उम्र से शॉप पर बैठता था -फरहान कुरैशी के पिता फरीद कुरैशी की पुराने भोपाल में राजू टी स्टॉल के नाम से मशहूर दुकान है। फरहान अक्सर चाय की दुकान में बैठते थे। फरहान ने कहाकि वह कुछ बड़ा करना चाहते थे, इसलिए उन्होंने मप्र की किसी स्थानीय कॉम्पिटीशन में भाग नहीं लिया। फरहान ने बताया, मैं जब 10वीं क्लास में था, उस वक्त एनुअल फंक्शन में हिस्सा लेने के दौरान से मेरे मन में यह बात थी कि कभी न कभी मॉडलिंग करूंगा। लेकिन, न कभी मौका मिला और न ही मैंने इस ओर ध्यान दिया। 13 साल की उम्र से हर रोज पापा के साथ राजू टी-स्टॉल पर बैठता हूं। हम तीनों भाई वहां 8-8 घंटे बिताते हैं, ताकि पापा की मदद हो सके। इसी दौरान मुझे लगा कि, अभी उम्र है और मुझे कम से कम एक बार अपने उस ड्रीम के लिए प्रयास करना चाहिए। सफलता मिले या न मिले, लेकिन बाद में यह मलाल तो न हो कि कभी ट्राय ही नहीं किया। दो साल से जमकर तैयारी की -यही सोचकर मैंने इस पेजेंट के बारे में बहुत कुछ पढ़ा, ढेर सारी इन्फॉर्मेशन जुटाई और फिर अपनी पर्सनालिटी व बॉडी पर काम करना शुरू किया। जब मैंने पेजेंट के बारे में तैयारी शुरू की, उस समय मैं बड़ा चब्बी फिजिक का था, मेरा वजन भी तकरीबन 89 किलो के आस-पास होगा। 8 घंटे शॉप पर बिताने के बाद मैंने 4 से 5 घंटे अपनी ग्रूमिंग में बिताता और दो साल टफ डाइट रूटीन फॉलो करने के बाद मैं इस कॉम्पीटिशन में दाखिल हुआ। यह मेरा पहला अटैम्प्ट था, जिसमें मैं सफल रहा। अब अगली तैयार अगस्त के आस-पास थाईलैंड में होने वाले इंटरनेशनल कॉन्टेस्ट।
नायर दंपति हत्याकांड : नौकर ही निकला हत्यारा, ग्वालियर से खरीदा था चाकू
10 March 2018
भोपाल। अवधपुरी स्थित कवर्ड कैंपस नर्मदा वैली कॉलोनी में 73 वर्षीय रिटायर्ड एयरफोर्स अफसर और उनकी पत्नी की हत्या का खुलासा पुलिस ने शनिवार दोपहर कर दिया है। मृतक जीके नायर और उनकी पत्नी गोमती की हत्या उनके पुराने नौकर ने की थी। पुलिस ने राजू को भोपाल के भेल क्षेत्र से गिरफ्तार कर पूछताछ की तो उसने अपना गुनाह कबूल लिया। प्रारंभिक पूछताछ में उसने नौकरी से निकालने पर गुस्सा होकर वारदात को अंजाम देने की बात कही है। हत्या के लिए उसने ग्वालियर से चाकू खरीदा था। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। नौकरी से निकालने पर गुस्सा था आरोपी - पुलिस की प्रारंभिक पूछताछ में नौकर राजू ने बताया कि वह नायर के यहां काम करता था। करीब 7 महीने पहले रुपयों के लेनदेन को लेकर उन्होंने उसे नौकरी से निकाल दिया था। इसके बाद उसने क्षेत्र में ही अन्य जगह पर नौकरी की, लेकिन इनके कारण उसे वहां से निकाल दिया गया। इन्हीं के चलते उसकी कॉलोनी से ही छुट्टी हो गई। कहीं काम नहीं मिलने से कुछ समय पहले वह फिर ये नायर दंपति से काम मांगने पहुंचा था, लेकिन उन्होंने काम देने की बजाय उसे घर से भगा दिया था। यह बात उसे नागवार गुजरी और उसने उन्हें सबक सिखाने का मन बना लिया था। आरोपी ने इसके लिए कुछ समय पहले ग्वालियर से चाकू खरीदा था। गुरुवार रात वह 10 से 11 बजे के करीब दंपति के घर पहुंचा था। यहां कुछ देर तक उसने काम देने को लेकर बात की, जब उन्होंने उसे जाने को कहा तो उसने दोनों का गला रेत दिया। उनकी मौत के बाद वह वहां से भाग गया। पुलिस ने शनिवार को आराेपी को भेल क्षेत्र से पकड़ा। ऐसे पता चली वारदात - शुक्रवार सुबह करीब 8 बजे नायर के घर काम करने वाली मोहनबाई घर पहुंची। पोर्च के गेट का ताला अंदर से लगा था। इस पर मोहनबाई ने आवाज लगाई, लेकिन जवाब नहीं मिला। यह सुनकर पड़ाेसी अपने बंगले से नायर की पहली मंजिल की गैलरी में पहुंचे। उन्होंने दरवाजे पर धक्का दिया तो यह खुल गया। अंदर बुजुर्ग दंपती खून से लथपथ पड़े थे। दोनों शव फर्स्ट फ्लोर में बेडरूम के दरवाजे पर आमने-सामने पड़े मिले। घर का सामान अस्त-व्यस्त नहीं था इसलिए मामला चोरी या लूट का नहीं लग रहा है। इसलिए हुआ राजू पर शक - राजू ने नायर से रुपए लिए थे। उनके नाम पर कई लोगों से उधार लिया था। वह घर में कभी भी आ सकता था। घर की पूरी जानकारी थी। - हर दरवाजा अंदर से बंद था। सिर्फ पहली मंजिल की गैलरी का खुला था। यह तभी संभव है, जब कोई पहले से अंदर हो। - नायर के रिश्तेदार ने सुबह फोन पर हत्या की जानकारी दी। उसने ग्वालियर में होने की बात कही और फोन बंद कर लिया। कौन है आरोपी राजू -राजू की पत्नी आरती को नायर दंपती ने तब से पाला है जब वह 8 साल की थी। राजू ने अपनी बहन की शादी के लिए नायर से डेढ़ लाख रुपए उधार लिए थे। आरती का पति होने के कारण वह नायर के घर कभी भी आता-जाता था। घटनास्थल सेे उठे अहम सवाल 1. मृतक दंपति फर्स्ट फ्लोर पर कैसे? - नायर की कमर और गोमती के घुटनों में दर्द रहता था। इसलिए दंपती पहली मंजिल पर कम ही जाते थे, लेकिन दोनों की बॉडी फर्स्ट फ्लोर पर सीढ़ियों के पास मिले। अगर चोरी की नियत से हत्या की गई, तो घर से कुछ भी चोरी क्यों नहीं गया? 2. एक साथ ऊपर क्यों गए? - वारदात के वक्त क्या दंपती एक साथ थे या फिर उन्हें साजिश रचने के बाद ऊपर बुलाया गया। क्योंकि दोनों के एक साथ ऊपर जाने का कोई कारण नहीं दिखा। 3. गोमती शाकाहारी तो 3 अंडे की करी किसने खाई? - भास्कर टीम घर क्राइम सीन पहुंची तो किचन में 3 अंडों के छिलके पड़े मिले, लेकिन इनकी करी किसने बनाई, सामने नहीं आया। दंपती के अलावा किसी तीसरे शख्स के लिए भी खाना बना था। नायर कभी-कभी ही एक अंडा खाते थे। गोमती शाकाहारी थीं। ऐसे में साफ है कि गुरुवार रात अंडे की सब्जी किसी तीसरे ने खाई। काम करने वाली मोहनबाई के मुताबिक, उसने गुरुवार रात 11 रोटी छोड़ी थीं। इनमें से 9 रोटी खाई गईं। 4. क्या सोने से पहले ही हत्या की गई? - रात में सोने से पहले गोमती बचा हुआ खाना फ्रिज में रखती थीं। लेकिन शुक्रवार सुबह सांभर और दूध स्टैंड पर रखा मिला। यानी हत्यारे ने सोने से पहले ही वारदात को अंजाम दिया या उन्हें खाना फ्रिज में रखने का मौका ही नहीं दिया? घर पर ऐसा कौन सा मेंबर था, जो करीबी होने के साथ ही वारदात कर सकता है। इस सवाल के जवाब में पुलिस को पहला शक राजू पर ही जाता है। उससे पूछताछ हो रही है।
गरज-चमक के साथ कई हिस्सों में बारिश, पड़ सकते हैं ओले, किसानों की चिंता बढ़ी
8 March 2018
भोपाल.जोरदार गरज चमक के साथ बुधवार देर रात भोपाल समेत प्रदेश के कई जिलों में बारिश हुई। इससे तापमान में अचानक गिरावट आ गई। रात को भी रुक-रुककर बूंदाबांदी होती रही। ऐसे में गुरुवार को सुबह से मौसम का मिजाज बदला रहा। शहर के कुछ क्षेत्रों में बिजली गिरने की खबरें भी आ रही हैं। बूंदाबांदी से 20 दिन बाद भोपाल के तापमान में 1.8 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। -मौसम में आए इस बदलाव ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। इससे किसानों की खड़ी फसल को नुकसान होने की पूरी संभावना बन गई है। गत माह हुई बेमौसम बारिश ने किसानों की कमर तोड़ दी थी। मप्र के कई जिलों में बारिश और ओले के चलते फसल पूरी तरह से खराब हो गई थी। इसमें छतरपुर, पन्ना, बैतूल, जबलपुर, खंडवा, सागर, विदिशा, सीहोर आदि जिलों में किसानों को काफी नुकसान हुआ था। -वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक एसके नायक ने बताया कि अगले 24 घंटे में भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद और उज्जैन संभागों में कहीं- कहीं बारिश होने और ओले गिरने के आसार हैं। टीकमगढ़, छतरपुर, सागर, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा जिलों में भी कहीं- कहीं बादल गरजने और बारिश होने का अनुमान है। अचानक हुई बारिश से फसलों को नुकसान -मौसम में अचानक हुए बदलाव ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। इस बारिश से चना औऱ गेहूं की फसल को भारी नुकसान हो सकता है। अगर मौसम इसी तरह रहा है किसानों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है। हालांकि मौसम विभाग ने किसानों को दो दिन पहले ही सावधान रहने को कहा था। अगले चौबीस घंटों में फिर तेज बारिश और ओले गिरने के आसार बन रहे है जो फसलों को काफी नुकसान पहुंचा सकते है। पिछले माह हुई बेमौसम बारिश व ओले गिरने से किसानों को भारी नुकसान हुआ था। कई जिलों में बारिश और ओले से फसल चौपट हो गई थी। ये है मौसम बदलने की वजह -मौसम में बदलाव की वजह उत्तर से आ रही सूखी हवा और दक्षिण से आ रही नम हवा मप्र में आकर आपस में मिल रही हैं। बुधवार रात आठ बजे के बाद एकदम मौसम बदला और बादल गरजे। रात नौ से साढ़े नौ बजे तक बूंदाबांदी हुई। दिन का तापमान 30.8 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 1 डिग्री कम रहा। इससे पहले 15 फरवरी को दिन का तापमान सामान्य से 1 डिग्री कम था। 40 मिनट पहले हो गई थी शाम -घने बादल छाने का असर शाम के ढलने पर भी हुआ। बुधवार को शाम सूर्यास्त से करीब 40 मिनट पहले 5.50 बजे ही ऐसा अंधियारा घने लगा था। सड़कों से गुजर रहे वाहनों के हेड लाइट जलने लगे थे। मौसम में बदलाव की एक बड़ी वजह यह भी वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ला ने बताया कि जमीन से 4 किमी ऊपर आसमान में 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाली तेज हवा चल रही थी। मौसम में बदलाव की एक बड़ी वजह यह भी है। आगे क्या -अगले तीन दिन ऐसा ही मौसम रहेगा। मौसम विज्ञानी एके शुक्ला ने बताया कि अगले तीन दिन तक ऐसा ही मौसम बने रहने की संभावना है।
विधानसभा उपचुनाव: MP की दो सीटों पर नतीजे आज; मुंगावली और कोलारस में कांग्रेस आगे
28 February 2018
भोपाल. मध्यप्रदेश के अशोकनगर जिले की मुंगावली और शिवपुरी जिले की कोलारस विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव के नतीजे बुधवार को आएंगे। वोटों की काउंटिंग जारी है। मुंगावली में कांग्रेस के बृजेंद्र सिंह यादव 3602 वोट से और कोलारस में कांग्रेस के ही महेंद्र सिंह यादव 2249 वोट से आगे चल रहे हैं। इस चुनाव को दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव का सेमीफाइनल माना जा रहा है। दोनों सीट पर 24 फरवरी को वोट डाले गए थे। कोलारस में 70.40% और मुंगावली में 77.05% मतदान हुआ था। क्यों हुए इन सीट पर चुनाव? 1) मुंगावली सीट - 2013 में इस सीट पर कांग्रेस के महेंद्र सिंह कालूखेड़ा जीते थे। सितंबर 2017 में उनका निधन होने से यह सीट खाली हो गई थी। कांग्रेस ने बृजेंद्र सिंह यादव और बीजेपी ने बाई साहब यादव को अपना उम्मीदवार बनाया। - मुंगावली के वोटर ने 1985 से कभी लगातार दो बार किसी एक पार्टी को मौका नहीं दिया है। 1985 से 2013 के बीच यहां सात बार चुनाव हुए। इनमें चार बार कांग्रेस तो तीन बार बीजेपी कैंडिडेट को जीत मिली। 2) कोलारस सीट - कोलारस कांग्रेस की परंपरागत सीट है। पार्टी के विधायक रामसिंह यादव के निधन से यह सीट खाली हुई थी। कांग्रेस ने रामसिंह के बेटे महेंद्र सिंह को मैदान में उतारा। वहीं, बीजेपी ने देवेंद्र कुमार को अपना उम्मीदवार बनाया। ये विधानसभा चुनाव का सेमीफाइनल क्यों है? कांग्रेस के लिए: मुंगावली और कोलारस सीट गुना लोकसभा क्षेत्र के तहत आती हैं। यहां से ज्योतिरादित्य सिंधिया सांसद हैं। दोनों सीट पर कांग्रेस के उम्मीदवार ज्योतिरादित्य सिंधिया के करीबी हैं। सिंधिया ने कांग्रेस प्रत्याशियों के पर्चा दाखिले से लेकर मतदान तक दोनों विधानसभा क्षेत्रों में ताबड़तोड़ 75 सभाएं और रैलियां कीं। बीजेपी के लिए: बीजेपी ने इन दो सीटों के लिए पूरी ताकत झोंक दी थी। ज्योतिरादित्य सिंधिया के मुकाबले उनकी बुआ यशोधरा राजे सिंधिया को प्रचार में उतारा था। सीएम ने यहां 45 सभाएं कीं। अगर बीजेपी जीती तो क्या होगा? - पिछले साल चित्रकूट में हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने 14,000 से ज्यादा वोटों से जीत हासिल की थी। अगर इन दोनों सीटों पर भी बीजेपी को हार का सामना करना पड़ता है तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की लीडरशिप पर सवाल खड़े होंगे। - वहीं, बीजेपी जीत हासिल करती है तो विधानसभा चुनाव से पहले शिवराज के विरोध में उठ रहे स्वर कमजोर पड़ जाएंगे। अगर कांग्रेस जीती, तो क्या होगा? - इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के सीएम कैंडिडेट की रेस में ज्योतिरादित्य का दावा काफी मजबूत बताया जा रहा है। इस लिहाज से दोनों सीट पर कांग्रेस का जीतना उनके लिए काफी अहम है। 2013 के मुकाबले कम पड़े वोट - 24 फरवरी को दोनों सीटों पर 2013 में हुए चुनाव के मुकाबले कम वोटिंग हुई। इस बार कोलारस में 70.40%, जबकि 2013 में यहां 72.82% वोटिंग हुई थी। - वहीं, मुंगावली में इस बार 77.05% वोटिंग हुई। 2013 में 77.49% वोटिंग हुई थी।
वित्तमंत्री रखेंगे सरकार का सालभर का लेखा-जोखा, हंगामे के आसार
27 February 2018
भोपाल।मध्य प्रदेश के बजट सत्र का आज दूसरा दिन है। इसकी शुरुआत दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि के साथ होगी। इसमें पूर्व विधानसभा अध्यक्ष श्रीनिवास तिवारी समेत 9 लोगों को दी जाएगी श्रद्धांजलि। इस सूची में पहले दिवंगत फिल्म एक्ट्रेस श्रीदेवी का नाम भी शामिल था, लेकिन बाद में इसे हटा दिया गया है। इसके साथ ही बजट सत्र में प्रदेश के वित्तमंत्री जयंत मलैया सालभर का आर्थिक लेखा-जोखा यानि आर्थिक रिपोर्ट पेश करेंगे। इसमें प्रदेश के विकास और उनके नतीजों पर चर्चा होगी। -28 फरवरी यानि बुधवार को सत्ताधारी भाजपा सरकार का अंतिम बजट पेश किया जाएगा। इसमें युवाओं, महिलाओं और गरीब तबकों को लुभाने की भरपूर कोशिश की जाएगी। इस बजट से लोगों को उम्मीदें भी काफी हैं। -बता दें कि राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के अभिभाषण के साथ ही सोमवार को मध्य प्रदेश के बजट सत्र की शुरुआत हुई थी। इसमें राज्यपाल ने सरकार की उपलब्धियां गिनाई थीं। -इस दौरान किसानों की भावांतर योजना की चर्चा करने पर विपक्षी कांग्रेस विधायकों ने जमकर हंगामा किया था। -राज्यपाल के अभिभाषण के साथ ही सदन की कार्यवाही एक दिन के लिए स्थगित कर दी गई थी। -दूसरी तरफ विधानसभा की कार्यवाही का संचालन सुचारू रूप से हो, इसके लिए सोमवार की शाम को विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीताशरण शर्मा ने सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। -इधर, सीएम शिवराज सिंह ने भी कैबिनेट की बैठक बुलाई है। इसमें बजट के कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा की जाएगी। बजट को लेकर महत्वपूर्ण प्लानिंग की जाएगी। बजट सत्र के दूसरे दिन भी हंगामे के आसार जताए जा रहे हैं।
किसानों की मांग को लेकर पटवारी की साइकिल यात्रा, इंदौर से भाेपाल तक चलाएंगे साइकिल
24 February 2018
इंदौर/भोपाल। साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस अब आक्रामक मूड में नजर आ रहा है। वह बीजेपी सरकार के खिलाफ लगातार हमला बोल रही है, फिर चाहे संविदाकर्मचारियों की बात हो या फिर किसानों की। विरोध की इस कड़ी में राऊ से कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी किसानों के हक की मांग के साथ साइकिल रैली निकालने जा रहे हैं। उसकी घोषणा उन्होंने भोपाल स्थित कांग्रेस कार्यालय पर शनिवार को मीडिया से चर्चा के दौरान की। - कांग्रेस राष्ट्रीय सचिव और राऊ विधायक जीतू पटवारी ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में चर्चा के दौरान कहा कि सरकार लगातार किसानों के साथ छलावा कर रही है। सरकार किसानों को फसलों का उचित मूल्य दे, भावांतर योजना में कई विसंगतियां हैं, जिन्हें दूर किया जाए। कांग्रेस किसान के पक्ष में कई बार इन मुद्दों को सरकार के सामने उठा चुकी है, लेकिन सरकार सुनने को तैयार नहीं है। - पटवारी ने कहा कि वे इन्हीं मांगों को लेकर एक बार फिर से सरकार के समक्ष पहुंचेंगे, लेकिन इस बार वे साइकिल से आएंगे। वे 25 फरवरी को 200 किलोमीटर की साइकिल यात्रा कर इंदौर से भोपाल पहुंचेंगे। भोपाल पहुंचकर वे सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए किसानों की मांगें उनके समक्ष रखेंगे। - पटवारी ने कहा कि सरकार की भावान्तर योजना किसान के साथ छलावा है। इस योजना के बाद भी किसान खुद को ठगा महसूस कर रहा है। यह पूर्णत: व्यापारी को लाभ पहुंचाने वाली योजना है। कर्ज में डूबे किसान लगातार खुदकुशी कर रहे हैं। यदि उन्हें ऐसे कदम उठाने से रोकना है त इसके लिए कर्ज माफी जरूरी है। - उन्होंने कहा कि किसानों को सरकार सस्ती बिजली मुहैया करवाए। अनाज का दाम कम से कम 3000 रु. और दलहन का 7000 रुपए प्रति क्विंटल दिया जाए। उन्होंने कहा कि साइकिल यात्रा इंदौर के बीजलपुर से शुरू होगी जो देवास, सोनकच्छ, आष्टा, सीहोर होते हुए भोपाल पहुंचेगी। वे यहां से सीधे विधानसभा पहुंचेंगे।
3 महीने पहले हुई थी शादी, बीमारी से परेशान युवक ने खुद को मार ली गोली
22 February 2018
भोपाल। छतरपुर के सिविल लाइन स्थित पीताम्बरा मंदिर के पास गुरुवार सुबह एक युवक ने खुद को गोली मार ली। गोली लगने से युवक की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस को मौके से एक देशी पिस्टल मिला है। युवक बीमारी और अनुकंपा नौकरी नहीं मिलने से तनाव में था। पुलिस मामले की जांच कर रही है। - पुलिस के अनुसार हादसा छतरपुर के सिविल लाइन थाना क्षेत्र के पीताम्बरा मंदिर के पास हुआ। यहां 25 वर्षीय राजकुमार यादव ने सुबह 315 बोर देशी कट्टे से खुद को गोली मार ली। गोली लगने से उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया। गोली की आवाज सुन आसपास के लोग मौके पर पहुंचे और पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर शव को पीएम के बाद परिजनों को साैंप दिया। - परिजनों ने बताया कि एक साल पहले एक्सीडेंट हो गया था जब से उसके शरीर में काफी दर्द रहने लगा था। इसके अलावा वनविभाग में पदस्त पिता शिवकुमार यादव की 2012 में मौत हो गई थी। उसने पिता की मौत के बाद अनुकंपा नियुक्ति के लिए आवदेन कर रखा था। 5 साल से वह दफ्तरों के चक्क लगा रहा था, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही थी। इस कारण वह काफी तनाव में रहने लगा था। - परिजनों के अनुसार मृतक राजकुमार की तीन महीने पहले शादी हुई थी। कोई काम धंधा नहीं होने से बहुत परेशान रहता था। रुपए नहीं होने से परिवार चलाने के लिए उसे काफी परेशानी आ रही थी। संभवत: इसी कारण उसने खुद को गोली मार ली। पुलिस को मौके से देशी पिस्टल भी मिली है। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।
तीन तलाक कानून वापस लेने के लिए सड़क पर उतरी महिलाएं, कहा ऐसा कानून हमें मंजूर नहीं
20 February 2018
भोपाल/इंदौर। तीन तलाक कानून वापस लेने के लिए मुस्लिम महिलाएं सड़क पर उतर आई हैं। हाल ही में उज्जैन में 5 हजार महिलाआें ने पैदल मार्च निकाला था। मंगलवार को भोपाल में कानून वापस लेने के लिए प्रदेशभर की महिलाएं पहुंची हैं। उनकी मांग है कि सरकार तीन तलाक के कानून को वापस ले। उन्हें यह कानून मंजूर नहीं हैं। - तीन तलाक कानून के विरोध में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के नेतृत्व में प्रदेशभर से मुस्लिम महिलाएं भोपाल के नीलम पार्क पहुंची हैं। ये महिलाएं नीलम पार्क से राजभवन तक पैदल मार्च निकालेंगी और कानून को वापस लेने के लिए ज्ञान सौंपेंगी। विरोध में शामिल महिलाओं का कहना था कि वे मुस्लिम पर्सनल बोर्ड के साथ हैं और जबरन उन पर थोपे जा रहे नए कानून का वे विरोध करती हैं। - यहां पहुंचीं महिलाओं का कहना था कि तीन तलाक बिल मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड के तहत आता है। केंद्र सरकार को कोई हक नहीं है कि वे इसे रोकने के लिए नया कानून लाए। वे तीन तलाक का समर्थन नहीं करती हैं, लेकिन सरकार का यह कानून भी उन्हें मंजूर नहीं है। - सरकार को यदि इसे रोकना है तो वह कोई ऐसा रास्ता निकाले जिससे तीन तलाक की समस्या ही दूर हो जाए। वह लोगों को एजुकेट करे। तीन तलाक जैसी हरकत कुछ जाहिल लोग करते हैं। कुछ लोगों के लिए सब पर कानून लाद देना गलत है। उनका कहना है कि वे पर्सनल लॉ बोर्ड के साथ हैं, सरकार तीन तलाक कानून वापस ले। उनका कहना है कि इस्लामी शरीयत हमारा एजाज है। इस्लामी शरीयत ही हमारी इज्जत है।
बुक लॉंच कार्यक्रम कल शाम 5 बजे
16 February 2018
क्लब लिटराटी द्वारा कल स्वामी विवेकानंद लाइब्रेरी में एक बुक लॉंच कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है । इस कार्यक्रम में 2009 बैच के आईएएस अधिकारी तरुण पिथोड़े की दूसरी किताब "Happiness" लॉंच की जाएगी । रियल एस्टेट रेगुलरिटी अथॉरिटी के अध्यक्ष व मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव श्री एंटनी डिसा इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे । इंग्लिश में लिखी गयी किताब में लेखक ने 'लोगों को बेहतर जीवन जीने में मदद करने के लिए कई बेहतरीन आइडियाज सामने रखे हैं ' । इससे पूर्व इंग्लिश व हिन्दी में प्रकाशित हुई तरुण की पहली किताब " आई एम पॉसिबल" हर आयु वर्ग के लोगों द्वारा काफी पसंद की गयी थी । मूलतः मध्यप्रदेश के निवासी तरुण कुमार पिथोड़े ने भोपाल स्थित मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय प्रद्योगिकी संस्थान ने बी टेक किया है । वे भारतीय प्रशासनिक सेवा में आने से पहले भारतीय इंजीनियरिंग सेवा में भी रह चुके हैं । सीहोर के पहले वे राजगढ़ जिले के कलेक्टर थे तथा उससे पहले उन्होने प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड के डायरेक्टर के रूप में कार्य किया । स्वामी विवेकानंद लाइब्रेरी में कल शाम 5 बजे आयोजित होने वाला कार्यक्रम सभी शहरवासियों के लिए ओपन है । इच्छुक व्यक्ति 4.45 तक लाइब्रेरी पहुँचकर इस कार्यक्रम का हिस्सा बन सकते हैं ।
कार्यक्रम का विवरण इस प्रकार है कार्यक्रम का नाम - बुक लॉंच कार्यक्रम दिनांक - 17 फरवरी 2018 शनिवार समय - शाम 5 बजे स्थान - स्वामी विवेकानंद लाइब्रेरी आयोजक - क्लब लिटराटी किताब का नाम - Happiness : A New Model of Human Behaviour लेखक - तरुण कुमार पिथोड़े मुख्य अतिथि - एंटनी डिसा

उचित मुआवजे की मांग को लेकर धरने पर बैठे किसान, बच्चों के साथ खुले में गुजारी रात
16 February 2018
भोपाल। बेमौसम बारिश और ओले ने किसानों की कमर तोड़ दी है। निराश, हताश किसान की निगाहें अब सरकार की ओर टिक गई हैं। सरकार की ओर से जहां बर्बाद फसलों का सर्वे करवाया जा रहा है, वहीं छतरपुर के किसान मुआवजे के लिए धरना दे रहे हैं। रामपुर के किसान मुआवजे की मांग करते हुए खराब फसलों को ट्रॉली में भरकर रातभर से धरने पर बैठे हुए हैं। गौरतलब है कि बेमौसम बारिश से प्रदेश के कई जिलों में फसल 40 से 80 प्रतिशत तक बर्बाद हो गई हैं। इस तबाही में कई किसानों के खेत में तो फसल के नाम पर कुछ भी नहीं बचा है। सरकार ने किसानों को दोगुना मुआवजा देने की बात कही है, लेकिन किसानों का कहना है कि सरकार ने जितने मुआवजे का एेलान किया है। वह बेहद ही कम है। - किसानों की मांग है कि फसल का मुआवजा बीस हजार रुपए प्रति हेक्टेयर की जाए। रामपुर से आए किसानों इसी मांग को लेकर गुरुवार रात सर्द हवाओं के बीच गुजारी। धरने में किसानों के साथ उनका परिवार भी बैठा हुआ। उन्हाेंने खुले में ही खाना भी बनाया और अपना विरोध दर्ज करवाया। किसानों का कहना है कि जब तक फसलों का उचित मुआवजा नहीं मिलेगा, तब तक वह कलेक्ट्रोरेट परिसर के बाहर धरने पर ही बैठे रहेंगे। - किसानों के साथ धरने पर बैठे आप पार्टी के अमित भटनागर ने कहा कि किसान अपने हक के लिए खुले में बैठे हैं। ऐसे में किसी की तबीयत खराब हो गई तो इसका जिम्मेदार प्रशासन होगा।
आफत की बारिश से प्रदेशभर में हाहाकार, सीएम ने की अधिकारियों के साथ बैठक
14 February 2018
इंदौर।बेमौसम बारिश ने प्रदेशभर के किसानों की कमर तोड़ दी है। मंगलवार रात मावठे और ओलों के साथ चली आंधी ने बची फसलों को भी चौपट कर दिया। खेताें में खड़ी पकी गेहूं और चने की फसल जमीन पर बिछ गईं। मौसम विभाग की माने तो प्रदेश के कई जिलों में बुधवार को भी बारिश की संभावना है। इस खबर से किसानों की नींद उड़ा दी है। कई जगह किसान सड़क पर उतर आए हैं और मुआवजे की मांग कर रहे हैं। उधर सीएम ने अधिकारियों के साथ आपात बैठक की।
प्रदेशभर में बेमौसम बारिश और ओले गिरे - देवास, बैतूल इटारसी, शिवनी मालवा, होशंगाबाद, खंड़वा, विदिशा, भोपाल, टीकमगढ़, छतरपुर, रीवा, शहडोल, जबलपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में सैकड़ों गांव में फसल तबाह हो गई है। - खंड़वा में मंगलवार रात तेज हवा और आंधी के साथ बादलों की गड़गड़ाहट शुरू हुई। तेज बारिश के साथ ओले पड़े। पंधाना ब्लाक के गांधवा, बड़गांव पिपलोद, सिंगोट, चांदपुर, पिपलिया, विश्रामपुर, लुन्हार में तेज बारिश के साथ चने के आकार के ओले गिरे। खालवा ब्लाक के ग्राम जामन्या कला, जामन्या खुर्द में ओले गिरने से गेहूं-चना फसल प्रभावित हुई।
टीकमगढ़ में किसानों ने किया चक्काजाम - टीकमगढ़ और छतरपुर में 100 से ज्यादा गांवों में खड़ी फसल पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी है। वहीं बैतूल और देवास जिले में 80 फीसदी फसल तबाह हो चुकी है। किसानों ने बताया कि गन्ना, चना, गेहूं, मसूर की फसल चौपट हुई है। प्रशासन का कहना है कि बर्बादी का आंकलन किया जा रहा है। टीकमगढ़ में गुस्साए किसान बर्बाद फसल ट्रॉली में भरकर हाईवे पर पहुंचे और चक्काजाम कर दिया। उनकी मांग थी कि उन्हें फसल का उचित और शीघ्र मुआवजा दिया जाए। प्रशासन की टीम ने उन्हें समझाइश दी इसके बाद वे सड़क से हटे। - मौसम विभाग की माने तो राजस्थान की ओर चक्रवात बना है। वहीं बंगाल की खाड़ी से पूर्वी हवा आ रही है। ऐसे में प्रदेश के पश्चिमी और पूर्वी हिस्सों में बारिश हाे सकती है। इस खबर ने किसानों की नींद उड़ा दी है।
सीएम ने बैठक में कहा, फसल का हो वास्तिवक आंकलन -सीएम ने ओलावृष्टि को देखते हुए बुधवार को कृषि विभाग और राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ आपात बैठक की। सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जहां भी फसल बर्बाद हुई है। उसका वास्तविक आंकलन किया जाए। किसी भी किसान को आपदा की इस घड़ी में परेशान ना होना पड़े।

न मैं रोऊंगा, न किसान भाईयों को रोने दूंगा, संकट से निकाल ले जाऊंगा: CM शिवराज
12 February 2018
भोपाल।राजधानी के जंबूरी मैदान पर सीएम शिवराज ने कहा कि कल मौसम अचानक बिगड़ गया। बारिश हुआ, ओले गिरे। किसान भाईयों का नुकसान हुआ। लेकिन किसान भाईयों आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है, कई बार मौसम बिगड़ता है, विपरीत परिस्थितियां आती हैं। न मैं रोऊंगा, न किसानों को रोने दूंगा, संकट के पार निकाल ले जाऊंगा। संकट की इस घड़ी में शिवराज सिंह चौहान का ऐलान सुन लो, जितना नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई बीजेपी सरकार करेगी। मैं करुंगा। शिवराज साथ खड़ा है, सरकार और मेरी टीम आपके साथ खड़ी है। चिंता करने की जरूरत नहीं है। ओला गिरा तो मजे लेने लगे... - हम किसानों की बात करते हैं तो कुछ लोगों को बड़ी तकलीफ हुई है, लेकिन कुछ लोगों को बड़ी तकलीफ हुई है। ओले गिर गए, ले लो मजा। क्यों बुला लिया किसानों को। मत करो किसान सम्मेलन। -हमारी आलोचना करने वालों से पूछना चाहते हैं, कि 18 फीसदी ब्याज दर थी, तब तुम्हें किसानों का दर्द नहीं दिखा। -हमने इसे घटाकर 0 फीसदी किया। दुनिया में किसी ने नहीं सोचा था कि ब्याज जीरो फीसदी हो जाएगा। किसान भाईयों के लिए बिजली का बिल घटाया है। ये रही प्रमुख घोषणाएं... -गेहूं और धान पर 200 रुपए मुख्यमंत्री उत्पादक प्रोत्साहन योजना के तहत दिए जाएंगे। -गेहूं और धान के समर्थन मूल्य में 200 रुपए बढ़ाने की घोषणा की गई है। -अब ये 1700 रुपए प्रति क्विंटल से बढ़कर 2 हजार रुपए हो जाएगा। -साख सहकारी संस्था समितियों में 4 हजार माइक्रो एटीएम मशीनें लगाई जाएंगी। -किसान पुत्र-पुत्री लोन दिया जाएगा। इस योजना में 15 फीसदी सब्सिडी सरकार देगी। -1 लाख का लोन लिया तो 15 हजार सरकार भरेगी। 7 साल तक 5 फीसदी ब्याज सरकार भरेगी। -एक ब्लॉक में 100 किसान पुत्र-पुत्री शामिल होंगे। -किसान क्रेडिट कार्ड को रुपए कार्ड में बदलने की घोषणा की गई है। -पटटेदार किसानों को भी सरकार की सभी योजनाओं का लाभ दिया जाएगा। -प्रदेश में एक हजार किसान प्रोसेसिंग सेंटर खोले जाएंगे। इसे किसानों को ही दिया जाएगा। -किसान अपना सामान खुद बेचने के लिए स्वतंत्र होगा। उसके अनाज और सब्जियों की पैकेजिंग कराएंगे। 5 बार जीता कृषि कर्मण अवार्ड -कैबिनेट कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा कि किसानों के लिए देश में सबसे बेहतर कोई योजना लागू की गई है तो वह भावांतर भूगतान योजना ही है। 2015 और 2016 में हमने किसानों प्रधानमंत्री बीमा योजना लाभ दिया गया है। 5 बार कृषि कर्मण अवार्ड जीता है। कहा जा रहा था कि किसान नहीं आएंगे, ओलावृष्टि हुई है बारिश हुई, लेकिन यहां पर लाखों की संख्या में किसान आए। हम उनके आभारी हैं।
ज्योतिरादित्य सिंधिया का हेमंत कटारे को समर्थन, कहा- BJP ने की फंसाने की साजिश
9 February 2018
भोपाल।कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का बड़ा बयान आया है। जिसमें उन्होंने छात्रा से दुष्कर्म मामले में फंसे मध्य प्रदेश अटेर विधायक हेमंत कटारे का बचाव किया है। सिंधिया ने कटारे को पूरा समर्थन देते हुए कहा है कि हेमंत कटारे को फंसाने की साजिश रची गई। हम सब विधायक कटारे के साथ हैं। वह भोपाल के राजाभोज एयरपोर्ट पर मीडिया से चर्चा कर रहे हैं। कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने विधायक हेमंत कटारे का बचाव करते हुए कहा कि हेमंत को फंसाने की कोशिश की जा रही है। कांग्रेस हेमंत के साथ खड़ी है। -बीजेपी के नेताओं की साजिश से उन्हें फंसाने की कोशिश की जा रही है। जो व्यक्ति खुद पुलिस के पास गया हो, और उसकी वजह लड़की को जेल की सलाखों के पीछे गई। -फिर भाजपा के ही एक कार्यकर्ता के साथ मिलकर एमएलए कटारे पर एक नया चार्ज लगाया जाता है। -ज्योतिरादित्य सिंधिया शुक्रवार को सुबह दिल्ली से भोपाल एयरपोर्ट पहुंचे, जहां से वे मुंगावली के लिए रवाना हो गए। -एयरपोर्ट पर मीडिया से चर्चा के दौरान सिंधिया ने कहा कि हेमंत कटारे में भाजपा के लोगों के नाम भी आए हैं, इसलिए इसकी निष्पक्ष जांच होना चाहिए। -उन्होंने कहा कि भाजपा अन्याय की राजनीति करेगी तो कांग्रेस झुकेगी नहीं। मध्यप्रदेश में सच्चाई की लड़ाई जारी रहेगी।
मोदी पर साधा निशाना -सिंधिया ने मोदी सरकार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार विफल रही है। लोगों को नीचा दिखाने का काम कर रही है केंद्र सरकार। सिंधिया ने कहा कि जुमलों का अंत अब नजदीक है।

भोपाल को संस्कार आधारित स्मार्ट सिटी बनाने में सहयोग दें नागरिक : मुख्यमंत्री श्री चौहान
8 February 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल के नागरिकों से भोपाल शहर को भारतीय संस्कारों और मूल्यों पर आधारित स्मार्ट सिटी बनाने में सहयोग करने आव्हान किया है। उन्होंने कहा है कि उच्च नागरिक संस्कारों के प्रतीक शहर के रूप में भी भोपाल अपनी पहचान बनाये। श्री चौहान आज यहां भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कार्पोरेशन द्वारा किये जा रहे क्षेत्र आधारित विकास कार्यों के अंतर्गत शासकीय बहुमंजिला आवासों के भूमि-पूजन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने इनक्यूबेशन केन्द्र और एकीकृत कंट्रोल एवं कमांड सेंटर सहित कुल 500 करोड़ रुपये लागत के कार्यों का शिलान्यास किया गया। श्री चौहान ने कहा कि भोपाल शहर को आधुनिक बनाने के लिए 18 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के निर्माण कार्य चल रहे हैं। उन्होंने नागरिकों से आग्रह किया कि वे भोपाल को न सिर्फ देश बल्कि विश्व के बेहतरीन शहरों में शामिल करने में कोई प्रयास अधूरे नही छोड़े। उन्होंने कहा कि भोपाल को झुग्गी मुक्त शहर बनाने में किसी प्रकार की कसर नही छोड़ेंगे। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में 51 हजार 894 मकान बनाकर जरूरतमंदों को दिए जा रहे हैं। इस योजना में 13 हजार से ज्यादा मकान बन चुके हैं। भोपाल को आधुनिक बनाने में एक हजार करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च किये जा रहे हैं। उन्होंने नागरिकों से भोपाल को स्वच्छता सर्वे में देश का नंबर वन शहर बनाने का संकल्प दिलाया। श्री चौहान ने मुख्यमंत्री आश्रय योजना के अंतर्गत पात्र लोगों को आवासीय पट्टे वितरित किये। उन्होंने कहा कि कोई गरीब बिना आवास के नहीं रहेगा, उन्हें पूरा सम्मान मिलेगा। श्री चौहान ने कहा कि सरकार ने कर्मचारियों और हर वर्ग का पूरा ध्यान रखा है। मुख्यमंत्री ने शौर्य स्मारक का उल्लेख करते हुए कहा कि अब यह देशभक्ति का संस्कार देने का प्रेरणा केन्द्र बन चुका है। उन्होंने बताया कि भारत माता मंदिर परिसर के निर्माण के लिए जमीन आवंटित दी गई है। रानी कमलापति की प्रतिमा भी स्थापित की जाएगी। उन्होने कहा कि देश भक्ति की प्रेरणा देने वाले शहर के रूप में भी भोपाल की पहचान होगी। भोपाल जिले के प्रभारी मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान प्रधानमंत्री श्री मोदी के स्मार्ट शहरों के सपने को साकार कर रहे हैं। उन्होने कहा कि भोपाल शहर को स्मार्ट बनाने के साथ शिक्षा, संस्कार, नागरिक कर्तव्यों के पालन में भी स्मार्ट बनाया जाना चाहिये। राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि स्मार्ट सिटी प्रकृतिजन्य सुंदर शहर के बीच भोपाल की शान होगी और शहर का गौरव बढ़ाएगी। भोपाल महापौर आलोक शर्मा ने बताया कि भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखकर स्मार्ट सिटी के विकास का रोडमैप बनाया गया है। भोपाल कलेक्टर और स्मार्ट सिटी कार्पोरेशन के अध्यक्ष श्री सुदाम खाड़े ने स्मार्ट सिटी शहर की परियोजनाओं की जानकारी देते हुए बताया कि नौ परियोजनाएं पूरी हो गई हैं और 22 भविष्य में पूरी हो जाएँगी। इन्क्यूबेशन केन्द्र और एकीकृत कंट्रोल एन्ड कमांड सेंटर स्मार्ट सिटी का मुख्य आकर्षण होंगे। एकीकृत कंट्रोल एन्ड कमांड सेंटर पर एक ही जगह सभी डिजिटल सुविधाएं उपलब्ध होंगी जिससे शहर के यातायात पर निगरानी रखी जा सकती है। इस अवसर पर स्मार्ट सिटी का स्वरूप दिखाने वाली एक फ़िल्म भी दिखाई गई। मंत्रोच्चारण के साथ भूमि-पूजन कार्यक्रम संपन्न हुआ। पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर, सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, विधायक श्री सुरेन्द्र नाथ सिंह, नगर निगम अध्यक्ष डॉ. सुरजीत सिंह चौहान, मध्यप्रदेश माटीकला बोर्ड के अध्यक्ष श्री रामदयाल प्रजापति और बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।
सरकार का नया फॉर्मूला; डॉक्टर्स की कमी दूर करने बनाए जाएंगे इंचार्ज स्पेशलिस्ट
5 February 2018
भोपाल.प्रमोशन में आरक्षण पर रोक का असर सूबे की स्वास्थ्य सेवाओं पर भी पड़ रहा है। सुप्रीम कोर्ट की रोक के चलते प्रमोशन नहीं होने के कारण प्रदेश में 2181 स्पेशलिस्ट डॉक्टरों के पद खाली पड़े हैं। इससे निपटने सरकार नया फॉर्मूला लेकर आ रही है। नया फार्मूले के तहत योग्यता पा चुके डॉक्टरों को प्रभारी स्पेशलिस्ट दर्जा दिया जाएगा। इन डॉक्टरों को प्रभारी स्पेशलिस्ट बनाने से 650 मेडिकल ऑफिसर के नए पद भरे जा सकेंगे। प्रदेश में स्पेशलिस्ट डॉक्टरों के पदों को प्रमोशन से भरने का नियम बना हुआ है। डॉक्टरों के रिटायरमेंट और नौकरी छोड़कर जाने की वजह से अब तक 2181 स्पेशलिस्ट डॉक्टरों के पद खाली हो चुके हैं। नए फॉर्मूले को सीएम सचिवालय से मंजूरी मिल चुकी है।
योग्य होकर भी अधर में फंसे - प्रदेश ऐसे करीब 700 डॉक्टर हैं, जो एमबीबीएस होने के बाद पोस्ट ग्रेजुएट कर चुके हैं। इन डॉक्टरों को पीजी करने और पात्रता होने की वजह से प्रमोशन मिल सकता है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट की रोक की वजह से सरकार ऐसा नहीं कर सकती है। योग्यता के बावजूद मेडिकल ऑफिसर के रूप में ही डॉक्टरी कर रहे हैं।
ऐसा है प्रमोशन का नियम - सरकार ने प्रभारी विशेषज्ञ बनाने के लिए अभी तीन साल की डिग्री और 5 साल का डिप्लोमा होने की पात्रता तय कर रखी है। इस योग्यता को पूरी करने के बाद ही किसी एमबीबीएस डॉक्टर को प्रमोशन मिल पाता है।
मरीजों को होगा फायदा - प्रमोशन की पात्रता रखने वाले मेडिकल ऑफिसरों को इंचार्ज डॉक्टर बनाया जाएगा। ये डॉक्टर बतौर स्पेशलिस्ट मरीजों का इलाज करेंगे। इससे मेडिकल ऑफिसर के पद खाली हो जाएंगे। सरकार के पास मेडिकल ऑफिसर को नौकरी पर रखने का अधिकार है। सरकार लोक सेवा आयोग (पीएससी) और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के जरिए परीक्षा और इंटरव्यू के बाद मेडिकल ऑफिसरों को नौकरी दे सकेगी। इस तरह 650 डॉक्टरों की कमी पूरी हो जाएगी।
प्रमोशन के हकदार डॉक्टर्स को बनाया जाएगा प्रभारी विशेषज्ञ - प्रदेश में डॉक्टरों के खाली पदों को भरने की कोशिश की जा रही है। ऐसे मेडिकल ऑफिसर जो प्रमोशन के हकदार हो चुके हैं, उन्हें प्रभारी विशेषज्ञ बनाया जाएगा।

MP- कांग्रेस MLA पर रेप और अपहरण का केस, लड़की पर लगाया था ब्लैकमेलिंग का आरोप
2 February 2018
भोपाल। राजधानी भोपाल में कांग्रेस विधायक के "हनी ट्रैप" और ब्लैकमेलिंग केस फिर से नया मोड़ आ गया है। जर्नलिज्म की छात्रा और उसकी मां की शिकायत पर कांग्रेस के अटेर विधायक हेमंत कटारे के खिलाफ रेप और अपहरण की धाराओं में केस दर्ज हो गया है। पुलिस ने विधायक का फोन जब्त कर लिया है और छात्रा के डेटा का मिलान शुरू कर दिया है।
जांच पड़ताल के बाद विधायक कटारे की गिरफ्तारी हो सकती है। -छात्रा की शिकायत पर महिला थाने में कांग्रेस विधायक हेमंत कटारे के खिलाफ रेप का केस और उसकी मां की शिकायत पर बजरिया थाने में अपहरण का मामला दर्ज किया गया है। -पुलिस के अनुसार, जेल में बंद छात्रा ने भोपाल डीआईजी के नाम एक आवेदन पुलिस को भेजा था, इसमें विधायक पर रेप करने और फिर झूठे मामले में फंसाने की बात कही गई थी। -इस आवेदन की तस्दीक करने के बाद गुरुवार देर रात को महिला थाने पर विधायक हेमंत कटारे के खिलाफ आईपीसी की धारा-376 के तहत केस दर्ज कर लिया गया है। -वहीं, इस मामले में छात्रा की मां ने डीआईजी को अलग से शिकायत की थी कि विधायक कटारे ने उनका अपहरण कर उनसे जबरन कुछ कागजातों पर साइन कराए और दबाव डालकर वीडियो बनाया गया।
पुलिस ने जब्त किया विधायक का मोबाइल -ब्लैकमेलिंग मामले में भोपाल क्राइम ब्रांच अब कांग्रेस विधायक हेमंत कटारे के मोबाइल की पड़ताल करेगी। -क्राइम ब्रांच ने हेमंत कटारे को नोटिस जारी कर मोबाइल जब्त कराने के लिए कहा था। काफी आनाकानी करने के बाद विधायक ने एक दिन पहले ही मोबाइल फोन क्राइम ब्रांच को सौप दिया था। -मोबाइल फोन जब्त करने के बाद क्राइम ब्रांच छात्रा और कटारे के मोबाइल के कंटेंट का मिलान करेगी। साथ ही मोबाइल में मामले से जुड़े डाटा की भी जांच करेगी। ...
क्या था मामला -बता दें कि इस मामले में एक के बाद एक पांच वीडियो जारी होने के बाद पुलिस भी उलझन में पड़ गई थी। पहले छात्रा ने आरोप लगाए थे, इसके बाद जारी वीडियो में आरोपों को झूठ बताया था, बाद में छात्रा के कथित दोस्त का वीडियो जारी हुआ था, जिसमें छात्रा का यौन शोषण किए जाने की बात सामने आई थी। हफ्ताभर पहले विधायक की शिकायत पर पुलिस ने छात्रा को ब्लैकमेलिंग के आरोप में 5 लाख रुपए लेते गिरफ्तार कर लिया था। छात्रा तब से जेल में है।
कब क्या हुआ 25 जनवरी-पुलिस ने मामला दर्ज कर युवती को गिरफ्तार करके कोर्ट में पेश किया और न्यायिक हिरासत में जेल भेजा। 25 जनवरी -माखनलाल यूनिवर्सिटी में जर्नलिज्म की छात्रा के वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इस वीडियो में छात्रा कांग्रेस विधायक पर कई संगीन आरोप लगाए, विधायक पर यौन शोषण करने और लड़कियों की जिंदगी से खेलने वाला बताया। 26 जनवरी-लड़की का एक अन्य वीडियो सामने आता है। इस वीडियो में वह कहते नजर आती है- देखा हेमंत अगर मैं कुछ चाह लूं तो कुछ भी कर सकती हूं। मैंने तो मजाक किया था, आप तो गंभीर हो गए। चलो अब यह खत्म करते हैं। 27 जनवरी - बेटी से केंद्रीय जेल से मिलकर लौटी आरोपी युवती की मां हेमंत कटारे को पाक साफ बताते हुए विक्रमजीत पर आरोप लगाती है। 27 जनवरी -बिक्रमजीत का वीडियो वायरल, इसमें विक्रमजीत ने कहा है कि हेमंत कटारे के युवती से अवैध संबंध थे। उसे झूठे मामले में फंसाया जा रहा है, लड़की के साथ उसके संबंध थे। 27 जनवरी-फाइनल वीडियो विधायक हेमंत कटारे ने जारी किया। इसमें वे आरोपी युवती की मां के बयान को आधार बनाते हुए किसी राजेंद्र सिंह का नाम लेते हैं। साथ ही विक्रमजीत को इस मामले का मास्टरमाइंड बताते हैं। 1 फरवरी- क्राइम ब्रांच ने एमएलए हेमंत कटारे को नोटिस जारी कर मोबाइल जब्त कराने को कहा। मोबाइल फोन जब्त करने के बाद क्राइम ब्रांच छात्रा और कटारे के मोबाइल के कंटेंट का मिलान शुरू किया। 2 फरवरी- लड़की की डीआईजी को शिकायत के आधार पर अटेर विधायक हेमंत कटारे पर रेप और लड़की की मां की शिकायत पर अपहरण का केस दर्ज।

कट्टा अड़ाकर डायल 100 छीनी, फिर लड़की को ले गए बदमाश, ये थी सनसनीखेज वारदात
29 January 2018
भोपाल।मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में कट्टे की नोक पर डायल-100 को कब्जे में लेकर लड़की का अपहरण करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। जिले के अमानगंज थाना क्षेत्र में 5 बदमाशों ने डायल-100 टीम के कट्टा अड़ाकर पुलिसकर्मियों को न केवल बंधक बनाया, बल्कि उन्हीं की वर्दी पहनकर वह एक गांव पहुंचे और एक लड़की को किडनैप कर फरार हो गए। घटना के बाद हड़कंप मचा हुआ है, लेकिन अब तक मामले में पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लगी है। लड़की का सुराग लगाया जा रहा है। - ऐसे दिया वारदात को अंजाम... -अपहरण करने के बाद उन्होंने पुलिस टीम को ठीक उसी जगह छोड़ा, जहां से उन्हें बंधक बनाया था।
जाते-जाते वर्दी भी फेंक गए। -पुलिसकर्मियों ने बाद में एक-दूसरे की मदद से रस्सी से बंधे हाथ खोले और जैसे-तैसे घटना की सूचना थाना अमानगंज को दी। -जानकारी के अनुसार, बताया जा रहा है कि 100 डॉयल पर ग्राम बमुरहा से इवेंट आया कि गांव में कोई शराब के नशे में हंगामा कर रहा है। इस सूचना पर डायल-100 मौके पर पहुंची तो रास्ते में एक व्यक्ति सड़क किनारे बेहोशी की हालत में पड़ा था। -पुलिस ने जब उसे उठाया तो उसने कट्टा दिखाकर अपने छुपे हुए अन्य 4 साथियों को बुला लिया। कट्टे की नोक पर उन्होंने डायल-100 वाहन को अपने कब्जे में ले लिया। उन्होंने पुलिस कर्मियों को बांधकर गाड़ी में डाल लिया।
फिल्मी अंदाज में वारदात को अंजाम -डायल 100 में पदस्थ प्रधान आरक्षक प्रकाश मंडल ने बताया कि राजू नाम के युवक ने 100 नंबर पर फोन किया था। -उसने बताया कि टांई मोड पर कोई युवक बेहोशी की हालत में पड़ा है। इस पर वे एसएएफ जवान सुभाष दुबे और ड्राइवर शराफत खान के साथ मौके पर पहुंचे। -वहां जब तीनों युवक को सीधा करने का प्रयास किया तो उसने कट्टा अड़ा दिया।
वर्दी उतारी, आंखों पर पट्टी बांधकर ले गए -पुलिस दल कुद समझ पाता इसके पहले ही उस युवक के चार अन्य साथियों ने भी पुलिसकर्मियों को घेर लिया। -बदमाशों ने तीनों की वर्दी उतरवाकर उनके हाथ बांध दिए। आंखों पर पट्टी बांधकर कुछ दूर ले गए और दूसरे वाहन में डाल दिया। -बदमाशों ने डायल 100 लेकर पास के गांव पहुंचे और वहां से 18 वर्षीय युवती, उसके भाई और पिता राजकुमार पटेल को मारपीट करके ले आए। -यहां पर बदमाशों ने डायल 100 और युवती के भाई व पिता को छोड़ दिया। पुलिसकर्मियों को दूसरे वाहन से उतारकर उसमें युवती को लेकर फरार हो गए।

MP में आज नहीं दिखाई जाएगी पद्मावत, फिल्म डिट्रीब्यूटर्स ने लिया बड़ा फैसला
25 January 2018
भोपाल।मध्य प्रदेश में संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत गुरुवार को रिलीज नहीं होगी। फिल्म को लेकर हो रहे विरोध के कारण प्रदेश में फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर ने हाथ खड़े कर दिए है। उन्होंने थियटर मालिकों को फिल्म की कॉपी देने से इनकार कर दिया है। -दरअसल, बुधवार की शाम को उपद्रवियों ने एमपी नगर स्थित ज्योति टॉकीज में घुसकर पोस्टर फाड़े और आगजनी की। एक कार को आग के हवाले कर दिया। पुलिस ने लाठियां चलाईं तो भगदड़ मच गई। घंटेभर जमकर हंगामा हुआ। -भोपाल सिनेमा एसोसिएशन के अनुसार, फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर से फिल्म नहीं मिल पाने के कारण फिल्म का रिलीज नहीं होगी। -वहीं, फिल्म को लेकर हो रहे विरोध को भी थियेटर संचालक फिल्म रिलीज नहीं होने का बड़ा कारण बता रहे है। -हालांकि उनके मुताबिक रिलीज के पहले दिन देशभर में क्या स्थिति रहती है, इस पर भी ये निर्भर करेगा कि फिल्म रिलीज होगी या नहीं।
जबलपुर, छतरपुर और पन्ना में भी नहीं होगी रिलीज -इसके पहले जबलपुर में फिल्म रिलीज के पहले मॉल संचालकोंं ने कलेक्टर से मिलकर साफ कर दिया कि वह अपने यहां फिल्म को प्रदर्शित नहीं करेंगे। -छतरपुर और पन्ना में भी करणी सेना की धमकी के चलते टॉकीज संचालकों ने अपने कदम पीछे खींच लिए है। उन्होंने फिल्म को रिलीज न करने का फैसला किया है। -इन दोनों शहरों में फिल्म का प्रदर्शन नहीं होगा। यह फैसला सभी टॉकीज संचालको ने लिया है।
मप्र में फिल्म न लगने से रोजाना 30 लाख का नुकसान -मप्र में पदमावत 200 स्क्रीन पर लगने वाली थी। इन स्क्रीन में औसतन 400 से 500 शो रोज दिखाए जाने थे। यानी फिल्म के रिलीज न होने की स्थिति में मध्यप्रदेश में रोजाना 30 लाख रुपए का नुकसान होगा। भोपाल में यह फिल्म 5 मल्टीप्लेक्स की 20 स्क्रीन और 8 से 10 सिंगल स्क्रीन में लग सकती थी।

फिल्म पद्मावत रिलीज हुई तो जल जाएंगे सिनेमा हॉल, लोग अपना बीमा कराकर फिल्म देखने जाएं
23 January 2018
इंदौर। फिल्म पद्मावत की रिलीज को रोकने के लिए लेकर मध्य प्रदेश और राजस्थान सरकार द्वारा दायर याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। कोर्ट ने साफ कहा है कि फिल्म देशभर के थिएटरों में रिलीज होगी। उधर, करणी सेना ने कड़े शब्दों में कहा कि कोर्ट करोड़ों लोगों की भावनाओं के साथ नहीं खेल सकती। यदि फिल्म दिखाई गई तो सिनेमा हॉल जल जाएंगे, कई लोगों की जान जाएगी। जो व्यक्ति फिल्म देखने की सोच रहा है वह पहले अपना बीमा जरूर करवा लें।
करोड़ों लोगों की भावनाओं के साथ नहीं खेल सकती सुप्रीम कोर्ट : झकनावदा - राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के जिलाध्यक्ष महेंद्रसिंह झकनावदा ने झाबुआ में कड़े शब्दों में चेतावनी देते हुए कहा कि सोमवार को नेशनल हाईवे जाम कर हमनें अपनी ताकत बता दी है। यदि मूवी रिलीज हुई तो कई लोगों की जान चली जाएगी। सुप्रीम कोर्ट आदेश दे सकती है, लेकिन करोड़ों लोगों की भावनाओं के साथ नहीं खेल सकती। हम सरकार से मांग करते हैं कि फिल्म पर प्रतिबंध लगाया जाए नहीं तो सिनेमा हॉल जल जाएंगे। उधर, करणी सेना ने शहर के प्रमुख माॅल व सिनेमाघरों में पहुंचकर फिल्म नहीं दिखाने को कहा है। उन्होंने कहा कि अभी प्यार से समझाने आए हैं। फिल्म रिलीज की दूसरे ढंग से समझाएंगे।
इंदौर में शायद ही रिलीज हो फिल्म - ये फिल्म इंदौर के दर्शकों को देखने को नहीं मिलेगी। फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर अशोक राव ने बताया कि फिलहाल इस फिल्म को किसी भी वितरक ने नहीं लिया है। सबसे बड़ा सवाल सुरक्षा का है। इसके चलते कोई भी वितरक फिल्म लेने को तैयार नहीं है।
फिल्म को लेकर विवाद क्या है? - राजस्थान में करणी सेना, बीजेपी लीडर्स और हिंदूवादी संगठनों ने इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। राजपूत करणी सेना का मानना है कि ​इस फिल्म में पद्मिनी और खिलजी के बीच सीन फिल्माए जाने से उनकी भावनाओं को ठेस पहुंची। - फिल्म में रानी पद्मावती को भी घूमर डांस करते दिखाया गया है। जबकि राजपूत राजघरानों में रानियां घूमर नहीं करती थीं। हालांकि, भंसाली साफ कर चुके हैं कि ये ड्रीम सीक्वेंस फिल्म में है ही नहीं।

बहन ने सगाई टूटने पर भी मंगेतर से मिलना नहीं छोड़ा तो भाई ने लिया ये स्टेप
19 January 2018
भोपाल।सगाई टूटने के बाद भी मंगेतर से मिलना लड़की के भाई को इतना नागवार गुजरा कि उसने अपनी सगी बहन से अश्लील हरकत कर डाली। उसने अपने सामने बहन के पूरे कपड़े उतरवा दिए। साथ ही धमकी दी कि यदि फिर उस लड़के से मिली, तो फिर से ऐसा ही करेगा। इस घटना से बहन इतना डर गई कि अगले दिन घर से भाग गई। मां ने बेटे पर बहन से छेड़छाड़ करने और गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई है। ...
क्या है पूरा मामला -अयोध्या नगर पुलिस के मुताबिक 23 साल की लड़की अपनी मां और दो भाईयों के साथ रहती थी। कुछ महीने पहले पहले उसकी मंगनी एक युवक से हुई थी। -लेकिन बाद में रिश्ता पसंद नहीं आने पर युवती के परिजनों ने सगाई तोड़ दी। लेकिन युवती उससे बात करती थी और मिलती भी थी। -यह बात युवती के बड़े भाई भाई का पसंद नहीं थी। उसने बहन की ब्यूटी पार्लर की नौकरी छुड़वा दी। इसके बाद भी युवती उस युवक से बात करती रही।
भाई ने की शर्मसार करने वाली हरकत. -14 जनवरी की रात को युवती घर पर अकेली थी, तभी शराब के नशे में उसका भाई घर पहुंचा। कमरे में ले जाकर उसने बहन से कपड़े उतारने को कहा। -मना करने पर उसने जान से मारने की धमकी दी। भाई का खौफ देखकर युवती ने उसके सामने सारे कपड़े उतारे। -इसके बाद भाई ने धमकी दी कि यदि दोबारा उसे युवक से मिलेगी, तो फिर उसके कपड़े उतरवाएगा।
घटना से दुखी बहन ने घर से भागी. -घटना के बाद से युवती बुरी तरह सहम गई और गुमसुम रहने लगी। बुधवार शाम को युवती अचानक घटना को याद कर रोने लगी, तो उसकी मां ने कारण पूछा। -युवती ने जब घटना बताई तो उसकी मां और पास ही खड़ा उसका छोटा भाई सन्न रह गए। इस बीच युवती का बड़ा भाई आ गया। -इस पर छोटे भाई ने उससे बहन के प्रति किए गए व्यवहार पर गुस्सा जताया,तो बड़ा भाई उसे मारने दौड़ा। -यह सब देख युवती अपमान और डर के कारण घर से नंगे पांव ही भाग निकली। -मां की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी बड़े भाई के खिलाफ छेड़छाड़ का केस दर्ज किया है। साथ ही लापता युवती की सरगर्मी से तलाश कर रही है।

आवाज सुनकर मां बालकनी में पहुंची, तो जमीन पर लहूलुहान पड़ी थी मासूम
15 January 2018
भोपाल.शहर में एक 4 साल की बच्ची की बालकनी में 20 फीट ऊपर से गिरने से दर्दनाक मौत हो गई। हादसा उस वक्त हुआ जब बच्ची की मां खाना बना रही थी। इसके बाद बच्ची को तुरंत हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया लेकिन उसकी जान नहीं बचाई जा सकी। ...
कैसे हुआ हादसा. - हबीबगंज इलाके में एलकेजी की 4 साल की स्टूडेंट की बालकनी से 20 फीट नीचे गिर गई। प्राइवेट हॉस्पिटल में 22 घंटे चले इलाज के बाद भी डॉक्टर जान नहीं बचा सके। - घटना के दौरान मां घर में खाना बना रही थी। मल्टी 108 मीरा नगर के रहने वाले सरवर खान प्राइवेट नौकरी करते हैं। उनकी 4 साल की बेटी बेबी (जीनत ) एलकेजी में पढ़ती थी। - पत्नी शुक्रवार शाम साढ़े 7 बजे घर में खाना बना रही थी। इसी दौरान बेबी खेलते-खेलते बालकनी में आ गई। - वह मैदान में खेल रहे बच्चों को देखने के लिए बालकनी में रखे सामान पर पैर रखकर रेलिंग से लटक गई।
झुकने से बिगड़ा बैलेंस और हो गया हादसा. - नीचे झुकने के कारण वह अपना बैलेंस नहीं रख पाई और नीचे गिर गई। उस दौरान बच्ची के पिता पास ही पड़ोसियों से बात कर रहे थे। आवाज सुनकर मां ने बालकनी में आकर देखा तो बेबी नीचे पड़ी हुई थी। - मां ने नीचे आकर पति को बुलाया और वे खून से लथपथ बेटी को पास ही के एक हॉस्पिटल ले गए, जहां इलाज के दौरान शनिवार रात उसकी मौत हो गई। - पुलिस ने पोस्टमार्टम के बच्ची की लाश परिवार वालों को सौंप दी है

पदमावत फिल्म का नाम बदल गया है, फिर भी MP में रिलीज नहीं होने देंगे: CM
12 January 2018
भोपाल।सेंसर बोर्ड से पदमावती फिल्म का नाम बदलकर पदमावत के नाम किए जाने के बाद भी मध्य प्रदेश सरकार अपने रुख पर कायम है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया है कि पदमावत को मध्य प्रदेश में रिलीज नहीं होने दिया जाएगा। -राजधानी भोपाल में युवा दिवस पर आयोजित सामूहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम के बाद संवाददाताओं से बात करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पद्मावत फिल्म पर एमपी में बैन जारी रहेगा। -चौहान ने 20 नवंबर को राजपूत समाज के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के बाद पद्मावती फिल्म के रिलीज पर रोक लगाने का ऐलान किया था। -मुख्यमंत्री ने कहा था कि फिल्म में तथ्यों से छेड़छाड़ की गई है। उन्होंने कहा था कि गलत तथ्यों को हटाए जाने के बाद ही फिल्म के रिलीज पर विचार किया जाएगा।
राष्ट्रमाता का दर्जा दिया. -उन्होंने न सिर्फ अपने सूबे में फिल्म की रिलीज को बैन करने की घोषणा की है, बल्कि रानी पद्मावती को राष्ट्र माता का दर्जा भी दे दिया। -वो शिक्षा प्रणाली में भी पद्मावती को प्रमुखता से शामिल करने जा रहे हैं। -चित्तौड़ की रानी पद्मावती के पाठ को अगले शैक्षणिक सत्र से मध्य प्रदेश के स्कूलों में पढ़ाया जाएगा।
क्या है पदमावत विवाद. -पद्मावत फिल्म विवाद बढ़ा तो कुछ लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में रिलीज रुकवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी, लेकिन कोर्ट ने कहाकि सेंसर बोर्ड ने अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। ऐसे में कोर्ट दखल नहीं दे सकता और ये एक तरह प्री जजमेंट की तरह होगा। इसके बाद बोर्ड ने फिल्म का नाम बदलकर पदमावत कर दिया था और रिलीज को हरी झंडी दिखा दी थी। -बता दें कि वकील एम. एल. शर्मा ने याचिका दाखिल कर इस फिल्म से विवादित दृश्य हटाने के आदेश देने की मांग की थी। इसमें रानी पदमावती के बारे में फिल्म में दिखाए गए मनोरंजक दृश्यों को लेकर विवाद हो गया था। देशभर में विरोध प्रदर्शन हो रहा है

भारत सरकार को दिए थे बेस्ट आइडियाज, अब हॉवर्ड यूनिवर्सिटी ने किया इनवाइट
10 January 2018
दमोह (भोपाल) .भारत सरकार को थ्री बेस्ट आइडिया देने वाली शहर की रोशनी छाबड़ा का सिलेक्शन अमेरिका की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने एक कांफ्रेंस में शामिल करने के लिए किया है। इस कांफ्रेंस में वर्ल्ड के सभी देशों से 300 यंग लोगों का सिलेक्शन किया है। जिसमें आस्ट्रेलिया, सिडनी, मलेशिया, बंग्लादेश, अमेरिका, बोस्टन, न्यूयार्क के कैंडिडेट शामिल हैं। इनमें भारत से केवल 10 लोगों का सिलेक्शन किया है। विट्स पिलानी से बी टेक और केमिकल इंजीनियरिंग.... - रोशनी के पिता बलविंदर सिंह का ऑटो पार्टस का बिजनेस है। रोशनी छाबड़ा ने विट्स पिलानी से बी टेक और केमिकल इंजीनियर हैं। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में अहमदाबाद में कांफ्रेंस में शामिल होकर सस्ते सैनेटरी नेपकिन का फार्मूला पेश कर चुकी है। रोड सेफ्टी को लेकर उसकी लिखी कविता रोड एंड ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट की बुक में पब्लिश की गई है।
ऐसे हुआ हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के लिए चयन. - रोशनी छाबड़ा ने बताया कि हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की ओर से जो वर्कशाॅप की जा रही है, उसमें वर्ल्ड के सीनियर लैक्चरर और कई देशों के प्रेसीडेंट शामिल होंगे। जिसमें वे अपनी स्पीच देंगे और नए-नए अविष्कार के साथ वर्ल्ड इकॉनोमी को लेकर अपने आइडिया रखेंगे। - रोशनी ने बताया कि 16 फरवरी को उन्हें कांफ्रेंस में शामिल होने पहुंचना है। जिसकी अभी प्रोसेस चालू हो गई। इससे पहले 9 दिसंबर को उनकी हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने इंट्रेस परीक्षा ली थी। जिसमें विश्व के 300 कैंडिडेट ने पार्टिसिपेट किया था। इस बीच उन्होंने चार प्रश्न दिए आैर एक वीडियो पर लाइव इंटरव्यू लिया था। - इसके बाद यूनिवर्सिटी उनका कांफ्रेंस में शामिल होने के लिए सिलेक्शन किया। इसी तरह इंडिया से 10 यंग लोगों को सिलेक्ट किया है। पूरे कांफ्रेंस की थीम वर्ल्ड इकॉनोमी सिस्टम को लेकर हैं। जिसमें विश्व के बड़े-बड़े इकॉनोमिस्ट अपने आइडिया रखेंगे। - रोशनी के मुताबिक, एमपी से रोशनी छाबड़ा का सिलेक्शन हुआ और उन्हें 16 फरवरी को यूएसए पहुंचना है, मगर इंडियन गवर्नमेंट, स्टेट गवर्नमेंट और लोकल लेवल पर किसी तरह की हेल्प नहीं मिलने से उसे परेशानी जा रही है। - हैरानी की बात यह है कि जिन देशों से कैंडिडेट का सिलेक्शन हुआ है, उन्हें कांफ्रेंस में भेजने का खर्च वहां की गवर्नमेंट खर्च उठा रहीं हैं, लेकिन यहां पर किसी भी तरह की कोई मदद के लिए सामने अब तक नहीं आया है।
भारत को दिए यह बेस्ट थ्री आइडिया. - यहां पर बता दें कि इससे पहले रोशनी ने समाज में बदलाव के लिए तीन बेस्ट आइडिया पेश किए थे। जिसमें पहला आइडिया हेल्थ एरिया में था। इसमें उन्होंने सस्ता कम वैक्टेरिया पनपने वाला सेनेटरी नैपकिन का फार्मूला पेश किया था। - इसी तरह दूसरे आइडिया में रोशनी ने रोड सेफ्टी को लेकर पुस्तक तैयार की थी। जिसमें बढ़ते एक्सीडेंट कम करने के तरीके बताए थे। उसकी (हेव ए सेफ जर्नी) बुक की लाचिंग रोड एंड ट्रांसपोर्ट मिनिस्टरी की ओर से सेंट्रल मिनिस्टर नितिन गड़करी ने किया था। - तीसरा आइडिया देशों के बीच घूमने वाले रिफ्यूजी को लेकर था। वह किस तरह दो देशों के बीच में फंस जाते हैं। इसका उदाहरण रोशनी ने शतरंज की चाल के आधार पर किया था।
केंद्र व राज्य सरकार ने मदद के लिए अभी तक नहीं की पहल. - रोशनी की मां गुरमीत कौर छाबड़ा ने बताया कि दूसरी कंट्री देशों के कैंडिडेट को कांफ्रेंस में वहां की गवर्नमेंट खुद के खर्च पर शामिल करने भेज रही हैं। मगर यहां पर किसी भी गवर्नमेंट ने पहल नहीं की है। - देश के अंदर बेटियों को बढ़ावा देने के लिए बड़े-बड़े आयोजन किए जा रहे हैं और योजनाएं लाईं जा रहीं हैं। उन्होंने बताया कि वे अपनी बात सीएम और मिनिस्टर तक पहुंचाने का प्रयास कर रहीं हैं। अंत में बेटी खुद के खर्च पर कांफ्रेंस में शामिल होने जाएगी ही। क्योंकि यह देश की बात है।

POLICE में बढ़ रहा था तनाव, इसलिए अब MP में पुलिस वालों को भी वैकेशन
5 January 2018
भोपाल।पुलिस विभाग में आरक्षक से लेकर एसआई तक को 15 दिन में एक दिन का अवकाश दिया जाएगा। यह व्यवस्था 15 जनवरी से लागू होगी। टीआई को भी माह में एक दिन की छुट्टी मिलेगी। रात्रि गश्त होने पर उन्हें अगले दिन सुबह थाने आने की जरूरत नहीं होगी। बता दें कि पुलिस विभाग की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने पुलिस कर्मचारियों को छुट्टी देने की बात कही थी। इसका सबसे पहला असर भोपाल में ही देखने को मिला। डीआईजी संतोष कुमार सिंह ने गुरुवार को यह आदेश जारी किए। - पुलिस वालों में आत्महत्या की बढ़ती घटनाओं को तनाव को देखते हुए मध्य प्रदेश में सबसे पहले भोपाल में व्यवस्था लागू की जा रही है। इसके बाद इसे पूरे एमपी में लागू करेंगे। -इस बार यह भी ध्यान रखा गया है कि निर्धारित अवकाश के एक दिन पहले पुलिसकर्मी अपनी केस डायरी और अन्य कागजात थाने में जमा कर दें। -इससे उस मामले से जुड़ी जानकारी या कोर्ट पेशी के दौरान दूसरा अधिकारी मौजूद हो सकेगा।
15 दिन में एक दिन मिलेगी छुट्टी. -भोपाल के सभी थानों में पदस्थ आरक्षक से लेकर टीआई तक की ड्यूटी और कार्य की एक रिपोर्ट तैयार की गई है। -रोटेशन प्रणाली के तहत सभी को 15 दिन में एक दिन छुट्‌टी दी जाएगी। -इसका रोस्टर बनाकर सभी थाना प्रभारियों को दे दिया गया है। -कर्मचारी अवकाश के दिन अपना हेडक्वार्टर छोड़ बाहर भी जा सकते हैं।
सभी को हेल्थ कार्ड की सुविधा. -सभी पुलिसकर्मियों का हेल्थ कार्ड भी बनाया जा रहा है। -इसके लिए सीएसपी और एसडीओपी कार्यालय में मेडिकल कैंप लगाए जाएंगे। -15 फरवरी तक सभी के हेल्थ कार्ड बनकर तैयार हो जाएंगे।
अवकाश का रोस्टर तैयार है - पुलिसकर्मियों पर काम और समय को लेकर अत्यधिक तनाव होता है, जिसके कारण उनकी कार्य क्षमता में प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। अवकाश के लिए रोस्टर तैयार कर लिया गया है। कोशिश रहेगी कि यह योजना लागू रहे, लेकिन आपात स्थितियों में इसे रद्द किया जा सकता है।

भोपाल मेला सर्वधर्म समभाव का प्रतीक
3 January 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भोपाल मेला सर्वधर्म समभाव का प्रतीक और भोपाल की पहचान है। यह आम आदमी के आनंद और उत्सव का कार्यक्रम है, जो लोगों में आपसी स्नेह और आत्मीयता को बढ़ाता है। श्री चौहान आज भोपाल मेला उत्सव समिति के तत्वावधान में आयोजित भोपाल मेला शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिंदगी के रूटीन से अलग कुछ क्षण जीवन मे आनंद और प्रसन्नता का संचार करते हैं। नई ऊर्जा भरते हैं। उन्होंने कहा कि भोपाल मेला उत्सव की परम्परा आम आदमी के आनंद पर केन्द्रित है। उन्होंने स्वर्गीय रमेशचंद अग्रवाल चेयरमेन भास्कर समूह का स्मरण करते हुए कहा कि मेला उनकी दूरदर्शिता का परिणाम है। इसने भोपाल को पहचान दी है। उन्होंने भोपाल मेले का अवलोकन किया। झांकी की सराहना की। महामंत्री मेला उत्सव समिति श्री संतोष अग्रवाल ने बताया कि मेले को भव्य स्वरूप देने का प्रयास किया गया है। गत वर्ष की संख्या 500 से बढ़कर 600 स्टॉल लगे हैं। झाँकी, फूड स्टाल, झूले आदि मनोरंजन के साधन उपलब्ध करवाये गये हैं। कार्यक्रम में मेला उत्सव समिति के अध्यक्ष श्री मनमोहन अग्रवाल ने आभार प्रदर्शन किया। मुख्यमंत्री को समिति द्वारा स्मृति-चिन्ह प्रदान किया गया।

ये बिजनेसमैन रोज पहनता हैं 60 तोला सोना, बप्पी लहरी का है बहुत बड़ा फैन
Our Correspondent :2 January 2018
अशोकनगर(भोपाल).शहर में एक शख्स का गोल्ड पहनने का क्रेज आजकल खूब चर्चा में है। ये दिवानगी इतनी है कि वो हर वक्त 60 किलो सोने पहने रहता है। यह शख्स हर दिन सोने की चेन, सोने की बड़ी बड़ी अंगूठी, सोने का चश्मा सहित सोने की घड़ी पहनकर अपना शौक पूरा करते है ..
बप्पी लहरी और गोल्डन बाबा के नाम से हैं फेमस. - दरअसल शहर के रहने वाले बजरंग ट्रांसपोर्ट के मालिक अशोक जैन की जो अपनी अलग लाइफ स्टाइल के कारण शहर में बप्पी लहरी के रूप में प्रसिद्ध हैं। - बप्पी लहरी से वे इतने प्रभावित हुए कि उनकी तरह 15 साल से हर दिन सोने के गहने पहन रहे हैं। उनके इस अजीब शौक ने उनका नाम बप्पी लहरी और गोल्डन बाबा भी रख दिया है। - जहां भी अशोक जाते हैं उनके पहनावे की तारीफ लोग करते हैं। अशोक बताते हैं कि बप्पी लहरी को देखकर उन्होंने सोने के गहने पहनना शुरू किया है। - उनके इस पहनावे के कारण घर के लोग कई बार मना कर चुके हैं।
900 ग्राम की 6 चेन पहनते हैं गले में - उन्हाेंने बताया कि सामान्य तौर पर 60 तोला सोना हर रोज पहनते हैं लेकिन शादी में डेढ़ किलो सोने के गहने पहनकर जाते हैं। सोने से गहनों से घिरे होने के कारण लोगों की नजरें उन पर ही डटी रहती हैं। उन्होंने बताया कि उनके पास 20 अंगूठी तीन तौले की, 100 ग्राम की घड़ी, 150 ग्राम की 6 सोने की चेन हैं। उन्होंने बताया कि सोना पहनना उनका शौक है। - परिवार के लोग कहते हैं सोना पहनकर निकलते हो खतरा बढ़ सकता है लेकिन डर किसी से नहीं लगता, बल्कि ऐसे लोगों का सामना करने के लिए तैयार रहता हूं। साथ ही कई इंतजाम भी रखता हूं, जिससे मेरे शौक को पूरा करने में कोई परेशानी न खड़ी करे


टीकमगढ़ मामले को कांग्रेस का षड्यंत्र बता रहे मुख्यमंत्री इस्तीफा दें : कमलनाथ
Our Correspondent :30 December 2017
भोपाल। टीकमगढ़ में आंदोलनकारी किसानों को हवालात में बंद करके अर्धनग्न करने के मामले में हालांकि प्रदेश सरकार ने दोषी पुलिस कर्मचारियों पर कार्रवाई की है, लेकिन मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस इस मुद्दे को छोड़ने के मूड में नहीं है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और सांसद कमलनाथ ने इसे लेकर फिर सरकार पर हमला बोला है और मुख्यमंत्री से माफी मांगने तथा इस्तीफा देने की मांग की है। टीकमगढ़ मामले की जांच डीआईजी ने की थी। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद हालांकि सरकार ने जांच के तथ्यों को सार्वजनिक नहीं किया है, लेकिन गृहमंत्री भूपेंद्रसिंह ने शुक्रवार को टीकमगढ़ देहात टीआई का तबादला जिले से बाहर करने तथा थाने के पूरे स्टाफ को लाइन अटैच करने के आदेश जारी कर दिए थे। इस कार्रवाई के बाद कांग्रेस सांसद कमलनाथ ने ट्विटर के जरिए सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने इस मामले में प्रशासन की गलती होते हुए भी इसे कांग्रेस का षड्यंत्र बताने पर मुख्यमंत्री से इस्तीफा माँगा है| कमलनाथ ने ट्वीट किया है- ‘टीकमगढ़ मामले में जांच रिपोर्ट आने के बाद प्रशासन की गलती मानते हुए कार्यवाही के बाद इस मामले को कांग्रेस का षड्यंत्र बताने वाले शिवराज को अब अविलंब माफी मांगते हुए, इस पूरे शर्मनाक मामले की नैतिक जवाबदारी खुद पर लेकर इस्तीफा देना चाहिए।’ कांग्रेस सांसद का शनिवार को किया गया यह ट्वीट दो हिस्सों में है। ।


MP में बढ़ रहा है उत्तर से आ रही सर्द हवाओं का असर, अब चलेगी शीतलहर
Our Correspondent :28 December 2017
भोपाल। पिछले दिनों से ठंड से ठिठुर रहे मध्य प्रदेश में शुक्रवार से शीतलहर चलने की संभावना है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि उत्तर भारत से रहीं सर्द हवाओं के कारण भोपाल, उज्जैन, इंदौर संभागों में शीतलहर चल सकती है। -वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक एसके नायक ने बताया कि सागर, शहडोल, होशंगाबाद में भी शीतलहर चल सकती है। पचमढ़ी में रात का तापमान 2 और रायसेन में 4.5 डिग्री पर गया है। भोपाल में तापमान 0.1 डिग्री बढ़कर 8.9 डिग्री पर पहुंच गया। -मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों में राज्य के कई हिस्सों में शीतलहर चलने की चेतावनी जारी की है। राज्य में गुरुवार की सुबह खिली धूप ने मौसम सुहावना बना दिया, लेकिन बीच-बीच में चलने वाली हवाएं ठिठुरन पैदा करने वाली रहीं। -मौसम विभाग के मुताबिक, कश्मीर में हुई बर्फबारी के चलते ठंड का असर बना हुआ है। कई स्थानों पर न्यूनतम तापमान सामान्य से कम है। मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों में कई स्थानों पर ठंड बढ़ने का अनुमान जताया है। -मौसम विभाग ने जबलपुर और होशंगाबाद संभागों के कई जिलों में शीतलहर चलने की चेतावनी जारी की है। राज्य के मौसम में बदलाव का दौर जारी है। गुरुवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 9 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 10.2 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का 5.8 और जबलपुर का न्यूनतम तापमान 7.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। -वहीं, बुधवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 25.2 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का 27 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का अधिकतम तापमान 25.1 डिग्री सेल्सियस रहा।


GRP ग्राउंड में 20 फीट ऊंचे पोल पर लटकी मिली लाश, शिनाख्त में जुटी POLICE
Our Correspondent :25 December 2017
भोपाल।रेलवे जीआरपी ग्राउंड के नेट पोल से लड़की की डेड बॉडी लटकी मिली है। इससे पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। एफएसएल टीम ने किया घटनास्थल का निरीक्षण किया है। उन्होंने कुछ सबूत एकत्र किए हैं, लेकिन लाश की शिनाख्त नहीं हो पाई है। - घटना से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। एफएसएल टीम ने किया घटनास्थल का निरीक्षण किया है। उन्होंने कुछ सबूत एकत्र किए हैं। जीआरपी पुलिस ने केस रजिस्टर कर लिया है और इसमें बजरिया थाना और जीआरपी थाने की पुलिस शव की शिनाख्त करने में जुटी है। बॉडी भेज पोस्टमार्टम के लिए भेज दी गई है। - हुलिया और कपड़ों से लड़की को खिलाड़ी बताया जा रहा है, लेकिन वह कौन है और कहां से आई यह जानकारी नहीं मिल सकी है। जीआरपी और बजरिया थाना की पुलिस इस मामले को लेकर सुराग लगाने में जुटी हुई है।
20 फीट उंचा पोल, मौत संदिग्ध - जिस स्थान पर युवती का शव लटका हुआ था वह ग्राउंड से करीब 20 फीट उंचा है। पुलिस के अनुसार इतनी उंचाई पर जाकर रस्सी बांधना संदेहजनक लग रहा है। पुलिस ने ग्राउंड से इस युवती को मोबाइल भी टूटी हुई अवस्था में बरामद किया है। - एफएसएल टीम को बुलाकर अन्य सुराग तलाशे जा रहे हैं। पुलिस फिलहाल पुख्ता तौर पर यह नहीं कह पा रही है कि यह सोसाइड है या मर्डर। पुलिस के अनुसार युवती की पहचान होने के बाद ही जांच की दिशा तय हो पाएगी। अगर स्थानीय लोग उसे नहीं पहचानते हैं तो यह कौन है और कहां से यहां आई थी या मामला कुछ ओर है।
और मौत पर ये सवाल - जीआरपी पुलिस ने केस रजिस्टर कर लिया है, दो थानों की पुलिस शव की शिनाख्त करने में जुटी है। बॉडी भेज पोस्टमार्टम के लिए भेज दी गई है। - ये हत्या है या आत्महत्या, इसका खुलासा पीएम रिपोर्ट के बाद ही हो पाएगा। - सुबह क्रिकेट खेलने गए लोगों ने डेड बॉडी को पोल पर लटके देखा है। - पुलिस ने उन लोगों से पूछताछ की है, लेकिन कुछ खास पता नहीं चल सका है।


HC ने पीपुल्स के मेडिकल कॉलेज के चेयरमैन विजयवर्गीय की रीकंसीडरेशन पिटिशन की खारीज
Our Correspondent :22 December 2017
जबलपुर. व्यापमं महाघोटाले में पीएमटी 2012 को लेकर सीबीआई की स्पेशल कोर्ट द्वारा सीधे जारी किए गए गिरफ्तारी वारंट को चुनौती देने वाली पीपुल्स मेडिकल कॉलेज भोपाल के चेयरमैन एसएन विजयवर्गीय की पुनरीक्षण याचिका हाईकोर्ट ने खारिज कर दी है। - चीफ जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस विजय कुमार शुक्ला की युगलपीठ ने कहा- आरोपी ने सीबीआई जांच पर उंगली तो उठाई, लेकिन उसको यह हक नहीं है कि कौन-सी एजेंसी उसके मामले में जांच करेगी। आरोपी के खिलाफ जांच एजेंसी द्वारा जुटाए गए सबूतों का परीक्षण कोर्ट करेगी। अब जब खुद राज्य सरकार को सीबीआई जांच से ऐतराज नहीं है तो आरोपी उस बारे में कोई आपत्ति नहीं कर सकता। - सीबीआई ने पीएमटी-2012 मामले में भोपाल की स्पेशल कोर्ट में 592 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट पेश की थी। इस मामले में निचली अदालत द्वारा 23 नवंबर, 2017 को जारी सीधे गिरफ्तारी वारंट को चुनौती देकर विजयवर्गीय ने पुनरीक्षण याचिका दायर की थी। इस मामले पर विगत 18 दिसंबर को सुनवाई के बाद युगलपीठ ने फैसला सुरक्षित रखा था।
जांच के लिए सक्षम है सीबीआई : कोर्ट - अपने 28 पन्नों के फैसले में चीफ जस्टिस हेमंत गुप्ता की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा- ‘व्यापमं घोटाले की शुरुआत परीक्षाओं से हुई थी और उसका अंत एडमिशनों से हुआ। प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में हुए एडमिशन, घोटाले का ही हिस्सा था और ऐसे में घोटाले की जांच के लिए सीबीआई सक्षम है। - हाईकोर्ट ने कहा कि थोड़ी देर के लिए मान भी लिया जाए प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में हुए एडमिशन व्यापमं घोटाले का हिस्सा नहीं है, तो प्रदेश सरकार ने प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में हुए एडमिशनों की जांच के लिए अपना नो ऑब्जेक्शन दे दिया है। ऐसे में यह नहीं कहा जा सकता कि सीबीआई को जांच करके स्पेशल कोर्ट में रिपोर्ट पेश करने का कोई अधिकार नहीं है।


सूरज और बादलों के बीच लुकाछिपी जारी, हवाएं बढ़ा रही है ठिठुरन
Our Correspondent :20 December 2017
भोपाल। मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों में राज्य के कई हिस्सों में ठंड का असर बढ़ने का अनुमान जताया है। राज्य में बुधवार को सूरज और बादलों के बीच जारी लुकाछिपी से ठंड का असर कुछ कम है, लेकिन हवाएं ठिठुरन बढ़ा देती है। -मौसम वैज्ञानिक एसके नायक ने बताया कि पूर्वी उप्र में बनी टर्फ लाइन से बादल छाए हैं। कश्मीर घाटी व हिमाचल में हुई बर्फबारी के बाद हवा का रुख उत्तर-पूर्वी है। यहां से ठंडी हवा आ रही है। नायक ने बताया कि शनिवार से ठंड बढ़ने का अनुमान है। -मौसम विभाग के मुताबिक, बीते 24 घंटों के दौरान कई स्थानों पर बादलों के छाने के चलते तापमान में उछाल दर्ज किया गया है। वहीं, आगामी 24 घंटों में ग्वालियर, चंबल, भोपाल, होशंगाबाद, इंदौर और उज्जैन संभागों में ठंड का जोर बढ़ने की संभावना है। -राज्य के तापमान में उतार-चढ़ाव का दौर जारी है। बुधवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 13.4 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 14.4 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का 10 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का न्यूनतम तापमान 14.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। -वहीं, मंगलवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 25.3 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 26.5 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का 26 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का अधिकतम तापमान 26.4 डिग्री सेल्सियस रहा


हाईकोर्ट ने कहा आरोप सिद्ध हुए तो छात्रों के भविष्य के सामूहिक संहार का केस हो सकता है
Our Correspondent :15 December 2017
जबलपुर .पीएमटी 2012 में की गई गड़बड़ी के मामले में सीबीआई द्वारा आरोपी बनाए गए चिरायु मेडिकल कॉलेज के डायरेक्टर डॉ. अजय गोयनका, एलएन मेडिकल कॉलेज के एडमिशन इंचार्ज डॉ. दिव्य किशोर सत्पथी, एलएनसीटी ग्रुप के चेयरमैन जयनारायण चौकसे, पीपुल्स यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. विजय कुमार पंड्या, डॉ. विजय के रमनानी, तत्कालीन डीएमई डॉ. एससी तिवारी और तत्कालीन ज्वाइंट डीएमई एनएम श्रीवास्तव की अग्रिम जमानत हाईकोर्ट ने गुरुवार को खारिज कर दी। इसी के साथ आरोपियों की गिरफ्तारी का रास्ता साफ हो गया। - चीफ जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस विजय शुक्ला की खंडपीठ ने अपने फैसले में तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि मेडिकल कॉलेज के संचालकों के कृत्यों के चलते अनेक योग्य छात्र मेडिकल पाठ्यक्रमों में एडमिशन नहीं ले पाए और निराशा के शिकार हुए। - कोर्ट ने कहा कि एडमिशन देने की पूरी प्रक्रिया नियमों के विपरीत थी, जिसके शिकार योग्य युवा छात्र बने। हाईकोर्ट ने अपने 25 पृष्ठीय फैसले में कहा कि आवेदकों पर भले ही किसी की जान लेने का आरोप नहीं है, लेकिन आरोप साबित हुए तो यह युवा छात्रों के जीवन से खिलवाड़ करने का घृणित अपराध होगा। यह कई छात्रों के कॅरियर की सामूहिक हत्या का केस हो सकता है। - कोर्ट ने कहा यह अनेक युवाओं के भविष्य के संहार का मामला होगा। कोर्ट ने साफ कहा कि आरोपियों के खिलाफ बहुत ही संगीन आरोप हैं और इनकी गंभीरता को देखते हुए इन्हें गिरफ्तारी पूर्व जमानत नहीं दी जा सकती। कोर्ट ने आरोपियों की अधिक उम्र और गंभीर रोगों के एवज में जमानत मांगने की दलीलों को भी नकार दिया।
दलीलें आकर्षक, पर आरोप गंभीर

जांच के दौरान गिरफ्तारी नहीं होने का अर्थ यह नहीं कि आरोपी अग्रिम जमानत के अधिकारी हों
- कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि आरोपियों की दलील आकर्षक थी कि घोटाले की जांच के दौरान उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया और यदि अब गिरफ्तार किया जाता हैं तो यह उनकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता के अधिकार का हनन होगा। - कोर्ट ने आगे कहा- इस घोटाले में 500 से अधिक आरोपी हैं। जांच बहुत लंबी चली। जांच के दौरान गिरफ्तारी नहीं होने का अर्थ यह नहीं है कि अब आरोपी अग्रिम जमानत के अधिकारी हो जाएंगे। वो भी तब जब आरोप इतने संगीन हैं।
सरेंडर का दिया था मौका
- हाईकोर्ट ने कहा कि तीनों आरोपियों को ट्रायल कोर्ट में हाजिर होने का पर्याप्त मौका दिया गया था। विशेष अदालत ने सभी आरोपियों को 23 नवंबर को हाजिर होने के निर्देश दिए थे। जब कोई हाजिर नहीं हुआ तो अदालत ने मजबूर होकर गिरफ्तारी वारंट जारी किया। आरोपियों ने सरेंडर करने बजाए गिरफ्तारी से बचने के लिए हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत अर्जी दाखिल कर दीं।


नसबंदी के बाद महिलाओं को जमीन पर लिटाया, घर जाने को नहीं मिली एंबुलेंस
Our Correspondent :13 December 2017
छतरपुर(भोपाल).शहर के दूर दराज के इलाकों से सिटी हॉस्पिटल में महिला नसबंदी ऑपरेशन के दौरान लापरवाही बरती जा रही है। महिलाओं को ऑपरेशन के बाद जमीन पर लिटाया जा रहा है। ये हालत शहर के गवर्नमेंट हॉस्पिटल का है। वहीं प्रशासन इस मामले में कोई ध्यान नहीं दे रहा है। हॉस्पिटल में कोई फैसिलिटी नहीं दी जा रही है। इस दौरान मिलने वाली सरकारी फैसिलिटी भी सही तरह से भुगतान भी नहीं मिल रहा है। सिटी हॉस्पिटल में इन दिनों सभी आठों ब्लाॅकों की महिलाओं के नसबंदी ऑपरेशन हॉस्पिटल के डॉक्टरों द्वारा किए जा रहे हैं। इन महिलाओं को हेल्थ डिपार्टमेंट की एएनएम, आंगनबाड़ी वर्कस, सहित हेल्थ डिपार्टमेंट के कर्मचारी मोटीवेट कर टीटी ऑपरेशन कराने के लिए सिटी हॉस्पिटल लेकर आते हैं।


सर्वर डाउनः वक्त पर शुरू नहीं हुआ एग्जाम, स्टूडेंट्स ने कैंपस में किया हंगामा
Our Correspondent :9 December 2017
भोपाल। प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड द्वारा आयोजित की जा रही पटवारी भर्ती परीक्षा तकनीकी खामियां का शिकार हो गई। भोपाल सहित सभी 16 शहरों में शनिवार सुबह की पाली में सर्वर डाउन हो गया। कई केंद्रों पर केवल पांच फीसदी परीक्षार्थियों का ही आधार से वेरीफिकेशन हो सका। बाकी के परीक्षार्थियों को दो घंटे तक परीक्षा हाल में इंतजार करना पड़ा। भोपाल के ही एक परीक्षा केंद्र ट्रिनिटी कॉलेज में परीक्षार्थियों ने हंगामा कर पीईबी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। परीक्षा केंद्रों से मिली जानकारी के अनुसार सुबह 9 बजे से शुरू होने वाली पहली पाली के लिए सुबह 7.30 बजे से परीक्षार्थियों को रिपोर्टिंग करनी थी। इस दौरान हाल में प्रवेश के पहले केंद्रों पर परीक्षार्थियों का बायोमेट्रिक मशीन से आधार का वेरीफिकेशन हुआ। इस प्रक्रिया में कई परीक्षार्थी बाहर हो गए। जिनका वेरीफिकेशन सफल रहा उन्हें हाल में प्रवेश दे दिया गया। लेकिन, अंदर दोबारा होने वाले वेरीफिकेशन के दौरान सर्वर जवाब दे गया। इससे परीक्षा देरी से शुरू हो पाई।
अधिकारियों ने कहा नहीं बदला जाएगा नियम
केंद्रों ने जब बोर्ड के अधिकारियों से संपर्क किया तो जवाब मिला की यह नीतिगत फैसला है। आधार वेरीफिकेशन का नियम नहीं बदला जाएगा। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान सर्वर डाउन की समस्या के कारण परीक्षार्थियों से लेकर परीक्षा केंद्रों में मौजूद पर्यवेक्षकों और स्टाफ को परेशान होना पड़ा। पहली पाली में प्रदेश भर में करीब 25 हजार परीक्षार्थियों को शामिल होना था।
तकनीकी समस्या की वजह से बनी ये स्थितिः मंत्री
शिक्षा मंत्री दीपक जोशी ने कहा कि तकनीकी समस्या की वजह से ऐसी स्थिति बनी है। आने वाले समय में निजी कंपनी की जगह खुद ही परीक्षाएं करवाएंगे। व्यवस्था बनाने के लिए केंद्रों पर मौजूद अधिकारी तेजी के साथ काम कर रहे हैं। परीक्षार्थियों के आक्रोशित होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह स्वाभाविक है, लेकिन सब ठीक करने का प्रयास किया जा रहा है।


महिलाओं को छेड़ रहे लड़कों को कमरे में कर दिया बंद, फिर किया ये हाल
Our Correspondent :7 December 2017
भोपाल।दमोह जिले के सिद्धधाम में पिकनिक मनाने गए एक गांव में पहुंचे चार लड़कों को गांववालों ने पकड़कर कमरे में बंद कर दिया और जमकर पिटाई की और उनकी बाइक छीनकर रख ली। मामला यहीं नहीं थमा, लड़कों छुड़ाने आई डायल-100 पुलिस को भी गांव वालों ने काफी देर तक नहीं घुसने दिया। तीन लड़के जान बचाकर भाग गए, लेकिन एक लड़का फंस गया और उसे गांववालों ने पीटकर अधमरा कर दिया। बाद में पुलिस पहुंची तो उसने लड़के को छुड़ाया और उसकी एमएलसी कराई गई। महिलाओं का आरोप है कि लड़के शराब पीकर छेड़छाड़ और अभद्रता कर रहे थे। - जिले के किल्लाई गांव में सिद्धबाबा धाम गांव की महिलाओं से छेड़छाड़ कर रहे थे, महिलाओं ने जब अपने घर में बताया तो इससे गांव वाले नाराज हो गए। ग्रामीणों ने लड़कों को पकड़ लिया। उन्हें घर में बंद करके पीटा और उनकी बाइकें भी छुड़ाकर रख लीं। - सूचना मिलने पर डायल-100 की टीम और जबलपुर नाका चौकी पुलिस ने पहुंचकर लड़कों को छुड़ाने पहुंची तो ग्रामीणों पुलिस को भी काफी देर तक गांव में नहीं घुसने दिया। बाद में और पुलिस कर्मियों को बुलाया गया तब जाकर वह घुसे और लड़कों को ग्रामीणों के चंगुल से छुड़ाया और उनकी बाइक लेकर दमोह आए। - लड़कों को छुड़ाने उनके दोस्त पहुंचे थे, महिलाओं और पुरुषों ने उन पर पथराव और लठियां चलाकर भगा दिया। इससे वह भी भाग खड़े हुए। पुलिस ने घायल युवक की एमएलसी कराकर उसकी रिपोर्ट पर गांव के तीन युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। - लड़कों को बचाने गए विवेक सिंह ने बताया कि वह किल्लाई गांव के आगे जा रहा था, लेकिन गांव में भीड़ लगी थी जिसे देखने पहुंचा तो ग्रामीणों ने उसे पकड़ लिया और मारपीट कर दी। उसे भागने भी नहीं दिया।
तीन गांववालों के खिलाफ प्रकरण दर्ज
जबलपुर नाका चौकी प्रभारी विनोद शंकर यादव ने बताया कि घायल युवक विवेक सिंह की शिकायत पर आरोपी दुर्गेश, अनिल और दिनेश कुचबंदिया के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। महिलाओं द्वारा छेड़छाड़ की बात कही जा रही थी लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई है। मामले की जांच की जाएगी


ड्यूटी पर शराब पीकर पहुंचा था डॉक्टर, मीडिया से कहा-बकवास की तो मार डालूंगा
Our Correspondent :4 December 2017
भोपाल। शराब के नशे में अस्पताल पहुंचे डॉक्टर से जब चेयर पर बैठा नहीं गया, तो वे मरीज के बिस्तर पर जाकर लेट गए। इस बीच कई मरीजों को गार्ड ने वापस लौटा दिया। वहीं, कुछ लोगों का डॉक्टर ने पलंग पर लेटे-लेटे ही इलाज कर दिया। हालांकि, उन मरीजों को डॉक्टर ने घर जाकर आराम की सलाह दे दी। यह मामला मप्र के दमोह जिला अस्पताल का है।
मरीजों को गार्ड और वार्डबॉय ने संभाला.
जानकारी के अनुसार शराबी डॉक्टर का नाम डॉ. मुकेश अहिरवार है, जो वर्तमान में दमोह जिला अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। रविवार को वे शराब के नशे में जिला अस्पताल में ड्यूटी कर रहे थे। नशा चढ़ने पर वे कमरा नंबर 15 में पलंग पर मच्छरदानी लगाकर सो गए थे। वहीं, मरीजों को ओपीडी में गार्ड और वार्डबॉय संभाल रहे थे। जो मरीज कमरा नंबर 15 की ओर जाता था, उसे गार्ड दौड़कर रोक लेता था और समस्या सुनकर अंदर जाने देता था। अधिकांश मरीजों से डॉक्टर ने मिलने से ही इनकार कर दिया, वहीं कुछ लोगों का पलंग पर लेटे-लेटे ही इलाज कर दिया। मच्छरदानी में सो रहे थे डॉक्टर
रमेशजी मप्र के ब्रांड एम्बेसडर थे: शिवराज.
सागर जिले के गढ़ाकोटा से आए सुरेंद्र विश्वकर्मा ने बताया कि उनका 10 साल का बेटा राज साइकिल से गिर गया था। बेटे के पैर में सूजन आने पर उसे जिला अस्पताल इलाज के लिए लेकर आए थे। पर्ची बनवाकर कमरा नंबर 15 में जांच कराने गए तो डॉक्टर पलंग पर मच्छरदानी में सो रहे थे। गार्ड ने डॉक्टर को उठाया तो डॉक्टर भड़क गए, गार्ड ने मरीज को देखने बोला तो पहले वे आनाकानी करने लगे, मैंने उन्हें समस्या बताई तो उन्होंने हमें पलंग के पास बुलाया। बेटे के पैर को पलंग पर लेटे हुए ऊपर उठाकर देखा और ओपीडी में जाकर मरहम लगवाने बोल दिया उन्होंने दवाएं भी नहीं लिखीं।
दूसरे डॉक्टर को बुलाया गया.
-शराब के नशे में धुत्त डॉक्टर की करतूत से जब व्यवस्थापक वीरेंद्र असाटी को अवगत कराया गया तो उन्होंने डॉ. बागरी को मरीजों के चेकअप के लिए बुलाया। व्यवस्थापक असाटी ने बताया कि डॉ. मुकेश अहिरवार की स्थिति गड़बड़ समझ में आ रही थी शायद उनकी तबीयत खराब थी। इसलिए वे मरीज के बिस्तर पर लेट गए थे। स्थिति को समझते हुए हमने मरीजों का इलाज कराने के लिए दूसरे डॉक्टर को बुलाया था।
नशे की वजह से सस्पेंड हो चुके हैं डॉक्टर.
-नशे की लत के कारण डॉ. मुकेश अहिरवार कई बार दुर्घटना के शिकार भी हो चुके हैं। इन्हीं आदतों की वजह से वे एक बार सस्पेंड भी किया जा चुका है। कुछ दिनों पहले ही उन्हें काम में लापरवाही बरतने के लिए नोटिस भी दिया गया था।-डॉ. आरके बजाज, सीएमएचओ -सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी का कहना है कि मुझे इसकी सूचना नहीं मिली है। मामला गंभीर है मैं दिखवाती हूं, इसे व्यवस्थापक को भेजती हूं।
जो छापना है छाप देना, मैं कलारी पर बैठा हूं.
-इस बारे में जब डॉ. मुकेश अहिरवार से बात की, तो उन्होंने कहा कि जो छापना है छाप देना। मैं अभी भी कलारी में बैठकर शराब पी रहा हूं। मैं ड्यूटी पर नहीं पीता, ज्यादा बकवास की तो मैं तुम्हें मार डालूंगा


रमेशजी भास्कर ही नहीं, मध्य प्रदेश के ब्रांड एम्बेसडर थे: सीएम शिवराज
Our Correspondent :1 December 2017
भोपाल.आदि से अनंत। रमेशजी की जीवन यात्रा। एक खुली किताब की तरह। उनके 73वें जन्मदिन पर एक बार फिर अक्षर-अक्षर बनी और पढ़ी गई। किताब के हर पन्ने को बनते, खुलते और पढ़ते जाने का साक्षी था पूरा भास्कर परिवार... और साथ थे इन्फोसिस के नंदन नीलेकणी और एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। गुरुवार को भास्कर समूह के चेयरमैन स्व. रमेशचंद्र अग्रवाल के जन्मदिन पर रमेश एंड शारदा अग्रवाल फाउंडेशन की शुरुआत हुई।
रमेशजी मप्र के ब्रांड एम्बेसडर थे: शिवराज.
- मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, "रमेशजी सिर्फ भास्कर ग्रुप के चेयरमैन ही नहीं, बल्कि मध्य प्रदेश के ब्रांड एम्बेसडर भी थे। वे हमारे बीच से बहुत जल्दी विदा हुए। 'बड़े गौर से सुन रहा था जमाना, तुम्हीं खो गए दास्तां कहते-कहते।' कबीर की यह वाणी उन पर सटीक है- 'ज्यों की त्यों धर दीनी चदरिया।' "
इन्वेस्टर्स मीट की कामयाबी में रमेशजी का ही रोल था..
- शिवराज ने कहा, "रमेशजी के व्यक्तित्व की खूबियां कमाल की थीं। वे काबिलियत के अाधार पर काम देते थे अौर इतने सरल कि बड़े अखबार समूह की ताकत का अहंकार उन्हें छू भी नहीं पाया। उनका दर्शन था कि कमाओ और समाज में लगाओ। वे कारोबारी दुनिया में जितने सक्रिय थे, समाज में भी उनके कई काम ऐसे हैं, जिनके बारे में कम ही लोग जानते हैं।'' - ''जब मैं मुख्यमंत्री के तौर पर पहली बार उनसे मिला तो उनकी राय थी कि सिंचाई को पहली प्राथमिकता बनाओ। उनका मूल मंत्र काम आया। साढ़े सात लाख हेक्टेयर के सिंचित रकबे से आज हम 40 लाख हेक्टेयर तक जा पहुंचे। इन्वेस्टमेंट के लिए इन्वेस्टर्स मीट की कामयाबी में रमेशजी का ही रोल था।"
बड़े उद्योग घरानों को मध्य प्रदेश के मंच पर लेकर आए..
- सीएम शिवराज के मुताबिक, "बड़े उद्योग घरानों को मध्य प्रदेश के मंच पर लाने वाले वे ही थे। वैश्य समाज को एक करने में उनकी बड़ी भूमिका थी। भोपाल मेला उत्सव का विचार भी 26 साल पहले उन्हें ही आया। आज एक महीने में 25 लाख लोग इस मेले में जुटते हैं। राजधानी के श्मशानघाटों को हरे-भरे गार्डन में बदलकर रख दिया है। समय नदी की धार, सब बह जाया करते हैं, कुछ लोग ही हैं जो इतिहास बनाया करते हैं।"
लोगों को जोड़ो और उनसे जुड़ जाओ..
- भास्कर परिवार के गिरीश अग्रवाल ने कहा, "वो सारे काम जो पापा करना चाहते थे, उन्हें पूरा करने के लिए ही रमेश एंड शारदा अग्रवाल फाउंडेशन की स्थापना की गई है।" - उन्होंने कहा, "पापा के जीवन में जितने लोग भी जुड़े, वे सब हमारे परिवार का ही हिस्सा हैं। पापा कहते थे कि लोगों को जोड़ो और उनसे जुड़ जाओ। जुड़ने से ताकत मिलती है। आप चैतन्य महसूस करते हैं।"
बिना शर्त सबको स्वीकार किया, सबको प्यार दिया..
- कार्यक्रम की शुरुआत में मुख्यमंत्री का स्वागत सुधीर अग्रवाल, नीलेकणी का स्वागत गिरीश अग्रवाल और साधना सिंह का स्वागत भावना अग्रवाल ने किया। वेलकम स्पीच में पवन अग्रवाल ने कहा कि पापा ने बिना शर्त सबको स्वीकार किया, सबको प्यार दिया। - वहीं, मुख्यमंत्री ने रमेश एंड शारदा अग्रवाल फाउंडेशन का स्वागत किया। रमेशजी की स्मृति में वर्ल्ड लेवल कन्वेंशन सेंटर के निर्माण पर बोले कि यह काम सरकार का था, लेकिन रमेशजी की याद में हो रहा है, इससे बड़ी कोई बात नहीं।
संस्कार विद्या निकेतन के साथ बिजनेस ग्राेथ प्लैटफाॅर्म भी..
- रमेशजी की स्मृति में भास्कर परिवार ने रमेश एंड शारदा अग्रवाल फाउंडेशन की स्थापना की। इसके तहत 4 खास काम किए जाएंगे।
1. संस्कार विद्या निकेतन:.
अगले दो सालों में तीन हजार गरीब, जरूरतमंद परिवारों की बच्चियों को मुफ्त शिक्षा दिलाई जाएगी। इसमें एडमिशन, फीस, स्कूल बैग, किताबें और यूनिफॉर्म शामिल होंगे। अभी ऐसी एक हज़ार बच्चियों को भोपाल में ये फैसिलिटी दी जा रही है। अगले दो सालों में अलग-अलग शहरों की दो हजार और बच्चियों को इसमें शामिल किया जाएगा।
2. वृद्धाश्रम:.
पहले चरण में भास्कर समूह बीस शहरों के 20 वृद्धाश्रमों को टेकअप करेगा और इनमें सभी बेसिक सुविधाएं मुहैया कराएगा।
3. बिज़नेस ग्रोथ प्लैटफाॅर्म:.
रमेशजी ने हमेशा युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित किया, इसलिए भास्कर समूह एक बिजनेस ग्रोथ प्लैटफार्म बना रहा है। इसके तहत उन लोगों को आगे बढ़ाने का काम किया जाएगा, जिनके पास बिजनेस आइडिया तो होते हैं, लेकिन रिसोर्स नहीं होते।
4. रमेश अग्रवाल कन्वेंशन सेंटर (RACC):..
मप्र में इंटरनेशनल लेवल के कन्वेंशन सेंटर की जरूरत को पूरा करने के लिए भास्कर समूह भोपाल में एक ऐसे ही कन्वेंशन सेंटर की स्थापना करेगा। इस सेंटर का नाम रमेश अग्रवाल कन्वेंशन सेंटर (RACC) होगा।
भारत में अब डाटा ही इकोनॉमी का नया ऑयल: नीलेकणी..
- इन्फोसिस के नंदन नीलेकणी ने कहा, "इस दौर में डाटा ही इकोनॉमी का ऑयल है। हम इकोनॉमिकली पावरफुल होने के पहले ही डाटा में समृद्ध होने जा रहे हैं। पश्चिम के देशों में आर्थिक समृद्धि पहले आई, डाटा बाद में। भारत की कारोबारी समृद्धि में डाटा अहम भूमिका निभाने वाला है।'' - ''ग्लोबलाइजेशन का दौर अब खत्म हो रहा है। अब नौकरियां हमारे देश में ही मिलेंगी। ऑटोमेशन ने दुनिया बदल दी है। बड़ी कंपनियां लाखों रोजगार नहीं देंगी, बल्कि लाखों कंपनियां अब छोटे-छोटे रोजगार के मौके देंगी। साल-दर-साल जॉब के नेचर बदल रहे हैं। पुराने तरीके की नौकरियां खत्म हो रही हैं। नए तरह के अवसर पैदा हो रहे हैं। नौकरियों की इस नई दुनिया को हमें स्वीकार करना होगा।'' - ''एक वक्त चीन मैन्युफैक्चरिंग में सुपर पावर बन गया। आज यह सेक्टर ऑटोमेशन में जा रहा है। जर्मन कंपनी एडिडास में कर्मचारी कम बचे हैं, रोबोट सारा काम संभाल रहे हैं। रोबोटिक टेक्नोलॉजी बहुत तेजी से काम कर रही है। दुनिया के इन बदलावों के मद्देनजर भारत के सामने चुनौती है कि वह अपने यहां किस तरह के जॉब पैदा करे। अब दस तरह के स्किल आपके पास होने ही चाहिए। लाइफ लॉन्ग लर्निंग हमें अपनानी होगी। हफ्ते में 15 मिनट कुछ नया सीखने के लिए दें।''
भारत में 35 करोड़ लोगों के पास स्मार्टफोन हैं.
- नीलेकणी ने कहा कि हमारे सामने तीन चुनौतियां हैं- हरेक भारतीय कैसे शिक्षित हो, कैसे इन्फ्रास्ट्रक्चर खड़ा हो और लाइफ लॉन्ग लर्निंग। अब छोटी कंपनियां आगे जाएंगी। एक कंपनी दस लाख लोगों को नौकरी दे, इसकी बजाय दस लाख कंपनियां एक-एक को काम दें। लेकिन धीमी रफ्तार और पैसे की कमी एक बाधा है। 21वीं सदी में यहां डाटा क्रांति अपना काम करेगी। - भारत में शिक्षा अब भी बड़ी चुनौती है। समृद्ध इकोनॉमी वाले जापान, चीन और कोरिया जैसे देश शिक्षित हैं। इसलिए इकोनॉमी में ग्रोथ हासिल की। भारत में सबको शिक्षित किए बिना हम यह लक्ष्य हासिल नहीं कर सकते। सब बच्चे स्कूल जाएं, लिखना-पढ़ना सीखें। उन्हें स्मार्ट फोन, कम्प्यूटर और टीवी जैसे डिवाइस इस्तेमाल करने की आदत हो। भारत में 35 करोड़ लोगों के पास स्मार्ट फोन आ चुके हैं। - छह साल में भारत में सौ करोड़ लोगों को आधार से जोड़ा गया है। सरकार का यह फ्लैगशिप प्रोग्राम था। इसमें दस हजार करोड़ रुपए निवेश हुए, मगर 57 हजार करोड़ की बचत हम कर सके। आज केरोसिन, पीडीएस और एलपीजी में करीब 30 फीसदी का करप्शन काबू में आया है। 55 करोड़ भारतीयों ने बैंक खातों को आधार से जोड़ा है।


कांग्रेसियों ने लगाए '12 साल, हाय-हाय' के नारे, 4 बार स्थगित हुई विधानसभा
Our Correspondent :29 November 2017
भोपाल। मध्य प्रदेश में महिला सुरक्षा और भोपाल गैंगरेप के मुद्दे पर कांग्रेस के जबर्दस्त हंगामे के चलते विधानसभा की कार्यवाही बुधवार को चार बार स्थगित हुई। इतना ही नहीं कांग्रेसियों ने सदन में '12 साल, हाय-हाय' के नारे लगाए। गौरतलब है कि 29 नवंबर को शिवराज सिंह चौहान ने बतौर मुख्यमंत्री अपने 12 साल पूरे किए हैं। -कांग्रेस विधायक प्रदेश में महिलाओं और बच्चियों की सुरक्षा के मुद्दे पर स्थगन प्रस्ताव के माध्यम से चर्चा कराए जाने की मांग पर अड़े हुए थे। सदन की कार्यवाही प्रारंभ होते ही शुरू हुए इस हंगामे के बीच अध्यक्ष डॉ सीतासरन शर्मा को सदन की कार्यवाही दो बार 10-10 मिनट के लिए, एक बार 12 बजे तक और उसके बाद आधे घंटे के लिए स्थगित करनी पड़ी। -अध्यक्ष डॉ शर्मा ने कांग्रेस विधायकों को इस मुद्दे पर किसी न किसी रुप में चर्चा कराए जाने का आश्वासन दिया, लेकिन विपक्षी विधायक स्थगन प्रस्ताव के माध्यम से चर्चा कराए जाने पर अड़े रहे, जिसके चलते लगातार हंगामे के बीच प्रश्नकाल के दौरान मात्र दो प्रश्नों पर चर्चा हो सकी।


बदमाशों का निकालना था जुलूस दोस्तों को देखा तो ऐसे कार में ले गई पुलिस
Our Correspondent :25 November 2017
छतरपुर (भोपाल).शहर के कोतवाली पुलिस ने इनामी आरोपी जफ्फू जाफिर को अरेस्ट किया है। इनामी आरोपी के साथ चार और आरोपियों को अरेस्ट किया गया है। उन्हें पुलिस ने अवैध हथियार रखने के आरोप में अरेस्ट किया है। इसके साथ ही एक नाबालिग भी आरोपी को भी इसी जुर्म में अरेस्ट किया गया है। लेकिन तमाशा तब बन गया जब पुलिस आरोपियों हॉस्पिटल से कोर्ट ले जा रही थी, तभी साथियों की भीड़ देखी तो पुलिस के हाथ पांव फूल गए और आरोपियों को जेल पैदल ले जाने की बजाए गाड़ी से ले गई। ..
सूचना मिलने पर किया अरेस्ट..
- गौरतलब है कि 19 नवंबर को टीकमगढ़ जिले ओरछा थाना क्षेत्र के राय ढाबा पर मुखबिर की सूचना पाते हुए ओरछा थाना प्रभारी डीडी आजाद और नाराई चौकी की पुलिस की मदद से इन इनामी आरोपियों को पकड़ा गया था। सभी बदमाशों को दोपहर में तीन बजे पकड़ा गया था। - मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि पुलिस कार सहित आरोपियों को नाराई चौकी लेकर गई। कुछ ही देर बाद मौके पर पहुंची छतरपुर पुलिस आरोपियों को लेकर आ गई। आरोपी की गिरफ्तारी छतरपुर जिले की कोतवाली पुलिस दिखा रही है। वह भी नौगांव रोड पर गुरुवार की रात करीब 3 बजे दर्शाया गया। पुलिस ने अब इन आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है।
पांच नाबालिक आरोपी भी हथियारों के साथ अरेस्ट..
पुलिस ने बताया कि जिसमें कहा गया है कि पांच हजार रुपए का इनामी आरोपी जफ्फू जाफिर की सूचना मिली थी कि आरोपी अपने 4-5 साथियों के साथ काले कलर की गाड़ी क्रमांक एमपी 16 सी 9047 से नौगांव से छतरपुर की ओर आ रहा है। - पुलिस ने इस बात की सूचना मिलते ही सिटी कोतवाली टीआई केके खनेजा और अन्य स्टाफ के साथ नौगांव रोड स्थित रिलायंस पेट्रोल पंप के पास घेराबंदी कर गाड़ी को रोका, तो गाड़ी में पांच छह लोग बैठे थे। - इनसे पूछताछ की गई, तो एक ने अपना नाम जफ्फू उर्फ जाफिर बताया, दूसरे ने अपना नाम चांद बाबू उर्फ शहीद बताया है। इसके अलावा तीसरे ने अपना नाम छोटू उर्फ इरफान मंसूरी बताया और चौथे ने अपना नाम साजिद उर्फ टीपू बताया। जबकि एक अन्य नाबालिग शामिल था। आरोपियों के पास से जब्त की गई कार जाफिर के भाई जाकिर खान के नाम पर रजिस्टर्ड है।


शिवराज के मंत्री की सफाई, मैंने नाथूराम गोडसे को कभी नहीं कहा महापुरुष
Our Correspondent :22 November 2017
भोपाल।मध्यप्रदेश के मंत्री लाल सिंह आर्य ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि 'मैंने कभी ऐसा वक्तव्य नहीं दिया है'। उन्होंने कथित तौर पर नाथू राम गोडसे को महापुरुष बताया था। जिसको लेकर काफी बवाल भी हुआ था। वह एएनआई से बातचीत कर रहे थे। बता दें कि ग्वालियर में हिंदू महासभा के कार्यालय में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की मूर्ति स्थापित की गई थी। जिसको लेकर खूब बवाल हुआ। इसी बीच बीजेपी के मंत्री लाल सिंह आर्या ने कथित तौर पर यह बयान दिया था। जिससे अब वे इनकार कर रहे हैं। इसी बीच ग्वालियर में हिंदू महासभा के कार्यालय में स्थापित की गई महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की मूर्ति को प्रशासन ने हटा दिया है। महासभा को पहले एडीएम ने नोटिस दिया था। मंगलवार को कार्रवाई के लिए कलेक्टर ने एक घंटे की मोहलत दी, जिसके बाद दफ्तर के दरवाजे पर लगे ताले को तोड़कर प्रशासन ने वहां से मूर्ति हटा दी गई।


सीएम शिवराज का ऐलान, मध्‍य प्रदेश में नहीं दिखाई जाएगी पद्मावती फिल्‍म
Our Correspondent :20 November 2017
भोपाल : संजय लीला भंसाली की फिल्‍म पद्मावती की रिलीज डेट भले ही टल गई हो लेकिन इस फिल्‍म के साथ विवाद खत्‍म होने का नाम नहीं ले रहे हैं. अब मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह ने ऐलान किया है कि मध्‍यप्रदेश में पद्मावती फिल्‍म नहीं दिखाई जाएगी. इस मामले में वकील एमएल शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर इस फिल्म से विवादित दृश्य हटाने के आदेश देने की मांग की है. साथ ही फिल्म के निर्माता निर्देशक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर सीबीआई जांच की मांग की है. इससे पहले राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने केंद्र सरकार को चिट्ठी लिखी थी. वसुंधरा राजे ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को चिट्ठी लिखकर आग्रह किया था कि पद्मावती फिल्म तब तक रिलीज न हो, जब तक इसमें जरूरी बदलाव नहीं कर दिए जाएं, ताकि किसी भी समुदाय की भावनाओं को ठेस न पहुंचे. वहीं करणी सेना के विरोध प्रदर्शन के बीच हाल ही में सेंसर बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन ने भी फिल्म को लेकर आपत्ति जताई. सेंसर बोर्ड ने फिल्म 'पद्मावती' को देखने से फिलहाल इंकार कर दिया. तकनीकी कमियों का हवाला देते हुए बोर्ड ने फिल्म का एप्लिकेशन वापस भेज दिया सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने कहा, "रिव्यू के लिए इसी हफ्ते फिल्म का आवेदन बोर्ड को मिला. मेकर्स ने खुद माना कि एप्लिकेशन अधूरा था. फिल्म काल्पनिक है या ऐतिहासिक इसका डिसक्लेमर तक अंकित नहीं किया गया था. ऐसे में बोर्ड पर प्रक्रिया को टालने का आरोप लगाना सरासर गलत है.


MP: हवाओं का रुख उत्तरी होने से बढ़ सकती है ठंड, अगले 24 घंटों में ऐसा रहेगा मौसम
Our Correspondent :16 November 2017
भोपाल। राज्य में गुरुवार सुबह से मौसम साफ होने के साथ ही धूप खिली रही। इसके साथ ही तापमान में भी इजाफा दर्ज किया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, राज्य में अभी उत्तरी हवाओं का असर कम होने के कारण तापमान में उछाल के साथ ठंड का असर कम हुआ है। -वहीं, मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आगामी 24 घंटों में छिंदवाड़ा, सिवनी आदि स्थानों पर बौछारें पड़ सकती हैं, साथ ही हवाओं का रुख उत्तरी होने से ठंड बढ़ सकती है। -राज्य के तापमान में बदलाव जारी है। गुरुवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 13.4 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का 13.8 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का न्यूनतम तापमान 17.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। -वहीं, बुधवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 29.4 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का 30.9 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का अधिकतम तापमान 29.3 डिग्री सेल्सियस रहा


बहन की डेड बॉडी लिए हाइवे पर बैठा रहा भाई, ऐसे हुई थी मौत
Our Correspondent :14 November 2017
भोपाल।ससुराल पक्ष की मारपीट से अस्पताल में भर्ती बहन आखिरी सांसें ले रही थी और उसका भाई बहन के ससुराल पक्ष के खिलाफ शिकायत करने के लिए थानों के चक्कर काटता रहा। आखिर में बहन ने सोमवार तड़के दम तोड़ दिया, लेकिन तब भी पुलिस ने भाई की शिकायत पर कोई मामला दर्ज नहीं किया। इस पर भाई ने परिजनों के साथ बहन की डेड बॉडी को एम्स तिराहे पर रखकर हंगामा शुरू कर दिया। तीन दिन पहले संदिग्ध परिस्थितियों में ससुराल वालों ने साकेत नगर निवासी 32 वर्षीय रंजीता नीलकंठ को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया। महिला के 23 वर्षीय छोटे भाई सावन ने डायल-100 से लेकर थाने तक फोन किया। डायल-100 मौके पर आई, डॉक्टर से बात की और दूसरे थाने का मामला बताकर चली गई। पीड़ित का भाई हबीबगंज थाने पहुंचा। वहां से पुलिसकर्मी मौके पर गए लेकिन शाहपुरा थाने का मामला कहते हुए वे भी लौट गए। यहां अस्पताल में बहन की बिगड़ती तबियत की सूचना मिलते ही सावन शाहपुरा थाने न जाकर अस्पताल आ गया। - दोपहर को उसने एक बार फिर डायल-100 को कॉल किया। इसके बाद शाहपुरा थाने की एफआरवी से कॉल सावन के पास पहुंचा। उसके घटनाक्रम बताने पर एफआरवी ने मौके का मुआयना तो किया, लेकिन अस्पताल में यह कहते हुए आने से मनाकर दिया कि अस्पताल से सूचना आने पर जाएंगे। जब परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया तो पुलिस मौके पर पहुंची और उन्होंने परिजनों की शिकायत दर्ज की। परिजनों ने 12 नंबर स्टाफ स्थित मल्टी में ससुराल में रंजीता से मारपीट की शिकायत की थी। शार्ट पीएम रिपोर्ट में महिला के शरीर में संदिग्ध जहर पाया गया है।
क्यों रखनी पड़ी एम्स तिराहे पर डेड बॉडी..
- शादी के बाद से ही कर रहे थे परेशान....साकेत नगर निवासी सावन के अनुसार उसकी बहन रंजीता की 15 साल पहले खंडवा निवासी मुकेश नीलकंठ से शादी हुई थी। शादी के बाद से ही उसे परेशान किया जाने लगा था। - गत 15 सितंबर 2017 में उसने बताया कि ससुराल वालों ने उससे मारपीट की है। उसकी सूचना पर डायल-100 ने रंजीता की शिकायत पर कोतवाली थाने में मुकेश समेत अन्य खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। - सावन ने बताया कि उसके बाद हम रंजीता को भोपाल ले आए थे। ठीक होने पर पांच दिन पहले बहन की सास और ननद उसे अपने साथ बारह नंबर स्थित अपने रिश्तेदारों के यहां ले गए। - शाहपुरा पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। सावन ने आरोप लगाए कि डायल-100 पर कॉल करने से शाहपुरा एफअारवी से फोन आया। अस्पताल से सूचना आने पर ही वह अस्पताल आएंगे। - मामले में पहली सूचना मिलने के बाद पुलिस को पीड़िता के बयान लेने चाहिए थे, लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं किया। इसके बाद शाहपुरा पुलिस की डायल-100 ने घटनास्थल पर तो पूछताछ की, लेकिन शिकायतकर्ता से मिलना जरूरी नहीं समझा


12 साल की प्रेग्नेंट बच्ची की कुछ ऐसी है कहानी, फुटपाथ पर गुजारी हैं कई रातें
Our Correspondent :11 November 2017
भोपाल (मध्यप्रदेश) . राजधानी के सरकारी हॉस्पिटल में एडमिट 12 साल की प्रेग्नेंट बच्ची के पिता और उसके साथ ज्यादती करने वाले आरोपियों का पता नहीं चल पाया है। वहीं बच्ची की बड़ी बहन शुक्रवार को भोपाल आई थी। बड़ी बहन से बात की तो उसने बच्ची का नाम छुटकी बताया। बड़ी बहन के मुताबिक, बचपन से ही वे दर-बदर भटक रहे हैं। कई महीनों से भोपाल रेलवे स्टेशन के आसपास ही रह रही थी। छुटकी चार भाई-बहनों में सबसे छोटी है। छुटकी का परिवार जबलपुर का रहने वाला है।
अभी भी पुलिस कर रही आरोपियों की तलाश,..
- पुलिस अभी तक इस मामले में आरोपियों की तलाश कर रही है। लेकिन अब तक कोई बड़ी सफलता नहीं मिली है। - पुलिस गुरुवार-शुक्रवार की रात भी उनकी तलाश करती रही , लेकिन अब तक किसी का पता नहीं चल पाया है। - पुलिस को इस मामले में अब भी सलमान भेड़ा, राजेश टकला और मनीष की तलाश है। पुलिस को तो यह भी नहीं मालूम की आरोपी बालिग हैं या नाबालिग।
बच्ची ने गलत पता बताया..
- डीएसपी के मुताबिक, बच्ची से ज्यादा पूछताछ नहीं हो पाई है। उसने जबलपुर का पता बताया था, लेकिन वहां कोई नहीं मिला। - अब हम फिर से तलाश कर रहे हैं। मामला जांच में होने के कारण ज्यादा कुछ नहीं बता सकता। 11 महीने में चाइल्ड लाइन को मिले 294 बच्चे, छुटकी पर नजर नहीं पड़ी - दिसंबर 2016 से रेलवे चाइल्ड लाइन ने 11 महीने में 294 बच्चों को आश्रय दिलवाया, लेकिन गैंगरेप की शिकार बच्ची पर कभी किसी की नजर नहीं गई है। - वह छह महीने से यहां रह रही थी। ये बात खुद बच्ची और आरोपी सलमान ने पुलिस को पूछताछ में बताया। - चाइल्ड लाइन के हाथ लगे बच्चों में करीब 60 परसेंट 12 साल से लेकर 16 साल तक की उम्र के हैं।
21 बच्चों के नहीं मिले माता-पिता.
- चाइल्ड लाइन ने रेलवे स्टेशन के आसपास अक्टूबर 2017 तक 11 महीने में 294 बच्चों को रेस्क्यू किए गए। यह सभी 18 साल तक के हैं। - इसमें से 83 बच्चियों और 190 बालकों को उनके परिवार को सौंपा गया, जबकि 21 बच्चों के अब तक माता-पिता और परिवार का पता नहीं चल सका। - 9 बच्चियों को बालिका गृह को सौंपा, जबकि 12 लड़कों को उम्मीद और लोक उत्थान संस्था को दिया गया। - मार्च 2017 के बाद उम्मीद संस्था ने बच्चों को रखना बंद कर दिया। अब सिर्फ उत्थान संस्था के पास ही बालकों को भेजता है।


गैंगरेपः डॉक्टर ने कहा-सहमति से बने थे संबंध, हंगामे के बाद गायब की मेडिकल रिपोर्ट
Our Correspondent :9 November 2017
भोपाल। भोपाल गैंगरेप मामले में पुलिस के बाद अब डॉक्टर्स की लापरवाही भी सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रारंभिक मेडिकल रिपोर्ट में डॉक्टर्स ने ये लिखा है कि, 'छात्रा के साथ गैंगरेप नहीं हुआ है, जबकि छात्रा की सहमति के बाद संबंध बनाए गए थे।' मामला मीडिया में आते ही डॉक्टर्स ने पहली रिपोर्ट गायब कर दी और दोबारा जांच की, जिसमें गैंगरेप का मामला उजागर हुआ है।
है भोपाल गैंगरेप केस ?..
- घटना 31 अक्टूबर शाम की है। कोचिंग सेंटर से लौट रही 19 साल की लड़की को चार बदमाशों ने स्टेशन के पास रोका। झाड़ियों में ले जाकर उसके साथ गैंगरेप किया। घटनास्थल से आरपीएफ चौकी (रेलवे पुलिस फोर्स) सिर्फ 100 मीटर दूर है। - आरोपियों ने विक्टिम का मोबाइल फोन और कुछ जूलरी भी लूटी। पुलिस के मुताबिक, आरोपियों को लगा कि लड़की की मौत हो गई है तो वो उसे छोड़कर भाग गए। होश आने पर विक्टिम आरपीएफ थाने पहुंची। वहां से उसने पिता को घटना के बारे में जानकारी दी। उसके पिता आरपीएफ में एएसआई हैं। - पुलिस कार्रवाई में लापरवाही बरतने पर तीन थानों के प्रभारी, दो सब इंस्पेक्टर सस्पेंड हो चुके हैं। भोपाल के एक सीएसपी, जीआरपी एसपी और भोपाल आईजी को हटाया गया है।


8 नवम्बर कालाधन मुक्ति दिवस पर भाजपा जिला जश्न मनायेगा नोटबंदी के सफलतम 1 वर्ष पूर्ण होने पर निकालेगा मशाल जुलुस
Our Correspondent :8 November 2017
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी, जिला भोपाल की बैठक आज विधायक एवं जिला अध्यक्ष श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह के निवास डी-23, 74 बंगला पर संपन्न हुई, बैठक की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष, विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह ने बताया कि नोटबंदी के सफलतम 1 वर्ष पूर्ण होने पर 8 नवम्बर कालाधन मुक्ति दिवस पर सभी 19 मंडलों में शाम को 6 बजे विभिन्न स्थानों से मशाल जुलुस निकालकर जश्न मनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि 8 नवम्बर को कालेधन के सृजन और प्रचलन को रोकने के लिए किये गये प्रयासों और इसके नतीजों की जानकारी जनता को दी जायेगी। उन्होंने बताया कि 8 नवम्बर को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का साहसिक निर्णय लेकर कालेधन पर अंकुश लगाया साथ ही अपराध, नक्सलवाद और आतंकवाद पर कुठाराघात किया। उन्होंने बताया कि भाजपा जिला भोपाल इंद्रपुरी चैराहे पर मसाल जुलुस निकालकर नोटबंदी की 1 वर्ष की उपलब्धियां व सफलताओं को जनता के बीच में रखेंगे। इस अवसर पर बैठक में नगरनिगम अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह चैहान, महामंत्री श्री अनिल अग्रवाल, श्री विकास विरानी, श्री अशोक सैनी, श्री केवल मिश्रा, श्री आरके बघेल, श्री सुमित पचैरी, श्रीमती मालती राय, श्री राजेन्द्र गुप्ता, श्री सतीश विश्वकर्मा, श्री पप्पू विलास, श्री जगदीश यादव, श्री रविन्द्र यति, श्री मनोज विश्वकर्मा, श्री दिनेश यादव, श्री किशन सूर्यवंशी, श्री नित्यानंद शर्मा, श्री मनोज विश्वकर्मा सहित समस्त मंडल अध्यक्ष, महामंत्री, जिला के पदाधिकारी, मोर्चा प्रकोष्ठ के पदाधिकारी, पार्षद, एल्डरमेन, बूथ अध्यक्ष उपस्थित थे। उक्त आशय की जानकारी जिला मीडिया प्रभारी राजेन्द्र गुप्ता ने दी।


IPS बनकर सिस्टम सुधारूंगी, ताकि किसी के साथ ऐसा न हो: भोपाल गैंगरेप विक्टिम
Our Correspondent :6 November 2017
भोपाल.मध्य प्रदेश की राजधानी में 6 दिन पहले गैंगरेप का शिकार हुई लड़की आईपीएस अफसर बनकर समाज और सिस्टम से बुराइयों को खत्म करना चाहती है। ''मैं जिंदगी को एक और मौका दूंगी। आईपीएस बनकर महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों को खत्म करूंगी। ताकि जो कुछ मैंने झेला, वह किसी लड़की के साथ न हो।'' बता दें कि 31 अक्टूबर को हबीबगंज रेलवे स्टेशन के पास 19 साल की स्टूडेंट से गैंगरेप हुआ था। तब वह सिविल सर्विसेस की कोचिंग क्लास से लौट रही थी। पुलिस ने 24 घंटे बाद रिपोर्ट दर्ज की थी। तीन आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं, जबकि चौथा पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। पुराने ढर्रे पर चल रही है पुलिस... - विक्टिम ने कहा, ''समाज और सिस्टम में सुधार लाना चाहती हूं, ताकि मेरे जैसा बर्ताब किसी और के साथ न हो। भारतीय पुलिस सेवा में शामिल होकर महिलाओं के खिलाफ हो रहे क्राइम को खत्म करना चाहती हूं, इसके लिए मुझे जो भी करना पड़ेगा, मैं करूंगी।'' - ''अफसर बनकर पहले समाज और सिस्टम में सुधार लाने की कोशिश करूंगी, ताकि लोग क्राइम होता देखने की बजाय उसे रोकने के लिए सामने आएं। साथ ही सालों से पुराने ढर्रे पर चल रहे पुलिस डिपार्टमेंट में सुधार लाने के लिए काम करूंगी। पुलिस को हर वक्त अलर्ट रहने की जरूरत है।''
इतने सवालों के जवाब देते-देते थक गई हूं: गैंगरेप विक्टिम..
- विक्टिम ने रविवार को कहा था, "चार दिन हो गए, मैं पेरेंट्स के साथ भटक रही हूं। कभी बयान के लिए थाने तो कभी जांच के लिए हॉस्पिटल। पहले दिन एफआईआर दर्ज कराने के लिए भटकते रहे, दूसरे दिन पुलिस ने बयान दर्ज कराने के लिए दिनभर थाने में बिठाकर रखा था। तीसरे दिन मेडिकल और चौथे दिन सोनोग्राफी के लिए बुलाया गया।'' - ''हर बार वही सवाल और वही जगह मेरे सामने बार-बार आ रही हैं। ‘क्या हुआ था? कहां हुआ था? कितने लोग थे? कैसे दिखते थे? क्या बोल रहे थे?' सवाल इतने कि जवाब देते-देते गले से आवाज निकलना बंद हो जाती, लेकिन उनके सवाल खत्म नहीं होते। सिस्टम और पुलिस के खिलाफ अफसोस नहीं, बल्कि गुस्सा है।'' - "हादसे के दिन जीआरपी एसपी अनिता मालवीय महिला होते हुए भी मजे लेती रहीं। वह मेरी कहानी सुनकर हंसती हैं, तो इंसाफ की उम्मीद कहां रह जाती है। पोस्ट पर तो छोड़ो वे पुलिस की वर्दी पहनने लायक तक नहीं हैं। मेरी इस लड़ाई में मेरे माता-पिता हर दम मेरे साथ हैं। उन्होंने मुझे संभाला और आरोपियों के खिलाफ लड़ने की हिम्मत दी।''
ऐसी घटनाओं में सभी माता-पिता सपोर्ट करें...
- लड़की ने आगे कहा, ''उन दरिंदों के साथ रहम नहीं होना चाहिए। मैं गिड़गिड़ा रही थी। वे हंस रहे थे। सभी दरिंदों को बीच चौराहे पर फांसी दे देनी चाहिए। मेरी एक ही अपील है कि इस तरह की वारदात के बाद परिजनों को विक्टिम का साथ देते हुए आवाज उठाना चाहिए। मेरे पेरेंट्स दोनों पुलिस में हैं। अगर हमारे साथ ऐसा हुआ, तो सोचिए बाकी लोगों का क्या होता होगा।" - "जब एफआईआर दर्ज कराने गए तो हबीबगंज पुलिस ने हमारी थोड़ी मदद की, लेकिन एमपी नगर और जीआरपी पुलिस ने कोई मदद नहीं की। जब हम आरोपी को पकड़ने गए तो बस्ती के लोगों ने हम पर अटैक कर दिया था, लेकिन पापा ने उस आरोपी को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया।" (विक्टिम की पूरी आपबीती के लिए क्लिक करें...)
भोपाल आईजी समेत 10 आईपीएस बदले..
- गैंगरेप के 4 दिन बाद शिवराज सरकार ने भोपाल रेंज के आईजी योगेश चौधरी और जीआरपी, एसपी अनिता मालवीय को हटा दिया। इसी के साथ रविवार को छुट्टी के दिन सरकार ने 10 आईपीएस अफसरों को इधर से उधर कर दिया। - चौधरी करीब चार साल (फरवरी 2014 से अभी तक) भोपाल के आईजी रहे। जिस घटना को आधार बनाकर यह कार्रवाई की गई है, उस पर सवाल खड़े हो रहे हैं कि भोपाल से हटाकर चौधरी को प्रदेश की कानून व्यवस्था और सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है। अब वे पुलिस हेडक्वार्टर में आईजी लॉ एंड ऑर्डर बनाए गए हैं।
क्या है भोपाल गैंगरेप केस?...
- घटना 31 अक्टूबर शाम की है। कोचिंग सेंटर से लौट रही 19 साल की लड़की को चार बदमाशों ने स्टेशन के पास रोका। उसके साथ झाड़ियों में ले जाकर गैंगरेप किया। घटना स्थल से आरपीएफ चौकी (रेलवे पुलिस फोर्स) सिर्फ 100 मीटर दूर है। - आरोपियों ने विक्टिम का मोबाइल फोन और कुछ जूलरी भी लूटी। पुलिस के मुताबिक, आरोपियों को लगा कि लड़की की मौत हो गई है तो वो उसे छोड़कर भाग गए। होश आने पर विक्टिम आरपीएफ थाने पहुंची। वहां से उसने पिता को घटना के बारे में जानकारी दी। उसके पिता आरपीएफ में ही हैं। - पुलिस कार्रवाई में लापरवाही बरतने पर तीन थानों के प्रभारी, दो सब इंस्पेक्टर सस्पेंड हो चुके हैं। भोपाल के एक सीएसपी, जीआरपी एसपी और भोपाल आईजी को हटाया गया।
3 आरोपी गिरफ्तार, एक फरार
- गोलू उर्फ बिहारी (25), अमर उर्फ गुल्टू (25) और राजेश उर्फ चेतराम (50) को गिरफ्तार कर लिया गया है। चौथा आरोपी रमेश उर्फ राजू अभी फरार है।


भोपाल में कोचिंग क्लास से लौटते वक़्त 19 साल की छात्रा से गैंगरेप
Our Correspondent :3 November 2017
भोपाल में कोचिंग क्लास से लौटते वक़्त 19 साल की छात्रा से गैंगरेप की खबर है. पुलिस ने गैंगरेप के चार आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया है. पुलिस के मुताबिक़ हबीबगंज रेलवे स्टेशन के पास चार लोगों ने लड़की को अगवा कर लिया. फिर एक पुलिया के नीचे ले गए और लड़की के साथ गैंगरेप किया. बाद में लड़की को मरा हुआ समझ कर चारों मौक़े से फ़रार हो गए. हालांकि पुलिस ने चारों को अपनी गिरफ़्त में ले लिया है. भोपाल के हबीबगंज आरपीएफ चौकी से महज 100 मीटर दूर आरोपियों ने एक छात्रा के साथ कथित तौर पर गैंगरेप किया. पीड़ित के परिजनों का आरोप है कि उन्हें एफआईआर दर्ज कराने के लिये कई घंटे तक पुलिसवालों ने चक्कर लगवाया. फिलहाल इस मामले में एक इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया है. चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है जिसमें एक पर पहले से कई आपराधिक मामले दर्ज हैं.


श्रेया की रिक्वेस्ट ठुकरा नहीं पाए शिवराज, कहा- सीएम हूं इसलिए झेल रहे हैं लोग
Our Correspondent :2 November 2017
भोपाल। मध्य प्रदेश के 62वें स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रमों में गायिका श्रेया घोषाल ने एक से बढ़कर एक फिल्मी गाने सुनाकर भोपालियों का दिल जीत लिया। श्रेया के पहले गाने के बाद सीएम ने मंच पर उनका सम्मान किया। इस बीच एंकर ने श्रेया को बताया कि, 'श्रेया जी आपको ये जानकार हैरानी होगी कि हमारे सीएम भी बहुत अच्छा गा लेते हैं।' इस बात पर हैरानी जाहिर करते हुए श्रेया ने कहा कि, अगर ऐसा है तो आज सीएम साहब को एक गाना गाना ही पड़ेगा। -श्रेया की डिमांड पर सीएम ने कहा कि, भाषण दे-दे कर मेरा गला खराब हो गया है। आज गाने की स्थिति में नहीं हूं। वैसे भी जनता आपको सुनना चाहती हैं, मैं इनका सीएम हूं इसलिए मेरा गाना झेल लेती है। -मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पहले तो गला खराब होने का बहाना बनाया, लेकिन लाेग चिल्लाने लगे और बार-बार गाने की आवाज लगाने तो उन्होंने अपना पसंदीदा गाना, ' नदिया चले, चले रे धारा, चंदा चले, चले रे तारा, तुझको चलना होगा...'' गाना गाकर सभी का दिल जीत लिया। उनके साथ श्रेया घोषाल ने भी सुर में सुर मिलाया। वहीं, दर्शकों के बीच बैठीं सीएम की पत्नी साधना सिंह ने गाना खत्म होते ही जमकर तालियां बजाई। - यह पहला मौका नहीं है जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसी मंच पर गाना गाया हो, इससे पहले भी वे कई मौके पर गाना गा चुके हैं। शिवराज सरकार के मंत्रिमंडल में कई मंत्री ऐसे हैं, जो आज भी कई मंचों पर गाना गाते दिख जाएंगे। महू से विधायक और भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय गाना गाकर काफी मशहूर हुए हैं। उनके निवास पर होने वाले हर कार्यक्रम में वह स्वयं गाना गाते हैं। मुख्यमंत्री भी हमेशा जनता की फरमाइश पर अपने पसंदीदा गीतों को गुनगुना देते हैं। - समारोह में प्रसिद्ध कवि व एंकर शैलेष लोढ़ा ने हास्य रचनाओं से सुनने वालों को खूब हंसाया। शैलेश ने अपने व्यंग्य से अमेरिका पर भी कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि इस समय अमेरिका की हर जगह चर्चा हो रही है क्योंकि हमारे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हाल ही में अमेरिका की यात्रा कर लौटे हैं और उन्होंने जो अमेरिका में बयान दिया है , उसकी पूरी दुनिया में इस समय चर्चा की जा रही है और होना भी चाहिए। यदि हमने अमेरिका को सच दिखा दिया तो इसमें गलत क्या है। शैलेश के हास्य व्यंग्यों से खूब हंसाया। उन्होंने भोपाल पहुंचकर भोपालियों की बखूबी नकल भी की। जिस समय शैलेश भोपालियों की नकल उतार रहे थे, उस समय मुख्यमंत्री और उनकी पत्नी साधना सिंह भी हंस हंस के लोट पोट हो रहे थे।


किसानों को लेकर सीएम ने मीटिंग, इधर हुई तोड़फोड़ और पत्थरबाजी'
Our Correspondent :31 October 2017
भोपाल.गैर पंजीकृत किसानों को भी भावांतर भुगतान योजना में शामिल किया जा सकता है। सरकार इसके लिए विकल्प तलाश कर रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कलेक्टरों के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के बाद इस बात के संकेत दिए। उन्होंने कहा कि भावांतर योजना के तहत हर किसान को फसल का उचित दाम मिले। यह मेरा टास्क है। उन्होंने कहा कि पायलेट प्रोजेक्ट के तहत योजना लागू की गई है। यदि कोई कमी होती है इसे दूर किया जाएगा। यह योजना मप्र के बाद पूरे देश में लागू होगी। इससे पहले सुबह मंत्रिमंडल की अनौपचारिक बैठक में कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा कि उड़द के दाम बहुत गिर गए हैं। इसे योजना से बाहर कर समर्थन मूल्य में उड़द की खरीदी की जाए। लेकिन वित्त मंत्री जयंत मलैया ने योजना का समर्थन करते हुए कहा कि योजना किसान हितैषी है। इसको कड़ाई से लागू करने की जरूरत है। शेष | पेज 17 पर ऊर्जा मंत्री पारस जैन ने कहा कि मेरे पास शिकायत आ रही है कि व्यापारी नगद भुगतान नहीं कर रहे हैं। महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस ने कहा कि मंडियों में बहुत भीड़ हो रही है। टोकन सिस्टम लागू किया जाना चाहिए। इसके बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी मंत्री प्रभार वाले जिलों से फीडबैक लेकर बताएं कि योजना में कहां दिक्कत आ रही है। इसे लागू रखा जाए या फिर इसमें कोई बदलाव की जरूरत है। उन्होंने मुख्य सचिव बीपी सिंह को निर्देश दिए कि आज शाम को ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कलेक्टरों से बात करुंगा। सांसद अनूप मिश्रा ने कृषि विभाग के प्रमुख सचिव डा. राजेश राजौरा को लिखा पत्र मंत्रालय में बैठकर बनाई है योजना, तय करें- मंडियों में आप जाएंगे या मैं जाऊं प्रदेश के पूर्व मंत्री और भाजपा सांसद अनूप मिश्रा ने कृषि विभाग के प्रमुख सचिव राजेश राजौरा को पत्र लिखकर कहा है कि भावांतर योजना के क्रियान्वयन में ऐसा नहीं दिख रहा है कि यह शिवराज सरकार का किसान हितैषी निर्णय है। जिस तरह इस योजना को लागू किया गया है, उससे किसान अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहा है। यह योजना वल्लभ भवन में बैठ कर बनाई गई है। अब आप मंडियों में पहुंचकर फीडबैक लें। किसानों और व्यापारियों के बीच बैठकर चर्चा करें या फिर मैं मंडियों में जाऊं, यह आपको तय करना है। अन्यथा आपका विभाग मुख्यमंत्री की छवि को गंभीर क्षति पहुंचा सकता है जो मुझे मंजूर नहीं होगा।
मध्यप्रदेश के बाद पूरे देश में योजना लागू करने पर हो रहा विचार...

योजना पर इसलिए उठ रहे हैं सवाल...
ग्राम सभाओं में किसानों को बताया गया था कि व्यापारी को बेची गई फसल और एमएसपी के बीच का अंतर सरकार देगी। जबकि ऐसा नहीं है। सरकार एमएसपी और माडल प्राइज के अंतर की राशि किसानों के खाते में ट्रांसफर करेगी।
10 हजार से ज्यादा नकद नहीं, आधे दाम में खरीदी...
- मुख्यमंत्री ने कहा था कि किसानों को 50 हजार रुपए नकद दिए जाएंगे। लेकिन व्यापारी आयकर विभाग की गाइड लाइन का हवाला देकर 10 हजार रुपए से ज्यादा नहीं दे रहे हैं। - व्यापारी किसानों से फसल, खासकर उड़द एमएसपी से अाधे दाम में खरीद रहे हैं। राज्य में उड़द औसत भाव 2500 रुपए है, जबकि एमएसपी 5400 रुपए प्रति क्विंटल तय किया गया है।
...और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में कलेक्टरों ने बताई दिक्कत..
- जबलपुर में अन्य जिलों से उड़द आ रही है। इसलिए दाम गिर रहे हैं। -महेश चंद्र चौधरी, जबलपुर कलेक्टर - सीएम ने कहा-आसपास के जिलों के कलेक्टर से बात करें और समाधान निकालें। - मंदसौर जिले की मंडी में कर्मचारियों की कमी है। -ओपी श्रीवास्तव, मंदसौर कलेक्टर - सीएम ने कहा- 3 माह के लिए कर्मचारियों की व्यवस्था आउटसोर्स से करें। - आगर मालवा में असमाजिक तत्व मंडियों में माहौल बिगाड़ रहे हैं। अजय गुप्ता, आगर मालवा कलेक्टर - सीएम ने कहा- ऐसे लोगों से सख्ती से निपटा जाए।
आगर मालवा मंडी में किसानों ने की तोड़फोड़, पत्थरबाजी; तहसीलदार घायल..
किसानों ने सोमवार को मंडी में जमकर तोड़फोड़ व पत्थरबाजी की। पत्थर लगने से तहसीलदार मुकेश सोनी व कुछ पुलिसकर्मी घायल हो गए। किसानों ने पौन घंटे तक किसानों ने जमकर उत्पात मचाया। मंडी गेट पर बने चेक पोस्ट पर लगे कांच, माइक व लाउड स्पीकर और 6 तौल कांटे भी तोड़ दिए। पुलिस ने हालत पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। 12 लोगों को थाने लाया गया है। किसानों का कहना था कि प्रदेश की अन्य मंडियों में सोयाबीन 2500-2600 रुपए प्रति क्विंटल बिक रही है, जबकि यहां व्यापारी 2100-2200 के भाव में सोयाबीन खरीद रहे हैं।


पेंशनर्स के लिए खुशखबरी: अब ग्रेच्युटी 10 लाख से बढ़ाकर 20 लाख रुपए की'
Our Correspondent :28 October 2017
भोपाल.राज्य सरकार ने 1 जनवरी 2016 के बाद शासकीय सेवा से रिटायर हुए पेंशनर्स की ग्रेच्युटी की राशि 10 लाख से बढ़ाकर 20 लाख रुपए कर दी है। इसी तरह अब न्यूनतम पेंशन की राशि 7750 रुपए होगी। अभी तक यह 3050 रुपए थी। इस संबंध में वित्त विभाग ने शुक्रवार को आदेश (सातवां वेतनमान) जारी कर दिए। इन पेंशनर्स को 1 जनवरी 2016 से 31 अगस्त 2017 के बीच के एरियर्स की राशि का भुगतान एकमुश्त किया जाएगा।
महंगाई राहत की राशि 4% ...
- पेंशनर्स को 1 जनवरी 2017 से 4% महंगाई राहत राशि का लाभ दिया जाएगा। यह राहत रिटायरमेंट के दौरान फिक्स पेंशन पर मिलेगी। - सरकार ने 1 जनवरी 2016 के पहले रिटायर हुए लगभग 3.50 लाख पेंशनर को सातवां वेतनमान दिए जाने के बारे में अब तक कोई निर्णय नहीं लिया है। - उन्हें यह लाभ दिया जाएगा। इस बारे में सिर्फ सैद्धांतिक सहमति ही जताई है।


अब ड्राइविंग लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन कार्ड बनते ही आएंग वाट्सएप पर'
Our Correspondent :26 October 2017
भोपाल .अब वाहन चैकिंग के दौरान आप परिवहन विभाग द्वारा वाट्स एप पर भेजे गए ड्राइविंग लाइसेंस दिखा सकेंगे। नए वाहन का रजिस्ट्रेशन नंबर भी आवेदक के वाट्स एप पर भेज दिया जाएगा, यह भी पुलिस चैकिंग के दौरान वैध माना जाएगा। जैसे ही आरटीओ में ड्राइविंग लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन कार्ड बनकर कम्प्यूटर पर स्कैन होगा, वैसे ही वह संबंधित आवेदक द्वारा दर्ज किए गए मोबाइल पर वाट्स एप के जरिए भेज दिया जाएगा। - दोनों व्यवस्थाएं 15 नवंबर से लागू की जा रही हैं। ट्रांसपोर्ट कमिश्नर डॉ. शैलेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि चैकिंग के दौरान ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वाले और गाड़ी खरीदार को समस्या न हो, इसके लिए नई व्यवस्था लागू की जा रही है। - अक्सर ड्राइविंग लाइसेंस और नए वाहन का रजिस्ट्रेशन डाक व्यवस्था के कारण देरी से आवेदकों तक पहुंचते हैं। इस अवधि में ट्रैफिक पुलिस की चैकिंग के दौरान आवेदकों को बिना लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन वाला मानकर जुर्माना तक देना पड़ता है। यह जुर्माना 300 से लेकर एक हजार रुपए तक होता है।
एक-एक साल तक आवेदकों के घर नहीं पहुंचते हैं रजिस्ट्रेशन
- आरटीओ भोपाल में आए दिन ऐसे आवेदक पहुंचते हैं, जिनमें से किसी का ड्राइविंग लाइसेंस तो किसी के वाहन का रजिस्ट्रेशन एक-एक साल की अवधि बीतने के बाद भी उनके घरों तक नहीं पहुंचे हैं। ऐसे आवेदकों को नई व्यवस्था लागू होने के बाद काफी सहूलियत होने लगेगी। ऐसे कुछ आवेदकों के तो ट्रैफिक पुलिस दो से तीन बार तक चालान तक बना चुकी है।
फीडबैक लेने के बाद किया जा रहा बदलाव
- गृह व परिवहन मंत्री भूपेंद्र सिंह के अनुसार सैकड़ों की संख्या में ऐसे आवेदकों का फीडबैक मिला है, जिनके ड्राइविंग लाइसेंस देरी से घर पहुंचते हैं। इसी को देखते हुए सोशल मीडिया का उपयोग करते हुए आवेदकों को उनके लाइसेंस बनते ही कॉपी पहुंचा दी जाएगी। चूंकि कॉपी रंगीन होगी और उस पर दिए गए नंबर से आवेदक का डाटा लिया जा सकेगा। इसलिए पुलिस भी उसे मान्य करेगी।
फीडबैक लेने के बाद किया जा रहा बदलाव..
- गृह व परिवहन मंत्री भूपेंद्र सिंह के अनुसार सैकड़ों की संख्या में ऐसे आवेदकों का फीडबैक मिला है, जिनके ड्राइविंग लाइसेंस देरी से घर पहुंचते हैं। इसी को देखते हुए सोशल मीडिया का उपयोग करते हुए आवेदकों को उनके लाइसेंस बनते ही कॉपी पहुंचा दी जाएगी। चूंकि कॉपी रंगीन होगी और उस पर दिए गए नंबर से आवेदक का डाटा लिया जा सकेगा। इसलिए पुलिस भी उसे मान्य करेगी


रात के तापमान में आई गिरावट, इस वजह से बदल सकता है MP का मौसम'
Our Correspondent :23 October 2017
भोपाल। राज्य में सोमवार की सुबह हल्की ठंड का असर रहा, लेकिन दिन बढ़ने के साथ मौसम साफ होने से धूप की चुभन भी बनी हुई है। रात के तापमान में गिरावट आई है व दिन का तापमान उछला है। -मौसम विभाग के मुताबिक, हवाओं का रुख पूर्वी-उत्तरी पूर्वी होने का कारण ऐसा हुआ है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आने वाले दिनों में हवाओं का रुख बदलकर उत्तरी हो सकता है। आगामी 24 घंटों में राज्य के अधिकांश हिस्सों का मौसम शुष्क रह सकता है। -सोमवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 16.6 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 18.4 डिग्री, ग्वालियर का 19 डिग्री और जबलपुर का 23.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। -वहीं, भोपाल का अधिकतम तापमान 35.2 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 33.6 डिग्री, ग्वालियर का 37.4 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का 35़ 1 डिग्री सेल्सियस रहा।
इस वजह से बदल सकता है मौसमसले...
मौसम विशेषज्ञ डीपी दुबे ने बताया कि हवा का रुख अभी पूर्वी एवं उत्तरी पूर्वी है। मंगलवार शाम से यह बदलकर उत्तरी हो सकता है। इस वजह से रात के तापमान में गिरावट होने का अनुमान है। हवा का रुख उत्तरी होने के बावजूद एक हफ्ते तक ठंड के आसार कम ही हैं। अभी कुछ दिन तक दिन और रात का तापमान सामान्य से ज्यादा ही बना रह सकता है। रात का तापमान भी अभी 1- 2 डिग्री ही कम होने का अनुमान है। ऐसा हुआ भी तो यह सामान्य से ज्यादा ही रहेगा। हालांकि पांच दिन पहले रात का तापमान 17 डिग्री तक पहुंच गया था। शुक्रवार की रात तो यह सामान्य से 6 डिग्री अधिक हो गया था।


कैबिनेट बैठकः अतिथि शिक्षकों को सरकार का तोहफा, जल्द किए जाएंगे नियमित'
Our Correspondent :17 October 2017
भोपाल। मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में कई अहम फैसले लिए गए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रालय में हुई इस बैठक में सरकार ने अतिथि शिक्षकों को नियमित करने का फैसला लिया है। सरकार के फैसले के तहत संविदा शिक्षकों की भर्ती में अतिथि विद्वानों को 25 प्रतिशत हिस्सेदारी दी जाएगी। इसके साथ ही अतिथि शिक्षकों को 9 साल की आयु में छूट भी दी जाएगी। इसका लाभ 3 सालों से अधिक पढ़ाने वाले अतिथि शिक्षकों को मिलेगा। ..
कैबिनेट के अहम फैसले...
-जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कैबिनेट की बैठक में तय किया गया कि 14 समूहों का प्रस्तुतीकरण अब 29 अक्टूबर को होगा। ये 17 अक्टूबर को होना था। सरकार ने जल संसाधन विभाग की 225 लघु सिंचाई योजनाओं के लिए 180 करोड़ रुपए की मंजूरी दी। इस राशि से नहर बांध तालाब इन का सुदृढ़ीकरण किया जाएगा। -सरकार ने 15000 मीट्रिक टन मूंग औसत गवत्या से कम की खरीदी थी, इसमें से समितियों ने कुछ मूंग को अपग्रेड कर भी लिया है। - इसके अलावा रजिस्टार फर्म्स एंड सोसाइटी में 6 चौकीदार 6 फर्राश के पदों को निरंतर रखने का फैसला किया है। -इसके साथ ही सरकार ने तय किया है कि गर्मी की फसलों की खरीदी का भुगतान दीपावली से पहले किया जाएगा। इसके लिए सरकार ने अधिकारियों को निर्देश दे दिए है।


MP में भी पेट्रोल और डीजल सस्ता, VAT घटाने वाला देश का पांचवां राज्य बना'
Our Correspondent :13 October 2017
भोपाल.मध्यप्रदेश ने पेट्रोल पर 3% और डीजल पर 5% तक VAT (वैल्यु एडेड टैक्स) घटा दिया है। इस फैसले के बाद राज्य में पेट्रोल 77.13 रुपए में और डीजल 59.37 रुपए में मिलेगा। नए रेट्स शुक्रवार रात से लागू हो जाएंगे। बता दें कि मध्यप्रदेश ऐसा करने वाला देश का एनडीए शासित चौथा राज्य बन गया है। इससे पहले महाराष्ट्र, गुजरात और उत्तराखंड ने VAT घटाने का फैसला लिया था। वहीं, कांग्रेस शासित हिमाचल में भी कम किया गया है। बता दें कि देश के 29 राज्यों में से 17 में एनडीए का शासन है।
पेट्रोल 1.70 रुपए और डीजल 4 रुपए सस्ता हुआ...
- मध्यप्रदेश सरकार की कैबिनेट मीटिंग में गुरुवार को यह फैसला लिया गया। वित्त मंत्री जयंत मलैया ने कहा कि सरकार के इस फैसले के बाद पेट्रोल 1.70 रुपए और डीजल 4 रुपए सस्ता हो जाएगा। बता दें कि केंद्र सरकार ने पिछले दिनों राज्यों से 5% तक VAT घटाने की अपील की थी। - मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तराखंड, हिमाचल और गुजरात के बाद अब दूसरे राज्यों पर पेट्रोल और डीजल VAT घटाने का दवाब बढ़ गया है।
राज्य की सीमा के पेट्रोल पंप मालिकों को राहत..
- सरकार के इस फैसले से महाराष्ट्र और गुजरात राज्य की सीमा के पेट्रोल पंंप मालिकों ने राहत की सांस ली है। इन राज्यों में पेट्रोल सस्ता होने से इनकी ग्राहकी पर असर पड़ रहा था। - वित्त मंत्री ने कहा- "पेट्रोल और डीजल पर पांच फीसदी वैट कम करना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विचार हो रहा है कि किस फार्मूले से कम किया जाए, ताकि राजस्व का नुकसान कम से कम हो।
महाराष्ट्र और गुजरात में कितना घटा VAT..
-गुजरात सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर लगने वाला टैक्स (VAT) 4% घटाया। चुनाव से पहले सरकार के इस फैसले से राज्य में पेट्रोल 2.93 रुपए और डीजल 2.72 रुपए सस्ता हो गया है। - वहीं, महाराष्ट्र सरकार ने भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में क्रमशः 2 रुपए और 1 रुपए की कमी का फैसला किया।
एक कांग्रेस शासित राज्य में भी वैट घटा..
- कांग्रेस शासित हिमाचल प्रदेश ने भी कुछ दिन पहले पेट्रोल और डीजल पर 1% वैट घटाने का फैसला लिया था। हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा था कि फैसले से जनता को राहत मिलेगी।
देश में 17 राज्यों में है एनडीए का राज...
- देश में कुल 29 राज्य हैं। इसमें से 17 राज्यों में एनडीए की सरकार है। ये हैं: महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, गुजरात, आंध्रप्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, हरियाणा, छत्तीसगढ़, झारखंड, असम, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, मणिपुर, गोवा, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश और बिहार।
मोदी सरकार ने पहली बार घटाई थी एक्साइज ड्यूटी..
- पेट्रोल-डीजल की कीमतें तीन महीने से बढ़ रही थीं। 2014 में सत्ता में आने के बाद मोदी सरकार ने पहली बार 3 अक्टूबर को एक्साइज ड्यूटी में कमी की थी। इसकी वजह से पेट्रोल और डीजल 2 रुपए प्रति लीटर सस्ता हो गया था। - सरकार ने नवंबर 2014 से जनवरी 2016 के बीच 9 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई। जुलाई के बाद से ही पेट्रोल-डीजल के रेट बढ़ रहे थे, लेकिन सरकार ने जब एक्साइज ड्यूटी नहीं घटाई तो उसकी आलोचना होने लगी।


ट्रोल हुए मंत्रीः लोगों ने लिखा- 'पटाखे कैसे चलाएं सर, यहां तो खाने के लाले पड़ रहे हैं'
Our Correspondent :11 October 2017
भोपाल। दिल्ली में पटाखों की बिक्री के बैन करने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद इस मुद्दे पर पूरे देश में बहस चल रही है। इस बीच मंगलवार को छत्तीसगढ़ सरकार ने भी अपने यहां तेज आवाज और खतरनाक रसायन वाले पटाखे बैन कर दिए। महाराष्ट्र में बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी रिहायशी इलाकों में पटाखे बेचने पर बैन वाला पिछले साल का आदेश दोबारा जारी कर दिया -इसके कुछ समय बाद ही मध्यप्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह के एक ट्वीट ने इस मुद्दे को हवा दे दी। उन्होंने ट्वीट किया- मप्र में पटाखे जलाकर दिवाली मनाने की पूरी स्वतंत्रता है। उनका यह ट्वीट जबरदस्त तरीके से ट्रोल हुआ। कुछ लोगों ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद की गई यह टिप्पणी उसका मजाक है। कुछ ने मंदसौर गोलीकांड को जोड़ते हुए भी गृहमंत्री पर निशाना साधा। इस बीच त्रिपुरा के राज्यपाल ने ट्वीट किया- अवॉर्ड वापसी गैंग हिंदुओं की चिता जलाने पर भी याचिका डाल देगी। ...
भूपेंद्र सिंह ने लिखा
‘मध्यप्रदेश में पटाखे जलाकर उमंग, आवेग, उत्साह, जोश सहित प्रफुल्लता से दिवाली मनाएं। यहां पूरी स्वतंत्रता है। दिल्ली के मित्रों को भी आमंत्रित कीजिए। मप्र सरकार पूरे वर्ष पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करती है, किसी एक दिन नहीं।’ उन्होंने एक ट्वीट के जवाब में छत्तीसगढ़ के लोगों को भी मध्यप्रदेश में दिवाली मनाने का न्योता दिया। ...
गृहमंत्री पर ऐसे बरसे ट्वीट.
सागर मगराडे :किसानों को भी दिवाली मनाने दीजिए। गृहमंत्री ने लिखा- किसानों की चिंता सरकार को है। इसका आपको प्रमाण दे रहा हूं। देखिए 8 अक्टूबर का कार्यक्रम। मगराडे: हमारे बैतूल जिले में सामान्य से कम बारिश हुई है, सोयाबीन की फसल खराब हो गई थी, सर्वे नही हुआ। महेंद्र सिंह :मध्यप्रदेश के किसानों की मोटरसाइकिल तक बिजली विभाग ने जब्त कर ली है। क्या सरकारी नीतियों ने मध्यप्रदेश वासियों को दीपावली मनाने लायक छोड़ा है? सुयोग दुबे :दिल्ली में कोर्ट ने आदेश दिया है, सरकार ने नहीं। कोर्ट का आदेश मानना हम सब का दायित्व है।
अनूप पटेल ताम्रकार : कैसे मनाएंगे दिवाली सर, लोगों की संविदा सेवा ही समाप्त कर दी।
प्रेमनारायण साहू :आदरणीय, मुंगावली मे 12 वर्षीय लड़की की लाश कुएं में मिली, अपराधी का पता नहीं चल सका। सख्त कार्रवाई की जाए जिससे ऐसी घटना दोबारा न हो।
सोनू शर्मा (सिंहस्थ होमगार्ड सैनिक) .
पटाखे कैसे चलाएं श्रीमान, घर चलाने के तो लाले पड़ रहे हैं। सिद्धार्थ मिश्रा :दिल्ली में भाजपा ने इस निर्णय का समर्थन किया है। यह कितना शर्मनाक है। ये ध्यान में रखिए कर्म किसी को छोड़ते नहीं, आप 2019 में वोट मांगने आओगे।
पिछले साल दिवाली की रात तीन गुना बढ़ गया था वायु प्रदूषण.
पटाखों के उपयोग को लेकर छिड़ी बहस के बीच मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण मंडल द्वारा पिछले साल दर्ज हवा की मॉनिटरिंग रिपोर्ट एक बार फिर चर्चा में आ गई। पिछले साल दिवाली की रात भोपाल में वायु प्रदूषण का स्तर आम दिनों से दो से तीन गुना अधिक था। हालांकि यह 2015 से कम था।


भोपाल में संघ प्रमुख मोहन भागवत से मिलने पहुंचे जोशी, करना पड़ा 24 घंटे इंतजार
Our Correspondent :9 October 2017
भोपाल. बीजेपी के सीनियर लीडर मुरली मनोहर जोशी ने रविवार को संघ प्रमुख मोहनराव भागवत से मुलाकात की। केंद्रीय राजनीति में इस मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है। जोशी लंबे वक्त से बीजेपी की सक्रिय राजनीति से बाहर हैं। जोशी ने भागवत को एक लेटर भी सौंपा है। बताया जा रहा है कि जोशी शनिवार की शाम को भोपाल पहुंच गए थे, लेकिन भागवत से उनकी मुलाकात रविवार की शाम को हो पाई। हालांकि, इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री और मप्र से सांसद प्रहलाद पटेल जोशी से मिलने पहुंचे, लेकिन जोशी का इस तरह दिल्ली से अचानक भोपाल आना और भागवत से मिलना सियासी अटकलों को बल दे रहा है। ...
पूछने पर जोशी ने नहीं किया कोई खुलासा.
भास्कर ने जब इस मुलाकात के बारे में पूछा तो जोशी ने कोई खुलासा नहीं किया, लेकिन चर्चा है की केंद्रीय राजनीति से जुड़े कई मुद्दों पर भागवत और जोशी के बीच बातचीत हुई है। पार्टी सूत्रों की मानें तो जोशी इस वक्त सेंट्रल लीडरशिप से नाराज चल रहे हैं।
सह सरकार्यवाहक के साथ भागवत की बैठक.
इससे पहले भागवत ने 12 अक्टूबर से होने वाली कार्यकारी मंडल की बैठक को लेकर सरकार्यवाह सुरेश भैया जी जोशी और चार सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी, दत्तात्रेय होसबोले, डॉ. कृष्णगोपाल और विभागय्या के साथ लंबी बैठक की। साथ ही कार्यकारी मंडल की बैठक में रखे जाने वाले सब्जेक्ट्स पर बात की और तैयारियों का जायजा भी लिया। सोमवार को वे देशभर के क्षेत्रीय प्रचारकों के साथ बैठेंगे। यहां बता दें कि भागवत 16 अक्टूबर तक भोपाल में रहेंगे।


भोपाल में होने के बावजूद ससुराल नहीं गए अमिताभ, बताई ये वजह
Our Correspondent :7 October 2017
भोपाल। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन और उनकी पत्नी प्रसिद्ध अभिनेत्री जया बच्चन शुक्रवार को कल्याण ज्वेलर्स के उद्घाटन के लिए पहुंचे। सीनियर बच्चन ने कहा कि भोपाल उनके लिए अंजान शहर नहीं है। वे यहां के जवाईं हैं। वे इस शहर में अक्सर आते रहते हैं।हालांकि, तबियत खराब होने की वजह से वे इस बार अपने ससुराल नहीं जा पाए, हालांकि उनसे मिलने के लिए सास इंदिरा भादुड़ी खुद ही कार्यक्रम स्थल पर पहुंची थीं। -वहीं, जया बच्चन ने कहा कि वे इस शहर की बेटी हैं। शहर से जुड़ी कई यादें उनसे जुड़ी हैं। पिछले कुछ दिनों से वे भोपाल में अपनी मां के साथ ही रह रही थी। इस दौरान वे अपने स्कूल के जमाने के साथियों से भी मिलीं। शुक्रवार को लगभग 12 बजे जया और अमिताभ बच्चन ने कल्याण ज्वेलर्स का फीता काटकर शो रूम का उद्घाटन किया। इसके बाद दोनों मुंबई के लिए रवाना हो गए। -जया इस शो-रूम की पहली ग्राहक बनीं। उन्होंने स्टोर की पहली मंजिल से एक ज्वैलरी पसंद की। लेकिन, उनके पास पर्स नहीं था। इसलिए बाहर कार में रखे अपने पर्स को लेने खुद नीचे उतरकर आईं। -इस मौके पर अमिताभ बच्चन ने कहा कि कल्याण ज्वेलर्स अपनी ईमानदारी और विश्वसनीयता के बल पर ज्वैलरी बाजार में खास पहचान बना रहा है। वे इसीलिए इससे जुड़े हैं।


लड़की से ज्यादती का आरोपी बोला- हमने तो शादी की थी, ये सब आरोप है झूठे
Our Correspondent :7 October 2017
भोपाल. शासकीय अस्पताल में नर्सिंग की इंटर्नशिप कर रही छात्रा से ज्यादती के आरोपी को कोहेफिजा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने खुद पर लगे आरोपों से इनकार करते हुए बताया है कि दोनों ने मंदिर में शादी की थी। आष्टा निवासी 20 वर्षीय युवती कुछ दिन पहले तक कोहेफिजा थाना क्षेत्र में रहती थी। - आष्टा थाने में छात्रा ने भोपाल ट्रेवल्स के कंडक्टर रहे उदय मालवीय के खिलाफ ज्यादती का केस दर्ज करवाया था। - मामला दर्ज कर आष्टा पुलिस ने केस डायरी कोहेफिजा पुलिस को भेज दी। - सूत्रों के मुताबिक आरोपी का कहना है कि छात्रा उसके साथ 28 दिन इंदौर में रही। - उन्होंने खजराना गणेश मंदिर में शादी कर ली। शादी की तस्वीरें दोनों परिवारों को दी गईं।


लड़की से ज्यादती का आरोपी बोला- हमने तो शादी की थी, ये सब आरोप है झूठे
Our Correspondent :5 October 2017
भोपाल. शासकीय अस्पताल में नर्सिंग की इंटर्नशिप कर रही छात्रा से ज्यादती के आरोपी को कोहेफिजा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने खुद पर लगे आरोपों से इनकार करते हुए बताया है कि दोनों ने मंदिर में शादी की थी। आष्टा निवासी 20 वर्षीय युवती कुछ दिन पहले तक कोहेफिजा थाना क्षेत्र में रहती थी। - आष्टा थाने में छात्रा ने भोपाल ट्रेवल्स के कंडक्टर रहे उदय मालवीय के खिलाफ ज्यादती का केस दर्ज करवाया था। - मामला दर्ज कर आष्टा पुलिस ने केस डायरी कोहेफिजा पुलिस को भेज दी। - सूत्रों के मुताबिक आरोपी का कहना है कि छात्रा उसके साथ 28 दिन इंदौर में रही। - उन्होंने खजराना गणेश मंदिर में शादी कर ली। शादी की तस्वीरें दोनों परिवारों को दी गईं।


बंदों ने हक हुसैन, या हुसैन, मौला हुसैन के लगाए नारे, ऐसा था मातमी जुलूस का मंजर
Our Correspondent :2 October 2017
भोपाल। हिजरी संवत् के पहले माह के दसवें दिन रविवार को हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद मे रविवार को मोहर्रम के योम-ए-आशूरा पर ताजियों का जुलूस निकाला गया। इसमें शामिल बंदे हक हुसैन, या हुसैन, मौला हुसैन के नारे लगा रहे थे। जुलूस पीरगेट चौराहे से शुरू हुआ। -जुलूस में परचम, अलम-ए-मुबारक के साथ ही मातमी जत्थे चल रहे थे। जुलूस पीरगेट से शाम को शहीदाने करबला (वीआईपी रोड) पहुंचा। बाद में ताजियों को विसर्जित किया गया। सिलसिला देर रात तक चलता रहा। इसके पूर्व कई स्थानों पर आल इंडिया मुस्लिम त्योहार कमेटी की जानिब से कई स्थानों पर उलेमाओं की तकरीरें हुई। उन्होंने हजरत इमाम हुसैन के जीवन और उनकी शहादत पर रोशनी डाली। ...
ईरानी डेरे में खंदकी मातम.
बीती रात पांच सौ से अधिक ताजिए गश्त करने निकले। इनके साथ सवारियां भी थीं। ताजियों ने रातभर गश्त करते हुए इमामबाड़ों में सलामी की रस्म अदा की। इधर, ईरानी डेरा स्टेशन स्थित इमामबाड़ा में भी खंदकी मातम हुआ। .
दीगर संप्रदायों के ताजिए भी...
कमेटी के अध्यक्ष डा. खुर्रम ने बताया कि जुलूस में बाबूलाल प्रजापति, श्यामलाल सैनी, राणा एमके सिंह, लख्मीचंद, पीके साहू, हाजी निसार व शेख बफाती आदि के ताजिए भी शामिल रहे। ..
तकरीरें कीं...
जुलूस में पांच सौ से अधिक ताजिये, बुर्राक, अलम मुबारक, व अखाड़े भी शामिल रहे। जुलूस में अजमेर से आए सूफी आमिर अली, मुस्लिम त्योहार कमेटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. औसाफ शाहमीरी खुर्रम व सूफी नूर उद्दीन सकलेनी ने कई स्थानों पर तकरीरें की।


UPSC: 588 पदों पर होगी भर्ती, आईईएस के लिए 23 अक्टूबर तक करें आवेदन
Our Correspondent :29 September 2017
भोपाल। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा आयोजित इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस (आईईएस) 2018 के तहत विभिन्न पदों पर भर्ती प्रक्रिया की शुरुआत हो चुकी है। आवेदन करने की अंतिम तिथि 23 अक्टूबर है। लगभग 588 पदों पर भर्ती होगी। -इनमें श्रेणी-एक में सिविल इंजीनियर, श्रेणी-दो में मेकेनिकल इंजीनियर, श्रेणी-तीन में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर और श्रेणी-चार के अंतर्गत इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेलीकम्यूनिकेशन इंजीनियर के पदों पर भर्ती होगी। -टेस्ट पास करने वालों की इन श्रेणियों के तहत नियुक्ति की जाएगी। इसके अलावा भर्तियां कई सेक्टर्स जैसे रेलवे, डिफेंस, स्किल डेवलपमेंट, ऑर्डिनेंस के लिए की जाएंगी। उम्मीदवारों का चयन प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और फिर इंटरव्यू के जरिए होगा। -आवेदन ऑनलाइन किया जा सकता है। इसके लिए www.upsconline.nic.in पर जाना होगा। एप्लाई करने के लिए 200 रुपए की एप्लीकेशन फीस, एसबीआई की किसी भी ब्रांच में कैश, नेट बैंकिंग, डेबिट/क्रेडिट कार्ड के जरिए भर सकते हैं। एससी/एसटी/पीएच और महिला उम्मीदवारों को कोई एप्लीकेशन फीस नहीं भरनी होगी। एप्लीकेशन फीस भरने की आखिरी 22 अक्टूबर है।


काला चश्मा लगाए फिल्मी स्टाइल में यूं पहुंची गर्ल्स, देखने खड़े हो गए लोग
Our Correspondent :27 September 2017
भोपाल। आंखों पर चश्मा, ट्रेडिशन ड्रेस और मेकअप में जब लड़कियां अभिव्यक्ति गरबा ग्राउंड पहुंची तो लोग बिना पलकें झपकाएं उन्हें देखते रहे। कई गरबा लवर्स तो इंट्री गेट के पास से ही नाचते हुए फिल्मी स्टाइल में मुख्य सर्कल तक पहुंचे। इस दौरान दर्शक दीर्घा में बैठे लोगों ने खड़े होकर उनके लिए तालियां बजाई।कदम से कदम मिलाते देर रात तक थिरकते रहे लोग... -बीएचईएल दशहरा मैदान में रजनीगंधा की प्रस्तुति ‘अभिव्यक्ति गरबा महोत्सव-2017’ में एंट्री गेट से लेकर पूरे गरबा ग्राउंड की निगरानी कड़ी सिक्योरिटी सीसीटीवी कैमरे में की जा रही हैं। अभिव्यक्ति सर्किल में तो विभिन्न रंग-बिरंगे परिधान और प्रॉप्स के साथ प्रतिभागी पूरे रमकर गरबा खेल रहे थे। वहीं जनरल सर्किल में हजारों लोगों ने सपरिवार गरबा खेला और फूड जोन में लजीज व्यंजनों का लुत्फ भी उठाया।
सबसे ज्यादा सेल्फी लाइक्स को मिलेगा अवाॅर्ड..
फेसबुक पर अभिव्यक्ति का पेज है https://m.facebook.com/ abhivyaktigarbamahotsav/ इस पर अभिव्यक्ति सर्किल के प्रतिभागी अपनी सेल्फी खीचकर अपने एफबी अकाउंट में अपलोड करेंगे और उसे अभिव्यक्ति के पेज पर टैग करेंगे। सबसे ज्यादा लाइक्स मिलने वाली फाेटोज को 27 सितंबर काे पुरस्कृत किया जाएगा।


प्याज पर शिवराज सरकार से केंद्र ने पूछा- 6 रुपए किलो की प्याज 8 रुपए में क्यों खरीदी?
Our Correspondent :25 September 2017
भोपाल.मप्र में 709 करोड़ रु. खर्च कर 8 रुपए किलो के हिसाब से 87 हजार क्विंटल प्याज खरीदी गई। इससे किसानों को फायदा हुआ हो या नहीं, लेकिन यह प्याज अब राज्य सरकार को रुला सकती है। वजह यह कि केंद्र ने अब प्रदेश सरकार को दी जाने वाली अपने हिस्से की राशि फिलहाल रोक दी है। उसका कहना है कि मप्र को प्याज की खरीदी 5.86 रु. किलो के हिसाब से करनी थी लेकिन उसने ज्यादा कीमत में खरीदी। सोमवार को प्याज के मामलों को सुलझाने के लिए कृषि उत्पादन आयुक्त के कक्ष में मीटिंग भी बुलाई गई है। बैठक में यह मसला भी रखा जा रहा है कि प्याज खरीदी में कुल 709 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। 580 करोड़ रुपए के बजट का प्रावधान किया गया। लेकिन यह राशि भी वित्त विभाग के अड़ंगे के कारण निकाली नहीं जा सकी। केंद्र सरकार से मप्र को 78 करोड़ रुपए मिल सकते थे। लेकिन अब केंद्र का रुख भी सख्त हो गया है। ऐसी परिस्थिति में प्याज रुलाने की पूरी तैयारी में है। प्याज खरीदी से जुड़ी संस्था मार्कफेड के प्रबंध संचालक ज्ञानेश्वर पाटिल का कहना है कि केंद्र सरकार ने जो जानकारी मांगी है, वह भेजी जा रही है। उच्च स्तरीय कमेटी में एपीसी के साथ प्रमुख सचिव कृषि, प्रमुख सचिव उद्यानिकी, प्रमुख सचिव खाद्य, सचिव वित्त, एमडी मंडी बोर्ड, एमडी आपूर्ति निगम व एमडी वेयर हाउसिंग काॅरपोरेशन शामिल रहेंगे। ...
5.86. के हिसाब से होनी थी खरीद..
- मप्र सरकार को प्याज की खरीदी 5.86 रुपए प्रतिकिलो के हिसाब से करनी थी। - समर्थन मूल्य योजना के तहत 25 प्रतिशत से अधिक प्याज की खरीदी नहीं करनी थी। - इस वजह से केंद्र से मिलने वाली राशि सिर्फ 78 करोड़ हो गई है। - राज्य सरकार ने पैकेजिंग और रखरखाव पर भी 100 करोड़ अतिरिक्त खर्च कर दिए हैं। - केंद्र ने इस खर्च की दर 1.46 प्रति किलो के हिसाब से तय की है। - केंद्र इस दर पर सिर्फ 12.5 प्रतिशत ही राशि देगा। - आर्थिक तंगी से गुजर रही मप्र सरकार के लिए ये एक बड़ा झटका होगा। - हाल ही में सरकार ने बाजार से 2 हजार करोड़ का कर्ज लिया है।
कर सकते हैं घोषणा.
- प्रदेश में 87 लाख 32 हजार 771 क्विंटल प्याज खरीदी गई। नागरिक आपूर्ति निगम के एमडी ने बताया है कि उन्हें 83.71 लाख क्विंटल प्याज सौंपी गई। - खरीदी करने वाले मार्कफेड का दावा है कि 84. 25 लाख क्विंटल प्याज आपूर्ति निगम को सौंपी गई। यानी 54 हजार क्विंटल प्याज गायब है।
कलेक्टर ने नष्ट करा दी 49 हजार क्विंटल प्याज.
- प्याज खरीदी के समय शासन ने तय किया था कि प्याज नष्ट करने का काम आपूर्ति निगम करेगा। - धार जिले की खरीद समितियों ने कलेक्टर के निर्देश को आधार बनाकर 49 हजार 612 क्विंटल प्याज नष्ट कर दी। कमेटी इस पर भी निर्णय लेगी।


दिसंबर में इंडिगो शुरू करेगा भोपाल से चार नई फ्लाइट, इन शहरो लिए सुविधा
Our Correspondent :22 September 2017
भोपाल. इंडिगो एयर लाइन्स द्वारा भोपाल से चार नई फ्लाइट्स शुरू की जा रही हैं। दिसंबर के पहले सप्ताह से भोपाल से अहमदाबाद, नागपुर, दिल्ली व मुंबई के लिए यह फ्लाइट्स शुरू की जाएंगी। एयरपोर्ट डायरेक्टर आकाश दीप माथुर ने बताया कि संभवत: 4 दिसंबर से इंडिगो की नई फ्लाइट को एक-एक कर शुरू किया जाएगा। इन फ्लाइट्स के शुरू होने से भोपाल से दिल्ली व मुंबई के किराए में 20 फीसदी तक की कमी आ सकेगी। आम दिनों में भोपाल से अहमदाबाद के लिए ट्रेन की हर श्रेणी में वेटिंग बनी रहती है। एसी श्रेणी में हर दिन अहमदाबाद के लिए 50 से ज्यादा यात्री रवाना होते हैं। इसी तरह नागपुर के लिए यात्रियों की संख्या 100 से ज्यादा रहती है। जबकि दिल्ली-मुंबई के लिए वर्तमान में संचालित जेट व एअर इंडिया की फ्लाइट्स फुल रहती हैं। दोनों शहरों के लिए किराया 12 से 15 हजार रुपए तक पहुंच जाता है।
कर सकते हैं घोषणा.
एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के चेयरमैन डॉ. गुरु प्रसाद महापात्र शुक्रवार को सुबह यहां आ रहे हैं। वे अपने प्रवास के दौरान नई फ्लाइट्स के अलावा कुछ नई यात्री सुविधाओं की घोषणा कर सकते हैं।
भोपाल के लिए पहला मौका.
इंडिगो एयर लाइन्स ने अब तक भोपाल से कोई फ्लाइट शुरू नहीं की है। यह पहला मौका होगा, जब इंडिगो यहां आकर जेट और एअर इंडिया से सीधा मुकाबला करेगा । अकेले किराया ही नहीं अन्य सुविधाएं भी यात्रियों को बेहतर मिल सकें, ऐसी व्यवस्था एयरपोर्ट प्रबंधन प्रयास करेगा।


पिता ने 6 साल की बेटी का किया था रेप, मौत हुई तो फंदे पर लटका दिया
Our Correspondent :20 September 2017
भोपाल. 15 मार्च को लालघाटी के पास गांव में घर के अंदर फंदे पर लटकी मिली छह साल की मासूम की हत्या की गुत्थी कोहेफिजा पुलिस ने सुलझा ली है। मासूम के साथ उसके ही पिता इमरान (परिवर्तित नाम) ने मुंह दबाकर ज्यादती की थी, जिससे उसका दम घुट गया। बाद में उसे फंदे पर लटका दिया। . .
क्या है मामला.
-यह खुलासा रीजनल फॉरेंसिक साइंस लैब (आरएफएसएल) से मिली डीएनए रिपोर्ट से हुआ है। -जांच में यह भी सामने आया है कि बच्ची के साथ लगातार ज्यादती और कुकर्म किया जाता था। -इमरान ने कबूल किया है कि वह मासूम बच्ची को अपनी बेटी नहीं मानता था इसलिए उसके साथ ज्यादती करने लगा था।
पूछताछ की तो सच सामने आ गया..
-घटना के बाद से ही बच्ची का पिता और किरायेदार संदेह के घेरे में था। -इन दोनों के साथ ही पुलिस ने संदेह के दायरे में आए 11 लोगों के डीएनए सैंपल आरएफएसएल भेजे गए थे। -सोमवार देर शाम मिली डीएनए रिपोर्ट में मासूम के पिता का सैंपल मैच हो गया। -इस आधार पर पुलिस ने मासूम के पिता को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो सच सामने आ गया।
इसलिए बढ़ता गया शक..
-पिता ने मासूम का पोस्टमार्टम कराने से इनकार कर दिया था। -घटना के वक्त आरोपी का मोबाइल फोन स्विच ऑफ मिला। -मोहल्ले के लोगों ने बताया था कि वह मासूम को अपनी औलाद नहीं मानता था।


पत्नी ने घर में कर रखा है कैद, बाहर जाने पर है पाबंदी और नहीं रखने देती मोबाइल
Our Correspondent :18 September 2017
भोपाल/विदिशा। विदिशा के पुलिस परिवार परामर्श केंद्र पर दो अलग-अलग तरह के मामले में सुनवाई हुई। इसमें पहला मामला पत्नी के साथ मारपीट करने का, जबकि दूसरी पत्नी द्वारा प्रताड़ित किए जाने था। .
पहला मामला..
-मैडम मेरे पति ने शराब पीने में अब तक 11 बीघा जमीन बेच डाली है। बची हुई 7 बीघा जमीन भी बेचने की फिराक में है। शराब पीने और चिकन खाने के लिए मुझसे रुपए मांगता है। नहीं देने पर मेरे साथ पिटाई करता है। इससे मेरे दांत टूट गए हैं। मुझे ऐसे पति के साथ अब नहीं रहना है। यह पीड़ा है विदिशा जिले के पालकी गांव निवासी 30 वर्षीय महिला कविता कुशवाह ( परिवर्तित नाम ) की। -महिला ने पुलिस परिवार परामर्श केंद्र में पहुंचकर अपने पति शिवकुमार कुशवाह ( परिवर्तित नाम ) की शिकायत करते हुए बताया कि उसकी शादी वर्ष 2002 में हुई थी। -पति को शराब पीने की लत लग गई तो उसने अपनी जमीन बेचना शुरू कर दी। विरोध करने पर उसके साथ आए दिन मारपीट करता है। -इस पर केंद्र प्रभारी रानी निंदारे और काउंसलर मदनकिशोर शर्मा ने दोनों पक्षों को बुलाकर समझाइश दी है लेकिन अभी सुलह नहीं हुई है।
दूसरे मामले में पति ने लगाया आरोप: पत्नी नहीं रखने देती मोबाइल
-एक अन्य मामले में करारिया थाने के दीपाखेड़ी गांव निवासी वहीद खान ( परिवर्तित नाम ) 32 साल ने बताया कि साल 2010 में उसकी शादी बैरसिया तहसील के बरखेड़ा गांव निवासी आसमा बी ( परिवर्तित नाम ) के साथ हुई थी। -विवाह के बाद से ही पत्नी उसे मोबाइल नहीं रखने देती। उसे कामकाज के सिलसिले में घर से दूर नहीं जाने देती। -इसके अलावा पत्नी कहती है कि वह उसे घुमाने-फिराने के लिए घर से बाहर ले जाए। -आर्थिक तंगी के चलते वह पत्नी की जरूरतें पूरी नहीं कर पा रहा है। -इस मामले में काउंसलर उमेश शर्मा और केंद्र प्रभारी रानी निंदारे ने दोनों को बुलाकर समझाइश दी है। इसके बाद दोनों पक्षों में सुलह हो गई है।


6 महीने पहले हुई थी लव मैरिज, मोबाइल के चलते चली गई लड़की की जान
Our Correspondent :15 September 2017
भोपाल। शहर के बड़े तालाब में कूदकर एक युवती ने आत्महत्या कर ली। युवती का नाम जया भगोरिया है, जो कि गांधीनगर क्षेत्र में अपने पति के साथ रहती थी। जानकारी के अनुसार घटना के एक दिन पहले पति-पत्नी के बीच मोबाइल को लेकर विवाद हुआ था। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। वहीं, मायके पक्ष के लोगों ने जया के पति पर प्रताड़ना और हत्या का आरोप लगाया है। - तलैया पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, जया भगोरिया (20) गांधीनगर में अपने पति कपिल और उसके परिवार के साथ रहती थी। बुधवार देर रात को पति से उसका कोई विवाद हुआ था। इससे नाराज जया गुरुवार को बिना बताए घर छोड़कर चली गई थी। उसकी तलाश में निकले कपिल को वह रेलवे स्टेशन पर मिली थी। जया को समझाने के बाद कपिल उसे वीआईपी रोड ले गया था। वहां दोनों के बीच काफी देर तक बातचीत हुई, जिसके बाद कपिल उसे लेकर घर लौट रहा था। उसी वक्त जया ने पानी में छलांग लगा दी। घटना के वक्त मौके पर मौजूद गोताखोरों ने उसे लगभग 20 मिनट बाद पानी से बाहर निकाला, लेकिन उसकी मौत हो चुकी थी।
मोबाइल को लेकर बहन से कर रहा था मजाक
कपिल ने बताया कि बुधवार रात बहन से मोबाइल फोन को लेकर हंसी-मजाक कर रहा था। इसी बीच उन्होंने जया के पास पुराना मोबाइल फोन होने की बात कहकर कमेंट किया। इस पर जया ने नाराजगी जताई थी। हालांकि समझाने पर उसका गुस्सा शांत हो गया। सुबह मैं काम पर चला गया। गुरुवार दोपहर एक बजे मां ने बताया कि जया गुस्से में घर से निकली है। मैंने उसे फोन लगाया। उसने बताया कि वह भोपाल स्टेशन पर है। मैं उसे समझाते हुए वीआईपी रोड ले आया। हमने बैठकर बात की। उसका गुस्सा शांत हो गया था। ...
मैंने उसे घर चलने को कहा, लेकिन
झगड़ा शांत हो जाने के बाद मैं उठा और गाड़ी स्टार्ट करने लगा, तभी मैंने पलट कर देखा की जया ने पानी में छलांग दी। मैंने फौरन इसकी सूचना डायल 100 को दी और मौके पर मौजूद गोताखोरों ने भी जया को बचाने की कोशिश की, लेकिन काफी देर हो चुकी थी।
कपिल के कारण मरी मेरी बहन
जया के बड़े भाई जहांगीराबाद निवासी दिनेश भागोरिया पिता बालकिशन भागोरिया फर्नीचर का काम करते हैं। दिनेश ने आरोप लगाए कि शादी के बाद से ही कपिल और उसके परिजनों ने जया को घर नहीं आने दिया। उसे प्रताड़ित किया जा रहा था। दोपहर में उसने गुजरात में बहन को फोन करके बताया था कि वह घर छोड़कर निकल गई है। इसके बाद हमने कपिल को फोन लगाया, तो कपिल का कहना था कि आज तो फैसला हो ही जाएगा। मैं उसे मार दूंगा। उसके बाद कपिल ने फोन काट दिया।
2016 में भी हो चुका है ऐसा
कपिल ने बताया कि बुधवार रात जया ने उसका मोबाइल फोन ले लिया थाना। उसने मेरे सारे फोटो डिलीट करते हुए एलबम से शादी के फोटो मोबाइल से खींच लिए थे। उसने ऐसा क्यों किया इसके बारे में उसने कुछ नहीं बताया। -शव मर्चूरी में रखवा दिया गया है। परिजनों को शांत कराकर बयान लिए जा रहे हैं। शुक्रवार को दोनों पक्षों के बयान लिए जाएंगे। जो भी सामने आएगा, उसके मुताबिक कार्रवाई क